Public Program, Bholapan, Innocence

(India)

Transcript PDF (Hindi Transcript)
IMPORTANT NOTICE Dear Sahaja Yogis, the verification of this transcript is on the way and soon it will be made available.
Send Feedback
Share

Public Program, Bholapan, Innocence

म न आपस बताया था पहल भाषण म पहल चीज़ वह जो सहजयो गय क लए ज र ह, वह ह म। जो आदमी म नह कर सकता वह सहजयोग म उतर नह सकता और म का भी म न साथ म थोड़ा बहत बताया था। उसक बाद म न कहा था प व ता। जो आदमी प व ता क भावना नह रखता ह वह भी आदमी सहजयोग म उतर नह सकता। जो आ द काल स प व ता क भावनाए चलती आई ह वह सब भावनाओ को लकर म न कहा ह । आज तीसर बात बताना ह खा कर realized लोग क लए क realization हमारा नया ज म ह। जब ब चा ज मता ह, कोई सा भी ब चा आप द खए ससार क कौन सी भी जा त का हो, चाह वह जापानी हो, चाह वह अ कन हो, चाह वह अम रकन हो, उस ब च म एक चीज़ सब म होती ह और वह ह उसक अबो धता उसका innocence। ब च क वशषता ह उसका innocence इस लए realized आदमी तभी कहलाया जाएगा जब वो पर तरह स innocence म उतर जाए। वस भी जो बहत चालाक लोग होत ह , यवहार चातर िजनम बहत यादा होती ह और िजनक ब ध बड़ी त लक होती ह और हजार आद मय को ठगान म और झठ बोलन म और चालाक दखान म वह बड़ तरबज़ होत ह ऐस लोग सहजयोग क लए ब कल बकार होत ह । इसस जो लोग काफ ठगाय गए ह द नया म और सताय गए ह वो सहजयोग क लए बहत ठ क ह । ससार म चाह वह बहत यश वी लोग ना हो, ल कन सहजयोग म वो बहत ह यादा यश वी हो सकत ह । अबो धता एक बहत बड़ी दन ह। यह भी ज म ज मातर क खोज स ह मन य पाता ह। आप द खएगा बहत स बजग लोग भी बहत ह अबोध होत ह , बहत भोल भाल, सीध साध। और बहत स छोट ब च भी बड़ चालाक, धत होत ह । आजकल क ज़मान म जो आदमी दो-चार पस म कसी को ठग मार, वो सबस बड़ा यश वी आदमी बन जाता ह। एक उदाहरण क तौर पर, जस एक हमार र तदार थ तो हम उनक घर गए। तो वो बड़ अपन को बड़ भार आदमी समझत थ और वो बड़ व वान समझत ह अपन को। बहत यादा उनका यवहार चातर और बीवी बचार अनपढ़। उसको वो कछ ख़ास समझत नह थ। कहत बवकफ ह य और सारा हमारा पसा लटा दगी। और एक पहल दज क कजस ह वो। अब उनक घर हम गए तो बतान लग गए बड़ उसस क “साहब म न द खय य जो ज़मीन ह, य मकान ह, य परा कराए पर ल लया और 30 साल पहल या 40 साल पहल लया था और इसका म य इसका सौ पया कराया द रहा ह। और य सार जमीन मर क ज म ह और कसी क मज़ाल नह कोई हाथ लगाए”। बठ हए ह आराम स, ना उस जमीन म कछ उपजात ह , ना कछ नह । एकड़ जमीन लकर क बठ हए ह उसी पर धावा लगाकर। और कहन लग, “मर उ ल बीवी ह इसक वजह स मि कल, न जान आज कतन महल म न खड़ा कया होता अभी कराए क मकान म रह रह ह ”। उसको अभी तीन-चार गाल दन म भी उनको कोई हज नह था। ल कन य तो हमार र त म हमार जठ होत थ तो हम चपचाप बठ रह, हम न कहा अब आग या बोल । उसक बाद उनक जो बीवी थी वह बचार चपचाप सन कर रह जाती। इतन म एक आदमी आया, वो कहन लगा क “साहब द खए म घर मा लक क ओर स आया ह और घर माल कन कह रह ह क आपक यहा इतन इमल क पड़ ह , उसम स इस इमल का उ ह इमल बहत पसद आती ह, तो आप क हए तो हम दो पया आपको दत ह और आप हम थोड़ी इमल द द िजए”। तो य बगड़ गए, “वाह! या सोचत हो दो पए क इमल कहा स आएगी? पाच पय दो तो द ग”। काफ झकझक झकझक कर । उसक बाद अपनी बीवी स कहन लग खबरदार य आदमी ऊपर ना चढ़न पाय, यहा क इमल ना उतारन पाय। उसक बचार क सौ पए क मकान म वो बचार क रह रह ह उसको कम स कम कछ नह तो तीन चार हजार का नकसान करा दया। कहन लग, “बड़ा पस वाला ह, द सकता ह सब। अब कहना क ऐसा law (कानन) आन वाला ह य घर मरा ह हो जान वाला ह, मरा ह इस पर क जा होन वाला ह”। इसक वो इतजार म ह बताइए। बहरहाल जब वो चल गए तो उनक बीवी न उस आदमी को अदर बलाया।.कहन लगी, “तमको कौन सी इमल जो मगाए ह वो तोड़ लो िजतना भी तोड़ना ह”,मर ह सामन कहा और उसको जब स पाच पए नकाल कर दए। तो उसन कहा, “पाच
पए य द रह ह मर को? मझह को दना ह आपको पसा”। कहन लगी, “भई तम चढ़, तमन महनत कर , उसक पाच पए और उन को मरा नम त कह दना। जाओ, ल जाओ, भग जाओ और कल अगर और चा हए तो आ जाना, ल कन 12:00 बज क बाद आना तब यह चल जात ह ”। तो उसन य जवाब दया क “म तो इतजार म था क कब खसक ग तो म इमल तोड़गा, म आप को तो जानता ह”। अब वो अपन को बड़ चालाक, हो शयार समझत ह और सब उनपर हसत ह ‘गध कह क’। इस तरह स जो अकलमद लोग ह जो अपन को बड़ चालाक और हो शयार और झठ बोलना, इधर लन-ठन करना, इसम जो अपन को हो शयार समझत ह , य सब हो शयार जो ह जहा क तहा रह जाएगी । और ऐस का सहजयोग नह होन वाला ह और कल अगर सहार श हो गया तो य लोग पहल कट ग। और भोला आदमी हमशा बच जाता ह। भोल आदमी म बड़ी वशषता ह। म
वय बहत भोल ह, बहत लोग मझ कहत ह क…। मर घर म तो सब लोग मझस परशान ह , मर भोलपन स।
मान हमार घर पर ऐसा हआ एक दन क हम द ल म रहत थ, तब क बात ह बहत साल पहल क , तो एक बाजार गए थ द ल क बाजार म । वहा एक आदमी आया, बचारा मझस कहन लगा क ‘मझ बहत चोट लग गई ह और मझ समझ म नह आता म कस क , म कस जीऊ गा?’।म न कहा, ‘अ छा चलो, मोटर म बठो’,उसको घर ल आए। घर पर लाए तो उसको हमन मरहम प ट कर और वस भी हम तो ज रत ह मरहम प ट करन क । हाथ-वाथ फरा बचारा ठ क हो गया। उसको बड़ा मर लए म हो गया। अब वो इतनी सबह स शाम तक, 4:00 बज म उठती थी तो वो भी 4:00 बज उठकर क तबस जो घर म महनत कर। ल कन हमार घर क लोग बहत यवहार चातय । उनका कहना, ‘पता नह कहा स चोट खाकर आया ह? कोई हो सकता ह डाक होयगा’। म न कहा, ‘होगा डाक तब, अब तो बदल गया ह, अब तो उसका कतना वभाव बदल गया ह ना’। म न कहा, ‘उसको व वास तो करक दखो’। कहन लग, ‘नह नह , इसको तो प लस म दना होगा, प लस स पता करना चा हए’। रोज उसक पीछ सब लोग लग रह। हमार भाई साहब भी थ, मर husband भी थ और भी लोग, सब लोग मझस कहन लग, ….. इस तरह कॉ स हो गई इसको बठाना ह चा हए प लस म ……। म न कहा, ‘भई माफ कर दो एक बार, दखो अगर चोर करना होगा तो कर ह लगा, नह होगा तो ठ क ह ह। ऐसी कौन सी बात ह, ऐसा कौन हमार पास बड़ा धन घर क अदर पड़ा हआ ह?’। उनक पीछ य लोग पड़ गए। उन दन एक
दन शाद थी। शाद म हम लोग गए तो उसको बाहर बठाकर गय। अदर घर म नह तो फर चोर कर जाएगा, फलाना होयगा, ठकाना होयगा। म न कहा, ‘अ छा ठ क ह ’। उस दन हम क मती ज़वर-ववर पहन कर गए थ। रात को 2:00 बज क कर ब आय। सब थक गए थ तो मर husband भी सो गए और मर भाई भी सो गए और म भी सो गई। तो म न ज़वर-ववर उठाकर ऐस ह बाथ म म रख दया और सो गई। तब तो कोई सोच नह रहा था क चोर-वोर घर म ह। जब सवर उठ तो हमार husband क पर क च पल गायब, उनका दख रह ह जता गायब, उनका दखा तो उधर स पस गायब, वहा स आग चल तो उनका कोट गायब, आग चल तो मर भाई साहब जो थ उनक पाच सौ पय गायब, उनका जता गायब, उनका कोट गायब, उनका न जान एक ब सा क ब सा ह उठा ल गय। और मर इतन महग ज़वर वहा पड़ हए थ, खानदानी हमार ज़वर, एक भी को भी छआ नह । इनक सब चीज उठा करक वो भागता बना य क उनक लए वो डाक ह था और मर लए वो कछ भी नह था। मरा सब सामान छोड़ गया और इन सबक चीज़ लकर चपत हो गया। तो वो लोग कहन लग, ‘य अ छ रह साहब, हमन तो कछ कया नह ’। हमन कहा ‘तम उसक जान को लग हए थ ना क तम प लस म जाओ, प लस म जाओ, तो दख लो। उस पर व वास करत’। हम घर पर भी नौकर पर करक दखत ह ।
व वास कर , व वास कर , हम व वास इस लए नह करत य क हमारा अपन ऊपर व वास नह ह। द नया म सब पर व वास र खय, िजतना हम व वास करना सीख ग, उतना ह इसान आपको भी व वास करगा। लाख म स एकाध आपको ठगगा; असल म हमको तो कोई ठग ह नह पाता। ठगना भी चाह तो ठग नह जाता । ठगता नह ह हमस और हम पात या ह ? दो- चार पया ह ना, ठग कर या पात ह ; कौन सी गठर ? पाप क तो गठर पात ह । इतनी हो शयार करन वाल……मझस यहा पर भी बहत स लोग ऐस ह , मझस हो शयार दखात ह । कछ ऐस पढ़ात ह बात इधर-उधर क ; िजतनी म भोल ह उतना ह मर जो अदर का ह वो बड़ा धाध ह । म कसी च कर म नह आन वाल । बड़ा मि कल ह मझ कोई च कर म डाल। अब कोई कह वो चीज़ ह,.वो चीज़ ह, च कर म नह आन वाल म , हाला क म ह बहत सीधी। इसक एक वज़ह ह, वज़ह यह ह
क जो आदमी realized होता ह और जो अपन च म ह ल न हए बठा ह वो कह उलझता ह नह । आपन मर साथ चालाक क वो (भोलापन) दसर जगह घमा दगा इधर स उधर हाथ -हाथ। कोई आदमी चालाक करगा भी मर साथ, वो (भोलापन) फट स मझ घमा दगा। इसका एक और उदाहरण ल आप। रामक ण परमहस क प नी न….. दोन आदमी एक बार जगल म स जा रह थ तो य (उसक प नी) ब कल भोल -भाल थी बचार । जगल म स आ रह थ तो जगल म स आत आत ऐसा हआ क रामक ण तो आग चल गए। (य) पीछ रह गई तो चोर न सोचा, चलो कोई औरत मल गई, पकड़ो इसको। तो उसक साथ हो लए। तो उसन कहा, ‘तम आ गए, अ छा हो गए। त हार दामाद जो ह वो सामन चल गए और म अकल रह गई। चलो, तम मर भाई आ गय, मर बाप आ गय, बड़ा अ छा हो गया। मर लए तो कछ आराम हो गया, नह तो म तो सोच रह थी क अकल म म रा ता कस ढढगी। चलो भाई, त हारा या नाम ह? अ छा तम मर भया हो, तम मर बाप हो। वो लोग कहन लग हम तो इसको पकड़ कर ल जान वाल थ और यह तो हमको बाप भाई बना रह ह। उसक सीधपन और भोलपन स इतन र झ गए; उसको अपन घर ल गए और िजदगी भर उसको अपनी लड़क क तरह स बनाया और रामक ण को अपन दामाद जस। वो चोर और डाक लोग भी यार पहचानत ह । साप और शर और गीदड़ य सब यार पहचानत ह य क शर अपन ब च को नह खाता, साप अपन ब च को नह काटता ह । गर हम
भी साप हो जाए तो या साप हम नह पहचानगा? भोलापन हमशा मदद करता ह और जो आदमी भोला होता ह उसको द नया हमशा मदद करती ह। और एक इसका मॉडन एक उदाहरण ह। एक साहब क टम म स आ रह थ। भोल भाल थ; बोलत बहत थ। भोल लोग ज़रा बोलत भी यादा ह कभी-कभी, य क उनम चालाक नह होती ना। अदर म घस क जस बठ नह रहत। कभी बोलत ह , कभी नह बोलत। ल कन य ज र नह क हरक भोला आदमी बोलता ह। चालाक भी कभी-कभी बड़बडात ह बहत। तो यह जो भोलापन था इस आदमी का…. य आकर क उस को बतान लग गया क ‘अर साहब म गया था वहा, वहा स म न लाया हआ ह कमरा। यह क टम ऑ फसर को बता रहा ह। अम रका स आया और क टम ऑ फसर को बताता ह क कमरा लाया ह, ऐसा कमरा
हद तान म नह होगा, तम दख लना। तमको दखना ह, म तमको दखाता ह। यहा लोग तो छपात ह अपना कमरा; इनस बतान लग क म वहा स मालम ह डायमड रग म लकर आया। तमको दखना ह? दखो म लाया ह वहा स। वो जो इतन भोलपन स बोलन लग गया तो क टम ऑ फसर न सोचा क य य ह डग मार रहा ह, इसन लाया होगा काच और मझ बवकफ़ बना रहा ह। नह तो जो असल वाला लायगा वो ऐसी बात य करगा? उसन कहा, भया त जा, मरा सर मत खा। और दसरा आदमी आएगा, छपाकर, इधर-उधर दखत हए…….. तो ‘आइए इधर म टर, आपक पास या ह?’।
भोल आदमी पर वस भी मन य को तरस आ जाता ह। और कोई भोल आदमी को सताता ह तो उसक आह इतनी लगती ह, उस डर स भी आदमी नह सताता भोल आदमी को। और अगर कोई भोल आदमी को सताता ह तो ज म-ज मातर तक उसका उस दना पड़ता ह। इस लए भोला आदमी सबस safe ह। और जो आदमी बहत यादा कसी चीज़ म उलझता ह, अ धकतर आप द खएगा क यादातर ऐसा होता ह क जब भी आदमी को कोई बरा काम करना होता ह वो बड़ा serious (गभीर) हो जाता ह, अ धकतर। हमन ऐस एक साहब को दखा ह, उनक आदत थी bribe ( र वत) लन क । तो हमार husband को तो वो कहत थ, ‘तम तो घ टया type हो तमको तो पसा ह लना नह आता’; ऐस कहा करत थ। ल कन म न दखा ह क उनक अगर कोई आदमी मलन आए और जो पस वस क बात करन वाला हो, मतलब लन दन क , एकदम वो serious हो जात थ; ‘अ छा जी, जरा आइए, तम अदर जाओ’। हसत-हसत एकदम serious हो जाए तो समझ जाओ क कछ ना कछ bribery ( र वत) क बात ह, कोई भी गलत….. । एक साहब थ मझ मालम ह उनको cabaret (क ) म जान का बहत शौक था और जब भी cabaret क बात होती थी बड़ seriously उसको discuss करत थ। ‘हा कहा जान का ह? कस जान का ह? कब जान का ह?’। और समय हसत रह ग ल कन cabaret क मामल म ब कल planning करक serious हो करक cabaret म जाना ह। (मराठ म )। अर आपको अगर serious ह रहना ह तो जाकर कह म दर म बठो; नह वो वहा जाना ह। य क जो आदमी हसता खलता हर समय रहता ह और ह का फ का रहता ह उस आदमी को इसम मजा ह नह आता। कहता ह, ‘ या बवकफ ह? य या बवकफ कर रह ह?’। वो दसर क , भोला आदमी जो ह, वो फट स बवकफ पकड़ लता ह और वो नटखट होता ह। भोला जो आदमी होता ह वो नटखट होता ह, उसका नटखटापन जो होता ह य उसक भोलपन स ह। जस वो कोई ना कोई इधर स उधर छलाग लगा दगा। जस आपको पता ह क एक साहब हमार यहा आए। उनको बड़ा शौक था क डास दखन का। मन बहत स आपको मालम नह होगा क वहा पर न न न य जो होता ह; मतलब रजनीश जी का नह , ल कन और। तो वो कहन लग क साहब…. अब हमस तो कह नह सकत य क र त म हमस बड़ होत थ, तो हमार एक घर म बड़ चहल वाल साहब ह वो ऐस ह नटखट type ह तो उसस कहन लग क (अ प ट) ल च लए, हमको जान का ह। अब वो बजग आदमी ठहर, शतान बहत थ ना। वो ल गए, प लस थान म उनको उतार दया। वो वहा taxi म ल गए और छोड़ दए। कहन लग, ‘म तो आऊगा नह , आप यहा चल जाइए’। अब वो बचार सीध चल गए, वहा जाकर क दख क सब प लस वाल खड़ ह । उ ह न सोचा, बचार आए थ दहात स, उनको तो मालम नह था कहा कस होता ह, तो प लस बाहर लगती होगी। ऐसी जगह ज र प लस होती ह, ऐसी जगह जहा ऐस धध होत ह वहा प लस लगती ह, लगनी पड़ती ह। तो उ ह न सोचा क इस लए यहा प लस ह। अदर गए तो लोग न कहा, ‘साहब आपको complaint ह?’। ‘नह ’ कहन लग, ‘वो जरा हमको दखना ह’। उ ह न कहा, ‘ या?’। ‘अब आप समझ ल िजए जो बात ह तो’। उ ह न कहा, ‘आ खर या बात आपक… ह?’। कहन लग गय, ‘साहब य मजाक कर रह ह ? िजस चीज़ क लय य जगह बनी ह वह हम आए ह ’। तो कहन लग, ‘तो आइए सीध हवालात म ’। कहा, ‘हवालात म ?’। और कहन लग गए, ‘य हवालात म आपको कसन पहचा दया?’। ऐस उनको बवकफ बनाया जाता ह। य जो अपनी वषय क और दौड़न क व ह य आदमी को चालाक बनाती ह य क उस छपान क लए आदमी ज र चालाक बनता ह। वषय क ओर
दौड़न क जो अपनी व या ह बार बार वषय क ओर जो व दौड़ती ह उसको realization क बाद हम (अ प ट) और दख सकत ह , ‘अर वाह बवकफ राम! चल जा रह ह वहा, कहा चल जा रह ह ?’। अपनी ओर हम दख सकत ह ,अपनी बवक फया दख सकत ह , अपन साथ खलवाड़ भी कर सकत ह , अपन साथ नटखटपना कर सकत ह , बहत अपन साथ हम खल कर सकत ह और दख सकत ह क कस बवकफ म फस ह । तो भोला आदमी जो होता ह वो अ ल त हो करक दखता ह मज़ा लक, ‘ या अजीब हालत ह साहब, समझ म ह नह आती’। य भोलपन क नशा नया ह क भोला आदमी जो होता ह उसका च कह ऐसा दौड़ता नह । वो अपन भोलपन म अदर ह। जस छोट ब च उनको आप गर क डास तो छो ड़ए आप कसी ह पी स मला द िजए जोर-जोर स रोना श कर दत ह । उनको बाल-वाल दखक एकदम वो रोना श कर द िजएगा। आप अगर कबर डास म छोट ब च को ल जाइए तो बहत जोर स रोत ह , आप को शश करक द खए। अगर समझदार ब च को आप ल जाय, तीन चार साल क ब च को तो वो जोर-जोर स रोना श कर दगा क यह या ह साहब? ब च क आप हालत द खए क गर उसक सामन कोई भी व पता होती ह तो उसक ओर वो पहल रोन लगता ह। और या तो उसको समझ ह म नह आता, आख फाड़ क दखता ह क य या ह।
या दसरा काम आप यह दख सकत ह कोई सी भी बात हो, सीधी सीधी कह दता ह। उनम कोई भी लगाव, छपाव, बराव कभी नह होता। ऐस तो य ब च श ध ह ह वो हर चीज को दखत रहत ह । जस एक बार कसी न कहा अपन ब च स वो साहब आ रह ह ल कन खात ह घोड़ जस। अब उ ह न वो सन लया। अपनी प नी स उ ह न कहा, उनस (ब च) तो कहा नह कछ। जब वो आकर बठ तो उनक शकल जाकर दख बार-बार ऐस ऐस। उसक बाद कहन लग, ‘म मी यह तो घोड़ जस नह खात, तम कह रह थी क घोड़ जस खात ह ’। मान उसम उनको कोई य नह लगा क भई म कोई बर बात कह रहा ह, कोई अ छ बात कह रह हो, क दख दन वाल बात ह। उनको जो fact दखा वो उ ह न कह दया। सीधी सीधी बात उ ह न कह द क य बात ह। और ब च म य समझ आ जाती ह कसी तरह स क य कस तरह स कर रह ह , उनका या ढ़ग ह, सबक नकल उतार ग, ब च म आदत होती ह। नकल उतारन वाला आदमी भी एक तरह स भोला होता ह य क वह भी नकल तभी उतार सकता ह जब क वो सा ी हो। और खासकर अगर वो अपनी नकल उतार सक तो सबस ब ढ़या। जो आदमी अपन ऊपर हस करता ह वो सबस भोला ह। जो अपनी बवकफ पर हस, “वाह या कहन! हमम भी यह गण ह, हम भी य कर आय”, ऐसा जो आदमी कहता ह वो अपन स अलग हटा हआ अपन को दखता ह। आप लोग भी जब realized ह ग तब….। अपनी ओर नजर कर , “ या साहब! दौड़ चल जा रह ह ,
या कहन आपक, त द आपक नकल हई ह, बाल आपक सफाचट उठ गए,जा कहा रह ह ? जब म पसा नह ह आपक नजर कहा पड़ी जा रह ह? बार-बार आपक नजर कहा उठ रह ह? आपका च कहा जा रहा ह?”। Realization क बाद म जो आदमी इसम लगन स आता ह वो स सग त य ह। य स जन क सग त को जोड़ता ह और जो आदमी इसम गहरा नह उतरना चाहता वो अपना बहाना ढढता ह और दज न क सग त म घमता ह। दसर सग त म घमगा वो, हजार बहान बतायगा क आना नह हो सकता ……. और िजनको आना ह, दवड़ स पछ , बताय ग। दवड़ साहब को कह जाना था। रा त म चलत चलत म न य ह टोक दया। म न कहा, ‘दवड़ साहब हमार साथ च लए’। बठ गए मोटर म , चल दए। उनका कछ और ो ाम था, वो बठ गय मोटर म और चल आए। वहा उनको तीन घटा हमन उनको लगाया। (आ रहा क नह आ रहा)। य क इसम जो मजा आ रहा ह और कसी चीज म नह ह। ल कन जब इसका मजा ह परा नह लया तो च ज र बाहर बाहर दौड़गा। ‘ आज कहा गए थ? आज पाट म गए थ। य साहब? हमको जाना ह पड़ा, बात य ह इसम ऐसा था तो उसम ऐसा था। और जो लोग यहा रोज आत ह उनको या हो गया, उनको स जन क सग त म …..’।
वषय क बात म अब च जाता ह नह , उलझता ह नह , interest नह आता। भागो, ो ाम ह भागो, वहा चलो। वहा स जन का मला बठता ह। स सग त म , ग ओ क सग त म बठ करक जो मजा आएगा, वहा या मजा आन वाला ह? यहा पर जो इतनी खीचती चल आ रह ह , जो दखाई नह दती, य उनको दखाई नह द रह ल कन आ रह ह। यहा पर बरस रह ह सबक ऊपर, हम खीच चल जा रह ह उस परमा मा क म….वहा तक…. बहत मजा आएगा।
माताजी आय चाह नह आय , टक रहो, बठ जाओ। एक दसर realized आदमी को मलन म जो मजा आता ह, ‘आह हा-हा-हा, आ गय, ब ढ़या, काई झाला। वह जो भतवाला आए तो ….(अ प ट) करो। ल कन जो पर
तरह स अभी इसम उतर नह ह वो अब भी भत क तरफ ह दौड़त ह ; ‘ करना पड़ता ह, जाना पड़ता ह, मलना पड़ता ह’। कछ जाना नह पड़ता और करना नह पड़ता और दखना नह पड़ता। अगर आपका च वहा ह तो आप झक मार कर आएग। कल अगर आप शराबी ह तो शराबखान म आय ग, अगर आप realized ह तो आप स जन क सग त म आएग; और जगह आपको जान स मतलब? जब मजा का सारा अथ ह यहा पर ह तो और जगह घमन स मतलब? घर म लोग च लात रह, च लात रह, च ला ल, शराबी जो लोग ह, पर कतना च लात ह , ‘सारा पसा फक आए, शराब मत पी, य ना कर वो ना कर’, वो छोड़ता ह या अपनी बोतल? घर म नह तो बाहर, बाहर नह तो दो त क घर म ,। सीधी-सीधी एक रमी खलन वाला आदमी दख ल िजए जो रमी खलता ह। उसक बीवी च लान लग गई तो वो अपन घर म जाकर खलगा, वहा पर नह हई च लान लग गए तो जाकर क चौपाट पर बठकर खलगा, वहा प लस पकड़गी तो और कह जाकर क खलगा, वो छोड़न वाला नह । लत लगनी चा हए। अगर लत लग गई तो कोई चीज म मजा नह आता। बस यह बात, यह सोचना यह बोलना यह करना िजसस मलो उसस। तो लोग कहत ह , ‘यार त हार तो माताजी स हम बोर हो गए’। ल कन आप बोर नह होन वाल। आप कह , ‘चलो तो, दखो तो, या बात ह’। कोई कसी क भी बात कहगा, आप यह कह ग ‘पहल चलो वहा, पहल उसको दखो, य सब क बात तो बाद म होती रहगी। हमन पाया हआ ह,.हमन अभी जाना ह’। और सार घर वाल को भी आप बदल द ग। घरवाल तो आपको आप पस द कर नह सकत जब तक वो लोग पार नह ह, इसम नाराजगी क जगह कहा, मजा करना चा हए, ठठोल उनक साथ करना चा हए। इसम कोई भी ग सा होन क बात नह ह। एक बार हमार यहा ऐसा ह हो गया क एक साहब हमार ऊपर ग सा हो गए। कहन लग गए, ‘आप बार-बार जाती ह ’; उ ह न सामान फ कना श कर दया तो हमन भी सामान फ कना श कर दया। तो कहन लग, ‘य या?’। हमन कहा, ‘सामान बटो रय तो म भी बटोरती ह सामान’, तो वो सामान बटोरना श कया, हमन बटोर लया। हमन कहा, ‘द खय साहब, आपको िजस चीज शौक ह आप करत ह , हम इस चीज का शौक ह हम करत ह । वो तो आप रोक या नह रो कए हम तो जाना होगा ह । और चाह हम यहा भी बठ रह च तो हमारा वह ह ’। जब इसका मजा लग गया; अब नाटक वाल को िजनको नाटक का शौक होता ह चाह तो जब म पाच पया नह भी हो तो तीन पया का टकट लकर भी जाएग नाटक दखन। हर जगह अपना शौक आप पसा दकर क परा करत ह , य बन पस का इतना बड़ा शौक। रोज नया नया…… या मजा आता ह अदर म । दसर म बट जान म जो मजा आता ह और कसी चीज म नह । लोग हजार पया खचा कर दत ह ,.इसको दान कर रह ह,.उसको दान कर रह ह , दान क मट बनाएग, वहा स बाहर जाकर दान कर रह ह – बा लादश। अर यह दान हो रहा ह बस। अब य छोटा सा ब चा ह, इसको लग गई लत अब। इसक छटन नह वाल ह – लागी नाह छट । पर लगनी तो चा हए, वो जबान म लगती नह य क आपका दल और आपक इ छा पर ह। थोड़ दन तक उसक चटक बठनी चा हए। जो इसका मजा ह वो तो गहराई म जाकर क ह। और वो तभी होता ह जब आदमी िजतना भोला हो जाता ह, कोई उसको बकता रह क कहता रह वो अपनी धन म चलता ह। वो भोलपन स ह बच जाता ह। उसका जो भोलापन ह, सादगी ह उसस बच जाता ह। और आदमी भोला तो तभी होता ह जब परमा मा स हवाल ह य क उसका planning करन वाला वो बठा ह, सब दखन वाला वो बठा ह। ब चा य भोला होता ह य क उसक वो मा क हवाल होता ह। अपन पास तो और भी आयध ह लोग को ठ क करन क लए, आप तो जानत ह बहत सार आयध ह। कोई
बगड़, नाराज हो, घमाओ; ल कन अपन ऊपर पहल घमा ल िजए। हो सकता ह आप ह अपन दमाग स अभी पा रत नह ह। अपना ह दमाग आपको समझा रहा ह ‘य नह हआ तो य, नह नह ऐसा नह ’। जब ब कल सब शात हो जाए, मबई म कोई सनमा ना चलता हो, कोई पाट नह होती हो, कोई शाद न होती हो, घर म कोई महमान ना हो, ऐसा जीऊ तो मर याल स अ त ह मलन पर भी ना हो। ब ध म हम पहच गए तो
फर वसा ह आप पाए भी। िजतनी अदर स मम ता आतता खीचगी और उसको दखना पड़गा, ह अदर। उसक बगर आप पार होन वाल नह ; पछल ज म क ह। और मर चल जान क बाद म खासकर, म जान वाल ह नह , एकाध दो मह न क लए चल जाऊगी, मर तो िज़द ह ह जब तक ह मत ह तब तक िज़द ह, द खए अब या होता ह। ल कन आप लोग म स ऐस कतन लोग ह जो इस बात को सोचत ह , इस बात को कतन लोग सोच रह ह क हमार हाथ स हजार लोग का क याण होन वाला ह, हमार हाथ स हजार लोग पार होन वाल ह और हम जो सी मत अभी थोड़ स ह वो कह अ धक एक एक आदमी हजार आदमी हो सकता ह।
आज ह आपस मर बातचीत हई थी। एक …. साहब थ वो वहा क बात कर रह थ। एक ल मण जी महाराज ह, वहा क मीर म ह, बड़ मान हए ह , सब कछ, म मानती ह। इतन मान हए ह , वो भी आपक जस सफ
realized ह और वो क ड लनी जाग त नह जानत, वो पार करना नह जानत, वो जो उग लय पर छोड़ (छो ड़य) कछ भी नह जानत। पढ़ लख आदमी ह और सफ पार ह। उस पर भी उ ह न अपना मठ खोला ह, सार द नया म लोग – उनस मल, उनस मल। उनस मल क या खाक होन वाला ह? वो या क ड लनी क जाग त जानत ह कछ भी? वो उग लय स अगर क ड लनी क जाग त करना सखा द तो हम जो कह सो मान। पर उनका नाम ह य क वो अपनी मठ बनाकर बठ ह, वहा झडा गाड़कर बठ ह, ल मण जी महाराज। सब द नया उनको मलन आती ह ाइम म न टर मल जाएग…. (अ प ट)। आप म स सब उनस ऊच ह म आपस बता सकती ह। ल कन आपको आप लोग को लगनी चा हए य क आप उगल क इशार पर अपनी, कड लनी दसर क उठात ह आप उनक सार च बता सकत ह । आप उनस प छए वो कसी क च बता द तो म जो कह सो मान। अगर वो बता द क कसका च कहा पकड़ा हआ ह इतना भी बता द । या य भी बता द क इस आदमी क जाग त हई क नह तो म जो कह। उ ह न मझ दखक यह भी नह पहचाना क म realized ह या नह तो आग क बात ह मत प छए। बताइए आप, उ ह न मझ दखकर यह भी नह पहचाना क म realized ह या नह ह तब फर आग क बात कर । और तम लोग या पहचान लोग क नह ? म न उनको दखकर क एक ण म पहचान लया। उनक बाप दादाओ स लकर और ज म ज मातर क हजार साल का सारा इ तहास सामन खोल दया और इन महाशय जी न अभी पहचाना भी नह । और वहा सार द नया उनको जानती ह, बबई शहर म उनका नाम ह , वहा नाम ह- वहा नाम ह और यहा जो हजार ल मण जी स भी कतन ऊच लोग यहा बठ ह उनका कछ भी नह । य क य ससार लोग ह , य ससार म बठ ह ल कन िजस दन आपन ससार ह सब कछ समझ लया सब यथ हो गया हमारा दना और सारा कछ। अपन इसी ससार स उठ करक आपको, जब तक आप पर इस चीज म उतर ग नह और जब तक आप पर तरह स इसम अपना यान लगाएग नह तब तक आपका दना ब कल बकार हो गया, म यह सोचगी क प थर पर फ क दया। एक एक आदमी उन एक महानभाव स बड़ा ह िजनक हजार following आती ह। इसस आप सोच सकत ह क वो मझ नह पहचान पाय क म realized ह या नह । य छोटा ब चा भी बता दना ह क realized ह, बताईय।