Address to IAS officers wives association New Delhi (भारत)

पब्लिक प्रोग्राम, आईएएस ऑफिसर्स वाइव्स एसोसिएशन , नयी दिल्ली , भारत के सत्य साधकों को मेरा प्रणाम।  08-04-2000. वर्तमान, समय जिसे ‘घोर कलियुग’ का समय कहते हैं और, सभी प्रकार की भयानक चीज़े हम यहाँ देखते – सुनते है, समाचार पत्रों में पढ़ सकते हैं।  यह सच्चाई है कि  हम एक बहुत  बुरे समय से गुज़र रहे है।इस के अतिरिक्त हम बहुत ही निम्न स्तर  के लोग मिलते हैं, जिन्हे हम अति निम्न  जीवन-मूल्य वाले  लोग कह सकते है।परंतु ऐसी भविष्यवाणी बहुत,बहुत ही समय पहले की गई थी कि इस वर्तमान समय में ही वे लोग जो सत्य खोज रहे है इन गिरी कंदराओं में, हिमालय, सभी प्रकार के विस्मृत स्थानों में, वे सत्य को पा लेंगे। यह सब पहले से ही अनेकों  महान ज्योतिष  ज्ञानियों द्वारा  , संतो द्वारा भी वर्णित है।  तो वर्तमान में हम बहुत ही भाग्यपूर्व  परिस्थिति में स्थापित हैं।  मैं यह अवश्य कहूँगी कि मुझे उन समस्त लोगों के लिए अत्यधिक  प्रेम है , जो  आएस और आइपीस  और अन्य सिविल सेवाओं  में हैं क्योंकि  मैं जानती हूँ कि उन्हें किन परिस्तिथियों में से  गुज़रना पड़ता है, यह बहुत उथल पुथल और त्याग से भरा हुआ जीवन  है ; पत्नी के लिए भी , परंतु  मुझे हमेशा आभास होता था कि यह युद्ध में लड़ रहे एक सैनिक की तरह हैं।  हम यहाँ इस देश का निर्माण करने के लिए हैं।  मेरे पति पहले विदेश सेवा में थे , मैंने कभी सेवाओं के बारे में नहीं सुना था और यह सब इसलिए मैंने कहा अब Read More …