Devi Puja: The Duties of a Guru Ganapatipule (भारत)

                                                      देवी पूजा  गणपतिपुले (भारत), 3 जनवरी 1987। आज चंद्रमा का तीसरा दिन है। चंद्रमा का तीसरा दिन तृतीया, कुंवारीयों के लिए विशेष दिन है। कुंडलिनी शुद्ध इच्छा है। यह कुंवारी है क्योंकि इसने अभी तक स्वयं को अभिव्यक्त नहीं किया है। और यह भी कि, तीसरे केंद्र नाभी पर, पवित्रता गुरु की शक्तियों के रूप में प्रकट होती हैं। जैसा कि हमें दस गुरु प्राप्त हैं, जिनका हम मूल गुरु के रूप में आदर करते  हैं, वे सभी उनकी बहन या बेटी को अपनी शक्ति के स्वरुप में रखते थे। बाइबिल के पुराने संस्करण में यह कहा गया है कि,  जो आने वाला है वह कुंवारी से पैदा होगा। और तब चूँकि यहूदी ईसा-मसीह को स्वीकार नहीं करेंगे, इसलिए उन लोगों ने ऐसा कहा कि “यह लिखा हुआ शब्द ‘कुंवारी’ नहीं है अपितु,  यह ‘लड़की’ लिखा है”।  अब संस्कृत भाषा में ‘लड़की’ और ‘कुँवारी’ एक ही शब्द है। हमारे पास आजकल की तरह 80 साल की लड़कियां नहीं थीं। तो एक महिला के कौमार्य का मतलब था कि वह एक ऐसी लड़की थी जिसकी अभी तक शादी नहीं हुई थी या जो अब तक अपने पति से नहीं मिली है। वह पवित्रता का सार है, जो गुरु सिद्धांत की शक्ति थी। तो, एक गुरु जो बोध प्राप्ति हेतु दूसरों का नेतृत्व करने का प्रभारी है, उसे यह जानना होगा कि उसकी शक्ति का उपयोग शुद्ध शक्ति की एक कुंवारी शक्ति के रूप में किया जाना है। एक गुरु इस शक्ति का उपयोग उस तरह से नहीं कर सकता जैसे एक Read More …

Talk After Sahasrara Puja: Unless and until you are conscious you cannot ascend Alpe Motta (Italy)

सहस्रार पूजा के बाद भाषणमेडेसिमो, एल्पे मोट्टा (इटली), 4 मई 1986 ये वे गीत हैं जिन्हे हिमालय में गाया जाता हैं, और यहाँ गाया जाना वास्तव में कुछ उल्लेखनीय है, है ना? आप इसे यहां गाए जाने के लिए लाए हैं। अब, मुझे लगता है कि मैंने आपको पहले ही एक बहुत, बहुत लंबा व्याख्यान और आपके कथानुसार एक भाषण दिया है, लेकिन कुछ प्रतिक्रियाएं बहुत अच्छी थीं, और कुछ इसे बहुत अच्छी तरह से अवशोषित कर पाये थे। लेकिन कुछ, उन्होंने बताया कि, सो रहे थे। अब ये चीजें नकारात्मकता के कारण होती हैं। आपको अपनी नकारात्मकता से लड़ना होगा, क्योंकि नकारात्मकता ही वह चीज है जो सवाल पूछती है। जब मैं बात कर रही हूं तो मैं सच कह रही हूं, पूर्ण सत्य, लेकिन यह नकारत्मकता सवाल पूछती है और यह प्रतिबिंबित होता है। जब यह प्रतिबिंबित होने लगती है, तो कुछ भी दिमाग में नहीं जाता है क्योंकि आप पिछले वाक्य के साथ रह जाते हैं, और वर्तमान, आप इसके साथ नहीं होते हैं। तो एक पलायन की तरह, सब कुछ उबल कर नीचे बैठ जाता है, और फिर तुम बच जाते हो और तुम सो जाते हो। मेरा मतलब है, मैंने आज आपको अपने चेतन मन में डालने की पूरी कोशिश की। तुम्हें सचेत रहना है, तुम्हें सजग रहना है; और वह बात ऐसी है कि जब तक आप सचेत नहीं होते तब तक आप उत्थान नहीं कर सकते। कोई भी असामान्य व्यक्ति उत्थान नहीं कर सकता। आपको खुद को सामान्य करना होगा। आप में से Read More …