Seminar Day 2, Attention and Joy Bordi (भारत)

[Hindi translation from Enlgish]

    चित्त और आनंद 

                                    3 ​​दिन के शिबिर का दूसरा दिन

 बोरडी (भारत), 27 जनवरी 1977।

…  बहुत ज्यादा भटकाव और चित्त को स्थिर कैसे करें| अब चित्त की गुणवत्ता आपके विकास की स्थिति के अनुसार बदल जाती है। उदाहरण के लिए, एक जानवर में …

तो इंसान में चित्त कहाँ रखा जाता है? यह एक निश्चित बिंदु नहीं है। आप कह सकते हैं, चित्त जागरूकता की सतह या किनारा है। जहां भी हमें जागरूक किया जाता है, […]