Guru Puja: “The promises you have to make”

London (England)

1977-07-01 Guru Puja, London, 18' Download subtitles: EN,RUView subtitles:
Download video (standard quality): Transcribe/Translate oTranscribe

                          गुरु पूजा, “जो वादा आप को करना है”

आज आप के गुरु की पूजा का दिन है : जो की आपकी माता है। और जैसा कि मैंने आपको बताया, यह एक बहुत ही अनोखी घटना है कि स्वयं माता, को आपका गुरु बनना पड़ा है।

और आप यह भी जानते हैं कि एक माँ के लिए एक गुरु होना बहुत मुश्किल काम है, क्योंकि उसका प्यार इतना अति-बहता है कि उसके लिए अपने बच्चों को कोई भी अनुशासन देना मुश्किल है। वह अपने प्यार को अनुशासित नहीं कर सकती, वह अपने बच्चों को कैसे अनुशासित कर सकती है?

ऐसा होने के नाते, शिष्यों पर जिम्मेदारी बहुत अधिक है। यदि गुरु एक ऐसा व्यक्ति है जो आपके किसी दर्द को अहसास किए बिना आपको अनुशासित कर सकता है, तो वह बहुत अधिक सक्षम है, और वह ऐसा कर सकता है। लेकिन एक माँ के लिए यह बहुत, बहुत, बहुत मुश्किल है, मैं कहूँगी, गुरु बनना बहुत मुश्किल काम है। वह नहीं जानती कि कैसे संतुलन बनाना है, और वह बेहद क्षमाशील है क्योंकि वह एक माँ है। जबकि गुरु, शुरू से ही क्षमा नहीं करता है। लेकिन माँ, अंत तक, वह आखिरी छोर तक जाएगी। यहां तक ​​कि अगर बच्चे ने उसे छोड़ दिया है, भले ही उसने उसे पीटा हो, भले ही वह उसे वध करने के लिए तैयार हो, फिर भी वह कह रही होगी कि, “मेरे बच्चे आपको चोट तो नहीं आयी है?” तब शिष्यों की ज़िम्मेदारी बहुत अधिक होती है, यह सुनिश्चित करने की कि, वे उसे चोट नहीं पहुँचाते हैं, और वे मेरे प्यार को हलके में नहीं लेते हैं। क्योंकि उन्हें पता होना चाहिए कि उन्हें खुद को साबित करना है और उन्हें खुद को सुधारना है।

इसीलिए इस दिन प्यार के जबरदस्त अतिरेक तथा दिव्य विचार या प्रेरणा जो मुझे बताती है कि आपको अनुशासित होना है का बहुत ही अनूठा संयोजन है। आपको सहज ही अनुशासित होना चाहिए, किसी अन्य व्यक्ति द्वारा नहीं। ऐसा होना ही चाहिए, क्योंकि यदि जहाज ठीक से कसा हुआ ना हो और यह समुद्र में यात्रा के योग्य नहीं है तो यह बहुत दूर नहीं जा सकता है।

यदि आप उनकी कृपा और करुणा, उनके आनंद और दया के सागर में सवारी का आनंद लेना चाहते हैं, तो आपको अपने आप को पूरी तरह से तैयार करना चाहिए।

अब हमने देखा है कि हमारे पास चक्र हैं, और हम उन्हें उत्तेजित कर सकते हैं, हम देवताओं को जागृत करके चक्रों को जागृत कर सकते हैं। लेकिन यह महज एक यांत्रिक प्रक्रिया नहीं है। प्रत्येक देवता को इसके पीछे एक सूक्ष्म बिंदु मिला है, जो कि आपके भीतर एक बहुत ही सूक्ष्म बिंदु है। आप उन्हें एक-एक करके जानते हैं। और आप जानते हैं कि ये चक्र क्यों पकड़ रहे हैं – क्योंकि आपके पास उस चीज़ की कमी है। इसके बारे में कुछ भी बुरा महसूस करने के लिए नहीं है। जैसा कि मैंने आपको बताया कि यह आपकी मोटर कार की तरह है। यह आपका साधन है। लेकिन साधन की ठीक से सामंजस्य और सफाई करना पड़ती है। आज मैं चाहती हूं कि आप कुछ वादे करें जो की निभाए जाए | और सब से ऊपर , जैसा कि मसीह ने कहा है, “अपने पड़ोसी से इस तरह प्रेम करो जैसे खुद से करते हो ।” मैं , इससे एक कदम आगे कहूंगी: “अपने पड़ोसी से एक सहज योगी,से खुद से भी  अधिक प्यार करो।” चलो हम यहाँ से शुरू करते हैं। मैं आपको पूरे ब्रह्मांड के लिए करने के लिए नहीं कहती: आपस में।

सबसे पहले तय करें: आपने दूसरों के लिए क्या किया है?

दूसरा: आपको एक वादा करना होगा कि आप किसी भी अन्य योगी को कठोर शब्द नहीं कहेंगे, भले ही वह आपको बुरी तरह से पेश आये ! अगर आप मुझे ऐसा कर के बता सकें| आज से,  यही करना सबसे बड़ा पाप है।

दूसरों को ठीक करने की कोशिश मत करो! यदि वह आपको उसकी जांच करने के लिए कहता है, तभी बताएं कि, “यह बात है।” लेकिन कठोर मत बनो! कुछ मीठा बोलने के लिए अपनी जीभ का उपयोग करें। मैं आपको बार-बार कह रही हूं। अन्यथा मैं आप पर किसी तरह का प्रतिबंध लगा दूंगी। अपनी जीभ को नियंत्रित करने की कोशिश करें। किसी चीज़ को मिठास से रखना बहुत आवश्यक है, आप कर सकते हैं, आप योगी हैं, किसी बात को कुछ मीठा बनाना बहुत आसान है। यह एक ऐसी आकर्षक चीज है। आप कठोर बातें क्यों कहते हैं? किस लिए? दुश्मन पैदा करने के लिए? यदि आप दुश्मन चाहते हैं, तो आपके पास बहुत सारे हो सकते हैं: इसके लिए आपको कठोर बातें कहने की आवश्यकता नहीं है। दुश्मनों को इकट्ठा करना बहुत आसान है। दोस्त मिलना मुश्किल। और अपने ही परिजनों, सहज योगियों को पाना मुश्किल है। तुम्हारी माँ एक है। और इससे मुझे सबसे ज्यादा दुख होता है। कोई भी, कोई भी चीज, जो तुम्हें तोड़ने की कोशिश करती है, वह मेरे दिल के कई टुकड़े कर देगी और यह शरीर कई भागों में विभाजित हो जाएगा। तो मेरे साथ ऐसा मत करो। यह सबसे बड़ी पीड़ा है जो मुझे तुमसे हो सकती है। मैं आपसे अनुरोध करती हूं कि ऐसा न करें क्योंकि मैंने आपको अपने शरीर में ले लिया है, और आप मेरा हिस्सा हैं। आप मेरे सहस्रार की हजार पंखुड़ियों में से एक हैं, और मैं नहीं चाहती कि ये पंखुड़ियां आपके द्वारा तोड़ी जाएं और दूसरों द्वारा रौंद दी जाएं। आपकी अपनी गरिमा है, और दूसरों की गरिमा का सम्मान कीजिये। और आप सहज योगी हैं, आत्मसाक्षात्कारी हैं, आपको पता होना चाहिए। आप सामान्य लोग नहीं हैं।जिस तरह आप स्वयं का सम्मान करते हैं, आप दूसरों का सम्मान करेंगे।

यह एक बात है जो मुझे आपको बताना चाहिए: कि आप को आपस में बहुत विनम्र और बहुत ही दोस्ताना और बेहद मधुर होना चाहिए। इसके अलावा जब आप ऐसा करना शुरू करेंगे, तो धीरे-धीरे आप एक ऐसी विधि सीख जाएंगे जिसके द्वारा आप बहुत मीठे होंगे।

कठोर होने की अपेक्षा मीठा होना बेहतर है।

दूसरों की पिटाई करने से बेहतर है कि पिट जाए।

दूसरों को धोखा देने की तुलना में सरल और धोखा खाना बेहतर है।

हम ढाल की तरह हैं और ढाल को तलवार से लड़ना है। तलवार तलवार से नहीं लड़ेगी, यह एक ढाल है जिसे इससे लड़ना है।

यह आपको समझना चाहिए, कि किसी भी चीज़ के लिए, कठोर शब्द नहीं कहना चाहिए। शांत रहो! बस चुप रहे। अपनी जीभ पर नियंत्रण रखने की कोशिश करें।

यह एक बात है: कि किसी भी तरह की कोई अनबन नहीं होनी चाहिए क्योंकि आप आपस में सामूहिक रूप से जागृत रहते हैं। अगर आपके बीच में अनबन है, तो आप एक नहीं हो सकते हैं: फिर हम पूरी दुनिया के एक होने के बारे में कैसे सोच सकते हैं? जरा इस बारे में भी सोचें!

और आपकी ज़िम्मेदारी बहुत अधिक है क्योंकि पूरे यूरोप और पूरे इंग्लैंड में आप पहले लोग हैं  जिन्हें यह मिला है।

एक दूसरे का सम्मान करो। उन अच्छे बिंदुओं के बारे में सोचें जो सभी के पास हैं। प्यार करने की कोशिश करो।

अगर मैं तुम्हारी तरह होती … तुम्हें पता है मैं सम्पूर्ण हूँ मुझे कोई समस्या नहीं है – मैं क्यों परवाह कर रही हूँ? क्योंकि मुझे तुमसे प्यार है। यदि आप एक-दूसरे से प्यार करते हैं, तो आप किसी अन्य व्यक्ति के अच्छे बिंदु देखेंगे, और आप उन्हें आत्मसात करेंगे। एक-दूसरे से प्यार करने की कोशिश करें। लेकिन इस प्यार को महज दैहिक प्रेम ना समझें। यह दिव्य प्रेम है: पूरी तरह से पवित्र, शुद्ध, ऊंचा, आपको उत्थान में मदद करना।

आज रात आप मुझसे वादा करते हैं कि,  आप हर सहज योगी को प्यार के बंधन के व्यक्ति के रूप में देखेंगे न कि घृणा में। और अगर आपको लगता है कि कोई सही नहीं कर रहा है या बुरा हो रहा है, तो आप घर बैठे उस व्यक्ति को ठीक कर देते हैं।  तुम जानते हो कि कैसे करना है। लेकिन कठोर नहीं होना चाहिए।

ख़राब बात करके आप उस व्यक्ति की कुछ भी मदद नहीं करने जा रहे हैं।

आप अपने उन तरीकों का उपयोग करें जिन्हें आप अच्छी तरह से जानते हैं। यह एक बिंदु है। और इससे मुझे सबसे बड़ी खुशी मिलेगी, सबसे बड़ी बात: जब मैं अपने सभी बच्चों को एक-दूसरे से प्यार करते हुए और एक-दूसरे के प्रति दयालु होते हुए, सभी के लिए दौड़ते हुए, एक-दूसरे की मदद करने की कोशिश करते और बेहद विनम्र बनते देखती हूँ।

आप में से कुछ संपन्न हैं, आप में से कुछ अधिक बुद्धिमान हैं, आप में से कुछ को अधिक हृदय गुण मिले हैं। किसी ऐसे व्यक्ति को नीचा दिखाने की कोशिश न करें जिसके पास बुद्धि में थोड़ी कमी है, या वह व्यक्ति जिसके पास कुछ कम प्रेम है। शायद उस व्यक्ति को जरा अधिक प्यार की जरूरत है। दूसरों से पाने की अपेक्षा करने की बजाय, देने की कोशिश करें ।

फिर एक दूसरा: आज, मैं चाहती हूं, आप सभी से, यह जाने कि आप वे लोग हैं जिन्हें इस देश में सहज योग का निर्माण करना है और अन्य देशों में भी जहाँ भी तुम जाओ। तो तुम बीज की तरह हो, और वह बीज जो पूरे वृक्ष को उगाता है! आपको अन्य सभी पेड़ों की जिम्मेदारी सहन करना होगा, इसीलिए आप बहुत महत्वपूर्ण हैं!

इसलिए आज आपको यह संकल्प करना है कि, अपने निजी जीवन में, आप ईमानदार रहने जा रहे हैं। आप खुद पर नज़र रखने जा रहे हैं। आप स्वयं का आत्म-निरीक्षण करने जा रहे हैं। आप झूठ नहीं बोलने वाले हैं। और आप अपनी पवित्रता की देखभाल करने जा रहे हैं, अपने जीवन की देखभाल एक बहुत ही कीमती चीज के रूप में करें। और तुम खुद को किसी धोखे में नहीं रखने वाले हो। और आप अपने आप को भ्रष्ट नहीं करने वाले हैं। और आप खुद को अपनी ही नजरों में कलंकित  नहीं करेंगे, बल्कि ऐसी दृष्टी विकसित करेंगे जो इन सभी चीजों की आलोचना करते हैं और खुद की और दृष्टी रख सकते हैं।

आज आपको मुझसे वादा करना चाहिए कि आप ध्यान करेंगे, आप आत्मनिरीक्षण करेंगे और फिर अपने स्व पर पहुंच जाएंगे।

तीसरे, आप सहज योग जो की परमात्मा का कार्य है की किसी भी कीमत पर आलोचना नहीं करेंगे ! यदि आपको सहज योग का एक भाग समझ में नहीं आता है, तो आप आकर मुझसे पूछ सकते हैं, लेकिन आलोचना न करें! यह आपको मुझसे वादा करना चाहिए।

अब तक जो भी होना था, हुआ। यह समाप्त हो गया। इसे माफ कर दिया। लेकिन अब उनके तरीकों की आलोचना न करें, क्योंकि अब आपको उच्च स्थिति में रखा गया है। आज आप एक उच्च पद पर आसीन हैं। किसी भी कीमत पर आगे सहज योग की आलोचना नहीं! क्योंकि तब आप स्वयं भगवान की आलोचना करते हैं! यदि आप नहीं समझते हैं, तो मुझसे पूछें।

और आप जानते हैं कि, अब आप वो लोग हैं, भगवान ने केवल उन लोगों को भेजा है जो वास्तव में जानते हैं कि सहज योग ही एकमात्र रास्ता है। यह केवल आप पर, जो बहुत थोड़े लोग हैं इसे प्रकट किया गया है कि, यह सत्य है। और यह पूरी मानवता और सभी लोगों को बचाने वाला है। और परमात्मा को केवल सहज योग के माध्यम से ही समझा जा सकता है।

इसलिए सहज योग को कोई भी बदनाम नहीं करने वाला है। न ही कोई यह कहेगा  कि, “मैं सहज योग हूँ!” जो कोई भी ऐसा सोचता है वह, हमेशा से रहा है, अब तक, हमने पिछले कई वर्षों के सहज योग के अपने अभ्यास में  देखा है, जो कोई भी ओढ़ लेता है कि, “मैं सहज योग हूँ!” उसका सभी सहज योगियों में संभवतः सबसे खराब  पतन हुआ है। तो ऐसा मत करो। हम उस सहज योग के अंग-प्रत्यंग हैं: लोगों के साथ सामंजस्य बिठाना, लोगों के साथ एक होना। तो किसी को भी सहज योग की आलोचना नहीं करनी चाहिए, किसी को भी सहज योग से छेड़छाड़ नहीं करना  चाहिए।

इसलिए आपको मेरे प्रति आज्ञाकारी होना होगा। मैं आपको एक अलग तरीके से और हर तरह से बता रही हूं, जिसे आपको समझना चाहिए।

अब, यह रोका जाता है। आज आपने यह पूजा की है, मैं आपको बताना चाहती हूं कि स्वयं आपको अपनी मर्जी से,अपनी समझदारी से मेरी आज्ञा माननी होगी। यह आपका अपना निर्णय है। मैं आप पर आज्ञाकारिता को बाध्य नहीं कर सकती, लेकिन आपको यह समझना चाहिए कि यह आपके भले के लिए है।

क्योंकि हर मिनट मैं आपका भविष्य देख सकती हूं, मैं आपका अतीत देख सकती हूं, मैं आपका उत्थान देख सकती हूं, मैं सब कुछ देख सकती हूं। अगर मैं उस समय कुछ भी कहती हूं, तो यह थोड़ा अनुचित लग सकता है, लेकिन सिर्फ मेरी बात मानें, जो मैं आपको बताती हूं!

आपने देखा है, मैं बहुत ज्यादा नहीं मांग रही हूं, ज्यादा नहीं, जैसा कि अन्य गुरु करते हैं। आप अन्य गुरुओं को नहीं जानते कि वे क्या करते हैं: वे शिष्य को कुए में अधबीच में लटका देंगे। वह वहीं होता है और उसकी कमर से वे एक रस्सी को लटका देंगे। वे ऐसी सात भयानक तरह की परीक्षा – परीक्षण लेते हैं। वे उसे किसी जगह फेंक देंगे। ऐसी सात। कुल मिलाकर १०८ परीक्षाएं हैं। और फिर वे कहते हैं, “साथ आओ!” फिर वे आपको [सिखाने] की कोशिश करेंगे। इसके बाद शुरू होता है।

मैं आपकी परीक्षा नहीं ले रही हूं। लेकिन आज्ञाकारिता बहुत आवश्यक है क्योंकि मैं सब कुछ जानती हूं। मैं इस में कोई मदद नहीं कर सकती आप मेरे बारे में कोई अन्य  राय नहीं रख सकते क्योंकि यह तथ्य है। और अगर मैं कुछ कहती हूं, सामान्यत:  मैं नहीं कहूंगी, मैं आपको चोट नहीं पहुंचाऊंगी, आप जानते हैं। मुझे तुम्हे चोट पहुँचाना पसंद नहीं है। आप को कोई भी चोट पहुंचाने के बाद मैं रोती बिलखती हूं। लेकिन मुझे यह करना होगा, क्योंकि तुम मेरे सबसे प्यारे बच्चे हो और तुम मेरे अपने हो। और आपको सबसे महत्वपूर्ण काम करना है, इसलिए सावधान रहें। जो कुछ मैंने तुमसे कहा है, तुम्हें मानना ​​पड़ेगा।

इसके लिए आज से और आज के समारोह से, ये तीन स्पष्ट प्रतिबंध हैं। मैंने बहुत कुछ नहीं मांगा। लेकिन वे बहुत कठिन चीजें हैं। वे मुश्किल हैं।

तो, स्वयं की देखभाल करें।

अच्छे सहज योगी बनने की कोशिश करो।

एक-दूसरे के प्रति मधुर रहें, एक-दूसरे के प्रति दयालु रहें।

खुद को धोखा ना दें |

अपने चैतन्य की देखभाल करें और सब कुछ कार्यान्वित होगा |