Sahasrara Puja: I want you to demand and ask, because I have no desire London (England)

                                 सहस्रार पूजा  डॉलिस हिल, लंदन (यूके), 5 मई 1979। तो आज बहुत महत्वपूर्ण दिन है, यह आप जानते हैं ; क्योंकि सृष्टि के इतिहास में, ईसा-मसीह के समय तक, मानव जागरूकता में, केवल पुनरुत्थान की भावना पैदा की गई थी – कि आपको पुनर्जीवित किया जा सकता है या आप का पुनर्जन्म हो सकता हैं। ऐसा यह भाव उनके साथ ही प्रकट हुआ। लोगों ने इसे पहचाना, कि यह हम सभी के साथ कभी न कभी हो सकता है। पर वह नहीं हुआ। बोध कभी नहीं हुआ। वह एक समस्या थी। और वास्तविकता में प्रवेश किए बिना आप जो भी बातें कर सकते हैं, वह कल्पना ही लगता है। तो, व्यक्ति को वास्तविकता में, सच्चाई में कूदना होगा। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था और जैसा कि मैंने आपको बताया है कि, अगर यह एक या दो लोगों के साथ हुआ भी होता तो इससे आम जनता को कोई फर्क नहीं पड़ता और कोई भी इसे स्वीकार नहीं करता। और रेगिस्तान में बहने वाली छोटी- मोटी नदी की तरह यह पतली हवा में गायब हो जाती है। सत्य भी , जो भी पाया गया, उसकी कभी जड़ें नहीं थीं। और इस सच्चाई के साथ सभी प्रकार की अजीब चीजें शुरू हुईं, जिनका इन लोगों ने प्रचार किया। तो मानवीय चेतना का यह चरम बिंदु होना था कि, जहाँ वह दिव्य के साथ एकाकार  हो जाता है कि, वह अपने साथ एक हो जाए। होना ही था। और वह भी उस समय होना था, जो सबसे उपयुक्त, सबसे अच्छा समय था। Read More …