Mahakali Shakti

New Delhi (भारत)

1980-02-08 Mahakali Shakti, 62'
Download video (standard quality): Transcribe/Translate oTranscribe

Feedback
Share

                   “महाकाली शक्ति”

सार्वजनिक कार्यक्रम, 8 फरवरी 1980 नई दिल्ली, भारत।

सहज योगी : दो दिन पहले मुझे दिल्ली के एक मंदिर में माताजी का परिचय कराने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था और बड़ी भीड़ आई थी। यह भीड़, कार्यक्रम के अंत में, माताजी के पैर छूने के लिए बहुत उत्सुक थी और एक बार फिर मुझे एहसास हुआ कि आप इस देश में कितने भाग्यशाली और धन्य हैं क्योंकि आपकी परंपराओं, आपके पालन-पोषण ने आपको एक गहरी धारणा और अध्यात्म के आयाम के प्रति बेहतर संवेदनशीलता दी है।  ऐसा लगता है कि आप कई अन्य लोगों, अन्य देशों और सभ्यताओं की तुलना में ईश्वर के प्रति अधिक जागरूक हैं। यही कारण है कि हम में से बहुत से लोग भारत आए हैं, मैं कहूंगा, लगभग बीस। इस सदी के साथ प्रक्रिया शुरू हुई, लेकिन विशेष रूप से द्वितीय विश्व युद्ध के बाद बड़ी संख्या में पश्चिम के साधक भारत आए, वह खोजने जो उनकी अपनी संस्कृति, अपनी सभ्यता नहीं दे सकी। यह जीवन के कुछ बुनियादी सवालों का जवाब है, हमारे भाग्य के अर्थ का आत्म-संतुष्टि के सवाल का जवाब। अब, यह कहानी दयनीय हुई क्योंकि इस देश से ऐसे चोर और बदमाश हुए हैं जिन्होंने खुद को गुरु कहा है, और बिना किसी दैवीय अनुमति के उन्होंने नेतृत्व किया था, या यूं कहें कि उन्होंने बड़ी संख्या में साधकों को गुमराह किया था। जब मैंने भारतीय लोगों से इन चीजों के बारे में बात की, तो उन्होंने कहा, “हम इन सभी नकली गुरुओं पर विश्वास नहीं करते हैं। यह आप हैं, विदेशी, यह आप पर्यटक हैं जो उनका समर्थन करते हैं। आप इन लोगों को पैसा देते हैं, इसलिए वे चलते हैं। ” यह सच है। हम बहुत अनाड़ी हैं; हम अध्यात्म के मामले में बहुत मूर्ख हैं। हमें आसानी से बेवकूफ बनाया जा सकता है।

हमारे दृष्टिकोण से, आप अपने शास्त्रों के ज्ञान के साथ वास्तविक और नकली व्यक्ति के बीच अंतर करने की अधिक संभावना रखते हैं। फिर भी मैं यही कहूंगा कि अब पश्चिम में नकली गुरुओं का युग समाप्त हो रहा है। मैं अपने देश में एक बहुत वरिष्ठ खुफिया अधिकारी को अच्छी तरह से जानता हूं, और स्विट्जरलैंड के पुलिस प्राधिकरण भारतीय छद्म गुरुओं से बिल्कुल तंग आ चुके हैं। एक स्वामी ओंकारानंद है जो चौदह साल के आपराधिक अभियोग के लिए मेरे काउंटी में जेल में है, और उस पर बलात्कार, काला जादू और यह सब आरोप लगाया गया है … यह सब भारतीय आध्यात्मिकता के शीर्षक के तहत अखबार में आया था। अब आकलन करने के लिए मैं आप पर छोड़ता हूं कि यह आपके देश की छवि के लिए कितना मददगार है। यह लंबा और बहुत ही शुभ नहीं ऐसा परिचय मुझे आपको यह बताने के लिए प्रेरित करता है कि एक ऐसी शख्सियत जो बहुत लंबे समय से इन सभी घटनाओं के बारे में सच कह रही है, नकली गुरुओं, झूठे नबियों का रहस्योद्घाटन कर रही है और दुनिया भर के साधकों के लिए हिंदू आध्यात्मिकता की सच्ची वास्तविक प्रामाणिक छवि को उजागर कर रही है। और यह शख्सियत परम पावन माताजी निर्मला देवी हैं। और इसलिए अब वह समय आ रहा है जिसमें वह पहचाने जाने वाली है। यह प्रक्रिया शुरू हो गई है और इसे कोई नहीं रोक सकेगा।

मैं आपको भारतीयों के रूप में बताना चाहता हूं कि आपके देश के लिए मेरे मन में बहुत सम्मान है लेकिन, मैं आपका भी सम्मान कर सकूं, उसके लिए आपको दुनिया के प्रति जो आपकी जिम्मेदारी है, उसे महसूस करना चाहिए। एक चीज है जो भारत दुनिया को दे सकता है और वह है इस क्षेत्र में मार्गदर्शन जहां भारत ने अन्य सभी देशों को पीछे छोड़ दिया है – और वह है आध्यात्मिकता। और एक व्यक्ति है जो आज आध्यात्मिक जीवन के चरम  पर है।

क्यों? यह व्यक्ति कौन है?

यह वह शख्सियत है जो कुंडलिनी को ऊपर उठा सकती है। यह शख्सियत वह है जो कुंडलिनी को जन स्तर पर उठा सकती है। यह वह शख्सियत है जिनके बारे में कहा गया है कि एक बार उनकी तरफ देखने मात्र से सारी समृद्धि आती है।

मैंने रातों-रात माताजी को स्वीकार नहीं किया है। मैं उनके पास बहुत विश्लेषणात्मक दिमाग से आया था। मैंने उन्हें लंबे समय तक देखा है जब तक मुझे एहसास नहीं हुआ कि वह कितनी पूर्णत: वास्तविक है। कितनी पूरी तरह से देखभाल करने वाली और कितनी निस्वार्थ और सबसे बढ़कर, वह कितनी शक्तिशाली है।

इसलिए, मुझे इसमें तनिक भी संदेह नहीं है कि सहज योग वह हासिल करने वाला है जो परमेश्वर चाहता है कि आप उसे प्राप्त करें। अर्थात् सभी साधकों की मुक्ति, जनसामान्य को आत्म-साक्षात्कार की संभावना। लेकिन मुझे संदेह है कि आप इस देश में सहज योग को कितनी गंभीरता से लेने जा रहे हैं। हमने पश्चिम में इतनी गलतियाँ की हैं कि हम जानते हैं कि स्थिति कितनी नाटकीय है। यूरोप अब तीसरे विश्व युद्ध के डर में है, दुनिया भर में ऊर्जा संकट के डर में, एक आत्म-विनाशकारी समाज के परिणामों के डर में, जहां उत्पादन प्रक्रिया को रोका नहीं जा सकता है, ऐसे सामान के उत्पादन को जो आवश्यक नहीं हैं।

हम पश्चिमी सभ्यता में रहते हैं जहां परिवार नष्ट हो जाता है, जहां एक तिहाई युवा जोड़ों का तलाक हो जाता है; ऐसी सभ्यता को फिर से सही रास्ते पर लाना बहुत मुश्किल है। जबकि भारत में, आप, संदेश प्रसारित करने के लिए हमसे कहीं बेहतर तरीके से तैयार हैं। आप बहुत अधिक धार्मिक हैं तो हम इस अर्थ में हैं कि आप अभी भी महिला का सम्मान करते हैं, आपके पास नारीत्व की भावना है [अस्पष्ट-टेप टूटा हुआ] चुनौती देने पर। आप धर्मपरायण लोग हैं। इन सभी स्थितियों से आपको हमारी तुलना में तेजी से आत्म-साक्षात्कार प्राप्त करने में सक्षम होना चाहिए। एकमात्र सवाल यह है कि क्या आप इसकी अत्यावश्यकता को समझते हैं? क्या आप इसके महत्व को समझते हैं? क्योंकि आपका सरोकार भौतिक चीजों, भौतिक विकास, भौतिक सुरक्षा से है और चूँकि धार्मिक रूढ़िवाद की परंपरा ने कभी-कभी यह सुझाव दिया है कि धर्म क्रियाशील, व्यावहारिक और प्रभावी नहीं हो सकता है। आप में से कई, शायद, यह नहीं देख पाते हैं कि आत्मसाक्षात्कार का अनुभव करना आपके दैनिक जीवन में कितना तत्काल महत्वपूर्ण है। सहज योग को आपकी बुद्धि से परिचित कराने की बात करना हास्यास्पद है, कि यह बात अपने आप में व्यर्थ है। जो सार्थक है वह है आत्म-साक्षात्कार का अनुभव, अपनी स्वयं की शक्ति का बोध।

अगर आप यहां सिर्फ एक और सत्संग सिर्फ जिज्ञासा से सुनने के लिए आते हैं, क्योंकि माताजी एक बहुत प्रसिद्ध शख्सियत हैं और आप जानना चाहते हैं कि वह कौन है, आप बहुत कुछ प्राप्त नहीं कर पायेंगे। लेकिन अगर आप यहां सच्चे दिल से आते हैं, जो ईश्वर से हृदय से प्रार्थना कर रहा है: “कृपया, मैं यहां आपके बच्चे के रूप में आता हूं, मुझे अपने पास पहुँचने का मार्गदर्शन करो,” तो मैं बड़े विश्वास के साथ कह सकता हूं कि अब आप अपने जीवन की लंबी खोज की मंजिल तक पहुंच सकते हैं। । आप में से कुछ को यह पहचानने में समय लगेगा कि माताजी कौन हैं। और हम यह नहीं कहते कि हम जो कहते हैं, उससे आप उन्हें पहचानें। आज शाम हम जो सुझाव देना चाहते हैं, वह यह है कि अपने अंतर्मन में विकसित हों, अपनी शक्ति प्राप्त करें, चेतना के इस नए आयाम में प्रवेश करें और उस स्थिति से  महत्व को समझें, जो आपके साथ हो रहा है उसकी महानता को समझें, प्रेम की विशालता को समझें और जो आत्म-साक्षात्कार का यह उपहार देने में सक्षम है, उसकी करुणा को समझें। अब हम, पश्चिम में, हजार से अधिक लोग हैं, सभी पृष्ठभूमि के कई हजार लोग हैं। हममें से कुछ माली हैं, हममें से कुछ प्रबंधक हैं, हममें से कुछ कवि हैं, हममें से कुछ कुछ नहीं करते हैं, हममें से कुछ राजनयिक हैं। और हम सभी, हमने चैतन्य को महसूस किया है, माताजी के शरीर से निकलने वाले स्पंदन जिन्हें धर्म-शिक्षा में पवित्र आत्मा की हवा के रूप में वर्णित किया गया है। हमने महसूस किया है कि हमारी कुंडलिनी ऊपर उठ रही है।

यह सच है। या तो मैं झूठा हूँ, या तो मैं सच कहता हूँ; लेकिन मैं कहता हूं कि मैंने अपनी कुंडलिनी को महसूस किया है, और मैं कोई महान व्यक्ति नहीं हूं, मैं एक महान आध्यात्मिक व्यक्ति नहीं हूं। मैं एक बहुत ही आम आदमी हूं जिसने बहुत सारी गलतियां की हैं। तो यह आपको बताना चाहिए कि सहज योग कितना अविश्वसनीय है कि मेरे जैसा एक साधारण आम आदमी अपना बोध प्राप्त कर सकता है। और मैं हजारों लोगों की ओर से बात कर रहा हूं। इस स्तर पर हमें केवल एक ही चिंता है। क्या आप, जो इस महान देश में जन्म लेने के लिए आशिर्वादित हैं, जिस देश की रक्षा की गई है, कि आप सत्य का संदेश लेते हैं।

ऐसा करने से, आप न केवल अपने लिए सबसे बड़ा काम कर सकते हैं जो आप कर सकते हैं, बल्कि आप अपने पूरे परिवार पर परमात्मा का आशीर्वाद फैलाएंगे, आप अपने देश पर ईश्वर की कृपा लाएंगे। मुझे पता है कि यह सब दूर की कौड़ी लगता है, कि शहर में बहुत से लोग हैं जो इन बातों के बारे में बोलते हैं। इसलिए मैं अपने भाषण को ज्यादा महत्व नहीं देता। लेकिन जो ईमानदार और विनम्र है, उसे अनुभव पाने के लिए तैयार रहना चाहिए। क्योंकि यह वैज्ञानिक अभिधारणा है कि प्रयोग पहले आना चाहिए और निष्कर्ष अंतिम। और यदि आपमें यह तत्परता है, यदि विनम्रता का यह स्पर्श है जो बहुत आवश्यक है तो आज शाम और सहज योग पर वार्ता की यह श्रृंखला आपके जीवन में एक महत्वपूर्ण मोड़ होगी। मेरी इच्छा थी कि जो मैं आपके लिए महसूस करता हूं, या मैं कितनी गहराई से चाहता हूं कि, आप अपना आत्म-साक्षात्कार प्राप्त करें उसे बेहतर ढंग से व्यक्त कर सकूं। हम जिस समय में जी रहे हैं वह कितना महत्वपूर्ण है, यह एक ऐसा समय है जो कम है। मैं माताजी की घोषणा करने के लिए इतने अपर्याप्त संदेशवाहक होने के लिए क्षमा चाहता हूं।

लेकिन जिसे ग्रहण करना है, वह तुम्हारा मस्तिष्क नहीं है; आपका दिमाग मूल रूप से भगवान को समझने के लिए अनुपयोगी है, ऐसा ही मेरा था। सभी महान संतों ने यही कहा है: ईश्वर को केवल हृदय से ही पहचाना जा सकता है। तो आइए आज हम अपने दिल में नम्र हों और प्रार्थना करें कि हम सभी को परमात्मा का आशीर्वाद मिले।

श्री माताजी : जैसा कि मैंने कल कहा था, आज हम शुरू से ही शुरू करने जा रहे हैं, जब से यह सहज योग शुरू हुआ है। जब मैं आपसे बात करती हूं, तो मेरा फिर से अनुरोध है कि एक वैज्ञानिक की तरह से आपको अपना दिमाग बिल्कुल खुला रखना चाहिए और किसी भी बिंदु पर जो आपके दिमाग में आता है अटकना नहीं चाहिए। लेकिन यह समझने की कोशिश करें कि आज जो कुछ भी मैं आपको बता रही हूं वह आपके लिए एक परिकल्पना हो सकती है लेकिन कल यह पूरी तरह से वैज्ञानिक बात बन जाएगी, क्योंकि आपको ईश्वर के प्रेम के विज्ञान को समझना होगा। शायद लोग यह नहीं समझ पाते हैं कि सभी विज्ञान स्वयं सर्वशक्तिमान ईश्वर से आए हैं।

ईश्वर के प्रेम और दिव्यता को समझने के लिए व्यक्ति को अपने आप को उस पूर्ण स्थिति के प्रति उजागर करना होगा जहां से सभी सापेक्षता गायब हो जाती है। आप सापेक्षता के वातावरण में जी रहे हैं। हमें अपने परम का पता लगाना होगा। जब तक हम अपने परम का पता नहीं लगा लेते, हम हमेशा भ्रम में रहते हैं और हम सोचते हैं कि यह ठीक हो सकता है या वह ठीक हो सकता है, अगर यह ठीक है तो वह ठीक हो सकता है। हम अपनी तर्कसंगतता के माध्यम से सब कुछ तय करने का प्रयास करते हैं। जैसा कि ग्रेगोइरे आपको पहले ही बता चुके हैं, तर्कसंगतता एक सीमित साधन है और मैं असीमित की बात कर रही हूं। तो अगर आपको असीमित में जाना है, तो इसे तर्कसंगतता से परे होना होगा। तो खुले दिमाग से, मुझे आशा है कि आप मेरी बात सुनेंगे। बोध के बाद जब आप में से शक्ति प्रवाहित होने लगेगी तो आप यह जान सकेंगे कि इसे कैसे चलाना है, इसे कैसे समझना है और इसे कैसे शीतल स्थिति में रखना है ? जैसे, कोई पहले बिजली के बारे में समझाएगा फिर आपको बिजली के प्रवाह के साथ एक प्रयोग देगा और आपको बताएगा कि इसका उपयोग कैसे करना है। बिजली के इस्तेमाल से आपको यकीन हो जाएगा कि यह एक वैज्ञानिक प्रमाण है।

मैं व्याख्यान की शुरुआत सृष्टि से कर सकती थी, लेकिन शुरुआत करने के लिए ऐसा बहुत अधिक हो सकता है। मैं इसे आपके अस्तित्व से शुरू करूंगी। जब आप एक इंसान होते हैं, तो आपको पता नहीं होता कि आप अंदर क्या हैं। जहां तक ​​आपके भौतिक शरीर का संबंध है, डॉक्टर केवल आपके अस्तित्व का बाहरी हिस्सा देखते हैं। आंतरिक सूक्ष्म शक्तियां जो आपको पैदा कर रही हैं, जो आपकी देखभाल कर रही हैं और जो आपको अस्तित्व में ला रही हैं, आप बिल्कुल अनजान हैं। हमारे अस्तित्व में सबसे पहले वह शक्ति है जो हमारे अस्तित्व में दाहिने हाथ तरफ से प्रवेश करती है और बाईं ओर जाती है जिसे हम महाकाली शक्ति कहते हैं, महाकाली की शक्ति है। यह महाकाली शक्ति हमारे भीतर एक शक्ति प्रकट करती है जो इड़ा नाड़ी से चलती है। अब यह नाड़ी, या यह सूक्ष्म नाड़ी, मस्तिष्क के अंदर और रीढ़ की हड्डी के अंदर है। इसके ऊर्जा होने के कारण, जब इसे विच्छेदित किया जाता है तो आप इसे नहीं देख सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप इसे (बिजली के तार ) को काटते हैं तो आपको यहां बिजली दिखाई नहीं देगी। बायीं ओर यह इड़ा नाड़ी हमें अपना अस्तित्व और दृष्टिगोचर होने के लिए स्थूल रूप से हमारे बाएं अनुकम्पी left sympathetic तंत्रिका तंत्र को प्रकट करता है। इस इड़ा नाड़ी के कारण ही हमारा वजूद है। यह हमारे जीवन के सभी भावनात्मक पक्ष को भी अभिव्यक्त कर रही है जो हमारे अतीत से आता है, इसलिए इसमें वह सब अतीत है जो हमारे भीतर है। तो इड़ा नाडी प्रकट होती है, या हम कह सकते हैं कि, वह सब जो हमारा अतीत है उसे इकठ्ठा कर लेती है। यह हमारा अस्तित्व है, हम बस इसे हलके में लेते हैं कि हम मौजूद हैं [टेप थोड़ा टूटा हुआ, ०५.४४], हम अपने अहंकार में, अपनी समझ से जो चाहें करते हैं। हम अपने स्तर पर खुद को नष्ट करने की पूरी कोशिश करते हैं और हम उस मुकाम पर पहुंच जाते हैं जहां हमें हार माननी पड़ती है। यह सब आपके लिए तय है कि आपको कब तक अस्तित्व में रहना है। यह सब पूर्व निर्धारित है। अगर आपको एक बिंदु पर मरना है तो आप मर जाएंगे। इसे रोकने वाला कोई नहीं है। तो कुछ लोग जो आकर मुझसे कहते हैं, “माँ, कोई मर रहा है या मर गया है। क्या आप उसे जीवित कर सकते हो?” अगर उसे जीना है, तो वह जरूर जीएगा। केवल परमात्मा के चमत्कार में श्रद्धा आपको उस पर विश्वास करवाती है; लेकिन आपका जन्म और मृत्यु का समय बिल्कुल नियत है, जिसे स्वीकार करना चाहिए।

यह ऐसा नहीं है कि, यह आपकी कुंडलियों में, या आपके होरोस्कोप में वर्णित  है। उदाहरण के लिए कुंडली के अनुसार एक सज्जन की मृत्यु लगभग 5-6 वर्ष पूर्व होनी थी और वह मेरे पास आया था। उसे उसका बोध हो गया और वह उसके बाद बहुत अधिक समय तक जीवित रहा; वह अभी भी जी रहा है। तो वह अपने पंडित के पास गया और उसने उससे पूछा, “ऐसा कैसे हुआ, तुमने भविष्यवाणी की थी कि मैं इस साल मरने जा रहा हूँ और अभी भी मैं जी रहा हूँ?”

फिर उन्होंने कुण्डली में देखा और कहा, “वैसे, क्या आप किसी महान आध्यात्मिक व्यक्तित्व से मिले हैं?”

उन्होंने कहा, “मैं किसी से मिला था।”

उन्होंने कहा, “यही कारण है। मुझे तुमसे कहना चाहिए था कि, अगर तुम मिले होते, अगर तुम इस महिला से मिलते, तो इससे बचा जा सकता।”

और इसे टाला जाना था, और वह मुझसे मिला। तो एक तरह से हमेशा एक संयोग होता है। क्योंकि आप यहां हैं, आपको यह नहीं सोचना चाहिए कि आप यहां जानबूझकर आए हैं बल्कि ऐसा होना चाहिए कि आपको यहां होना चाहिए। अब यदि आप इस संयोग का लाभ नहीं उठाते हैं, तो वह स्वतंत्रता आपके पास है। लेकिन संयोग परमात्मा द्वारा बनाए गए हैं। वह व्यवस्थित करता है और व्यवस्था करता है कि आप सही व्यक्ति से मिलें कि आपको सही चीज़ मिले। लेकिन यह आपकी स्वतंत्रता पर छोड़ दिया गया है कि आप सही या गलत का चुनाव करें। अधिकतर हम अपनी मर्जी और समझ के अनुसार चलते हैं। फिर भी यदि मान लें कि हमारी समझ एक शुद्ध समझ है, और एक सरल समझ है, तो हमें पता चलेगा, हम यह जानने के लिए बहुत संवेदनशील होंगे कि वास्तविक व्यक्ति कौन है, कौन नहीं है। लेकिन आम तौर पर जब हम जीते हैं तो हम अपने अस्तित्व के साथ खेलते हैं, हम अपनी संवेदनशीलता को कम करने की कोशिश करते हैं। इस बाएँ पक्ष को विनाशकारी पक्ष के रूप में भी वर्णित किया जा सकता है क्योंकि यदि यह मौजूद नहीं है, तो यह विनाशकारी है, यह आपको नष्ट कर देता है। इसलिए इसे संहारक शक्ति भी कहा जाता है। कि इस शक्ति से तुम नष्ट हो सकते हो। यदि आपको और अस्तित्व में नहीं रहना है, तो वही शक्ति आपको नष्ट कर सकती है। अब, यह बाएं तरफा शक्ति बहुत महत्वपूर्ण है और हमारे देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, विशेष रूप से, जहां हमारे भीतर परंपराएं हैं।

बाएं पक्ष के लोग, जो बहुत अधिक लेफ्ट साइड में लिप्त होते हैं, वे बहुत भावुक होते हैं और वे भक्ति को अपना लेते हैं। यदि वे भक्ति करते हैं तो वे ईश्वर को पुकारते रहेंगे और उस पर काम करते रहेंगे और ईश्वर को पाने के लिए सभी प्रकार की भावनात्मक अभिव्यक्तियाँ करते रहेंगे। यह भक्ति पंथ हमारे देश में विकसित हुआ, भगवान जाने कितने साल पहले, लेकिन काम कर रहा है और ऐसे कई लोग हैं जो इस भक्ति पंथ में शामिल हो रहे हैं। लेकिन जब आप इस बाईं तरफ की एक निश्चित सीमा को पार करते हैं, तो आप सामूहिक अवचेतन क्षेत्र में प्रवेश कर जाते हैं। अगर यह अवचेतन है तो आप उससे आगे निकल जाते हैं। यदि आप सामूहिक अवचेतन में जाते हैं, तो आप उन लोगों द्वारा खुद पर हमला करवा सकते हैं जिन्हें आप नहीं जानते हैं, या शायद आप जानते हैं, और इस तरह हम को ऐसे लोग मिलते हैं जो ग्रसित हो जाते हैं। आपकी सभी भावनात्मक समस्याएं, आपकी सभी मानसिक समस्याएं जिन्हें पागलपन कहा जाता है और वह सब, इस क्षेत्र में दोषपूर्ण व्यवहार के कारण आ रही हैं। यदि आप बाईं ओर के क्षेत्र में जाते हैं, जैसा कि मैंने आपको बताया, किसी भी तरह से मान लीजिए कि कुछ लोगों को कब्रिस्तानों से गुजरने का बहुत शौक है। मुझे पता नहीं क्यों, लेकिन उनके पास… कुछ ऐसे अजीब लोग हैं। हमारे पास लंदन में एक डॉक्टर था, वह एक रूसी डॉक्टर है लेकिन अब वह ऑस्ट्रेलिया में है। वह मेरे पास आया और उसे बायीं ओर इड़ा नाडी में समस्या थी। और मैं चकित थी। मैंने कहा कि रूस के और ऑस्ट्रेलिया में रह रहे और अभी लंदन में होने वाले इस डॉक्टर को ऐसी समस्या कैसे हो सकती है। मैंने उनसे कई सवाल पूछे, “क्या आप कब्रिस्तान के पास रहते हैं, या आपके परिवार में कोई मरा हुआ है? क्या आप किसी के लिए रोए हैं, किसी ने आपको झटका दिया या चौंका दिया है या ऐसा क्या हुआ है कि आप में यह बायां हिस्सा इतना कमजोर है? या आपने बहुत अधिक नशीले पदार्थों का सेवन किया है या ऐसा ही कुछ?”

उन्होंने कहा, “कोई नहीं। श्री माँ, मैंने ऐसा कुछ नहीं किया है और न ही मैं ऐसा रहा हूँ।”

फिर मैंने कहा, “तुम याद करने की कोशिश करो।”

तब उसे याद आया कि उसकी दादी को कब्रिस्तान जाने का बहुत शौक था और बचपन में वह उसे बच्चों वाली गाड़ी में ले जाया करती थी। फिर वह… जब वह चलने लगा था तब भी वह उसे ले जाती थी। जब तक वह काफी बड़ा नहीं हो गया, वह हमेशा उसे उस कब्रिस्तान में ले जाती थी। ज़रा कल्पना करें। यह इतनी मज़ेदार बात है कि हम अपने अतीत में नहीं जानते कि हम इस बाएं हाथ तरफ की गतिविधि में कैसे शामिल हुए हैं।

अब, हमारे देश में हमारे पास जो भी परंपराएं हैं, वे सभी महान संतों से आती हैं, जिन्होंने ध्यान किया है। उनमें से अधिकतर नहीं, लेकिन मैं कहूँगी, उनमें से ज्यादातर। लेकिन हम यह नहीं कह सकते कि,  भारत में एक भी परंपरा गलत नहीं है। लेकिन परंपराएं बाद में विकृत हो सकती हैं; लेकिन मूल रूप से अगर आप देखें, तो हमारी परंपराएं बहुत समझदार हैं। जैसे, जब किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो हमारे पास जो भी कर्मकांड होते हैं वह एक बहुत ही समझदार अनुष्ठान होता है। हम भारतीयों को इसके बारे में पता नहीं है, हम जो अनुष्ठान करते हैं। बेशक उसमें ब्राह्मण जब पैसा लेने लगें तो वह विकृति है। अगर कोई मर गया है तो किसी को पैसे नहीं लेने चाहिए। ऐसा करना बहुत पापपूर्ण है क्योंकि वह बाएं हाथ तरफ के हमलों से प्रभावित होगा। वे लोग जो इस तरह का सब काम करते हैं और दूसरों की मौत से पैसा कमाया हैं, उन्हें बहुत खतरनाक स्थिति में रखा जाता है। इसके अलावा। जब आप भी पाते हैं कि आपके परिवार में कोई मरा हुआ है… इतने सारे लोग जब मेरे पास आते हैं, तो मुझे लगता है कि भारत में बायें हाथ की समस्या है। कारण यह है कि यदि किसी की मृत्यु हो जाती है, मान लीजिए कि पिता की मृत्यु जल्दी हो गई है या माता की मृत्यु जल्दी हो गई है, तो लोगों को उस व्यक्ति की चिंता होने लगती है। यदि पिता की मृत्यु बहुत कम उम्र में हो जाती है, तो जैसे किसी एक लड़की के मामले में, वह बहुत असुरक्षित महसूस करती है। हर समय वह उनके बारे में सोच रही है। तब उस तरह का दिमाग बाईं तरफ एक समस्या पैदा कर सकता है और हमें इसे दूर करना होगा। यही कारण है कि भारत में हम क्या करते हैं यदि [टेप थोड़ा टूटा हुआ] कोई मर जाता है तो बैंड वगैरह बजाते है इसके पीछे विचार यह है कि,  इससे बाहर निकला जाए। वे लोग मर चुके हैं, दूसरी दुनिया में चले गए हैं। उन्हें जाना है। उन्हें यहां इधर-उधर नहीं घूमना है और हमें उन्हें वापस नहीं रखना है और उन्हें अपनी भावनाओं के बंधन में नहीं रखना है। यह हमें समझना चाहिए। आप देखिए, आधुनिक समय में, हम वह सब कुछ छोड़ देते हैं जो पुराना था। यह बहुत गलत बात है। क्योंकि उन्होंने जो कुछ भी खोजा है वह शाश्वत है। मैंने लोगों को देखा है, भले ही आप उन्हें बताएं कि आप भूल जाओ, इसके बारे में भूल जाओ, अब इसके बारे में चिंता मत करो, वे नहीं सुनेंगे। और फिर आप पाते हैं कि वे मिर्गी जैसी गंभीर बीमारियों, पागलपन और अन्य मानसिक परेशानियों में पड़ जाते हैं। विशेष रूप से महिलाओं में हम पाते हैं कि इस तरह की समस्या होने पर हिस्टीरिया विकसित हो जाता है।

अब इस बात पर विश्वास करना आसान नहीं है कि ऐसा कुछ है कि, चारों ओर लाशें लटकी हुई हैं। किसी भी पढ़े-लिखे व्यक्ति के लिए इस तरह की बकवास पर विश्वास करना बहुत मुश्किल है, लेकिन ऐसा हैं। आपको यह जानना होगा कि वे मौजूद हैं। अब इसका मतलब यह नहीं है कि आप उनकी शक्तियों में विश्वास करें, लेकिन आपको पता होना चाहिए कि वे मौजूद हैं और इसलिए आपको अपनी मर्यादाओं में रहना होगा। आपको मध्य में रहना है और किसी एक तरफ बहुत ज्यादा नहीं जाना है। भक्ति में भी जब लोग इसे ज़्यादा करते हैं जैसे कि वे रोने लगते हैं और रोने लगते हैं और कहते हैं कि “हे भगवान, आपको आना चाहिए और हमें कुछ दर्शन देना चाहिए” या कुछ ऐसा की सुबह से शाम तक वे उपवास करते हैं और कहते हैं कि “जब तक तुम हमारे सामने न आ जाओ, हम मरने वाले हैं।” जब आप कोशिश करते हैं तो ये सभी चीजें इसे कार्यान्वित करने की भावनात्मक शैली होती हैं। तुम इसे प्राप्त नहीं कर सकते क्योंकि यह तुम्हारा मनस है, यह तुम्हारा मन है। अपने मन से तुम ईश्वर को प्राप्त नहीं कर सकते। रोने और धोने से आप आवेश में आ जायेंगे। आप हर तरह की बेतुकी बातें करेंगे जो लोग सोच सकते हैं कि आप पागल हैं। वे सोच सकते हैं कि आप सिर्फ अभिनय कर रहे हैं या वे … मुझे नहीं पता कि वे क्या सोचेंगे, लेकिन इस तरह के रोने से आपको कुछ हासिल नहीं होता है। उदाहरण के लिए अब हमारे पास भारत में है … मेरा मतलब है कि यह यहां शुरू हुआ, मुझे लगता है, यह हरे राम हरे कृष्ण पंथ। ये लोग इतने अजीब हैं कि ऑक्सफोर्ड स्ट्रीट में अगर आप लंदन जाएंगे तो आप उन्हें धोती और साड़ी पहने पाएंगे। वे नहीं जानते कि कैसे पहनना है और इस के साथ कैसे चलना है और हाथ में धोती लेकर और बड़े उत्साह के साथ वे “हरे राम हरे कृष्ण हरे राम हरे कृष्ण” पर जा रहे हैं और साड़ी गिर जाती है और धोती गिर जाती है और वे उन चुटिया को धारण करते हैं जो आप देखिए, जो एक छोटे से क्लैंप के साथ जुड़े होते हैं, मुझे लगता है या [अस्पष्ट] या कुछ और। चूँकि उनकी होती तो है नहीं इसलिए उन्हें इसे बाजार में खरीदना पड़ता है। उन्होंने इसका बाजार बना लिया है। ये सारी चीजें बाजार में बेच रहे हैं। वे धोती बेच रहे हैं, वे इसे बेच रहे हैं, वे धोती पहनना नहीं जानते हैं और कोई है जो आपको पहनाएगा। वे अपने बाल मुंडवाते हैं, ये सब काम करते हैं।

मां (हिंदी में बोलती हैं): बैठ जाएं, उठे नहीं बीच में। लोगों का ध्यान बहुत संवेदनशील होता है। कोई खड़ा हो गया तो आप जरूर उसे देखेंगे।

साधक (हिंदी में बोलता है): देखिए, इतनी आलोचना करना ठीक नहीं है।

श्री माताजी (हिंदी में जारी): अच्छा आप, आपको, आप बाहर जाएँ क्यों की आप के समझ में आने नहीं वाला क्यों आलोचना हैं। आप बाहर जाए।

साधक (हिंदी में जारी): नहीं, नहीं

श्री माताजी (हिंदी में जारी): हमें जो कहना है, कहने दीजिये। देखे, हमें जो कहना है कहने दीजिये। आप से क्या मतलब है। जहां आवश्यक है, वहां आलोचना होना है। वो तो आपको पता नहीं की क्राइस्ट ने तो हंटर ले के मारा था इन लोगों को। हम तो कम से कम शब्दों से ही बोल रहे हैं। जो बात झूठ है वो झूठ है और जो सच है जो सच है और वो कहने में हमारी हिम्मत है उसे आप दाद दे। आपको, आपको अभी उसका अंदाजा हुआ नहीं है ना। आगे की सुन लीजिये एक मिनट। अच्छा, उससे…

श्री माताजी : उससे क्या हो गया है? मैं आलोचना क्यों कर रही हूँ? या इन सबके साथ जब वे मेरे पास आते हैं तो उन्हें गले का कैंसर होता है, अब क्या तुम उसका इलाज करोगे। क्या आप इसे साफ़ करेंगे? आपके लिए यहां चिल्लाना बहुत आसान है, यह कोई राजनीतिक बैठक नहीं है कि आप आकर बात करें।

साधक: [अस्पष्ट]

श्री माताजी : नहीं, लेकिन मैं जो कह रही हूँ, वह आपको समझना चाहिए। वे गले के कैंसर से पीड़ित हैं।

साधक (हिंदी में बोलता है): [अस्पष्ट]

श्री माताजी (हिंदी में बोलते हैं): देखिये, आपको अच्छा नहीं लगता है तो आप बाहर चले जाएं। जो मुझे कहना है वो मैं कहूंगी आपको सुनना है, सुनिए

एक अन्य साधक : यह बेहतर है कि वह आलोचनात्मक है । विश्लेष्णात्मक मन से… आलोचनात्मक मन होने से आप बेहतर समझ सकते हैं।

श्री माताजी : आखिर, मैं यह नहीं कहने जा रही हूँ कि तुम जाकर वही काम करो। तुम्हें पता है, ये लड़के जब मेरे पास आते हैं तो गले के कैंसर से पीड़ित होते हैं। अब, क्या यह सज्जन इलाज करेंगे? मैंने उन्हें ठीक कर दिया है और मुझे इससे गुजरना होगा। उसने अब तक क्या किया है कि वह बात कर रहा है? उसे चुप रहना चाहिए क्योंकि उसे कुछ भी पता नहीं है, उसके पास अभी कोई अधिकार नहीं है।

एक अन्य साधक: हाँ

श्री माताजी: और कृपया समझ लें कि यह मेरी बात सुनने का तरीका नहीं है। मुझे जो कहना है, मैं कहूंगी, मैं किसी से नहीं डरती। और अगर कुछ गलत है, तो मैं यह कहने जा रही हूं, भले ही आप मुझे सूली पर चढ़ा दें।

एक और साधक : बहुत अच्छा

श्री माताजी : अब यही,  मैं कहने जा रही थी कि यदि आप ऐसा कुछ करते हैं, असाधारण बात करते हैं, तो आपको कैंसर हो जाता है। कल ही मैंने कहा था। आप अनुकंपी sympathetic गतिविधि में कैसे आते हैं? मैं आपको बस इतना बता रही हूं कि आप बाएं हाथ तरफ की अनुकम्पी sympathetic गतिविधि में कैसे फंसते हैं। और क्या आप जानते हैं कि कैंसर बाएं हाथ पक्ष की समस्या से होता है न कि दाहिने हाथ पक्ष से जो कि शारीरिक है? बस इसके बारे में थोड़ा धैर्य रखें। इस तरह की बकवास अगर आप घर में करना शुरू करते हैं, और अगर आपको कल कैंसर हो जाता है … अब मैं आपको उस व्यक्ति का ठीक-ठीक नाम और सब कुछ बताऊंगी, मुझे किसी चीज का डर नहीं है क्योंकि मैंने उन्हें ठीक किया है। मेरे पास इसका सबूत है और मैं आपको यह दिखा सकती हूं। वो थे डॉ. मुले, आप उनसे संपर्क कर सकते हैं. मुझे नहीं पता कि वह आज आया है या नहीं। उन्होने मेरे पास एक लड़का भेजा, केवल बारह साल का लड़का ल्यूकेमिया से पीड़ित था, बारह साल का लड़का। और वह मेरे पास आया, वह ल्यूकेमिया से पीड़ित था और जब मैं उसके इतिहास में वगैरह में गयी और मुझे उसके पिता के किसी गुरु या किसी गलत व्यक्ति के पास में जाने का कोई निशान नहीं मिला। लेकिन जब मैंने उनसे उनके दादा के बारे में पूछा, जिनके साथ यह छोटा लड़का रह रहा था, तो उनका एक गुरु था और मुझे गुरु का नाम भी पता है, और यह लड़का ल्यूकेमिया से पीड़ित था। अब मोहम्मद साहब ने इन भयानक गुरुओं से छुटकारा पाने के उपाय बताए हैं। आपको गुरु का नाम लिखना है और उन्हें जूतों से पीटना है। यही एकमात्र तरीका है जिससे आप इलाज कर सकते हैं। अब उस समय कोई यह नहीं कहेगा कि तुम आलोचना मत करो, क्योंकि बारह साल का बच्चा ल्यूकेमिया से पीड़ित है, एक महीने के भीतर मर जाएगा। सभी करुणा में, यह सोचें कि यह कितना खतरनाक है। और मुझे चेतावनी नहीं देनी चाहिए? मैं तुम्हारी माँ हूं। मैं यहां किसी राजनीतिक नेतृत्व या किसी प्रकार के चुनाव के लिए नहीं आई हूं।

पूरी करुणा के साथ मैं तुमसे कह रही हूं कि ऐसी बातों में मत पड़ो। अब यह आदमी, जब उसे ल्यूकेमिया हो गया और उसके पिता ने मुझसे कहा, मैंने उससे कहा कि तुम उसे जूतों से पीटो। उसने अपने पिता को बुलाया, उसके पिता को भी उस गुरु को पीटना पड़ा। आप डॉ. मुले से पूछ सकते हैं कि ल्यूकेमिया का कोई निशान नहीं था, तीन दिनों के भीतर वह ठीक हो गया। लेकिन हमें कड़ी मेहनत करनी पड़ी। मैं यहां लोगों का इलाज करने नहीं आयी हूं। मैं एहतियाती उपाय क्यों नहीं करूँ? मान लीजिए कि पेनिसिलिन में कुछ गड़बड़ है, क्या आप यह नहीं कहेंगे कि पेनिसिलिन में कुछ गड़बड़ है? क्या यह आलोचना है? मुझे आलोचना क्यों करनी पड़े? इससे मुझे क्या लाभ? मैं आप लोगों से कोई पैसा नहीं कमा रही हूं। मैं आपके किसी सहारे पर नहीं जी रही हूं। मुझे किसी ऐसी चीज की आलोचना क्यों नहीं करनी चाहिए जिसकी आलोचना की जानी चाहिए? जो कुछ कहना है, किसी को तो कहना ही है। किसी में इतनी हिम्मत होनी चाहिए,  जो सही है वह सही है और जो गलत है वह गलत है, उसे कहना होगा [दर्शक तालियां]।

तो हम लेफ्ट साइड की इस समस्या पर आते हैं जो मुझे आपको बतानी चाहिए और आपको चेतावनी देनी चाहिए कि यदि आप बाईं ओर बहुत अधिक जाते हैं तो एक तरह की बहुत ही अजीब स्थिति इस हद तक विकसित हो जाती है, आपको आश्चर्य होगा। हमारा एक और लड़का है… उसका नाम रॉनी है, लंदन में। वह एक बहुत पढ़ा-लिखा लड़का है, सब कुछ, और हर समय वह क्या करता है? वह रो रहा है। वह कोई काम नहीं कर रहा है, बिस्तर पर सो रहा है। उसका नाम रॉनी है… मैंने हिंदी में कहा यह रोनी है [सब हंसते हैं]। हम इसे रोनी-सूरत कहते हैं, वह वही था, और उसकी माँ उससे तंग आ चुकी है। तीन बार मैंने उसे उसकी माँ के पास भेजा तो उसने कहा, “माँ मैं इस लड़के को सहन नहीं कर सकती, वह कुछ नहीं कर रहा है, रो रहा है।”

मैंने कहा, “तुमने क्या किया?”

आपको विश्वास नहीं होगा अगर मैं आपको बता दूं कि उसने क्या किया, कि ये चीजें कैसे होती हैं। उसने लॉर्ड बायरन को दिल से पढ़ा। ऐसी बातें पढ़कर आपके दिमाग में ये सब जुदाई के ख्याल, विचार… मेरा मतलब है, वास्तव में वह जुदाई में बिल्कुल भी नहीं है, उसके साथ कुछ भी गलत नहीं है, लेकिन आप ऐसी पहचान बना लेते हैं। इंसान को पहचान बनाने की आदत होती है। जब आप ऐसी चीजों के साथ पहचान करना शुरू करते हैं, तो आप मुसीबत में पड़ जाते हैं, और जब आप मुसीबत में पड़ जाते हैं, तो आप पगला रहे हैं, यह जाने बिना कि आप सीधे पागलखाने में पहुंच जाते हैं। पागलपन, पागलपन… कल ही यहाँ एक लड़का था जिसने कहा, “माँ, मैं अब पागल हो गया हूँ। वे मुझे पागलखाने में डालने जा रहे हैं।” तुम्हारे बीच वह बैठा था और उसने आकर मुझे बताया। अब अगर मुझे पता चले कि उसके साथ  किस तरह की बातें थी, तो क्या मैं आपको यह नहीं बताऊं कि यही कारण है कि लोग पागल हो जाते हैं और आप ऐसा नहीं करें? हमें यह समझना चाहिए कि हम हमेशा चीजों की अति कर देते हैं। अति| अति सदा वर्जिते। इसलिए लिखा है कि इसे छोड़ देना चाहिए। हमें अपनी मर्यादाओं पर ध्यान देना चाहिए: न बहुत अधिक भावुक, न बहुत अधिक बौद्धिक, न ही बहुत अधिक शारीरिक, बल्कि हर चीज का मध्य मार्ग रखें। मैं आपको यह इसलिए बता रही हूं क्योंकि यह एक चरम है जिसका मैं वर्णन कर रही हूं, जिस पर हम जाते हैं। हम भारतीयों को विशेष रूप से भावनात्मक सुंदरता का उपहार दिया जाता है, इसमें कोई संदेह नहीं है, लेकिन कभी-कभी जिस तरह से हम चीजों से जुड़ जाते हैं, वह हमें बहुत गलत चीजों की ओर ले जा सकता है। जैसे, हम अपने परिवार से जुड़े हो सकते हैं। यह बहुत अच्छी बात है, आपको अपने परिवार के लिए करना चाहिए, आपको अपने बच्चों के लिए करना चाहिए। सहज योग में संन्यासी के लिए कोई स्थान नहीं है। किसी संन्यासी के लिए कतई जगह नहीं है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप प्यार के नाम पर अपना देश बेच दें। ऐसे लोग हैं, आप जानते हैं, जो अपना देश बेच सकते हैं।

अब यह एक ऐसा देश है जहां श्री राम जैसे व्यक्ति पत्नी को, जोकि उनके पीछे की शक्ति थी, सिर्फ एक उचित जनमत रखने के लिए जंगल में भेज पाए हैं। जबकि हमारे पास इस देश में ऐसे लोग हैं जिन्हें आप निश्चित रूप से जानते हैं। उनमें से बहुत से ऐसे हैं कि अपने बच्चों की देखभाल करने के लिए, उन्हें अपने ही देशवासियों के साथ कुछ भी गलत करने से कोई फर्क नहीं पड़ता। हमारे साथ एक बहुत ही आम बीमारी है और हमें पता होना चाहिए कि हमें इसे ज़्यादा नहीं करना चाहिए। अगर हम इसे करते हैं, अगर हम इसे ज़्यादा करते हैं, तो कई बीमारियों के रूप में इसका बुरा परिणाम आ जाता है; हम शारीरिक और मानसिक रूप से बीमार हो जाते हैं। ऐसे लोग मानसिक रूप से पूरी तरह से जुनूनी हो सकते हैं। वे अंधे हो सकते हैं; वे बहुत हो सकते हैं, जिसे आप कहते हैं, विस्थापित लोग। उनका बुढ़ापा बहुत कठिन होगा। वे गैंग्रीन विकसित कर सकते हैं और वे भयानक दिल की बीमारी,  दिल के दौरे, इन सभी चीजों के भी शिकार हो सकते हैं, क्योंकि यदि आप इस तरह की अति कर रहे हैं तो यह सब कार्यान्वित हो सकता है। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से यह बहुत बड़ा आश्चर्य है कि जब आप अपनी भावनाओं में बहुत अधिक लिप्त होते हैं, तो हमें लगता है कि व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ रहा है क्योंकि ऐसा व्यक्ति रोएगा और धोएगा और वह सब कुछ कहेगा। लेकिन वास्तव में, यदि आप डॉक्टर को दिखाते हैं तो वह कहेगा कि कोई दिल का दौरा नहीं पड़ा है। दरअसल क्या होता है कि जब आप लेफ्ट हैंड साइड में बहुत ज्यादा लिप्त हो जाते हैं तो आपका दिमाग आपे के बाहर हो जाता है। देखें कि प्रकृति ने इसे कैसे संतुलित किया है। किसी भी पागलखाने में जाकर पता चलता है कि वहां किसी को भी एक बार भी दिल का दौरा नहीं पड़ेगा। वे वैसे ही दिखेंगे लेकिन असल में आप देखेंगे तो आपको एक भी व्यक्ति दिल का दौरा पड़ने से मरता नहीं दिखेगा, क्योंकि दिमाग प्रभावित होता है। हम अपने दिल से काम कर रहे हैं और दिमाग आपे से बाहर हो जाता है – प्रकृति ने जो संतुलन दिया है, उसे देखें। तो चरम पर जाना मस्तिष्क द्वारा नियंत्रित किया जाता है। बाईं ओर, आपको सावधान रहना होगा कि आप कहाँ तक जाएँ ।

साधक : बायीं ओर जाने का क्या अर्थ है?

श्री माताजी : अब, यही तो मैं कहने की कोशिश कर रही हूं, वह है बहुत भावुक होना, बहुत भावुक होना। आप देखिए, यहाँ मैं ग़ज़ल बाज़ लोग कहती हूँ, यहाँ बहुत हैं, मुझे पता है कि उन्हें ग़ज़लें बहुत पसंद हैं। अब ये ग़ज़लें हैं… इनमें से कुछ ग़ज़लें मिलन में, ख़ुदा से मिलन में, ख़ुदा के नाम से गाई जाती हैं। मिलन में जो भी गाया जाता है, वह सुंदर होता है। लेकिन हर समय विरह  का गायन अंत की शुरुआत है। तब आपको लगने लगता है कि आप कितने दुखी हैं। आपके पास हजारों चीजें होंगी, लेकिन फिर भी आप दुखी रहेंगे। आप सोचते हैं, “ओह, मेरा जीवन कितना दयनीय है, मैं किसी काम में अच्छा नहीं हूँ। मैंने यह काम गलत किया है।” आप अपनी पत्नी को प्रताड़ित करेंगे और उसके बारे में चिढ़ेंगे। आप उससे बात नहीं करेंगे। वह कहेगी कि “आप मुझसे बात क्यों नहीं कर रहे हैं,” और आप कहेंगे, “मैं बहुत मूडी हूं।” यह तो शुरुआत है; ऐसे शुरू होता है। फिर आप ऐसी चीजों को पढ़ना शुरू करते हैं कि लोगों को कैसे प्रताड़ित किया गया है, उनके साथ क्या हुआ है, फिर उसके साथ आप भी बहने लगते हैं… आप देखिए, चित्त बाईं ओर घूमने लगता है। तब तुम मरे हुओं पर ध्यान देना शुरू करोगे। मैं उस दिन एक बहुत छोटी लड़की से मिली थी, बहुत छोटी थी जिसे आप विश्वास नहीं करेंगे, मुश्किल से इक्कीस, बस सगाई हुई थी, बहुत अच्छी लड़की थी, उसके पास… लेफ्ट साइड बिलकुल खत्म हो गयी थी। मैंने कहा, “कौन सी किताबें पढ़ रही हो?” क्योंकि उसके मामले में मैं और कुछ नहीं सोच सकती थी। और उसने मुझे यह तीसरी आंख वाले शख्स का नाम दिया और फिर … वह दूसरा क्या है? मुझे नहीं पता, उसने कितने नाम दिए। वे सभी मृत और शैतान के बारे में चर्चा कर रहे हैं। तुम क्यों चाहती हो, मैंने उससे पूछा, एक शैतान के बारे में पढ़ना? क्या आप शैतान बनने जा रहे हैं? मेरा मतलब यह है कि जिस ज्ञान का आप उपयोग नहीं करने जा रहे हैं, उसमें आप क्यों घुसना चाहते हैं? तो, इन सभी चीजों को शामिल करना आपको उस तक ले जाता है। फिर, आगे, आप किसी ऐसे गुरु के पास जा सकते हैं जो प्रेत-विद्या, स्मशान-विद्या, भूत-विद्या का विशेषज्ञ है। यह विषय इतना आश्चर्यजनक है, आप सोच भी नहीं सकते कि उन्होंने कैसे मंत्रमुग्ध कर दिया। वे आपको मंत्रमुग्ध करते हैं और आप में विश्वास पैदा करते हैं। आपको आश्चर्य होगा कि बावजूद कि, सहज योग में अब हम इतने सालों से काम कर रहे हैं, बेशक मैं प्रचार से थोड़ी झिझकती हूं क्योंकि कभी-कभी मुझे लगता है कि अगर आप बहुत ज्यादा प्रचार करते हैं तो हमें हर तरह के गलत लोग मिलेंगे, लेकिन फिर भी हम जो भी प्रचार कर रहे हैं, हम इतने लोगों को आकर्षित नहीं कर पाए हैं जितने इन नकली गुरुओं के पास हैं। हालांकि वे बहुत सारा पैसा लेते हैं, लोग उन्हें पैसे देते हैं, हर तरह के काम करते हैं। इसके बावजूद लोग उनके पास जाते रहे हैं। इसका कारण यह है कि उनमें मंत्रमुग्ध करने की शक्ति होती है। वे सिर्फ आपको मंत्रमुग्ध करते हैं। अब यह सम्मोहन कैसे शुरू होता है? देखिए, यहां से भी – जब हम धार्मिक लोग होते हैं, तो सम्मोहन कैसे शुरू हो सकता है। जैसे, तुम मंदिर जाते हो। जो सज्जन वहाँ बैठे हैं, वे तुम्हें किसी प्रकार का धागा बेचेंगे। आप चकित होंगे – वह धागा अपने आप सम्मोहित कर सकता है। फिर तुम उसी मंदिर में जाओगे, हर बार तुम्हें जाना होगा। यदि आप नहीं जाते हैं, तो आपको बहुत अजीब लगता है, वह सब। आप इस आदमी को पैसा, पैसा, पैसा तब तक देंगे जब तक आपको पता न चले कि आपके साथ कुछ गलत हुआ है। तुम्हारी याददाश्त चली गई है। आप सोच नहीं पाते कि; आपके दिमाग में कुछ गलत हो रहा है। दिमाग खराब होने लगता है, जब आप इन बातों में पड़ जाते हैं।

अपनी भावनाओं के अत्यधिक उफान को नियंत्रित करना चाहिए और खुद को मध्य में रखना चाहिए। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप भावुक हो जाएं। हम भारत में एक चरम पर हैं; इसलिए मैं इस बात पर बहुत जोर दे रही हूं कि हम चीजों से, हमारे परिवार से,सब से बहुत ज्यादा लिप्त हो जाते हैं, जो हमें नहीं करना चाहिए।  हमें इस हद तक आसक्त नहीं होना चाहिए कि हमें अपनी आत्म-साक्षात्कार की भी परवाह नहीं है। मैंने ऐसे लोगों को देखा है जो अपने बच्चों के साथ यहाँ आते हैं और वे कहते हैं, “माँ पहले हमारे बच्चे को ठीक करो।” लेकिन क्या फायदा? आप देखिए, मैं बच्चे का इलाज करती हूं, लेकिन आपके आत्मसाक्षात्कार पाने के बारे में क्या जो की महत्वपूर्ण बात है? उनके लिए, मैं अधिक से अधिक जो कर सकती हूँ कि, उनके बच्चे का उपचार कर दूँ, कि, वे उन्हें आत्मसाक्षात्कार पाने की भी परवाह नहीं है। अब यह बायीं ओर की समस्या, जैसा कि मुझे आपको बताना चाहिए, इस कारण अधिक बलवती हो जाती है  …

[एफवी: टेप २-४ यहां समाप्त होता है]

[एफवी: टेप ३-४ यहां शुरू होता है] बहुत सूक्ष्म तरीके से जैसे कि वे भगवान हैं। उदाहरण के लिए, दिल्ली में मैं नहीं जानती, लेकिन बॉम्बे में ऐसी कई महिलाएं हैं जिनमे देवी आती हैं जैसे वे नौकरानी हैं या कोई और जो कपड़े धोता है या ऐसा ही कुछ है, उसमें देवी आती है। फिर वह कहती है, “हू, हू, हू, हू… ऐसे ही, और लोग उसके चरणों में गिर जाते हैं। अब, यह एक भूत बाधा  के अलावा और कुछ नहीं है। यह एक कब्जा है। यह एक नियमित ग्रस्तता है। देवी… आप देवी को इस तरह कैसे धारण कर सकते हैं जब आप अपने जीवन को चलाना भी नहीं जानते हैं? देवी ऐसी मनहूस महिलाओं में प्रवेश नहीं करती हैं जो व्यर्थ हैं; उनमें पवित्रता नहीं है। उनमें देवी कैसे प्रवेश कर सकती हैं? लेकिन लोग सोचते हैं कि उनमें देवी आ गई है, यह बहुत महान है, और वे उसके चरणों में गिर जाते हैं। आईजी, डीआईजी मुंबई ने मुझे बताया है कि गांवों में यह बायीं पक्ष वाले काम मजबूत और मजबूत होता जा रहा है और ऐसे कई लोग हैं जो अभी भी ऐसे ही हैं। नियमित मामले चल रहे थे; उनमें से बहुत सारे थे लेकिन उनमें से एक को मेरे ध्यान में लाया गया और फिर, सहज योग के साथ, हम अपराधी का पता लगा सके। ये ताकतें कमजोर दिमाग वाले लोगों पर इस अर्थ में काम करती हैं कि जो बहुत, बहुत भावुक हैं, बाईं ओर पक्ष वाले। साथ ही दाहिने हाथ की ओर भी समस्या है लेकिन बाएं हाथ की तरफ मैं कह रही हूं। अतः व्यक्ति को कठोर उबले अंडे की तरह कठोर नहीं होना चाहिए, लेकिन ऐसा भी नहीं होना चाहिए कि आप बाईं ओर की इन नकारात्मक शक्तियों से प्रभावित हो जाएँ।

अब हम पश्चिम में देख सकते हैं, शुरुआत में वे बहुत कठोर स्वभाव के लोग थे, उनमें कोई लगाव नहीं था। आज भी, आपको यकीन नहीं होगा कि, इंग्लैंड में हर रोज दो बच्चों को उनके ही मां-बाप मार देते हैं। क्या आप इस पर विश्वास कर सकते हैं? नियमित बच्चे, इसमें कुछ भी गलत नहीं है, इंग्लैंड में माता-पिता द्वारा प्रतिदिन दो बच्चे मारे जाते हैं। ये हैं इंग्लैंड के आंकड़े. तो आप सोच सकते हैं कि अमेरिका का क्या होगा? तो वे सोचते हैं कि वे न्यारे हैं; उन्हें अपने माता-पिता को मारने या अपने बच्चों को मारने से भी कोई फर्क नहीं पड़ता। यह बात के दूसरे चरम छोर पर जा रहा है, और वह दाहिनी ओर है जो मैं आपको बाद में बताऊंगी। तो, सबसे पहले यह समझ लें कि भावनाओं को आपके विवेक द्वारा निर्देशित किया जाना है। कोई भी भावना जिसमें विवेक नहीं है वह बेकार है। वास्तव में भावनाएं आपके प्यार की अभिव्यक्ति के अलावा और कुछ नहीं हैं और अगर प्यार सामूहिक नहीं है तो इसका कोई मतलब नहीं है। उदाहरण के लिए, प्रेम उस रस की तरह है जो पेड़ में उठता है। वह फूल तक जाता है, वह पत्तियों तक जाता है, वह हर जगह जाता है और जब वह एक ऐसे बिंदु पर पहुंच जाता है जहां वह बस ठहर जाता है, उदाहरण के लिए, एक फूल में, तो पूरा पेड़ मर जाएगा और पूरा फूल मर जाएगा। उसी तरह, जब हम अपने आप को पूरी तरह से अपने परिवार में, केवल अपने बच्चों में शामिल कर लेते हैं और किसी और के बारे में नहीं सोचते हैं, तो हम अपने प्यार के प्रति भी ऐसा ही कर रहे होते हैं। हम में ठहराव आ जाता हैं; हमारे बच्चे इसका गलत फायदा ले सकते हैं और बहुत बुरे बच्चे बन सकते हैं। वे इसे हलके में ले सकते हैं। वे इतने भयानक हो सकते हैं कि वे… अपराधी हो सकते हैं। वे बहुत बिगड़ैल बच्चे हो सकते हैं, किसी काम के नहीं और वे जीवन में कुछ भी करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं। हमने देखा है कि बहुत प्यारे माता-पिता के बहुत से बच्चे ऐसे बिगड़ जाते हैं और वे कभी-कभी, उनका सारा जीवन आश्रित और परजीवी होते हैं। बाएं पक्ष के लोग ज्यादातर स्वभाव से परजीवी होते हैं। वे बहुत परजीवी हैं, हम परजीवी पन इस तरह शुरू करते हैं, जैसे, हम, हम किसी को देखभाल करने के लिए कहते हैं। विशेष रूप से भारत में मुझे लगता है कि यह एक बहुत ही सामान्य बात है, हम नौकरों पर निर्भर हैं। हमें स्नेह और अनुराग के लिए और समर्थन और धन के लिए केवल अपने माता-पिता पर निर्भर रहना पड़ता है, और माता-पिता बच्चों की मदद करने के लिए सामान्य तरीकों से हट कर भी व्यवहार करते हैं क्योंकि उनके माता-पिता ने भी ऐसा ही किया होता है। कि हमें करना है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हमें उनका शोषण करना चाहिए। इस तरह की चीजों का शोषण बाएं हाथ की समस्या का कारण बन सकता है क्योंकि धीरे-धीरे ऐसा क्या होगा कि आपका अपना दाहिना पक्ष बिल्कुल अविकसित हो जाएगा, जो इच्छा शक्ति है वो, बिल्कुल अविकसित होगी और आप किसी काम के नहीं होंगे। तो हमें यह समझना होगा कि बाएं हाथ पक्ष वाले की एक शुरुआत होती है, जो कई चीजों पर  समाप्त होती है और सबसे बुरी बात वह है जिसे आप मिर्गी कहते हैं, या आप पागलपन कह सकते हैं या जब हम कहते हैं कि कोई व्यक्ति [स्पष्ट नहीं] चला गया है  . ऐसी चीजें हो सकती हैं। इसलिए इसके बारे में सावधान रहें और किसी भी चीज के बहुत अधिक लिप्तता में न पड़ें। लेकिन विशेष रूप से गुरुओं के साथ। हो सकता है आपको यह पसंद न आए लेकिन मुझे आपको बताना होगा कि धर्म को बेचने वाले इन गुरुओं में से अधिकांश, जो अपने तरीके बेच रहे हैं, हमला कर रहे हैं, उनमें से अधिकांश बाएं हाथ पक्ष के हैं। कुछ ऐसे भी हैं जो राइट हैंड साइड पर भी अटैक कर रहे हैं। वे क्या करते हैं आपको एक मंत्र देते हैं। उदाहरण के लिए, कोई आपको शिव के साथ एक मंत्र देता है। अब कोई नहीं जानता कि मंत्र बोलना है या नहीं, कहां बोलना है, शिव का मंत्र क्यों देना है और किस चक्र पर है, किस काम के लिए लगाना है। सिर्फ देते हैं,  शिव का नाम लो। अब शिव सर्वोच्च अवस्था है, यह आप जानते हैं। और तुम ऐसे ही परमात्मा का नाम नहीं ले सकते। मान लीजिए आपको जाना है और किसी को मिलना है, किसी को, एक साधारण व्यक्ति को। यहां तक ​​कि अगर आपको किसी को मंत्री वगैरह ऐसी शख्सियत को मिलना है – जो ईश्वर की तुलना में कुछ भी नहीं है या यहां तक ​​​​कि एक प्रधान मंत्री भी ईश्वर की तुलना में कुछ भी नहीं है – आपको इतने सारे लोगों से मदद लेनी होगी। एक प्रोटोकॉल है, आपको अनुमति लेनी होगी फिर आप वहां जाएं। लेकिन ईश्वर के मामले में कोई भी है। बस पुकार रहा है, “शिव, शिव, शिव।” क्या वह तुम्हारा दास है, जिस प्रकार आप उन्हें आज्ञा देते है?” कि, आप मेरी नौकरी की देखभाल करो; आप इसका खयाल रखो; आप ऐसा कर दो; हर बार तुम उसका नाम लोगे और कहोगे कि यह करो और वह करो। इस तरह जब आप काम करना शुरू करते हैं तो आपका बायां हिस्सा कमजोर पड़ने लगता है।

अब, नाम देना इतना आम है; यहाँ तक कि लोग आकर मुझसे पूछते हैं, “माँ हमें एक नाम दो”। क्या नाम? आप देखिए, कुंडलिनी अपनी स्थिति के अनुसार उठती है। मान लीजिए कि आपकी कुंडलिनी नाभि चक्र पर रुक गई है, तो हमें नाभि चक्र पर नाम लेना होगा, है ना? लेकिन मान लीजिए कि कुंडलिनी नाभि चक्र पर रुक रही है और आप आज्ञा चक्र पर नाम ले रहे हैं, तो क्या फायदा? क्योंकि आपके आज्ञा चक्र का कोई लेना-देना नहीं है। इसके अलावा, जो व्यक्ति कुंडलिनी उठा रहा है, उसे अधिकृत होना चाहिए। उसे प्रबुद्ध मंत्र के साथ कुंडलिनी को ऊपर उठाने में सक्षम होना चाहिए। मंत्र प्रबुद्ध नहीं है – कोई भी ऐरा गेरा नथ्थू खेरा ईश्वर का नाम ले रहा है। आपको अपना मंत्र प्रबुद्ध करना होगा। और आप इसे कैसे प्रबुद्ध करते हैं? स्व बनकर, अपना आत्म बनकर। जब आत्मा का प्रकाश आप में पड़ता है या आप आत्मा का प्रकाश उत्सर्जित करते हैं, जब यह वायब्रेशन आपके माध्यम से बहने लगता है, जब आपको आपका आत्मसाक्षात्कार मिल जाता है, तब अकेले आप ही कुण्डलिनी उठा सकते हैं क्योंकि तब आपके मंत्र प्रबुद्ध होते हैं। जो कोई यह सोचता है कि उसके मन्त्र ठीक हैं, वह इस मन्त्र और उस मन्त्र को ले रहा है, उसे पता होना चाहिए कि वह उस विशेष चक्र को बिगाड़ रहा है। मान लीजिए कि आप शिव के मंत्र को ले रहे हैं, तो आप चकित होंगे कि आप बहुत आसानी से दिल पर पकड़ से ग्रसित हो सकते है। यदि आप कृष्ण का मंत्र ले रहे हैं, तो आप चकित होंगे, आप अपने कृष्ण का स्थान खराब कर रहे होंगे। ऐसा करना खतरनाक काम है। उदाहरण के लिए, मैं कहूंगी, अब यह (माइक्रोफोन)एक ऐसा उपकरण है जिसे मैं संभालना नहीं जानती। अब मैं तुमसे कहती हूं कि मुझे नहीं पता कि मुझे यहां से बोलना है या वहां से, मुझे नहीं पता कि यह बोलने के लिए है या नहीं। मान लीजिए मैं इसे हथौड़े से मारने के लिए इस्तेमाल करती हूं, तो इस चीज का क्या होगा?  मुझे सब कुछ जानना होगा, है ना? मुझे सारा विज्ञान जानना होगा। मुझे यह जानना है कि कुंडलिनी कहां है, कैसे उठ रही है।

अन्य योगियों और सहजयोगियों में अंतर यही है कि सहजयोगी स्थिति को संभालना जानते हैं। वे कुंडलिनी को ऊपर उठाना जानते हैं; वे जानते हैं कि इसे कैसे ऊपर रखा जाता है और वे जानते हैं कि दूसरों की समस्या क्या है। साधारण योगियों और सहजयोगियों में बस इतना ही अंतर है, क्योंकि इस संसार में जो योगी हैं, वे वास्तव में बहुत थोड़े हैं। जो बहुत उच्चावस्था के हैं वे भी मंच पर नहीं आना चाहते। वे कहते हैं, ‘हमें कहीं छुपे ही रहने दो। हम लोगों से बात नहीं करना चाहते क्योंकि वे हमें नहीं समझेंगे, वे हमें सूली पर चढ़ा देंगे।” मैं उनमें से बहुतों को ऐसे ही जानती हूं। वे आना ही नहीं चाहते। असली लोग नीचे आने को तैयार नहीं हैं क्योंकि उन्हें सच बोलना है और आप सच सुनने वाले नहीं हैं। आपने उन लोगों को क्रूस पर चढ़ाया है, जिन्होंने आपको सच बताया है। आप ऐसे लोगों को पसंद करते हैं जो आपके अहंकार को सहलाते हैं कि: “ओह, तुम बहुत अच्छे आदमी हो।” लेकिन सच बोलने वाले को आज तक किसी ने पसंद नहीं किया। आपने अन्य लोगों के साथ कैसा व्यवहार किया है, यह आप जानते हैं। मुझे आपको बताने की जरूरत नहीं है। लेकिन तुमने मेरे साथ ऐसा व्यवहार करने की हिम्मत नहीं की क्योंकि मुझे पता है कि स्थिति को कैसे संभालना है। आज बहुत अलग स्थिति है। क्राइस्ट भी पूरी दुनिया को खत्म कर सकते थे, पूरी दुनिया को खत्म कर सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा क्यों नहीं किया क्योंकि यह ड्रामा होना था। उन्होंने सिर्फ ड्रामा किया। कोई भी उस व्यक्ति को नहीं छू सकता जो सब से ऊपर है, लेकिन आप ऐसा करने की कोशिश करते हैं (और) आपको नुकसान होगा और आपको पता चलेगा कि नुकसान आपको इस तरह से आएगा कि आपकी कुंडलिनी नहीं उठेगी; कुंडलिनी का कुछ नहीं होने वाला है।

तो, इस बात के साथ हमें इस बात पर आना चाहिए कि बाईं पक्ष के लोग ज्यादातर कृत्रिमता में जीने वाले लोग हैं, इस अर्थ में कि वे कृत्रिम विचारों के साथ रहते हैं। वे मन ही मन आगा खाँ के महल के बारे में सोच रहे होंगे। झोंपड़ी में रहकर आगा खाँ के महल के बारे में सोच रहे होंगे कि “अरे मैं आगा खाँ के महल में बैठा हूँ, ये हुआ, वो हुआ,” कुछ इस तरह की बात है। उस भविष्य के बारे में नहीं जिसे मुझे जीना है, बल्कि सिर्फ “मैं वहां रह रहा हूं। यह बहुत अच्छी जगह है। मैं बस वहीं हूँ… ”इस तरह की बात। हमारे साथ यही समस्या है कि हम वास्तविकता का सामना नहीं करना चाहते हैं। वास्तविकता का सामना करने के लिए यह जानना होगा कि यह सबसे खूबसूरत चीज है। यही वह चीज है जिसे हम जीवन में खोज रहे हैं। एक बार जब आप वास्तविकता प्राप्त कर लेंगे, तो आप अपने आप पर इतने चकित होंगे कि “यह सारी सुंदरता और यह सारी संपत्ति मेरे भीतर है” और “ओह, नहीं, मुझे पता नहीं था।” यह तो पूर्ण आनंद का स्रोत है जिस की आपको उपलब्धि करना है, जिसे आपको प्राप्त करना है। वह सब तुम्हारे भीतर है, तुम्हें इधर-उधर भागना नहीं है। जैसा कि मैंने आपको बताया, आपको सामूहिक अवचेतन में जाना ऐसा कुछ भी करने की ज़रूरत नहीं है। अब इसमें, आप जानते हैं कि हमारे देश में, हमारे पास बहुत से लोग हैं जो तांत्रिकों को अवसर देते हैं और जो इसी प्रकार के अन्य लोगों के पास जाते हैं। ये सब, जैसा कि मैंने तुमसे कहा है, स्मशान-विद्या, प्रेत-विद्या या भूत-विद्या के अलावा और कुछ नहीं हैं। लेकिन उसमें भी हम क्या चाहते हैं कि “मेरे पिता के बारे में क्या है, मेरी मां के बारे में क्या है, मेरी नौकरी के बारे में क्या है?” और वह सब। अब, ये लोग, वे आपको कुछ बता सकते हैं। क्योंकि इन लोगों ने कुछ प्रेतात्माओं को साधन बनाया है। मैं आपको सभी विवरण दे रही हूं ताकि आपको इसके बारे में सब कुछ पता चल जाए। उन्होंने कुछ प्रेतात्माओं को साध्य किया है, उनके हाथों में कुछ प्रेतात्मा हैं जिनसे वे बहुत कुछ जानते हैं। उदाहरण के लिए वे आपको यह भी बताएंगे कि आपके पिता का नाम क्या था। हो सकता है वे आपको यह भी बताएं कि आप वहां क्यों आए हैं, किसके साथ आए हैं, आपका नाम। वे इस तरह की बहुत सी चीजें करेंगे। लेकिन ऐसी उन चीजों के पीछे मत भागो, जो महत्वपूर्ण नहीं है। ईश्वर आपको क्यों बताएं कि आपके पिता का नाम क्या था या आपका नाम क्या था? यह एक साधारण सी बात है; मेरा मतलब है कि ईश्वर आपको ये बातें बताने नहीं जा रहे हैं। परमात्मा जो आपको देने जा रहे हैं वह परम है, शाश्वत है। वह आपको ये सब बातें नहीं बताने वाले है। फिर वे आपको उस घोड़े का नाम भी बता सकते हैं जो दौड़ में आने वाला है। वे आपको बता सकते हैं कि आप क्या संख्या या अन्य चीजें करते हैं, मुझे नहीं पता, किसी प्रकार का जिसे आप मटका कहते हैं और वह सब। क्या ईश्वर यह सब बकवास आपके लिए करने जा रहा है? क्या आप ईश्वर को इस बकवास तक नीचे गिराएंगे ? लेकिन बहुत से लोग, आप जानते हैं, लिप्त होते हैं – यह सतहीपन का संकेत है, उनकी कोई गहराई नहीं है। उनकी कोई गहराई नहीं है और वे ऐसी भयानक बातों में लिप्त हो जाते हैं और जाकर लोगों से ऐसे सवाल पूछते हैं कि “क्या होने वाला है?” तुम जानते हो, वे मुझसे भी पूछते हैं। उन्होंने मुझसे घोड़ों का नंबर पूछा है, उन्होंने मुझसे हर तरह की बातें पूछी हैं। यह सबसे आश्चर्यजनक है, आप जानते हैं, और इस हद तक कि अमेरिका और रूस जैसे देश इसमें लिप्त हैं। आपको आश्चर्य होगा कि वे इसमें शामिल हैं। और अगर मैं उन्हें बताऊँ तो भी वे नहीं सुनेंगे, लेकिन यह एक सच्चाई है। वे सब ई.एस.पी. के नाम से इसमें लिप्त हैं। एक बार वे मेरे पास आए [अस्पष्ट], वास्तव में उनमें से तीन। वे वैज्ञानिक हैं या कुछ और, मुझे उनके नाम याद नहीं हैं। लेकिन एक पतंजलि शास्त्री या पतंजलि थे जो एक पत्रिका में संपादक थे और वह ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ में भी थे, मुझे नहीं पता। वह एक [अस्पष्ट] है। वह उन्हें ले आया। लेकिन वह खुद नहीं आया क्योंकि वह जानता था कि मुझे यह पसंद नहीं आएगा।

और वे मेरे पास आए और उन्होंने कहा, “माँ हम हवा में उड़ना चाहते हैं। हम अपने शरीर को छोड़कर सूक्ष्म बनना चाहते हैं।”

मैंने कहा क्यों? तुम सब चाँद पर जा रहे हो? अब आप ऐसा क्यों करना चाहते हैं?”

कहा, “नहीं माँ हमें करना चाहिए, हमारे पास यह सूक्ष्म शरीर होना चाहिए। हम चाहते हैं कि किसी न किसी रूप में हम सूक्ष्म शरीर से गुजरें और इस सूक्ष्म शरीर को प्राप्त करने में हमारी मदद करें।”

“और तुम क्यों चाहते हो? यह एक मृत आत्मा का काम है। एक मृत आत्मा आपके अंदर आएगी और आपको यह सूक्ष्म शरीर निर्माण देगी। अब क्या आप चाहते हैं कि कोई मृत शरीर आप पर हावी हो जाए? क्या आपको वो चाहिए? आप अपनी स्वतंत्रता खो रहे होंगे जो आपको लगता है कि सर्वोच्च चीज है और आप उस स्वतंत्रता को खो देंगे?”

“हाँ फिर भी यह हम पाना चाहेंगे।”

मैंने कहा क्यों?”

उन्होंने कहा, “क्योंकि रूसी ऐसा कर रहे हैं।”

मैंने कहा, “सच में? मुझे नहीं पता था कि रूसी ऐसा कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “नहीं, हमें, हमें उनसे आगे निकलना होगा।”

मैंने कहा, “अगर वे गलत कर रहे हैं तो इसमें मत जाइए।” मैंने उन्हें बहुत खुलकर बताया। लेकिन मुझे नहीं पता। वे मेरी बात नहीं सुनना चाहते। यह बात है। हमें पता होना चाहिए कि जब शरीर … आप देखते हैं कि बहुत से लोगों को शरीर छोड़ने का यह अनुभव होता है। यह एक आत्मा के तुम्हारे भीतर आने का अनुभव है। यह बहुत अच्छा अनुभव नहीं है। लेकिन इस घटना में मुझे सबसे ज्यादा आश्चर्य हुआ कि पतंजलि ने खुद ऐसा किया था – अपने शरीर को छोड़ने के लिए। उसकी पत्नी बहुत चिंतित थी और यह और वह, और वह मेरे पास आई और उसने कहा कि “माँ किसी तरह इस मेरे पति को बचाओ, मुझे उसकी चिंता है और यह हो रहा है।” क्योंकि वह जानती थी कि यह गलत है और मेरे माध्यम से वह उस आदमी को ठीक करना चाहती है। क्या उस साथी को इन लोगों को भूत लगाने के लिए भेजना चाहिए? और जब वे तुम्हें दीक्षा देते हैं, तो वे तुम्हारे भीतर एक भूत लगा देते हैं, [अस्पष्ट]। यह सब बेतुकी बातें [अस्पष्ट] और रूस और [अस्पष्ट-अंतराल] जैसे विकसित देशों द्वारा की जाती हैं। फिर उनका क्या होने वाला है? वे शैतान के पंथ में होंगे। उन्हें शैतानी ताकतों द्वारा सशक्त बनाया जाएगा।

मैं उन्हें कैसे बताऊँ कि इन सब चीजों में लिप्त न हों और हम ऐसे भयानक पंथ के महान जनक हैं? हम उनका निर्यात कर रहे हैं। हम उन्हें विदेश भेज रहे हैं और यहाँ भी मैं देखती हूँ कि हर कोने में ऐसे तांत्रिक बैठे हैं। अब हमारे यहां कुछ लोग हैं जो तांत्रिकों के ऐसे अनुभव होने के बाद मेरे पास आए। उनके परिवार बर्बाद हो गए हैं, वे पूरी तरह से समाप्त हो गए हैं, वे किसी काम के लिए अच्छे नहीं हैं और उन्होंने अपनी नौकरी गँवा दी है और सब कुछ खत्म हो गया है, और तांत्रिक अभी भी फल-फूल रहे है। क्योंकि उनके लिए, जो आएंगे वे शोषण करेंगे, उनके पास फिर से कोई एक अन्य व्यक्ति होगा, दूसरा व्यक्ति होगा। इसलिए मैं आपको चेतावनी देना चाहती हूं कि ऐसी चीजों में शामिल न हों जो गलत हैं, जो कि बाएं तरफा हैं। अब सबसे खराब चीज जो हम बहुत आसानी से करते हैं, वह है बायें हाथ पक्ष में जाने के लिए, वो है शराब पीना, पीना है। अब मैं यह नहीं कहती कि अब तुम मत पीओ क्योंकि तुम में से आधे लोग उठ कर जा सकते हैं। लेकिन आपको आत्मसाक्षात्कार हो जाता है और फिर आप चाहकर भी नहीं पी सकते। शराब पीना, नशा करना, ये सब चीजें आपको बाईं ओर ले जाती हैं। इंग्लैंड में क्या हुआ था? लोग क्यों पीने लगे? ज्यादातर यह ठंड की वजह से नहीं है, मैं इतना कहूंगी। लेकिन आज क्यों? अगर आप इंग्लैंड जाएंगे तो आपको आश्चर्य होगा कि आधे लोग पब में शराब के नशे में हैं। ऐसा क्यों हुआ है ऐसा इसलिए है क्योंकि उनका अहंकार उन्मुख जीवन था, दाहिने हाथ पक्ष में। उन्होंने बहुत अधिक अहंकार विकसित किया, इतना अहंकार विकसित किया कि वे अपने अहंकार से दूर भागना चाहते थे। सो वे नहीं जानते थे कि क्या करें, सो उनके बच्चे घरों से भाग गए, और वे नशीले पदार्थ अपनाने लगे|

ताकि वे वास्तविकता, जो उनके मामले में अहंकार है से दूर भाग सकें, वे देखते हैं कि वे कितने भयानक अहंकारी हैं। जिस तरह से वे दूसरों पर अत्याचार कर रहे हैं। इसलिए वे इससे बाहर निकलना चाहते हैं और इसलिए ड्रग्स ले रहे हैं। अब भारत में हमारे युवा लोग, आप देखते हैं, वे पश्चिमीकरण, परिष्कृत होना चाहते हैं। समझ में नहीं आ रहा है कि क्यों पी रहे हैं। वे सिर्फ इसलिए पी रहे हैं क्योंकि दूसरे पी रहे हैं, वे सिर्फ ड्रग्स ले रहे हैं क्योंकि दूसरे ले रहे हैं। क्योंकि वे हिप्पी हैं, वे सोचते हैं कि “हमें हिप्पी होना चाहिए ताकि हम बहुत परिष्कृत हो सकें।” यह एक गलत विचार है। वे ऐसा  खोज की तीव्रता के कारण कर रहे हैं, वास्तव में वे लोग खोज़ रहे हैं, बहुत गहराई से खोज रहे हैं, और वे सरलता से शराब और नशीली दवाओं को छोड़ देते हैं। मेरे पास इंग्लैंड में ही हजारों लोग [खराब टेप] हैं जिन्होंने सब कुछ वैसे ही छोड़ दिया है। रात भर में। रातों-रात उन्होंने सब कुछ छोड़ दिया, लेकिन भारतीय कठिन हैं। यद्यपि उन्हें बोध बहुत तेजी से होता है और वे बोध में बहुत अच्छे होते हैं, वे इसे बहुत तेजी से गँवा भी देते हैं। इसका कारण यह है कि आप भारतीयों होने के अपने मूल्य को नहीं जानते हैं। मैं कल से कह रही हूं कि आप भारतीय हैं, भारत में जन्म लेने वाली महान आत्माएं हैं। ग्रेगोइरे ने स्वयं कहा था कि आप आध्यात्मिकता में सर्वोच्च हैं। लेकिन जब आप मुझ पर विश्वास नहीं करना चाहते तो आपको यह बताने का क्या फायदा? यह ऐसा है जैसे कभी-कभी एक भिखारी से कहा जाता है कि “तुम राजा हो।” वह इस पर विश्वास नहीं कर सकता। भले ही आप उसे सिंहासन पर बिठा दें, वह हर बार उठेगा। वह विश्वास नहीं करेगा क्योंकि वह भीख माँगता था। यहां तक ​​कि अगर आप उसे वहां चिपका भी दें, तो वह – अगर कोई गुजर रहा है – कहेगा, “मुझे पांच रुपये दो”।

हम ऐसे ही हैं। हम महान हैं, इसमें कोई शक नहीं; इसमें भ्रमित होने की कोई बात नहीं है, आप महान लोग हैं। लेकिन हम इतने अभ्यस्त हैं; तीन सौ साल की हमारी गुलामी के कारण हम बहुत दबे हुए हैं। फिर, आप देखिए, हमने सोचा कि हमने खुद पर से विश्वास खो दिया है। हमें लगता है कि हम गरीब लोग हैं। मेरा मतलब है, गरीबी आखिर है क्या? उनकी संपन्नता क्या है? प्लास्टिक के अलावा कुछ नहीं है। अब इन सब बातों के बाद आपको पता चल जाएगा कि कौन गरीब है और कौन अमीर। क्या वे… अब सुबह से शाम तक कैसे रहेंगे, वे क्या करने जा रहे हैं? आप देखिए, वे तो दो जमा दो की गणना नहीं कर सकते। इसके लिए भी उन्हें कैलकुलेटर का इस्तेमाल करना होगा। उनका वजूद कैसा होगा? उनका दिमाग बिगड़े है, उनके शरीर बिगड़े हुए हैं, वे दस, दस मिनट तक पैदल नहीं चल सकते। वे थक जाते हैं। भगवान का शुक्र है कि हम इतने अमीर नहीं हैं। शुक्र है। इस तरह की संपन्नता ने उन्हें पूरी तरह बर्बाद कर दिया है। बेशक मैं यह नहीं कहती कि हमें भिखारी होना चाहिए। लेकिन सोचिए भगवान ने हमें कई समस्याओं से बचाया है क्योंकि हमारे पास सीमित संसाधन हैं, हम मर्यादाओं के साथ रहे हैं। मर्यादा न होती तो हम पी रहे होते, उन्हीं की तरह पी रहे होते, नशा करते, धूम्रपान करते, अपने बच्चों को बिगाड़ते। बच्चे भाग रहे होंगे, पत्नियाँ भाग रही होंगी, पति भाग रहे होंगे। कोई समाज नहीं होता। भगवान का शुक्र है कि हमें जो सीमित राशि मिली है, उसने हमें सीमित कर दिया है और हमने उन चीजों को पार नहीं किया है, जिन्हें उन्होंने पार कर लिया है, उन वर्ज़ानाओं  को। वे इतने मूर्ख और इतने मूर्ख और इतने बेवकूफ हैं।

आप मेरे बारे में कह सकते हैं कि मैं उनकी आलोचना कर रही हूं, लेकिन अगर आप खुद जाकर देखें तो हंसने के अलावा और कुछ नहीं है कि जिस तरह आप वहां रह सकते हैं। वहाँ मज़ेदार, मज़ेदार बातें हैं जो मुझे नहीं पता कि कैसे बताना है, लेकिन और भी [अस्पष्ट] लोग हैं, लेकिन जब आप वहाँ जाते हैं तो आप चकित रह जाते हैं कि लोग वहाँ कैसे हैं। आप बहुत अधिक बुद्धिमान हैं। लेकिन एक चीज में आप पिछड़े है कि,  उनके युवा वास्तव में साधक हैं। वे इसके बारे में फैशनेबल नहीं हैं। हम अपनी खोज़ के बारे में फैशनेबल हैं। ऐसा नहीं है। मैं कहूंगी, विशेष रूप से इंग्लैंड में, मुझे लगता है कि इंग्लैंड के युवा वास्तव में अद्भुत प्राणी हैं। वे सबसे अच्छे युवा हैं जिनके बारे में आप सोच सकते हैं, मेरा मतलब इंग्लैंड में है। देखा जाए तो इनकी संख्या कहीं ज्यादा है। निःसंदेह हमारे पास अन्य तरीकों से भी बहुत अच्छे साधक हैं । बहुत गहरे साधकों की संख्या अंग्रेजी लोगों और युवा लोगों में है, वे उन अंग्रेजी लोगों से बहुत अलग हैं जिन्हें हम जानते थे, उनके ठीक विपरीत और यह कुछ ऐसी उल्लेखनीय बात है कि कल वे यहां आपको सिखाने के लिए आ सकते हैं कि आदि शक्ति कौन है , आदि शक्ति क्या है। आज हमारी यहीं स्थिति हैं। हमारे अंदर किसी भी तरह की कोई गहराई नहीं बची है क्योंकि हम सभी को समस्या है। हमारे जीवन में कुछ महत्वपूर्ण नहीं है। हमें लगता है कि हम बेकार हैं; हम इसके बारे में बहुत भ्रमित हैं। तो, मैं फिर से आपसे अनुरोध करती हूं कि आप अपने स्व [स्पष्ट नहीं] की तलाश करें कि आप अनावश्यक रूप से खुद को नीचा न रखें और सोचें कि आप देख रहे हैं [स्पष्ट नहीं] आप अलग हैं, ये सभी चीजें। आप बहुत [अस्पष्ट-खराब टेप] हैं। आप में से कुछ लोगों को बोध नहीं होता है। पहले आपके चक्रों में कुछ गड़बड़ है, [अस्पष्ट-बुरा टेप] कहीं न कहीं जो बहुत अच्छे हैं। कल बहुत स्पष्ट रूप से मैं इसके बारे में बात करूंगी। कोई भी सज्जन जो सच्चाई का सामना नहीं करना चाहता वह हॉल छोड़ देता है। लेकिन आप मुझे बात करने से नहीं रोक सकते [हो सकता है: रोकें]। यह निश्चित रूप से उन लोगों के लिए एक बात है जो इसके बारे में बुरा महसूस किए बिना यहां बैठे सच्चाई का सामना करना चाहते हैं। मैं आपसे यह भी अनुरोध करूंगी कि यदि संभव हो तो हमारे पास ग्रेगोइरे द्वारा बहुत अच्छी तरह से लिखी गई एक पुस्तक है जो मैंने उन्हें बताई है, हमने उस पर उचित शुल्क लगाया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह एक बहुत बड़ी किताब है। इसमें आपको लगभग पचास रुपये या ऐसा ही कुछ खर्च होता है। सिर्फ छपाई क्योंकि मैंने कहा कि कोई लाभ नहीं लेना है, मैं उस बिंदु पर बहुत खास हूं, बेहद खास हूं। इस तरह यह सिर्फ मुद्रण शुल्क है जो आपको इस कार्यक्रम के बाद या इस कार्यक्रम से पहले लेना चाहिए और इसे पढना चाहिए और खुद देखना चाहिए कि हमारी चाहत कैसे कार्यान्वित होती है।

अब आज हमारे पास यह कार्यक्रम है और कल फिर मैं आपसे दूसरी बात दो नाड़ीओं के बारे में करने जा रही हूं लेकिन आप जानते हैं कि इन चीजों में समय लगता है। कल सबसे पहले मैं गणेश केंद्र के बारे में बोलूंगी और मैं दाहिने हाथ वाली नाड़ी के बारे में बोलूंगी जिसे आप कैसे [अस्पष्ट – खराब टेप] साफ करते हैं। इस नाड़ी के साथ आप मानस का गुब्बारा विकसित करते हैं जिसे मन कहा जाता है। तो जब हम कहते हैं कि ‘मेरे मन ने ये कहा’ तो आपको पता होना चाहिए कि यह कोई और आ रहा है। तो हमारे देश में आप देखते हैं कि यह एक नियमित बात है [स्पष्ट नहीं – लगता है जैसे ‘जब उधर मन चाहता नहीं तो तु दूर बैठ जा’]। हम मन के शासन के खिलाफ खुद को सुरक्षित रखना चाहते हैं। हम अपने आप को मन की स्थिति उस अवस्था में बह नहीं जाने देते हैं, लेकिन यदि आप मन में बहना शुरू कर देते हैं … अब वह चाय ला रहा है, मैं यही देखना चाहती थी … हम कितने तुच्छ हैं। अगर कोई चाय ला रहा है, एक छोटा बच्चा आ रहा है, हमें जरुर देखना होता है। हमें सब कुछ अवश्य ही रिकॉर्ड जो करना होता है। क्या हम यहाँ सर्व लोकितेश्वर की तरह बैठे हैं कि बैठे-बैठे, सब कुछ देखा ही जाना चाहिए, कुछ भी। आप देखिए, रास्ते में जब लोग जाते हैं, मैंने भारत में विशेष रूप से देखा है, सभी विज्ञापन देखने ही होते हैं। अगर कोई चूक जाये तो वे कार रोक देंगे और उसे पढ़ेंगे। इसका क्या उपयोग है? तो, मैं कह रही हूं कि यह बहुत गंभीर बात है। यह एक बहुत ही गंभीर बात है और ‘ये वो मूल्य है जो मायने रखते है। मैं तुम्हारे सामने इसलिए बोल रही हूँ क्योंकि मैं जानती हूँ कि तुम हो, लेकिन अगर तुम्हारा चित्त धूल में है तो मैं क्या करूँ? आपका चित्त सतर्क रहना चाहिए, बस इतना ही। फिर मैं इसे व्यवस्थित कर लूंगी। मैं इसे संभाल लूंगी और आपको आश्चर्य होगा कि आपके पीछे कितनी शक्तियां हैं। वह सब, जो आप हैं, मैं आपको प्रत्येक और सब कुछ बताने जा रही हूं ‘गुप्त से भी गुप्त’ वह सब कुछ जो अभी तक आपके सामने प्रकट नहीं हुआ है, केवल एक चीज है अपने आप को मध्य में रखें। आज कृपया जाओ और कुछ तस्वीरें खरीदो, मुझे नहीं पता कि वे तस्वीरें बेच रहे हैं या नहीं। वे साधारण चीजें हैं, बस उन्हें खरीद लें और आज शाम को ध्यान करें। कल फिर तुम आओ और हम फिर से ध्यान की बात करने जा रहे हैं। जितना अधिक आप इस के प्रति उजागर करेंगे, उतना ही बेहतर होगा। इसकी गहराई में जाओ, गहरे में जाओ। और तब तुम जानोगे कि इन सभी महान संतों और नब़ीओं ने क्या कहा है। उन सभी शास्त्रों ने वर्णन किया है कि “स्वयं को जानना” ही मनुष्य जन्म का लक्ष्य है।

परमात्मा आप को आशिर्वादित करे।

साधक : लेकिन हमने आपको देखा है, हमने आपको आमने-सामने देखा है। आपका इस्तेमाल करके, आपकी फोटो खरीद कर… तो आपकी फोटो किस तरह से हमारी मदद करने वाली है?

श्री माताजी : अब, फोटो बहुत प्रामाणिक चीज है। आप देखिए, अभी तक सभी मूर्तियाँ और सब कुछ इतना प्रामाणिक नहीं है। क्योंकि मेरे माध्यम से वायब्रेशन प्रसारित हो रहे हैं…

… मैंने खुद के लिए बड़े विस्मय और आनंद से पाया है कि मेरी तस्वीर में वही चैतन्य है। तो अगर आप फोटो का इस्तेमाल करते हैं तो आप इसे कार्यान्वित कर सकते हैं। यदि आप फ़ोटोग्राफ़ का उपयोग नहीं करना चाहते हैं, तो शुरुआत करने के लिए कारगर नहीं है। शुरू करने के लिए मेरी तस्वीर का एक आलम्बन है। लेकिन क्या है, आपको मेरी तस्वीर पर आपत्ति क्यों होनी चाहिए? अगर आप मुझे वहाँ रख सकते थे, तो तुम्हारे पास मेरी तस्वीर क्यों नहीं हो सकती? मान लीजिए आपके पास किसी की फोटो है। देखिए, आपके पास इंदिरा गांधी की तस्वीर भी होगी। आपके पास सबका फोटो है। मेरा क्यों नहीं? मुझ पर ऐसी क्या आपत्ति है? इसके बारे में? मुझे समझ नहीं आ रहा है। आपको आश्चर्य होगा कि यह शीतल चैतन्य का उत्सर्जन करता है। आप देखिए, यही परेशानी है। आपके पास सबका फोटो होगा। हर तरह के बेतुके लोगों की आपके पास फोटो होगी।

साधक : हमें अभी आपके वायब्रेशन मिले है?

श्री माताजी : अभी, लेकिन जब आप तस्वीर पर काम करेंगे तो आप गहराई से महसूस करेंगे। आप देखिए, चूँकि फोटोग्राफ आपके पास रहेगा, आप बस वही कोशिश करें जो मैं आपको बता रही हूं। तुम बस वही कोशिश करो जो मैं तुमसे कह रही हूं, तुम फिर से देखो कि मुझे इससे कुछ मिलने वाला नहीं है। आप देखिए, आप ख़रीददारी की भावना के अभ्यस्त हैं। आप हमेशा कुछ ऐसा करते हैं जैसे कि आप ख़रीददारी कर रहे हों। यहां आप ख़रीददारी नहीं कर रहे हैं। आप इसे ले रहे हैं। मैं दे रहा हूँ। तुम मुझे कुछ नहीं दे रहे हो, तुम दे नहीं सकते। मैं उस बिंदु पर हूं जहां तुम मुझे नहीं दे सकते। तो आप इसे पाएं और कैसे लें यह बताना बहुत लज्जित करता है लेकिन मुझे आपको यह बताना होगा कि इसे कैसे लेना है। मुझे आपको यह भी बताना होगा कि मेरे सामने कैसे बैठना है। क्या करें? तुम कितने छोटे बच्चे हो, तुम नहीं जानते। हो सकता है कि कुछ चीजें करने से आप अपने चैतन्य को खराब कर दें। आपको पता होना चाहिए कि अपनी मां का सम्मान कैसे करना है। यदि आप नहीं जानते हैं, तो वे सभी मेरे भीतर हैं, ये सभी महान संत मेरे साथ बैठे हैं। वे इसे पसंद नहीं करेंगे, आप देखिए। तो मुझे आपको यह भी बताना होगा। आज ही मैं बता रही थी, यह बहुत लज्जित करने वाला है कि मुझे उन्हें सब कुछ बताना पड़ रहा है। मैं जिस किसी के पास गयी, वे, वे मुझे पानी देना चाहते थे। आप देखिए, उन्होंने मुझे प्लास्टिक के गिलास में दिया। मैंने कहा कि यह ठीक है अगर वे मुझे प्लास्टिक के गिलास में देते हैं। लेकिन अन्यथा,  यह सब ठीक नहीं है। तुम्हें समझना चाहिए। यह अपनी माँ जो एक दिव्य शख्सियत हैं को पानी देने का उचित तरीका नहीं है । लेकिन आप नहीं जानते थे, मैं कुछ नहीं कह रही हूं, लेकिन सम्मान। तुम बस कोई गंदा गिलास ले आओ और माँ को दे दो, ऐसा करना उचित तरीका नहीं है। आप देखिए, आपको समझना चाहिए कि आखिर आप एक ऐसे देश से आते हैं जहां संस्कार हैं, जो जानता है कि पूजा क्या है, पवित्र व्यक्ति क्या है और सब कुछ है। और फिर जब आप यह जान लें, तो आपको समझना चाहिए कि इसके लिए यह बहुत जरूरी है कि जो कुछ भी आवश्यक है वह करना है। अगर आपके पास किसी गलत व्यक्ति की तस्वीर है तो आपका घर बर्बाद हो जाएगा। यहां तक ​​कि [अस्पष्ट ध्वनि जैसे ‘हीरा’] आपने देखा है कि ऐसा होता है। अगर आपके पास किसी पवित्रात्मा का फोटो है तो सब ठीक हो जाएगा। यह आपके भले के लिए है। मुझे इससे कुछ हासिल नहीं होने वाला है। और फोटोग्राफ इतना महंगा नहीं है जिसके बारे में आपको सोचना चाहिए। पहले हम शुरू करते हैं, बस है। यह न्यूनतम कीमत है, मुझे लगता है कि एक रुपया। यदि आप इसे वहन कर सकते हैं तो मुझे खुशी होगी। धन्यवाद।

सहगान: ॐ त्वमेव साक्षात श्री महालक्ष्मी, महासरस्वती, महाकाली, त्रिगुणनात्मिका, कुंडलिनी साक्षात श्री आदि शक्ति, माताजी श्री निर्मला देवी नमो नमः…

श्री माताजी : आंख बंद कर लिजिये। आंख बंद कर लिजिये, हाथ ऐसे रखिये…

सहगान: ॐ त्वमेव साक्षात श्री महालक्ष्मी, महासरस्वती, महाकाली, त्रिगुणनात्मिका, कुंडलिनी साक्षात श्री आदि शक्ति, माताजी…

कोरस: ॐ त्वमेव साक्षात श्री महालक्ष्मी, महासरस्वती, महाकाली, त्रिगुणनात्मिका, कुंडलिनी साक्षात श्री आदि शक्ति, माताजी श्री निर्मला देवी नमो नमः

कोरस: ॐ त्वमेव साक्षात श्री सहस्रार स्वामीनी, मोक्षदायिनी, आदि शक्ति, माताजी श्री निर्मला देवी नमो नमः

कोरस: ॐ त्वमेव साक्षात श्री सहस्रार स्वामीनी, मोक्षदायिनी, आदि शक्ति, माताजी श्री निर्मला देवी नमो नमः

कोरस: ॐ त्वमेव साक्षात श्री सहस्रार स्वामीनी, मोक्षदायिनी, आदि शक्ति, माताजी श्री निर्मला देवी नमो नमः

श्री माताजी : अब अच्छा है, बहुत लोगों को? आई ठंडक?

साधक : माताजी मुझे तो आई…

एक अन्य साधक (हिंदी में बोलता है): मुझे नहीं आई।

श्री माताजी: अच्छा जिनको आया है, ऐसे कितने लोग हैं, हाथ ऊपर करें…