Why Are We Here?

Hampstead Friends Meeting House, Hampstead (England)

1980-06-06 1 Why Are We Here PP 1, 45'
Download video (standard quality): Transcribe/Translate oTranscribe

1980-06-06 1 Why Are We Here PP 2, 12'
Download video (standard quality): Transcribe/Translate oTranscribe

1980-06-06 1 Why Are We Here PP 3, 31'
Download video (standard quality): Transcribe/Translate oTranscribe

Feedback
Share

                   

[Hindi translation from English]

हम यहाँ क्यों है? 

 हैम्पस्टेड, लंदन (यूके), 6 जून 1980

आप की बहुत मेहरबानी है की आप ने मुझे हेम्पस्टेड में आमंत्रित किया है, जो मैं पहले भी कई बार आ चुकी हूँ। और मैंने हमेशा महसूस किया कि इस खूबसूरत क्षेत्र में रहने वाले लोगों के ईश्वर के बारे में सुंदर विचार होना चाहिए, क्योंकि आप प्रकृति में, प्रकृति की सुंदरता में ईश्वर के प्रभाव को बेहतर देखते हैं। और फिर आप सोचने लगते हैं कि किस प्रकार ईश्वर ने हमें आनंद देने के लिए इस खूबसूरत दुनिया को  बनाया है। लेकिन इतनी सारी चीजें हम हलके में ले लेते हैं, उदाहरण के लिए, स्वयम हमारा मानव जीवन। हमने इसे यूँ ही पा लिया ऐसा मान लिया है। हमें एक सुंदर शरीर, बहुत सुंदर व्यक्तित्व मिला है।आपने जागरूकता पाई है जो कि किसी भी अन्य बनाई गई चीज़ की तुलना में बहुत अधिक है। उदाहरण के लिए, एक जानवर कहीं भी किसी भी सुंदरता को नहीं समझता है। अगर कोई गंदी या भद्दी चीज है या किसी चीज से अजीब सी बदबू आ रही है तो कोई जानवर नहीं समझ सकते हैं। पशु स्वच्छता को नहीं समझते हैं, लेकिन मनुष्य ईश्वर द्वारा बहुत अच्छी तरह से बनाया गया है। वे इतने विकसित हैं कि वे इन सभी चीजों को महसूस कर सकते हैं, बहुत, जानवरों की तुलना में बहुत अधिक या किसी भी अन्य चीज को जो पहले कभी बनाई गई है।

जागरूकता के इस बिंदु पर हम उस चीज़ के बारे में भी सोचना शुरू करते हैं जो हमारी पहुँच से परे है। हम सोचने लगते हैं कि जीवन का यही अंत नहीं है। भगवान ने हमें क्यों बनाया है? उसने इतनी सावधानी से, इतने प्यार से, इतनी सावधानी से हमें अमीबा से शुरू कर के यहाँ तक क्यों विकसित किया? उसने हमें इंसान क्यों बनाया है? क्या हमारे जीवन का कोई उद्देश्य है? या क्या हम यहाँ सिर्फ जानवरों की तरह मौजूद हैं और मर जाते हैं, ज्यादा से ज्यादा, हमारे बच्चों को कुछ सुरक्षा बीमा करवाने के लिए? क्या इतनी सावधानी से निर्मित मानव जीवन का अंत ऐसा हो रहा है? हजारों साल से अमीबा की एक छोटी सी कोशिका या यूं कहें कि एक छोटा सा एक कोशिकीय जानवर से इस शानदार जागरूकता वाले इंसान बनने के लिए इतने जबरदस्त बदलाव से गुजरा है। क्यों? वह इस पृथ्वी पर क्यों आया है? ऐसा प्रश्न प्रत्येक बुद्धिमान के मन में अवश्य उठता है। और जब ऐसा सवाल उठता है, तो वास्तविक तरीके से खोज शुरू होती है।

इससे पहले कि सारी खोज हम जानवरों के रूप में करते हैं, मैं कहूंगी,एक स्थिति तक,, हम कह सकते हैं, कि यह हमारे संरक्षण के लिए, हमारे भोजन के लिए, हमारे उत्सर्जन और ऐसी ही सभी चीजों के लिए था। लेकिन वास्तविक खोज बहुत गहरे तरीके से शुरू हुई है – जो मानव स्तर पर प्रकट हुई – “क्या हमारे जीवन का उद्देश्य है?” हमारी चाह अपनी संपूर्णता पाने की हैं। हम इस सम्पूर्ण विश्व में अपने महत्व का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। हम क्यों एक संस्था के रूप में इस दुनिया में मौजूद हैं? और इस खोज को पिछले पचास से साठ वर्षों के दौरान पूरी दुनिया में बहुत गंभीरता से लिया गया है। क्या तुम कल्पना कर सकती हो? यह कभी नहीं था कि आज की तरह व्यापक रूप से चाहा या माँगा जाए। कम लोग थे; जब की एक लाखों में कोई एक ऐसा सवाल पूछने के लिए सामने आएगा। उदाहरण के लिए, राजा जनक के समय, जो एक महान संत और हम कह सकते हैं महान सहज योगी थे, नचिकेता नामक एक व्यक्ति उनके पास आया और उनसे पूछा, “सर, मैं क्या हूं?” तो, राजा जनक जो एक गृहस्थ थे, जिन्होंने संसार का त्याग नहीं किया था, उन्होंने उससे कहा, “मेरे बच्चे, मुझसे यह प्रश्न मत करो। अभी समय नहीं आया है। लेकिन अगर आप उत्तर जानना चाहते हैं तो आपको कुछ परीक्षा से गुजरना होगा। ” यह राजा जनक के बारे में एक बड़ी कहानी है कि कैसे उन्होंने उसे आत्मसाक्षात्कार दिलाया। तो, उस समय एक व्यक्ति का उल्लेख था जो पूछने आया था, “मैं कौन हूं?” लेकिन आज स्थिति बहुत अलग है? बहुत, बहुत अलग। और हजारों लोग हैं, जो  यहां तक कि इस देश में, बहुत ईमानदारी से, इच्छुक हैं। इस देश में ही नहीं – पूरे विश्व में, जैसा कि मैंने कहा। लेकिन पश्चिम में खोज अधिक स्पष्ट है। क्योंकि मानव मन में पहले जो खोज शुरू हुई थी, वह पहले ज्ञान के बारे में थी, हमारे चारों ओर के सभी तत्वों के ज्ञान के बारे में थी। और वे जानना चाहते थे कि ये तत्व हमें क्या प्रदान कर सकते हैं। जब उन्होंने खोज शुरू की, तब उन्होंने विज्ञान की खोज की, उन्होंने हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन के लिए तत्वों की सभी उपयोगिता की खोज की। यह सब करके यह हुआ कि हमने अपनी अधिकांश समस्याओं को दूर कर लिया है। हमारे पास बहुत समय है। हमें नहीं पता था कि क्या करना है। सिवाय इसके कि अगर आप उन्हें शराबखानों  और इस तरह की चीजों में खर्च नहीं करते हैं, तो मेरा मतलब है कि हमारे पास वास्तव में बहुत समय है। और  आधुनीक मानव में यह भावना कि हमें समय की बचत करनी चाहिए, बहुत मजबूत होने लगी है।

यह हमारे पास आया क्योंकि खोज करने का आग्रह था। जिस समय हमें “हम क्या  हैं” यह पता लगाने के लिए ध्यान करने की आवश्यकता थी। अब, जब मैं आपसे कुछ बोल रही हूँ? हम क्या हैं और हमें क्या होना है? आप को मुझे हलके में नहीं लेना चाहिए | यह बहुत गलत होगा, क्योंकि अगर कोई अंध विश्वास है तो यह आपकी मदद करने वाला नहीं है। यदि आपका एक इनकार भी है, तो यह आपकी मदद करने वाला नहीं है। यह एक बहुत ही सरल, व्यावहारिक, सामान्य ज्ञान है। मैं आपको बता सकता हूं कि कैसे। उदाहरण के लिए, मैं कहती हूं कि यहां से परे, एक कमरा है, एक बड़ा कमरा है, । अब, यदि आप इस कमरे में बैठे हैं और कहते हैं, “ओह, मैं आपका विश्वास करता हूं।” तुम जाकर कमरे को नहीं देखते। या, दूसरे, यदि आप कहते हैं, “नहीं, मैं इनकार करता हूं। मुझे आप पर विश्वास नहीं है, “फिर भी आप कमरा नहीं देखते हैं। इसलिए दोनों ही तरीके एक जैसे हैं। तो, आपको क्या करना है, वह कमरा देखना है। और इस प्रकार आप कुंडलिनी के बारे में जानने जा रहे हैं, , ये सभी शक्तियां जो हमारे भीतर विद्यमान हैं,  खुले मन से की चलो देखते हैं, यदि ऐसा है, तो यह एक बहुत बड़ी बात है। ”

वास्तव में, मनुष्य को वास्तव में बहुत आभारी होना चाहिए कि उनके जीवन में एक उद्देश्य है, कि ईश्वर ने उन्हें एक बहुत महान उद्देश्य के लिए बनाया है। उसने उन्हें बनाया है ताकि वह अपना राज्य उन्हें प्रदान करे। इसलिए कि एक बहुत, बहुत ही प्यार करने वाले और दयालु पिता के रूप में, वह अपना प्रकाश, अपनी पूरी, पूर्ण इच्छा  अपना साम्राज्य आप को दे कर व्यक्त करे । यह एक तथ्य है। इसीलिए उसने हमें बनाया है। और इसके लिए उसने हमारे भीतर सारी व्यवस्था कर दी है। जैसा कि आप जानते होंगे कि जो भी हो हमने इंसान बनने के लिए कुछ भी नहीं किया है। मेरा मतलब है, कुछ भी नहीं। और हम कर भी नहीं सकते। मेरा मतलब है, अगर आप किसी एक वैज्ञानिक से एक बंदर को एक इंसान के रूप में विकसित करने के लिए कहते हैं, तो वे ऐसा नहीं कर सकते। आप कुछ भी आजमाएं। तुम यह नहीं कर सकते। वह विकास हमारे लिए बिना प्रयास आया है। हमने इसके बारे में कुछ नहीं किया है। हमें यह स्वीकार करना चाहिए, कि हमने इसके बारे में कुछ नहीं किया है। तो, हमें यह भी जानना होगा कि अगर हमें इसके साथ आगे जाना है, अगर हमारे भीतर अभी भी कुछ कमी है, तो हम इस बारे में  कुछ भी नहीं कर सकते हैं। यह उनकी इच्छा से कार्यान्वित होने के लिए है। यह उनकी योजना है जो इसे कार्यान्वित करेगी । यदि हम इसे स्वीकार करते हैं, तो यह एक बहुत बड़ी स्वीकृति है। क्योंकि एक बार जब आप ऐसी स्थिति को स्वीकार कर लेते हैं, तो आप जानते हैं कि आपको सिर्फ देखना और देखना है।उदाहरण के लिए, जब मैं आपको बताती हूं कि हमारे भीतर ये तीनों शक्तियां निहित हैं, जो यहां [दिखा / दिखा रहे हैं], तो आपको स्वयम देखना होगा कि क्या वे वहां हैं। अब हमने अपने  भीतर इन तीनों शक्तियों को यहाँ कार्यरत दिखाया है, आप देख सकते हैं, एक बायीं ओर, जो बायीं तरफ मस्तिष्क से आती है और दाहिने बाजू जाती है। दूसरा बल जो दायीं बाजू से आता है और बाएं हाथ में जाता है। गतिविधि और उस सबका कारण क्या है? यह एक बहुत बड़ा तर्क है और मेरा मतलब है, यह एक बहुत बड़ा विषय है, जिसे आप कह सकते हैं, यह एक ऐसी चीज़ है जो यहाँ काम करती है, ऊर्जा का अपवर्तन है। अब, दायीं से बायीं ओर सबसे पहले जो ऊर्जा हमारे पास आती है, वह हमारे अस्तित्व की ऊर्जा है। जब तक हम मौजूद नहीं हैं, तब तक कोई ,कुछ भी चल नहीं सकता है। आप, सिर्फ यह अस्तित्व है, आपका भावनात्मक अस्तित्व हैं, आप बस वही हैं, जो आपके अतीत द्वारा निर्मित है। आपकी अस्तित्व की इच्छा है। इंसान में सबसे बड़ी इच्छा मौजूद है। यदि यह इच्छा कम हो जाती है, तो किसी को पता होना चाहिए कि वह व्यक्ति एक गया गुजरा मामला है।

 हमारे भीतर यह इच्छा आती है, जैसा कि मैंने आपको यहां दिखाया, और हमारे बाईं ओर मौजूद है और ज्यादातर हमारे अतीत, हमारे मन तथा सभी मानसिक प्रभावों को इकट्ठा करने और प्रकट करने के लिए जिम्मेदार है। तो, यह सब हमारी परिस्थितिया  है। अतीत में हम जिस भी दौर से गुजरे हैं यह सब वहीं है। यह इच्छा की शक्ति है। जब इच्छा हमारे अंदर आती है तो हम उस के अनुसार कार्य करते हैं। इसलिए हमारे पास कार्य करने की शक्ति होनी चाहिए। और दूसरा, आप जो दायीं ओर देखते हैं, जो हमारे बायीं ओर से आता है, वह कार्य की शक्ति है। कार्य की शक्ति हमारे पास आती है क्योंकि हमें कार्य करना पड़ता है, और हमें गलतियाँ करके सही चीजें करना सीखना पड़ता है। क्योंकि मनुष्य में विकास इस स्तर पर पहुँच चुका है कि उसे अपनी स्वतंत्रता, खुद को पूरी तरह से विकसित करने की पूर्ण स्वतंत्रता है, क्योंकि उसे परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करना है।जानवरों ईश्वरीय शक्ति के साथ जुड़े हुए हैं। उन्हें कोई आजादी नहीं है। वे,  आप देखते हैं,उनके लिए, अगर एक बाघ एक आदमी को खाता है, तो वह इसके बारे में दोषी महसूस नहीं करता है। उसी तरह, आप देखिए, जो कुछ भी वे करते हैं, वे सोचते हैं कि यह उनकी प्रकृति है, यह उनका स्वभाव है, यह स्वयं की अभिव्यक्ति है। इसलिए वे इसके बारे में जिम्मेदार महसूस नहीं करते हैं। वे जीने या मरने के लिए ज़िम्मेदार महसूस नहीं करते हैं और इसके बारे में परेशान नहीं होते हैं। लेकिन मनुष्य जब कार्यरत होते हैं, तो वे भविष्य के लिए भी काम करते हैं। उनमें से ज्यादातर करते हैं। उनमें से ज्यादातर केवल भविष्य के बारे में सोचते हैं। “यह मैं करूँगा। मै वो कर लूंगा। मुझे हम्पस्टेड जाना है। फिर मुझे पाँच बजे शुरू करना होगा और मुझे वहाँ थोड़ी देर से पहुँचना होगा, क्योंकि अगर मैं बहुत जल्दी जाता हूँ तो यह सब ठीक नहीं होगा, ”और ये सब बातें जो हम प्लान करते हैं।हमें यह सारी योजना  आती है क्योंकि हम इसे कर सकते हैं। हम भविष्य के बारे में सोच सकते हैं और हम इसकी योजना बनाते हैं। लेकिन ज्यादातर ये योजनाएं विफल हो जाती हैं और ये योजनाएं इतनी जल्दी विफल हो जाती हैं कि हम आश्चर्यचकित हो जाते हैं, “अब, क्या इसके बारे में योजना बनाने में कोई समझदारी भी है या कोई और योजना काम कर रही है और हम इसमें अपनी योजना का समावेश नहीं कर रहे हैं?” अब, यह नियोजन क्षमता हमारे पास आती है, या सोचने की क्षमता हमारे पास आती है, दाईं ओर की शक्ति से जिसे क्रिया की शक्ति कहा जाता है – क्रिया शक्ति। ये दो प्रकट होती हैं| यह केंद्रीय शक्ति, वह शक्ति है जिसके द्वारा हम विकसित होते हैं। इच्छा करके, उस पर कार्यरत हो कर , हम उन तरीकों को सीखकर विकसित करना शुरू करते हैं जो हमारे लिए उचित हैं। इसलिए, मनुष्य की पहली खोज यह थी कि किसी भी चीज़ में चरम पर जाना एक गलत बात है। यही समझदारी है? बुद्धि नहीं, बल्कि विवेक। जब किसी व्यक्ति का विवेक विकसित होना शुरू होता है, तो वह समझता है कि, “मैं हर चीज में चरम पर जा रहा हूं।” लेकिन जब कोई व्यक्ति में अभी तक विवेक जागृत नहीं है, तो वह कहता है, “क्या गलत है?” यदि आप घर के ऊपर से कूदना चाहते हैं, “”क्या गलत है?” यदि आप खुद को मारना चाहते हैं, “क्या गलत है?” यदि आप स्वयम को कोई नुकसान पहुँचाना चाहते हैं, तो आप ऐसा सवाल पूछ सकते हैं, “क्या गलत है?” क्योंकि अगर आप हर चीज को तार्किक बनाते हैं, तो सब कुछ ठीक लगने लगता है। यहां तक कि बैंक को लूटना, “क्या गलत है?” यहां तक कि, किसी भी तरह का नुकसान या युद्ध या कुछ भी, “क्या गलत है?” अगर ऐसी स्थिति सामने आती है, क्योंकि यह आकलन करने के लिए कोई विवेक नहीं है कि यह सब गलत है।

कार्य की यह शक्ति पश्चिम में बहुत शक्तिशाली है। क्योंकि हम अब इंग्लैंड की मिट्टी में खड़े हैं और इसलिए कि हमें पश्चिमी समस्या से निपटना है, मैं पश्चिमी लोगों का अधिक उल्लेख करूंगी और मुझे आशा है कि आप इसे दिल पर नहीं लेंगे। क्योंकि जब मैं इंग्लैंड में हूं तो मैं बिल्कुल अंग्रेज हूं। और जब मैं पश्चिम देश में हूं, तो मैं बिल्कुल पश्चिमी हूं। लेकिन जब मैं भारत में होती हूं तो मुझे लगता है कि मैं भारतीय हूं। दरअसल, मेरे जैसा व्यक्ति इतना निर्लिप्तहो जाता है कि मैं वास्तव में किसी भी चीज के साथ खुद की पहचान नहीं पाती हूँ । लेकिन कृपया चोट न महसूस करें यदि मैं कहती हूं कि पश्चिम में अति-सोच के कारण समस्या है। हम अपने विचारों को रोक नहीं पाते। एक अन्य दिन मैं एक डॉक्टर से स्विट्जरलैंड में मिली। उसने मुझसे कहा, ” माँ, तुम मेरा गला काटो या मेरा दिमाग निकालो? मुझे परवाह नहीं है? लेकिन मेरे विचार बंद करो। ”

हमारी मूल समस्या यह है कि हमने अपना दिमाग विचारों की प्रक्रिया पर लगाया है। और यह एक पागल घोड़े की तरह है जो सीधे भगवान जाने कहाँ जाता है, और यह अपने साथ हमें घसीट रहा है, और हम वास्तव में इसके बारे में सोचकर थक गए हैं। इस एक्शन बिजनेस में, जब सोच हावी हो जाती है, तब कार्य बहुत कम होता है। यह केवल सोच है। आप देखते हैं, हम कभी-कभी सोचते हैं, “सब ठीक है, हमने हर चीज की एक फाइल बनाई है। अब यह फाइल में है। ” हमें लगता है कि यह हो गया है। कुछ भी किया नहीं गया है, लेकिन जहाँ तक हमारा सम्बन्ध है ऐसा होगा कि हमने काम पूरा कर लिया है और हम बेकार में बैठे आनंदित हो रहे हैं हैं, क्योंकि आपने इसे फ़ाइल में डाल दिया हैं और इसके बारे में सोचा है।

दरअसल, विकास तभी शुरू होता है जब आप अपने किए गए कार्य के परिणामों को देखना शुरू करते हैं। और आज भगवान का शुक्र है कि पश्चिम में ऐसी स्थिति है। यदि आप इसे उन लोगों को बताते हैं जो आज विकसित हो रहे हैं तो उन्हें विश्वास नहीं होगा, लेकिन यह आप समझ सकते हैं। जब आपने अपने आप को आर्थिक रूप से इतना विकसित कर लिया है, भौतिक रूप से आप बहुत बढ़ चुके हैं, तब आप पाएंगे कि शांति पूरी तरह से कहीं खो गई है। हमने खुशी कहीं खो दी है। हमने अपना दिल कहीं खो दिया है। हम दुखी हो गए हैं। अब नहीं, किसी भी तरह इसका मतलब यह नहीं कि इस तथ्य से अनभिज्ञ लोग भी खुश हैं। वे भी इसी परिस्थिति से गुज़रेंगे क्योंकि वे परिष्कृत हो रहे हैं, जबकि आप पहले से ही अधिक परिष्कृत हैं और आपने महसूस किया कि इस तथाकथित परिष्कार ने हमें पूर्ण यातना के अलावा कुछ नहीं दिया है। हमने खुद को दूसरों से अलग कर लिया है, हम दूसरों के साथ संवाद नहीं कर सकते हैं और हम किसी तरह का अजीब व्यक्ति हैं और नहीं जानते कि हम खुद का सामना कैसे करें और हम खुद को देखकर हंसें और जानें कि , ” हम अभी नहीं जानते हैं की, यह हमारे साथ क्या हो रहा है।जब हम खुद को ऐसी स्थिति में पाते हैं तब फिर हम फिर से अपनी संपूर्णता की तलाश शुरू कर देते हैं क्योंकि हमें लगता है कि हमने इसे खो दिया है। दरअसल, पूरी मशीनरी इतनी अच्छी तरह से विकसित है और इतनी खूबसूरती से रखी गई है कि आप कोई भी कोशिश करें, वह स्थायी रूप से नहीं टूट सकता है। देखिये, मैंने सभी प्रकारों को देखा है,  और सभी तरह के लोग जिन्होंने सोचा था कि इससे बाहर निकलने का एकमात्र तरीका आत्महत्या ही है। मैंने देखा है ,वे सभी ठीक हो रहे हैं । तो यह एक विशेष रूप से बनाई गई मशीनरी है, अंग्रेजी मशीनरी और जो आपको लगता है कि सबसे अच्छा है अन्य किसी भी मशीनरी से बेहतर है ?  आप कह सकते हैं, जर्मन की तरह। लेकिन,  बावजूद इसके की यह हमारे अंदर इतनी नाजुक चीज है मुझे कहना होगा की, आश्चर्यजनक रूप से एक ऐसी शानदार मशीनरी है। और मैंने कुछ ऐसे लोगों को देखा है जिनमे यह कुंडलिनी, यह अवशिष्ट बल, बस अपने क्रोध और पीड़ा को व्यक्त करने की कोशिश कर रहा है, जिस तरह से इन व्यक्तियों द्वारा उसके साथ गलत व्यवहार किया गया है। उस सब के बावजूद, वह वहाँ है।

अब, यह हमारे भीतर अंकुरण की शक्ति है जिसे संस्कृत भाषा में कुंडलिनी कहा जाता है। मुझे नहीं लगता कि अंग्रेजी भाषा में इसके लिए कोई शब्द है। लेकिन वे कहते हैं कि यह एक अवशिष्ट ऊर्जा है।वह ऊर्जा जिसने पूरे अस्तित्व का उत्पादन किया है और वहाँ अब भी मौजूद है। इसलिए इसे अवशिष्ट ऊर्जा कहा जाता है। और वह  त्रिकास्थि हड्डी में मौजूद है।अब, इस हड्डी को यूनानियों द्वारा भी पवित्र कहा जाता है – पवित्र का अर्थ है पवित्र। क्यों? क्योंकि जब शरीर जलता है, तो यह हड्डी जलती नहीं है। यह एक हड्डी है जिसे आप जला नहीं सकते हैं। यह बच जाती है। और, हो सकता है इसीलिए इसे पवित्र हड्डी भी कहा जाता है। लेकिन इससे पता चलता है कि यह हड्डी विशेष रूप से हमारे भीतर इस नाजुक ऊर्जा को संरक्षित करने के लिए कैसे बनाई गई है। हालांकि यह बहुत ही नाजुक है और यह एक शानदार ऊर्जा है। इसे सिर्फ हमारे ईश्वर के साथ संबंध के लिए वहां रखा गया है। जैसा कि आपने यहां देखा है, वहाँ डोरियाँ हैं जो इस माइक के साथ जुड़ी हुई हैं, जिन्हें मुख्य स्थानों पर जोड़ा जाना है। उसी तरह भगवान ने भी उन डोरियों को आप में डाल दिया है जिन्हें मुख्य स्त्रोत्र से जोड़ा जाना है। यह वहाँ है। आप अपनी नग्न आंखों से देख सकते हैं कि यह स्पंदित है। हजारों लोग इसे देख चुके हैं। यहाँ, कम से कम पचास प्रतिशत लोग हैं जिन्होंने इसे देखा है – यह कुंडलिनी पवित्र अस्थि में स्पंदित इसलिए, जब आप बोध की, भगवान की, एक उच्च जीवन की बात करते हैं, तो व्यक्ति को निश्चित रूप से एक बात जान लेनी चाहिए: यह कुछ ऐसा नहीं हो सकता है जो की आप पहले से कर सकें। उदाहरण के लिए, कुछ लोग सोचते हैं कि अगर वे कूद सकते हैं तो वे भगवान बन रहे हैं। मेरा मतलब है, इस तरह की कल्पनाएँ हैं। कुछ लोग जैसे, यह कहते हैं कि अगर वे उड़ सकते हैं तो वे भगवान बन गए हैं। कुछ लोग सोचते हैं कि यदि वे अपने कपड़े निकाल सकते हैं, वे भगवान बन गए हैं। मेरा मतलब है, सभी प्रकार के बकवास उनके गुणों के अनुसार मनुष्यों में मौजूद हैं। मुझे नहीं पता,  वे इस तरह की बात को कैसे स्वीकार कर सकते हैं?जो भी  तुम कर सकते हो, वह दिव्य नहीं हो सकता। आप इस हड्डी को किसी और चीज से नहीं बल्कि कुंडलिनी से स्पंदित बना सकते हैं। जब वह कुलबुलाती है, तो आप अपनी नग्न आँखों से इस कुंडलिनी के स्पंदन को देख सकते हैं। कुंडलिनी के उदय को आप अपनी नग्न आंखों से देख सकते हैं। सभी लोगों में नहीं भी हो सकता। यदि कोई बाधा नहीं है तो [लैंडिंग] बहुत सुंदर है। फिर कुंडलिनी का उदय कितना सुंदर है, यह एक सेकंड में होता है? बस एक सेकंड के भी भाग में  और तुम जान भी नहीं पाते और तुम वहीं होते हो । तुरंत आप कहते हैं, “माँ, मैं बहुत पूर्णत: आराम से हूँ।” पूरा भार नीचे गिर गया है। भार अयथार्थ का है। यह आपके भीतर एक मिथ्या  है। तुम बहुत बड़े मिथक के साथ जी रहे हो।सबसे बड़ा मिथक यह है कि हम कुछ कर रहे हैं। हम वास्तव में कुछ भी नहीं करते हैं। हम कुछ नहीं करते। हम एक मृत चीज से दूसरी मृत चीज बनाते  हैं। बच्चों की तरह खेलना। लेकिन क्या आप एक फूल को फल में परिवर्तित कर सकते हैं? एक। यह स्वीकार करना कठिन है लेकिन यह तथ्य है। हम एक बीज अंकुरित नहीं कर सकते, उन चीजों को प्रकट करने के लिए, आप क्या कर सकते हैं? यह एक जीवंत शक्ति होना चाहिए, और जो कुछ भी जीवित है वह भगवान द्वारा किया जाता है, या मैं इसे ईश्वर कहती हूं, आप इसे प्रकृति कहते हैं, आप जो चाहे इसे  कह सकते हैं। लेकिन वहाँ कुछ और है जो इसे कार्यान्वित करता है। जो भी हो, हम कुछ भी नहीं करते हैं। हम जो कुछ भी करते हैं उसका कोई महत्व नहीं है। लेकिन जो हर पल ऐसे अरबों कार्य करता है, वो चाहे जो भी हो, उसे आपके लिए भी यह काम करना होगा। और यह है कि सबसे पहले हमें,  यह स्वीकार करना होगा कि हम इसे करने नहीं जा रहे हैं।

अब मुझे आपको कुंडलिनी के बारे में कुछ बताना चाहिए क्योंकि मैं जानती हूं कि आप क्या सोच रहे हैं? कि आपने कुंडलिनी के बारे में कुछ किताबें पढ़ी होंगी। इस देश में हर चीज के बारे में किताबें हैं, मैंने देखा है, और हर देश में। हैरानी की बात है, मैं यह नहीं समझ पाती कि आप किताबों के माध्यम से कुंडलिनी जागरण कैसे कर सकते हैं? मेरा मतलब है, आप किसी व्यक्ति का पुस्तकों के माध्यम से इलाज नहीं कर सकते। आपको दवा लेनी होती है। आप इस जीवंत प्रक्रिया को एक पुस्तक के माध्यम से कैसे कर सकते हैं? मान लीजिए आपको इसे जलाना है। यदि आप इसके सामने पढ़ना शुरू करते हैं, “इसे जलाने के लिए, आप इसे ऐसे करते हैं”, तो क्या यह प्रज्वलित हो जाएगा? आपको खुद प्रज्वलन करना होगा। नहीं तो कैसे करोगे? और जब लोग किताबें लिखते हैं तो हमें यह जानना होगा कि उनमें से कितने वास्तव में अधिकृत हैं [इसे करें / पढ़ें]। अब, अन्य चीजों के लिए, भले ही आपके पास कुछ अधिकार न हों, कोई बात नहीं है। उदाहरण के लिए, यदि कोई डॉक्टर है, तो कहें, यदि वह बहुत पवित्र व्यक्ति नहीं है, तो यह सब ठीक है। वह कुछ पैसा कमा सकता है, कोई बात नहीं है। यदि वह सर्जरी के लिए लोगों से कुछ अधिक शुल्क लेना चाहता है या वह या वह एक लालची आदमी है, तो यह बहुत मायने नहीं रखता है। हो सकता है कि उसे कर्ज लेना पड़े। फिर भी, वह इसका व्यवसायीकरण कर सकता है। लेकिन कुंडलिनी जागरण एक ऐसी चीज है जिसका कोई व्यवसायीकरण नहीं कर सकता है। आप इसके लिए भुगतान नहीं कर सकते। आप भुगतान नहीं कर सकते, क्योंकि यह पैसा नहीं समझता है। यह नहीं जानता |

उदाहरण के लिए, यदि आप एक पेड़ पर जाते हैं। मैं आपको बहुत सरल उदाहरण बताती हूँ, यह सामान्य ज्ञान है। आप एक पेड़ के पास जाते हैं और कहते हैं, “[आज / अरे] मुझे कुछ फल चाहिए। आप जानते हैं, मैं आपको पाँच सौ पाउंड दूंगा। ” यह इतना आसान है। आप इसके लिए भुगतान नहीं कर सकते। यह भुगतान करने वाले बेवकूफ लोग हैं। वह बिल्कुल बेवकूफ है, जैसे कि पेड़ को भुगतान करना बेवकूफी होगी। केवल मूर्ख ही नहीं बल्कि अपमानजनक है। क्योंकि पैसा क्या है? मनुष्यों ने यह सभी पैसा बनाया है, यह, वह। देखिए, यह भगवान के चरणों की धूल भी नहीं है। उसके लिए पैसा क्या है? और एक व्यक्ति जो कुंडलिनी की बात करता है या जो उच्च जीवन की बात करता है उसे भौतिक चीजों द्वारा निर्देशित नहीं किया जा सकता है। नहीं हो सकता। ऐसे व्यक्ति को इस-उस से ऊपर होना चाहिए। वे लोग जो भगवान के नाम पर या किसी चीज के नाम पर पैसा ले रहे हैं, वे सब बिल्कुल गलत हैं। आपके पास उनके नाम से कोई भी निजी कमाई करने का कोई काम नहीं है। किसने आपको अधिकार दिया है? मेरा मतलब है, जब ईसा मसीह यहाँ थे, उन्होंने एक बढ़ई के रूप में काम किया, क्योंकि उनके पिता एक बढ़ई थे। उनके शिष्य थे; क्या उन्होंने उन्हें किसी चीज़ के लिए तीन सौ पाउंड और किसी चीज़ के लिए दस हज़ार पाउंड देने को कहा? क्या उन्होंने ऐसा किया ? वह दो लबादों में रहते थे। 

और इसे सभी पश्चिमी लोगों को बहुत स्पष्ट रूप से समझना चाहिए कि आप भगवान को नहीं खरीद सकते। आप पूरी दुनिया को खरीद सकते हैं लेकिन आप भगवान को नहीं खरीद सकते। एक चीज जो आप नहीं कर सकते हैं वह यह है कि आप भगवान को नहीं खरीद सकते। यह केवल वे हैं जो आपके अहंकार को बढ़ावा देते हैं और आपको भ्रमित करते हैं। आप एक धर्मात्मा व्यक्ति को नहीं खरीद सकते और आप भगवान को नहीं खरीद सकते। यह एक बात है जिसे हमें स्वीकार करना होगा। और एक बार जब हम स्वीकार करते हैं, तो आप आश्चर्यचकित होंगे, हमारा अहंकार नीचे आ जाएगा। और लोगों ने इस अहंकार का इतने सूक्ष्म तरीके से शोषण किया है कि मैं वास्तव में बहुत शर्मिंदा हूं, बहुत शर्म आती है, जिस तरह से वे इन पश्चिमी लोगों के पास आए। वे इतने प्यारे और सुंदर साधक हैं, इतनी अद्भुत चीजें, अच्छी; उन्होंने उनका शोषण किया है। लेकिन मैं यह 1970 से  जोर से कह रही हूं,। मैंने उनका नाम भी लिया और बताया कि वे क्या कर रहे हैं, वे कैसे मंत्र मुग्ध कर रहे हैं, वे कैसे सम्मोहित कर रहे हैं। यह भगवान नहीं है। लेकिन किसी ने मेरी बात नहीं सुनी। उन सभी ने साम्राज्यों के बाद साम्राज्य बनाए और लोग उनके पीछे भाग रहे थे। वे मेरी परवाह नहीं करेंगे। जब मैं गयी अमेरिका आयी तो उन्होंने मुझे सुझाव दिया कि मुझे कुछ पैसे मांगने चाहिए। क्या तुम कल्पना कर सकती हो? मैंने कहा, “आप मुझे कितना भुगतान कर सकते हैं? चलो देखते हैं। तुम्हे क्या प्राप्त हुआ?” और यही वह बात है। यह एकमात्र ऐसी चीज है जिसने वास्तव में लोगों को लुभाया है, यह मुर्ख बनाना है।

तो, सहज योग में एक बात जान लेनी चाहिए, कि सहज योग में आप जो भी हो सकते हैं, आप राजा हो सकते हैं या आप, जो कुछ भी आप हों, हो सकते हैं, परमात्मा की उपस्थिति में आप किसी अन्य के समान ही हैं। और यह कि यदि आप बनना ही चाहते हैं, तो केवल आप सहज योग के सदस्य हैं। और कुछ नहीं। हमारी कोई सदस्यता नहीं है, जैसा कि आप जानते हैं। हमारे पास कोई नियमित चीज नहीं है। लेकिन तथाकथित संगठन हमारा हुआ है जो कि पंजीकृत या ऐसा तथाकथित कुछ  भी नहीं है, प्रेम और समझ का संगठन है। अगर आप बनना चाहते हैं, अगर आप वास्तव में बनना चाहते हैं, केवल तभी हम यहां हैं। क्योंकि इसी के लिए हम सभी  यहां है। हम इंसान क्यों हैं? कुछ बहुत खूबसूरत बनने के लिए। काश, आपके मन में वह दृष्टिकोण होता जो परमात्मा की आप के लिए इच्छा है। और जैसा कि मैंने तुम्हें बताया,उसने तुम्हारे भीतर सारी व्यवस्था कर दी है,  कितनी खूबसूरती से उसने तुम्हें बनाया है। यह सब आपके भीतर मौजूद है। ये सभी सात केंद्र आपके भीतर हैं। और जैसे ही कुंडलिनी उठती है और इस फॉन्टनेल हड्डी को छेदती है, जो कि असली बपतिस्मा है, कृत्रिम नहीं। जैसे आप एक धर्मशास्त्रीय कॉलेज में जाते हैं और आप बपतिस्मा लेने लगते हैं। आप इसके बारे में स्कूल में नहीं सीख सकते। नहीं आप नहीं कर सकते! यह एक अधिकार है;[यह भगवान की कृपा के माध्यम से आता है।

ऐसे लोग किसी भी ऐसे संगठन से संबंधित नहीं हो सकते, चाहे वह चर्च, मंदिर या कुछ भी हो। वे किसी चीज से संबंधित नहीं हो सकते। सब कुछ उन्हीं का है। इसलिए आपको सबसे पहले अपनी सोच को सही करना चाहिए की क्या अपेक्षा करना चाहिए , जैसे कि अपने भीतर क्या प्राप्त करना है और आपको क्या खोजना चाहिए और आपको क्या बनना चाहिए। इसमें, स्वाभाविक रूप से, आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। और लोगों के साथ मैंने जो सबसे बड़ी समस्या देखी है, वह यह है कि वे निश्चित रूप से सर्कस और पूरे बड़े मंच से गुमराह हैं, ये तथाकथित गुरु और नकली लोग बाजार में उतर गए हैं। तो, पहली बात अगर आप समझें कि यहाँ कोई खरीददारी नहीं है। अपनी खरीददारी समाप्त करें; इसे बाहर ही छोड़ दो। और अगर आपका अभी भी दुकानदारों में से एक की ओर झुकाव हैं, तो आप बेहतर है की वापस चले जाये। यहां यह केवल उन लोगों के लिए खुला है जो वास्तव में इच्छुक हैं।कई लोगों ने मेरी इस बात के लिए आलोचना की है कि, “माँ, जब आप इसे खुला रखती हैं तो कोई भी ऐरा,गैर,नत्थूखैरा अंदर आ सकते हैं।” मैंने कहा, “जहां तक भगवान का सम्बन्ध है, पैसे से किसी व्यक्ति की गुणवत्ता के बारे में निर्णय नहीं होता है”। अगर ऐसा कोई भी आता है, तो दूसरे दरवाजे से बाहर भी जाता है। इसलिए, हमें इस बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। हमारा काम यह देखना है कि वे वह चीज प्राप्त करें जिसके लिए वे आए हैं। अब इस आधुनिक समय में यह विश्वास करना असंभव है कि कोई ऐसा व्यक्ति हो सकता है, जो ऐसा सिर्फ और सिर्फ करने के लिए कर रहा है, क्योंकि कोई एक व्यक्ति ऐसा है जो पूरी दुनिया से प्यार करना चाहता है, क्योंकि कोई व्यक्ति ऐसा है जो प्यार के अलावा कुछ भी नहीं है प्यार ही एक ऐसी चीज है जो उसे संतुष्ट करती है। और इस तरह कई हो सकते हैं। लोगों का मानना है कि यह एक असंभव स्थिति है।इसलिए हमें खुद को खुला रखना होगा। यह वही है जो हमारे साथ होने जा रहा है कि हम अपनी सामूहिकता में कूदने जा रहे हैं। यह एक व्याख्यान नहीं अनुभव है कि, “हम सभी भाई-भाई हैं”, वगैरहा। “हमें संयुक्त राष्ट्र या विश्व सरकार बनाने दो।” ऐसा कुछ नहीं। हम होने जा रहे हैं, फिर से मैं कहती हूं, एक अनुभव है, इसका मतलब है कि यह हमारी जागरूकता में हमारे भीतर जागृत होने वाला है; हम इसे महसूस करने जा रहे हैं,प्रकाशित करने जा रहे हैं । मतलब, जब कुंडलिनी इन सात चक्रों से निकलती है? सातवाँ रक्षा करने वाला है? छह चक्रों में छेद किया जाता है। फिर आपके हाथों से एक ठंडी हवा बहने लगती है। यह शांत हवा होली घोस्ट की बयार है। हमने उसे आदि शक्ति कहा। आत्मा की बयार है , पवित्र आत्मा है, जो हमारे केंद्रीय तंत्रिका तंत्र पर बह रही है, और हम इसे महसूस कर सकते हैं। यह एक ऐसा अनुभव है जिसे हम महसूस कर सकते हैं और यह एक स्थायी अनुभव है। आप इसे महसूस कर सकते हैं कि कौन सी उंगलियां जल रही हैं। आप इसे महसूस कर सकते हैं, कौन सी उंगलियां हैं जो शांत हवा दे रही हैं। और ये सभी उंगलियां आपके विभिन्न केंद्रों को दर्शाती हैं। और ये केंद्र हमारे भीतर हैं। आप यहां स्पष्ट देख सकते हैं कि वे यहां पहले केंद्र को कैसे निरूपित कर रहे हैं। फिर दूसरा केंद्र यहां है। फिर तीसरा केंद्र यहां है। चौथा यहाँ, यह दिल है; और पाँचवाँ एक है जो यहाँ है, इस एक में व्यक्त किया गया है। और छठा एक, जो पिट्यूटरी और एक पीनियल बॉडी के मध्य में है, आप कह सकते हैं कि ऑप्टिक चियासमा बिंदु पर, यह है। और यह यहाँ केंद्र है, लिम्बिक क्षेत्र है या जिसे हम ब्रह्मरंध्र कहते हैं, का अर्थ है ईश्वर के लिए छिद्र।

दरअसल, आप इसे महसूस करने लगते हैं। अब, यदि आपके पास दस आत्मसाक्षात्कारी बच्चे हैं, तो आप इन दस बोध वाले बच्चों को एक कमरे में रखते हैं और एक नए व्यक्ति को अंदर लाते हैं, उनके सिर को किसी प्रकार से ढँकते हैं, जैसे  भी उन्हें पसंद आये, आप जानते हैं – आप बच्चों को कुछ विचित्र करने के लिए मजबूर नहीं कर सकते – लेकिन अगर आप कर सकते हैं, उनकी आँखों को ढंक दे। अब, उनसे पूछें, “इस व्यक्ति के साथ क्या समस्या है?” तुरंत वे सभी आपको वही एक उंगली दिखाएंगे। उदाहरण के लिए, वे आपको यह उंगली दिखाते हैं, इसका मतलब है कि व्यक्ति ब्रोंकाइटिस से पीड़ित है, क्योंकि यह दाहिने बाजू  की ओर गले की उंगली है, इसका मतलब है कि यह शारीरिक स्तर पर गले की उंगली है। बायीं बाजू भावना  है और दायीं बाजू शारीरिक है। लेकिन ऐसा आपको होना ही चाहिए। पहले ऐसा होना ही चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो कोई भी आपकी मदद नहीं कर सकता है। क्योंकि ऐसा नहीं हुआ है इसलिए आपको नाराज़ नहीं होना चाहिए। कोई काम कर सकता हैं। कोई मेहनत कर सकता है। मैं कई रात और दिनों से काम कर रही हूं|  आप इन लोगों से पूछ सकते हैं, मैं वास्तव में बहुत मेहनत कर रही हूं। लेकिन यह प्यार कभी-कभी ठीक से ग्रहण नहीं किया जाता है। हो सकता है कि आपको कुछ शारीरिक समस्या है जिसे ठीक किया जाना हो। और इसके परिणामस्वरूप, कई बीमारियां ठीक हो जाती हैं जो कि लाइलाज मानी जाती हैं।

अब, मैं किसी भी तरह से चंगाई नहीं हूँ। क्योंकि मैंने देखा है कि कुछ लोग तुरंत चौथे बेटे के, चौथे पति,तीसरी चाची, जो कैंसर से पीड़ित है,के बारे में सोच रहे होंगे। जब तक आपको अपना बोध नहीं हो जाता है, तब तक आपको ईश्वर का आशीर्वाद नहीं मिलता है। पहली बात तुम्हारा बोध है। एक बार जब आपको अपना बोध हो जाता है तो आप चकित हो जाएंगे कि स्वचालित रूप से आपकी बीमारियां दूर हो जाएंगी, क्योंकि जब आप अपनी ऊर्जा का उपयोग अपने तंत्रिका तंत्र प्रणाली के माध्यम से करना शुरू करते हैं, तो आप अपने बाएं या दाएं बाजू का उपयोग करना शुरू करते हैं। जब आप अपने बाएँ और दाएँ पक्ष का बहुत अधिक उपयोग करते हैं तब चक्र थकावट से ग्रस्त होता है। जब थकावट स्थापित हो जाती है, तो आपको घातक बीमारी भी हो सकती है, आपको कैंसर हो सकता है। उसके कारण आपको कोई भी बीमारी हो सकती है। लेकिन जब कुंडलिनी इन केंद्रों के माध्यम से उठती है, तो वह उन्हें पोषण देती है, वह उन्हें एकीकृत करती है और जब वह इस ब्रह्मरंध्र को छेदती है, तो कृपा बहने लगती है। और यह आपको पूरी तरह से भर देता है। संपूर्ण, संपूर्ण एकीकृत ऊर्जा आपके भीतर प्रवाहित होने लगती है और आप पूरी तरह से धन्य, निर्मल और हल्का और सुंदर महसूस करते हैं।  मैं जिसके बारे में बात कर रही हूं,वह सिर्फ एक अनुभूति है लेकिन मुख्य बात यह है कि आप अपनी स्वयं की शक्तियों से सशक्त हो जाते हैं, जिससे आप दूसरों को आत्मसाक्षात्कार दिला सकते हैं और उनकी कुंडलिनी उठा  सकते हैं। यह विश्वास करना बहुत शानदार है। वाकई, यह बहुत शानदार है। लेकिन मैं आपको एक उदाहरण बताऊंगी कि यह कैसे काम करता है। मान लीजिए, मैं कहती हूं, यहां इस कमरे में बहुत सारी तस्वीरें और चीजें और संगीत हैं, आप आश्चर्यचकित होंगे। आप मुझ पर विश्वास नहीं करेंगे। लेकिन अगर मैं टेलिविज़न लाऊं और इसे मुख्य स्थान पर रख दूं, तो यह प्रदर्शित होना शुरू हो जाएगा और फिर आपको उस पर विश्वास करना होगा। यह ऐसा ही है। आपका वाद्य यंत्र इतने ही सुंदर ढंग से बनाया गया है। मुझे आपको सिर्फ यह साबित करना है कि आप एक खूबसूरत इंसान हैं। और केवल इतना ही नहीं, बल्कि जब वह प्रकट होता है, तो वह अपनी सारी सुंदरता और उसके सभी आयाम और सामूहिकता के नए आयाम, सामूहिक चेतना को प्रकट करता है। यह दुनिया की समस्याओं का समाधान है।उदाहरण के लिए, राजनीतिक स्तर पर भी, यदि आप देखते हैं कि जब आपके पास आपकी शक्तियां होती हैं तो आप सबसे बड़े पूंजीपति होते हैं क्योंकि आपके पास सभी शक्तियां होती हैं। मुझे कहना होगा, मैं सबसे बड़ी पूंजीपति हूं क्योंकि मैं इसके बारे में बहुत सारी शक्तियां रखती हूं। लेकिन जब तक कि मैं इसे दूसरों को नहीं दे देती, मैं इसका आनंद नहीं ले पाती । इसलिए मैं सबसे बड़ी कम्युनिस्ट भी हूं। जब तक और जहाँ तक आप इसे साझा नहीं करते, तब तक आप इसका आनंद नहीं ले सकते। लेकिन यह मानसिक स्तर पर नहीं है। यह यथार्थ का स्तर है। यह वह स्तर है जिस पर आप हैं। और यही वह स्तर है जिसके बारे में मैं बात कर रही हूं। जिसमें आप एक नई जागरूकता में कूदते हैं। इसके लिए आपको पता होना चाहिए कि हजारों साल पहले, लोगों ने इसे काम किया है। बेशक, शायद एक या दो लोग थे। ईसा मसीह के समय भी बहुत कम लोगों को आत्माओं का बोध हुआ होगा। जॉन द बैपटिस्ट एक आत्मसाक्षात्कारी व्यक्ति थे और उन्होंने अपने स्तर पर पूरी कोशिश की, यहां तक कि लोगों को निर्मल करने के लिए पानी में बैठाया और सब कुछ किया। लेकिन  वह इसके साथ सफल नहीं हो सका क्योकि मुझे लगता है की, शायद वह समय नहीं आया था। उदाहरण के लिए, जब, पेड़ लगाया जाता है तो आपको उसमें से एक या दो फल मिलते हैं। लेकिन जब बहार का समय होता है, तो उनमें से कई,  उनमें से हजारों को आप एक नई चीज़ में परिवर्तित होते हुए देखते हैं। यह शब्दों का रूपांतरण नहीं है, यह केवल आपको एक बड़ा व्याख्यान देने का रूपांतरण नहीं है। यह एक वास्तविक परिवर्तन है । अपने निरपेक्ष का पता लगने से, अपने अर्थ का पता लगने से, अन्य सभी निरर्थक बातें बस ऐसे ही बाहर निकल जाती हैं।

यहां कई ऐसे हैं जिन्होंने ड्रग्स छोड़ दिया है। कुछ भयानक मादक पदार्थों के व्यसनी थे। हमारे पास भयानक नशेडी थे। जब वे मेरे पास आए तो वे मुझे देख भी नहीं सकते थे। जब वे मुझे देखने लगे तब वे कोमा की स्थिति में थे।आप देखिए, वे केवल मुझ में से उत्सर्जित होते प्रकाश को देख पाते थे और ऐसे ही कुछ अन्य अनुभव। लेकिन आज वे समझदार लोग हैं। मैंने उन्हें छोड़ने के लिए नहीं कहा। यह सिर्फ इसलिए घटित होता है क्यों कि जब आप ने स्वयम को जान लिया तो आप इन सभी चीजों की परवाह नहीं करते हैं। यदि आपको स्वर्ण मिल जाए तो क्या आप इन झूठे आभूषणों को अपने शरीर पर धारण करेंगे? जब आपको अमृत  मिल जाए तो क्या आप इस गंदे पानी को पियेंगे? ऐसा आपके साथ होता है, होना चाहिए, यह पूर्व का वादा है और यह वादा पूरा किया जाना है।

अब सवाल आता है, “फिर आप क्यों?” ये बहुत सही है। क्यों? किसी को तो यह करना होगा, क्या यह नहीं है? किसी को तो यह करना होगा। आप इसे करना चाहते हैं, तो कृपया इसे करें। मैं बहुत खुश होउंगी  क्योंकि मैं वास्तव में थक गयी हूँ। क्या आप यह कर सकते हैं? नहीं, यही कारण है कि मैं। मैं वास्तव में आपको बताती हूं: मेरे लिए कोई रास्ता नहीं है इसीलिए मुझे यह करना पड़ता है। लेकिन इसके लिए आपको क्यों परेशानी लगना चाहिए, इतनी परेशानी? मेरा मतलब है, इतने सारे लोग आपके लिए काम करते हैं, क्या वे नहीं करते हैं? मेरा मतलब है, अगर वे आप के लिए कुछ भी करते हैं, तो आप उनके प्रति आभारी महसूस करते हैं। लेकिन इसके लिए अगर मैं ऐसा करती हूं, तो आपको इसके बारे में गुस्सा और दुखी क्यों होना चाहिए? मेरा मतलब है, तुम जरा इसके बारे में सोचो। अगर कोई आपके लिए कुछ कर रहा है, तो कम से कम आपको आभारी होना चाहिए। मेरा मतलब है, यह मेरा काम है, आप जानते हैं। मुझे बहुत सी बातें पता नहीं हैं। उदाहरण के लिए, यदि यह [प्लग]निकल जाता है तो मैं इसे ठीक नहीं कर सकती। मैं ऐसी किसी भी  इलेक्ट्रिकल चीज को ठीक नहीं रख सकती। मैं आपके कानूनों को नहीं समझती। मैं कई चीजों को नहीं समझती। अर्थशास्त्र मैं पढ़ूंगी, लेकिन मैं कभी नहीं समझती। मैं आपकी राजनीति को नहीं समझती। मैं सभी प्रकार के मनुष्यों को नहीं समझती। लेकिन कुछ मैं करती हूं। और वह यह है। मेरा मतलब है, आप बहुत सी बातें जानते हैं। मुझे आपसे पूछना होता है। उदाहरण के लिए, मैं गाड़ी चलाना नहीं जानती। मेरा मतलब है, हमेशा कोई मेरे लिए चलाता है। अगर किसी को मेरे लिए ड्राइव करना है और मैं ड्राइव नहीं कर सकती, तो मुझे दुख नहीं होगा। उसी तरह, आपको इस तरीके से, बहुत ही सरल तरीके से देखना चाहिए, कि यह महिला इस कार्य को जानती है। और मुझे इसके लिए भुगतान मिलता है क्योंकि मैं आपके चेहरे पर मुस्कान देख रही हूं, क्योंकि मेरी खुशी बढ़ रही है। मैं आपको वह खोजता हुआ पाती हूं जो मेरे भीतर है। यह सबसे बड़ी चीज है, सबसे बड़ी चीज जो कोई देख सकता है। इससे अधिक खुशी देने वाली कोई बात नहीं है, इससे अधिक कुछ भी संतुष्टि नहीं होती है।मैं आपको इस खूबसूरत अनुभव के लिए आमंत्रित करना चाहती हूं। मेरा मतलब है, कुंडलिनी पर मैंने इतनी बात की होगी, मुझे नहीं पता, लंदन में सैकड़ों बार, और इस पर उन्हें कम से कम सौ से अधिक टेप मिले हैं, बहुत ही विस्तार में। मैंने अहंकार के बारे में, प्रति-अहंकार के बारे में बात की है। तुम अहंकार को देख सकते हो, वहां वह पीली चीज। यह अहंकार है, आप देखते हैं, जो हमारी गतिविधि के माध्यम से काम करता है और यह सिर में है, आप जानते हैं। कभी-कभी बहुत बड़ा हो सकता है। मैंने उनमें से कुछ में देखा है, आप जानते हैं, जैसे उभरती हुई एक बड़ी पगड़ी, पीली पगड़ी। भयानक हो सकता है। और, हाँ, और आप नहीं जानते कि इसे कैसे निचे किया जाए और आपको इसके साथ बहुत सावधान रहना होगा। इसके साथ प्रति-अहंकार दूसरी तरफ है, जहां आप एक बाधित व्यक्ति हो सकते हैं, या आप  बस एक उदासीन व्यक्ति हो सकते है। जैसे हमारे पास एक सज्जन व्यक्ति थे जो मेरे कार्यक्रम में हर समय रोते थे। मैंने कहा, “क्या बात है?” उन्होंने कहा “आप[जानते हैं, मैंने लॉर्ड बायरन को पढ़ा है।” मैंने कहा, “अब, इस लॉर्ड बायरन के साथ क्या करना है? क्या आप किसी अन्य बेहतर को नहीं पढ़ सकते हैं? ” उन्होंने कहा “नहीं, माँ, मैं उन पर  पूरी तरह से मुग्ध हूँ।” “अब,” मैंने कहा, “ठीक है, तुम एक दूसरा जन्म ले लो। इस आदमी लॉर्ड बायरन को भूल जाओ, । फिर हम देखेंगे कि क्या करना है। ” क्योंकि वह रोना बंद नहीं करेगा।

दोनों बातें बस एक ही हैं, चाहे वह अहंकार हो या प्रति-अहंकार। दोनों ही आपके बोधस को प्रभावित कर सकते हैं। लेकिन फिर भी, मुझे कहना होगा, मैंने अब तक अधिकांश क्रम परिवर्तन और संयोजनों पर काम किया है। आइए देखें कि क्या मुझे इस बार कुछ नया मिल रहा है यह एक अनुभव है। यह काफी चुनौतीपूर्ण भी है। लेकिन किसी को किसी भी तरह से आशंकित महसूस नहीं करना चाहिए, क्योंकि आपने कुंडलिनी के बारे में कुछ किताबें पढ़ी होंगी, कि जब आपकी कुंडलिनी उठती है तो आप मेंढक की तरह कूदना शुरू करते हैं। मेरा मतलब है, क्या आप अब अपने विकास में, मेंढक बनने जा रहे हैं? एक साधारण सा सवाल। आप मेंढक की तरह उछलने लगते हैं। तुम मेंढक की तरह कैसे कूद सकते हो? या तुम पक्षी की तरह उड़ने लगते हो। क्या आप पक्षी बनने जा रहे हैं? या वे कहते हैं कि आपको झटका लगता है। ऐसे कैसे हो सकता है? अब सोचो: यह तुम्हारी माँ है। और वह केवल आपकी माँ है। और वह हमेशा तुम्हारी माँ रही है। क्या वह आपको एक झटका दे सकती है? मेरा मतलब है, मैं ऐसी माताओं को नहीं जानता जो बच्चे के जन्म के लिए युगों तक का इंतजार करती हो,और अपने बच्चे को झटका देना शुरू कर दे। मेरा मतलब है, आपको लगता है कि भगवान ऐसा भी क्रूर हो सकता है की ऐसा कुछ बनाये।

ऐसा इसलिए है क्योंकि लोग बिल्कुल अनधिकृत हैं। तो उनमें से कई बिल्कुल अनाड़ी हैं। मैं कहूंगी, मैं उनकी ज्यादा भर्त्सना नहीं करना चाहती। लेकिन मैं कहूंगी कि किसी ऐसी चीज़ में पड़ना जिसके बारे में वे नहीं जानते निंदनीय है। उदाहरण के लिए, एक ग्रामीण शहर में आता है और वह दोनों हाथ जैसे प्लग के अंदर डालता है,  और कहता है, “ओह, मुझे झटका लगा।” बिजली का “झटका”। ऐसे आदमी को आप क्या कहेंगे? किसने उसे दोनों हाथ प्लग में डालने को कहा? उसी तरह जिस व्यक्ति के पास अधिकार, जिसका अर्थ है कि हृदय की पवित्रता, भावना की पवित्रता, समर्पण की पवित्रता नहीं है उसे कुण्डलिनी से कोई लेना देना नहीं है |वे आत्मसाक्षात्कारी नहीं है। वे बिल्कुल अनधिकृत हैं। और अगर उन्हें ऐसे अनुभव आये हैं, तो बस उन्हें चेतावनी देने के लिए कि वे खुद सही तरीके से व्यवहार करें।कुंडलिनी कभी भी आपको परेशान नहीं कर सकती है। ज्यादा से ज्यादा कुछ लोगों को कुछ गर्म महसूस हो सकता है। विशेष रूप से मैंने कुछ मामलों और कुछ बीमारियों में देखा है, आपको गर्मी महसूस होती है। अब, कुंडलिनी जागरण द्वारा शानदार इलाज ज्यादातर कैंसर के हो चुके हैं। कैंसर केवल कुंडलिनी जागरण के माध्यम से ठीक किया जा सकता है। अब, यह मैं 1970 से कह रही हूं। अब मैंने यह चमत्कार इस अर्थ में किया है कि इसने कार्यान्वित किया है कि मैं इसके बारे में हमारी सरकार को समझाने में सक्षम हूं। और वे हमारे स्वास्थ्य मंत्रालय के माध्यम से इस विशेष विधि से एक नियमित, तरह से काम करना चाहते हैं। लेकिन मैंने उनसे कहा कि मैं संसद को नहीं समझती, मैं ऐसी किसी भी बकवास को नहीं समझती, मैं संसद में कोई सवाल नहीं चाहती। मुझे नहीं पता कि आप मुझसे कैसे मिलेंगे क्योंकि अब तक हमेशा सरकारें सभी संतों के खिलाफ रही हैं। उन्होंने क्राइस्ट को क्रूस पर चढ़ाया। जो कोई भी अंदर आया, उसे बहुत अच्छी तरह से सूली पर चढ़ाया गया। और सभी भयानक लोगों का इस दुनिया में बहुत स्वागत किया गया। हिटलर को देखें, नेपोलियन को देखें, इन सभी लोगों को देखें। जबकि ईसा मसीह को क्रूस पर चढ़ाया गया था। इसलिए मैंने उनसे कहा, “मैं आपकी संसद को नहीं समझती। मैं इन सभी चीजों को नहीं समझती। इसलिए, हमारे लिए अब इसे इस तरह से स्थापित करना एक कार्य है कि यह उन चीजों के मानदंडों से नहीं टकराये जो लोगों ने हमारे लिए बनाये हैं। हम राजनीतिक मतभेदों और इन सभी मानव निर्मित समस्याओं के बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं। ये सभी मूर्खतापूर्ण बातें हैं जो केवल मनुष्य के मूर्ख विचारों द्वारा बनाई गई हैं। यह इतने अवास्तविक और इतना मूर्खतापूर्ण है कि वे, मुझे समझ में नहीं आता कि किसी को इस पर ध्यान क्यों देना चाहिए। वे सब गिर जायेंगे, तुम चकित होओगे |

जब आप इस कमरे में आते हैं, तो यहाँ सब अंधेरा है कि आप यहाँ और वहाँ भटकेंगे। , अगर आपको वहां कोई किताब लगती है,आप कह सकते हैं कि यह कमरा सिर्फ एक किताब है। लेकिन अगर आप सब कुछ प्रकाश में देखते हैं आपको लगता है कि “वे सब क्या मुर्खता कर रहे हैं और अपने विचारों से सब को पागल बना रहे हैं। वे सभी अंधे हैं। ”एक सहज योग है जो कहता है, “आप सबसे पहले अपना प्रकाश प्राप्त करें।” आपको अपना प्रकाश प्राप्त करना चाहिए। यदि आप अपना प्रकाश प्राप्त करते हैं, तो  आप स्वयम ही देख पाएंगे कि सत्य क्या है। पहले आप सत्य को देखें,यह मुख्य बिंदु है। अब, इसमें कोई बहस नहीं है। बहस करके मैं आपको नहीं दे सकती। मैंने ऐसे लोगों को एक हाथ में तलवार लिए खड़े देखा है कि, “मुझे बोध दिलाओ।” अब, कैसे, मुझे क्या करना है, आप देखिए? आप इसमे बहस नहीं कर सकते। इसे कार्यान्वित होना होता है। आप देखिये की,यह उन लोगों के लिए काम करता है जिनके बारे में माना जाता है कि वे बिल्कुल गए-गुजरे मामले हैं, बिल्कुल मनहूस, भयानक, बेकार , किसी काम के नहीं है। और वे बोध पाने वाले पहले व्यक्ति होते है। मैं क्या कर सकती हूँ ? अब आप कह सकते हैं, “माँ, यह कैसे संभव हो सकता है?” देखिये,यदि कुछ लोग बहुत, दयालु और बहुत मददगार प्रकार के दिखते हैं, वे दान के तीन, चार संगठन चला रहे हैं और जैसेकि, वियतनाम, जहां लोग मारे गए थे,वगैरह बकवास के लिए दोषी भाव रखते हैं, आत्मसाक्षात्कार नहीं मिलता। और जो बस गली कुचे में खड़ा है और कहता है, “माँ,” उसे मिल सकता है।

यह आपकी गुणवत्ता का अंतिम निर्णय है। यह लास्ट जजमेंट है। और व्यक्ति को पता होना चाहिए कि अंतिम निर्णय एक बड़ी तौलने की  मशीन के साथ नहीं आने वाला है। हम कैसे पता करने जा रहे हैं? कुंडलिनी जागरण के माध्यम से निर्णय होगा । और आपको परखा जाता है। लेकिन यह निर्णय इतना सुंदर है कि आप किसी भी चीज़ से शापित नहीं किया जाता हैं, आप पूरी तरह से कैद नहीं किया जाता हैं। लेकिन आपको सुधार करने, परिवर्तन करने, और परिपूर्ण होने का वादा करने और उस सुंदरता, जिस सुंदरता का वर्णन किया गया है, वह सुंदरता जो हम हैं, वह सुंदरता जो सत्य है, वह आनंद है, वह स्वर्ग है,का आनंद लेने का मौका दिया जाता है। यह वही है। मैं सहज योग के बारे में बात कर रही हूँ। यह बहुत शानदार लगता है। हर किसी ने मेरे शब्दों का इस्तेमाल किया है। मैं अमेरिका गयी और [कि / उदाहरण के लिए], मैं वहां जाने वाली पहली व्यक्ति थी, और मैं बोल रही थी; उनके सभी के पास टेप रिकार्डर थे, उन्होंने इसे सब कुछ टेप किया। 

और वे जो लोग वहां थे, उन्होंने मुझसे कहा, “माँ, आप क्या कर रही हो? आप उन्हें इसे टेप करने की अनुमति क्यों देती हैं? ” 

मैंने बोला क्यू?”

 उन्होंने कहा, “वे आपके शब्दों का उपयोग करेंगे।” 

मैंने कहा, “उन्हें इस्तेमाल करने दो।”

 “और वे आपके विचारों का उपयोग करेंगे।” 

मैंने कहा, “उन्हें करने दें,बहुत अच्छा विचार है । यह फैल जाएगा। ”

 फिर उन्होंने कहा, “वे इनमें से पैसे कमाएँगे।” 

मैंने कहा, “उन्हें बनाने दो।” लेकिन वे बोध नहीं दे सकते। उन्हें आत्मसाक्षात्कार के लिए मेरे पास आना होगा। उन्हें अपना बोध लेना होगा और उसके बाद ही वे इस पर काम कर सकते हैं। यह सब बात, बातचीत, होगी। क्या फर्क पड़ता है? मुझे कोई खतरा नहीं है इसके विपरीत मैं बेहतर महसूस करती हूं। कुछ विचारों में प्रवंचना होगी। इसने काम किया है। इसने काम किया है, इसमें कोई शक नहीं।

इसलिए, अगर कोई ईश्वर के बारे में बात करता है और भगवान के बारे में बात करता है, सब कुछ, तो व्यक्ति को पता होना चाहिए कि बात करने से आपको ईश्वर नहीं मिलते है। यह एक घटना है। अगर यह घटित होती है, तो आप सबसे भाग्यशाली व्यक्ति हैं, सबसे भाग्यशाली व्यक्ति हैं। और हमारे इस महान देश में बहुत सारे लोग हुए हैं।मुझे लगता है कि इंग्लैंड यूनिवर्स का दिल है। यह दिल है। भारत के पास कुंडलिनी है लेकिन इंग्लैंड दिल है। मैंने इसे कई बार कहा है। लोग उतने  कुटिल नहीं हैं, न ही उतने अभिमानी, बीच-बीच में, बल्कि कठोर अखरोट की तरह हैं,देखिये। वे समय लेते हैं। वे समय लेते हैं। वे थोड़ा उलझन में हैं और काफी हैरान हो सकते हैं क्योंकि यह उनके लिए बहुत अधिक है। लेकिन फिर भी, वे बहुत स्थिर लोग हैं और यह उनमें बहुत गहराई तक चला जाता है। मैंने देखा है, मैंने हमेशा यह भी कहा है, कि सबसे अच्छे युवा इंग्लैंड में हैं। मुझे इस बात का पता नहीं है कि किस कारण से, मुझे अब रूस से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक के दौर और हर जगह का अनुभव है। लेकिन सबसे आश्चर्य की बात यह है कि ऑस्ट्रेलिया जो माना जाता है कि वे अपराधी थे और जैसी चीजें थीं, वह वैसा ही अपना रहे हैं। केवल दो लोग ऑस्ट्रेलिया से आए थे और जिस तरह से वे इसे कर रहे हैं, वह आश्चर्यजनक है।

तो, आइए देखें कि आज इस खूबसूरत जगह हैम्पस्टेड में क्या होता है। अगर यह काम करता है, तो बहुत अच्छा है। और यह होना चाहिए। मैं कम से कम छह साल के लिए आपके साथ यहां रहने जा रही हूं, मुझे आशा है कि और मैं उस अवधि के भीतर सुनिश्चित कर रही हूं, कई, बहुत से लोगों को यह पाना चाहिए। लेकिन आपको पता होना चाहिए कि यहां केवल आपका समर्पण और समझ है जो आपको इसमें बनाए रखने वाला है और कुछ नहीं। क्योंकि हमारी आदत है, अगर आप एक नाटक देखने के लिए दस पाउंड का भुगतान करते हैं, माना की, नाटक भयानक है, बिल्कुल आप इसे सहन नहीं कर पा रहे , लेकिन आप फिर भी देखते हैं।क्योकि आपने दस पाउंड का भुगतान किया है इसलिए आप वापस नही जाते। चूँकि आपने यहां कोई पैसा नहीं दिया है, कोई बाध्यकारी ताकत नहीं है। आपको अपने आप को थोड़ा सा बांधना होगा और उस पर थोड़ा प्रयास करना होगा और खुद पर काम करना होगा , क्योंकि आप पूरी तरह से स्वतंत्रता में हैं, पूरी स्वतंत्रता है कि आप उस पर चिपके रहें या चले जाएं। कोई भी आपको मजबूर करने वाला नहीं है। यह आपको तय करना है। कोई भी आपके लिए निर्णय लेने वाला नहीं है। ज्यादा से ज्यादा अन्य सहज योगी आपको बता सकते हैं कि “कृपया”, आप देखते हैं, जो एक मुश्किल काम है। “आप अभी देख रहे हैं, आप बस बाहर हो जा रहे हैं।” वे आपको बता सकते हैं क्योंकि वे सभी इस तरह से फिसले हैं। क्या आप सोच सकते हैं, मैं लंदन में चार साल तक केवल छह हिप्पी पर काम कर रही थी? फिर, संयोग से, वे सब ठीक हो गए, सब कुछ ठीक था, और वे आज बहुत बड़े सहज योगी हैं। इसलिए, यह सभी के साथ काम कर सकता है। और एक बार शुरू होने के बाद यह बहुत तेजी से चालू होता है।मैं चाहूंगा कि यदि आपके पास कोई हो तो मुझसे कोई भी / कई सवाल पूछ सकता है। और मैं उनका उत्तर दूंगी। लेकिन ध्यान के लिए आपको पता होना चाहिए कि आपको इस विचार के साथ खुद को समर्पित करना होगा कि आपको इसे प्राप्त करना है। समय आ गया है। आज का दिन हो सकता है आज का समय आपके सारे जीवन और आपके सभी चाहने वालों को अर्थ देने का है।

ईश्वर आपका भला करे। धन्यवाद।

श्री माताजी: कोई प्रश्न है? कोई सवाल? कृपया मुझसे पूछें। [किसी व्यक्ति के लिए: आप यह भी पढ़ सकते हैं]

साधक: [इसकी कोई प्रतिक्रिया नहीं है] माँ, उस व्यक्ति के लिए जो इच्छा खो चुका है? यह कुछ ऐसा है जिसे मैं ढो रहा हूं, मुझे इसका उल्लेख नहीं करना चाहिए।

श्री माताजी: भूल जाओ। क्या आपने अस्तित्व की इच्छा खो दी है? हा?

साधक: ठीक है, मुझे लगता है कि मैं ज्यादा जीने की इच्छा नहीं रखता। कुछ और समय, खुद को मारने के लिए नहीं, लेकिन।

श्री माताजी: आप देखिए, मुझे पता है कि कभी-कभी हताशा होती है, आप जानते हैं, ऐसी चीजें हैं। लेकिन वह एक महान संत की निशानी भी है। आप जानते हैं , यह एक खोज का संकेत है, आपको लगता है, “क्या अर्थ है?” आखिरकार, आपको अर्थ नहीं मिला है। तो आपको ऐसा लगता है। सब ठीक है। लेकिन सहज योग के लिए नहीं, मैंने ऐसा नहीं कहा कि, आप सहज योग के लिए एक गया गुजरा हुआ मामला हो। ठीक है? भगवान आपका भला करे। जैसे मैं दो लड़कियों से मिली, एक थी अठारह, दूसरी थी उन्नीस, स्वीडन से, स्वीडन। अब, जरा कल्पना कीजिए, स्वीडन। वहां के लोग बहुत अमीर हैं। और दोनों के शरीर में बिलकुल सुन्न चैतन्य था, बिलकुल सुन्न। मैंने उन्हें फोन किया, “क्या यह सच है?” मेरा मतलब है, मेरा दिल तेज़ धड़क रहा था, बिल्कुल। मैं समझ नहीं पायी। ऐसा प्यार और ऐसी करुणा बहने लगी और मैंने कहा “तुम, युवा लोग बस अभी बाहर खिल ही रहे हो। क्या बात है? आप मृत्यु के बारे में क्या सोचते हैं? ” उन्होंने कहा, “हम हर समय मौत के बारे में योजना बनाने के अलावा कुछ नहीं करते हैं।” क्या तुम कल्पना कर सकती हो? यह कितना दयनीय है, कितना भयानक है। लेकिन सहज योग के लिए यह एक अच्छा संकेत है क्योंकि आप वास्तव में इसे पाने के लिए काफी बेसब्री से खोज रहे हो।

लेकिन व्यक्ति को पूर्णत: एक हंसमुख व्यक्ति होना चाहिए। हंसमुख होना एक अच्छा विचार है। आखिरकार, आप परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर रहे हैं। अब अगर आप माना की, यहां तक कि 10 डाउनिंग स्ट्रीट पर जा रहे हैं और अगर आप उदास  चेहरा है, तो देखिये, लोग कहेंगे, “थोड़ा मुस्कुराओ।”  मैंने उनसे कहा है कि अगर आपको कहना ही है तो हमारे पास है,पहला मंत्र “मुस्कराहट ” है। ठीक है? एक या दो बार “मुस्कुराने कर ” कहने के बारे में क्या सोच है ? अच्छा विचार होगा। हम्म। अच्छा विचार। हो जाएगा। हम्म। क्या कोई और सवाल है? कृप्या। साधक: माँ, हमारे पास किसी के द्वारा की गई  छोटी सी बात है, आप के सामने, एक, उन्होंने कहा है कि आप के बारे में उन सभी शास्त्रों में भविष्यवाणी की गई थी जो की उन्होंने अध्यययन कि हैं।

श्री माताजी: ओह, क्या उन्होंने ऐसा कहा? मैंने उससे कहा था कि, यह मत कहो। हमें ये समस्याएं होंगी, आप देखिए अब इसे भूल जाओ, भूल जाओ। आप बाद में पता लगाना,  बेहतर हैं। ठीक है? किसने कहा, मार्कस? तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई? नहीं नहीं नहीं। रहने भी दो। रहने भी दो। तुम देखो, यह सब बाद में पता लगाना है। यह तो  किसी को ऐसा बताने जैसा कुछ होगा कि, आप देखिए, कि जैसे ही आप कमरे के अंदर पहुंचेंगे, आपको ऐसा कोई व्यक्ति मिल जाएगा और आप बस अंदर  जाना ही नहीं चाहते, आप देखेंगे। तो, कृपया, यह सब भूल जाओ। अगर उसने यह सब कहा है। क्या तुमने किया?

सहज योगी: [अस्पष्ट]

श्री माताजी: भयावह हो सकता है।

[सहज योगी: यह वास्तविकता है यह वास्तविकता है। [अस्पष्ट] और यह स्थिरता  के लिए बहुत अच्छा है और फिर ये चीजें वास्तव में काम करती हैं। और उसने मुझे यह और यह [अस्पष्ट] कहा।

श्री माताजी: बहुत-बहुत धन्यवाद। अब, आपको खुशबू आएगी, क्योंकि यह आपकी खुद की खुशबू है, आपकी जानकारी के लिए। क्योंकि आप एक चक्र से बने हैं,  सबसे निचला वाला  – धरती माता से बना है, आप देखते हैं, मिट्टी। और मिट्टी, धरती माता का सार, सुगंध है। तो, यह टूटना शुरू हो जाता है। आप देखते हैं, आप अपने सूक्ष्म में पहुँचते हैं। तो पहले कभी-कभी आपको एक जबरदस्त खुशबू भी मिलती है। कभी-कभी आप बस थोड़ा सा प्रकाश भी अपने अंदर में आते हुए देख सकते हैं या हो सकता है कि आप इन सभी चीजों को देख सकें। लेकिन मैं क्या कहूंगी, कि जब हमें हवाई अड्डे पर पहुंचना है तो आप इन सभी आस-पास की चीजों को नहीं देखेंगे। यह देखना अच्छा है, क्या यह नहीं है? लेकिन सबसे अच्छा एयरपोर्ट पर पहुंचना है। ठीक है? मुझे खुशी है कि आप एक आरामदायक यात्रा कर रहे हैं। ये अच्छी बात है। हां, यह सिर्फ आपको कुछ आराम देने के लिए है, और यह खुशबू आप को कई बार आएगी जब भी आप मेरे बारे में सोचते हैं तो आपको कई बार आती है। यह सच है।

साधक 1: [तो हमें सुधारने का मुख्य कारण आपको हमारे देश में आना पड़ा है?

श्री माताजी: हां, मैं आई हूँ |

साधक १: [अस्पष्ट]

श्री माताजी: हां, केक्सटन हॉल में हमारा हर सोमवार को कार्यक्रम होता है। कैक्सटन हॉल। और इसके अलावा भी वे मेरा कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं। हम कई जगहों पर गए हैं। जैसे चिसविक  (चिसविक पश्चिम लंदन का एक बड़ा उपनगर है; चेसेविक, नॉर्थम्बरलैंड, इंग्लैंड का एक गाँव है), एनफ़ील्ड में, बहुत सारे स्थानों पर और जिन स्थानों पर मैं गयी हूँ। और पूरे इंग्लैंड में भी, मैंने यथासंभव कई स्थानों को कवर करने की कोशिश की है।

साधक १: [हम प्रगति के लिए कैसे आए?

श्री माताजी: प्रगति कैसे करें? हां यह है।

साधक १: [चिंतित होने की बात नहीं]।

श्री माताजी: नहीं, हमारे पास छोटा सा आश्रम भी है, जो कुछ सहज योगियों द्वारा किराए पर लिया गया है, जहाँ हम हर रविवार को दोपहर में मिलते हैं, जहाँ हम लोगों को बताते हैं कि कैसे प्रगति करनी है, कैसे आगे बढ़ना है, और कैसे काम करना है। और इसे समझने के लिए आप सभी के बीच अधिक घनिष्ठ संबंध स्थापित होती है। और वे कुछ व्यक्तिगत समस्याओं और चीजों की भी देखभाल करेंगे। हाँ?

साधक 2: कुछ भी नहीं, मैं वास्तव में परिवर्तित हो गया हूं, मैं थोड़ा ठंडा हूं क्योंकि, आप देखते हैं, यह मेरी स्थिति है। जब तक[एसी चालू नहीं था मैं वहीं बैठने जा रहा था।

श्री माताजी: बिलकुल ठीक। मुझे लगता है कि … मैं सुझाव दूंगी …

साधक २: मैं भी इसे नहीं रोकूंगा, इसके लिए हठी हूं, लेकिन फिर यह मेरी नसों पर रहता है।

श्री माताजी: ठीक है, कृपया यहाँ बैठ जाइए।

साधक 2: यह एक तरीका है [इसे करने के लिए] खुला।

श्री माताजी: बिलकुल ठीक। बस सब ठीक है। अब, मैं आपको क्या सुझाव दूंगी, कि यदि आप इस मेरी स्पीच का टेप लेना चाहते हैं, तो कृपया … कृपया।

साधक 2: [अस्पष्ट] अगर मुझे [अस्पष्ट]ऐसा पता होता तो मैं अंदर आते ही इसे बंद कर देता। यही सब ठीक है। ऐसा लग रहा है जैसे वह केवल मेरे लिए किया है।

श्री माताजी: बिलकुल ठीक। अब सब ठीक है। आप टेप ले सकते हैं। मेरा मतलब है, अगर आप इन लोगों को एक टेप देते हैं, तो वे इसे आपके लिए टेप करेंगे और आपको जितना चाहें उतना दे देंगे। तो, बस … आपको उन्हें केवल एक टेप देना होगा क्योंकि, आप देखते हैं, जैसा कि मैंने आपको बताया था, हम कोई पैसा या कुछ भी नहीं लेते हैं, लेकिन हमें दूसरों से अपने टेपों के लिए भुगतान करने की भी उम्मीद नहीं करनी चाहिए। मेरा मतलब है, यह दूसरे तरीके से भी नहीं होना चाहिए।

साधक 3: मुझे यह भी पता है कि [अस्पष्ट] श्री माताजी, चंगा हो गया था और वह एक डॉक्टर था। [अस्पष्ट] यह कैसे होना चाहिए, क्या, पश्चिमी यूरोपीय लोगों के लिए क्या करना चाहिए या उन्हें यह भी ठीक कर सकता है?

श्री माताजी: क्या होना चाहिए?

सहज योगिनी: पश्चिमी यूरोपियों को ठीक करने के लिए क्या करना चाहिए?

श्री माताजी: मैं यही कर रहा हूं। यह आवश्यक था, आप देखें कि आप को उस तरह से प्रगति करने के लिए, स्वयम  देखें कि क्या कुछ गड़बड़ है। और यहाँ में अपनी कुंडलिनी को बढ़ाने के लिए सब कुछ  कर रहा हूँ । यह समस्या का समाधान है। आप देखेंगे की, इससे दूर भागने से नहीं, बल्कि सिर्फ इसका सामना करने से, यह घटित होगा। यहाँ पहले से ही बहुत सारे पश्चिमी दिमाग वाले सभी पश्चिमी लोग हैं,

अति-विकसित। वे ऐसे बन गए हैं। कभी-कभी, उनमें से कुछ के पास यह मिस्टर अहंकार वापस आ जाता है, लेकिन अब वे इसे देख सकते हैं। जहाँ तक और जब तक आप अपनी कार से बाहर नहीं निकलते तब तक आप उसे देख नहीं सकते, आप उसे ठीक नहीं कर सकते। तो अपने आप को ठीक करने के लिए आपको इससे बाहर निकलना होगा। तब ही आप इसे ठीक कर सकते हैं। क्या यह सब अभी है? इसे ठीक करने के लिए, आप सभी को इसे देखने के लिए कार से बाहर निकलना होगा।

साधक 3: और एक बार हम इसे देख लेते हैं?

श्री माताजी: आप क्षमा करें क्या कहा आपने ?

साधक 3: और एक बार हम इसे देख लेते हैं, तो हम क्या करते हैं?

सहज योगी: एक बार जब हम इसे देखते हैं, तो हम क्या करते हैं?

श्री माताजी: अब, यह एक प्रश्न है, बहुत सरल है और बहुत ही सरलता से उत्तर दिया जा सकता है कि एक बार जब यह प्रकाशित होता है तो यह क्या करता है?

साधक 3: यह तब रौशनी देना शुरू कर देता है।

श्री माताजी: और यह प्रकाश देता है।

साधक ३: [हाँ / अभी तक], यह अंधेरा भी दे सकता है।

श्री माताजी: नहीं, लेकिन आप प्रकाश देते हैं। ठीक है? ये ही होता है। जब आप इसे प्राप्त करते हैं तो आप दूसरों को प्रकाश देते हैं। आप दूसरों के हो जाते हैं। आप अपने स्वयं के प्रकाश का आनंद लेते हैं । तुम्हारे भीतर से प्रकाश बहने लगता है। आप उस प्रकाश का आनंद लें। और तुम प्रकाश देते हो। एक बहुत अच्छी उपमा एक खोखली बांसुरी की तरह दी जाती है। आप खोखली बांसुरी बन जाते हैं, जिससे माधुर्य बहता है। और अन्य लोग कहते हैं कि यह आप ही हैं जो बजा रहे हैं लेकिन वास्तव में आप राग को देखते हैं और इसका आनंद लेते हैं। तुम वो बन जाओ।

साधक 3: लेकिन यह प्रकाश हमारी समस्याओं, हमारे जीवन को प्रभावित करने वाली समस्याओं में मदद नहीं करता है।

श्री माताजी: आपके जीवन को प्रभावित करने वाली समस्याएं…

साधक 3: वे भी महत्वपूर्ण हैं।

श्री माताजी: नहीं, बहुत कुछ वे वहां हैं क्योंकि,  आप स्वयं को नहीं जानते हैं।

साधक ३: क्षमा करें?

श्री माताजी: क्योंकि आपने स्वयं को नहीं जाना है। आप देखिए, मान लीजिए मैंने कार चलाना शुरू कर दिया है तो मैं हर समस्या में कूद जाऊंगी। लेकिन अगर मुझे पता है कि मैं इसे कैसे चलाऊ,में इसे प्रबंधित कर लुंगी । तुम निपुण हो जाते हो।साधक ३: हर कोई नहीं।

श्री माताजी: हाँ, वह होता है। वे अवश्य होते हैं। वे करते हैं। यह आवश्यक है। इसीलिए ऐसा होता है|

साधक 3: सही है, लेकिन अन्य लोग जो ड्रायविंग कर रहे हैं, यह ड्रायविंग जानते भी  हैं लेकिन अधिकतर इसे अपने तक ही रखते हैं।

श्री माताजी:  जिस तरह दूर तक आप सादृश्य ले रहे हैं, यह ऐसा नहीं है। यह है कि आप अपनी खुद की समस्याओं पर निपुण हो जाते हैं। आप समस्याओं को एक अलग दृष्टीकोण से देखना शुरू करते हैं। आप देखिए, माना कि, – मैं केवल आपको समझाने के लिए सादृश्य दे रही हूँ, लेकिन आप इसे उस हद तक  नहीं ले जाइये, वरना, यह आपको भ्रमित करता है। इसे समझने की कोशिश करें, खुद अधिक भ्रमित होने के लिए नहीं, बल्कि समझने के लिए। आप देखते हैं कि, एक समस्या को हल करने के लिए आपको इसका सामना करने की कोशिश करनी चाहिए और इसे समझने की कोशिश करनी चाहिए। अब, उदाहरण के लिए, जैसे, आप पानी में हैं। ठीक है? अब, पानी में लहरें हैं और आप इसमें हैं और आप तैरना नहीं जानते तो, आप परेशान हैं। लेकिन यदि आप तैरना जानते हैं तो, आप इसका आनंद लेंगे। ठीक है? बस। अब, क्या यह सब ठीक है?

साधक ४: हाँ। नहीं यह नहीं। यह वास्तव में बहुत बुरा है। या मुझे नहीं पता कि यह बुरा है, लेकिन यह ईस्टर्न सिद्धांत [अस्पष्ट] पर सीधे [अस्पष्ट] से संबंधित है, पूर्व से। [अस्पष्ट]।

श्री माताजी: [एक तरफ: वह क्या कह रहा है?] बिलकुल ठीक। आप देखिए, ये सभी हठधर्मियों की समस्याएँ हैं और सभी अज्ञानता के कारण हैं। मुझे आपको बताना होगा कि ईसा-मसीह हमारे भीतर रह रहा है। वह हमारे भीतर मौजूद है। हम उसे अमान्य नहीं कर सकते। वह यहाँ हमारे भीतर है, जैसा कि मैंने आपको बताया, पीछे, वहाँ अंदर। वह वहाँ है। लेकिन आपने अभी तक उसे नहीं जगाया है। आप उसके साथ नहीं जुड़े हैं। यही एकमात्र समस्या है। और हम स्वयं देखेंगे कि यह कैसे कार्य करता है। यदि ये सभी देवता जो वहां हैं, हमारे भीतर जागृत हो जाते हैं, तो वे अपनी शक्तियों को प्रकट करते हैं। अब, ईसा-मसीह की शक्ति क्या है?

साधक ४: [UNCLEAR]

श्री माताजी: क्या ?वह क्या कह रहा है / बात?

सहज योगिनी: यह सांपों के मिलने के बारे में कुछ है।

श्री माताजी: अहा! हाँ हाँ। हाँ हाँ। जिस तरह से उन्होंने निंदा की, आपका कहने का मतलब है। जॉन ने उनकी निंदा की थी, है ना? आप उसके बारे में कह रहे हैं?

साधक ४: [UNCLEAR]

श्री माताजी: देखिये,यह सब अज्ञानता से आता है? लोग दूसरों पर हावी होने की कोशिश करते हैं; कुछ लोग दूसरों पर वर्चस्व पाने की कोशिश करते हैं। यह सब अज्ञानता से आता है। ये सारी बातें अज्ञानता से आई हैं। कुल मिला कर यह बात है, मैं कहूंगी। क्योंकि एक व्याख्यान में आप ऐसी कई किस्मों के मामलों से निपट नहीं सकते। लेकिन कुल मिला कर , मैं कहूंगी, यह सब अज्ञान है। देखें, जब आप उस स्थिति में होते हैं तो आप किसी पर हावी नहीं होते हैं; न ही आप किसी पर वर्चस्व पाते हैं। आप बस खड़े हैं। हो घटित होता है। हो जाता है। प्रयास करने योग्य है । क्यों नहीं? ठीक है? प्रयास करने योग्य है, क्या ऐसा नहीं है? यह शानदार लग रहा है; बस इतना ही। यदि आप उस हिस्से को भूल जाएँ, तो आइए कोशिश करते हैं।

साधक ४: [UNCLEAR]

श्री माताजी: बाएँ और दाएँ [उसका क्या अर्थ है]? सहज योगिनी: [मुझे नहीं पता]। उन्होंने कहा कि यह एक अलग बात है। यह शरीर का एक अलग हिस्सा है, जब उन्होंने वहां के केंद्रों से विकास की बात कही है।

श्री माताजी: लेकिन विकास तो अभी भी हो रहा है?

सहज योगिनी: जब उन्होंने कहा विकास और [उन्होंने बताया कि अभी तक भी ] अर्थात विभिन्न चीजों से सम्बंधित जो शरीर के विभिन्न हिस्सों में विस्तारित है।

श्री माताजी: हां, यह सब हमारे विकास के दौरान विकसित हुआ है। देखिये,सम्बन्ध  इस तरह से आता है कि पहले हमारा बायाँ भाग ज्यादा विकसित हुआ, आप देखते हैं, और फिर दाहिना भाग विकसित हुआ है। और अभी के समय में, आज जहां हम स्थित हैं, हमें इस तरह से विकसित किया गया है कि हमारा दायाँ भाग अधिक प्रभावी है और यह अधिक प्रभावी है और देखिये,विशेषकर पश्चिम में यह बाईं ओर की तुलना में कहीं अधिक हावी है,। लेकिन यह कैसे संबंधित है, यह हमारी उंगलियों से कैसे संबंधित है और यह सब, कि आप खुद देख सकते हैं। धीरे-धीरे आप खुद देखेंगे। जैसा मैंने कहा, वैसा ही देखा जाना है। आप इसे तर्क से नहीं समझ सकते। आपको इसे स्वयं देखना चाहिए।

साधक ४: तो यह मानते हुए कि तब [अस्पष्ट] पर, मेरे [दाहिने] हाथ पर लकवा मार गया था। बात यह है कि अगर मैं इस बारे में ईर्ष्या कर रहा हूँ …

श्री माताजी: लकवाग्रस्त नहीं। वे नहीं थे। लेकिन अगर आप एक आदिम आदमी लेते हैं। इसे ऐसे ही मान लो, सब ठीक है? आदिम मनुष्य का अपना दाहिना बाजू इतना विकसित नहीं होता था।  और जो व्यक्ति अपने दाहिने हिस्से पर अति-विकसित होता है, वह बाएं बाजू पर इस अर्थ में अधिक हावी होता है कि, यदि आप उस गुब्बारे के पीले भाग को बाईं ओर देखते हैं और व्यक्ति बहुत हावी होने वाला व्यक्ति बन  जाता है | इसलिए, आदिम व्यक्ति पर, उदाहरण के लिए कहें, कुछ लोग जो बाहरी रूप से आदिम जीवन जीने के लिए गए हैं, वे मस्तिष्क के तौर पर आदिम नहीं बन सकते। वे नहीं कर सकते। आप देखते हैं, बाहर आप आदिम लोगों के तरह कपड़े पहन सकते हैं लेकिन मस्तिष्क अंदर से ऐसा विकसित हुआ है। तो, सहज योग द्वारा हम ऐसा करते है की,  आपको संतुलन में लाते हैं। दोनों चीजों को संतुलन में लाया जाता है। एक बार जब वे संतुलन में आ जाएंगे तो आप उसे प्राप्त कर लेंगे।

साधक ४: [UNCLEAR]

श्री माताजी: नहीं, नहीं, नहीं।

सहज योगी: [UNCLEAR]

श्री माताजी: आप देखिए, आपने जो भी जाना है। नहीं, नहीं सुनो, मैं इस सवाल का बहुत सरल जवाब दूंगी। अब, आप जो कुछ भी जानते हैं या किसी भी चीज के बारे में पढ़ते हैं, या खोजे गए हैं, उसने क्या उत्पन्न किया है? इसने क्या उत्पन्न किया है? इसका क्या प्रभाव है? कुछ भी तो नहीं। लेकिन आप खुद देखेंगे कि ऐसा है। यहां तक कि, आप आश्चर्यचकित होंगे, मैं आपको बताऊंगी, मैंने ऐसे लोगों को देखा है जो कभी एक बार बहुत अहंकारी रहे होंगे, ठीक है? लेकिन फिर वे ड्रग्स लेने लगे जो उन्हें बहुत बाईं बाजू ले गई। कई दवाएं हैं, विशेषत: शराब,हैश जैसी चीजें और यह सब, जो आप विकसित करते हैं, एलएसडी नहीं, आपकी बाएं बाजू की तरफ विकसित करना शुरू करते हैं। विशेष रूप से लोग जो अध्यात्मवादियों के पास जाते हैं। उनके पास एक बहुत मजबूत बाएं बाजू का विकास है और बड़ी लड़खड़ाहट चल रही है, आप जानते हैं। यह बहुत ही अस्थिर स्थिति है। कभी ये इस तरफ आता है, कभी ये ऊपर आता है। और बहुत सारे क्रमपरिवर्तन और संयोजन, लेकिन एक सरल तरीके से मैंने आपको बताया है। यह बहुत सारे, बहुत सारे क्रमपरिवर्तन में काम करता है।

साधक ४: [UNCLEAR]

श्री माताजी: नहीं, नहीं। मैंने वह देखा है, लेकिन आप स्वयम देखें। आप जो कह रहे हैं वह आपके खुद के ज्ञान से बाहर है जिसने कोई परिणाम नहीं दिखाया है, लेकिन मैंने ऐसे लोगों को देखा है जो एलएसडी से दाई बाजू में जाते हैं। उनको सुप्रा कांशस प्रभाव होता है। वे रोशनी और अन्य सभी चीज़े देखते हैं। यह सुपर कांशस है। जब आप इसमें गहराई में जाते हैं तो आप स्वयं देखेंगे। आपको खुद देखना चाहिए। जो मैं कह रही हूं वह आपको स्वयं देखना चाहिए। उसके बिना कल्पना नहीं है। मैं यह नहीं कह रही हूं कि जो मैं बता रही हूं आपको कुछ भी मानना होगा। लेकिन आप खुद देख लीजिए। लेकिन अगर आपके पास पिछले विचार, पंद्रहवीं सदी के विचार या ऐसा कुछ है, तो आपके लिए कोई सुधार नहीं है। आज मैं आपके सामने बैठी हूँ, क्या ऐसा नहीं है? उन पंद्रहवीं सदी की बातों को भूल जाओ। बस अब आपको पता होना चाहिए कि मैं आपको कुछ दिखाने के लिए आपके सामने बैठी हूं, जिसे आप खुद देख रहे हैं।साधक ४: [UNCLEAR]

श्री माताजी: क्या है? आपकी क्या सलाह है? वह क्या सुझाव दे रहा है?

साधक ४: [UNCLEAR]श्री माताजी: हाँ। मेरा मतलब है, आप देखिए, आप लोग हैं – कि पश्चिम के बारे में एक बात है – बहुत बेकार की चर्चा में लगते हैं। देखिये, यहाँ तक की सहज योग में भी जब उन्हें बोध प्राप्त होता है। एक भारतीय को , आप देखिए , अगर उसे आत्मसाक्षात्कार हो जाता है, तो वह उसमें प्रवेश करता है। उसे मजा आता है। लेकिन एक पश्चिमी व्यक्ति, आप देखते हैं, उसे बोध हो जाता है, फिर वह इस बारे में सोचना शुरू करता है, वह इस में जाता है, और उसमे जाता है। हे भगवान, वह खुद के लिए ऐसा सिरदर्द है।

श्री माताजी: नहीं, नहीं, कृपया, कृपया। अब, कोलीन, इसे मत संभालो। कृपया बैठ जाओ। कृपया बैठ जाओ। मैं स्थिति को संभालूंगी। नहीं, कृपया नहीं। तुम स्थिति को संभालने के लिए नहीं हो। ये सहज योगी नहीं हैं। तुम देखो, ये पहली बार आए हैं। ये तो तुम जानते ही होंगे। वे महत्व को नहीं समझते हैं। तो आप उनसे कुछ नहीं कहो, हा? कृप्या।

साधक ४: बाएँ बाजू से, दाहिनी ओर जो भी भावनाएँ और अंतर्ज्ञान हैं, वह शरीर का बाईं बाजू है। और फिर मस्तिष्क के बाईं ओर और हम आगे क्या करते हैं [अस्पष्ट] जो कि दाईं ओर जाने के लिए अधिक है। श्री माताजी: वह समझ गया है।वह समझ गया है।

साधक 4: [अस्पष्ट]

श्री माताजी: वह समझ गया है।

साधक ४: [UNCLEAR]

श्री माताजी: सही है।

साधक ४: [UNCLEAR] और इसलिए अधिक तर्कसंगत।

श्री माताजी: बहुत अच्छा। उसने इसे बेहतर समझा। वह सही है। लेकिन आप इन चीजों की चिंता मत करो, मेरे बच्चों। तुम चिंता मत करो आप देखिये, हमें इसे देखना चाहिए, हमें इसे प्राप्त करना चाहिए, हमें वह बनना चाहिए, और इसका प्रयोग करना चाहिए। ठीक है? यह वही है, जो आप देख रहे हैं। यह देखने वाली बात है यह पुस्तक में लिखे गए या कुछ सिद्धांत प्रतिपादित किया जैसा कुछ भी नहीं है । मैं कह रही हूं, “हलवे का प्रमाण इसके खाने में है।” लेकिन, माना की, अगर मैंने खाना पकाने का काम किया है, जैसा कि एक माँ ने किया है, इसमें कोई संदेह नहीं है, लेकिन अगर आप भूखे नहीं हैं, तो आप मुझसे पूछते रहेंगे कि, “आपको यह कहाँ से मिला?” किस सुपर मार्केट से? ” यह सच है। ठीक है। मैं इसे समझती हूँ, लेकिन अगर आपको भूख लगी है, तो आप इसे पा लेंगे। आप इसे प्राप्त करेंगे, मैं आपको बताती हूं। यह ऐसा ही है।

मैं पहले अमेरिका की यात्रा कर रही थी और सौभाग्य से मैं [UNCLEAR] चली गयी और वहाँ एक बहुत प्रसिद्ध चिकित्सक यांग, बहुत प्रसिद्ध चिकित्सक हैं। और उसने मेरे आने के बारे में सुना, तुम देखो। मैं अपना लंच कर रही थी। और यह एक विभाजित-स्तरीय क्षेत्र था जहाँ मैं बैठी थी और मैं अपना दोपहर का भोजन कर रही थी। वह आकर बैठ गया। उन्होंने कहा, “मैं डॉक्टर यांग हूँ। माँ, मैं आया हूँ मैंने कहा “सच?” मैंने अपना दोपहर का भोजन छोड़ दिया। मैं नीचे आ गयी। तो, मेरी परिचारिका ने कहा, “यह क्या है? आपने अपना दोपहर का भोजन छोड़ दिया? ” मैंने कहा, “मेरा बच्चा अब आ गया है, इसलिए भोजन हो गया है,  समाप्त हो गया है। मैंने अपना दोपहर का भोजन ले लिया है। ” उसे आत्मसाक्षात्कार मिल गया। उसे एक मिनट में मिल गया। यह है, यह ऐसा है। मैं जो कह रही हूं जो गुणवत्ता है, वह ऐसी है। वह गुण है। और यह आपका अपना है। आप देखें, बस अपनी सामान्य समझ  देखें। अपने सामान्य ज्ञान का उपयोग करें। देखो, यहाँ कुछ चॉकलेट है, सब ठीक है? यह आपके लिए मुफ़्त है। यदि आप इसे लेना चाहते हैं, तो आपके पास यह होगा। क्या आप बहस करेंगे? लेकिन मुझे लगता है कि हीरा है। और फिर हीरा ही नहीं बल्कि एक हीरा जो अमूल्य है। लोग ऑस्ट्रेलिया से भी आने लगेंगे। क्या वे बहस करेंगे? मैं कहती हूं कि, आज यह वहां है। बेहतर है आप इसे प्राप्त करें । यदि आप भाग्यशाली हैं, तो आप इसे प्राप्त करेंगे। यह आप पर है की अपना भाग्य आजमायें। साधक 3: और फिर, [सुनकर], कहा जाता है कि, जब यह होता है, तो होता है। और  घटनाओं पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं रहता हैं। यह बस भगवान की कृपा है, और मुद्दा बस यही है की इसे कैसे प्राप्त करें, ठीक है।

श्री माताजी: वह बहुत सही व्यक्ति हैं। ठेठ भारतीय। यही अंतर है। जबरदस्त। हाँ। ये ऐसे देश के चैतन्य हैं। मुझे खेद है,लेकिन कहना होगा की ऐसा ही है| हमें मांगना होगा  की,कैसे? माँ चलो इसे प्राप्त करें|  महत्वपूर्ण चीज यह है की हम उसे कैसे प्राप्त करते हैं, “चलो इसे प्राप्त करते हैं ,माँ ,ठीक है? क्या आप सोच भी सकते हैं कि, मैं आपसे अनुरोध कर रही हूं की, केवल आप इसे पा लें ? अपने मन को शांत करो कि, “अब मैं सवाल क्यों पूछता हूँ ?” क्योंकि देखिये,यह मूर्ख मन पागल घोड़े की तरह है। यह आपको चलाना शुरू कर देगा कि, “ओह, मैंने यह महत्वपूर्ण सवाल नहीं पूछा।” इसीलिए मैंने आप को ऐसा कहा है। लेकिन स्वयम को पा जाने से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं है। इसके लिए आपको किसी शिक्षा की आवश्यकता नहीं है। कुछ भी तो नहीं। आपको बस इसे अपने दिल से महसूस करना है कि आप को यह पाना ही है। जैसे ही आप पा लेंगे, आप खुद-बखुद  तुरंत आप इसे समझ जाएंगे। यह ऐसा ही है। यह आसान है।

इसकी इच्छा करने के लिए एक चीज़ हमें अपने अंदर देखना और सामंजस्य बिठाना है कि, हमने अब तक इसे पाया नहीं है। हमारी सारी सोच, हठधर्मिता, तर्कों , और 

 भी अन्य जो कुछ हमने किया है के बावजूद हमें समाधान अभी तक नहीं मिल पाया है। यदि माँ ऐसा कहती है, तो चलो पता लगाएं |

पहली बात है स्वयम अनुभव करना ना कि,कोई अन्य आप को बताये। बस अनुभव करो। अब आपको भूमिका बदलनी चाहिए। तब तुम समझ पाओगे। यहां कोई संसद नहीं चल रही है। ठीक है? जिसमे की आप इस तरह पूछ सकते हैं कि जैसे मैं ही जिम्मेदार हूं, चूँकि आपने मुझे चुना है। नहीं, ऐसा नहीं। कोई है जो आपको उपहार स्वरूप  में कुछ दे रहा है। कोई है जो आपसे बहुत प्यार करता है उसने आपके लिए एक सुंदर भोजन पकाया है और इसे ग्रहण करने के लिए आपसे अनुरोध कर रहा है। यह बहुत अलग बात है। आप अपनी भूमिका बदलें और आप इसे प्राप्त करेंगे। यह अलग मुद्दा है। क्योंकि हमें कभी भी इतना प्यार नहीं किया गया है।कभी हमारे ऊपर  इतना ध्यान नहीं दिया गया। हमने अपना आत्म-सम्मान खो दिया है। किसी ने भी हमारे बारे में इस तरह से नहीं सोचा है। उस भूमिका को बदलें, क्योकि आपको उस ईश्वर को जानना चाहिए कि, जिसने हमें प्रेम, स्नेह, और करुणा में बनाया है । वह [प्रेम] का सागर है। और यह सब आपके काम आने वाला है। चिंता क्यों? यह उसका काम है जो वह आपके लिए करने जा रहा है। बस उसके हाथों में छोड़ दो। चलो देखते हैं कि, अगर यह काम करता है ठीक है? क्या हम ऐसा कर सकते हैं?

अब, सबसे अच्छा बिंदु यह है की,हम इसे कैसे करते हैं,  जो उसने सवाल पूछा है।यह है मुद्दे की बात| हम यह कैसे करते हैं? बहुत आसान। जैसा कि मैंने आपको बताया है, ये उंगलियां हमारे सभी चक्रों का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। इसलिए हमें अपने चक्रों को प्रकाशित करना होगा। हम इस प्रकाश को कैसे प्रज्वलित करते हैं? ऐसा है, बस इसके पास एक प्रज्वलित चीज लाना और यह प्रकाशित हो जाता है। सरल। प्रकाश अपना स्वयम का है, शक्ति अपनी, सारा तेल अपना है, सब कुछ अपना है। इसके पास केवल एक प्रज्वलित प्रकाश आता है, जो इसे प्रकाशित करता है। बस इतना ही।

इस तरह अपने हाथ मेरे सामने कर दो। सरल। कृपया, अपने जूते बाहर निकालें, क्योंकि जूते कभी-कभी प्रवाह को बाधित करते हैं, बस इतना ही। जरा अपने पैरों को जमीन पर सीधा रखें। बस कुछ देर के लिए। सिर्फ जमीन को छूने से आपको मदद मिलेगी। यह बहुत सरल है। तुम सब अपने जूते उतार दो, प्लीज, । क्या आप कृपया इसे निकाल लेंगे?

साधक 3: मैं नहीं कर पाऊंगा मुझे एक समस्या होगी।

श्री माताजी: हा? आप नहीं कर पाएंगे? प्लीज, बाहर निकालो। कृपया, पांच मिनट के लिए बाहर निकालें। यह ज्यादा नहीं है। [हिंदी] जैसा की कहा जाता है कि,गुणी लोग चीजों को बेहतर जल्दी समझते हैं। ये मुनि समझ सकते हैं। उसी तरह, इसे ठुकराने की बजाये इसे समझने की कोशिश करें। यह आपकी भलाई के लिए है। जरा अपने हाथ मेरे सामने कर दो। बस इस तरह। अब, अपनी आँखें बंद करो। मैं आपको जो कुछ भी बताती हूं उसके लिए स्पष्टीकरण देती हूं क्योंकि बिना स्पष्टीकरण के आप सवाल पूछेंगे कि, “अपनी आँखें बंद क्यों करें?” क्योंकि, जब आज्ञा के चक्र में कुंडलिनी उठती है, तो आँख की पुतली का फैलाव होता है, और प्रवाह को सही बनाने के लिए बेहतर तरीका है की अपनी आंखें बंद रखें। पर यह कोई सम्मोहन नहीं चल रहा है कृपया, जरा अपनी आँखें बंद रखें और अपने मन को कहें कि, “तुमने कभी मेरी मदद नहीं की है। अब, कृपया स्वर्ग की खातिर, चुप रहें। ” अपने मन को बताएं कि, “आपने अब तक मेरी मदद नहीं की है। मुझे अपने भीतर चुप रहने दो। ” अपनी आँखें बंद रखें और अपने विचारों को देखें। जैसे ही कुंडलिनी इस बिंदु को पार करेगी आप पाएंगे कि आप कोरे हैं लेकिन आप जागरूक हैं, बिल्कुल जागरूक हैं। आप विचारहीन हैं लेकिन आप जागरूक हैं। और जब कुंडलिनी इस बिंदु को भेदती है तो आप पाएंगे कि ठंडी हवा आपकी ओर बहने लगेगी।

आप में से कुछ लोग पहले से ही जागृत हो सकते हैं। कृपया दोनों हाथों को जमीन पर सीधा रखें। आत्म-गौरव होना चाहिए, आत्म-सम्मान होना चाहिए, और सबसे अधिक अपने आप से प्यार । आप ऐसा इसलिए कर रहे हैं क्योंकि आपको खुद से प्रेम करना है।  खुद की निंदा अब ओर नहीं। कुछ लोग खुद की निंदा करने का फैशन रखते हैं। यह दोषी भाव की आदत रही  है। किसी को पता होना चाहिए कि वह करुणा का सागर है और वह क्षमा का सागर है। ऐसा कुछ भी नहीं है जो कि वह शुद्ध नहीं कर सकता है।