Public Program, Swadishthana Chakra

New Delhi (भारत)

1981-02-06 Swadisthana Chakra New Delhi NITL HD, 56' Chapters: Talk in Hindi, Talk in English
Download video - mkv format (standard quality): Watch on Youtube: Watch and download video - mp4 format on Vimeo: Transcribe/Translate oTranscribeUpload subtitles

Feedback
Share

Public Program, New Delhi (India), 6 February 1981.

[Hindi Transcript]

आपने विनती की है कि हिंदी मे भाषण कीजिएगा बात ये है कि ये तय किया गया था कि इस जगह मे अंग्रेजी मे बातचीत करुँगी अ.. उसकी वजह ये है कि अभी तक हिन्दुस्तान मे अंग्रेजी मे मैंने कहीं भी बातचीत नहीं की और ये जो अतिथि लोग आयें है आज तक मेरा भाषण सुन नहीं पाए इसलिए इनसे कहा था कि यहाँ पर मे मे अंग्रेजी मे बातचीत करुँगी और जब मंदिरों मे आदि या मेरे ख्याल से दिल.. दिल्ली के विद्यापीठ मे भी जो भाषण होने वाले है वो हिंदी भाषा में ही होंगे इसलिए कृपया आप दूसरे भाषणों मे भी आएंगे तो मैं हिंदी मे बातचीत करुँगी आशा हैं आप लोग बुरा नहीं मानेंगे क्योंकि आतिथी है थोड़ा सा इनका भी कभी ख्याल करना चाहिए हालाँकि आप लोग सब थोडा-बहुत तो अंग्रेजी समझते है और मैं कोई ऐसी कठिन अंग्रेजी बोलती नहीं हूँ अगर आपको कोई उसमे प्रश्न हो तो मैं आपको बता दूंगी सिर्फ ये पांच ही लेक्चरस जो है ये मे अंग्रेजी मे देने वाली हूँ इसके लिए क्षमा कीजिएगा ……
कल मैंने आपसे उन सूक्ष्म केंद्रों के बारे में बात की , जो हमारे अस्तित्व के भीतर मौजूद हैं। इसका ज्ञान हजारों वर्षों पहले यहाँ के कई भारतीयों को ज्ञात था, लेकिन उन्होंने इसका खुलासा नहीं किया, दो प्रकार के लोग थे जो प्रकृति की उच्च शक्तियों के बारे में जानते थे। उनमें से एक ऐसे लोग थे जिन्होंने सोचा था कि हम स्वयं प्रकृति को उत्तेजित करने में सक्षम हो सकते हैं, इसलिए वे सभी पाँच तत्वों की पूजा वेद मंत्रों और सभी के माध्यम से करने लगे ,वे पांच मंत्रों को जगाने की कोशिश करते हैं, जिसका परिणाम आज हम देखते हैं कि विज्ञान की अभिव्यक्ति है, कि वे उन पांच तत्वों की ऊर्जा का दोहन करने में सक्षम हैं। दूसरे प्रकार के लोग जो जागरूक हो गए, कि कुछ बल होना चाहिए जो हमें विकास दे रहा है, उन्होंने भक्ति में भगवान की प्रार्थना गाना शुरू किया और भगवान से इस धरती पर अवतार लेने का अनुरोध किया। ये भक्ति मार्गी थे। इसी तरह से यह है कि विराट में, आदि मानव में, दो बल हैं, जैसे कि मनुष्य में हैं। जैसा कि मैंने कल आपको बताया, एक भावनात्मक शक्ति है जो भक्ति है, जो हमें अस्तित्व प्रदान करती है, यही वह बल है जिस पर पूरे ब्रह्मांड की कल्पना की गई थी, वह वांछित था, और हमारी सहजयोग शब्दावली में इसे महाकाली शक्ति कहा जाता है।