Mahashivaratri Puja: What makes Mother pleased?

New Delhi (भारत)

1982-02-20 Mahashivaratri Puja Talk, New Delhi, DP-RAW, 34' Download subtitles: CS,EN,IT,JA,LT,RO,RU,TRView subtitles:
Download video (standard quality): Download video (full quality): View and download on Vimeo: View on Youku: Listen on Soundcloud: Transcribe/Translate oTranscribe

Feedback
Share

                                              महाशिवरात्रि पूजा

 नई दिल्ली, भारत, फरवरी, 20, 1982

आज वह दिन है जब हम महाशिवरात्रि मनाते हैं। एक महान दिन है, या हमें कहना चाहिए महान रात। यह पूजा रात में होनी चाहिए थी। एक महान रात है जब शिव इस धरती पर स्थापित हुए थे। क्योंकि उस तरह शिव अनादि हैं। तो, कोई यह कहेगा कि, “शिव क्यों?” शिव के जन्मदिन की तरह आप कह सकते हैं या कुछ और, “यह कैसे हो सकता है?”, क्योंकि वह शाश्वत है, वह हर समय वहां है।

तो, आज का उत्सव जो दर्शाता है, वह है इस धरती पर शिव की स्थापना। पदार्थ में स्व। हर तत्व एक देवता के साथ बनाया गया है और उस देवता को उस तत्व में स्थापित किया गया है, जैसा कि आप जानते हैं। इसलिए, जब आदि शक्ति ने सोचा था कि पहले हमें शिव की स्थापना करनी चाहिए; शिव के बिना आप कुछ भी स्थापित नहीं कर सकते। पहले, वह स्थापित होना है, क्योंकि वह निरपेक्ष है। तो आपको शिव की स्थापना करनी होगी।

और अब हमें क्या करना चाहिए? उनकी स्थापना कैसे करें? वह तमो गुण के देवता हैं। वह शीतल है, वे जो कुछ भी निष्क्रिय है उनका भगवान है। इसलिए सबसे पहले, यह पृथ्वी, जब यह सूर्य से निकली, जो बहुत गर्म थी, चंद्रमा के बहुत करीब ले जायी गई थी। चंद्रमा शिव के साले हैं। इसलिए इसे चंद्रमा के इतने पास ले जाया गया कि पूरी पृथ्वी बर्फ से ढक गई। और फिर इसे धीरे-धीरे सूर्य की ओर बढ़ाया गया। जब इसे धीरे-धीरे सूर्य की ओर ले जाया गया, तब यह पिघलने लगा। और वह बिंदु जहाँ की बिलकुल पिघलना नहीं होता उस स्थिति पर  शिव की स्थापना होनी थी।

वह पूर्व निर्धारित था, वह स्थान और वह स्थान कैलाश है। वहां बर्फ कभी नहीं पिघलती है और अगर आप देखते हैं तो पूरा पहाड़ शिव के चेहरे की तरह है – आंखें, नाक और हर चीज़ आप स्पष्ट देख सकते हैं वह स्पष्ट रूप से बाहर निकल रहा है – और पूरे वर्ष, यह अपने आकार को बनाए रखता है।

इसी से शिव की उत्पत्ति हुई। और उन्हें एक साक्षी अवस्था में रखा गया था, इस ब्रह्मांड पर होने वाली सभी घटनाओं के दर्शक के रूप में, ब्रह्मांड की कुंडलिनी की ओर, जिसका वे भारत में जगह बनाने जा रहे थे। इसलिए उनका मुंह दक्षिण की ओर है।

वह दक्षिण की ओर दोनों हाथों को इस प्रकार से किये हुए देख रहा है, जैसे कोई दर्शक आदि कुंडलिनी का तमाशा देख रहा हो। इसी प्रकार से शिव की उत्पत्ति हुई। इसलिए, हालांकि हम कहते हैं कि ब्रह्मांड का दिल इंग्लैंड है, फिर भी शिव सहस्रार के शीर्ष पर रहते हैं: यह आसन seat है।

जैसे आपको अपने सिर के ऊपर शिव का आसन मिला है, लेकिन वह आपके हृदय में रहते है, उसी तरह, शिव इस स्थान से संबंधित हैं और वे इस स्थान से पूरे शरीर को देखते हैं,  इसलिए पैर दक्षिण हैं , यह (सहस्रार) उत्तर है, यह पश्चिम है,  (दाहिना हाथ), और यह पूर्व (बाएं हाथ) है। इस तरह से हम ब्रह्मांड का पूरा नक्शा देख सकते हैं, जो दुनिया का बनाया हुआ है। तो अब…

 आप बस बैठ सकते हैं। (योगी: बैठो।) बैठ जाओ, बैठ जाओ। उठो मत मेरा व्याख्यान सुनो। अब तस्वीरें मत लो। आपको मेरा व्याख्यान ध्यानपूर्वक सुनना चाहिए। ध्यान अवस्था में आपको मेरी बात सुननी चाहिए। आपको मेरा पूरा उपयोग करना चाहिए, क्या यह नहीं है? आपको ध्यानमग्न होना चाहिए। तब आप मुझे बहुत स्पष्ट रूप से सुन सकते हैं, आपको परेशान नहीं होना पड़ेगा। आपको ध्यान में रहना होगा।]

सहज योगी: तो, यह दक्षिण है।

श्री माताजी: तो आप साक्षी के रूप में दक्षिण की ओर मुंह कर रहे हैं। अभी अभी, किसी ने मुझे बताया कि दक्षिण में लोग अपना सिर दक्षिण की ओर रखते हैं और अपने पैर उत्तर की ओर रखते हैं, मेरा मतलब है, कल्पना करो। पैर शिव की ओर रखे जाते हैं, जो उत्तर दिशा में है। कैलाश उत्तर में है, क्या यह नहीं है? यह दक्षिण में नहीं है। तो अपने पैर उत्तर की ओर क्यों रखें? मेरा मतलब है, किसी को तर्क का उपयोग करना चाहिए।

इन ब्राह्मणों ने आपको ये सारी कहानियाँ बताई हैं और आप इसके विपरीत काम कर रहे हैं जो कि नहीं किया जाना चाहिए। कभी-कभी मुझे लगता है, “भगवान ही इस देश को ब्राह्मणों से बचायें।” वे अब हर जगह हैं: वे हमारे शासक हैं, वे हर जगह हैं, और उन्हें पता नहीं है कि ब्रह्म क्या है। यदि वे असली ब्राह्मण हों, तो मुझे यकीन है कि एक दिन, असली ब्राह्मण इस देश के प्रभारी होंगे। तो अब, जब हम समझते हैं कि शिव पहली बात है जो पदार्थों में स्थापित किये गए है, तब हम में भी पहले शिव की स्थापना होती है। जब भ्रूण अपना रूप ले लेता है, तो हृदय में धड़कन शिव की स्थापना है। यही संकेत है कि शिव की स्थापना की गई है।

उन लोगों के मामले में जो हृदय रोग या उसकी तकलीफ के साथ पैदा हुए हैं, कहा जा सकता है कि शिव पूरी तरह से स्थापित नहीं हैं। ऐसा नहीं है कि वे बुरे लोग हैं, लेकिन वे लंबे समय तक रहने वाले नहीं हैं, और हो सकता है कि उन्हें बाद में एक दूसरा ही हृदय देना पड़े, या यह कि हो सकता है कि,उनके पिछले जीवन में किसी तरह की समस्या रही हो , और यदि वे शिव तत्व पर ध्यान देते हैं , उनके हृदय का उपचार हो सकता है।

तो, शरीर में सबसे महत्वपूर्ण अंग हृदय है। यदि हृदय विफल हो जाता है, तो आप इस पृथ्वी पर नहीं रह सकते। तो, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप अपने शिव तत्व पर ध्यान दें। हम हर तरह की सांसारिक चीज़ से चिंतित हैं। इस बारे में चिंतित, उस बारे में चिंतित हैं, लेकिन हम अपनी आत्मा के बारे में चिंतित नहीं हैं। यह हमारे साथ सबसे बड़ी समस्या है। यदि आप अपनी आत्मा के बारे में चिंता करते हैं, यदि आप अपनी आत्मा पर ध्यान देते हैं, तो पूरा ब्रह्मांड परब्रह्म के साथ स्पंदन करता है, जो आनंद के अलावा और कुछ नहीं है। इसलिए आत्मा की तरफ चित्त किये बिना अगर आपको लगता है कि, आप जीवन का आनंद ले सकते हैं, तो आप नहीं कर सकते।

यदि आप अन्य निरर्थक बातों पर ध्यान देते हैं और आप चित्त आत्मा पर नहीं देते हैं तो आप अपने जीवन का आनंद नहीं ले सकते। पूर्ण मौन आत्मा के माध्यम से ही हमारे अंदर आता है। यदि हमारे भीतर आत्मा जागृत हो जाती है, तो यह मौन काम करना शुरू कर देता है और आप अपने आप को बहुत आराम में तथा स्वयं से पूरी तरह एकाकार महसूस करते हैं।

कोई समस्या नहीं रहती है, आप उन अन्य चीजों की तलाश नहीं करते हैं जो आम तौर पर लोग चाहते हैं – आप अपने स्व की संगत चाहते हैं और आप खुद के साथ ही कुछ समय चाहते हैं। केवल एक चीज जो आप अपनी आत्मा को खोजने के बाद चाहते हैं वह है उन अन्य सहज योगियों की संगती जिन्होंने आत्मा को भी पाया है, इसलिए हृदय स्थित आत्माओं के बीच एक तालमेल स्थापित किया गया है। और हमारी आत्मा जो सार्वभौमिक है वह हमारे अंदर है, जिसके बारे में मैंने आपको बताया है कि एक बार जब आप आत्मा के साथ एकाकार हो जाते हैं, तो आप स्वतः ही सार्वभौमिक रूप से सचेत हो जाते हैं।

शिव,शिव के सिद्धांत के शिव तत्व  के बहुत सारे गुण हैं, जो मुझे आपको बताने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन आज मैं आपको एक और आयाम बताऊंगी, जिसे मैंने अभी तक स्पर्श नहीं किया है, शिव तत्व के बारे में।

शिव तत्व  का भौतिक पक्ष यह है कि ऐसा व्यक्ति अधिक शीतल स्वभाव का व्यक्ति होता है। इस अर्थ में, कि ऐसा व्यक्ति गर्म वायब्रेशन देने वाला व्यक्ति नहीं है, लेकिन जिसके पास बहुत अधिक चैतन्य होता है | कभी-कभी, असंतुलन में होता है, इसका ओवरडोज करता है, एक प्रकार का स्वभाव विकसित करता है जो बेहद ठंडा हो सकता है। इसके साथ निम्न रक्तचाप हो सकता है, उलटी-दस्त भी हो सकता है,  बहुत अधिक आध्यात्मिक शक्ति के साथ दस्त भी मिल सकता है।

और बाईं ओर होने के कारण प्रेम पक्ष पर भी हो सकता है। चूँकि बाईं ओर कफ है जैसा कि आप इसे कहते हैं, कफ कफ है जो बलगम अधिक है। क्योंकि बाईं ओर अधिक है, ऐसे व्यक्ति हमेशा सर्दी को पकड़ने के लिए उपयुक्त होते हैं और सर्दी की समस्या होती है। तो, ऐसे व्यक्ति को खुद को जुकाम और इस तरह की चीजों में जाने से बचाना है, और काम करने के तरीकों को सहज योग के माध्यम से सीखना है।

लेकिन इसे एक संतुलन देने के लिए, आत्मा स्वयं स्वास्थ्य समस्याओं से परे है। लेकिन हमेशा आत्मा के बारे में सोचने वाले लेफ्ट साइड व्यक्ति भी एक-तरफा हो सकते हैं। जब उसे इस धरती पर रहना है, तो उसे एक संतुलित व्यक्ति बनना होगा। इसलिए उसे दूसरे पक्ष में ले जाना है और वह पक्ष है,अपने भीतर आध्यात्मिक विकास की गतिविधि।

जो व्यक्ति आध्यात्मिक रूप से बहुत विकसित है, वह इस पृथ्वी पर शिव तत्व के रूप में मौजूद नहीं रह सकता है। उसे एक संतुलित व्यक्तित्व के रूप में मौजूद रहना होगा। और जब वह उस संतुलन को अपने भीतर विकसित करना शुरू करता है, तो आत्मा उसके हृदय से उठने लगती है और उसके सिर के ऊपर चली जाती है।

तो यह दूसरा चरण है जहां किसी व्यक्ति को जाना होता है। यहाँ पूरी सामूहिकता है (श्री माताजी उनके सहस्त्रार को छूती हैं)। इसलिए जब आप अपने मध्य तंत्रिका तंत्र में अपने प्यार और स्नेह को ले कर अपने सर के उपर रखते हैं,अर्थात जैसे ही आप इसे अपने विराट में डालते हैं, जब यह आपकी विराट शक्ति यानी सामूहिक अस्तित्व के माध्यम से फैलने लगता है, तभी आप एक संपूर्ण व्यक्तित्व हैं।

अन्यथा, आप शिव तत्व हैं – शिव तत्व मौजूद है चाहे यह ब्रह्मांड मौजूद हो या नहीं। यह तब भी मौजूद है जब पूरा ब्रह्मांड विद्यमान है; या यहां तक ​​कि, यह समाप्त हो जाता है, यह सब उस चुंबक में, उस शिव तत्व में चला जाता है। तो एक व्यक्ति जिसे आध्यात्मिक ललक है, उसे यह जानना चाहिए कि आपके शिव को हृदय के स्तर से ऊपर उठाने के लिए, सहस्त्रार के ऊपर निर्लिप्त रूप से विद्यमान रहने के लिए क्रमशः उसे उतना उन्नत करना होगा जहां एक पूर्ण संतुलन है, पूर्ण संतुलन।

मैंने सहज योग में बहुत से लोगों को देखा है, वे बहुत ही प्यारे, अच्छे, बहुत प्यारे व्यक्ति हैं। जैसे दिल्ली में,मैं कहूँगी लोग इतने कठोर नहीं हैं जैसे की बम्बई में । बंबई के लोग कठोर हो सकते हैं, पुना के लोग भी थोड़े कठोर हैं। लेकिन बॉम्बे और पुना के लोग गहरे हैं। कारण यह है कि उन्होंने खुद को थोड़ा संतुलित किया है, और वे अपनी दिल की भावनाओं से ऊपर उठे हैं, जैसे हमदर्दी, आप देखिए। “किसी के लिए निर्दयी मत बनो, किसी के लिए कुछ भी कठोर मत कहो,” कभी-कभी बहुत मज़ेदार भी हो सकता है।

कल की तरह, मैं उस जगह पर सो रही थी जहाँ आप हमेशा सोते हैं। अब अगर मैं किसी भी बॉम्बे या पुना केंद्र में होती, कहीं भी, आपको कोई भी आवाज, कहीं भी, कुछ भी सुनाई नहीं देती। एक शेर की तरह, आप देखते हैं, जैसे एक जंगल में एक बाघ है, कोई भी अन्य आवाज सुनाई नहीं देगी। अगर कोई बाघ है, तो आप जान सकते हैं क्योंकि मीलों तक कोई आवाज़ सुनाई नहीं देती है, इतना सन्नाटा होता है|

लेकिन अगर मैं दिल्ली में हूं, तो हर कोई बात कर रहा है: कोई व्यक्ति पैसे के बारे में बात कर रहा था, यह, कि, हर तरह की बकबक चालू थी, यहां तक ​​कि विदेशी सहज योगी भी दिल्ली सहज योगी जैसे बन गए थे। वे सब इतनी बातें कर रहे थे, मैं हैरान थी। वे किस तरह यहाँ इतनी बातचीत करने लग गए ? सब बातें कर रहे थे, चपर-चपर ।

इसके विपरीत, अगर मैं वहां सो रही हूं, तो आप सभी को ध्यान में रहना चाहिए,बैठ कर ध्यान करना चाहिए। इसके बजाय हर कोई हर संभव निरर्थक वार्ता में व्यस्त था, जैसे कि उनके पास बात करने का कोई और मौका नहीं है। और वे सब बकबक कर रहे थे चप-चप मुझे नहीं पता कि मुझे क्या कहना चाहिए था और मुझे बिलकुल पता नहीं था कि मुझे क्या करना। यही तो।

लेकिन यह वही है जो किसी को पता होना चाहिए, कि जहाँ तक और जब तक आप अपने हमदर्दी के दृष्टिकोण से उपर नहीं उठते  हैं – जैसे कि आप किसी को कुछ बताते हैं, “मुझे इस व्यवसाय में ऐसी समस्या है”, माना की इस तरह का उदाहरण। मेरा मतलब है, क्या फ़ालतू ही विषय है, लेकिन कोई बात नहीं ।

यदि आप इस तरह शुरू करते हैं, “मुझे इसके साथ एक समस्या थी”, एक अन्य व्यक्ति कहेगा, : “हाँ, मुझे भी थी  …”, आप हमदर्दी देखिये | “मुझे भी ऐसी समस्या थी, ये लोग बहुत बुरे हैं, ऐसा हुआ, उसे भी वही समस्या थी”, वैसी ही बातें । आप देखिये, वे सभी उन चीजों के बारे में बात कर रहे हैं जो सहज योग के लिए अप्रासंगिक हैं।

 जब मैं वहां उपस्थित होऊं तब तो आपको सहज योग के लिए भी बातचीत नहीं करनी चाहिए । मुझे आप सभी से विनम्र निवेदन करना है – कि जिस तरह से आप लोग कभी-कभी व्यवहार करते हैं वह अच्छा नहीं है और सहज योग के लिए सुसंगत  नहीं है। यहां तक ​​कि मेरे सामने अपना मुंह खुला रखना भी अच्छी बात नहीं है। लेकिन मैं आपको इस तरह के विवरण में नहीं बताना चाहती, लेकिन यह बहुत सी बातें हैं जो आपको अपने शिव तत्व को अपने हृदय से उपर उठाने से पहले सीखना होगा।

आप लोगों को खुश करने में अच्छे हैं, आयोजन में आप उत्कृष्ट हैं, आप बहुत अच्छी तरह से व्यवस्थित करते हैं, कोई झगड़ा नहीं है। बॉम्बे में सहज योगी काफी झगड़ते हैं और यहां तक ​​कि पूना सहज योगी भी झगड़ालू हैं।

लेकिन मुझे कहना होगा, पुना सहज योगी बहुत गहरे हैं, और बंबई सहज योगी बहुत गहरे हैं। व्यक्तिगत रूप से, उन्होंने कुछ हासिल किया है। अब उन्हें इससे भी आगे जाना है, फिर से, थोडा सा हृदय में जाना है। उस प्रकार के अहसास के लिए उन्हें दुसरा झुकाव रखना होगा। क्योंकि अन्यथा, वे लोगों के साथ बहुत सख्त हैं। लेकिन आप देखते हैं, निश्चित मात्रा में सख्ती स्वीकार की जानी है। उदाहरण के लिए, अगर किसी को कहा जाता है, “माँ के पैर मत छुओ”, तो बहुत बुरा लगता है। लेकिन यह माँ के बारे में बहुत ही सांसारिक प्रकार की समझ है ।

अगर वह कहती है, “मेरे पैर मत छुओ”, तो आप से उम्मीद की जाती है की आप वैसा ही करेंगे। आपको वही करना होगा जो मुझे खुश करेगा, न कि वह जो आपको खुश करे। इसलिए आपको अपना चित्त सभी लोगों को खुश करने की प्रवृति से हटा लेना चाहिए। कुछ लोग कहते हैं कि माँ, “जो लोग पहली बार आते हैं, उन्हें हमें यह नहीं कहना चाहिए”। तुम्हे अवश्य कहना चाहिए! कुछ बातें तो आपको उनसे अवश्य कहनी चाहिए। अन्यथा, आप मुझे अप्रसन्न कर देंगे;जो कि समस्याओं का कारण होगा!

लेकिन जब आप दूसरों से कहते हैं, तो आपको पुना और बॉम्बे के लोगों की उनकी विशेष मराठी भाषा की तरह चलने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन इसे उचित उर्दू शैली में कहें, ताकि लोग बुरा नहीं माने। लेकिन आपको यह कहना ही होगा! आपको उन लोगों को मेरे सिर पर नहीं रखना चाहिए; इसके बजाय, आपको उन्हें इस तरह से बताना चाहिए कि लोग सही रहें ।

इसलिए, स्वयं में गहराई से जाने के लिए, आपको व्यक्तिगत ध्यान और सामूहिक भी करना चाहिए। मैं यह नहीं कहूंगी कि दिल्ली में सभी सहज योगी ऐसे ही हैं, लेकिन … हम आयोजन में बहुत अच्छे हैं, जो हमारे बॉम्बे सहज योगियों और इन पूना सहज योगियों को सीखना चाहिए। वे आपस में झगड़ते हैं और मैं सचमुच तंग आ गयी हूं। और वे एक-दूसरे के साथ घटिया तरीके से पेश आते हैं, जोकि मुझे पसंद नहीं है। लेकिन व्यक्तिगत रूप से वे सभी सही हैं, इसलिए वे व्यक्तिवादी बन जाते हैं। कुछ लोग व्यक्तिवादी हो जाते हैं और कुछ लोग प्रचारक बन जाते हैं: प्रचारक ,आप देखिए, वे जनता को खुश करते हैं, अब ये दोनो अति हैं।

सहज योगी को क्या करना चाहिए? उन्हें मदर एडिक्ट बनना होगा। (हँसी)। उन्हें वही करना चाहिए जो आपकी माँ को पसंद है। क्या आप समझे? जनता को खुश करने की जरूरत नहीं है ना ही व्यक्ति को खुश करने की जरूरत है, लेकिन वह करें जो आपकी मां को पसंद आए। यह एक बहुत ही साधारण बात है जो आदि शंकराचार्य ने आपको बताई है कि, “बस माँ को प्रसन्न रखें”। लेकिन कोई भी इस का  अध्ययन नहीं करता है। अध्ययन करने की कोशिश करो कि, “माँ को क्या,प्रसन्न करता है?” तब आप देखेंगे कि, मैं बहुत आसानी से प्रसन्न होती हूँ, आप एक शिव तत्व की तरह देखें। (हँसी) भले ही आप गलतियाँ करते हों, तीन बार आप अपने कान खींचते हैं, तो यह सब ठीक हो जाता है (हँसी)। लेकिन इसके साथ बहुत आगे तक नहीं जाना चाहिए। आप जाने कि, आपके द्वारा की गई गलतियाँ सब ठीक हैं, लेकिन इसे हलके में ना लें कि आप गलतियाँ कर सकते हैं। क्योंकि आपको वास्तव में एक बड़ी ढील मिलती है, लेकिन अंततः आप ही अपने आप को लटकाएंगे, क्या ऐसा नहीं है? तो दी गयी ढील से डरें अन्यथा, यही आपको बहुत अच्छे  तरीके से लटकाएगी ।

तो किसी को यह समझना होगा कि आपको सार्वजनिक मत या खुद की मान्यता की लत नहीं होना चाहिए। दोनों बातें गलत हैं। आपको इस तरह से व्यवहार करना चाहिए कि यह मेरे भीतर सभी देवताओं को खुश करे। जहां तक ​​मेरा संबंध है, मेरा अस्तित्व नहीं है, मेरा कोई अस्तित्व नहीं है। वास्तव में, मेरा विश्वास करो, मेरा कोई अस्तित्व नहीं है, मैं सिर्फ … , आप कह सकते हैं यह बहुत सारे अस्तित्वों का एक संयोजन है।

अन्यथा, मेरा अस्तित्व नहीं है, मैं स्वयं को इस शरीर में कहीं भी, कहीं भी नहीं पाती; मैं स्वयं को ब्रह्मांड में कहीं भी नहीं पाती हूँ। मैं कहीं नहीं हूँ, मुझे कभी-कभी लगता है, “यह सब क्या है? मेरा नहीं है, मेरे लिए सब विदेशी है। ” लेकिन फिर भी, मैं इसमें शामिल हो जाती हूं, इसका आनंद लेती हूं, इसके साथ रहता हूं, लेकिन मैं इसमें नहीं हूं, कहीं नहीं।

इसलिए, यदि आप केवल यह समझने की कोशिश करते हैं कि आपकी माँ को क्या पसंद है, तो आप अपनी गरिमा विकसित करेंगे क्योंकि मैं चाहती हूँ कि आप गरिमामय रहें; यह तुम्हारा आनंद विकसित करेगा क्योंकि मैं चाहती हूं कि तुम आनंदित रहो; यह आपको अपने भीतर अधिक चैतन्य प्राप्त करने की अधिक क्षमता प्रदान करेगा क्योंकि यही मैं दे रही हूं।

जो कुछ भी आपके लिए अच्छा है, अगर आप ऐसा करते हैं, यह मुझे प्रसन्न करेगा। लेकिन जो मुझे लगता है कि आपके लिए अच्छा है, शायद आप नहीं सोच सकते हैं; आपके अपने विचार हो सकते हैं, फिर से व्यक्तिवादी या सार्वजनिक रूप से हो सकते हैं। जैसे मैंने आपसे कहा था कि, “कृपया, शाम 7 बजे से पहले मेरे कार्यक्रम की व्यवस्था न करें।” तब आप कह सकते हैं, “यह हमारी जनता के अनुकूल नहीं है।” यह महत्वपूर्ण नहीं है: यह मेरे लिए अनुकूल नहीं है यही मुख्य बात है।

क्योंकि मेरे निश्चित वक्त हैं केवल तभी वास्तव में मैं बहुत अच्छी हो सकती हूं। उक्त समय मुझे किसी और को देना है, तय है! इसलिए आप मेरे समय को अपने अनुसार निश्चित नहीं करें। सुबह 11 बजे से पहले का समय निश्चित नहीं होना चाहिए। प्रातः काल आप निश्चित करते हैं, पाँच बजे ठीक करते हैं, तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है। मेरे पास कुछ निश्चित वक्त हैं जो मुझे किसी अन्य उद्देश्य के लिए उपयोग करना है। इसलिए आपको यह समझना होगा कि मुझे जो भी सूट करता है वही आप को निश्चित करना चाहिए , क्योंकि वह आपके अच्छे के लिए भी है, क्योंकि सबसे फायदेमंद हैं।

मैं आपको केवल अपनी तरकीबें बता रही हूं ताकि आप मेरा अधिक लाभ उठाएं। लेकिन वे इस बात पर जोर देते हैं कि जो लोग कार्यालय जा रहे हैं वे नहीं आ पाएंगे – ऐसे लोगों को बिल्कुल नहीं आना चाहिए! अगर कोई फिल्म 7 बजे की है, तो वे उस फिल्म पर जाएँगे या नहीं? फिर आपको अपनी माँ को इतना सस्ता क्यों बनाना चाहिए कि यह उनकी सुविधा के अनुकूल हो?

यदि लोग कम ही हैं, तो यह हमारे लिए और भी बेहतर है: हमारे पास परमात्मा के राज्य में बेहतर आवास मिलेंगे | तो मुझे सस्ता मत करो! अपनी माँ की गरिमा को ध्यान में रखते हुए, मुझे मुझे सस्ता नहीं करने की बात समझना चाहिए।

जो भी हासिल किया जाना है, मैं मानती हूं, कि सभी भाइयों और बहनों की मदद की जानी चाहिए, सभी जनता की मदद की जानी चाहिए, लेकिन देखिये,अन्यथा हम कचरे (सूक्ष्म गंदगी) से छुटकारा नहीं पा सकते हैं। बहुत सारी चीजें हैं जो सिर्फ फेंक दिया जाने के लिए है। इसलिए हमें कचरे वाले भाग की चिंता नहीं करनी चाहिए। हम वो रखेंगे जो भी सबसे अच्छा है, लेकिन उसे पाने के लिए भी किसी को कठोर नहीं बोलना चाहिए। फिर से मैं कहूंगी कि कठोर शब्दों का प्रयोग न करें।

जिस तरह से, “बाहर निकलो, बाहर निकलो, बाहर निकलो!”, इस तरह से किसी को बात नहीं करनी चाहिए। अपनी भाषा बदलें। आपको खुद को शिक्षित करना चाहिए कि कैसे लोगों से नरम तरीके से, उचित तरीके से बात करें। यह सहज योग के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यदि आप अपमान करते रहते हैं, तो शायद आप किसी संत का भी अपमान कर सकते हैं! तो आपको तरीका ऐसा नहीं रखना चाहिए।

इसे समझें, और अपने व्यक्तित्व को इतना सक्षम बनाने का प्रयास करें कि जब आप जनता के पास जाएं, तो आप सही दृष्टिकोण, सही अवधारणा, सही आचरण, सही व्यवहार और सही ज्ञान सामने रख सकें। यहाँ मेरा मतलब तर्कसंगत रूप से सही का नहीं है, बल्कि जो पूर्ण सही है।

शिव पूर्ण हैं, वह पूर्ण ज्ञान के दाता हैं, वे जानते हैं कि मुझे क्या भाता है। जिस पल कुछ ऐसा होगा जो वास्तव में मुझे निराश करेगा, वह शो को बंद कर देंगे । वह सिर्फ मुझे खुश करने के लिए यह देख रहे है। जिस क्षण वह पायेंगे कि यह काम नहीं कर रहा है, वह पूरा शो बंद करेंगे और वह कहेंगे, “चुप रहो, समाप्त हो गया”।

इसलिए, यद्यपि मैं कह सकती हूं कि दर्शक शिव है, लेकिन वह सिर्फ न्यायाधीश है, और वह उन चीजों को देखते है, इसलिए सब सही होने की कोशिश करें।  मैं शिव को प्रसन्न करने के लिए एक अच्छा प्रदर्शन करने की कोशिश करती हूं ताकि वह वहां बने रहे, और इस अनिश्चित ब्रह्माण्ड को एक अच्छी चंचल चीज बनने दें जिसमें आप उस शाश्वत जीवन को प्राप्त करें और  उसे प्राप्त करें जिसका कि वादा किया गया है। लेकिन व्यक्ति को यह समझना होगा कि माँ को क्या पसंद है।

कुछ लोगों को हर समय सीधे मुझे देखने की आदत होती है: ऐसा करना ठीक तरीका नहीं है! अपनी आँखें नीचे रखो। हर समय, बस आप मुझे घूर नहीं सकते, यह मूर्खता है! मूर्खता के अलावा, यह मुझे प्रसन्न नहीं करेगा। अगर मैं आपको हर समय घूरने लगूं तो क्या यह आपको खुश करेगा? मैं आपको घूरती नहीं हूं, मैं हर तरह की चीजें करके आपको खुश करने की कोशिश करती हूं: आप मुझसे कुछ सीख क्यों नहीं लेते, मैं आपको कैसे खुश करने की कोशिश करती हूं?

बेशक, आप इन सभी चीजों को नहीं कर सकते, मुझे पता है, क्योंकि कोई कहता है, “माँ, हम वहाँ गए थे, एक घर हमें दिया गया था, यह, वह।” इसके अलावा, आप मेरे लिए स्वयं को प्राप्त नहीं कर सकते, क्या ऐसा नहीं है? अगर मुझे कोई कठिनाई है, तो आप मेरी कठिनाई को हल नहीं कर सकते, क्या ऐसा नहीं है? लेकिन मैं आपकी कठिनाइयों को हल कर सकती हूं; इसलिए मैं आपको बहुत आसानी से खुश कर सकती हूं क्योंकि मेरे पास आपको प्रसन्न करने के बहुत सारे तरीके हैं।

 केवल एक चीज है, जो भी तरीके हों, उनके द्वारा पक्के तौर पर किसी को भी अप्रसन्न नहीं होना चाहिए। आप कुछ विशेष नहीं करते हैं, लेकिन कुछ असाधारण नहीं करें ताकि अप्रसन्नता हो। यदि आप इस सरल बात को समझते हैं, तो ऐसा कुछ भी करने की कोशिश न करें जो अप्रसन्नता उत्पन्न कर दे, आप मुझे खुश करें। यह बहुत सरल है। आपको कुछ अतिरिक्त करने की ज़रूरत नहीं है, बस प्यार, स्नेह, सम्मानजनक होने की कोशिश करें, और मुझे इस सब से बहुत खुशी होगी। वैसे भी मैं अति प्रसन्न हूं, मैं आपसे बहुत खुश हूं। लेकिन मुझे आपको यह बताना होगा कि किसी को क्या हासिल करना है, और कैसे किसी को इन चीजों से ऊपर जाना है।

इसलिए, अब दिल्ली के लोगों के लिए दिल से सहस्रार तक उत्थान करना आवश्यक है। और बॉम्बे और पुना के लोगों के लिए हृदय पूर्वक  … सहस्रार से दिल तक जाना जरूरी है। मैं कहूंगी, राहुरी के लोग बीच में हैं। राहुरी के लोग बीच में हैं। वे बहुत अच्छे आयोजक हैं, और वे मेरे लिए समस्याएं पैदा नहीं करते हैं, जहां तक ​​व्यक्तियों का संबंध है। इसलिए मुझे लगता है कि राहुरी शायद एक जगह है, शायद यह मेरा मक्का है, कि यह कितना अच्छा है , चाहे कुछ भी हो।

लेकिन हम सब ऐसे हो सकते हैं। हम सभी परिवर्तित हो सकते हैं और एक दूसरे को बता सकते हैं और खुद को सुधार सकते हैं और शिक्षित कर सकते हैं।  अगर हम वास्तव में खुद से प्यार करते हैं, और हमारे विकास की देखभाल करते हैं तो यह सब ज्ञान हमारे पास आ सकता है। अगर हमें वास्तव में इसकी परवाह है, तो हमें इसके बारे में ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है।

धीरे-धीरे, ये सभी चीजें कार्यान्वित होंगी और संतुलन स्थापित किया जा सकता है। जो लोग बहुत ज्यादा बात करते हैं, उन्हें इतनी बात नहीं करनी चाहिए। मुझे क्या लगता है कि जब आप बहुत बात करते हैं, फिर जब आप रुकते हैं, तो आप बस रुक जाते हैं। यह मध्य में होना है: जब यह आवश्यक हो तब आपको बात करनी चाहिए, जब यह आवश्यक नहीं है तो आपको बात नहीं करनी चाहिए।

तो, धीरे-धीरे आप सहज योग के साथ उस तरह का व्यक्तित्व विकसित कर सकते हैं, कि आप उस विवेक को विकसित करेंगे कि कहाँ तक जाना है, कहाँ तक नहीं जाना है। न जाना शिव का गुण है। वह कुछ भी नहीं करते हैं, वह बस वहीं बैठ कर पूरे मजाक को देख रहे है। वह कुछ नहीं करते है, लेकिन फिर भी वह वही है जिसे देखना है: यदि वह नहीं देखते है, तो पूरा शो खत्म हो जाता है।

यदि आप समझते हैं कि कुछ नहीं करने में, वह कितना कर रहे है! इसके विपरीत देखें: एक प्रकार से वह कुछ नहीं कर रहे हैं । लेकिन उनको प्रसन्न करने के लिए, हर कोई नृत्य कर रहा है। उसी तरह, एक बार में आप के पास दोनों स्वभाव हैं: सहज योगी के रूप में आप एक संतुलित व्यक्तित्व प्राप्त कर सकते हैं। यह आपके अच्छे के लिए है, आपके उत्थान के लिए है, आपके विकास के लिए है।

इसलिए आज, आप सभी के पास इस शिव तत्व को अपने भीतर व्यक्तिगत रूप से विकसित करने का एक बड़ा मौका है, जो अंततः पूरे में व्याप्त हो जाता है।

कबीरा ने इसे एक खूबसूरत दोहे में कहा है, मुझे नहीं पता कि क्या आप लोग समझे हैं। यह है:  “मन ममता को थिर कर लूँगा”। “मेरे हृदय की करुणा को मैं चैतन्यित कर लूँगा, मैं इसे बाहर लाऊंगा;  “और पांचो तत्व मिलाऊंगा “, और इसे पांच तत्वों में मिला दूंगा। “

देखें कबीरा, क्या आप उसका अनुसरण करते हैं कि वह कितना महान है? लोग कबीर दास के बारे में बात करते हैं, देखिए, वह कहते हैं कि, “इसे दिल से निकालो और इसे सभी पांच तत्वों में डाल दो।” यही सहज योग है।

यदि आप ऐसा समझते हैं, तो आपको कुछ और समझने की ज़रूरत नहीं है। आपको यह अपने दिल में मिल गया है, अपने दिल में पूंजीवादी बन जाइए, और बाहर अभिव्यक्ति में कम्युनिस्ट बन जाइए। यदि आप इस संतुलन को ठीक से हासिल कर पाते हैं, तो आप इसे कर चुके हैं। और हम यह कर सकते हैं, हम सभी को एक साथ ले कर हम इसे करेंगे, हम इसे हासिल कर सकते हैं; और हम दुनिया को दिखा सकते हैं कि हर कोई इसे हासिल कर सकता है। सभी तथाकथित सामान्य मनुष्य करेंगे, असाधारण बन सकते हैं।

इसलिए आज, हमें अपने बारे में फैसला करना होगा कि हम यह करने जा रहे हैं, हम इसके बारे में शिक्षित होने जा रहे हैं, आध्यात्मिक तरीके से, सहज तरीके से। और  अगर हर पल आप खुद को देखते हैं, तो आप यह कर सकते हैं। और अपने आप का वर्णन करने या बताने के लिए नहीं कि, “ओह, यह मेरे साथ हुआ, जो मेरे साथ हुआ”; ये मुद्दा नहीं है।

बहुत से लोग मुझे इस प्रकार बताते हैं, जो कि बेतुका है। आप खुद को चुनौती दें कि: ऐसा आपके साथ कैसे हो सकता है? आप ऐसा क्यों नहीं करते? तुम्हे यह करना चाहिए। आप ऐसा क्यों नहीं कर सकते? इस प्रकार आप खुद को काम में लगाते हैं और आप इसे कार्यान्वित कर सकते हैं, मुझे इसलिए यकीन है, क्योंकि आपको  शक्ति का साथ मिल गया है।

मैं आपके आध्यात्मिक विकास और आपकी सामूहिकता के लिए आप सभी को आशीर्वाद देती हूं। दोनों बातों पर ध्यान देना चाहिए। यदि आपके पास आध्यात्मिक विकास है और कोई सामूहिकता नहीं है, तो यह बेकार है। यदि आपके पास सामूहिकता और आध्यात्मिक विकास कुछ भी नहीं है, तो यह बेकार है। इसे ठीक से मिलाएं।

इसलिए हमें शिव को पाना है और उन्हें विराट में स्थापित करना है। यही वह है जो हमें करना है, और यदि आप इस बिंदु को समझते हैं, तो दूसरों के साथ आपके संबंध भी बहुत अच्छे स्वभाव के अच्छे, स्थायी सारभूत होंगे। और सहज योगियों के जीवन की गुणवत्ता कुछ बहुत ही शानदार होगी।

परमात्मा आप सबको आशीर्वाद दें।