Talk to Sahaja Yogis: The Time of Destruction

Milan (Italy)

1984-09-18 1 Talk to Sahaja Yogis Italian 1, 50'
Download video (standard quality): Transcribe/Translate oTranscribe

Feedback
Share

                    “विनाश की बेला” 

सहज योगियों से बात 

 इटली, १९८४, सितंबर, १८ 

श्री माताजी : धुआँ। धुएं की तरह।

सहज योगी: “फुमो”।

श्री माताजी: और यह कितनी बेतुकी जगह है। और हैरानी की बात यह भी है कि हर 28 मिनट में एक जगह धरती मां से हर 28 मिनट में पानी निकलता है। यह ठीक 28 मिनट के बाद फव्वारे की तरह निकल पड़ता है। यह एक बहुत ही मज़ेदार जगह है और बहुत सारी सल्फर है, वहाँ बहुत सारा सल्फर है। बस गंधक के बुलबुले निकल रहे है, आप देखते हैं कि अचानक कहीं से पानी उंडेले जाने की तरह गर्म पानी निकल रहा है। क्या आप ऐसी जगह की कल्पना कर सकते हैं?

अब, एंडीज एक और स्थान है। एंडीज एक ऐसा प्रकार है जो झटके देगा, भूकंप देगा। यह बहुत सारे भूकंप देगा और इसमें बहुत सारा सोना भी है क्योंकि यह एक दायाँ पक्ष है, बहुत सारा सोना है और यह बहुत सारे भूकंप देगा। जब विनाश की यह बारी आएगी, तो इसका उपयोग भूकंप के रूप में किया जाएगा। वे करेंगे, यह भूकंप के रूप में कार्य करेगा।

अमेरिका वह पूरा हिस्सा है, ऊपर से नीचे तक यह सब एंडीज है। और वह सब बिखर जाएगा। तो विनाश के समय ये दोनों बल अधिक कार्य करेंगे। ऐसे में इससे सावधान रहने की जरूरत है। क्योंकि, आप देखिए, बोलीविया, पेरू और इन सभी जगहों पर, ये लोग यहाँ से गए। उन्होंने इनमें से बहुत से लोगों को मार डाला। इनमें से कई जातियों को पूरी तरह से मार दिया गया था। तब लाशें पड़ी थीं। मारना बहुत बुरा है क्योंकि जब आप किसी व्यक्ति को मारते हैं तो वह जन्म नहीं ले सकता और हवा में लटक कर भूत बन जाता है। इसलिए, उन्होंने अमेरिका को वशीभूत कर दिया है। इसलिए अमेरिकी ऐसे हैं। आप देखिए, उन्होंने न्यूयॉर्क से लेकर पूरे अमेरिका तक उन सभी लोगों को मार डाला, वे सभी लोग जो आदिवासी थे।

तो, उन्होंने भी उन को ग्रसित कर लिया है। और इसी तरह दक्षिण में हो रहा है। तो, फिर से, यह सब है, हालांकि यह दाहिने पक्ष पर है, लेकिन यह अतिचेतन है, सभी अतिचेतन चीजें हैं। ऐसे में उन्हें अब बेहद सावधान रहने की जरूरत है। उन्हें सहज योग में ले जाना है। और जो सहज योग को अपना रहे होंगे वे ही बचेंगे। बाकी को नष्ट कर दिया जाएगा। क्योंकि एंडीज विनाश के लिए एक अतिचेतन वस्तु के रूप में कार्य करेगा। और फुजियामा और वह सब, जो होगा, नहीं, उनके पास होगा, जिसे आप कहते हैं? ज्वालामुखी निकल रहे हैं।

सहज योगी: माँ, मुझे बहुत खेद है, लेकिन टेप, हमारे पास टेप खत्म हो रहे हैं। क्या आप फिर से बायां पक्ष, दायाँ पक्ष और हिमालय की व्याख्या करेंगे? आपके साथ ऐसा करने के लिए मुझे खेद है।

श्री माताजी : किस बात का?

सहज योगी : जैसा आपने अभी कुछ क्षण पहले बताया, कैसा है हिमालय यह और दो स्तंभ।

श्री माताजी : आप देखिए, आप हिमालय को मध्य भाग की तरह समझे, कैलाश,

सहज योगी: हाँ, सहस्रार।

श्री माताजी : हाँ, फॉन्टानेल हड्डी। और यह एकादश की पट्टी है, ठीक है? अब सब, यहाँ तक कि [अस्पष्ट] और ये आल्प्स और जो कुछ एक ही में है।

Guido: उसी पंक्ति में?

श्री माताजी : दायीं और बायीं ओर, दोनों ओर। काशिया, अर्जेंटीना हमारे पास यह सब उस पर है, तो यह सब एकादश है। लेकिन, दोनों तरफ, हमें एंडीज मिला है, और इस तरफ, हमें इस पर फुजियामा मिला है। इन दोनों में से, बाईं ओर वाला एंडीज है। मैंने एंडीज को वास्तव में बयां पक्ष वाला माना है। क्योंकि इस तरफ से सूरज उगता है। और दाहिनी ओर वाला सहज योग शैली के अनुसार जापानी होना चाहिए। लेकिन बात में अगर आप देखें तो ये दायाँ है और ये बायाँ है. अब, क्या हुआ है कि स्पेनिश और उन जैसे अन्य सब लोग दायाँ पक्ष वाले  लोग वहां गए और इनमें से बहुत से लोगों को मार डाला जो सभी दाएं तरफ वाले भी थे। तो पूरी बात अब हमें इसे राइट-साइडेड कहना चाहिए। एंडीज दाएं तरफा के रूप में। क्योंकि दाएं तरफा लोगों को दाएं तरफा खराबियों  द्वारा दंडित किया जाएगा और बाएं को बाएं तरफा खराबियों द्वारा दंडित किया जाएगा। इसलिए, चूँकि, दायाँ तरफ़ा लोग वहां गए हैं और दायाँ तरफ़ा  लोगों को मार डाला है, वहां के दायाँ तरफ़ा लोगों ने इन लोगों को ग्रसित कर लिया है। यही कारण है कि वहां गति बहुत तेज़ है, और आप देखिए, इसी कारण अमेरिकी इसी तरह बहुत हिंसक हैं|  अब इन सभी चीजों को मिलाकर ये बनते हैं, एंडीज, आप देखते हैं, वहां खड़ा है, अपने मौके की प्रतीक्षा कर रहा है। और जब चीजें बिल्कुल भयानक होंगी, तो कोई परमाणु बम विस्फोट या कुछ भी नहीं होगा। इनमें खुद भूकंप आएंगे। अब, भूकंप धरती माता का गुण है। और वह इनके माध्यम से जोरदार अभिव्यक्ति करेगी। और दायीं तरफ… दरअसल, यह वास्तव में दायीं तरफ नहीं है, लेकिन अब यह इन जापानीयों के बाएं हाथ की तरफ है कि ऐसा होगा… क्योंकि उन्हें बाएं पक्ष वाला बनाया गया था, क्योंकि उन्हें दी गई थी ये नशीली दवाएं, अफीम, यह चीज, वह चीज। इसलिए वे बायाँ तरफ़ा हो गए। अब, इन बाएं पक्ष के लोगों को ज्वालामुखियों के साथ समाप्त कर दिया जाएगा। ज्वालामुखी होंगे। आंधी तूफ़ान आयेंगे, वे खत्म हो जायेंगे। वहीं इस तरफ जो लोग इन सभी गलत बातों का पालन करते रहे हैं, उनका भूकंप से अंत हो जाएगा। और ये सभी स्थान जैसे, आप कह सकते हैं, पश्चिमी तट। अमरीका का पश्चिमी तट बहुत ख़तरनाक है क्योंकि वहाँ अमरीकियों द्वारा इतने अत्याचार किए गए थे। वे इससे बच नहीं सकते हैं, इसलिए वे स्वयं समाप्त हो जाएंगे क्योंकि वे मानसिक रोगी हो जाएंगे, पागल हो जाएंगे और इसके अलावा, खुद धरती माता उन्हें नष्ट करेंगी, उनका एक हिस्सा|

अब दाहिनी ओर, मुझे लगता है कि ज्वालामुखी इस तरह से समाप्त कर दिया जायेंगे कि, विनाश के समय उनका उपयोग किया जाएगा…। लेकिन अभी, जहां तक अभी का ​​संबंध है, हमें देखना होगा कि हम कितने लोगों को बाहर ला सकते हैं। यदि उन क्षेत्रों में सहजयोगियों की संख्या बढ़ जाती है, तो हो सकता है कि वह माता (धरती)शांत हो जाए।

योगी :… बाईबल में भी यही लिखा है, जब ईश्वर आकर वध करना चाहते हैं| शायद, अब्राहम ने परमात्मा से पूछा कि, “लेकिन भगवान अगर दस अच्छे लोग हैं, तो आप क्या करेंगे?”, और तब ईश्वर ने कहा “मैं उन सभी को बचाउंगा”, और फिर इब्राहीम ने पूछा, “लेकिन अगर 9 अच्छे लोग हैं”, और ईश्वर ने कहा, “ठीक है, मैं उन्हें बचाऊंगा”। और अगर यह एक अच्छा व्यक्ति हैं, तो ईश्वर ने कहा: “ठीक है, मैं उस शहर को बचाऊंगा”।

श्री माताजी : अब हमारे पास हजारों हैं। लेकिन बाईबल में इतना ही लिखा है कि कितने?

योगी: सौ चौवालीस हजार 144,000।

श्री माताजी : हम उस संख्या एक लाख चौवालीस हजार तक पहुँचने वाले हैं। केवल। यह बाइबिल में लिखा है।

योगिनी: श्री माताजी, क्या इसका अर्थ यह है कि विनाश के समय अंतिम निर्णय इन रूपों, भूकंप और ज्वालामुखियों में प्रकट होगा।

श्री माताजी : बेशक, वह होगा। इतनी सारी चीजें होंगी और लोग मारे जाएंगे और नष्ट हो जाएंगे। फिर उन्हें आखिरी चीज में डाल दिया जाएगा, वे नरक में जाएंगे। लोगों को नर्क में भेजा जाएगा। आप देखिए, इस धरती पर क्या होगा, लोग पागल हो जाएंगे, वे मल खाना शुरू कर देंगे, ‘नर्क’, वे अपने लिए बना रहे होंगे। अब केवल, जिस तरह से वे रजनीश का अनुसरण कर रहे हैं, वह क्या कर रहे हैं? यह ‘नर्क’ है। इस तरह उन्हें दंडित किया जाएगा। लेकिन जिनका वर्णन किया गया है, अब, एक लाख चौवालीस हजार, वे बहुत छोटी संख्या हैं।

योगिनी : क्या मैं उन लोगों के बारे में पूछ सकती हूँ जो मारे जाते हैं, माँ। भूत बन जाते हैं। क्या कभी मौका नहीं मिलता…

श्री माताजी : मुश्किल है। जो मारे गए हैं वे हो सकते हैं, लेकिन वे जो ग्रसित  हैं। देखिए, ऐसा जो हुआ है कि,  जो मारे जाते हैं उनका दोबारा जन्म होता है। और जो मारते रहे हैं उनका भी पुनर्जन्म होता है। ऐसे में ऐसे लोगों के लिए मौका है। लेकिन जो मारे गए हैं, वे ग्रसित कर रहे है उनको जिन्होंने उन्हें मार डाला। उन्होंने क्यों मारा? उनका कोई अधिकार नहीं था। “तू नहीं मारेगा”। मेरा मतलब है कि आखिरकार, यदि आप अपनी बकवास सरकार के एक नियम और कानून का पालन नहीं करते हैं, तो आपको दंडित किया जाता है। फिर ईश्वर के बारे में क्या? जिसने कहा, “तू हत्या न करना” और तू ने मार डाला। तो क्या उन्हें सजा नहीं मिलनी चाहिए?

योगिनी: मैं उन लोगों के बारे में सोच रही थी जो मारे गए, जो मारे गए, वे पीड़ित थे।

श्री माताजी : यदि पुनर्जन्म होगा तो वे नहीं करेंगे, लेकिन यदि वे प्रतिशोध ले रहे हैं, तो कैसे बचेंगे?

योगी: और वे चुन सकते हैं।

श्री माताजी : वे चुन सकते हैं। वे चाहें तो जन्म लें, साक्षात्कार प्राप्त करें। लेकिन वे भूत बनने की कोशिश कर रहे हैं। बदला लेने का विचार नहीं होना चाहिए। अब, आप देखिए, केवल भारतीयों के पास ही ऐसी समझ है। अंग्रेजों ने भारतीयों पर कितना अत्याचार किया, पता नहीं। मेरा मतलब है, मैं आपको नहीं बता सकती कि उन्होंने कितना अत्याचार किया है। मैं आपको अपने परिवार के बारे में ही बता सकती हूं कि मेरे पिता के सभी घर, सब कुछ छीन लिया गया था। हम महलों में रह रहे थे, झोंपड़ियों में रहने लगे। कार, ​​सब कुछ, सारे गहने, मेरी माँ का सब कुछ छीन लिया। केवल हमारे पास एक बड़ा गहना था, माँ के पास एक बड़ी पारिवारिक सोने की चीज़ थी जिसे हम [अस्पष्ट] कहते थे, बस यही एक चीज़ थी जो उसने छिपाई थी, जिसे उसने गिरवी रखा और उस के बल पर उसने हमें शिक्षित किया था। मुझे, उन्होंने पीटा है, उन्होंने बिजली के झटके दिए हैं। उन्होंने मुझे बर्फ के स्लैब पर रख दिया। मैं 18-19 साल की एक युवा लड़की थी, आप देखिए। इतने लोगों को उन्होंने इस तरह प्रताड़ित किया है। ओह, उन्होंने इस हद तक जुल्म और प्रताड़ित किया है, आपको पता नहीं है। बल्कि बलात्कार, वेश्यावृत्ति, सब कुछ उन्होंने भारतीयों के साथ किया। लेकिन भारतीय उनसे नफरत नहीं करते। वे उनसे नफरत नहीं करते। वे बहुत दयालु हैं। अगर वहां अंग्रेज जाते तो कुछ अंग्रेज बैरिस्टर भारत चले गए और हाई कोर्ट को छुट्टी घोषित की गई। वे कितने आदरणीय हैं, लेकिन जब अंग्रेज अब, जब भारतीयों ने, क्योंकि उन्होंने दुर्व्यवहार किया और इतने सारे भारतीयों को अपने साथ ले आए। अब उन्हें ब्रिटिश पासपोर्ट दिया गया और पूर्वी अफ्रीका में वहां काम करने के लिए गुलामों के रूप में भेजा गया। लेकिन जब पूर्वी अफ्रीका स्वतंत्र हुआ तो उनके पास ब्रिटिश पासपोर्ट थे इसलिए वे ब्रिटिश के रूप में इंग्लैंड आए। अब उन्हें इंग्लैंड में अप्रवासी के रूप में माना जाता है। इसके बारे में सोचो। दरअसल, उनके पास सिर्फ ब्रिटिश पासपोर्ट है, उनके पास और कोई पासपोर्ट नहीं है। और 80% भारतीय ऐसे ही हैं। 10% छात्र हैं और 10% पाकिस्तानी हो सकते हैं। क्या तुम कल्पना कर सकती हो? और इंग्लैंड में भारतीयों का हाल देखिए, यह अंग्रेज उनके बारे में कैसी भावना रखते हैं। तो, स्वाभाविक रूप से, कोई भी उनके साथ बहुत कडवाहट महसूस करेगा। है ना? लेकिन मैंने कभी किसी भारतीय को अंग्रेजों की आलोचना करते नहीं देखा। मेरे पति कहते हैं कि यह भारतीय हैं जो जिम्मेदार हैं, वे इस तरह से व्यवहार करते हैं, वे अपने कपड़े धोते हैं, वे उन्हें बाहर लटकाते हैं। वह हमेशा भारतीयों को दोष देंगे, वे नहीं जानते कि मेज पर कैसे खाना है, वे अपने हाथों का उपयोग करते हैं, यह वह है। वहीँ, भारतीय। ज़रा भी कडवाहट नहीं। वे एकमात्र ऐसे लोग हैं जिन्होंने वास्तव में क्षमा किया है। कोई कड़वाहट नहीं है और आप जानते हैं, भारत में यह एक कानून है, अलिखित कानून है। मैं सेंसर बोर्ड में थी कि, अंग्रेजों के खिलाफ कोई फिल्म नहीं बन सकती। कोई नहीं। कोई फिल्म नहीं बनती हमारे स्वतंत्रता आन्दोलन या गाँधी पर| यह तो एक अंग्रेज़ ने बनाई| हमें ऐसा करने की अनुमति नहीं थी|

योगिनी:… एक बड़ी टेलीविज़न श्रृंखला थी, बहुत लोकप्रिय श्रृंखला थी जिसमें दिखाया गया था कि अंग्रेज भारतीयों के प्रति कितने भयानक थे, जो इंग्लैंड में प्रसारित थी।

श्री माताजी : वे हमेशा भारतीयों को नीचा दिखाने, उनका मज़ाक उड़ाने की कोशिश करते थे।

योगिनी : हर कोई भयभीत है, क्योंकि हम नहीं जानते। हम सिर्फ किताबों में पढ़ते हैं।

श्री माताजी : श्रंखला का नाम क्या है?

योगिनी: इसे “द ज्वेल इन द क्राउन” कहा जाता है। बात ब्रिटिश राज के आखिरी दिनों की है। और यह भयानक है।

श्री माताजी : मेरा मतलब है, वे वहाँ क्या दिखाते हैं।

योगिनी: वे पशुता दिखाते हैं, वे पूरी क्रूरता दिखाते हैं, किसी लड़के को लाठियों से पीटते हैं, उस पर एक लड़की के साथ बलात्कार करने का आरोप लगाते हैं जो उसने कभी नहीं किया। अंग्रेज, वे अंग्रेजों को बहुत खराब रोशनी में दिखाते हैं। बेहद आश्चर्यजनक।

योगी: अच्छा, कम से कम खुलासा तो हो रहा है।

श्री माताजी : किसी ने इसके बारे में बात की होगी।

योगी: जब हमने गांधी की फिल्म देखी, दिल्ली में, जब आप हमें वह फिल्म दिखाने के लिए ले गए, तो हाफ टाइम में सभी लोग बाहर चले गए। लगभग ४० ब्रिटिश सहज योगी बिलकुल स्तब्ध [अस्पष्ट] की तरह थे, वे हिल नहीं सकते थे।

श्री माताजी : यह तो कुछ भी नहीं है, जो लोगों ने देखा है, उसके मुकाबले उन्होंने कुछ नहीं दिखाया।

योगिनी : यह श्रंखला उससे कहीं ज्यादा क्रूर है। इसे देखना बहुत कठिन था। भयानक।

योगी: मैंने इसके बारे में सुना।

श्री माताजी: और अब आप देखिए, जैसा कि वे कह रहे थे कि कोई मेहराब या पुल नहीं थे। अब, अंग्रेजों ने वहां जो कुछ भी था उसे हटा दिया होगा। उन्होंने कभी किसी चीज का सम्मान नहीं किया। अब भी उन्हें हमारी संस्कृति के प्रति, हमारे संगीत के प्रति, किसी भी चीज़ के लिए कोई सम्मान नहीं है। उनके पास समझने के लिए दिमाग नहीं है। ऐसे अहंकार में।

योगी: श्री माताजी, आप आज दोपहर कह रहे थे कि भारत की संस्कृति, इतिहास और स्थापत्य आदि बहुत कुछ पश्चिम से पहले का है।

मां: [अस्पष्ट] मेरा मतलब है, मैंने उनसे कहा कि ये लोग कहते हैं कि वे [अस्पष्ट] हैं, लेकिन जो उन्होंने भारत में नहीं देखा है, हमारे पास अजंता की गुफाएं हैं। गुफाओं का मतलब है महलों की तरह, विशाल और एक पत्थर, विशाल, मीलों तक उस तरह। मैंने कहा, अगर हमने यूनानियों से सीखा है तो यूनानियों के पास ऐसा कुछ क्यों नहीं है। उनके पास कुछ नहीं है। हमारे देश में जिस तरह की कला है, वह आपको पूरी दुनिया में कहीं नहीं मिलती, मुझे लगता है। इस तरह [अस्पष्ट] लेकिन यह नीचे से ऊपर की ओर बना है। आप देखते हैं, यह दस शताब्दियों में ऊपर से नीचे की ओर गुफा है।

योगी, क्षमा करें माँ, क्या आप चाहते हैं कि मैं उन लोगों के लिए अनुवाद करूँ जो समझ नहीं पाते हैं?

श्री माताजी: [अस्पष्ट] मुझे क्षमा करें।

योगी : सारी इंजीनियरिंग, हर चीज का हिसाब करना था…

योगी : उसने समझाया कि, आज तुमने जो समझाया कि हम जड़ से शुरू हुए और फिर नीचे जाते हैं…

योगी: जैसे आप आज इस साथी को समझा रहे थे।

योगी: आपने आज [अस्पष्ट] को समझाया कि हम जड़ से शुरू करते हैं और फिर नीचे जाते हैं, बुनियादी बातों से नहीं हम ऊपर जाते हैं, बस यही है। यह एक भारतीय शैली है। यह बहुत चतुराई है।

इतालवी बोलने वाले योगी।

योगी: हाँ, माँ, लेकिन वह सिर्फ चिनाई के बारे में एक सवाल पूछना चाहेगी, लेकिन आप अजंता के बारे में बात कर रहे थे, और शायद यह बेहतर है कि आप समाप्त करें… आप अपनी बात समाप्त करें।

श्री माताजी:… नहीं, मैं सिर्फ इतना कह रही हूं कि भारतीयों के पास उनके बारे में कुछ है, कि वे बहुत क्षमाशील हैं। उनमें कोई कड़वाहट नहीं है, वे बहुत क्षमाशील हैं। उनके मन में कोई कड़वाहट नहीं रखते है। और दूसरी बात, वे बहुत गुमनाम हैं। आप कभी नहीं पाएंगे [अस्पष्ट] आप कभी भी भारतीय को नाम या कुछ भी लिखते हुए नहीं पाएंगे। यह सब आधुनिक है। बेशक, आधुनिक लोग, वे पश्चिमीकृत हैं। लेकिन अब भी कहीं जाओ और उनसे पूछो कि यह किसने किया है। किसी ने, किसी ने किया होगा। बहुत गुमनाम लोग और ऐसा इसलिए है क्योंकि यह एक बहुत ही आध्यात्मिक देश है। पूरी परंपरा अध्यात्म की है। इसलिए लोग बहुत आध्यात्मिक हैं, वे भौतिक रूप से इतने सुसज्जित नहीं हैं क्योंकि उन्होंने कभी भी भौतिक उन्नति पर अधिक ध्यान नहीं दिया।

योगी: शायद माँ, मैं जानता हूँ कि कुमारस्वामी सबसे महान भारतीय आलोचक हैं और अब सभी ने उन्हें भारतीय कला में उस्ताद के रूप में स्थापित किया है। मैंने उनकी पूरी किताब पढ़ी और मुझे लगता है कि वह एक बेहतरीन इंसान हैं। शायद, वह आत्मसाक्षात्कारी है, मैं नहीं जानता।

श्री माताजी: उसका नाम क्या है?

योगी: कुमारस्वामी [?]

श्री माताजी: कुमारस्वामी। मैंने इसे नहीं पढ़ा है।

योगी: मुझे लगता है कि वह एक अच्छा आदमी है। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने [अस्पष्ट] पर अपना नाम सिर्फ इसलिए नहीं लिखा क्योंकि वे उन्हें सिर्फ ईश्वर के एक उपकरण के रूप में देखते हैं, वह सिर्फ परमात्मा का एक चैनल था। वह कुछ भी नहीं था, सिर्फ एक चैनल था। दरअसल, एलोरा में काम करने वाले एक शख्स ने एलोरा की दीवारों पर इतना ही लिखा है। “हे परमात्मा मैंने इसे कैसे बनाया”। बस इसका मतलब…

श्री माताजी : मैं निमित्त हूं।

योगी: “मैं तो मात्र एक यंत्र हूँ, भगवान। क्योंकि, मैं यह नहीं कर सकता था, आपने कर दिया।” यह बहुत सुन्दर है। अपनी संस्कृति में हम इसे समझ नहीं पाए और हमें लगता है कि हम “मैं करता हूं, मैं करता हूं, मैं करता हूं”, लेकिन वे कहते हैं “भगवान, आप करते हैं, मैं सिर्फ एक चैनल हूं”।

श्री माताजी: यही कारण है, लेकिन आप देखिए, लेकिन हमारे ऊपर तांत्रिकों का इसी तरह का बहुत बुरा आक्रमण हुआ था, आप देखते हैं, कि वे लोग जिन्होंने ध्यान का अभ्यास करना शुरू किया था। और शायद उन्होंने मूलाधार में गणेश को देखा और उन्हें लगा कि यह कुंडलिनी है। उन्होंने यौन क्रियाओं वगैरह को अपनाना शुरू कर दिया, और सभी गलत काम किए। तब उन्हें पता चला कि वे अवचेतन, सामूहिक अवचेतन के दायरे में चले गए हैं। फिर, उनके सिर में भूत सवार हो गए। उन्हें यह विचार आया कि, यदि आप किसी मंदिर की पवित्रता को नष्ट कर सकते हैं, तो आप वहां सभी भूत प्राप्त कर सकते हैं। इसलिए, उन्होंने अपनी भयानक तांत्रिक चीजों से सभी मंदिरों को नष्ट करने की कोशिश की। कामुकता में वे डालते हैं, देवी का अपमान करने के लिए। यदि आप देवी का अपमान करते हैं, तो वह वहां से चली जाती है। मान लीजिए, मेरे सामने कहो, कोई गलत व्यवहार कर रहा है, मैं चली जाऊँगी। इस प्रकार चित्त हटाने के लिए। और तांत्रिकता शुरू हो गई। लेकिन, आप जानते हैं, हमें इस बात का अंदाजा नहीं था कि तंत्र ऐसा होता है। हम इन चीजों को कभी नहीं देखते हैं। मैं खुद अपने बच्चों, बेटियों, पति के साथ नेपाल गई और हमने सारे मंदिर देखे। हमने कभी कुछ कामुक नहीं देखा। कभी नहीं देखा। फिर जब मैं ग्रेगोइरे से मिली, किताब लिखने गयी तो उसने कहा कि माँ यह ऐसा हर जगह है। मैंने कहा कहाँ? कुछ जूम लेंस वाले कुछ जापानी थे, इनके साथ…

योगी: तिपाई।

श्री माताजी: आप इसे क्या कहते हैं? ये सीढ़ियाँ। वे सारी सीढ़ियाँ जापान से लाए थे, समझे? भारत में, आपको इस तरह की सीढ़ी नहीं मिलती है। जूम लेंस वाली सीढ़ियां, खड़े होकर कोई गिर रहा है। मैंने कहा ये क्या कर रहे हो? वे इन कामुकता की तस्वीरें ले रहे हैं। मैंने कहा, उस वक्त क्या है [अस्पष्ट] [हंसते हुए]…. ये जापानी, मैं आपको बता दूं, यहां तक ​​कि कोई सिस्टिन चैपल पर भी काम कर रहा था। कोई जापानी, और उसने सभी चीजों के सभी गुप्तांगों को बड़ा कर दिया। क्या आप इन गंदे लोगों पर विश्वास कर सकते हैं? तो, यह वही है। आप देखिए, हम पर हमला हुआ, हम ना नहीं कहेंगे। लेकिन, ये तांत्रिक आए, पुस्तक “अवतरण” में ये [अस्पष्ट] दिए गए हैं। ये तांत्रिक आए और उन्होंने हम पर हमला किया। लेकिन हम निर्दोष हैं, हम इन बातों को कभी नहीं जानते थे। और भारत में, हम बहुत सी बातें नहीं जानते, मैं आपको बताती हूँ। मुझे नहीं पता था कि होमो सेक्सुअल क्या होता है, मुझे नहीं पता था और जब, आप देखिए, किसी ने मुझे समझाया तब  मैंने वास्तव में 8 दिनों तक अपना खाना नहीं खाया। मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि ऐसे लोग भी हो सकते हैं। बहुत से लोग नहीं जानते कि ऐसे लोग भी होते हैं। भारत में, मुझे लगता है कि कम से कम 90% लोग नहीं जानते हैं। कम से कम।

योगी इतालवी में बोल रहे हैं।

योगी: माँ, बस एक और बात, आप जानते हैं कि पूरे इटली में भारतीय कला के बारे में किताबें खोजना असंभव है। यह वास्तव में असंभव है। लेकिन आप भारत से बाहर सभी कामुकता के बारे में, चीन से बाहर सभी कामुक के बारे में एक किताब पा सकते हैं।

श्री माताजी: [अस्पष्ट] क्योंकि हम नहीं जानते थे कि कुछ भी अस्तित्व में है, हमें नहीं पता था कि ऐसा कुछ भी अस्तित्व में है। हमें नहीं पता था कि वहां कुछ भी था। यह तो केवल जब हम पश्चिम में आये, यह ‘काम’ है, यह क्या है?

योगी: कामसूत्र।

श्री माताजी: कामसूत्र। बमुश्किल ही कितने भारतीयों ने इस किताब को पढ़ा है, इसके बारे में सुना भी है? कि, वो है क्या ? मेरा मतलब है इसका अश्लील चित्रण। आपके कैसे अश्लीलता का चित्रण कर सकते है? लेकिन यहाँ लोग हैं, मेरा मतलब है, मुझे नहीं पता कि वे किस तरह के लोग हैं। पढ़े-लिखे, अशिक्षित, सभी पोर्नोग्राफी पढ़ते हैं। स्तर क्या है? मुझे कभी नहीं पता था कि कामसूत्र जैसी किताबें लिखी जाती हैं। यह किसी तांत्रिक ने बहुत पहले लिखी होगी।

योगी: गुप्त युग के दौरान, माँ।

श्री माताजी: ऐसा क्या ?

योगी: हाँ, माँ

श्री माताजी : गुप्त काल ?

योगी : गुप्त युग से थोड़ा पहले। क्योंकि आप गुप्ता, [अस्पष्ट] भारत में पूंजीवाद को जानते हैं।

श्री माताजी: गुप्त, ऐसा नहीं हो सकता, क्योंकि ७वीं शताब्दी में, आदि शंकराचार्य के जन्म के बाद ७वीं शताब्दी में तंत्रवाद [अस्पष्ट]। इसने जड़ें लीं, असली जड़ें। लेकिन अन्य हो सकता है। इसने वास्तव में ६वीं शताब्दी के बाद, तंत्रवाद ने, एक बहुत बड़े रूप में एक पूर्ण रूप ले लिया। सिर्फ शंकराचार्य को बाहर करने के लिए। और फिर बौद्ध, वे तंत्र-मंत्र में चले गए। और ये राज मिस्त्री पाश्चात्य में एक और तांत्रिक हैं। [अस्पष्ट] तंत्रवाद है। लेकिन फिर भी, भारतीय लोग बहुत मासूम हैं। ऐसे लोग आपको कहीं नहीं मिलेंगे। अफ्रीकी भी ऐसे नहीं हैं, न ही रूसी ऐसे हैं। वे बहुत अबोध हैं, वे समझते नहीं हैं। मोदी जैसा बड़ा आदमी मूर्ख मूर्ख था, उसे कुछ समझ नहीं आता। [हंसते हुए] वह मुझसे भी बदतर है।

योगी: पूर्ण निर्दोषता।

श्री माताजी: [हंसते हुए] बिल्कुल। शर्म से वे मर जाते हैं, क्योंकि वे बहुत निर्दोष हैं। यह सब बाथरूम संस्कृति है। खजुराहो वह सब, मेरा मतलब है। ये सब चीजें हमने कभी देखी भी नहीं। मैं आश्चर्यचकित हूँ। खजुराहो (?) सबसे खराब है, क्योंकि वास्तुकार स्वयं एक तांत्रिक था। वह सबसे बुरा है, खजुराहो (?) नहीं, खजुराहो नहीं, कोणार्क (?), कोणार्क (?) सबसे खराब है। लेकिन खजुराहो (?), राजा बहुत बुरा आदमी था। और उनके शिष्य, उनके मंत्री जैन थे। वे जैन मंदिर बनाना चाहते थे। तो, राजा को खुश करने के लिए उन्होंने कहा कि ठीक है, सारा कामुक चित्रण बाहर की तरफ होगा। लेकिन उन्हें कलाकारों को हर तरह की कहानियां सुनानी पड़ीं। उनमें प्रतिस्पर्धा थी। कलाकार बहुत होशियार थे, आप देखिए, उन्होंने बहुत पतले कामुक चित्र बनाए, और देवी-देवता बहुत स्वस्थ, मोटे हैं। और एक कोने में, मुझे नहीं पता था कि वह कहाँ है। मैं बिना कुछ कहे पूरे खजुराहो (?) में घूमी। तो, मैंने एक महिला से कहा “मैंने पढ़ा है कि कामुक प्रतिमाएं होती हैं, वह क्या है? मैं देखना चाहूंगी”। तो वह चारों ओर घूमी, “इस कोने में, उस कोने में।” और कोई देख नहीं सकता था क्योंकि सभी यूरोपीय और सभी वहां इतने व्यस्त थे [हंसते हुए]।

योगी: यदि आप [अस्पष्ट] खोलते हैं और भारत के बारे में किताब पूछते हैं, तो आपको बस यह तस्वीर दिखती है। ठीक है, केवल खजुराहो (?) किताबों पर भारतीय कला सिर्फ खजुराहो (?)

श्री माताजी: क्या आप कल्पना कर सकते हैं?

योगी : जैसे कोणार्क (?), खजुराहो (?) और कोणार्क (?)

श्री माताजी : और ये बातें हमने देखी भी नहीं। तुम्हें पता है, हम अपनी बेटियों के साथ गए थे। क्या तुम कल्पना कर सकती हो? मेरे पति, वे मेरी बेटियों के साथ एक फिल्म भी नहीं देखेंगे, वह बहुत शर्मीले हैं और हम नेपाल गए, हम कभी नहीं जानते थे। मेरा दामाद जो कितने ही दिन से  नेपाल में रहे हैं, उसे पता नहीं चला। क्या तुम कल्पना कर सकती हो? यह [अस्पष्ट] है, जो बहुत बुद्धिमान व्यक्ति प्रतीत होता है। वह कुछ नहीं जानता था। लेकिन आप जानिए की यह बहुत दूर स्थापित हैं। देखने के लिए आपको वास्तव में लेंस को ज़ूम करना होगा।

योगी: हाँ माँ, छत पर।

श्री माताजी : मेरा मतलब है, समझ नहीं सकते। बेशक, यह हमारी मूर्तिकला वगैरह में 10 वीं शताब्दी में प्रवेश किया, लेकिन इतना ज़ाहिर भी नहीं रहा था। लेकिन वे चीजों की एक और चरम सीमा तक चले गए, ये राजा, उनमें से कुछ, बहुत बुरे राजा थे, लेकिन वे 7वीं शताब्दी के बाद थे, और उन्होंने ऐसा किया। लेकिन हम आम भारतीय नहीं जानते। मैंने बहुत सारी संस्कृत पढ़ी है, मुझे कहना चाहिए। मेरी मां संस्कृत की विद्वान थीं। मेरे पिता संस्कृत के विद्वान थे, लेकिन वे कभी नहीं जानते थे कि कामसूत्र नामक एक पुस्तक है। हम कभी नहीं जानते थे, मेरा मतलब है, यह पोर्नोग्राफी की तरह था। आप एक पढ़े-लिखे आदमी के लिए अश्लील चित्रण नहीं लाते, है ना? मेरा मतलब है, क्या आप अश्लीलता का अध्ययन करते हैं? क्या यह यहां शोध के लिए किया गया है? [हंसी]

योगी : उनके यहां अश्लीलता और कामुकता की बड़ी-बड़ी कला प्रदर्शनी हैं.

श्री माताजी : किस लिए?

योगी : कला प्रदर्शनी, बड़ी सार्वजनिक दीर्घाओं में।

श्री माताजी: वाक़ई? आपके पास उस पर पीएचडी उपाधियां है, है ना?

योगी : शायद। [अस्पष्ट]

योगी: स्पेन में

श्री माताजी: [हंसते हुए]। उनके पास एक बड़ा है, उनके पास बैल के लिए वह लाल चूहा है और उनके पास यह कामुकता है। मूर्ख लोग। मैं उनके साथ क्या कर सकती हूँ, मुझे बताओ? अब मुझे स्पेन जाना है।

योगी: मैं दो महीने पहले स्पेन में रहा हूं।

श्री माताजी : आप जा कर हमारे सहजयोगियों को क्यों नहीं मिल आते।

योगी: मैं करूँगा, माँ।

श्री माताजी : बेचारा, यह डॉन। मैं उनकी पत्नी के साथ गयी थी। वह अब बार्सिलोना में है। लेकिन अब हमारा मैड्रिड में भी एक केंद्र है और वहां हमारे पास स्पेनिश लोग हैं।

योगी: मैं उनसे मिला, माँ और मैंने उन्हें गुरु पूजा के लिए आने के लिए मना लिया, वे आते हैं।

श्री माताजी : बहुत अच्छा। बहुत अच्छी, घटिया बातें, लेकिन, आप देखते हैं, बहुसंख्यक इसी तरह बेतुकी है। वे बहुत मूर्ख हैं। मेरे पति स्पेन गए, उन्होंने उन्हें एक कामुक चीज का उपहार दिया, आप देखते हैं? मैंने कहा यह क्या है [हंसते हुए] मैंने कहा, “आपको किसने दिया?” उन्होंने कहा, आपके लिए कुछ खास है। बहुत ही गुप्त रूप से उन्होंने तुम्हें दिया है।” मैंने कहा “यह कामुक है।” उन्होने कहा, “इसे फेंक दो।” ये बेवकूफ लोग मेरा अपमान करना चाहते थे। ग्रीस में वही। ग्रीस में, उन्होंने उन्हें कामुक चीजें दीं, आप देखते हैं? मेरे लिए, उन्होंने मुझे मैरी का चेहरा दिया। [हंसते हुए] उन्होंने कहा, “वे मुझे क्या समझते हैं?” और उन्होने उसे फेंक दिया।

योगी: उन्हें लगता है कि यह बौद्धिक है। वे स्वतंत्रता दिखाते हैं, शायद।

श्री माताजी : स्वतंत्रता क्या है? स्नानघर? बाथरूम आज़ादी. [हस रहा]

योगी: मुझे लगता है, पूरे स्पेन में, उन्होंने कहा कि अब यह केथोलिक चर्च के साथ पिछली सरकार पर प्रतिक्रिया है।

योगी: फ्रेंको

योगी: बदतर है [अस्पष्ट]। उनका दमन कर रहा है, हर तरह से। अब प्रतिक्रिया है, वे कहते हैं, कैथोलिक चर्च के लिए।

श्री माताजी : लेकिन इसका मतलब है कि आपका कोई व्यक्तित्व नहीं है।

योगी: लिबरेशन, ड्रग्स, यह प्रकाशित हो चुकी है, यहां तक ​​कि मंत्रालय ने कहा कि क्यों न मारिजुआना धूम्रपान करें। सार्वजनिक। हर शराबखाने में मिलता है [अस्पष्ट] है।

श्री माताजी: अब मान लीजिए कि कैथोलिक चर्च के कारण आपको कोई समस्या है, तो कहें कि उन्होंने आप पर अत्याचार किया। तो क्या आपको बेवकूफ हो जाना चाहिए? मेरा मतलब है, आपका अपना कोई व्यक्तित्व होना चाहिए, है ना? और कैथोलिक चर्च ने जो भी प्रचार किया, उसमें कुछ भी गलत नहीं था। मुझे नहीं लगता कि इसमें कुछ गलत है, उन्होंने जो कहा वह सही था। लेकिन उन्होंने आपको ऐसा करने की शक्ति ही नहीं दी। कैथोलिक चर्च के पास स्वयं शक्ति नहीं थी, न ही उन्होंने आपको ऐसा करने की शक्ति दी। सहज योग के बाद, आप देखते हैं कि यह बहुत आसान है। आप इसका आनंद लेते हैं, गुणी होने के नाते। है ना?

योगी इतालवी में बोल रहे हैं।

श्री माताजी : मेरा मतलब है, मनुष्य अन्य कुछ नहीं अपितु सेक्स प्वाइंट बन कर रह गया है। यह तो यहां तक ​​कि कुत्तों और बंदरों और गधों के पास भी है। इसमें ऐसा क्या खास है? आप देखिए, यहां और भारत में जो लोग सेक्स के बारे में बात करते हैं, जिन्हें आप देखिए, जिसे हम हिजड़े लोग कहते हैं। जो लोग तीसरे लिंग के व्यक्ति हैं। उभयलिंगी। आप देखिए, और [अस्पष्ट] बच्चा पैदा करने की बात करते हैं, इस तरह इंसान यहां बात कर रहा है। सेक्स इतना प्राकृतिक है इसमें महान क्या है? मुझे समझ में नहीं आता, सच में। मुझे लगता है कि ये नपुंसक लोग हैं। तभी शायद उनके लिए,  सेक्स के बारे में बात करना बहुत बड़ी बात है। इसमें बात करने और सिखाने के लिए क्या है, क्या है? यह इतना प्राकृतिक है। पहले तो आप सभी अप्राकृतिक हो जाते हैं और फिर अप्राकृतिक लोगों की तरह व्यवहार करते हैं। यह सब अस्वाभाविकता है, इसलिए तुम ऐसे हो। भयानक है। बिल्कुल भयावह।

इन सबके बावजूद, हम आपसे ज्यादा बच्चे पैदा करते हैं। हमारे पास जनन क्षमता वाले पुरुष और महिलाएं हैं। हमारी शादीशुदा जिंदगी बहुत अच्छी है। और हर चीज़ जो हमारे पास है, हम उसका आनंद लेते हैं। आपने अपने सेक्स से क्या हासिल किया है? कुछ भी तो नहीं। तलाक, बलात्कारी, यह, वह, वेश्यावृत्ति।

योगी इतालवी बोल रहे हैं।

योगी : सहज योग के बिना कोई उपाय नहीं है श्री माताजी।

श्री माताजी : कोई उपाय नहीं है। वे सभी बड़े पैमाने पर सीधे नरक में जा रहे हैं। सीधे नरक में। मेरा मतलब है कि वे क्या बन रहे हैं, बस इसके बारे में सोचो। सनसनीखेज, यह बकवास, जैसे कि शव, आप देखिए कि,  उन्हें हर समय सनसनीखेज़ की आवश्यकता होती है।

योगी : माँ, हम उदात्त हैं, हमने जो खोया था उसे हम देख नहीं पाए। यह इतना अधिक है। हम लोगों को यह समझाने की कोशिश कैसे कर सकते हैं कि हमने क्या खोया है? यह बहुत ज्यादा है।

श्री माताजी : ऐसा होगा, धीरे-धीरे होगा। आपको उनके अतीत के बारे में बात करने की ज़रूरत नहीं है। अतीत को भूल जाएं। क्रमश: क्योंकि आप में अबोधिता विकसित होती है, आप देखिए? तुम्हारी आँखों में मासूमियत आ जाती है। रिश्ते कितने पवित्र होते हैं। कोई जटिलता नहीं। कुछ भी तो नहीं। बहुत खूबसूरत।

योगी इतालवी बोल रहे हैं।

श्री माताजी : और केवल रिश्ते की पवित्रता से ही आपका दाम्पत्य जीवन ठीक रहेगा। नहीं तो हर आदमी, उसकी पत्नी दूसरे मर्द के साथ भाग रही है। और पुरुष दूसरी औरत के साथ भाग रहा है। यह कैसी नैतिकता है? पूरा भ्रम है, बकवास है। मैं यह नहीं समझ पाती। मैं तुमसे कहती हूं, एक सज्जन हैं, वह मेरा राखी भाई बन गया। एक बार मैंने सिर्फ राखी बांधी, क्योंकि उसकी कोई बहन नहीं थी। वह अब लगभग 70 वर्ष का होगा, या ऐसा ही कुछ। एक बार मैं बंबई जा रही थी, उह, दिल्ली। तो मेरे पति ने कहा ठीक है, तुम उसके साथ जाओ क्योंकि वह ट्रेन से जा रहा है। इसलिए उन्होने हम दोनों के लिए एक कूप बुक किया। और हम साथ गए। मेरा मतलब है कि वह मेरा भाई है। [अस्पष्ट]। और हम एक कूपे में गए। जब हम वहाँ पहुँचे तो मेरे पति कुछ विदेशियों के साथ मुझे लेने आए। तब वे काफी हैरान हुए। उन्होंने कहा, “क्या आप तलाकशुदा हैं, श्रीमान श्रीवास्तव?” उसने कहा “क्यों?” वह एक और आदमी के साथ बाहर आ रही है। “वह उसका भाई है”। “अरे भाई। लेकिन अपने भाई की तरह नहीं दिखती।” उन्होने कहा, “वह उसका भाई है, उसने उसे भाई के रूप में स्वीकार किया है।” लेकिन कानून के तहत भाई एक ही कूप में यात्रा नहीं कर सकते। अगर भाई और बहन हैं, तो वे कानून के तहत एक कमरे में नहीं रह सकते। यह कैसी गंदगी है। क्या तुम कल्पना कर सकती हो? सगे भाइयों और बहनों के बीच कोई पवित्रता नहीं है। यहाँ सिर्फ एक भाई है, राखी भाई की तरह। कल्पना कीजिए, और हमारे दिमाग में कभी कुछ गलत नहीं जाता। कुछ नहीं, मेरे पति के दिमाग में भी नहीं। या उसकी पत्नी के भी दिमाग में कुछ भी। यह आश्चर्य की बात है कि लोग ऐसा नहीं समझते हैं। कि, जैसा कि आपके पास एक अच्छे नागरिक जीवन के लिए नियम और कानून हैं, अच्छे वैवाहिक जीवन के लिए भी कुछ नियम और कानून होने चाहिए जिनका सम्मान किया जाना चाहिए। आपके अच्छे वैवाहिक जीवन के लिए कुछ नियम और कानून होने चाहिए।

योगी इतालवी बोल रहे हैं।

श्री माताजी : नहीं तो आपका वैवाहिक जीवन अच्छा कैसे हो सकता है? यह अपने आप पर अंकुश नहीं है। प्रत्येक स्वतंत्रता के लिए कुछ नियम और कानून होने चाहिए ताकि स्वतंत्रता संरक्षित रहे। केवल स्वतंत्रता की रक्षा के लिए। यह परित्याग है।

योगी; मर्यादा पुरुषोत्तम।

श्री माताजी: हाँ, मर्यादा पुरुषोत्तम। यह लाइसेंस है। यह किसी भी तरह से स्वतंत्रता नहीं है, यह लाइसेंस है। यह परित्याग है। क्या आपको मेरी बात स्पष्ट हुई हैं? यह किसी भी तरह से आजादी नहीं है। स्वतंत्रता क्या है? पति को पत्नी की चिंता सताती है। पत्नी को पति की चिंता है। दरअसल, हम आजाद लोग हैं। जैसे मेरे पति पूरी दुनिया में जाते हैं। मैं निश्चित रूप से जानती हूं कि वह किसी भी महिला को देखने नहीं जा रहे है। और वह भी मेरे बारे में सुनिश्चित है, इसलिए हम स्वतंत्र लोग हैं जो हर जगह घूम रहे हैं, खुशी से। यह सच्ची स्वतंत्रता है। मान लीजिए अब वह है, मेरे घर में वह आता है, भले ही वह उसी बिस्तर पर सोए, मेरे पति को संदेह नहीं होगा। वह मेरे बेटे की तरह है। मेरे दामाद आएंगे और मेरे साथ सोएंगे। वे एक ही बिस्तर पर सोएंगे। “बस मुझे गले लगायेंगे, माँ, माँ।” कोई कुछ नहीं कहता। कोई सोच भी नहीं सकता, हमारे दिमाग में नहीं जाता। मैं नहीं समझ सकती। इस सब सोच के साथ लोग पागल हो गए हैं, जैसे सिर्फ सेक्स प्वाइंट हों। मेरा मतलब है कि आपने खुद को सेक्स पॉइंट के अलावा कुछ भी नहीं तक गिरा लिया है। इसके बारे में सोचो? क्या गिरावट।

योगी: हम आत्मसाक्षात्कार से पहले ऐसे ही थे।

माँ: [हँसते हुए] लेकिन अब तुम श्री गणेश हो गए हो। तुम सब श्री गणेश बने हो। अब तुम सब कितने महान बन गए हो।

योगी: लेकिन मुझे लगता है, फिर भी, अंग्रेजों ने आपके साथ जो किया उसके लिए मैं उन्हें माफ नहीं कर सकता।

योगी: अंग्रेज, लोग अब दक्षिण अमेरिका में मालवीन्स के कारण अंग्रेजों के खिलाफ [अस्पष्ट] हो गए हैं।

श्री माताजी: क्या?

योगी: युद्ध, उन्होंने अर्जेंटीना से किया। [अस्पष्ट]

श्री माताजी: अर्जेंटीना

योगी: हाँ, [अस्पष्ट]

योगी: मैं देखता हूं, पूरे दक्षिण अमेरिका में, मैं आमतौर पर नौकरी से जाता हूं।

श्री माताजी: वह उसकी मूर्खता थी। यह बहुत बेवकूफी थी।

टेप कटता है और फिर से शुरू होता है।

श्री माताजी: … जर्मन उन्हें पढ़ा रहे थे और उनके पास वे हंस कदम थे। आप जानते हैं कि हंस कदम क्या है? बाएँ दाएँ, बाएँ दाएँ, और मैंने पूछा कि आप यह सब कैसे जानते हैं? उन्होंने मौन बनाये रखा। यह जर्मन है। बहुत सारे जर्मनों ने वहां अपने ठिकाने बनाए, भयानक जर्मन। एक तरह से, मैं मानती हूं, उन्हें नहीं होना चाहिए था, लेकिन अर्जेंटीना अब बच गया है क्योंकि इन जर्मनों ने वास्तव में उन्हें खत्म कर दिया होता।

योगी : शुक्रवार को मैं ब्यूनस आयर्स में था [अस्पष्ट] मैं पूजा में आया था। और मुझे लगता है कि अब एक समूह आपकी प्रतीक्षा कर रहा है और निर्णय लेने के लिए मेरी प्रतीक्षा कर रहा है। मैंने आपके बारे में बात की और वे वास्तव में प्रतीक्षा कर रहे हैं।

श्री माताजी : उन्हें प्राप्त होगा। वे इसे प्राप्त करेंगे। क्योंकि, आप देखिए, उनकी प्रतिष्ठा चली गई है। अर्जेंटीना संयुक्त राष्ट्र में है, और वह सब। उन्होंने ज्यादा प्रतिष्ठा नहीं खोई है। अंग्रेजी ने प्रतिष्ठा को और खो दिया है। लेकिन जर्मन खत्म हो गए हैं। वे भयानक लोग थे, जर्मन। और जर्मन अपनी सारी सेना, अपनी सारी नौसेना, सब कुछ प्रशिक्षित कर रहे थे। उन्होंने एक बड़ा बड़ा बैरिकेड्स बना लिया है. मैंने इसे खुद देखा है। और मैं काफी डरी हुई थी। तो, एक तरह से यह अच्छा है। एक तरह से यह अच्छा है, एक तरह से अर्जेंटीना ने प्रतिष्ठा नहीं खोई है। कोई फर्क नहीं पड़ता। युद्ध में, हालांकि अंग्रेजों ने युद्ध जीत लिया है, अर्जेंटीना ने अपना स्वरुप नहीं खोया है। लोगों को लगता है कि अर्जेंटीना गलत नहीं था। फ़ॉकलैंड रखते हुए। और फिर भी, श्रीमती थैचर के खिलाफ बहुत प्रतिक्रिया होती है। एक अन्य दिन वे उससे पूछ रहे थे कि “तुमने उस जहाज पर बमबारी कैसे की”?

योगी: लोग श्रीमती थैचर से घृणा करते हैं।

योगी : युद्ध की फाइलों में अब असली आक्रामकता का सच सामने आ रहा है. यह सब उजागर किया जा रहा है, कैसे उन्होंने सामान्य रक्षा की सीमाओं को पार किया।

श्री माताजी: [जब उसने कोड भी बदल दिए थे, तो जहाज गया और बमबारी की और दो सौ पैंसठ [अस्पष्ट]। इसलिए प्रतिष्ठा के लिहाज से वे हारे नहीं हैं। लेकिन ये जर्मन कम हो गए हैं मैं उनसे बहुत खुश हूं। क्योंकि ये जर्मन, अगर आप उन्हें ऐसे ही बढ़ने दें।

योगी: वे अभी भी चिली में हैं, माँ। [अस्पष्ट]

श्री माताजी: वे चिली चले गए हैं?

योगी: वे अब पिनोशे और इन सभी लोगों के साथ हैं, वही कर रहे हैं।

श्री माताजी: लेकिन चिली के लोग भी हैं…चिली सरकार भी बहुत सख्त सरकार है।

योगी : श्री माताजी, वे अब आपको रात का खाना देना चाहेंगे।

श्री माताजी: ठीक है।

योगी: हमसे बात करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

श्री माताजी : तुम जो मेरे लिए लाए हो मैं वही खाने जा रही हूँ।