A New Era – Sacrifice, Freedom, Ascent

Bordi (भारत)

Feedback
Share

                                एक नया युग – त्याग, स्वतंत्रता, उत्थान

 बोरडी (भारत), 6 फरवरी 1985।

आप सभी को यहां देखकर मुझे अपार हर्ष हो रहा है। मुझे नहीं पता कि मेरी तरफ से क्या कहना है। शब्द खो जाते हैं, उनका कोई अर्थ नहीं है।

आप में से बहुत से लोग उस अवस्था में जाने के इच्छुक हैं, जहाँ आपको पूर्ण आनंद, कल्याण और शांति मिलेगी। यही है जो मैं आपको दे सकती हूं। और एक माँ तभी खुश होती है जब वह अपने बच्चों को जो दे सकती है वह दे पाती है। उसकी नाखुशी, उसकी सारी बेचैनी, सब कुछ बस उस परिणाम को प्राप्त करने के लिए है – वह सब उपहार में देने के लिए जो उसके पास है।

मैं नहीं जानती कि अपने ही अंदर स्थित उस खजाने को पाने हेतु इस सब से गुजरने के लिए आप लोगों को कितना धन्यवाद देना चाहिए। ‘सहज’ ही एकमात्र ऐसा शब्द है जिसके बारे में मैं सोच सकी थी, जब मैंने सहस्रार उद्घाटन को प्रकट करना शुरू किया। जिसे अब तक सभी ने आसानी से समझा है।

लेकिन आपने महसूस किया है कि यह आज योग की एक अलग शैली है जहां पहले आत्मसाक्षात्कार दिया जाता है और फिर आपको खुद की देखभाल करने की अनुमति दी जाती है। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। यह आपकी माँ का सिर्फ एक उपक्रम है जिसने ऐसा कार्यान्वयन किया है। अन्यथा, पुराने समय में दैवीय के का सम्बन्ध लोगों को बोध देने से तो था और यह ज्ञान नहीं था कि इसे कैसे कार्यान्वित  करना है। किसी भी अवतार ने कभी इस अंदाज में काम करने की कोशिश नहीं की। लेकिन जब भी उन्होंने कोशिश की, तो उन्होंने साधकों के लिए बहुत कठोर कष्ट उठाने की कोशिश की – बहुत गंभीर कष्ट।

मुझे कौतुहल है कि आप में से कितने लोगों ने बुद्ध के जीवन वृतांत को पढ़ा है, जब वे अपने हजारों शिष्यों के साथ यात्रा करते थे – बिना उन्हें आत्मसाक्षात्कार दिए|  वे बिना किसी आत्मसाक्षात्कार पाए आनंद रहित वातावरण में; दो कपड़ों के साथ, जंगलों में रहते । सिर्फ दो कपड़े! और जिस क्षेत्र में वह गये थे, जो मैंने खुद देखा है, वह बहुत ठंडा, सर्द, बिल्कुल ठंडा है। और कपड़े वास्तव में कपड़े नहीं थे, यह उनके शरीर को ढंकने वाला कपड़ा था। बहुत गंभीर सर्दियों में या शायद गर्मियों में खुले मैदान में सोना। बिना किसी जूते के उन्हें  मीलों तक चलने के लिए कहा गया!

अगर तुम जाकर देखोगे कि बुद्ध कहां चले, और घुमे, तो तुम हैरान होओगे! बुद्ध भी युवा थे – वे चलते थे। लेकिन उनके चेले बहुत ज्यादा चलते थे क्योंकि वह एक जगह जाकर रुकते थे। वह अपने शिष्यों को भेजते थे। विज्ञापन देने या कुछ भी घोषित करने का ज़माना नहीं था। इसलिए वह एक जगह पर रहते थे, और शिष्य गाँवों में घूमते थे, भिक्षा माँगते थे – जिसका अर्थ था ‘भिक्षा’ – गाँवों से कुछ भोजन इकट्ठा करना; एक समय खाना बनाना, उसका एक भाग बुद्ध को देना। और बाकी वे खाते थे।

वे जाएंगे, काम करेंगे, जो भी संभव था उन सभी गांवों के लोगों से मिलेंगे,  और उन्हें धर्मोपदेश के लिए बुद्ध के पास लाएंगे। ऐसे बलिदान! वे झोपड़ियों, गुफाओं में, भयंकर अंधेरे में, ध्यानस्थ। लेकिन उन्हें कभी बोध नहीं हुआ। बहुत कम लोगों को उनका आत्मसाक्षात्कार हुआ।

वे लोग महान राजाओं के पुत्र थे, और राजकुमारों, ड्यूक, डचेस – सभी बहुत, बहुत अमीर लोग। बहुत अमीर परिवारों की महिलाए उनकी अनुयायी बन गई। और वे कंटीले मार्गों में उसके साथ मीलों तक चले; क्योंकि उन्हें लगता था कि बुद्ध का कार्य इतने सार्वभौमिक महत्व का था, कि वे इतने जबरदस्त कार्य का हिस्सा हैं; कि वे मानवता के लिए इतने बड़े काम में भागीदार बने।

यह न केवल भारत में है, बल्कि विदितामा भी है जिन्होंने जापान में ज़ेन प्रणाली की शुरुआत की थी। चीन में, मैं अचंभित थी, संतों ने जितना बलिदान किया था,जिस तरह उन्होंने जीवन बिताया था! मेरा मतलब है कि यदि आप जिस तरह से उन लोगों ने जीवन जीया  – स्थितियों में – आप कल्पना नहीं कर सकते हैं! और उन्होंने अपना जीवन ऐसे ही समाप्त कर दिया, इस काम को करते हुए। बिना किसी उचित मार्गदर्शन के क्योंकि बुद्ध की मृत्यु हो गई थी – अन्य कोई मार्गदर्शन नहीं था। उन्हें अपने रास्ते खुद खोजने थे। तब उन्हें महायान और श्वेतयान मिला – सभी तरह की चीजें।

यहाँ तक कि, आप अन्य धर्मों में अन्य साधकों को देखें – जैसे कि ईसा- मसीह के समय – वे कहाँ रहते थे? और ईसा-मसीह की मृत्यु के बाद यह और भी बदतर था क्योंकि उन्हें सताया गया था, उन्हें मार दिया गया था, उन्हें यातना दी गई थी, सूली पर चढ़ाया गया था! यह मूसा के साथ भी हुआ था – उसके शिष्यों को खदेड़ा गया था इसलिए उन सभी को भारत की ओर भागना पड़े। दूरियों की कल्पना करो! उस क्षेत्र से कश्मीर तक – वे कैसे चले होंगे, वे कैसे रहे होंगे, वे कैसे चले होंगे। और हजारों की तादाद में वे भारत आए। क्योंकि उन्हें एहसास हुआ था कि वे एक जबरदस्त काम कर रहे हैं। किसी इतने महान कार्य का वे समर्थन कर रहे हैं।

इस देश में हमने स्वतंत्रता का संघर्ष किया था। मैं उस में भागीदार थी। मेरे माता-पिता उसी का हिस्सा थे। वे अमीर लोग थे,  मुझे कहना चाहिए, हर मानक से काफी अमीर। आप चकित होंगे – मेरे पिता ने अपने सभी सूट जला दिए। वे इंग्लैंड में सिले हुए थे। मेरी माँ ने उसकी सारी साड़ियाँ जला दीं। वे अपने कपड़े खुद ही बुनते थे और पहनते थे।

मेरे पिता ने स्वतंत्रता संग्राम के लिए अपना सब कुछ, हर पाई का त्याग किया। उन्होंने हमारे लिए कुछ भी नहीं छोड़ा, एक भी [पाई] नहीं। बेशक, हमारे परिवार के अमीर होने के नाते हमारे पास चाँदी और सोना और वह सब था लेकिन जहाँ तक सभी नकद पैसे का सवाल था – खर्च किया गया था। और यह सब चांदी और सोना भी, अंग्रेजों को धन्यवाद, कि उन्होंने हमसे छीन लिया और जब वे वापस गए उस समय उन्होंने हमें लौटा दिया। इस तरह से हमारे पास परिवार में कुछ चांदी और सोना बचा है।

हर एक चीज, जो भौतिक है, सब छीन ली गई। और मैं जानती हूँ । हम खूबसूरत घरों में रहते थे और फिर हम झोपड़ियों में चले गए और वहीं रहने लगे। अधिकतम  बलिदान। और इसके बारे में हम बहुत खुश थे, बहुत गर्व! हमारे पास बदलाव के लिए केवल दो कपड़े थे । हम अपने कपड़े धोते थे। हम बहुत गरीब लोगों की तरह रहते थे; इस तरह की पतली, खुरदरी फर्श मैट चीज़ पर सोने के लिए । अपने जीवन में, मुझे याद है कि मैं कभी तकिया नहीं लेती थी; मैंने उम्र भर कभी चप्पल (सैंडल) का इस्तेमाल नहीं किया। मेरे पास इस तरह की सामग्री से बना केवल एक स्वेटर था। जब तक मैं पास होकर और मेडिकल कॉलेज गयी, मेरे पास वह स्वेटर था।  मेरी शिक्षा के दौरान जब मैं लाहौर में थी जो बहुत ठंडा था – कभी-कभी लंदन की तरह हो सकता है – मेरे पास केवल एक कोट था, जो पहना और समाप्त हो गया था। लेकिन हम न तो कभी परेशान हुए और न ही कभी गिड़गिड़ाए और ना ही कभी यह कहा कि हमारे पिता को हमारी देखरेख करनी चाहिए और कुछ करना चाहिए, “उन्होंने देश के लिए सब कुछ क्यों कुर्बान कर दिया?” कभी नहीँ! कभी नहीँ! कभी नहीँ! लेकिन आज भी, जब वे हमें कहीं भी देखते हैं, तो वे जानते हैं कि हम इतने महान व्यक्ति की संतान हैं। हमारे लिए उनके मन में अगाध श्रद्धा है।

ऐसी गुणवत्ता बनाई गई, मुझे कहना चाहिए महात्मा गांधी ने ! उन्होंने हर किसी को जबरदस्त त्यागी के एक ऐसे नए व्यक्तित्व में बदल दिया! जबरदस्त! आप कल्पना नहीं कर सकते कि लोग कैसे रहते थे! हमारे पास जितना भी पैसा था, वह सब कुछ, जो हमारे पास था, सभी तरह की सुविधाएं और सहूलियतें, सभी आवास, सबकुछ, सब कुछ छोड़ दिया गया था – न केवल मेरे पिता ने बल्कि उनमें से बहुतों ने। अन्यथा हम अपनी आजादी नहीं पा सकते थे। हमारी आजादी पाने के लिए इस देश ने इतना बलिदान दिया है।

अब, उसके बाद, हम अपनी स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए, अपनी आत्मा के लिए स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए यहां हैं। हमारी आत्मा को हमारे लालच, वासना से मुक्त करने के लिए; अपने क्रोध से, हमारी जड़ताओं से, हमारे भयंकर अहंकार से,  सुख-सुविधाओं के गुलाम शरीर होने से।

मुझे कहना होगा कि गांधीजी का एक विशेष आकर्षण था। मुझे नहीं पता कि वह कैसे प्रबंधित करते थे। वह पारस के स्पर्श की तरह था – उन्होंने किसी को भी छुआ और वह रूपांतरित हो गया। और वह एक बहुत ही सख्त आदमी थे – मेरे लिए, बच्चों के लिए बहुत दयालु,  – लेकिन वह बहुत सख्त आदमी थे। वह किसी भी बकवास को बर्दाश्त नहीं करते!

यदि आप अध्ययन  करें जिस तरह से सारे समय इन सब लोगों का पालन-पोषण हुआ था स्वतंत्रता के लिए ही नहीं, बल्कि इससे पहले भी, आध्यात्मिक जीवन के लिए, कहीं भी, किसी भी चीज के लिए एक समान बात थी बलिदान। और इस बात का अहसास की आप कुछ महान कार्य कर रहे हैं , चेतना की आप पूर्ण का अंग-प्रत्यंग है, इतनी बड़ी बात, इतना बड़ा काम, इतना महान कारण !!

और फिर उन सभी के बीच एक चीज बहुत सामान्य थी: वह महान कारण, नेक कार्य का उत्थान ,जिसने उनसे इतने सहज तरीके से बलिदान करवा दिया। कभी-कभी सहज योगियों की तुलना में बहुत अधिक, जिन्हें सहज योग में अत्यधिक मिला है। उन्हें अपनी आनंद मिल गया है, उन्हें अपनी आत्मा मिल गई है। लेकिन मैंने अपनी आँखों से इस देश में ऐसे लोगों को देखा है; जिन्हें आप प्रसिद्ध नायक कह सकते हैं, लेकिन मैंने इसे देखा है। हजारों लोग मारे गए और क़त्ल किये गए, बच्चों की मौत हो गई। किसी ने आंसू नहीं बहाए। किसी ने आंसू नहीं बहाए। लेकिन यह अहसास होने पर कि आप इस तरह के नेक काम पर हैं, यह आपको खुशी और सहभागिता की भावना देता है!

और इसके अलावा, मैं महात्मा गांधी और अन्य लोगों के बारे में जो जानती हूं, जो मैंने देखा है, वे कैसे थे – हर किसी को इसमें आने की अनुमति नहीं थी और जो कोई भी घटिया बात करता था, चाहे वह राजा का बेटा था या वह किसी की बेटी थी या कुछ भी , किसी भी छोटी चीज को बिगाड़ दिया, कुछ भी – उसे बाहर निकाल दिया गया।

मैं गांधी के आश्रम में रही हूं, इसलिए मुझे पता है कि यह क्या है, और इसीलिए आप जानते हैं कि मैं कठोर जीवन से गुजर सकती हूं। यह उनका प्रशिक्षण है।

बारह वर्ष से ऊपर के सभी बच्चों को हर सुबह उस आश्रम क्षेत्र की पूरी सफाई करनी होती थी – जो पचास एकड़ भूमि में था। उन्हें अपने शौचालय साफ करने पड़े। साथ ही मेहमानों के शौचालय। मैंने साफ़ किया है! और उन्हें केवल दो पोशाक की अनुमति थी। और कुछ भी नहीं रखा जा सकता था, यहां तक कि आप कहीं भी एक कागज, किसी भी कूड़े को कहीं भी नहीं देख सकते – इतना साफ, साफ -सुथरा । और रहने के स्थान इतने साफ सुथरे थे। यह सब गोबर से किया जाता था, पूरी तरह से गोबर से। हर किसी को सुबह 4 बजे, ठंडे पानी से नहाना पड़ता था। चाहे वह जवाहरलाल नेहरू हों या अब्दुल कलाम आज़ाद, मेरे पिता, किसी भी आयु वर्ग के, या कोई बच्चे। और 5 बजे, महात्मा गांधी अपने व्याख्यान के लिए वहाँ होते थे।

कृपया अपने हाथ न उठाये या अपनी कुंडलीनी न चढ़ाएँ! कृपया बैठ जाएँ! यह तरीका ठीक नहीं है| जो मैं बात कर रही हूँ उसे समझने की कोशिश करें|

और फिर, आप हैरान होंगे, बड़ी सुबह 4 बजे जाग जाना। मेरे लिए यह ठीक था! और फिर उस पचास एकड़ जमीन के मध्य में स्थित हाल तक चल कर जाना , जो और कुछ नहीं बल्कि किसी प्रकार की उन झोपड़ियों से घिरी जगह मात्र थी जहाँ की गांधीजी रह रहे थे। स्नान के बाद तैयार होने के बाद उस सारे रास्ते पर चलना,  और वह सब। और सांप आस-पास साथ में रेंगते थे। बेशक, किसी को भी काटा नहीं। मुझे लगता है कि सांप समझ गए थे कि लोग इस महान देश को मुक्त करने के महान काम में व्यस्त हैं!

और हम ऐसे ही बैठे रहते और सांप रेंगते रहते। कोई रोशनी की अनुमति नहीं थी। किसी प्रकार की कोई रोशनी नहीं। हमने केवल धूप का उपयोग किया था। और जब गांधीजी आएंगे – मेरा मतलब है कि सुबह सूरज की रोशनी वहां नहीं थी, वहां कुछ लालटेनें रखी गई थीं। और हम सांपों को रेंगते हुए देखते थे।

लेकिन मैंने कभी किसी को शिकायत करते नहीं सुना। लेकिन एक युद्ध की तरह, इस तरह के जुनून के साथ संचालित था, हर कोई, इस रूप में प्रतिस्पर्धा करता हुआ कि, “मैं क्या कर सकता हूं? मैं कैसे ठीक हो सकता हूं? ” यहाँ तक कि,किसी ने भी आराम के बारे में नहीं सोचा! बेशक वे सभी 50 साल की उम्र के थे या ऐसा कुछ, शायद। आश्रम में उस समय ज्यादातर लोग पचास साल तक के थे।

और मैंने अपनी आंखों से देखा है कि जिन लोगों के पास घर में बहुत बड़ी कारें और उस तरह की चीज़ें थीं, उन्होंने बेच दी या उन्हें, उन्होंने फेंक दिया। वे ट्रेन से वर्धा स्टेशन आने के आदी थे और वहाँ से पैदल चल कर आते थे। गांधीजी किसी का   तांगे में भी आना पसंद नहीं करते थे। और वे लोग उनकी बात सुनते थे और आज्ञा का पालन करते थे।

मैंने कई मिशनरियों को देखा है, हालांकि वे उस स्तर के नहीं हैं, कुछ भी महान नहीं है, लेकिन इसी प्रकार होता है कि, वे लोगों को लक्ष्य देते हैं और लोग उनके लिए इसे कार्यान्वित करते हैं। मैंने उन्हें देखा है। भारत में हमारे पास मिशनरियाँ थीं, और जवान लोग जो विदेशों से आए थे, उन्होंने मिशनरियों की बात बस पूर्ण आज्ञाकारी ढंग से सुनी और जो कुछ भी कहा, वह किया।

अब आज हम कर रहे हैं, जैसा कि आप जानते हैं, बड़े से भी बड़ा काम!

 चूँकि ईश्वर के बारे में बात करने के लिए भी स्वतंत्रता निश्चित रूप से आवश्यक है, राजनीतिक स्वतंत्रता। हम एक छोटी,से छोटी सुई भी नहीं बना सकते थे! उस समय हमें सरकार द्वारा अनुमति नहीं थी। इतना जुल्म किया। इसलिए हमें गुलामी की बेड़ियों से बाहर निकलना पड़ा। इसमें कोई शक नहीं।

लेकिन अब मुझे लगता है कि हमारे पास एक और तरह की गुलामी है – स्वार्थ की गुलामी, आत्म उन्मुख। “यह मेरा आराम है। मेरे पास यह होना चाहिए, यह सुखदायक होना चाहिए, मैं आनंद ले रहा हूं, मैं ऐसा हूं, मैं वैसा हूं। ” आपको आनंद आना ही चाहिए अन्यथा यह कोई बड़ी बात नहीं है। मेरा मतलब है कि, पूरी चीज़ ने आपको किसी प्रकार की सुख की भावना देना ही चाहिए, बजाय इसके की आप किसी तरह की आनंददायक भावना प्रदान करे। क्योंकि, मुझे लगता है कि, लोगों को पता नहीं कि वे कर क्या रहे हैं, वे किस तरह का काम कर रहे हैं। वे उस ऊंचाई के उस स्तर तक आना ही नहीं चाहते हैं कि देखें की आप किस योग्य हैं।

और,आप पूरी दुनिया को बचाने की कोशिश कर रहे हैं !

यही एक कारण है कि सहज योग इतनी धीमी गति से चलता है, क्योंकि मैं ऐसे लोगों को देखती हूं जो अपनी इस या उस सुख-सुविधाओं के बारे में चिंतित हैं, और खुद भी इतने घटिया हैं! उन में कोई उम्दापन नहीं है,  जो उन्हें करना है,उस 

 काम की महानता का कोई एहसास नहीं है। आपको उम्दा बनना होगा। जब कि आप जानते हैं कि आप युद्ध पर हैं तब – आप कैसे व्यवहार करते हैं?

मुझे यकीन है कि साधारण स्तर की सोच वाले लोग अब बहुत कम है, बेहतर लोग हैं। मुझे यकीन है कि हम अब और भी बेहतर लोगों को प्राप्त करेंगे, बहुत बेहतर लोग!

वे छोटी, छोटी चीजों की चिंता करते हैं: उनके परिवार की, यह, वह। वे अपनी समस्याओं, और अपनी नौकरियों और इस और उस के बारे में चिंता करते हैं। मेरा मतलब है कि कोई भी गांधीजी से इस तरह की बात नहीं कर सकता था! मैं तुमसे कहती हूं, उन्होंने तुम्हें थप्पड़ मारा होता ! यह बात मुझसे जान लो।

यह तो ऐसा हो गया है जैसे कि,  सहज योग का अर्थ है – अपनी समस्याओं को हल करना – बस यही सब। हालाँकि इसमें कोई संदेह नहीं है कि,वे समस्याएँ हल हो जाती हैं,  आपकी मदद की जाती है, भगवान आपकी बहुत मदद करते हैं। लेकिन आप इसके बारे में कितना कर रहे हैं?

निश्चित रूप से हमारे पास कुछ बहुत बड़े सहज योगी हैं, मैं इस तथ्य से इनकार नहीं करूंगी, कुछ लोग हमारे पास है – पहले से कहीं अधिक, – और इसिलिए मैं इसके बारे में बहुत खुश हूं। लेकिन हमारा जो समर्पण ऐसा है कि : हम हर उस पैसे को गिनते हैं, जो हम खर्च करते हैं, और उस पैसे का हम कितना फायदा निकाल चुके हैं, यह नहीं देखते कि, इसके लिए हमने किया क्या है  यह ठीक तरीका नहीं है!

बुद्ध ने कभी भी अपना एक पैसा भी खर्च नहीं किया। उसे अपने सभी शिष्यों से पैसे मिलते थे। इन सभी बड़ी चीजों और सभी चीजों का निर्माण किया। उन्होंने कभी किसी और से सार्वजनिक मदद भी नहीं ली थी।

इसलिए अब उत्थान करो ! आपको अपने छोटे छोटे मन से ऊपर उठना होगा। उस बिंदु तक उठें जहां आपको पता होना चाहिए कि, आप पूरी मानवता को बचाने जा रहे हैं। यदि आप ऐसा महसूस नहीं कर सकते, तो सहज योग को छोड़ना बेहतर है। सहज योग उन लोगों के लिए नहीं है जो घटिया हैं। मराठी में शब्द ‘गबाड़े’ है। तुकाराम ने कहा है, “येड़ा गबाडिया चे काम नो हे ” (अर्थ) “यह ऐरे गैरों का काम नहीं है!”

स्वयं शिवाजी, जब उन्होंने अपना युद्ध लड़ा, तो उन्होंने उस समय के लोगों, सरदारों और ड्यूकों को पकड़ लिया। उन्होंने अपना सब कुछ त्याग दिया, उन्होंने अपना जीवन त्याग दिया, हर बात! उनके बच्चों ने उनका बलिदान दिया, उनके पास जो कुछ भी था, उन्होंने बलिदान कर दिया! शिवाजी के पास उन्हें देने के लिए पैसे नहीं थे। आपने शिवाजी के बारे में बहुत सी कहानियां सुनी होंगी।

जब आप देखते हैं कि हम सहज योगी इस दुनिया में कैसे हैं: योग के पहले क्षेम (कल्याण) आता है। यह उस तरह से। यह आप की माँ का प्यार है |  मैं चाहती हूँ कि,  मेरे बच्चे आराम में हों। वे नवजात शिशु हैं। ठीक है, उन्हें आराम की जरूरत है, उनकी देखभाल की जानी है।

लेकिन मैं दिव्य को ब्लैकमेल नहीं कर सकती कि, बच्चे छोटे हैं क्या मैं कर सकती हूँ! मैं यहां ईश्वर का काम करने के लिए हूं। और जब आप मेरे बच्चे हैं तो उनकी कृपा काम करेगी, वह आपकी देखरेख करेगा, आपको विकसित करेगा। लेकिन अब बढ़ो! विकसित हो ! आपको विकसित होना होगा ! इस छोटी सी बकवास से बाहर निकलो जिसमे कि तुम हो! अपना व्यक्तित्व देखें – आप कैसे रहते हैं? आपका चित्त कहाँ है? तुम क्या सोचते हो? क्या आप सहज योग के बारे में सोच रहे हैं, कि यह सबसे महत्वपूर्ण चीज है जिसके लिए आपको चुना गया है?

मैं कभी-कभी महसूस करती हूं, जैसा कि मैं हर समय महसूस कर रही थी, कि आप कई जगहों पर असुविधाजनक हो सकते हैं। लेकिन मैंने खुद जिस तरह आप पश्चिमी सहज योगी लोगों को सर्वाधिक लापरवाही से उन जगहों पर देखा है, –  मुझे आश्चर्य हुआ। इस लिहाज से भारतीय इस लिहाज से बेहतर हैं। और कुछ भारतीय सहज योगियों ने बहुत ही हास्यास्पद तरीके से दुर्व्यवहार किया है। इसने मुझे झकझोर दिया! जिस तरह से वे व्यवहार करते रहे हैं, लोगों पर चिल्लाते,समस्याएं पैदा करते रहे हैं। कुछ लोग मुझे मिलने आते हैं, वे उनसे इतने रूखे तरीके से बात करते हैं कि वे भाग जाते हैं। आप उनसे मीठी बातें कर सकते हैं। आपको उनके प्रति  अच्छा बनना होगा; लोगों पर चिल्लाना नहीं। ठीक है, मैं हर किसी से हर समय, हर सुविधा पर नहीं मिल सकती, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको दूसरों पर चिल्लाने का अधिकार है। यह इतना क्षुद्र और इतना घटिया है कि मुझे कितना नीचे आना है पता नहीं!

जब आप इन सभी क्षुद्र चीजों से ऊपर उठेंगे, तो आप उस दिव्य विवेक का विकास करेंगे। वह ईश्वरीय विवेक ही ईश्वर का वास्तविक आशीर्वाद है। अन्य सभी आशीर्वाद, जो आपको लगता है कि एक आशीर्वाद है, बिल्कुल भी आशीर्वाद नहीं है! यदि आप विकसित ही नहीं हो सकते, तो फिर आशीर्वाद है ही क्या ? जैसे की,एक पेड़ जो कहता है, “ओह, ऐसा आशीर्वाद कि मुझे बारिश मिली है!” लेकिन उस बारिश के बावजूद अगर आप विकसित नहीं हो सकते हैं, तो आप पर उस बारिश का क्या फायदा?

आपको दयालु, सुंदर, समझदार लोग बनना होगा, जो इस धरती पर सबसे उच्चस्थ प्राणी हैं। अपना ध्यान उन सभी बकवासों से हटाएं, जिनमें आप व्यस्त हैं।जिनके कारण आप ग्रस्त और आदी होते है | देखिये,ऐसी घटिया बातें|

भारत में हमें एक और समस्या है: हम किसी अन्य व्यक्ति को बर्दाश्त नहीं कर सकते। यदि कोई व्यक्ति सहज योग के लिए अच्छा कर रहा है, तो उनके खिलाफ तुरंत एक समूह बनाया जाता है – यह भारतीयों के साथ भी बहुत आम है। उसे नीचे रखने के लिए एक समूह बनाया जाता है।जब गांधीजी थे ऐसा नहीं होता था। मुझे नहीं पता कि यह कैसे होता है। यह केवल खराब नेतृत्व के साथ होता है। मुझे लगता है कि मेरे पास वह नेतृत्व नहीं है! गाँधी जी के समय में वे लोगों को पूरी तरह से भगा देते थे!

एक दूसरे के गले काटना और पीठ के पीछे बातें कहना, समूह बनाना। जो कोई भी कुछ अच्छा काम करता है, और मैं उस व्यक्ति को खुद को व्यक्त करने में मदद करने की कोशिश करती हूं, तुरंत एक समूह उसे दबाने के लिए आता है।

और पश्चिम में और पूर्व में भी कुछ निराशाजनक आधे-अधूरे, बेकार सहज योगी हैं, जो चीजों की गड़बड़ी करने की कोशिश करते हैं। वे सोचते हैं कि, वे बड़े गुरु हैं, बड़े लोग!  मुझे कहना चाहिए, बहुत छोटे लोग। चूज़े जैसा दिल है,। और उन्हें लगता है कि वे बहुत बड़े, महान लोग हैं, क्योंकि वे हो सकता है,अच्छी तस्वीरें ले सकते हैं, या कि वे एक विशेष तरीके से एक पोशाक पहन सकते हैं, या ऐसा कुछ – वे बेवकूफ सामान जैसे हैं! और दूसरों पर हावी होने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे लोगों को बाहर निकाला जाएगा, बिल्कुल। इस तरह की मशीन में बेकार लोगों का कोई उपयोग नहीं।

आज एक नए युग की शुरुआत है – बहुत ही उच्च गुणों के लोगों के नए युग की, जिनकी आत्मा प्रबुद्ध हो चुकी है। हम सब इसके बारे में सोचें!

अब आपको स्वयं पर शासन करना होगा, और आपको करुणा, प्रेम और विवेक के द्वारा दूसरों पर शासन करना होगा !! आज वह महान घड़ी है जब की, मैंने घोषित किया है कि यह सार्वभौमिक धर्म है, निर्मला धर्म है जो की मेरी प्रेम की शिक्षाओं से बना है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप बौने बने रहें! मैं आपको कोई  बिगाड़ने नहीं वाली हूँ ! मैं तुम लोगों को बौना बनाए रखकर नहीं बिगाड़ने वाली! तो उत्थान की कोशिश करो! दूसरों पर हावी न हों। आदर करो! एक दूसरे का सम्मान करो!

आप विराट के बहुत बड़े काम के लिए निकले हैं। जितना आपने अभी तक  परमात्मा के बारे में जाना है अन्य किसी ने नहीं जाना है! लेकिन खुद को ठीक करें।

मैंने गगनगढ़ महाराज नामक एक बहुत बड़े संत को जाना, जो पूरी तरह से गिर चुके हैं! यदि उनके जैसा व्यक्ति नीचे गिर सकता है तो आप भी नीचे गिर सकते हैं यदि आपको समझ में नहीं आता है कि आपकी कीमत क्या है, आपका मूल्य क्या है और आपको क्या पदवी दी गई है|

इसलिए आज हमें, अपनी माँ के प्रति अपने सारे प्यार के साथ, अपने दिल में यह तय करना होगा कि हम बड़े बलिदानी विशाल हृदयवान बनने वाले हैं! हमने अब तक क्या बलिदान किया है? जरा इस बारे में सोचें । क्या हमने किया ? क्या हमने कुछ भी बलिदान किया?

कृपया यह समझने की कोशिश करें कि मुझे मानवता को बचाने के लिए आप, महान आत्माओं का उपयोग करना है। आपको विकास करना ही चाहिए। आपको बढ़ना ही चाहिए। आपको विकसित होना है।

पैसों के बिंदुओं पर भी लोग निंदनीय हैं। वे पैसे कमाते हैं। वे पैसे बचाते हैं। अमेरिका में, मैं आश्चर्यचकित थी, जिस तरह से लोगों ने मुझे पैसे में ठगा ! हजारों! भारत में भी यह एक बहुत ही आम बात है! फिर यदि आपके पास करियर संबंधी मानसिकता  है, और आप बहुत महत्वाकांक्षी हैं कि, “मेरी नौकरी कैसी रहेगी?” ऐसा या वैसा ,   बेहतर है कि, आप सहज योग से बाहर निकल जाए ! यह किसी तरह हमारी सहायता  नहीं करता है!

तीसरे वे लोग हैं जो मानते हैं कि, “यह मेरी पत्नी है, यह मेरी प्यारी है, यह ऐसा  है,” और यह सब बकवास है। तुम यहां क्यों हो? किस लिए? या “मेरे बच्चे, मेरा घर, मेरी माँ, मेरे पिता।” चारों ओर सभी प्रकार के निकम्मे लोग ! यदि आप उससे ऊपर नहीं उठ सकते, तो आप मेरी मदद नहीं कर सकते, मुझे क्षमा करें। आप मेरी मदद नहीं कर सकते।

आपको बहुत, बहुत मजबूत लोग बनना है। आपको बहुत महान वीरता और महान आदर्शवादी और महान विचारों के लोग होने चाहिए।

कुछ लोग क्षुद्र दुकानदारों की तरह हैं जो कुछ सामान को बेचने के लिए भीड़ का अनुसरण करते हैं – मराठी में इसे ‘बजार भुंगे’ कहा जाता है!

तो अब आप इस बिंदु पर ध्यान लगाये कि,  यहां हमें उत्थान के सार्वभौम धर्म की स्थापना करना है | यह एक जबरदस्त काम है! अगर मैं इसे अकेले कर सकती, तो मैं कर चुकी होती, लेकिन मैं नहीं कर सकती। यह केवल आपके माध्यम से मुझे करना है और आपके पास एक विरासत है। आप बहुत महान जन्म से आते हैं, जहां आपके पास यह विरासत है। उस विरासत के साथ, अगर मैं आपको संचालित नहीं कर सकती, तो मुझे लगता है कि मैं बेहतर होगा कि आपके नेतृत्व को छोड़ देती हूं। मै यह नही कर सकता!

जब हम अपनी आजादी के लिए लड़ रहे थे तो हम सभी को स्कूलों से हटा दिया गया क्योंकि हम मिशनरी स्कूल में थे और मिशनरियों का मानना ​​था कि ईसा-मसीह इंग्लैंड में पैदा हुए थे! इसलिए वे हमें उन स्कूलों में पढ़ने की अनुमति नहीं देंगे। इसलिए हम सभी को उन स्कूलों से निकाल दिया गया। कुछ समय तक हमारी कोई शिक्षा नहीं थी। मैं अपना इंटर साइंस दो साल तक नहीं कर सकी। मैं परीक्षा में नहीं बैठ सकी क्योंकि उन्होंने हमें कॉलेजों और स्कूलों से बाहर निकाल दिया। सरकार ने हमें बर्खास्त कर दिया। लेकिन हम इतने गौरवान्वित बच्चे थे, बहुत गौरवान्वित। मैं निश्चित रूप से इसमें बहुत मोटी थी। मैं कभी भयभीत नहीं थी। मैं सिर्फ अठारह साल की लड़की थी। और मुझे याद है कि एक दिन कुछ लोगों ने आकर हमें बताया कि आपके पिता को इस जेल से दूसरी जेल में स्थानांतरित कर दिया गया है। उन्हें हम सभी लोगों पर इतना गर्व था! इसलिए वे हमें उनसे वहाँ मिलवाने के लिए ले जाने के लिए कार लेकर आए थे। और वे वहाँ बहुत सारे थे। और मेरी माँ स्वाभाविक रूप से चिंतित थी क्योंकि मैं एक युवा लड़की थी। पुलिस मुझे प्रताड़ित करती थी, मुझे इलेक्ट्रिक झटके देती थी, और मेरे जीवन को बहुत कष्टप्रद बनाती थी, मुझे पीटती थी, और वह सब। तो वह रो रही थी और उसने वहाँ स्थित एक बूढ़े सज्जन को बताया था, “मुझे अपनी बेटी की चिंता है। मैं नहीं चाहती कि उसे अब और प्रताड़ित किया जाए। ” तो मैं गयी और उन्हें देखकर मुस्कुरायी, तो उन्होंने कहा, “नहीं, अब तुम यह बंद कर दो! अब तुम यह सब मत करो । यह उचित नहीं है। ” तो मेरे पिता मुझे एक तरफ ले गए, उन्होंने कहा, “इस बूढ़े व्यक्ति की बात मत सुनो!” वह अब मरने वाला है। उसे भूल जाओ। मैं चाहूंगा कि मेरे सभी बच्चे स्वतंत्रता की वेदी पर बलिदान हो जाएं। अगर आप ऐसा कर रहे हैं तो मैं एक गौरवान्वित पिता हूं। और मैं आपकी माँ से स्वयं का विचार सुधारने के लिए कहूँगा। मुझे तुम पर बहुत गर्व हैं!”

ऐसे माहौल से मैं गुजरी हूं। मुझे अपना कॉलेज छोड़ना पड़ा। मैं आठ महीने से फरार थी। पुलिस मेरे पीछे पड़ी थी। मुझे पता है कि हम किन हालात से गुजरे हैं | हम बहुत युवा लोग थे-अठारह साल। आप समझ सकते हैं!

और अब जब आपको अपनी आत्मा की स्वतंत्रता मिल गई है तो आपको अपनी आत्मा के आराम की तलाश करनी चाहिए।

कुछ लोग हैं जो शिकायतकर्ता हैं, और ऐसी-वैसी बकवास करने वाले है। उन्हें नहीं आना चाहिए था! या जो भारतीय हैं – उन्हें सहज योग से बाहर निकलना चाहिए और हमें अकेला छोड़ देना चाहिए।

लेकिन, जो लोग जानते हैं कि वे यहां आए हैं, केवल खुद का आनंद लेने के लिए नहीं, बल्कि जो उनको मिला है वैसा पूरी दुनिया को आनंदित करने उन्हें प्रदान करने के लिए। और इसके लिए व्यक्ति को त्याग करना पड़ता है, किसी को वेदना सहन करनी पड़ती है!

जब आप ग्रस्त और परेशान होते हैं, ऐसा वैसा, तब मैं कितना सहन करती हूँ। मुझे कभी-कभी, आप  से  छाले सब कुछ पड़ गए हैं। लेकिन मैं बुरा नहीं मानती क्योंकि यह मेरा जीवन है, मेरा मिशन है, मेरा अस्तित्व है, मेरा सब कुछ- मानवता की उद्धार के उद्देश्य से है। यहां तक ​​कि मेरे खून की आखिरी बूंद भी उसके लिए है। इसलिए मेरी संतुष्टि बहुत अलग है।

कृपया याद रखें, आप एक बहुत बहादुर माँ से पैदा हुए हैं। कृपया, विकास का प्रयास करें! गर्व करें कि आप इतना जबरदस्त काम कर रहे हैं। उस महान वीरता की अनुभूति करो।  केवल, तब ही, हम परिणाम प्राप्त कर सकते हैं!

आपने बहुत सारे युद्ध देखे हैं, आपने युद्ध की बहुत सारी तस्वीरें देखी हैं, आपने देखा है कि लोगों ने कैसे युद्ध किया है, कैसे उन्होंने खुद को बलिदान किया है। और चलो हम देखें कि इस युद्ध में हम क्या कर रहे हैं!

 अपने शरीर को बस अपना गुलाम बना लो। अपने शरीर की, अपनी आदतों की , और अपने निरर्थक अहंकार की गुलामी से बाहर निकलिए। मुझे यकीन है कि एक माँ के रूप में मैं इतनी बुरी नहीं हूँ। लेकिन एक पिता के रूप में मुझे लगता है कि मुझ में कुछ चीजों की कमी है। कृपया ऊबरने की कोशिश करें ताकि मुझे महसूस हो कि मैंने आपके प्रति अपने पिता तुल्य रवैये में कमी नहीं रखी थी – वह खौफ, पिता की उम्मीदों की वह समझ।

ऐसा मैं आपसे इसलिए नहीं कह रही हूं कि, वर्तमान में कुछ ऐसी परिस्थिति है, या विशेष रूप से किन्ही लोगों के कारण से, या किसी भी चीज के लिए जो बहुत, बहुत वर्तमान समस्या है। इनमें से कुछ भी नहीं। बल्कि, इस नए आयाम की मेरी घोषणा है जिसमें हमें उत्थान करना है।

और जिस तरह हमें युद्ध में घोषणा करनी होती है कि, “अब आगे!” उसी तरह यह एक घोषणा है। किसी भी तरह से आपको नीचा दिखने, आपको अपमानित करने, या आप में से किसी के बारे में कुछ भी कहने का कोई इरादा नहीं है। लेकिन सिर्फ उस प्रेरणा को बढ़ावा देने के लिए जो हजारों और हजारों और लाखों लोगों और अरबों लोगों को एक बड़े कारण के लिए बलिदान करने के लिए प्रेरित करे !

इसलिए अब अपने प्रति सम्मान रखें। अपने सिर उठाएँ! आप ही हैं जो लड़ने वाले हैं। आप ही जिम्मेदार हैं। अपने आप को तैयार करें! अपने शरीर को तैयार करें। अपने दिमाग को तैयार करो! विवेकशील बनो!

यह मेरा -.., फिर से मैं  ‘अनुरोध’ शब्द का इस्तेमाल नहीं करूंगी । यह मेरा आदेश है!

परमात्मा आप को आशिर्वादित करे !

हम सब अब ध्यान करें!

अपने कुंडलिनियों को बांधने की कोई आवश्यकता नहीं है। खुद को बंधन देने की जरूरत नहीं है। ऐसा कुछ भी करने की कोई जरूरत नहीं है।

यदि आप अभी उस अवस्था में आते हैं। अपने हाथ उठाने और अपनी कुंडलिनी को बांधने की कोई आवश्यकता नहीं है – आवश्यक नहीं है। कुछ करना नहीं है! आपकी कुंडलियाँ पहले से ही बंधी हुई हैं। धारण कीजिये! उस अवस्था को धारण करें, सब कुछ यही है ! यही आप हैं – वीर ना की बेवकूफ !

खुद का सम्मान करें। आदर !

परमात्मा आप को आशिर्वादित करे !

आपका अपने मूल्यों, कीमत और विवेक की समझ के उस स्तर तक उत्थान के अलावा मेरे लिए कुछ भी अधिक महत्वपूर्ण नहीं है। आपको मधुर, अच्छे लेकिन बहुत, बहुत शक्तिशाली लोग बनना होगा ! कि आप अपने आप को, अपनी जीभ और अपनी चीजों को नियंत्रित कर सकते हैं। नियंत्रण, अपने आप पर पूर्ण नियंत्रण।

 फिर से परमात्मा आप को आशिर्वादित करे !

कृपया ध्यान करें। अपनी आँखें बंद करें! अपनी आँखें बंद करें!

बिलकुल, अपनी ऑंखें बंद करो। अपने दोनों हाथ मेरी ओर रखो।

सहस्रार पर अपना चित्त लगाएं! बस सहस्रार पर आपका चित्त ।

आप अभी मेरे सहस्रार में हैं। अपना चित्त अपने सहस्रार पर लगाएं।

कोई विचार नहीं है, कुछ भी नहीं है। बस अपना चित्त अपनी ओर रखो… और उस बिंदु तक उठो। इसके बारे में कोई नाटक नहीं है। कुछ भी कृत्रिम नहीं है। यह बोध है।

सभी कमजोरियों को पीछे छोड़ना है। आइए शक्तिशाली लोग- मजबूत मूल्यों , गरिमा और संयम की मजबूती वाले लोग बनें।

मौन, परम आंतरिक मौन। और किसी को बहुत ज्यादा बात करने की जरूरत नहीं है। बहुत ज्यादा गपशप, बात करना, बेधड़क होकर, आपका तरीका नहीं होना चाहिए|

इसे अपने दिल में महसूस करें, अपनी खुद की गरिमा, अपनी खुद की महिमा, व्यवहार की शांति।

आप सभी संत हैं, लेकिन बहुत उच्च गुणवत्ता के, बहुत उच्च गुणवत्ता के संत हैं। साधारण प्रकार के नहीं।

सहस्रार पर अपना ध्यान लगाएं।

अपना चित्त अपने सहस्रार पर रखें)

 कोई भी विचार आने पर कहें , “यह नहीं, यह नहीं, यह नहीं।”

परमात्मा आप को आशिर्वादित करें!

मैं किसी समय एक-एक करके सभी समूहों को मिलना चाहूंगी , सभी नेताओं और कुछ विशिष्ट व्यक्तियों को जो मुझे मिलना चाहते हैं मिलना चाहूंगी ।

हमारे यहां शादियां, होने जा रही हैं, और सब कुछ, यहां संपन्न किया जा रहा है और यह बहुत अच्छा काम करने जा रहा है। लेकिन अचानक बात पर कूदना नहीं है! इसे अपनी सहृदयता  इस समझ में करें कि, यह शादी और कुछ नहीं है, पर चूँकि आपको  बहुत उच्च गुणवत्ता के बच्चे पाने हैं। दूसरी बात यह है कि इसे शुभ होना होगा। अगर कोई अशुभ था तो उसे बस धो को बाहर कर देने के लिए है ।

मुझे उम्मीद है कि अब आप अपनी ऊंचाइयों का आनंद लेंगे, आप अपनी महिमा का आनंद लेंगे और आप अपने महान कार्य का आनंद लेंगे।

परमात्मा आप को आशिर्वादित करें!