Shri Ganesha Puja: The Importance of Chastity

Brighton Friends Meeting House, Brighton (England)

Feedback
Share

श्री गणेश पूजा: पवित्रता का महत्व
04-08-1985
ब्राइटन फ्रेंड्स मीटिंग हाउस, ब्राइटन (इंग्लैंड)

आज हम यहां सही अवसर और बहुत ही शुभ दिन पर श्री गणेश की पूजा करने के लिए एकत्रित हुए हैं। श्री गणेश प्रथम देवता हैं जिनकी रचना की गई थी ताकि पूरा ब्रह्मांड शुभता, शांति, आनंद और आध्यात्मिकता से भर जाए। वह स्रोत है। वह अध्यात्म का स्रोत है। इसके परिणामस्वरूप अन्य सभी चीजें अनुसरण करती हैं। जैसे जब बारिश होती है और हवा चलती है तो आप वातावरण में ठंडक महसूस करते हैं। उसी तरह जब श्री गणेश अपनी शक्ति का उत्सर्जन करते हैं, तो हम इन तीनों चीजों को भीतर और बाहर महसूस करते हैं। लेकिन यह इतना दुर्भाग्यपूर्ण रहा है, विशेष रूप से पश्चिम में, सबसे महत्वपूर्ण मौलिक देवता को न केवल पूरी तरह से उपेक्षित किया गया है, बल्कि अपमानित किया गया और सूली पर चढ़ाया गया है।

तो आज हालांकि मैं कुछ ऐसा नहीं कहना चाहती की आप परेशान हों, लेकिन मैं आपको बता दूं कि श्री गणेश की पूजा करने का मतलब है कि आपके भीतर पूरी तरह से स्वच्छ्ता होनी चाहिए। श्रीगणेश की पूजा करते समय मन को स्वच्छ रखें, हृदय को स्वच्छ रखें, अपने को स्वच्छ रखें – काम और लोभ का कोई विचार नहीं आना चाहिए। दरअसल, जब कुंडलिनी उठती है तो गणेश को हमारे भीतर जगाना होता है, अबोधिता को प्रकट होना पड़ता है – जो हमारे भीतर से ऐसे सभी अपमानजनक विचारों को मिटा देता है। अगर उत्थान हासिल करना है तो हमें समझना होगा कि हमें परिपक्व होना है।
लोगअब अस्वस्थ हैं। पूरे पाश्चात्य जीवन में व्यक्ति को लगता है कि वे अस्वस्थ हैं। बीमार हैं क्योंकि उन्होंने श्री गणेश को कभी नहीं पहचाना। अगर एक फ्रायड आया तो इसका मतलब यह नहीं है कि आपने उसे स्वीकार कर लेना चाहिये। लेकिन आपने किया – जैसे कि यह इतना महत्वपूर्ण काम था; इससे ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं था। तो आज हम अपनी विकास की शक्ति और हमारे पास मौजूद कंडीशनिंग की शक्ति का सामना कर रहे हैं। जब फ्रायड कंडीशनिंग की बात करता है, तो वह नहीं जानता था कि वह आप पर एक और प्रकार की भयानक कंडीशनिंग डाल रहा था, भयानक।

सेक्स इंसान के लिए बिल्कुल भी महत्वपुर्ण नहीं है, बिल्कुल भी महत्वपुर्ण नहीं है। वास्तव में उच्चतम स्तर का एक इंसान वह सेक्स में केवल तभी लिप्त होगा जब बच्चे पैदा करना चाहता हैं। लालच, रोमांस, यह बकवास वगैरह किसी भी शुद्ध मन में मौजूद नहीं होती है; यह सब मानव रचना है। और किसी शख्स मे मौजुद यह दासता इतनी आश्चर्यजनक है, बहुत ही निम्न श्रेणी से यह हमारे भीतर आती है। ऐसा निम्न श्रेणी के मनुष्यों से आता है कि कोई इसका दास हो जाता है। आपको इसका मालिक होना चाहिए। और आज जब मैं अपने चारों ओर देखती हूं, पश्चिम में, जो की उसी सृष्टि का हिस्सा है, इतनी बीमारी जो आ गई है, मैं वास्तव में चकित हूं, अब आपका ध्यान सेक्स की परिपक्वता की ओर कैसे मोड़ा जाए।

जब सेक्स परिपक्व हो जाता है तो आप एक पिता, माता और एक शुद्ध व्यक्तित्व बन जाते हैं। जब आप एक नब्बे साल की महिला का उन्नीस साल के लड़के से शादी करने के बारे में सुनते हैं, तो मेरा मतलब है, आप समझ नहीं पाते हैं, यह है – इस दुनिया में किस तरह का समाज बनाया गया है, इस तरह का एक मूर्खतापूर्ण व्यवहार? हमें खुद को परिपक्व बनाना होगा। इसका मतलब यह नहीं है कि मैं छोटी उम्र में आत्म संयम करने को कह रही हूं, इसका मतलब यह नहीं है। यह एक दुसरा बेतुकापन है। लेकिन निश्चित रूप से, आपको परिपक्व होना चाहिए; इसके लिए आपको एक तपस्या की आवश्यकता है। महत्वहीन बात जब महत्वपूर्ण हो जाती हैऔर, इतनी महत्वहीन बात कि वह हमारे पास मौजुद किसी अन्य वस्तु के समान साधारण हो, जैसे हमारे बाल हैं। अगर आपके बाल भी झड़ जाते हैं तो इसका कुछ मतलब होता है। लेकिन अगर आप सेक्स खो देते हैं, तो इसमें क्या गलत है? यह बहुत अच्छा है। बेकार कचरे से अच्छा छुटकारा। ऊर्जा की ऐसी बर्बादी। इतनी दिलचस्पी, इतना कीमती चित्त, इतनी शुभता ऐसी बेतुकी बात में खर्च होती है।

तो, गणेश की पूजा करने के लिए हमें समझना होगा कि हमें परिपक्व होना है। परिपक्वता हमारे भीतर आनी है। हमें अपने भीतर गहराई में जाना है; हमारा चित्त अपने भीतर, स्वतःस्फूर्त रूप से गहराई तक जाना है। अगर हम अभी भी कीड़े की तरह हैं तो हम गहराई कैसे प्राप्त करेंगे? अन्यथा, यह एक महान प्रकार का बलिदान या लोगों पर दबाव है। ये ठप्पे और ये दबाव आप लोगों के लिए बहुत महंगे रहे हैं, बहुत महंगे हैं। इस्नके माध्यम सेआपने इतना भुगतान किया है; तुम बहुत कुछ कर चुके हो। किसलिए?

इसलिए, अगर श्री गणेश की पूजा करनी है तो प्राथमिकताओं को बदलना होगा। आज हम जिसकी पूजा कर रहे हैं, वह हमारे भीतर की अबोधिता है। हम उसकी पूजा कर रहे हैं जो शुभ है, जो निर्दोष है। हमारे भीतर गहराई में जो मासूमियत है – यही हमारा चरित्र है, यही हमारा स्वभाव है, जिसके साथ ही हम पैदा हुए हैं – इस पूरी सृष्टि का मूल है; इस सृष्टि का सार है।

तो, जब पदार्थ सक्रिय हो जाता है, ठीक है, प्रजनन शुरू होता है, पशु अवस्था आती है, फिर अवस्था आती है मनुष्य की जो आदिम हैं, फिर वह अवस्था आती है जहाँ मनुष्य विकसित होता है। जो हम विकसित दुनिया के बारे में समझते हैं, भयानक, वैसी नहीं । मैं उन्हें कभी भी किसी भी मौके से विकसित नहीं कहूंगी। जो विकास है वह बाहर नहीं है। आंतरिकता में क्या विकास हुआ है, यह देखना होगा। हम अपने अंदर क्या विकसित हुए हैं? हमें अपने अंदर क्या प्राप्त हुआ है? जो कुछ भी बढ़ता है, बड़ा, वह उसी तरह का प्लास्टिक है। जिसकी कोई आंतरिक शक्ति नहीं बढ़ी है, उदाहरण के लिए, मैं तुम्हें एक आम देती हूं। मैंने कहा, “ठीक है, अब तुम इसे खा लो।” और तुम देखते हो कि उसके पास सिर्फ छिलका है और उसके अंदर कुछ नहीं है, तुम क्या खाओगे? क्या आप वह प्लास्टिक खायेंगे? जो कुछ भी इस तरह उगाया जाता है वह प्लास्टिक है, मृत है। अंदर स्थित पदार्थ क्या है, आइए देखें। हमारे भीतर हमारा पदार्थ क्या है?

यही ईसामसीह ने उपदेश दिया – नैतिकता की बात। उसके लिए इतना महत्वपूर्ण था। क्योंकि धर्म के बाद, जो एक संतुलन था, जहां बेशक नैतिकता बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन ईसामसीह के लिए जन्मजात, गहरी नैतिकता की बात करना जरूरी था, जो हमारे अस्तित्व का एक अंग-प्रत्यंग है, इसे सिर्फ सिखाया, बताया या डराया नहीं जाता है , क्योंकि वहाँ परमेश्वर का भय और परमेश्वर का क्रोध है। लेकिन यह आपका अपना अंत:स्थित बोध होना चाहिए, इसलिए क्राइस्ट ने इसके बारे में बात की। और उन्ही ईसामसीह का निर्दोषता को नष्ट करने के लिए इस्तेमाल किया गया था।

और मैं यह नहीं कहूंगी कि लोगों को चेतावनी नहीं दी गई थी। फ्रायड ही एकमात्र व्यक्ति नहीं था जो पैदा हुआ था। दूसरे दिन मैं स्पेन में प्राडो गयी थी और मैंने नरक के कई कई चित्र देखे। और इन सारे आधुनिक समय में हम उन दुबले-पतले पंकियों को बिना कपड़ों के घूमते हुए देखते हैं, तरह तरह के लोगों को हर तरह की अजीब बातें, बेवकूफी भरी बातें दिखाते हुए प्रदर्शित किया गया था। यह बॉश था। मैं हैरान थी, एक जर्मन, बॉश, जिसने वहां यह सब बकवास प्रदर्शित किया, बहुत स्पष्ट रूप से – नरक का रास्ता, फिर मौत का हमला, ये सब चीजें। मेरा मतलब है कि वह काफी हाल का व्यक्ति था। यदि आप ब्लेक को पागल कहते हैं, तो बॉश के बारे में क्या? बेवकूफ निकम्मे लोगों को छोड़कर, हर कोई पागल है। इतनी चेतावनी हमारे लिए आई है। उदाहरण के लिए, हम कह सकते हैं, हम बहुत पहले से नरक के बारे में जानते हैं। सभी व्यक्तियों से आगे महावीर ने नरक के बारे में इतना स्पष्ट लिखा है। यह नरक है। लेकिन पश्चिम में प्राथमिकताएं बिल्कुल उलटी हैं।

आपकी शक्ति क्या है? बस इस बारे में विचार करें। अपने भीतर सोचो। क्या यह मानसिक शक्ति महत्वपूर्ण है? मैंने तुमसे कहा है कि मानसिक शक्ति का कोई काम नहीं है, क्योंकि यह सिर्फ रैखिक है, यह एक दिशा में चलती है, गिरती है, आपके पास वापस आ जाती है। इसमें कोई सार नहीं है। (14:30) यह सिर्फ दिमागी कल्पना का प्रक्षेपण है, प्लास्टिक। आपकी भावनात्मक शक्ति क्या है? आपके पास जो भावनाएँ हैं वे आपको कहाँ ले जाती हैं? देखें कि आपके पास भावनाएं हैं, यहां तक ​​कि आपके पास अच्छी भावनाएं भी हों। जैसे, तुम अपनी पत्नी से बहुत प्यार करते हो। यह प्रेमआपको कहाँ ले जाता है? तुलसीदास नाम के एक कवि थे जो अपनी पत्नी से बहुत प्यार करते थे और वह अपनी माँ के यहाँ चली गई थी। इसलिए, वह इसे सहन नहीं कर सका और उसे मिलने गया और वह उसकी बालकनी पर चढ़ गया और वह डर गई। उसने कहा, “तुम कैसे चढ़ पाए?” उसने कहा, “तूने वहाँ रस्सी बाँधी थी।” उसने कहा नहीं तो।”

और उन्होंने देखा कि वहां एक बड़ा सांप लटका हुआ था। तो, वह बोली, “आपके पास मेरे लिए जितना प्यार है, अगर उतनाआपके पास भगवान के लिए होता, तो आप कहां होंगे?”

तो ये भावनाएँ आपको कहाँ ले जाती हैं – हताशा में, दुःख की ओर, हमारे विनाश की ओर। मानसिक शक्ति आपको अहंकार नामक भयानक चीज देती है, जो दूसरों को नष्ट कर देती है। और भावनात्मक शक्ति आपको रोने-धोने और हमेशा दुखी महसूस करने के अलावा कुछ नहीं देती है, “ओह, मैंने अमूक-अमूक व्यक्ति पर इतना भावनात्मक निवेश किया है और मुझे क्या मिला?” तो, यह निरपेक्ष नहीं है, यह सापेक्ष है। और मानसिक रूप से आप की उपलब्धि शून्य हैं यदि आप दूसरों को नष्ट नहीं कर सकते। भावनात्मक रूप से आप की उपलब्धि शून्य हैं क्योंकि आप अपनी भावनाओं से लोगों पर हावी नहीं हो सकते। तो, फिर आपकी शक्ति क्या है? आपकी शक्ति कहाँ है? यह आत्मा में निहित है। परन्तु आत्मा के प्राप्त होने से पहले ही, तुम्हारी शक्ति क्या है? वह है कुंडलिनी ? वह सो रही है। फिर आपकी शक्ति क्या है? यह है आपकी शुद्धता। यदि कोई व्यक्ति पवित्र, पवित्र स्वभाव का है और वह अपनी शुद्धता में खड़ा होता है, तो यह कार्यांवित होती है, यह काम करता है।
लेकिन सबसे पहले, शुद्धता आपके अच्छे स्वास्थ्य के रूप में लाभांश का भुगतान करती है। किसी व्यक्ति के चेहरे से आप बता सकते हैं कि यह व्यक्ति एक पवित्र व्यक्ति है। जैसे हमारे शास्त्रों में कहते हैं संत या ब्रह्मचारी, जिसने जीवन में कभी सेक्स नहीं किया, उसके चेहरे पर हमेशा चमक रहती है। और जैसा कि हम कहते हैं कि सबसे महान ब्रह्मचारी श्री कृष्ण थे जिनकी इतनी सारी पत्नियाँ हैं। क्योंकि उस पर न तो ऊर्जा की बर्बादी होती है, न ही ध्यान की बर्बादी। तो, सारी ऊर्जा अंदर है। मैं आज कहूंगी कि जब मैं कार से आ रही थी तो बारिश हो रही थी, हवा चल रही थी, बहुत ठंड थी, लेकिन चुंकि हम कार में थे, हमारे उपर कुछ भी प्रभाव नहीं हुआ, क्योंकि हम खुद कार के अंदर काफी गर्म थे। हम हर चीज से गुजरे, हमें कुछ नहीं छुआ, किसी ने हमें परेशान नहीं किया, हम सब से गुज़र गए, सब कुछ ठीक है। कैसे? क्योंकि हमने अपने आप को वाहन कि भीतर रखाऔर हमारा वाहन है, हमारे पास मौजुद हमारी पवित्रता।

हम इस बारे में इतना चौकस हैं कि दूसरों को हमारा सम्मान करना चाहिए, दूसरे लोगों को हमारा आदर करना चाहिए, अन्यथा हम गुस्से में आ जाते हैं। क्या आपने खुद का सम्मान किया? क्या आप खुद का सम्मान करते हैं? पश्चिम के लोगों को कभी-कभी ऐसा लगता है कि माँ (19:39) – भारतीय संस्कृति के बारे में बहुत प्रचार करने की कोशिश कर रही हैं। बहुत से लोग ऐसा सोचते हैं। लेकिन मैं कहती हूं कि पश्चिम से विज्ञान सीखना होगा। ठीक है। पश्चिम से अन्य चीजें सीखनी होंगी, सौंदर्यशास्त्र, निश्चित रूप से। पेंटिंग और कला, शायद, रंग योजनाएं। लेकिन बेहतर होगा कि, संस्कृति के बारे में आप भारतीयों से सीखें। मुझे लगता है कि यहां संस्कृति की कुछ कमी है, कोई संस्कृति नहीं है। यह कौन सी संस्कृति है जहां एक महिला को अपने शरीर का उघाड़ा करना चाहिए? यह तो एक वेश्या की संस्कृति है, उतनी ही सरल बात। इस सत्य का सामना करो। जहां यह मान्यता ही नही है कि, एक महिला को अपने गुप्तांगों का सम्मान करना चाहिए, जो भी हो वह किसी दैविय सौंदर्यशास्त्र की संस्कृति नहीं है। इतने पर भी वे एक फिल्म बना रहे हैं जिसमें मैरी को एक वेश्या दिखाया जा रहा है। मेरा मतलब है, यह वह जगह है जहाँ आप समाप्त हो गए हैं। भारत में यदि आप ऐसा कह भीनदें, तो वे आपको अच्छी तरह से पीटेंगे – कोई भी, चाहे मुस्लिम, हिंदू, ईसाई। मेरा मतलब है, जिस तरह से वे यहां ईसामसीह के बारे में यहां बात करते हैं, यह सुनकर हैरानी होती है। मेरा मतलब है, एक भारतीय के लिए यह एक आघात होता है। आप कैसे ऐसी बात कर सकते हैं क्योंकि एक बार जब आप अपनी पवित्रता को छोड़ देते हैं तो आप में यह समझ ही नही होती हैं कि कोई ऐसा हो भी सकता है जो बिल्कुल पवित्र हो।

चोर के लिए तो हर कोई चोर है। क्योंकि आपमें अपनी पवित्रता के प्रति वह सम्मान नहीं है, आप कल्पना नहीं कर सकते कि ईसामसीह क्या हो सकते हैं। तुम कल्पना नहीं कर सकते, तुम स्वीकार नहीं कर सकते। ईसामसीह के बारे में असहनीय बातें कही जाती हैं। मैं आपको बताती हूं, असहनीय, मुझे नहीं पता। मैंने उनके सूली पर चढ़ने का सामना किया है, जो असहनीय था। लेकिन इस तरह की बात आप किसी के बारे में कहते हैं; एक भारतीय महिला के लिए यदि आप इस तरह की टिप्पणी करते हैं, एक सामान्य भारतीय महिला को तो, वह आत्महत्या कर लेगी। ऐसा कभी नहीं कहा जाता कि, कोई आकर कहता है कि तुम बहुत सुंदर लग रही हो। यह ठीक है, आप अपनी माँ से कह सकते हैं, “तुम अच्छी लग रही हो,” ठीक है, यह अलग बात है। लेकिन आप अन्य किसी औरत से ऐसा नहीं कहते। आपको खुद को इसा से बाहर निकालना होगा। और यही एक कारण है कि लोग बहुत गर्म स्वभाव के होते हैं।

आपके भीतर का चुंबक श्री गणेश हैं। बहुत से लोग जानते हैं कि मेरे पास दिशा की बहुत अच्छी समझ है। यह इस चुम्बक के माध्यम से आता है जो परफेक्ट है। यह वो चुम्बक है जो आपको चिपकाए रखता है या समायोजित करता है या हर समय आत्मा की ओर इशारा करता है। यदि तुममें शुद्धता की भावना नहीं है, तो तुम इस या उस तरफ झुल जाओगे। अचानक तुम एक बहुत अच्छे सहजयोगी बन जाते हो, कल तुम शैतान बन जाते हो – क्योंकि कुछ ऐसा मौजुद नहीं है जो तुम्हें आत्मा के महान विचार से बांधे रखे। आइए इस सत्य का सामना करते हैं। अब समय आ गया है कि हम सभी सहजयोगियों के लिए, कि हमारे भीतर सबसे बड़ी चीज सेक्स नहीं हो, बल्कि शुद्धता हो। और यही आपको परिपक्व बनाएगा।

यह बहुत आश्चर्यजनक है कि,बोर्दी में कुछ लोग ऐसा व्यवहार कर रहे थे मुझे इसके बारे में पता चला, मैं चकित हुई थी, वे बोर्दी के ग्रामीण जो निर्दोष, सरल लोग हैं, के सामने ऐसा व्यवहार कैसे कर सकते हैं ? लेकिन इसका सबसे अच्छा हिस्सा यह है कि जब आप तुच्छ और निरर्थक व्यवहार में लिप्त होते हैं, अपनी पवित्रता का अपमान करते हैं, तो आप वास्तव में इसकी कार्यक्षमता में कमी ले आते हैं। जैसे, अगर आप अपना पेट्रोल फेंक देते हैं तो, आपकी कार नहीं चल सकती, ऐसे ही, आपके साथ कुछ हो जाता है। आप हर समय लोगों को चुभाते और बेहूदा बातें करते रहते हैं और यह सब करने की क्या जरूरत है, मुझे समझ में नहीं आता है। और फिर तलाक के मामले पर आकर यह खत्म होता है।

एक बार जब मैं सेल्फ्रिज में गयी थी, तो मुझे आपको एक बहुत ही रोचक कहानी बतानी चाहिए। और ऐसी भीड़ में दो लोग थे, पुरुष और महिला, हर समय एक दूसरे को चूम रहे थे, इस बात से बिना परेशान हुए कि, दूसरे लोग भी वहां हैं जो उसी एस्केलेटर पर जा रहे हैं। एस्केलेटर पर वे चुंबन कर रहे थे, जिस जगह पर वे चुंबन कर रहे थे, मेरा मतलब है, यह वहां उपस्थित सभी भारतीयों को, या शायद अन्य लोग भी जैसे, चीनी, मिस्रवासी को प्रताड़ित करना था। ऐसी प्रदर्शनी चल रही है। और मैंने उन्हें अगली बार देखा। वे चुंबन नहीं कर रहे थे।

मैंने पुछा, “क्या हुआ?”

“हम तलाकशुदा हैं।”

मैंने कहा, “तुम उस दिन इतना चूम क्यों रहे थे?”

तो, उन्होंने कहा, “चूंकि हम तलाक लेने जा रहे थे, इसलिए इसका अंतिम स्वाद लेना चाहते थे।”

क्या ही स्तर है। कल्पना कीजिए कि क्या स्तर है। क्या प्यार, किसी के प्रति आपकी क्या भावना है, ऐसा कुछ नहीं। हर समय एक-दूसरे से झगड़ना, तलाक के मामलों में परिणत होना और यह सब दिखावा करना। कोई भी गहन व्यक्तित्व वाला इन चीजों को बाहर प्रदर्शित नहीं करता है। बेशक, मुझे यहां बताया गया है कि यहां पब्लिक स्कूल में कहा जाता है कि आपको कभी भी अपनी भावनाओं को प्रदर्शित नहीं करना चाहिए। लेकिन अन्यथा, आप और बहुत कुछ हास्यास्पद या बेशर्म दिखा सकते हैं, । लेकिन आपकी भावनाएं नहीं। यह कैसी बेतुकी जगह है। आपने इन सभी मूल्यों को भेड़ की तरह बिना सोचे समझे स्वीकार कर लिया है।

जैसे मैं फ्रांस में थी, एक लड़की आई और वह रो रही थी। उसने कहा, “मैं नही करूंगी – भयानक, भयानक, मैं इन मनोवैज्ञानिकों के पास कभी नहीं जाऊंगी।”

तो मैंने कहा, “क्यों?”

“वे मेरे पिता के बारे में गंदी बातें कह रहे थे।”

कल्पना करना। और लोगों ने इस भयानक फ्रायड के ऐसे विचारों को स्वीकार कर लिया। जो मूल रूप से गलत है। चाहे वह ऐतिहासिक रूप से कुछ भी हो, या जो कुछ भी हो, बेहतर होगा कि आप इसे त्याग ही दें। जो कुछ भी दैवीय रूप से गलत है। जो दिव्यता में सही है वही ठीक है।

लेकिन अब एक वास्तविक आपत्ति यह है कि लोग जब विदेश जाते हैं, पति-पत्नी और यह और वह, वे एक-दूसरे को चूमते हैं और एक-दूसरे को चिढ़ाते हैं। क्या ज़रुरत है? तुम उस व्यक्ति को चूमते हो और आ कर और मुझे उसी व्यक्ति के विरुद्ध बताते हो, मैंने यह देखा है। अगर किसी चीज़ की रक्षा की जानी चाहिये, तो यह है आपकी शुद्धता, आपकी गोपनीयता। इसलिए आपके पास कुछ भी करने की इच्छाशक्ति नहीं है, इच्छाशक्ति नहीं है। कोई भी मूर्ख व्यक्ति आ कर तुमसे कुछ कहे तो, तुम कहोगे, “ठीक है। हम स्वीकार करते हैं।” आपके व्यक्तित्व का सार क्या है – आपकी पवित्रता है। और सहज योग में, आप जो कुछ भी खो चुके हैं, उसे आप पुनः स्थापित कर सकते हैं। इसलिए गहराई का अभाव है। और यही कारण है कि लोगों के स्वभाव में स्थिरता नहीं होती, एकरूपता नहीं होती। अब आपको मेरे व्याख्यान सुनने के लिए बारह सौ लोग मिलेंगे और अगले दिन एक भी नहीं, सब गायब हो जाते हैं। क्योंकि कोई उनका कोईआधार नहीं है, तुम्हें पता है। ढीले कनेक्शन की तरह। कोई संबंध नहीं है, सम्बंध जोड़ने वाला बिंदु आपकी पवित्रता है।

तो, कोई सामंजस्य नहीं है, स्थापयति [भारतीय – का अर्थ है “स्थापित होने की प्रकृति”?] नहीं है। यदि आप उनसे कहते हैं, “आपको सुबह उठना है, स्नान करना है, कुछ पूजा करनी है,” तो यह उनके लिए बहुत अधिक है। लेकिन माना की, अगर आप एक भारतीय महिला या मुझे कहें, “कि आप ऐसी और वैसी पोशाक पहनिये,” मैं बस नहीं कर सकती, मैं बस नहीं कर सकती, नहीं, ऐसा संभव नहीं है। संभव नहीं है। मैं पूरी रात जाग सकती हूं, लेकिन वह काम जो मैं नहीं कर सकती, बस नहीं कर सकती।

तो प्राथमिकताएं बदल जाती हैं क्योंकि आपका चित्त कहां है। तुम्हारे भीतर सब कुछ है। तुम पवित्रता के भण्डार हो, जो तुम्हारी शक्ति है। तुम्हारे भीतर ही सब कुछ, कुछ भी नहीं गया है, सब कुछ है। वह सारी सुगंध तुम्हारे भीतर है। सब कुछ सुरक्षित है, अपनी निंदा न करें। और आप बहुत भाग्यशाली हैं कि यह सब बताने के लिये मैं यहां हूं। तुम बहुत भाग्यशाली हो मैं तुम्हारे साथ हूं। क्या आप उस बिंदु को समझते हैं? आपको हिमालय जाने की जरूरत नहीं है; आपको अपने सिर पर खड़े होने की जरूरत नहीं है। आपको ऐसा कुछ नहीं करना है। आप देखिए, पहले ये संत बैठते थे, आप जानते हैं, आप विश्वास नहीं करेंगे, ठंडे जमे हुए पानी में या हिमालय पर खुले में वे लगातार घंटों बैठकर अपने बेहूदा विचारों को जमा देते थे। अब इसकी कोई जरूरत नहीं है। यह सब बहुत आसान बना दिया है। लेकिन अब अपनी प्राथमिकताएं बदल लें। एक बार पूरा चित्त आपकी अपनी आत्मा पर चला जाता है तो आपको आश्चर्य होगा कि पूरा चार्ट बदल जाएगा।

सबसे महत्वपूर्ण बात क्या है? प्रतिदिन ध्यान करना। मैंने ऐसे लोगों को देखा है जो कुछ कोर्स करना चाहते हैं, उदाहरण के लिए, मैंने कहा कि ” बेहतर होगा कि आप कोई कोर्स करें।” हर दिन वे उस पाठ्यक्रम के लिए जाएंगे और उस कक्षा में शामिल होंगे और वे इसे पूरा करेंगे और वे उस पाठ्यक्रम को पास करेंगे और इसे पूरा करेंगे और इसे पूरा करेंगे। लेकिन ध्यान वे नियमित रूप से नहीं कर सकते। लेकिन अब थोड़ा फर्क है जो, आपको समझना चाहिए, कि एक बार जब हमें उस आनंद का आभास हो जाता है जो शाश्वत है, तो हम उस आनंद की ओर बढ़ते हुए, अधिक से अधिक और उस आनंद के सागर में खुद को स्थापित करना शुरू कर देते हैं। थोड़ा। आप देखिए, जब कोई आपको तैराना चाहता है , तो आप डर जाते हैं, आप ऐसा नहीं करना चाहते हैं, आप ठोस किनारे पर बहुत खुश हैं, आप तैरना नहीं चाहते हैं। कोई तुम्हें धक्का भी देता है, फिर तुम पीछे हो जाते, “नहीं, बाबा, मैं यह नहीं कर सकता।” लेकिन एक बार जब आप तैरना सीख जाते हैं तो आप उस तैराकी का आनंद लेते हैं। और जब आप इसे पसंद करते हैं तो आप इसे हर दिन, नियमित रूप से, धार्मिक रूप से करना चाहते हैं। तो, थोड़ा साअंतराल है, जिसे पार कर उपलब्धि करना है।

दूसरी बात यह है कि जैसा कि मैं हमेशा कहती आयी हूं, तुम कमल हो, लेकिन कीचड़ के नीचे। और आप जानते हैं कि कीचड़ क्या है, जबकि भारत महासागर है, तो कमल के लिए पानी से बाहर आना बहुत आसान है। लेकिन दलदल से बाहर निकलना बहुत मुश्किल है। जैसे, कोई दलदल में गिर जाता है। यदि आप अधिक पैर चलाते हैं, तो आप और गहरे धंस जाते हैं। अगर आप कुछ भी करने की कोशिश करते हैं तो आप और गहरे धंस जाते हैं। सबसे अच्छा तरीका है कि इसे देखते रहें और स्थिर रहना। और वह सबसे अच्छा तरीका है – स्वयं को साक्षी बन देखना। लेकिन तुम्हारा चित्त ठीक नहीं है, तुम साक्षी कैसे बनोगे? चित्त ऐसा है कि: कोई उस तरफ जा रहा है – उस व्यक्ति को आप देखेंगे। एक अन्य व्यक्ति जा रहा है – उस व्यक्ति को आप देखेंगे, प्रत्येक व्यक्ति को अवश्य देखना है। लेकिन तुम फूल नहीं देखते, तुम पेड़ नहीं देखते, तुम धरती माता नहीं देखते, तुम कुछ भी नहीं देखते। आप जो देखते हैं वह कुछ निराशाजनक रूप से बुरा है, आपसे भी बदतर।

आज वह दिन है जब वे कहते हैं कि चंद्रमा को नहीं देखना चाहिए। यदि आप चंद्रमा को देखते हैं, तो यह अशुभ हो जाता है और आपकी बदनामी होती है। कहते हैं श्रीकृष्ण ने चांद देखा और फिर उनका नाम बदनाम हुआ; वे रणछोड़ [भारतीय] थे, अर्थात उन्हें युद्ध के मैदान से भागना पड़ा था। लेकिन वह उसकी चाल थी कि, उसे भागना पड़ा। तो माना जाता है कि, आपको चांद नहीं देखना चाहिए। इसका कारण कि क्यों ऐसा कहा जाता है ऐसा है कि आज हमें श्री गणेश को देखना है, जो धरती माता हैं, जो धरती माता के माध्यम से कार्य करते हैं। हमारे पास ज्यादातर चीजें धरती माता से हैं। तो इस समयआपको आज धरती माता, कुंडलिनी और श्री गणेश के दर्शन अवश्य करने चाहिए। धरती माता ने श्री गणेश को बनाया है। तो तुम बाहर कुछ नहीं देखते, तुम चांद भी नहीं देखते। केवल धरती माता को देखें। क्योंकि धरती माता ने अपने प्रेम और करुणा में हमारे लिए बहुत कुछ किया है, आपकी कुंडलिनी ने आपके लिए बहुत कुछ किया है। और उसका पुत्र, जो हमारे भीतर अबोधिता है, उसकी आज पूजा की जानी चाहिए क्योंकि उसने अधिकतम कार्य किया है। तमाम अपमानों के बावजूद, सभी उपहास, सारी गंदगी, हर तरह की बकवास, फिर भी वह एक छोटे बच्चे की तरह हमारा मनोरंजन करने के लिए खड़े होते है।

अगर श्री गणेश आपके भीतर हैं तो आप बच्चे की तरह बन जाते हैं, बच्चे की तरह मासूमियत, आप किसी पर कुत्ते के भौंकने की तरह गुस्सा नहीं करते; कुछ सहजयोगी हैं जिन्हें मैं जानती हूँ जो हमेशा भौंकते रहते हैं, जैसे भारत में कुत्ते या भिखारी। लेकिन आप एक ऐसे बच्चे की तरह हो जाते हैं जो बहुत प्यारा है, जो हमेशा आपका मनोरंजन करने की कोशिश करता है, हमेशा अच्छी बातें कहने की कोशिश करता है, हमेशा आपको खुश करने की कोशिश करता है। ऐसे आनंद का स्रोत। और इस तरह आप आनंद के स्रोत, सुख के स्रोत, पूर्ति के स्रोत बन जाते हैं। हर समय हँसी और खुशी से बुदबुदाते हुए, खूबसूरत चीजों से बुदबुदाते हुए। जि तरह से बच्चे आपका मनोरंजन करते हैं, बस देखें और देखें। वे छोटे-छोटे हाथों के बल कैसे घूमते हैं, वे इसे कैसे पूरा करते हैं। वे कैसे जानते हैं कि सही बात क्या है। एक बच्चा जो एक साकार आत्मा है, एक बड़े व्यक्ति की तुलना में बहुत अधिक समझदार है, मैंने यह देखा है।

जैसे मेरी सबसे छोटी पोती लगभग तीन साल की थी और नौकरानी मेरी साड़ी को तह कर रही थी और गलती से उसने उसे जमीन पर रख दिया। यह बच्चा बस इसे सहन नहीं कर सका। उसने अब साड़ी उठाई, सिर पर रख कर सोफ़े पर रख दी।

उसने कहा, ” आपका इस साड़ी को जमीन पर रखने का क्या मतलब है, आप मेरी दादी के बारे में क्या जानते हैं? वह देवी-देवताओं की देवी हैं और आपने उनकी साड़ी को जमीन पर रख दिया। कुत्ते अब तुम्हें काटने वाले हैं,” उसने कहा, “सावधान रहो।”

और उसने फिर जाकर साड़ी रखी, उसे चूमा और चूम करऔर कहा, “माँ, उसे माफ कर दो, दादी, कृपया, इस महिला को माफ कर दो, वह नहीं जानती कि उसने तुम्हारे साथ क्या किया है”।

लेकिन ऐसी संवेदनशीलता तुम्हारी पवित्रता की गहनता से आती है। आप बच्चों की बात सुनिये और आपको आश्चर्य होगा कि किस तरह वे बात करते हैं और क्या कहते हैं, कैसे व्यवहार करते हैं, कैसे वे आपको खुश करने की कोशिश करते हैं। मेरा मतलब है, पश्चिम में बच्चे बहुत खराब होते हैं, मुझे कहना होगा, वे आपको इतना आनंद नहीं देते हैं, वे आपको बहुत परेशान करते हैं। क्योंकि फिर वही बात। यदि पिता और माता में पवित्रता नहीं है, तो बच्चों को ठीक नहीं लगता, वे शांत महसूस नहीं करते, वे बेचैन हो जाते हैं, और फिर उसी प्रकार की बैचेनी वे अपने भीतर विकसित कर लेते हैं। पवित्र व्यक्ति कभी बाधा ग्रसित नहीं हो सकता, यह मेरा वचन है, कभी आविष्ट नहीं हो सकता। आप बहुत बुद्धिमान हो सकते हैं, आप कुछ भी हो सकते हैं, आप एक महान लेखक हो सकते हैं, लेकिन आप ग्रसित हो सकते हैं। लेकिन एक पवित्र व्यक्ति, एक साधारण पवित्र व्यक्ति कभी भी आविष्ट नहीं हो सकता। भूत पवित्र लोगों से डरते हैं। अगर एक पवित्र व्यक्ति सड़क पर जा रहा है, तो सभी भूत भाग जाते हैं। वे बस भाग जाते हैं। कम से कम कई मामले तो मैं जानती हूं लेकिन उनमें से कुछ तो मैं आपको बता सकती हूं, कि उनमें से तीन ऐसे भी थे, जो रात के करीब बारह बजे एक सड़क पर मोटरसाइकिल से जाते थे। और उनमें से कुछ बाधा ग्रस्त लोगों ने मुझे पत्र लिखकर कहा, “कृपया उन्हें रात में वहां से जाने की अनुमति न दें, क्योंकि हम कहां जाएं और रहें?”

मैं हैरान थी। ये ऐसे लोग हैं जिन पर किसी तरह के भयानक भूत सवार थे जो रात में इन पेड़ों पर जाकर आराम करते थे, जहां से ये तीन व्यक्ति मोटरसाइकिल पर गुज़रते थे और उन्होंने वास्तव में मुझे पत्र लिखा था। बहुत बाधा ग्रस्त लोग, मैं उन्हें जानती थी, ऐसा कहते हुए कि, “उनसे कहो कि वे उस रास्ते पर न जाएँ, क्योंकि हम रहने के लिए कहाँ जायें?” और वे स्वयं पागल, पागल लोगों जैसे थे।

मैंने कहा, “तुमने ऐसा क्यों लिखा?”

उन्होंने कहा, “ये लोग उसी तरफ जाते हैं और हमें परेशान करते हैं।”

और हमारे भीतर की नकारात्मकता श्री गणेश के प्रकाश से गायब हो जाती है। आप इसे किसी अन्य व्यक्ति में इतनी स्पष्ट रूप से देख सकते हैं। यदि आपके पास पवित्रता ना हो, तो आप कभी नहीं देख सकते हैं कि कौन अपवित्र या पवित्र है, आप नहीं कर सकते। सब एक जैसे, “बहुत अच्छे, बहुत अच्छे, बहुत अच्छे इंसान, बहुत अच्छे इंसान”। मेरा मतलब है कि वास्तव में बाधा ग्रसित लोगों को बहुत अच्छे लोगों के रूप में प्रमाणित किया जाता है, सहज योग में भी कभी-कभी और मैं सोचने लगती हूं, “क्या हो रहा है, यह क्या है? ऐसे कैसे इन लोगों को प्रमाणित किया जाता है? क्या वे इसे महसूस नहीं कर पाते?” कोई प्रकाश नहीं है। भले ही आप अपना बोध प्राप्त कर लें, भले ही आपकी आत्मा आपकी सामूहिक चेतना का काम कर रही हो, भले ही आप दूसरों को आत्म-साक्षात्कार दे रहे हों, यदि आपके पास कोई पवित्रता नहीं है, तो आप कहीं नहीं हैं। यह एक टूटे हुए कांच की तरह है जो कुछ प्रतिबिंबित करने की कोशिश कर रहा है; यह कभी भी ठीक तस्वीर नहीं दे सकता।
यह बहुत महत्वपूर्ण है। और मुझे अब आपको यह बताना होगा। मेरे द्वारा आपको यह बताने का समय आ गया है कि – यह हमारे जीवन का रोड़ा है। पहली बात लोग पूछेंगे, “मैं किससे शादी करने जा रहा हूँ?” इतनी जल्दी क्या है? बेशक, शादी को मैं शुभ बात बताती हूं, शादी होनी चाहिए, सामूहिक मंजूरी होनी चाहिए, सब कुछ, लेकिन किस लिए? हमारे भीतर पवित्रता की पूजा करने के लिए। फिर उनकी शादी होती है, फिर उनके बच्चे होते हैं। फिर वे एक घर चाहते हैं, फिर वे यह चाहते हैं। इस तरह संकुचित विचारों का एक धंधा चलता है, और आगे, और आगे बढ़ता है, और आपके जीवन का प्रकाश नहीं फैलता है। लेकिन मैं ऐसे लोगों को जानती हूं जो बस नर्क में ही थे और बाहर आए हैं और प्रकाश फैलाया है, सुंदर उल्कापिंड की ऊंचाइयां उन्होंने हासिल की हैं। मैंने ऐसे लोगों को देखा है।

तो आज आप – अपने भीतर के श्री गणेश की पूजा करने आए हैं। श्री गणेश के रूप में मेरी पूजा करने का औचित्य मुझे समझ में नहीं आता। क्योंकि मैं वह हूं। जब आप मेरी पूजा कर रहे हैं तो आप चाहते हैं कि आपके भीतर श्री गणेश जाग्रत हों। इसे अपने भीतर जागृत होने दो। जो मैं कहती हूं वह तुम्हारे भीतर जागृति का मंत्र बन जाए, ताकि मेरे बच्चों के रूप में तुम पवित्रता के परम सुख का आनंद लो, जैसे मैंने अपने पूरे मानव जीवन और मेरे सभी दिव्य जीवन का आनंद लिया है। आप उतनी ही मात्रा का आनंद पायें, मुझे यही चाहिए। कम से कम आपको इसका स्वाद तो लेना ही चाहिए।
मैं आपको एक ऐसी बात के बारे में बता रही हूं जो शायद आपने पहले नहीं सुनी होगी। लेकिन आपने कुंडलिनी के बारे में भी कभी नहीं सुना। आपने इस तरह आत्मसाक्षात्कार के बारे में कभी नहीं सुना होगा। लेकिन आज, मुझे लगता है कि संयोग से, बिल्कुल सहज तरीके से, इस पूजा की व्यवस्था की गई थी। मेरी यह पूजा बंबई में होनी थी। यह सब व्यवस्थित था; लोग इस पूजा को करने के लिए वहां आने को तैयार थे। मेरा मतलब है, इंग्लैंड में या पश्चिम में गणेश पूजा इतनी महत्वपूर्ण है कि मैंने सोचा कि सही समय के बिना भी रोम में यह एक करना बेहतर होगा, जो उन बुनियादी चीजों में से एक है जिसने मनुष्य की शुद्धता को बर्बाद कर दिया है। रोमनों ने इसे शुरू किया और अन्य लोगों ने इसे जारी रखा। लेकिन यह यहाँ सदाशिव के कमल चरणों में ब्राइटन में होना था। लेकिन अंग्रेजों को पता होना चाहिए कि उनके पास इतनी सोने जैसी जमीन है और वे इसके लायक नहीं हैं। उन्हें इसके लायक होना है।

कल्पना कीजिए, आप सदाशिव की भूमि में रह रहे हैं, जहां पानी के मोती भी बर्फ – यानी आसुत जल, स्वच्छ, साफ, सफेद। जहां श्री गणेश अपने पिता के चरण धोते हैं। जहां पवित्रता ही आपकी माता के रूप में निवास करती है। और आपको उस प्रतिष्ठित पद के योग्य होना चाहिए। अंग्रेजी सहजयोगियों को बहुत विकसित होना है। ठीक इसके विपरीत अंग्रेज थे। सदाशिव की भूमि से ठीक इसके विपरीत आ रहे हैं। घोर अहंकार, अहंकार इतना भयानक, जो शिव के स्थान पर सोचा भी नहीं जा सकता। सभी अनाचारी लोग अभिमानी होते हैं। नहीं तो वे खुद को कैसे माफ कर सकते हैं? तुम किसी भी वेश्या से बात करो, दो मिनट में तुम पाओगे कि वह एक वेश्या है क्योंकि वह बहुत अहंकारी है, “क्या हुआ? मैं एक वेश्या हूँ, तो क्या?” अहंकार अपवित्र व्यक्तित्व की निशानी है। और ऐसा व्यक्ति दुराग्रही भी हो जाता है क्योंकि उसे शर्म आती है, दूसरों का सामना करने में शर्म आती है। लेकिन एक पवित्र व्यक्तित्व खुला है, उसे किसी से क्यों डरना चाहिए? हर किसी से अच्छी तरह से बात करता है, हर तीसरे व्यक्ति से प्यार में पड़े बिना पूरी मासूमियत और सादगी से सभी के साथ दयालुता से बात करता है। और ऐसा कि, किसी भी शख्स को इस बात का अहसास होना होगा कि यह देश आपको एक उद्देश्य के लिए दिया गया है और यदि आप उस स्तर तक नहीं आते हैं, तो आपको फेंक दिया जाएगा।

तो, अपनी पवित्रता का सम्मान करना ही मेरा सम्मान करना है, क्योंकि मैं तुम्हारे भीतर पवित्रता के रूप में निवास करती हूं। यदि श्री गणेश शुभ हैं, तो मैं आपके भीतर पवित्रता के रूप में निवास करती हूं। पवित्राता कभी आक्रामक नहीं होती, कभी कठोर नहीं होती, क्योंकि इसकी कोई आवश्यकता नहीं है, आप जानते हैं। कोई जरूरत नहीं, तुम इतने शक्तिशाली हो, तुम इतने ताकतवर हो, कि किसी पर हमला करने की जरूरत नहीं है। तुम क्यों आक्रमण करो, तुम किसी से नहीं डरते? यह बहुत उदार है, यह बहुत दयालु है, यह बहुत सुंदर है, हमेशा ताजा और युवा है, फिर भी इतना उदात्त और इतना प्रतिष्ठित है।

अब मुझे यहां आए बारह वर्ष बीत चुके हैं। दो साल और, भीतर और बाहर, बहुत गहन कार्य की आवश्यकता है। इन दो वर्षों के लिए हमें बहुत मेहनत करनी है, बहुत कठिन, वास्तविक तपस्या में जाना है, हम सभी को, चाहे वह पुरुष हो या महिला। और फिर हम देखेंगे। (छुट गया हिस्सा) मैं कह सकती हूं कि, हमने अच्छा काम किया है, थोड़ी सी छलांग, साहस और विश्वास से हम बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं। अपने पर विश्वास रखो। मानसिक विश्वास नहीं बल्कि वास्तविक पवित्रता विश्वास है। शुद्धता आपके विश्वास का एकत्रित रूप है। (53:38) जब आप ईश्वर में विश्वास रखते हैं, तो आप पवित्र होते हैं। जब आपको खुद पर विश्वास होता है तो आप पवित्र होते हैं। आपको अपनी पत्नी पर भरोसा है, आप पवित्र हैं। आपको अपनी पत्नी पर विश्वास क्यों करना चाहिए? क्योंकि तुम एक पवित्र व्यक्ति हो, वह अशुद्ध कैसे हो सकती है? अपने बच्चे में आपका विश्वास – पवित्रता है, क्योंकि आप पवित्र हैं, आपका बच्चा कुछ और कैसे हो सकता है? आस्था का क्रिस्टलीय रूप पवित्रता है। और यह कि आप आत्मसाक्षात्कार होने से पहले भी प्राप्त कर सकते हैं। बहुतों के पास है। वास्तव में, जैसे कपूर, जो आप देखते हैं, उड़नशील है और वाष्पित हो सुगंध देता है, उसी तरह हम कह सकते हैं कि पवित्रता श्रद्धा में कार्यांवित हो जाती है।

यदि आपके पास पवित्रता नहीं है, तो आप किसी भी चीज़ में विश्वास नहीं कर सकते। क्योंकि या तो आप अपनी भावनाओं से निपट रहे हैं कि आप भावनात्मक रूप से मुझसे जुड़े हुए हैं या हो सकता है कि आप मानसिक रूप से मुझसे जुड़े हों। लेकिन अगर आपके पास पवित्रता की भावना है तो प्रकट विश्वास होगा। अपने भीतर विश्वास करने की जरूरत नहीं है कि, “अब माँ मुझे अपने भीतर विश्वास होगा।” आप यह नहीं कर सकते। आस्था एक ऐसी चीज है, जो अस्थिर है और वाष्पशील सुगंध पवित्रता से आती है।

तो, आज से हम सितारों या चाँद को नहीं देखने जा रहे हैं, (55.29) लेकिन आप धरती माँ को देखने जा रहे हैं। ब्रह्मांड में वह कुंडलिनी का प्रतिनिधित्व करती है, जो पवित्रता के अलावा और कुछ नहीं है। वह सिर्फ शुद्धता है। क्या आप इस पर विश्वास कर सकते हैं? क्या शक्ति है। मातृत्व, हर चीज़ बस पवित्रता है। पितृत्व, कोई भी रिश्ता पवित्रता है। शुद्धता फिर से पवित्रता की सुगंध है। अच्छाई, करुणा, सब कुछ पवित्रता से आता है, पवित्रता की ऐसी भावना, जो मानसिक नहीं हो। यदि आप मानसिक रूप से पवित्र हैं, तो आप भयावह हो सकते हैं। जैसे कुछ नन हैं या उनमें से कुछ लोग जो तपस्वी हैं, वैसे नहीं। शुद्धता आपके भीतर एक अंतर्निहित अंतर्निमित कुंडलिनी है, जो कार्य करती है क्योंकि यह मुझे समझती है। वह मुझे समझती है। वह मुझे जानती है, वह मेरा अंग-प्रत्यंग है, यह मेरा प्रतिबिंब है। इसलिए पवित्र होकर अपनी कुंडलिनी को मजबूत बनाएं। लोग बहुत आकर्षक दिखने के लिए कई ऐसी वैसी चीजें करने की कोशिश करते हैं। इस तरह अपनी ऊर्जा बर्बाद मत करो; तुम संत हो, संतों की तरह जियो। परंपरागत रूप से हम जीते हैं, हमें उसी तरह से जीना होगा और परंपरा के माध्यम से विकसित होना होगा; कुछ नया मत करो, कुछ बेतुका, अर्थहीन। हमें किसी को आकर्षित नहीं करना है। शुद्धता फूल में सुगंध सम है, जो मधुमक्खियों को आकर्षित करती है, फूल के शहदसम है, हमारे अस्तित्व का सार है।

तो, इस बार आप सभी भारत आ रहे हैं, मेरा आपसे अनुरोध है कि मेरा सम्मान रखने के लिये बस आप दुर्व्यवहार न करें। जैसा कुछआप तस्वीरों और फिल्मों में देखते हैं और वह सब बकवास है, उस तरह का बचकाना व्यवहार नहीं करना। आप इन सबसे ऊपर हैं। चित्त और उपलब्धियों को अपनी पवित्रता के आसन से देखना है। हम अपना आसन नहीं छोड़ सकते, हमारी प्रशंसा हो या न हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। हम अपनी सीट नहीं छोड़ सकते। इन सभी अवधूतों की तरह भारतीय कहते हैं तकिया सोडा सना – यानी हम अपना आसन नहीं छोड़ेंगे। हम अपनी सीटों पर हैं। यह हमारा आसन है, कमल में। हम कमल को नहीं छोड़ सकते। हम कमल में बैठे हैं। वह हमारी सीट है। तब ये सभी निरर्थक चीजें जो तुमने अर्जित की हैं, छूट जाएंगी। आप देखेंगे कि आप सुंदर प्राणी बन जाएंगे। सारे भूत भाग जायेंगे, सब पकड़ भाग जायेंगी। लेकिन इसका मतलब कठोरता नहीं है, बार-बार कह रही हूं। यह आपके अस्तित्व का सम्मान है। जैसे आप बाहर मेरा सम्मान करते हैं, वैसे ही आप भीतर मेरा सम्मान करते हैं। इतना ही सरल है।

श्री गणेश की पूजा करने के लिए आज का दिन हमारे लिए बहुत अच्छा है। वह सबसे प्रथम और सबसे पहले पूजे जाने वाले हैं। और जब आप उसकी आराधना करते हैं, तो आपको यह महसूस करना चाहिए कि आप उसकी उस अभिव्यक्ति की भी पूजा कर रहे हैं, जो कि ईसामसीह है। जो कोई भी ईसामसीह के बारे में घटिया बात करता है, आपको ऐसे व्यक्ति से घृणा करनी चाहिए। आप बौद्धिकता से ईसामसीह को नहीं जाना सकते। जो कोई भी ऐसा करता है, उसका उस व्यक्ति से कोई लेना-देना नहीं है। ईसामसीह अबोधिता है। यदि आपके पास अपनी पवित्रता की गहनता नहीं है, तो आप उसे नहीं समझ सकते। आप उसकी पूजा नहीं कर सकते। सबसे अच्छा वे यही कर सकते हैं कि आपकी शुद्धता को समाप्त कर दें ताकि आप उसे कभी न पहचानें। वह सब आपके ध्यान के प्रयासों से आपको हासिल होता है। अब प्रयास सिर्फ इतना होना है कि आपको ध्यानमय होना है। बस इतना ही। अपना ध्यान चालू रखें। ध्यानी बनने की कोशिश करें। चीजें देखें। जो साक्षी अवस्था है वह और कुछ नहीं अपितु यह है कि तुम ध्यानस्थ हो।

इसलिए, मैंने यह भी तय किया है कि मैं कल सुबह यहां ब्राइटन के लोगों से मिलूंगी और यदि संभव हो तो मैं सभी अंग्रेज लोगों से मिलूंगी, परसों शाम उन्हें यह बताने के लिए कि पवित्रता की उस स्थिति को प्राप्त करना उनके लिए कितना महत्वपूर्ण है। मुझे लगता है कि यह काम कर रहा है। मैं वास्तव में बहुत मेहनत करती हूँ; तुम्हें पता नहीं है कि मैं कितनी मेहनत करती हूं। लेकिन जैसा कि, यह भी उन्होंने कहा है कि, ऐसा भी एक विचार है कि लोग सोचते हैं कि हमारा सारा काम दूसरों को करना चाहिए। यह पाउंड (पैसे)की बचत, इस की बचत, उस की बचत और श्रम की बचत जैसा है। माँ को हमारा सारा काम करने दो। माँ हमारी देखभाल कर रही है। उन्हे सुबह उठना चाहिए। उन्हे ध्यान करना चाहिए। कोई बचत नहीं है। आप बाकी सब कुछ बचा सकते हैं यदि आप बस आप अपनी आत्मा को बचाना जानते हैं। केवल आपका उत्थान महत्वपूर्ण है। एक बार जब आप उन्नत हो जाते हैं, तो सब कुछ बच जाता है। लेकिन पहले खुद को बचाएं। इसके लिए आपको मेहनत करनी होगी। आपको मेहनत करना होगी। आपको अपने भीतर गहरे उतरना होगा, खुद को विकसित करना होगा। आप इसमें काफी सक्षम हैं। किसी को दोष मत दो; अपनी पत्नी, माता, पिता, देश को किसी को भी दोष मत दो। हर कोई इसे कार्यांवित कर सकता है। दूसरे लोगों को मत देखो, अपने आप को देखो, “मैं कहां तक चला गया हूँ? मैंने क्या योगदान दिया है? मुझे इसके साथ आगे बढ़ने दो।” आप सभी।

मैं आभारी हूं कि सभी लोग (01:04:25) इंग्लैंड भर से आए हैं। यह एक तरह से करना अच्छी बात है, लेकिन इस देश को इस स्तर का बनाया जाना चाहिए कि यह यहां आने वाले सभी लोगों के लिए यह एक तीर्थ बन जाए। इसके विपरीत ऐसा न हो कि एक बार वे इंग्लैंड आ जाएं तो, उसके बाद वे सहज योग में कभी न आएं। हो सकता है, इस अहंकार के साथ हो सकता है कि लोगों में शायद ऐसा हो जाए, कि एक बार यहां आने के बाद, वे कहेंगे, “अब और सहज योग नहीं, यह पर्याप्त था।” दूसरी तरफ भारत में , जब वे एक बार भारत जाते हैं, तो फिर वे टिके रहते हैं। मैं कुछ लोगों को जानती हूं कि वे इंग्लैंड आए और जिस तरह से कुछ सहजयोगियों व्यवहार किया और , उन्होंने कुछआश्रम चलाए, वे बस भाग गए। “माँ, कुछ नहीं करना, इंग्लैंड में, जहाँ आपने बारह साल काम किया है आपके विकसित सहजयोगियों को देखने के बाद हम अब सहज योग में नहीं रहेंगे।”

तो आज हम इंग्लैंड की इस खूबसूरत भूमि पर बैठे हैं और हमें कुछ कर्ज चुकाने हैं, इस देश में पैदा होने के, और कर्ज का भुगतान ऐसे है कि हमें महान सहजयोगी बनना है। आप बहुत आसानी से पता लगा सकते हैं कि महान सहज योगी कौन है। जब आप कहते हैं कि, “उस खिड़की को बंद कर दो,” तो आप पाएंगे कि उनमें से अधिकांश बैठे रहेंगे और दूसरों को देख रहे होंगे। मैं यह नहीं कहती कि वे सभी अंग्रेज हैं लेकिन हो सकते हैं। दूसरों से काम करवा लेना कोई तरीका नहीं है। आपको वास्तव में बहुत समर्पित होना होगा। तुम उस स्तर के हो नहीं; मेरा विश्वास करो कि तुम उस स्तर के नहीं हो। अन्य लोगों को मत देखो जो यहां हैं। आप बहुत अलग तरह के लोग हैं। आप खास लोग हैं। सतर्क रहने की कोशिश करें, खुद का सम्मान करें क्योंकि आप अंग्रेज हैं और आपकी एक विशेष जिम्मेदारी है।

तो परमात्मा आप को आशिर्वादित करें।