ORF Radio Interview

Meli Ashram, Vienna (Austria)

1986-07-09 ORF Radio Interview, Vienna, Austria, 50'
Download video (standard quality): Download video (full quality): View and download on Vimeo: View on Youku: Transcribe/Translate oTranscribe

Feedback
Share

[English to Hindi translation]

                                                    साक्षात्कार

श्री माताजी ने अपने प्रारंभिक जीवन के बारे में बात की

 वियना (ऑस्ट्रिया), 9 जुलाई 1986

रिपोर्टर: क्या हम आपके बचपन से शुरुआत कर सकते हैं?

श्री माताजी: हाँ।

रिपोर्टर: क्या आप उन परिस्थितियों का थोड़ा-बहुत वर्णन कर सकते हैं जहां आप बड़ी हुईं ?

श्री माताजी: मेरा परिवार?

रिपोर्टर : हां।

श्री माताजी : मैं बहुत प्रबुद्ध लोगों के परिवार से हूँ। मेरे पिता एक भाषाविद् थे और वे चौदह भाषाओं में निपुण थे। वह छब्बीस भाषाओं के बारे में जानते थे और उन्होने कुरान-ए-शरीफ का भी हिंदी भाषा में अनुवाद किया। मेरी माँ उन दिनों गणित में ऑनर्स थीं। इसलिए दोनों ही बहुत पढ़े-लिखे और प्रबुद्ध लोग थे।

मेरे जन्म के समय मेरी माँ ने कुछ ऐसा सपना देखा था जिसे वे समझा नहीं सकती थीं, लेकिन उसके बाद उन्हें खुले मैदान में जाकर एक बाघ देखने की बड़ी इच्छा हुई। मेरे पिता एक महान शिकारी थे, क्योंकि जिस क्षेत्र में हम रह रहे थे, वहां बाघ एक खतरा थे। यह छिंदवाड़ा नामक एक हिल स्टेशन था। तो एक राजा थे जो मेरे पिता में बहुत रुचि रखते थे। किसी न किसी तरह एक पत्र आया कि एक बाघ है, एक बहुत बड़ा बाघ है जो प्रकट हुआ है और वे उससे डरते हैं कि वह आदमखोर हो सकता है। सो मेरे पिता मेरी माता को उस स्थान पर ले गए। और वे बैठे थे जिसे हम मचान कहते हैं, जहां उन्होंने कुछ बनाया, ताकि लोग एक पेड़ के ऊपर बैठ सकें, जहां से वे अच्छी तरह से शूट कर सकें। और फिर मेरी माँ मुझे बताती है कि एक बहुत बड़े आकार का एक बड़ा विशाल बाघ, बहुत ही सुंदर ढंग से मैदान पर दिखाई दिया। और उसे बाघ के प्रति असीम प्रेम का अनुभव हुआ। वह पूर्णिमा का दिन था और उसे बाघ के प्रति अत्यंत दया का अनुभव हुआ। और जब मेरे पिता ने गोली चलाने के लिए अपनी बंदूक उठाई, तो उसने उसे रोक दिया और उसने उसे अनुमति नहीं दी। और बाघ चला गया और वह फिर कभी उस जंगल में नहीं आया। लेकिन इसने मेरे पिता को सोचने पर मजबूर कर दिया – क्योंकि वे स्वयं एक साक्षात्कारी आत्मा थे – वह कोई होना चाहिए, जिसे हम देवी दुर्गा कहते हैं, जो एक बाघ से प्यार करती है, वह मेरी माँ से पैदा होगी, क्योंकि लक्षण बल्कि अजीब थे कि एक महिला पसंद करे एक बाघ इत्यादि को देखना। तो उन्होने मेरी माँ से कहा, “अब क्या तुम संतुष्ट हो?” क्योंकि वे बंदूक से संघर्ष कर रहे थे। उन्होंने कहा, “क्या आपके गर्भ में कोई दुर्गा बैठी है कि आप बाघ की रक्षा करने की कोशिश कर रही हैं?” उसने कहा, “हाँ, हाँ, तो इसे अभी बंद करो। मैं तुम्हें अनुमति नहीं दूंगी।”

ऐसे ही मेरे जीवन में कई घटनाएं हुईं चूँकि मैं एक ईसाई परिवार से हूं – प्रोटेस्टेंट – और जब मैं पैदा हुई थी तो मेरी मां को कोई प्रसव पीड़ा या कुछ भी महसूस नहीं हुआ था और बस मैं पैदा हो गई; उसे पता भी नहीं चला कि कैसे। और मेरे शरीर पर बिलकुल भी खून नहीं था,  मैं स्वच्छ धुली हुई थी। इसलिए उन्होंने मेरा नाम निर्मला रखा। लेकिन मेरी दादी ने कहा कि उसे निष्कलंक कहा जाना चाहिए, यानी जिस पर कोई दाग न हो। लेकिन वह पुरुष नाम है। तो उन्होंने कहा, “ठीक है, हम उसे निर्मला कहेंगे, जिसका अर्थ वही है, बेदाग।” अब ये सभी घटनाएं, और फिर मेरे पिता एक साक्षात्कारी   आत्मा होने के नाते, उन्होंने मुझसे जबरदस्त चैतन्य महसूस किया, और उन्हें लगा कि यह जीव महान है और वह इस जीवन में कुछ महान करेगी। मुझे नहीं पता क्यों, लेकिन मुझे नहीं पता कि उन्होने सपना देखा था या वह वैसे ही इसे समझ गये थे, लेकिन अगर मुझे याद है कि उन्होंने हर समय मुझसे बात की थी, तो वह कहते थे कि, “आपको अपने जीवन में सामूहिक बोध देने का एक तरीका खोजना होगा। हर समय ”।

जैसा कि मैंने आपको बताया, वह बहुत सी चीजों के एक महान विद्वान और बहुत व्यापक रूप से पढ़े जाने वाले व्यक्ति थे। तो उन्होंने मुझे धर्म, विभिन्न धर्मों में अच्छी शिक्षा दी, और मनुष्यों के बारे में अच्छी शिक्षा भी दी, उनकी समस्याएं क्या हैं, वे इस तरह की प्रतिक्रिया क्यों करते हैं, वे परमात्मा को क्यों नहीं अपनाते, वे पाखंडी क्यों हैं। तरह-तरह की बातें उन्होने मुझसे कीं। वह कुंडलिनी के बारे में भी जानते थे, लेकिन इतना नहीं। बेशक, जब मैं पैदा हुई तो मैं खुद कुंडलिनी के बारे में जानती थी। यह सब मुझे बचपन से ही पता था। मैं एक बहुत जागरूक व्यक्ति थी, बेहद जागरूक व्यक्ति थी। लेकिन मुझे नहीं पता था कि किससे बात करूं, क्योंकि लोगों में वह जागरूकता नहीं थी। आप सभी से इस तरह बात नहीं कर सकते। इसलिए मुझे बहुत हंसमुख व्यक्ति माना जाता था, साथ ही साथ बहुत गंभीर भी, बहुत गहरा, और फिर मैंने एक बच्चे की तरह अपनी पढ़ाई शुरू की। मुझे पढ़ाई में ज्यादा दिलचस्पी नहीं थी लेकिन मैं बहुत अच्छा करती थी, लेकिन मैं महापुरुषों के जीवन और इस तरह की चीजों को पढ़ती थी।

बहुत कम उम्र में मैंने बर्नार्ड शॉ को पढ़ा। जब लोग सिर्फ ग्रेट एक्सपेक्टेशंस पढ़ रहे थे, मैं बर्नार्ड शॉ पढ़ रही थी। लेकिन इसलिए मुझे कुछ पाठ्य पुस्तकों को पढ़ने में विशेष रूप से दिलचस्पी नहीं थी क्योंकि मुझे लगा कि वे बचकानी हैं, और उन में पढ़ने जैसा कुछ भी नहीं है।

फिर मैंने अपने पिता से कहा कि “मुझे चिकित्सा शास्त्र पढ़ना है।” तो उन्होंने कहा, “क्यों?” मैंने कहा, “क्योंकि मुझे डॉक्टरों से बात करनी है।” उन्होंने कहा, “आपको डॉक्टरों से बात करनी है?” “मैंने बोला हाँ। लेकिन मेरे बचपन में ऐसा हुआ था जब मैं लगभग सात साल की थी,  मेरे पिता एक कांग्रेसी थे, जब मैं चार साल की थी तब वे कांग्रेस में शामिल हो गए थे। वह बहुत पाश्चात्य शैली के साथ रहते थे। उनके कपड़े लन्दन में सिले जाते थे, इस तरह के व्यक्ति। हमारे पास सेविका और वह सब थी। उन्होने सब कुछ फेंक दिया और वह एक वास्तविक भारतीय बन गये और एक शहीद का जीवन जीने लगे। फिर उन्होंने हमें हमारी भाषाएं, संस्कृत पढ़ाई… उन्होंने मुझे भारतीय स्कूल में पढ़ाया, ना की किसी मिशनरी स्कूल में क्योकि मिशनरी बहुत क्रूर थे | जब मेरे पिता कांग्रेस में थे तब उन्होंने हमें स्कूल से निकाल दिया। वे पूरी तरह से हमारे खिलाफ थे।

फिर सात साल की उम्र में मैं अपने पिता के साथ महात्मा गांधी के पास गई। वे हमारे साथ रह रहे थे, वह लगभग सत्तर मील दूर था लेकिन पहली बार वे मुझे वहां ले गए। और महात्मा गांधी मुझे बहुत पसंद करते थे। उन्होने कहा, “इस बच्चे को मेरे पास छोड़ दो।” तो, मैंने कपड़े या कुछ भी साथ नहीं लिया था। मैं रुकी रही; तब मेरे पिता ने मुझे सब सामान अपने साथ भेजा। और वह मुझसे बहुत प्यार करते थे, लेकिन मैं एक छोटी लड़की थी, लेकिन वह समझ गये थे कि मेरे बारे में कुछ है। उन्होंने कभी-कभी आश्चर्यजनक रूप से बहुत गंभीर समस्याओं पर मुझसे परामर्श किया। जैसे एक दिन वह प्रार्थना पुस्तक को ठीक करना चाहते थे। तो, उन्होंने मुझसे पूछा, “मुझे किस तरह क्रम रखना चाहिए?” और वह सब। तो मैंने उन्हें बताया कि श्रंखला कैसे लगाई जाए और उन्होंने श्रंखला को उसी तरह रखा। मैं अपने स्कूल के लिए वापस जाती थी और फिर से गांधीजी के पास हर साल, उसी तरह वापस जाती थी । और वे मुझे नेपाली कहते थे। उन्होने मुझे नेपाली नाम दिया था। उस समय सब मुझे नेपाली कहते थे। फिर मैं उनके साथ बहुत घनिष्ठता से बड़ी हुई।

वह बच्चों के लिए एक बहुत, बहुत दयालु व्यक्ति थे, अन्यथा एक अत्यंत सख्त आदमी, अपने साथ और दूसरों के साथ, बहुत सख्त, एक बड़े अनुशासक। और वह सबको चार बजे जगा देते, स्नान करा देते, सब कुछ, पांच बजे सुबह की प्रार्थना के लिए तैयार हो जाते, तुम देखो, और वह बहुत तेज चलते थे। मैंने उनके साथ तेज चलना भी सीखा। उनके साथ में मुझे तेज चलना पड़ता था। और वह बेहद प्यार करने वाले और बहुत अच्छे इंसान थे, और वह मेरी बात सुनते थे क्योंकि मैं एक बच्ची थी, आप देखिए। मान लीजिए मैंने उन्हें अधिक या कुछ और खाने के लिए मजबूर किया, तो वह हंसते हुए स्वीकार कर लेते। बहुत दयालु व्यक्ति। लेकिन दूसरों के साथ बहुत सख्त थे, और मैं उनसे कहती थी कि, “आप सबके साथ सख्त क्यों हो?” उन्होंने कहा, “लेकिन तुम तो छोटी बच्ची हो, तुम सुबह के समय जाग जाती हो । वे क्यों नहीं उठ सकते?” मैंने कहा, “मैं छोटी हूं। इसलिए मैं उठती हूं। वे बड़े हैं इसलिए उठ नहीं सकते”; उस तरह, आप देखते हैं, छोटी मोटी बातें।

और फिर मेरे पिता जेल गए और मेरी मां भी पांच बार जेल गईं। मेरे पिता दो बार जेल गए, एक बार ढाई साल के लिए, और वे परिवार की सहायता करने वाले एकमात्र सदस्य थे। वैसे हम एक बहुत पुराने शाही परिवार से आते हैं, जिसे शालिवाहन कहा जाता है। उनका भारत में एक कैलेंडर भी है। और फिर जब हम, मेरा मतलब है कि जब वे मेरे पिता को जेल में ले गए, तो हमें अपना घर छोड़ना पड़ा और हमें झोपड़ियों में और सभी समस्याओं में रहना पड़ा, वह कुछ भी नहीं था। लेकिन मुझे भी उन्होंने बहुत परेशान किया, क्योंकि मैंने वहां कई लोगों की मदद की और मैं ’42’ के आंदोलन में बहुत गंभीरता से शामिल हुई और मैं यहां के युवाओं के लिए नेता बन गई। मैंने सोचा कि जब तक मैं बहुत सकारात्मक रुख नहीं अपनाती, यह उनके साथ कार्यान्वित नहीं हो पायेगा। यह बताना अच्छा नहीं है कि उन्होंने मुझे कैसे प्रताड़ित किया, उन्होंने मेरे साथ क्या किया, लेकिन उन्होंने वास्तव में मुझे प्रताड़ित किया। मैं उस समय उन्नीस साल की एक जवान लड़की थी। यह अब खत्म हो गया है। तो, यह समाप्त हो गया है, और उसके बाद हम, मेरे पिता फिर से जेल गए और फिर जब वे वापस आए तो वे बाद में केंद्रीय विधानसभा के सदस्य के रूप में, संविधान सभा सदस्य के रूप में और फिर संसद में चुने गए।

मेरा भाई भी बाद में संसद सदस्य रहा। अब, हाल ही में, वह कैबिनेट में मंत्री थे। एक और भाई बंबई में हाई कोर्ट के जज हैं। वे सभी अच्छा कर रहे हैं, इस तथ्य के बावजूद कि हमारे माता-पिता ने एक तरह से हमारी अनदेखी की क्योंकि उन्होंने देश के लिए अपनी जीवन दिया, लेकिन, आप देखते हैं, इस वजह ने हमें कभी पढ़ाई से नहीं रोका और हम बहुत अच्छी तरह से आगे बढ़े । फिर मैं, जब मैं ’42 आंदोलन’ में थी, आप देखिए, मेरे कॉलेज ने मुझे निकाल दिया – कॉलेज से उन्होंने मुझे निकाल दिया और मुझे अपने घर से दूर पंजाब में पढ़ने के लिए दूसरे कॉलेज जाना पड़ा, जहां मैंने दो साल पढ़ाई की। मैंने साइंस पढ़ा, फिर मैंने अपना मेडिकल किया। मैंने पूरी तरह से नहीं किया, क्योंकि उसके ठीक बाद ’47 के दंगे हुए, इसलिए हमारा कॉलेज बंद कर दिया गया था और मैं और अधिक जानना भी नहीं चाहती थी क्योंकि मैं जो जानना चाहती थी उसके बारे में मुझे पता चल गया था। इसलिए मुझे जरूरत नहीं पड़ी और मैंने शादी कर ली।

आपने सुना होगा मेरे पति थे, अब भी है, अंतरराष्ट्रीय समुद्री संगठन के महासचिव। वह बहुत ऊंचे पदों पर आसीन रहे। वह लाल बहादुर शास्त्री के सचिव भी थे, जो हमारे प्रधान मंत्री थे, जो एक और बहुत महान व्यक्ति थे, लेकिन वे लंबे समय तक जीवित नहीं रहे। अगर वह जीवित रहते तो चीजें अलग होतीं, मुझे लगता है, हमारे देश के लिए, क्योंकि वह एक गांधीवादी थे, पूर्णत: गांधीवादी थे, और वे एक आदर्श गांधीवादी व्यक्तित्व की तरह रहते थे।

तो जीवन ऐसे ही चलता रहा। लेकिन आंतरिक अस्तित्व अभी भी सामूहिक बोध देने के तौर-तरीकों की तलाश कर रहा था। मेरे पिता ने कहा था कि, “जब तक कि आप सामूहिक बोध देने की इस तकनीक को विकसित न कर लें, धर्म की बात न करें। किसी को पता न चलने दें कि आप इसके बारे में कुछ भी जानती हैं क्योंकि वे आपको सूली पर चढ़ा देंगे,” या वह इस बात से चिंतित थे कि लोग समझ नहीं पाएंगे या, ‘आप एक और बाइबिल या गीता लिख ​​देंगी जो किसी काम का नहीं। सबसे पहले आपको उन्हें आत्मसाक्षात्कार देना होगा। अगर उन्हें उनका बोध हो जाता है तो वे महसूस करेंगे कि इस मानवीय जागरूकता से ऊपर भी कुछ है। उदाहरण के लिए, वे हमेशा एक सादृश्य देते थे – मान लीजिए कि आपका जन्म दसवीं मंजिल पर हुआ है और हर कोई जमीन पर है, आपको कम से कम उन्हें दो मंजिल तक तो चढ़ाना होगा, ताकि वे जान सकें कि इसके ऊपर कुछ है; अन्यथा इसके बारे में बात करने का कोई फायदा नहीं है। और उन्होंने कहा कि संतों और अवतारों के साथ यही भूल हुई थी कि उन्हें कभी यह एहसास नहीं हुआ कि ये लोग अभी भी जमीन पर हैं, उन्हें अभी भी इमारत में प्रवेश करना है। तो यही है कि आपको बहुत सावधान रहना होगा कि सबसे पहले आपको लोगों को बोध देना होगा। तो मैं तौर-तरीकों की तलाश कर रही थी, इसे अपने ध्यान की अपनी शैली के माध्यम से अपने अंदर कार्यान्वित कर रही थी, इस अर्थ में कि मैं सभी क्रमपरिवर्तन और संयोजनों पर काम करूंगी।

मान लीजिए मैं एक व्यक्ति से मिली, तो मैं देखूंगी कि उस व्यक्ति को क्या समस्याएं थीं, आप इसे इस तरह कैसे दूर कर सकते हैं। मैं उस व्यक्ति का आंतरिक रूप से अध्ययन करने की कोशिश करूंगी। और मैं इसका पता लगाने बहुत से लोगों के पास गयी, परन्तु मैंने पाया कि वे बड़े पाखंडी थे। मैंने ऐसे बहुत से गुरु देखे हैं। उनमें से ज्यादातर, मैंने उन्हें देखा, मैं हैरान थी, वे सभी पाखंडी थे, पैसा बनाने वाले और यह बात। और मैं रजनीश के पास भी गई, उसको भी मिलने गयी थी। फिर उन्होंने कहा कि मुझे उनके कार्यक्रम में आना चाहिए। मुझे नहीं पता था कि किस तरह का आदमी है क्योंकि वह गीता और बड़ी, बड़ी चीजों के बारे में बात कर रहा था। मुझे लगा कि शायद वह इसके बारे में कुछ जान रहा होगा। मैं वहां गई, लेकिन मेरे पति ने कहा, “नहीं, मैं आपको उनके शिविर में जाने की अनुमति नहीं दूंगा” इसलिए उन्होंने अपना बंगला और वह सब मेरे लिए व्यवस्थित किया।

तो मैं वहाँ गयी और मुझे वहां वह सब कुछ नहीं दिखाई दिया जो चल रहा था और उस दिन किसी न किसी तरह से मैंने सोचा कि मुझे अंतिम चक्र खोलना चाहिए। तो आखिरी चक्र खुल गया। और मैंने कुंडलिनी को देखा, जो हमारे भीतर की मूल शक्ति है, जो हमारे भीतर पवित्र आत्मा Holy Ghost है, एक दूरबीन की तरह उठती हुई, खुलती हुई, और फिर मैंने पूरी चीज को खुला देखा और जैसे, मेरे सिर से हवा की एक बड़ी मूसलाधार बारिश सब तरफ शुरू हो गई, और मुझे लगा “मैं अब खो गयी हूँ। अब ‘मैं’ वहां नहीं हूं। केवल ‘अनुग्रह’ ही है, वही है।” मैंने देखा कि यह पूरी तरह मेरे साथ घटित हो रहा है। और, लेकिन मुझे आश्चर्य हुआ कि जब मैं रजनीश के पास गयी, तो आप देखिए, क्योंकि जाने से पहले मुझे अलविदा कहना था। उसे बिलकुल भी एहसास नहीं हुआ कि क्या कुछ घटित हो चुका था। तो मुझे आश्चर्य हुआ। मैंने कहा, “यह आदमी परमात्मा के बारे में कुछ नहीं जानता”, और तब मुझे पता चला कि वे सभी पाखंडी थे और झूठ बोल रहे थे।

तो 1973 में ऐसा हुआ कि, यह सब 5 मई, 70, 1970, 5 मई को घटा और उसके ठीक बाद जहांगीर हॉल में हमारा एक बहुत बड़ा व्याख्यान था – एक बहुत बड़ा हॉल है – और हजारों लोग आए थे। मैंने उन्हें बहुत स्पष्ट रूप से कहा कि ये सभी ठग हैं और ये ऐसे ही हैं, पाखंडी। उनमें से कुछ राक्षसी हैं। कुछ दुष्ट लोग हैं। मैंने उनका नाम लिया, सब कुछ। मैंने उनसे कहा, “उनके पास मत जाओ।” कुछ विदेशी भी थे। और भी बहुत से लोग थे जिन्हें मैंने ये बातें बहुत स्पष्ट रूप से बताईं, और वे डर गए। वे बोले, “आपको ऐसा नहीं कहना चाहिए। वे आएंगे और तुम्हारी हत्या कर देंगे। वे करेंगे…” “मैंने कहा,” उन्हें आने दो और मेरी हत्या करने दो।” लेकिन किसी ने कुछ नहीं किया। कोई कोर्ट तक नहीं गया। और इस तरह, आप देखते हैं, उन्होंने मेरा नाम बदनाम करने की कोशिश की। उन्होंने मेरे खिलाफ बातें प्रकाशित करने के लिए अखबारों को पैसे दिए, क्योंकि मैंने कहा था, “आप पैसे नहीं दे सकते।” तो उन्होंने सोचा कि मैं बस उनका नुकसान करने की कोशिश कर रही थी, आप देखिए, ऐसी बात कहकर उन्हें नुकसान पहुंचा रही थी कि आप ईश्वर  के नाम पर पैसा नहीं कमा सकते। अगर यह एक नौकरी है तो आप कर सकते हैं, लेकिन ईश्वर का काम कोई साधारण नौकरी नहीं है। और संघर्ष उस दिन से शुरू हुआ जब से मैंने आत्मसाक्षात्कार देना शुरू किया, और मैंने एक महिला के साथ शुरुआत की, जिसे पहले आत्मसाक्षात्कार हुआ। फिर हमें लगभग बारह लोग मिले जिन्हें आत्मसाक्षात्कार हुआ। दो साल में मुझे लगभग चौदह लोगों का ही आत्मसाक्षात्कार प्राप्ति हुई। फिर धीरे-धीरे जब चौदह लोगों को बोध हुआ तो बहुतों को बोध होने लगा। लेकिन मैंने लोगों को आरोग्य करना भी शुरू कर दिया क्योंकि इससे बहुत मदद मिल रही थी।

फिर मेरे पति इस पद के लिए चुने गए और हमें लंदन आना पड़ा। इसलिए जब मैं लंदन आयी तो हमारा एक कार्यक्रम भारतीय विद्या भवन में था। उन्होंने इसकी व्यवस्था की। तो विदेशों में रहने वाले भारतीयों को परमात्मा  में इतनी दिलचस्पी नहीं है; वे पैसे में अधिक रुचि रखते हैं। इसलिए कोई भी भारतीय वहां नहीं रहा। वे सब भाग गए। और जो परदेशी थे, वे भी कोई सात हिप्पी थे। तो मुझे उन पर काम करना पड़ा था, सात हिप्पी। चार साल से मैं उन पर काम कर रही थी, उन्हें आत्मसाक्षात्कार देने के लिए। बहुत मुश्किल है, आप देखिए। उनका लिवर खराब था। उनका स्वास्थ्य खराब था। उनका सिर फट गया था, भयानक समय। लेकिन बीच-बीच में मैं भारत चली जाती थी और भारत में भी काम हो जाता था। तीन महीने तक मैं हमेशा भारत में रहती। इसलिए हमने गांवों में काम करना शुरू कर दिया, खासकर आश्चर्यजनक रूप से जहां मेरे पूर्वजों का शासन था, उस क्षेत्र में काम बहुत बड़े पैमाने पर चलने लगा। और फिर हम भारत से कुछ लोगों को ले जाने लगे। फिर ऑस्ट्रेलिया से कुछ लोग ऐसे ही भारत आ गए और उन दिशाओं में काम चलने लगा। फिर धीरे-धीरे काम में सुधार हुआ और लोगों ने पाया कि इस तरह हम खुद को परिवर्तित कर सकते हैं।

बहुत से लोग जो ड्रग्स ले रहे थे या शराबी या पागल लोग, या कैंसर पीड़ित लोग, उन्हें बेहतर लगा, फिर वे ठीक हो गए और यह स्थापित हो गया कि सहज योग कुछ बहुत महत्वपूर्ण है। अब जब मैं पूरी दुनिया की यात्रा करती हूं, तो आप देखिए, पहले मेरे पति हर चीज के लिए भुगतान करते थे। मैं जहां भी गयी, उन्हें सब कुछ चुकाना पड़ा। जो भी खर्च वह मेरे लिए करते थे। धीरे-धीरे, फिर अब, ये लोग मेरी यात्रा के लिए भुगतान करते हैं, लेकिन अन्यथा उन्हें किसी और चीज के लिए भुगतान नहीं करना पड़ता है इस तरह हमने अपना काम शुरू किया। बहुत विरोध हुआ और मीडिया के लोग इसे कभी नहीं समझ पाएंगे, क्योंकि यह ऐसी कोई सनसनी नहीं थी जैसा आप कह सकते हैं, लोगों को कुछ भी उत्तेजना देने वाला नहीं होता है। लेकिन एक तरह से यह बहुत बड़ी बात है, क्योंकि अगर यह पूरी दुनिया के लिए समाधान है, तो इसे करने का प्रयास करना चाहिए।

तब हमारे पास बहुत महान लोग थे जो सहज योग में आए थे, जैसे, हम कह सकते हैं, हेग उच्च न्यायालय के न्यायाधीश, जो अब राष्ट्रपति हैं, जिन्होंने निकारागुआ का यह निर्णय दिया है। वह और कई वकील और कई बैरिस्टर। हमारे यहाँ अल्जीरिया से एक बैरिस्टर और डॉक्टर हैं, और फिर उन्होंने कार्यभार संभाला और उन्होंने मेरी मदद करना शुरू कर दिया कि कैसे सहज योग का प्रचार किया जाए। लेकिन पश्चिम में यह एक कठिन काम था। बेशक, भारत में यह गांवों में बहुत तेजी से फैल गया लेकिन भारत में शहर के लोग भी पश्चिम का अंधानुकरण कर रहे हैं और वे विश्लेषण करना शुरू कर देते हैं। वे हमारे अतीत के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं। वे हमारी विरासत के बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं, कि हमारे पास हमारी कुंडलिनी और वह सब है। लेकिन कुछ लोग आत्म-साक्षात्कार के बारे में जानते हैं।

लेकिन ये गुरु भारत में नहीं टिक सके क्योंकि कोई भी उन्हें स्वीकार नहीं करेगा। इसलिए वे सभी विदेश भाग जाते हैं। और यह मेरे लिए भी एक आशीर्वाद की बात थी क्योंकि मुझे वहां उनसे लड़ना नहीं पड़ा था, और यह काम करना शुरू कर दिया, और तब लोगों ने पाया कि यह हर तरह से मदद करता है, और उन्होंने इसके बारे में बहुत सारे चमत्कार पाए, और इस तरह सहज योग काफी व्यवस्थित हो गया। लेकिन फिर भी मैं कहूंगी कि हम अभी तक कुछ देशों में नहीं गए हैं, और पश्चिम में, मैं कहूंगी कि अभी भी काफ़ी काम किया जाना बाकी है। क्योंकि जैसे ही, आप किसी भी जगह पर कोई काम शुरू करते हैं, सबसे पहले वे चाहते हैं कि मैं लोगों को निरोग कर दूं और इलाज के लिए उनकी मदद करूं। अब अगर मैं उस पर ज्यादा ध्यान दूं तो मुख्य काम हर एक में से डॉक्टर तैयार करना है, वही उपेक्षित रह जाता है। तब तुम अलोकप्रिय हो जाते हो। वे सोचते हैं, “ओह, वह सहानुभूतिपूर्ण नहीं है” और ऐसा और वैसा। लेकिन अब जैसा कि हमारे साथ है, अब हर कोई निरोग कर सकता है, हर कोई। मैं सीधे किसी का इलाज नहीं करती। लेकिन उन्हें यह पसंद नहीं है। वे चाहते हैं कि मैं वहां रहूं और उनके अहंकार को सहलाया जाए और ऐसी सभी बातें हैं। थोड़ा मुश्किल। ऐसा नहीं है, हम किसी चुनाव अभियान में भाग नहीं ले रहे हैं, आप देखिए, जिस के अंतर्गत  हमें दूसरों को खुश करना पड़े, ऐसा नहीं है।

लेकिन जो कुछ भी वास्तविकता है, अगर किसी व्यक्ति के पास बुद्धि है – शुद्ध बुद्धि – वह देख सकता है कि यह कुछ बहुत अलग है और उसके लिए यह समझना होगा कि आप ऐसा नहीं कर सकते, आप किसी को भी ऐसा  मजबूर नहीं कर सकते कि “आपको अपना आत्मसाक्षात्कार लेना पड़ेगा “। उसी तरह तुम मुझे मजबूर नहीं कर सकते कि मैं तुम्हें आत्मसाक्षात्कार दे दूँ , क्योंकि अगर यह काम नहीं करता है, तो यह काम नहीं करता है। यह एक ऐसी जीवंत शक्ति है, आप देखिए। और यह बात उन्हें बहुत जल्द परेशान कर देती है। मुझे लगता है कि जिस तरह से पश्चिम में यह औद्योगिक क्रांति आई है, लोगों ने शायद अपना ठिकाना खो दिया है। वे इतने भ्रमित हैं। इन सभी गुरुओं के यहाँ आने से उन्हें अधिक भ्रम हुआ है और सभी प्रकार की नई चीजें आ रही हैं, वे नहीं जानते कि कहाँ देखें। लेकिन जब तक आप अपना विकास पूरा नहीं कर लेते, जब तक आप समझ की उस पूर्ण स्थिति तक नहीं पहुंच जाते, तब तक अराजकता बनी रहेगी। तो उस तक पहुंचने की कोशिश करनी चाहिए।

लेकिन किसी को यह समझना चाहिए कि आप इसके लिए भुगतान नहीं कर सकते। कोई प्रयास नहीं कर सकते है। बोध होने के बाद वे इतना संतुष्ट महसूस करते हैं, वे इसके बारे में भूल जाते हैं। लेकिन उसके बाद आपको पता होना चाहिए कि इसे दूसरों को कैसे देना है। जैसा कि ईसा-मसीह ने कहा है कि जो दीप प्रबुद्ध है, उसे आप मेज के नीचे न रखें। ऐसा होता है कि, यह एक, हालांकि हम सौ लोगों को बोध दे सकते हैं, उनमें से केवल पांच से छह ही हमारी मदद के लिए आगे आएंगे। लेकिन फिर भी मुझे कहना होगा कि बहुत काम किया गया है। खासकर ऑस्ट्रिया, मुझे ऑस्ट्रिया पर बहुत गर्व है। और जिस तरह से उन्होंने मुझे कभी कोई समस्या नहीं दी – कभी नहीं – और ऑस्ट्रिया से बहुत अच्छे लोग निकले हैं। बहुत संतुलित, आप देखते हैं, स्तर-सिर वाले लोग, बहुत स्तर-दिमाग वाले। वे चरमपंथी नहीं हैं। वे चरम पर नहीं जाते। उन में कोई कट्टरता नहीं है। वे समझदार लोग हैं, और कुछ इतना प्रबल भाग्य है कि ऑस्ट्रिया का पता चला क्योंकि मैंने कभी उम्मीद नहीं की थी कि ऑस्ट्रिया में इतने सारे लोग होंगे। लेकिन जैसे पानी खुद अपना स्तर खोज लेता है, वैसे ही सहज योग अपने स्तर को खोज लेता है। हम बस अभी ऑस्ट्रिया आए हैं। हम नॉर्वे, स्वीडन, डेनमार्क, फिनलैंड नहीं गए हैं। मैं अपने पति की नौकरी की वजह से उन जगहों पर गई थी लेकिन मैं वहां नहीं गई।

अब हमारे ऑस्ट्रेलिया में सोलह केंद्र हैं, और ऑस्ट्रेलिया सहज योग की एक बहुत ही प्रगतिशील चीज है। हमें वहां अब स्कूल मिल गए हैं। वे स्कूल चला रहे हैं और शिक्षक बहुत अच्छे व्यवहार वाले और दूरदर्शी हैं, और वे बच्चों की बहुत अच्छी देखभाल करते हैं। सरकारी लोगों ने किसी को निरीक्षण के लिए भेजा और उन्होंने टिप्पणी की कि वे जो कुछ भी घोषित करते हैं, वैसा ही कार्यान्वित करते हैं, और उन्होंने हमें अच्छे प्रमाण पत्र दिए हैं। लेकिन बाहरी जीवन पर सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय ने सहज योग को एक शोध कार्य के लिए स्वीकार किया है, सम्मान के साथ, एक डॉ ली द्वारा, जो कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में सहज योग के बारे में शोध कर रहे हैं। वह पहले से ही एक डॉक्टर है। और दिल्ली विश्वविद्यालय में एक और बड़ी बात हुई है, कि दिल्ली विश्वविद्यालय ने स्वीकार किया है कि कोई व्यक्ति कर सकता है, केवल एक डॉक्टर कर सकता है, एक पीएचडी, या हम कह सकते हैं कि सहज योग में डॉक्टरेट, और वह उच्चतम डिग्री प्राप्त करता है जिसे कहा जाता है डॉक्टर ऑफ मेडिसिन, और शायद कुछ समय बाद वे किसी को भी ऐसा करने की अनुमति देंगे। यह इसके चिकित्सा  भाग के बारे में है।

कृषि के क्षेत्र में हमने स्वयं बहुत शोध किया है। हमारे यहां कोई है, कृषि का विशेषज्ञ। उन्होंने बहुत शोध भी किया है, और हमें पता चला है, कि  हम बोध के बाद वायब्रेशन के साथ शुरू होते हैं, यदि आप पानी को चैतन्यित करते हैं और यदि आप पौधों को पानी देते हैं, तो कभी-कभी आपको दस गुना अधिक फसल भी मिल सकती है। उन्होंने भारत में कृषि विश्वविद्यालय में से एक में यही किया। लेकिन यहाँ भी उन्होंने पाया कि एक साधारण चीज़ के विकास में भी बहुत अंतर आता है। कृषि में एक और बात हमें पता चली है कि यदि आप स्पंदन दें तो एक सामान्य गाय भी बहुत सारा दूध दे सकती है। लेकिन अगर आपके पास संकर गाय हैं तो आप देखिए, यह दिमाग के लिए अच्छा नहीं है, क्योंकि जो व्यक्ति संकर दूध लेता है, वह खुद भी संकर हो जाता है। मेरा मतलब है कि उसका दिमाग थोड़ा डांवाडोल होता है। तो गाय का शुद्ध दूध लेना बेहतर है जिसे इस तरह के प्रयोग में नहीं डाला गया हो।

इसके अलावा, भोजन भी, अगर यह हाइब्रिड भोजन है, तो यह हमारे लिए बहुत अच्छा नहीं है क्योंकि यह हमारी नसों को खराब करता है, मुझे लगता है। लेकिन साधारण बीजों का आप उपयोग नहीं कर सकते क्योंकि वे कमजोर हो गए हैं और वे प्रजनन नहीं कर सकते। इसलिए जब हम उन्हें चैतन्यित करते हैं तो वे बहुत अच्छी तरह से उत्पादन करते हैं, उतना ही कभी-कभी संकर चीज से भी बेहतर, और भोजन, इसका स्वाद बहुत अच्छा होता है और यह वैसी जटिलताओं को नहीं देता है। तो यह भारत में कृषि में मदद कर सकता है, और सरकार ने हमें बहुत सारी जमीन आवंटित की है जहां हम अब प्रयोग करने जा रहे हैं, और हम यह दिखाने के लिए प्रयोग शुरू करने जा रहे हैं कि हम इसका उपयोग कैसे कर सकते हैं। लेकिन कई किसान जो सहजयोगी हैं, उन्होंने बहुत काम किया है और उन्हें पता चला है कि यहां तक ​​कि जानवरों और इसे, जिसे आप खेती कहते हैं, हर चीज में चैतन्य से बहुत मदद मिलती है। तो यह लोगों के जीवन में सुधार करता है।

दूसरी तरफ हमारे पास, सामाजिक पक्ष है, मैं आपको बता सकती हूं कि हमारी शादियां हैं – अंतर्राष्ट्रीय विवाह। हम लोगों के बीच अंतरराष्ट्रीय विवाह की व्यवस्था करते हैं। उन्हें एक दूसरे को जानना है और वे एक साथ हैं। और सबसे पहले वे हमारे साथ दौरे में एक या आधे महीने के लिए साथ हैं। वे एक दूसरे को देखते हैं और उनकी शादियां तय होती हैं। और हमने देखा है कि ऐसी शादियां बेहद सफल होती हैं। निन्यानबे प्रतिशत शादियां सफल होती हैं। कभी कभार दुर्घटना हो सकती है, लेकिन ज्यादातर तलाक नहीं होता है। कभी-कभी अगर यह सफल नहीं होता है तो हमें तलाक पर भी कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन ज्यादातर यह सफल होता है और उन्हें ऐसे बच्चे मिलते हैं जो बहुत बुद्धिमान होते हैं, पैदायशी आत्मसाक्षात्कारी बच्चे होते हैं, ज्यादातर। तो समस्या बहुत कम होती है और पारिवारिक जीवन में सुधार होता है। जीवन की गुणवत्ता हजार गुना बेहतर है। लोग बहुत आनंदित हैं, खुश हैं, वे शिकायत नहीं करते हैं, और वे जीवन का आनंद लेते हैं और दूसरों को देते हैं। उनके पास जो खुशी है उसे साझा करते हैं। इसलिए..

रिपोर्टर: क्या मैं एक प्रश्न पूछ सकता हूँ? आपको क्या लगता है कि बच्चों की शिक्षा में महत्वपूर्ण बिंदु क्या हैं, बच्चों को क्या देना महत्वपूर्ण है?

श्री माताजी : देखिए, पहले अगर उन्हें बोध हो जाता है, तो पहली बार बोध के उस बिंदु तक पहुँचने के लिए… यदि वे पहले से ही पैदा हुए हैं तो कोई समस्या नहीं है, लेकिन अगर उनके पास है, तो उन्हें आत्मसाक्षात्कार दिया जाता है, फिर, आप समझिये, वे एक अलग स्तर से देखना शुरू कर देते हैं। वे आत्मा बन जाते हैं। तो आप देखिए, उनका स्वाभिमान जाग उठता है। ऐसे बच्चे बहुत सम्मानजनक, परिपक्व तरीके से व्यवहार करते हैं, आप देखिए। वे बहुत परिपक्व तरीके से बात करते हैं और इससे हर तरह का समाधान मिलता है, आप देखिए। और वे जबरदस्त लोग हैं। लेकिन हमें उनका अपने व्यवहार द्वारा ठीक से मार्गदर्शन करना होगा कि हम कैसे व्यवहार करते हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि हम कैसा व्यवहार करते हैं। बच्चे इसी तरह सीखते हैं। हम बच्चों को कुछ निश्चित परीक्षणों से गुजारते हैं कि, वे कैसे हैं। हमें पता चलता है कि उन्हें कोई शारीरिक समस्या है या नहीं, हम उनका इलाज करते हैं। अगर उन्हें मानसिक परेशानी है तो हम उनका इलाज करते हैं। अगर उन्हें कोई अन्य समस्या, सामाजिक समस्या या कुछ भी है, तो हम उनकी मदद करने का प्रयास करते हैं। ताकि मूल रूप से अगर बचपन में इंसान बिल्कुल ठीक हो तो, तो बच्चे के लिए मूलभूत सब ठीक होगा। नींव रख दी गई है। फिर एक बच्चे को एक अच्छी गुणवत्ता में बनाना मुश्किल नहीं है। तो अब हम देखते हैं कि यहाँ महान कलाकार हैं, महान संगीतकार हैं और बहुत कम उम्र में उन्होंने वायलिन बजाना शुरू कर दिया है … मेरा मतलब है कि अचानक वे गतिशील और बहुत विनम्र हो गए हैं। वे बहुत विनम्र और स्वाभिमानी और बहुत अच्छे व्यवहार वाले होते हैं।

यह आश्चर्यजनक है कि वातावरण कैसा है और यह कैसे काम करता है। और दूसरे दिन उस महिला ने मुझसे महिलाओं के बारे में पूछा और मैंने उससे कहा कि एक मां के रूप में एक महिला की शक्ति बहुत बड़ी होती है। और वह इसके बारे में आहत महसूस कर रही थी। लेकिन मेरा मतलब यह नहीं था कि तुम सिर्फ एक माँ बनो। मैं जो कह रही हूं, जब वह एक मां है, मतलब वह दयालु है, वह दयालु है, वह पुरुषों की तरह आक्रामक नहीं है। यह बहुत बड़ा गुण है। यह एक महिला में बहुत बड़ी शक्ति है। मैं यही सुझाव दे रही थी कि हमें यही कमाना है कि, पुरुषों के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं करना है। पुरुषों के साथ प्रतिस्पर्धा करना और इस तरह से आगे बढ़ना पागलपन है, क्योंकि … आप देखते हैं कि हमें यह समझना होगा कि जीवन को आनंददायक होना चाहिए। जीवन एक आशीर्वाद बनना चाहिए, दुख नहीं बनना चाहिए। हम इन मिथ्या विचारों से, अपने मन में अपने संघर्षों से, हमारे मन में जो मानसिक कल्पनाएँ हैं, या अपनी जिद से – चाहे वह कुछ भी हो, हम अपने दुख स्वयं निर्मित करते हैं।

इन सभी चीजों को ठीक किया जा सकता है यदि आप सहज योग को अपनाते हैं क्योंकि आप एक संतुलित व्यक्ति, स्तर-प्रधान, बुद्धिमान व्यक्ति बनते हैं। और तुम साक्षी भाव में हो जाते हो। सब कुछ एक शो की तरह हो जाता है, एक नाटक की तरह। और तुम निर्भय हो जाते हो, तुम सब कुछ एक नाटक की तरह देखने लगते हो। और यही एक इंसान को हासिल करना है। हम शांति की बात करते हैं। हम नो वॉर की बात करते हैं। हम इस तरह की कई चीजों की बात करते हैं, आप देखिए, परमाणु बम, यह, वह… वह सब काम नहीं करेगा। केवल जो काम करने जा रहा है वह है मनुष्य का परिवर्तन। यदि मनुष्य रूपांतरित हो जाते हैं, तो चीजें बिल्कुल प्रथम श्रेणी में काम करेंगी। इतना ही नहीं, बल्कि यह कि वे जीवन के आशीर्वादों का आनंद लेंगे। हम इस बात को पूरी तरह से नज़रअंदाज़ कर रहे हैं! यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात है जो मनुष्य को कहना चाहिए, एक बात: इन सब से हमने क्या हासिल किया है? बस एक मिनट के लिए रुकें और सोचें।

रिपोर्टर: आप क्या कहेंगे बीमारी की परिभाषा क्या है? बीमारी के कारण क्या हैं?

श्री माताजी: यह शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक, सभी बीमारियां हमारे भीतर असंतुलन के कारण, हमारे चरम व्यवहार के कारण होती हैं। और मान लीजिए अब कैंसर है। हम कैंसर ले सकते हैं। कैंसर अनुकंपी तंत्रिका तंत्र  sympathetic nervous system की अति सक्रियता के कारण होता है। अब मान लीजिए कि कोई व्यक्ति बहुत दुखी व्यक्ति है। वह रोता है और रोता है और हर समय दोषी महसूस करता है और सोचता है कि वह अब तक का सबसे बुरा व्यक्ति है, उसने बहुत सारे पाप और हर तरह की बकवास की है, आप देखिए। फिर हमारे अनुसार वह बाईं ओर जाता है और सामूहिक अवचेतन क्षेत्र को पार कर जाता है। और वहां, हमारे अनुसार, जिसे वे प्रोटीन 58, और प्रोटीन 52 कहते हैं, डॉक्टर इसे वैसे ही कहते हैं, लेकिन हम इसे मृत आत्मा कहते हैं; वे वहां मौजूद हैं और वे आपको पकड़ लेते हैं और वे कैंसर को प्रारंभ करते हैं। लेकिन मान लीजिए कि किसी भी तरह से आप चित्त को पूरी तरह से वहां से हटा कर मध्य में ला सकते हैं, तो आप ठीक हो सकते हैं। तो यह हमारे भीतर के चक्र हैं जो सूक्ष्म हैं, जो मूल रूप से सात चक्र हैं। कई अन्य हैं, लेकिन मूल रूप से सात हैं। यदि आप उन्हें ठीक कर सकते हैं, तो आपको किसी भी प्रकार की कोई बीमारी या रोग नहीं हो सकते है।

रिपोर्टर : चलिए आपके बचपन में चलते हैं। क्या आप समझा सकते हैं – आपके सीखने और आपकी पढ़ाई में आपके माता-पिता ने आपका बहुत सहयोग किया। यह सही है? [अस्पष्ट]

श्री माताजी : हाँ, हाँ। बेशक। आप में देखें…

रिपोर्टर: क्या यह सामान्य है कि माता-पिता परिवार में आप की तरह  बच्चे का सहयोग करते हैं?

श्री माताजी: भारत में, सभी माता-पिता बच्चे का सह्योग करते हैं। भले ही…

रिपोर्टर: आप वो सब कुछ सीख सकते हैं जो आप चाहते हैं?

श्री माताजी: हाँ, हाँ, मेरा मतलब है, यह सच है। लेकिन आप देखते हैं कि मूल बात यह है कि माता-पिता बच्चों के प्रति बहुत दयालु होते हैं, बच्चों के प्रति बहुत दयालु होते हैं, और उनके लिए, आप देखते हैं, बच्चे की शिक्षा, बच्चे का पालन-पोषण और बच्चे का जीवन बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए हम जानते हैं कि वे हैं, इसलिए हम उन पर निर्भर हैं, वे हमारी देखभाल करते हैं और वे बहुत बुद्धिमान लोग हैं। वे हमारे लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर देते हैं। इसलिए, वे जो कुछ भी कहते हैं वह हमें अच्छा लगता है और ऐसा करने से हमने अब तक कुछ भी नहीं खोया है। भारत में अगर आपको भारतीय बच्चे मिलते हैं तो जब वे विदेश आते हैं तो वे हमेशा कहीं भी कम से कम बात करते हैं। वे बहुत आज्ञाकारी बच्चे हैं और बहुत अच्छा व्यवहार करते हैं। हमें यह सब समस्या नहीं है, किशोर समस्या, समलैंगिक। हम यह भी नहीं जानते कि यह सारी समस्याएँ हैं क्योंकि हम हर समय माता-पिता के इतने करीब होते हैं। वे हर समय हमें देखते रहते हैं। हमें नशीली दवा की समस्या नहीं है, इनमें से कोई भी नहीं। केवल शहरों में, थोड़ा-बहुत, ऐसा होता है और गायब हो जाता है; क्योंकि माता-पिता हर समय अपने बच्चों के साथ होते हैं। हम एक साथ रहते हैं। पूरा परिवार एक साथ रहता है। और न केवल माता-पिता के साथ बल्कि सभी रिश्तेदारों और गांव और शहर के सभी लोगों के साथ, सभी एक दूसरे को जानते हैं। हमारे पास ऐसी संयुक्त प्रणाली है कि हम आम तौर पर गलत तरीकों और विधियों में नहीं जाते हैं और हम जिद्दी भी नहीं बनते हैं।

रिपोर्टर: लेकिन, आप भारत में एक ईसाई परिवार में पले-बढ़े हैं?

श्री माताजी: हाँ।

रिपोर्टर: यह कोई सामान्य स्थिति नहीं है, कि भारतीय लोग ईसाई हो?

श्री माताजी : हाँ, मैं जानती हूँ। ऐसा है, आप देखते हैं, मैं जानबूझकर एक ईसाई परिवार में पैदा हुई थी, क्योंकि मुझे लगता है, आप देखते हैं, मैं व्यक्तिगत रूप से सोचती हूं कि प्रोटेस्टेंट सबसे बड़े कट्टरपंथी हैं; क्योंकि वे बहुत कृत्रिम व्यवहार वाले होते हैं, आप देखिए, उनकी कट्टरता उनके मस्तिष्क में है। उनकी कट्टरता से कोई उन्हें बाहर नहीं कर सकता। वे बहुत बड़े कट्टर हैं, सबसे महान। लेकिन मेरे माता-पिता बहुत प्रबुद्ध लोग थे और वे ईसा-मसीह को बहुत अच्छी तरह समझते थे। कल मैंने आपको पॉल के बारे में बताया, आप देखिए, जब पहली बार मैंने बाइबिल को हाथ में लिया और मैंने अपने पिता से पूछा, “यह पॉल कौन है?”। उन्होंने कहा, ‘वह घुसपैठिया हैं। उसे भूल जाओ। उसे बिल्कुल न पढ़ें।” तो आप देखते हैं कि वे इन सभी बातों को बहुत अच्छी तरह से समझते थे और क्योंकि मेरे पिता एक साक्षात्कारी आत्मा थे, जैसे खलील जिब्रान, आप देखिए। यदि आप खलील जिब्रान को पढ़ते हैं, तो वह पॉल के बारे में वही बात कहता है, वही बात। तो, आप देखते हैं, यदि आप एक प्रबुद्ध व्यक्ति हैं, तो आप हर चीज का सार देखते हैं। आप चाहे किसी भी धर्म में पैदा हों, आप किसी अन्य धर्म की उपेक्षा नहीं करते। आप दूसरे धर्म के बारे में जानने की कोशिश करते हैं, और आप पाते हैं कि सार हर धर्म में समान है। लड़ने के लिए है ही क्या ? और इस तरह आप किसी धर्म के नहीं हैं, आप हर धर्म के हैं। यही होता है। लेकिन मेरे माता-पिता बहुत प्रबुद्ध लोग थे, मुझे कहना होगा, और मैं उन्हें अपने माता-पिता के रूप में चुनने के लिए बहुत भाग्यशाली रही।

रिपोर्टर : आप एक प्रबुद्ध बच्चे रहे हैं, क्या यह सही है?

श्री माताजी: मैं क्षमा चाहता हूँ?

रिपोर्टर: आप एक प्रबुद्ध बच्चे थे?

श्री माताजी : हाँ, मेरा जन्म एक प्रबुद्ध बच्ची के रूप में हुआ है।

रिपोर्टर : लेकिन आप कभी-कभी बहुत अकेलापन महसूस नहीं करती, क्योंकि बाकी सभी अलग-अलग होते हैं?

श्री माताजी : नहीं, नहीं, यानी आप देखिए, अगर आप दूसरों के साथ साझा करना जानते हैं… वास्तव में मैं बचपन से ही उनके लिए एक माँ की तरह थी। पहली बार जब मेरे पिता, मां जेल गए थे  मैं थी, मैं लगभग साढ़े पांच साल की थी। तो मेरी छोटी सी फ्रॉक में घर की सारी चाबियां थीं, और मैं एक दादी की तरह सभी कर्तव्यों का पालन करती थी। मैंने कभी खोया हुआ महसूस नहीं किया। मेरा मतलब है, मेरा जीवन कुल मिलाकर बहुत सामूहिक है, स्वभाव से मैं अत्यंत सामूहिक हूँ। मैं कहीं भी रह सकती हूं। मैं कहीं भी सो सकती हूं। मैं जंगलों में रह सकती हूं। मैं कर सकती हूँ… मुझे इससे कोई समस्या नहीं है। मैं बेहद सामूहिक हूं। मैं बचपन से ही स्वभाव से विशिष्ट नहीं हूं। जिस क्षेत्र में हम रह रहे थे, उस क्षेत्र के सभी लोगों के साथ मेरी बहुत मित्रता थी और मेरी माँ को निर्मला की माँ के रूप में जाना जाता था, पिता को निर्मला के पिता के रूप में जाना जाता था। तो उन्होंने कहा, “हमने उसकी वजह से अपनी पहचान खो दी है”। इसलिए मैं बहुत मिलनसार व्यक्तित्व थी। मैंने कभी अकेलापन महसूस नहीं किया, और जब मैं अपने साथ होती हूं तो मैं कभी अकेली नहीं होती। मैं खुद को बहुत मज़ा लेती हूं।

रिपोर्टर: जब आप गांधी के साथ आश्रम में रही थी,  तो क्या आप गांधी के बारे में एक या दो यादगार बातों का उल्लेख कर सकती हैं?

श्री माताजी : ओह! गांधीजी एक जबरदस्त इंसान थे। उनसे बहुत कुछ सीखना पड़ता है। वह कतई पाखंडी नहीं थे, यह एक बात है। और वह आधुनिक , राजनेता जैसा जो कुछ कहते हैं, कुछ करते हैं नहीं थे, वह बहुत मुखर थे और हमेशा खुद को परीक्षा में डाले रखते थे। और अगर उन्होंने  गलती की तो वह तुरंत कबूल कर लेते थे। एक बहुत बड़ी घटना मुझे याद है, जब मैं छोटी बच्ची थी । वे एक साथ एक बैठक कर रहे थे और हम लड़कियां वहां सभी लोगों को केवल पानी और चीजें दे रही थीं। सारे बड़े लोग थे, जैसे… जवाहरलाल लाल नेहरू थे और मौलाना आजाद भी, ये सब लोग वहीं बैठे थे। वे कुछ चर्चा कर रहे थे और तभी अचानक महात्मा जी ने कहा कि, “अब बहुत देर हो चुकी है। हम यहीं लंच करेंगे।” तो उन्होंने कहा, “हाँ, हाँ, हम यहाँ दोपहर का भोजन करेंगे।” उन्हें गेस्ट हाउस जाना था जो बहुत दूर था। तो महात्माजी ने बा जो उनकी पत्नी है के लिए पूछा। वह बाहर गई थी। तो वह उठे। उनके पास एक चाबी थी, आप देखिए, हमेशा स्टोर रूम की। उन्होने स्टोर रूम खोला, और उन्होने उन लोगों से जो खाना पकाने के प्रभारी थे, सब कुछ वहां के लोगों के अनुसार मापने के लिए कहा, ठीक से, सब कुछ, आप देखिए। और फिर उसने, और उन्होंने नाप लिया, सब कुछ हो गया, फिर उन्होने चाबी वापस रख दी, और फिर वह जाकर अच्छी तरह से बैठ गए। तो इन लोगों ने कहा, “बापू, हम नहीं जानते थे कि आपको इतनी परेशानी उठानी होगी, आप देखते हैं, पूरे रास्ते जाकर हमारे लिए सब कुछ मापना।” इसमें ज्यादा समय नहीं लगा, लगभग पंद्रह मिनट, लेकिन फिर भी। तो उन्होने कहा, “तुम्हें क्या लगता है? यह मेरे देश का खून है। मैं इसे बर्बाद नहीं होने दे सकता।” देखिए, यह उस व्यक्ति की पहचान है जो जनता के पैसे की कीमत समझता है। उसमें बस इतना ही निहित था, लेकिन उन्हें देखने वालों ने भी महसूस किया कि, “इस आदमी को देखो, जो एक तपस्वी की तरह जी रहा है, बिल्कुल, इस अर्थ में कि वह जनता के पैसे को नहीं छूएगा”। और यह सभी नेताओं के लिए एक आदर्श है। अगर वे पैसे से बिल्कुल ऊपर हैं, तो ही लोग सम्मान करेंगे; अन्यथा कोई रास्ता नहीं है। लेकिन इन दिनों आप हर देश में इतना भ्रष्टाचार, पाखंड पाते हैं, तो आप वाकई चौंक जाते हैं।

रिपोर्टर: आपको क्या लगता है कि इन सभी भ्रष्टाचारों का, राजनीतिक अस्थिरता का कारण क्या है?

श्री माताजी : यह अज्ञान है। यह अज्ञान है। वे सोचते हैं कि पैसा होने से या बड़े पद से या बड़ा नाम पाने से वे प्रसन्नता पायेंगे। वे प्रसन्न नहीं रह पायेंगे । केवल अहंकार को सहलाया जाएगा। इसे थोड़ी सी चोट लगने पर व्यक्ति दुखी होता है। तो वह सुख से दुख की ओर जा रहा है। लेकिन जब उसे यह ज्ञान हो जाता है कि वह आत्मा है जो कि आनंद का स्रोत है, तो वह पैसे की परवाह नहीं करता है, वह इन सभी चीजों की परवाह नहीं करता है। वह किसी चीज से नहीं डरता। वह स्वयं राजा की तरह रहता है। वह स्वामी है, उसे कुछ नहीं चाहिए। तुम देखो, जो खुद स्वामी हो उसे कुछ नहीं चाहिए। उदाहरण के लिए, अब, जैसा कि आप जानते हैं, मैं एक धनी परिवार से आती हूँ, मेरे पति एक धनी परिवार से हैं। वह अब धनाढ्य है। हमारे पास बहुत आरामदायक जीवन है, लेकिन मैं एक गली में रह सकती हूं, मैं एक सड़क पर सो सकती हूं, क्योंकि मैं एक रानी की तरह हूं। मुझे कुछ नहीं चाहिए। अगर आपको किसी चीज की जरूरत है तो आप भिखारी हैं, नहीं तो आप राजा हैं| क्या ऐसा नहीं है? यही है जो मुझे महसूस होता है। तो यह वही अज्ञान है। एक बार जब वे जान जाएंगे कि हम सिर्फ अपनी अज्ञानता से लड़ रहे हैं तो वे इसे छोड़ देंगे। यह बकवास है। यह बकवास है और यह बिल्कुल भी आनंद देने वाला नहीं है। आपके गुण बहुत आनंद देने वाले हैं। यदि आप अपनी पवित्रता के बारे में जानते हैं, या आप अपनी ईमानदारी के बारे में जानते हैं, या यदि आप अपने सीधेपन के बारे में जानते हैं, तो यह बहुत आनंद देने वाला है। आप इतना आत्मविश्वासी, इतना प्रसन्न महसूस करते हैं और ऐसा व्यक्ति कभी किसी को नुकसान पहुंचाने की कोशिश नहीं करता, किसी के साथ व्यंग्य करने की कोशिश नहीं करता। ऐसा व्यक्ति बिल्कुल मुक्त है, मुझे कहना चाहिए, क्योंकि उसके पास किसी भी प्रकार का कोई बंधन नहीं है। ये सब बंधन हैं जो हमें बांधते हैं और हम ईर्ष्यालु हो जाते हैं और हम लालची हो जाते हैं, हम वासना बन जाते हैं। यह सब बकवास है। आपकी आत्मा के पास जाने के बाद ही यह दिखाई देता है कि प्रकाश दिखाता है कि ये सभी सांपों की तरह हैं, आप देखते हैं, हम पर रेंगते हुए और हम सांपों को पकड़ रहे हैं। लोग जब मरते हैं, तो आप देखिए – बड़े, बड़े लोग जिन्हें मैंने देखा है – लोग उनके बारे में बताते हैं। इतिहास में वे भयानक लोगों के रूप में उल्लेखित किये जाते हैं। इतिहास में उन्हें ऐसे लोगों के रूप में वर्णित किया गया है जो पाखंडी थे, जो क्रूर थे, जो बहुत, मुझे कहना चाहिए, अड़ियल प्रकार के, और सभी प्रकार की चीजों का वर्णन किया गया है। जो कुछ भी सच्चा है वह वास्तविक रहता है।

रिपोर्टर: आप को कभी भी डर नहीं लगता?

श्री माताजी : नहीं, मुझे नहीं होता। मैं डर जैसा कुछ नहीं जानती। इसमें डरने की क्या बात है? मैं कभी नहीं डरती, क्योंकि अगर आप विश्वास करते हैं और निश्चित रूप से जानते हैं कि परमात्मा हर जगह हैं, तो डरने की कोई बात नहीं है। वह हर पल, हर मिनट आपका ख्याल रखता है। आप कहीं भी हों, वह आपकी देखभाल करता है। इन लोगों को इसके बहुत से अनुभव हुए हैं। एक लड़की थी जो सहज योगिनी थी और वह जर्मनी में कहीं राजमार्ग  पर गाड़ी चला रही थी, और उसके साथ बहुत सारी कारें थीं। और अचानक उसका ब्रेक फेल हो गया और कार इस तरफ, उस तरफ जाने लगी। वह नहीं जानती थी कि इसे कैसे नियंत्रित करना है। उसने सोचा, “अब, क्या करूँ?” वो बस… उसके साथ एक और भी था। उन दोनों ने कहा, “ठीक है, हम अपनी आँखें बंद करें और माँ के बारे में सोचें।” उन्होंने बस मेरे बारे में सोचना शुरू कर दिया और कहा, “हम डरेंगे नहीं, बस उनके बारे में सोचें”। और अचानक उन्होंने पाया कि उनकी कार बिना किसी खरोंच के बहुत अच्छी तरह से सड़क के एक तरफ आ गई थी। तो, आप देखिए, यह सिर्फ हमारा डर है जो हमें और अधिक उन्मत्त और मूर्ख बनाता है। डरने की कोई बात नहीं है। यह देखने योग्य होगा कि ईश्वर आपकी किस प्रकार सहायता करता है। लेकिन लोग उनकी मदद नहीं लेना चाहते, आप देखिए। तब परमात्मा कहते हैं, “ठीक है, आगे बढ़ो और अपना सिर तोड़ लो। क्या करें?”

रिपोर्टर: कभी-कभी दूसरे लोग मददगार होते हैं।

श्री माताजी : हाँ, तो आपको पता होना चाहिए कि उन्हें कैसे संभालना है। आप देखिए, वे, उदाहरण के लिए, कल वह व्यक्ति आया था। तुम देखो, वह एक पीटे गए कुत्ते जैसा हो गया। तुमने उसे आते और मुझसे कुछ ऐसा कहते हुए देखा, जो तुमने कभी नहीं सुना। लेकिन वे एक पंथ से संबंधित हैं, किसी प्रकार के पंथ, आप देखते हैं, और वे हमेशा हमारा विरोध करते हैं। उनके पास कुछ प्रकार के ईसाई हैं। और जब मैं जिनेवा में थी, एक महिला, आप देखिए, बहुत फैशनेबल तरीके के कपड़े पहने हुए, वह मेरे पास हाथ में बाइबल लेकर मुझे मारने के लिए आई, आप देखिए। और सब डर गए कि अब वह मुझे पीटने वाली है। यह महिला मेरी तरफ ऊँची एड़ी के जूते पहने चली और मुझे नहीं पता, उन्होंने सोचा कि वह मेरे तरफ कुछ करेगी। जैसे ही मैंने उसे बाइबल के साथ देखा, तुम्हें पता है, मैं हँसने लगी, बिल्कुल। मैं सहन नहीं कर सकी। मैंने सोचा, “वह ऐसी जोकर है। वह मुझे बाइबल से मारने आ रही है? वह ऐसा कैसे कर सकती है?” और उसे मेरे बारे में चिंता हो गई कि मैं इतना हंस कैसे रही हूं। यह सब टेप पर है। और ये लड़के बहुत डरे हुए थे, मैंने देखा। मैं बिल्कुल नहीं डरी थी। मैंने कहा, “यह बिल्कुल ठीक है,” और वह भाग गई क्योंकि उसने मुझे हंसते हुए देखा, आप जानते हैं। मैं खुद को जोकर पर हंसने से रोक नहीं सकी, जिस तरह से वह मुझे बाइबल से मारने आई थी। कल्पना करें! तो यह इस प्रकार है। अगर आप डरते हैं तो वे आपके सिर पर बैठ जाते हैं। लेकिन आपको डरना नहीं चाहिए।

एक चीनी कहानी है कि एक राजा है जिसने दो, दो मुर्गों को एक बहुत ही आत्मसाक्षात्कारी, एक गुरु से लड़ने की ट्रेनिंग के लिए दिया, और उसने कहा, “आप उन्हें निपुण कर दीजिये”। तो उसने कहा “ठीक है”। उसने उन्हें एक महीने के लिए प्रशिक्षित किया, और वे लड़ाई के लिए गए। उनसे लड़ने के लिए इतने सारे मुर्गे लाए गए थे।

तो ये दोनों वहीं खड़े थे, वे किसी पर हमला नहीं करते थे, बस खड़े रहते थे। हर कोई हमला कर रहा था, वे बस खड़े थे। सब डर गए, सब, सारे मुर्गे डर गए और भाग गए। और ये दोनों वहीं अच्छे से खड़े थे। आपको किसी पर हमला नहीं करना चाहिए, न ही कोई आप पर हमला करेगा। हाँ, वे वहाँ हैं, लेकिन बिलकुल ठीक हैं। लेकिन मैं उनसे नहीं डरता। अभी तक किसी को सफलता नहीं मिली है।

एक व्यक्ति: मैं माताजी से अनुरोध करता हूं, अगर माताजी कुंडलिनी को उठाने का तरीका बता सकते हैं, तो इससे मेहमानों को भी मदद मिल सकती है।

श्री माताजी : कुण्डलिनी को ऊपर उठाने का तरीका बताएं।

एक व्यक्ति: हाँ।

श्री माताजी : वे जानना चाहते हैं कि कुंडलिनी कैसे उठती है। जैसा कि उन्होंने कल जर्मन भाषा में समझाया, कि हमारी रीढ़ की हड्डी के आधार पर, वहाँ एक शक्ति स्थित है, जो हमारे भीतर पवित्र आत्मा (होली घोस्ट)का प्रतिबिंब है। और आत्मा हृदय में निहित है जो सर्वशक्तिमान परमेश्वर का प्रतिबिंब है। तो परमेश्वर की शक्ति पवित्र आत्मा (होली घोस्ट) है, स्त्री शक्ति है, क्योंकि परमेश्वर पुरुष है, तो उसका एक पुत्र है। बेटे के लिए मां होनी चाहिए। वे वहां एक महिला नहीं चाहते थे, कल्पना कीजिए। हमारे पास महिलाएं नहीं हो सकतीं … उन्हें पुजारी नहीं बनाया जा सकता। ये कुछ ज्यादा हो गया। यह भारत में ऐसा नहीं है, आप देखिए। आपको वहां इस तरह की बकवास नहीं मिलती है, लेकिन यहां महिलाओं ने स्वीकार किया है, हालांकि आप इतने उन्नत हैं। वहाँ तो यह इतनी मूर्खता है कि स्त्रियाँ पुजारी नहीं बन सकतीं। अगर पुरुष हो सकते हैं तो वे क्यों नहीं हो सकती? तो, इस पूरी चीज़ से, महिलाओं से बचने के लिए, उन्होंने इसे एक पवित्र आत्मा(होली घोस्ट) कहा, बिना यह बताए कि यह एक महिला है। और वह नारी शक्ति वह शक्ति है जो त्रिभुजाकार अस्थि में निवास करती है। अब क्या होता है, कि जब अधिकृत व्यक्ति, इस तरह से, जो एक साक्षात्कारी आत्मा है, ऐसे व्यक्ति का सामना होता है, तो कुंडलिनी स्वतः ही उठ जाती है। जैसे धरती माता के गर्भ में यदि आप कोई बीज डालते हैं, तो वह स्वतः ही अंकुरित हो जाता है चूँकि यह एक जीवंत प्रक्रिया है। और यह छह चक्रों से होकर गुजरती है। सातवां अंतिम चक्र है, जो पेल्विक है, जो पेल्विक प्लेक्सस की मदद करता है। तो यह कोई भूमिका नहीं निभाता है, यानी सेक्स इसमें कोई भूमिका नहीं निभाता है। आप एक बच्चे की तरह हो जाते हैं। और कुंडलिनी छह केंद्रों से होकर गुजरती है, अंत में छठा यहां है, जिसे हम सहस्रार कहते हैं, जिसका अर्थ है हजार पंखुड़ियों वाला कमल। लेकिन वास्तव में यह लिम्बिक क्षेत्र है, और यहाँ लिम्बिक क्षेत्र के शीर्ष पर, फॉन्टानेल हड्डी क्षेत्र में, यह छेद करता है, और आप वास्तव में अपने सिर से निकलने वाली ठंडी हवा को महसूस करना शुरू कर देते हैं। वास्तव में ऐसा महसूस होने लगता है। तो, यह अपने आप ही अंकुरित हो जाता है, यह एक स्वतःस्फूर्त घटना है। आया समझ में? आप कृष्ण के देश से हैं, आपको बहुत सी बातें जाननी चाहिए। यहाँ आकर तुम लोग परमात्मा को भूल गए हो। सच्ची बात है कि नहीं?