Guru Puja: Sankhya & Yoga

Shudy Camps Park, Shudy Camps (England)

Feedback
Share

                                                     गुरु पूजा

शुडी कैंप (यूके), 12 जुलाई 1987

आज, यह एक महान दिन है कि आप यहां विश्व के हृदय के दायरे में अपने गुरु की पूजा करने के लिए हैं। अगर ऐसा हम हमारे हृदय में कर सकें तब, इसके अलावा हमें कुछ भी और करने की आवश्यकता नहीं होगी।

आज, मुझे यह भी लगता है कि, मुझे आपको सहज योग और उसके मूल्य के बारे में बताना होगा, जो अन्य योगों से संबंधित है जो पूरे विश्व में पुराने दिनों में स्वीकार किए जाते थे। उन्होंने इसे कहा, एक, ‘योग’, ना कि सहज योग, ‘योग’। इसकी शुरुआत ‘अष्टांग ’के विभिन्न प्रकार के अभ्यासों से हुई है [संस्कृत / हिंदी का अर्थ है आठ चरण / भाग’] योगासन – आठ स्तरीय योग – एक गुरु के साथ। और एक साधक को बहुत कष्टों से गुजरना होता था । किसी भी विवाहित को उस अष्टांग योग में अनुमति नहीं दी गई थी, और उन्हें अपने परिवारों को छोड़ना पड़ा, अपने रिश्तों को छोड़ना पड़ा।  गुरु के पास जाने के लिए उन्हें बिलकुल बिना किसी लगाव वाला बनना पड़ा। उनका सारा सामान, उनकी सारी संपत्ति त्याग दी गई। लेकिन गुरु को नहीं दे दी गई जैसा कि आधुनिक समय में किया जा रहा है, बस त्याग दिया गया। और इसी को योग कहा गया।

दूसरी शैली को सांख्य कहा जाता था। सांख्य है, जहां आपका सारा जीवन आपको निर्लिप्तता के साथ चीजों को इकट्ठा करना है, और फिर उन्हें पूरी तरह से वितरित कर के और एक गुरु के शरण में जाना है, एक तरह से पूरी तरह से समर्पण कर दिया, और फिर बोध प्राप्ति करें।

सांख्य बाएं बाजु तरफ का व्यवहार था। और योग दायाँ पक्षीय था। जहाँ गायत्री मंत्र का प्रयोग किया गया था वह सांख्य था। चूँकि वे बाएं बाजु तरफ थे, वे गायत्री मंत्र का उपयोग करते थे। वे बाईं ओर इतना अधिक चले गए – अर्थात चीजों को इकट्ठा करना, सामान इकट्ठा करना, संपत्तियों को इकट्ठा करना, सभी प्रकार के मित्रों और संबंधों और समाजों को इकट्ठा करना – कि उन्हें डर था कि वे उन सभी चीजों में पूरी तरह से खो सकते हैं। वे गायत्री, गायत्री के मंत्र के लिए जाते हैं जो आपको हमारे सभी चक्रों – केंद्रों के सार  सिखाता है।

मैंने इसके बारे में पहले भी बताया है – ‘भु’, ‘भुर्व’, ‘स्वाहा’। ‘भु’ का अर्थ है ‘मूलाधार ’ का सार या ’बीज’; सृष्टि की जो रचना की गई है उस के लिए ‘भुर्व’ जो स्वाधिष्ठान का बीज ’है; ’स्वाहा’ नाभी का ‘बीज’ है; ‘मन’ हृदय चक्र का सार है। फिर, जन: ’लोग हैं, सामूहिकता, विशुद्धि चक्र का सार या‘ बीज ’है। फिर, ‘तप:’ वह है जहाँ आप ‘तपस्या’ में जाते हैं, त्याग में, कष्ट में – आज्ञा चक्र का सार है। और फिर ‘सत्यं’ सत्य है, सहस्रार का सार है – सत्य वैसा नहीं जिसे हम सत्य मानते हैं, बल्कि वह सत्य जो हमारे मध्य तंत्रिका तंत्र में व्यक्त होता है। तो, यह सातवें चरण, सहस्रार में खोजा गया है।

इसलिए जो लोग सांख्य करते थे, वे आध्यात्मिक लोगों के रूप में इतने सम्मानित नहीं थे, क्योंकि वे सोचते थे कि ये सभी सांसारिक चीजों और सांसारिक वस्तुओं और सांसारिक घटनाओं में शामिल हैं। इसलिए, उन्हें कुछ गौण माना जाता था। या जो लोग गुरुओं के योगी थे, उन्हें उच्च माना जाता था, क्योंकि उन्होंने पहले ही सब कुछ त्याग दिया था, और वे जो उनके पास जो सब कुछ था छोड़ कर एक गुरु के पास चले गए थे। लेकिन यहाँ, इन गुरुओं को अपने भीतर एक समस्या थी क्योंकि उन्होंने पाया कि जो लोग उनके पास आए, उन्होंने सब कुछ छोड़ दिया – इसमें कोई संदेह नहीं है – लेकिन फिर भी वहाँ अटकाव और लिप्तता थे अटकलें लगाई गई थीं। अपने स्वयं के आश्रमों ’में उन्होंने पाया, इन लोगों का चीजों से अपना लगाव था। हालाँकि बाहरी तौर पर उन्होंने त्याग दिया था, लेकिन अंदर से उन्होंने त्याग नहीं पाया था। तो, वे अभी भी इन विचारों पर चिपके हुए थे कि, ओह, इतना तो यह सब ठीक है। लेकिन फिर भी हमारे पास इस तरह की थोड़ी बहुत चीजें तो हो सकती हैं। ‘ जैसे, हमारे यहाँ ननरीयाँ और वह सब है।

तो दोनों, एक तरह से, कृत्रिम थे। एक तरफ, सांख्य है, सभी सामान ढोते हुए  वे उत्थान का प्रयास कर रहे थे। और दूसरे लोग उत्थान की सभी महत्वाकांक्षाओं के साथ उतरने की कोशिश कर रहे थे।

तो, इस योग की इन दोनों शैलियों में, हर पहलू में एक बहुत ही मजेदार बात थी। जैसा कि आप देख सकते हैं कि अब, यदि आप अमेरिका जाते हैं तो आप पाएंगे,  हे भगवान, यह अमेरिका क्या है? यह लोकतंत्र नहीं है, यह दानव तंत्र है।’लेकिन यदि आप दुसरे देश के दायरे में जाते हैं जैसे कि रूस, आप पते हैं कि, -यह क्या है?  आप यहां पूरी तरह दबाव और आशंका के तहत काम कर रहे हैं। लेकिन जैसे ही एक रूसी उस देश से बाहर निकलता है, वह एक अमेरिकी से भी बदतर बन सकता है। तो यह क्या है? एक सिद्धांत यहां काम करता है, दूसरा सिद्धांत वहां काम करता है। तो कौन सा सिद्धांत है जो पूरी तरह से ठीक है? उसी प्रकार आपको धर्म के बारे में पता चलता है जैसे, एक धर्म, जो कई भगवानों में विश्वास करता है, जैसे हिन्दू , वे भी अब ‘भूत’ में विश्वास कर रहे हैं। और वे भी ग्रसित होने के मार्ग का अनुसरण कर रहे हैं। यदि आप किसी मंदिर में जाते हैं, तो हर मंदिर में आप के ग्रसित होने की अच्छी व्यवस्था मिलेगी।

या यहाँ तक कि एक चर्च, या एक मस्जिद – जहाँ ईश्वर का निवास होना चाहिए, आप पाते हैं कि अचानक आप पर हमला हो गया और आप अपने बारे में पूरी तरह से हैरान हो गए, जो कि पागल खाने में जाकर समाप्त हुआ।

तो ये किस प्रकार के पूजा स्थल हैं, जहाँ आप भगवान को खोजने जाते हैं और आप पर भयानक शैतानी ताकतों का प्रभाव पड़ता है?

यही कारण है कि, आधुनिक समय में, लोग बहुत भ्रमित हो गए हैं। हमें किसी भी चीज में सच्चाई नहीं मिलती है -ना किसी भी विचारधारा, ना किसी भी दर्शन में जो कुछ भी शुरू हुआ …जैसे, कन्फ्यूशियस ने मानवतावाद शुरू किया, सुकरात ने एक अन्य चीज शुरू की, मोहम्मद साहब ने एक और चीज शुरू की। जैसे मोहम्मद साहब ने कहा कि आइए हम भगवान की मूर्ति के रूप में पूजा न करें; आइए हम निराकार ईश्वर में ‘निराकार’ की पूजा करें। लेकिन तुम निराकार को देखते हो? अब वे एक-दूसरे को कैसे मार रहे हैं? मेरा मतलब है, मुस्लिम देशों को देखने के बाद, आप विश्वास नहीं कर सकते हैं कि कोई भी निराकार या साकार ईश्वर कहीं भी मौजूद हो सकता है – सभी को भाग गया होना चाहिए – जिस तरह से वे लड़ रहे हैं। फिर आप ईसाई देशों को देखें। वे जहां भी गए हैं, उन्होंने अन्य लोगों पर, जो ईसाई नहीं थे, हावी होने की कोशिश की है, जैसे कि उन्हें ऐसा करने का अधिकार था क्योंकि वे ईसाई थे। ईसा-मसीह के अनुयायी, जिन्होंने कहा था, “उन्हें माफ कर दो उन्हें नहीं पता कि वे क्या कर रहे हैं।”

और मुझे सभी ईसाइयों के लिए भी यही कहना है, “उन्हें माफ कर दो क्योंकि वे नहीं जानते कि वे क्या कर रहे हैं।” और जब आप इन सभी चीजों से चौंक जाते हैं, तो किसी को बैठ कर सोचना चाहिए कि,  करना क्या है, समस्या क्या है। तो, यह न तो सांख्य है, न ही योग है; तो फिर आपको क्या हासिल करना है? यही सहज योग है। सहज योग एक ऐसी प्रणाली है जिसमें पहले आपको एक सिद्धांत नहीं दिया जाता है, बल्कि स्वयं को देखने के लिए आपके हाथ में प्रकाश दिया जाता है जिसमें दोनों चीजें समान रूप से दिखती हैं। उदाहरण के लिए, अब आपको अपनी माँ के लिए बनाया यह सुंदर घर मिल गया है, जबकि आपकी माँ को यह पता नहीं है कि, यहाँ तक की एक पिन से कैसे लिप्त होना है। यह एक मज़ेदार स्थिति है।

हर किसी को मुझे याद दिलाना पड़ता है, “माँ यह तुम्हारा घर है।” “ओह मैं समझी।” और मुझे यह याद दिलाना होगा कि मैं इस घर को पाने के लिए पूरा प्रयास करने के लिए, विशेष रूप से अंग्रेज, विशेष रूप से अंग्रेज सहज योगियों के नेताओं, आप सभी को धन्यवाद देती हूं। लेकिन फिर, मुझे लगता है कि मुझे धन्यवाद क्यों देना चाहिए? यह मेरा नहीं है, यह उनका ही है – और यह ऐसा है जो है। तो एक नए प्रकार का भ्रम शुरू होता है, और जो मुझे लगा कि यह भ्रम बहुत मीठा और सुंदर है। यह एक सच्चाई है कि कुछ भी हमारा नहीं है, लेकिन हर चीज हमारी है।

जब मैं सोचती हूं कि, आपने कितनी खूबसूरती से इस जगह को बनाया है, तो यह मेरे लिए है, ठीक है; यह घर मेरे लिए है; इंग्लैंड का संबंध मुझसे और ऊपर से पूरी दुनिया मुझ से है।

इस प्रकार से हम देखते है कि,  सहज योग में सांख्य और योग कैसे एक हो जाते हैं। और यह कहा गया है कि जब आप सांख्य और योग को एक के रूप में देखते हैं, केवल तभी तो ‘सापश्यती’ -वह जो देखता है; वह एक साक्षी है।

तो, सामान्य लोगों के लिए यह हो सकता है कि यह कैसा हो कि आपकी माँ एक गुरु के रूप में हो और वह सभी गहने पहनती हो? पर क्या करूँ! वह एक माँ भी है और वह एक देवी भी है। एक और भ्रम। इन दोनों चीजों को कैसे बनाया जाए? आप देखते हैं कि एक गुरु को बहुत क्रोधी व्यक्ति होना पड़ता है, केवल एक ही पोशाक को ऊपर या नीचे की ओर पहनना, मुझे नहीं पता कि कैसे, हाथ में एक बड़ी मोटी छड़ी के साथ, कभी मुस्कुराते हुए नहीं – हंसते हुए का तो कोई सवाल नहीं – मुस्कुराते हुए? और गुरुओं को बहुत लंबे मुहँ (गंभीर मुद्रा में)के साथ है, बड़ी, बड़ी दाढ़ी विकसित करना, और किसी भी महिला की अनुमति नहीं है।

ऐसी स्थिति में, जहां महिलाओं को बिल्कुल भी नहीं देखा जा सकता है, मेरा मतलब है कि मुझे अपना चेहरा भी नहीं देखना चाहिए – यह ऐसा है। सभी शास्त्रों में एक बड़ी चर्चा है – शास्त्रों में नहीं, मैं कहूँगी आलोचकों में कि, क्या किसी महिला को साधना करने की अनुमति दी जानी चाहिए या नहीं – कल्पना कीजिए। न केवल ईसाइयों के बीच, आप आश्चर्यचकित होंगे, यहाँ तक कि भारतीय शास्त्रों में भी – किसी महिला को आध्यात्मिक साधना  करने की अनुमति हो या नहीं।

अब जब आपकी माँ एक महिला है और वह आपकी गुरु है, तो आप क्या करेंगे? यह एक और भ्रम है क्योंकि यह गलत है, पूरी बात झूठ है, बिल्कुल ही आधारहीन है। आप यह कहने के लिए कोई भी कोशिश कर सकते हैं कि महिलाएं आध्यात्मिक जीवन के लिए नहीं हैं, किसी भी तर्क की कोशिश करें, यह विफल हो जाता है।

एक अन्य दिन मैं एक यूनिवर्सिटी में एक तथाकथित बड़े व्यक्ति से मिली, बडा व्यक्ति, मैं कह सकती हूँ कठिन व्यक्ति, और वह कहने लगा, “हम ईसाई एक महिला को भगवान नहीं मान सकते।”

मैंने कहा क्यों?”

 “चूंकि…”

तो इन सभी उल्टी-सीधी कहानियों को ठीक करने के लिए, आपकी माँ को एक गुरु के रूप में इस धरती पर आना पड़ा।  खुद अपने बारे में एक छोटी सी उलझन के कारण मैं इस बिंदु पर पहुंची |

एक अन्य दिन, कोई मेरी जान के पीछे पड़ा था कि,  मुझे एक कंगन खरीदना चाहिए। मैंने कहा, “मेरे पास अब कोई पैसा नहीं है; मैं खरीदना नहीं चाहती। ”

“ठीक है हम इसे पूजा में देंगे।”

मैंने कहा, “लेकिन अब केवल गुरु पूजा है।”

उसने कहा, “सब ठीक है, हम इसे गुरु पूजा में देंगे।”

मैंने कहा, “गुरु पूजा में एक कंगन खरीदना मेरे द्वारा किया गया कुछ मज़ेदार है।”

आखिर, गुरु पूजा में आप अपने गुरु को कंगन नहीं देते, क्या आप? आप दे सकते हैं, जैसे, एक बड़ी छड़ी ; या आप उसे एक चंदन ‘खडाऊ ‘ दे सकते हैं – इसे क्या कहा जाता है – ‘चप्पल’, या आप उसे शाल दे सकते हैं। लेकिन यहाँ यह है … मैंने पूछा … सब ठीक है गुरु पूजा में दे दो। क्या कारण था? और मुझे अपने स्वयं के भ्रम के बारे में पता चला और मैंने इसके बारे में सोचा। मैंने सोचा, “यह वही है, कि, यह इस प्रकार घटित होना है कि, गुरु पूजा पर आपको अपने गुरु को एक कंगन देना होगा।” हम इसे बदल दें। पूरी बात को इस तरह से सामने लाना है कि हर बात का वास्तविकता से सामना हो। इन सभी झूठे विचारों को छोड़ना होगा। जैसे, अगर आपके पास कारपेट उल्टा है, तो पूरा डिजाइन उल्टा है। लेकिन, अगर आप कालीन को सही तरीके से रखते हैं, तो सब कुछ ठीक तरीके से दिखता है। और इसीलिए आपको आत्मसाक्षात्कार दिलाने के लिए आपको एक माँ की आवश्यकता थी, और एक गुरु के रूप में माँ आपको यह सिखाने के लिए कि, ईश्वर की तरफ उत्थान के लिए किसी को भी निषिद्ध नहीं किया जा सकता है।

इस तरह है कि आज सहज योग कार्यान्वित है। सभी दिशाओं में, यदि आप पाते हैं, सभी उल्टी-सीधी चीजों को सही दिशा में रखना, इसे वास्तविकता से सामना करवाना, सभी वास्तविक मूल्यों को लाना, सभी सड़ी हुई मूल्य प्रणालियों, सभी राजनीतिक, आर्थिक प्रणाली, सभी आध्यात्मिक धर्मशास्त्र, सभी मनोवैज्ञानिक और ऐसे सभी निरर्थक विचारों को को खत्म करना उनकी उचित दिशा में ले जाना।

कैसे एक अवतार में यह सब कार्यान्वित हुआ है, आप कल्पना कर सकते हैं। कैसे एक अवतार में इन सभी विचारों को ठीक से रखा गया है।

हिंदुओं में एक और विचार मौजूद है, कि यदि आप एक धार्मिक व्यक्ति हैं, तो आपको शाकाहारी होना चाहिए। सभी ब्राह्मण ऐसा मानते हैं, और गैर-ब्राह्मण भी। लेकिन हमारे पास एक जगह पर एक ब्राह्मण काम कर रहा था जहाँ मैं रह रही थी, और उन्होंने कहा कि माँ के लिए हमें मांस देना होगा, वह कुछ और नहीं खाएगी। उसे प्रोटीन खाना है। वह बोली, “हां, हां, बिल्कुल। एक माँ के लिए, उसे अवश्य लेना चाहिए। ” चाहे वह ब्राह्मण हो या गैर-ब्राह्मण, सभी समझते हैं कि माँ को प्रोटीन खाना है। चूँकि उसे इन सभी ‘राक्षसों ‘ का खून पीना है, वह शाकाहारी कैसे हो सकती है? और अगर उसे इतने शैतानों को मारना है, तो वह अहिंसक कैसे हो सकती है? तो जो विरोधाभास आप माता के वर्णन में देखते हैं – कि वह वह है जो सबसे उग्र व्यक्तित्व है जब यह नकारात्मक प्रकार के लोगों के वध की बारी आती है, जो उसकी रचना, उसके अपने बाल बच्चों को नष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं, और वह अपने बच्चों के लिए सबसे प्यारा और सबसे मधुर व्यक्ति है। इन दो विरोधाभासों को देखा जाना चाहिए। यहां तक ​​कि जानवरों में भी आप ऐसा ही विरोधाभास पाते हैं, लेकिन इस तरह एक अवतार में बहुत स्पष्ट है। और आज, सहज योग के माध्यम से, हम यह साबित करने में सक्षम हुए हैं कि सांख्य और योग समान हैं।

चाहे आप चीजों को इकट्ठा करते हैं, चाहे आपके पास संपत्ति हो या चाहे आप त्याग दे , किसी ऐसे व्यक्ति को कोई फर्क नहीं पड़ता जो भीतर से निर्लिप्त  है। यदि आप उन्हें दूसरों के लिए इकट्ठा करते हैं, तो और भी बेहतर। लेकिन अगर आप अपने लिए इकट्ठा करते हैं और फिर छोड़ देते हैं, तो यह और भी बेहतर है। क्योंकि पहले आप अपने लिए इकट्ठा करते हैं, फिर आप सोचते हैं, “ओह, यह मेरे लिए अच्छा है, मैं अपने लिए इसका उपयोग करूंगा, एक अच्छा विचार होगा” -तो स्व वहां है – लेकिन फिर, कि आप दे डालते हैं। इसका मतलब है कि आपकी निर्लिप्तता सम्पूर्ण हो गई है। या तीसरा व्यक्तित्व ऐसा हो सकता है [स्पष्ट नहीं] … जो सिर्फ इकट्ठा करता है और बस देता चला जाता है। बिना सोचे समझे इकट्ठा करता है और बिना सोचे समझे देता है क्योंकि सोचना मेरा काम नहीं है। यह एक बात है जो मैंने छोड़ दी है – सोचना। मैं सोचना नहीं चाहती – ये आपका है , मेरा नहीं। और बिना सोचे हमने सहज योग के जरिए कितनी चीजें हासिल की हैं। योग और सांख्य दोनों सोच के उत्पाद हैं, अनायास के उत्पाद नहीं। यह घर अपने आप में एक सहजता का उत्पाद है। मेरा मतलब है, जैसा कि हम अंग्रेजों को ‘साहब लोग ‘ कहते हैं, आप देखिये | तो, मैंने कुछ घरों को देखने के लिए मेरे साथ कुछ ‘साहब लोग ‘ लिए और वे कुछ विशेषता वाले कुछ घरों को देखना देखना चाहते थे – मतलब कुछ अलग होना चाहिए, कुछ टेढ़ा-मेढ़ा होना चाहिए, यह सीधा नहीं होना चाहिए। मैंने कहा, “अब कृपया, मैं इस टेढ़ा-मेढ़ा को सहन नहीं कर सकती।”

तो, “नहीं, नहीं, लेकिन इसमें कुछ विशेषता है।” मैंने कहा, “अब, मुझे इस तरह का टेढ़ा-मेढ़ा पन नहीं चाहिए।” सीधा यह होना चाहिए। इसलिए वे मुझ से निराश थे। और कि, ‘साहब लोग ’के कुछ अन्य विचार भी थे, उदाहरण के लिए, यदि आप विंडमेयर नामक स्थान पर जाएँ, जैसे की, यह एक पॉश जगह है; यदि आप उत्तर की ओर जाते हैं, तो बहुत कम; फिर यदि आप पूर्व में जाते हैं, तो यह बेकार है – जैसे। मैंने कहा, “हम जहां तक ​​जा सकते हैं उत्तर, उत्तर की ओर जाएं।” क्योंकि, आप जानते हैं, देवी को ‘दक्षिणामूर्ति’ होना चाहिए। उसे उत्तर की ओर होना होगा तथा – दक्षिण में उसकी दृष्टी। यही कारण है कि उसका होना है … मेरा मतलब है कि हम स्कॉटलैंड में नहीं हो सकते थे – यह आपके लिए बहुत अधिक होता। लेकिन यह हम सभी के लिए आदर्श रहा होगा क्योंकि तब हमारी  द्रष्टि ’की ओर है – हमारी दृष्टि दक्षिण की ओर है और हम पूरे ब्रह्मांड को अपने सुंदर दृष्टिकोण से देखते हैं।

इस प्रकार, अनायास, हमें यह स्थान मिल गया। और ‘साहब लोग’ थे, “हाँ, नहीं, नहीं, हाँ।” लेकिन अनायास ,’सहज’ हमें यह मिला| और तब हमें पता चला कि इसका एक इतिहास है; तब हमें इसके खूबसूरत चैतन्य का पता चला; तब हमें इसकी संभावनाओं के बारे में पता चला। आप जो भी अनायास प्राप्त करते हैं, वह संभावनाओं से भरा होता है।

इस बिंदु पर, मुझे कुछ शब्द कहने हैं जो कि, महत्वपूर्ण है। मुझे मिलना था – कुछ बिंदु मुझे सहजता वाले हिस्से के बारे में कहना है जो काफी दिलचस्प है – जिस तरह से लोगों को लगता है कि सहजता काम करती है। जैसे, ज्यादातर यह इसमें अहंकार की भूमिका होती है जो कहता है, यह सहज है, ’कई लोगों के साथ। विशेष रूप से बहुत पुराने सहज योगियों को लगता है कि वे सहजता के बारे में अधिकृत हैं। जैसे, वैतरणा में हमारी एक भूमि थी। तो, उनमें से एक पुराना सहज योगी वहां गया और उसने कहा, “अमुक जमीन में वायब्रेशन हैं अमुक में वायब्रेशन नहीं है।” इसलिए सभी ने स्वीकार किया,, सब ठीक है, सब ठीक है, सब ठीक है|’फिर उन्होंने कहा, “जमीन के इस हिस्से में किसी को भी भोजन नहीं करना चाहिए|” अब, यह ज्ञान कहाँ से आता है? भोजन करना पाप नहीं है, क्या ऐसा है? जैसे कि यह कोई पाप है कि आप वहां खाना खा रहे हैं। फिर पूरी धार्मिक श्रद्धा से वे इस  हद तक सहज योग के ए, बी, सी, डी, ई, एफ, जी, एच, जेड और फिर ए, बी, सी, डी का अनुसरण करते हैं, ‘ ‘कि’ मैं सोचने लगती हूँ कि, अब वे एक अन्य  कट्टरपंथी सहज योगी बन गए हैं।

कट्टरता सहज योग के विरोध में है – बिल्कुल।

अब वे पूछेंगे, “हमें कितनी बार यह ‘मंत्र’ कहना चाहिए?” फिर मैं कहती हूं, “शून्य बार।”

“हमें अपनी नाक में कितना घी डालना चाहिए?” फिर मैं कहती हूं, “एक पूरा जग।”(हंसी)

फिर, “ओह, मुझे बाईं ओर से नहीं जाना चाहिए था, मुझे दाईं ओर से जाना चाहिए था।”

फिर, मैं कहूंगी, “तुम अभी कूदो।”

आपको बच्चों की तरह बनना होगा। लेकिन ये विचार सहज योग में ऐसे बस गए है, बेशक, अब इतने वर्षों हो गए हैं, लेकिन उनको (विचारों को) स्थायी नहीं हो जाना चाहिए। यदि वे (विचार)स्थायी बस जाते हैं, तो यह सहज नहीं है; यह सहज नहीं है।  यदि आप ऐसा करते हैं, तो यह गलत है; उस तरह, यह गलत है ‘-ऐसा कुछ भी नहीं है। आप लोगों के लिए कुछ भी गलत नहीं है। यदि आप कुछ भी गलत करते हैं, तो आपका वायब्रेशन चला जायेगा , समाप्त हो जाएगा। इतना सतर्क रहने की क्या जरूरत है? जैसे, किसी ने कहा, “मैं सिगरेट को देखना भी नहीं चाहता।” मैंने कहा क्यों?” “इसे देखना भी पाप पूर्ण है।” मैंने कहा, “इसे देखने से क्या होता है?”

“तब मुझे धूम्रपान कर रहा हूँ ऐसा लगता है।” तो मैंने कहा, “बेहतर हो एक बार धुम्रपान ही कर लो।”

या, “मैं अपने हाथ में शराब की बोतल नहीं रख सकता।”

“क्यूं कर?” “नहीं, शराब की बोतल पकड़ना पाप पूर्ण है।”

मेरा मतलब है, आप शराब में तैर सकते हैं। तो इस तरह की समझ होनी चाहिए। हालांकि मैंने हमेशा कहा है कि अगर मैं एक बात कहूं, तो आप इस पर चिपक जायेंगे। इसलिए मैं हमेशा इसके दूसरे पक्ष को भी कहती हूं – कि किसी भी चीज़ पर चिपक मत जाओ; सहज योग किसी चीज पर टिकने के लिए नहीं है। जैसे किसी व्यक्ति ने शुरू-शुरू में सहज योग के कुछ पाठ सीख लिये थे, कुछ मंत्र उन्होंने सीखे थे, और अभी भी वे उन्ही तरीको पर चल रहे हैं। नहीं, नहीं, नहीं, नहीं – आपको आगे जाना है। यह सिर्फ एक सीढ़ी है। एक बिंदु पर अटक मत जाना।

हमारे यहां इस तरह के कई मामले आए हैं। उनके कहते ही लोग वास्तव में चौंक जाते हैं। वे आपको कई निरर्थक विचार बताएंगे कि – “आप देखिए, अगर आप ऐसा करते हैं, तो ऐसा होता है।”

सबसे पहले, आप दूसरों को विचार नहीं दें। यह पहली बात है – यदि आप तय करते हैं कि, किसी अन्य व्यक्ति के साथ क्या गलत है, हम इस बारे में विचार नहीं देंगे, तो आपका आधा काम हो गया है। क्योंकि आपको कोई काम नहीं करना है, जैसा कि मैं नहीं करती। कोई भी व्यक्ति आता है, “आप एक ‘भूत’ हैं।” बेहतर है आप यह बात समझ लें। मुझे दूसरों से रिपोर्ट मिलती है। वे कहते हैं कि आपके सहज योगी दुष्ट लोग हैं। मैंने कहा क्यों?” “ओह, वे आपको बताते हैं, ‘आप बुरे हैं।’ वे आपको कहते हैं कि, ‘आप ग्रसित हैं|’ वे आप को कहते है “आप ये हो, आप वो हो; बहुत दुष्ट लोग हैं। ”

मुझे यह सुनकर बहुत आश्चर्य हुआ कि सहज योगी – वे दुष्ट कैसे हो सकते हैं? यदि कोई व्यक्ति किसी चीज से पीड़ित है, तो फोन में वे कहते हैं, “ओह, बेहतर है कि आप यह ले लें। यह आपके लिये अच्छा हॆ।” यह ठीक तरीका नहीं है | हमें नए लोगों के लिए न केवल विनम्र, बहुत व्यवहारकुशल और मधुर बनना होगा – अगर आप चाहते हैं कि कुछ और लोग अंदर आए, लेकिन अगर आपने अब और नहीं करने का फैसला किया है, क्योंकि आपको एक और शामियाना डालना होगा, तो मुझे कुछ नहीं कहना है । लेकिन अगर आप चाहते हैं कि अन्य लोग इसमें आएं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप उनसे बहुत मीठी और सुंदर भाषा में बात करें, जिस तरह से वे समझते हैं। अशिष्टता, अहंकार, दिखावा, किसी काम का नहीं है। व्यक्ति को समझना चाहिए कि जहां आप इसके बारे में पूर्ण आनंद में हैं वहां सहज योग है; आप बस उस आनंद में खो गए हैं।

यह याद रखने का समय ही कहाँ है कि, खुद को कितनी बार बंधन देना है?खुद को बंधन ’देने की क्या जरूरत है? आपके लिए अब यह सब मजाक है, ऐसा होना चाहिए | एक छोटा बच्चा बोतल से दूध चूसता है, ठीक बात है, क्योंकि उसके दांत नहीं हैं। लेकिन ऐसी बात करते आप लोग कैसे लगेंगे? यह बहुत बचकाना है और दिखाता है कि, कोई उन्नति नहीं हुई है |

सहज योग की उन्नति हमारे भीतर होना चाहिए। आपको अब और अधिक अपरिपक्व सहज योगियों के रूप में नहीं रहना चाहिए। मैं कहूंगी : एक ऐसा व्यक्ति जो एक परिपक्व सहज योगी है, वो ऐसा होता है जो, बहुत सारी चीजों को एक साथ जोड़ सकता है, सभी सुंदर रेखाओं द्वारा, महीन रेखाएं, नाज़ुक मर्यादा ’{आचार संहिता} मान्य की गई है। लेकिन, आप कोई दूसरा तरीका नहीं अपना सकते।

उदाहरण के लिए, आपको यह नहीं कहना चाहिए, “ठीक है अब से , मैं मधुर  हो जाऊंगा। तब मैं नाराज होऊंगा; तब मैं मीठा हो जाऊंगा; तब मैं इस तरह से रहूंगा; फिर मैं ऐसा होऊंगा। ” यह एक उलझ-सुलझा ढंग होगा। यह एक अजीब व्यक्तित्व है जिसे आप देखते हैं – अचानक मुझे गुस्सा आता है, जैसे कि [चेहरे की अभिव्यक्ति?], और फिर मैं [संभवतः माँ चेहरे की अभिव्यक्ति के साथ प्रदर्शित करती है]। लोग सोचेंगे कि आप ‘भरतनाट्यम’ या ऐसा ही कुछ कर रहे हैं। अपने सभी मूड को दिखाते हुए – पांच मिनट में आप दस मूड दिखाते हैं।

यह आपके भीतर की उन्नति है, जो प्रदर्शित होगी। इसलिए, हमें अपनी उन्नति करनी होगी, और विकास के लिए, हमें भीतर मौन रहना चाहिए। आइए हम दूसरों से प्रतिक्रिया न करें – “यह व्यक्ति ऐसा है, वह व्यक्ति वैसा ही है।” आपके बारे में क्या? इसके अलावा … अन्य तरीके हैं। जैसे, मैं किसी को बताती हूं कि, आप देखिए, आपको यह समस्या है। तो वह व्यक्ति तुरंत दूसरे व्यक्ति के पास जा कर और उसे कहता है, “आप देखिए, माँ ने मुझसे कहा कि आपको भी यह समस्या है, बेहतर है कि आप इस पर ध्यान दें |” मैंने उस व्यक्ति को नहीं बताया;  आपको बताया है। इसे अपने पास रखो। तो, ‘माँ कहती है’ ऐसा कहना छोड़ देना है, बिल्कुल अगर माँ को कहना है, तो वह कहेगी आपको संवाद क्यों करना चाहिए; क्यों कहना चाहिए मैंने आपको ऐसा कहने के लिए कभी नहीं कहा।

सहज योग को समझना तब बहुत ही सरल, अत्यंत सरल है, जब आप एक बात को समझ लेते हैं कि – आपको अपनी सहजता बरकरार रखनी है। अब, लोग कहेंगे,”अबोधिता कैसे पायें?” कैसे पाएं, अबोधिता से? यह एक दुष्चक्र है। कैसे पाएं मासूमियत से? – यह एक बहुत ही दुष्चक्र है। हमें अबोधिता में उतरना है, किस माध्यम से? तुम्हारा अहंकार या प्रति-अहंकार से ? कैसे मिलेगी अबोधिता?

माँ कहती है, “अपनी कुंडलिनी मत चढ़ाओ।” मेरा मतलब है, मैं स्वयं यहाँ बैठी हूँ – लोग वैसा ही कर रहे हैं। क्या हो रहा है? मैं यहाँ बैठी हूँ – आपकी कुंडलिनी आपके सिर पर है। आप क्या उठा रहे हो?

अब व्यवस्थित कैसे करें समस्या है। बहुत सरल है। शुरुआत में मैंने कहा, “अपने गुरु को अपने हृदय में रहने दो।” व्यवस्थित कैसे करें – क्यों? माँ को प्रबंध करने दो। मां मुझे संभाल रही हैं। उस पर रखो। आपका राइट साइड क्लियर हो जाएगा। आपके ऐसा कहने पर कि,  “कोई भी मुझे प्रबंधित नहीं कर सकता है लेकिन माँ मुझे प्रबंधित कर सकती है”आपका बायाँ भाग साफ हो जाएगा, – दो चीजें एक साथ। चीजें कार्यान्वित होगी।

भगवान का शुक्र है कि आप के पास मेरे जैसा कोई है, जो यहां बैठा है, जो ऐसा कह सकता है। उन लोगों के बारे में सोचें, जिनके पास उन्हें बताने के लिए, या उनकी उपस्थिति में यह कहने के लिए कभी नहीं था कि, ” मैं इसे प्रबंधित कर सकता हूं, या आप इसे प्रबंधित कर सकते हैं, कि अब आप संतुलन बना सकते हैं।” अपनी कुंडलिनी को चढ़ने दें। सब कुछ कार्यान्वित हो जाता है। इस घर की तरह जब मैंने खरीदा, या जब उन्होंने खरीदा, या जिन्होंने खरीदा – इतने सारे सवाल और जटिलताओं – कैसे, कैसे, कैसे? लेकिन यह हो गया ; यह वहाँ है, बिलकुल कायम; कुछ भी नहीं गिरा है; कुछ भी गलत नहीं हुआ। मुझे एक बार चिल्लाना पड़ा, ठीक है। लेकिन मुझे चिल्लाने दो, तुम चिल्लाना शुरू नहीं करो। जैसे ही मैं समाप्त करती हूं, वे लाउडस्पीकर लेंगे, और भी अधिक जोर से चिल्लाएंगे। “माँ ने ऐसा कहा, तो आप ऐसे हैं वैसे हैं,” मैं आपके बारे में कह रही हूं, आप आप किसको उपदेश दे रहे हैं?

लेकिन केवल, आपको पता होना चाहिए कि जब मैं आपको कुछ बताती हूं, तो कृपया इसे करें; कृपया इसे करें। देखिए चूँकि मैं काफी कुछ जानती हूं। चूँकि मैं गुरु हूं, तुम्हारी गुरु; क्योंकि मैं सभी गुरुओं की गुरु हूं। और जो असली गुरु हैं, वे जानते हैं कि मेरी माँ सब कुछ जानती है। वह स्वयं ज्ञान  है। अगर वह कुछ कहती है, तो इसका कुछ मतलब है। और यहां तक ​​कि मैं आपकी कभी-कभी परीक्षा भी कर सकती हूं, कोई बात नहीं। इसी तरह आप गुरु बनते हैं।

शिवाजी के गुरु रामदास थे। उन दिनों गुरु अपने शिष्यों की बहुत परीक्षा लेते थे। मैंने कभी आपकी परीक्षा या कुछ भी नहीं लिया। लेकिन आप खुद को परख रहे हैं। और उनके गुरु ने एक दिन कहा कि, “मुझे लगता है कि मुझे एक बाघिन के दूध की आवश्यकता है। मुझे एक बाघिन का दूध पीना है। ” उनमें से आधे की जान निकल गई और उनमें से अधिकांश ने इसे नहीं सुना। शिवाजी ने कहा, “ठीक है। मैं आप को ला दूंगा।” वह जंगलों में चले गए। उन्होंने एक बाघिन को देखा और उसके छोटे, छोटे छोटे बच्चे थे, और वे शावक बगल में पड़े थे। वह चले गए और उसने सिर्फ नमस्कार किया उसे बताया। उन्होंने कहा, “मेरे गुरु आपका दूध चाहते हैं,” बस इतना ही  – क्योंकि गुरु ‘परब्रह्म’ हैं [हिंदी / संस्कृत का अर्थ है भगवान सर्वशक्तिमान], उनके आदेश ‘परब्रह्म’ द्वारा सुने जाते हैं। ‘ “मेरे गुरु, श्री रामदास, आपका दूध चाहते हैं। तो कृपया, क्या आप मुझे अपना दूध देंगी?” इतनी अच्छी तरह से वह उठ खड़ी हुई, उनके सामने खड़ी हो गई। उन्होंने उसका दूध निकला और उस दूध को अपने गुरु के लिए ले गये। यह वही है जो यह है क्या आपने गुरुपद ’का अर्थ समझा है?

जब आप अपने गुरु की इच्छाओं के साथ पूरी तरह से एकाकार हो जाते हैं, तो आप एक गुरु की स्थिति प्राप्त करते हैं। लेकिन यदि आपके पास अभी भी इसके बारे में कुछ विचार हैं, तो श्री रामदास ने कहा है कि तब भगवान अल्प धारिष्ट पाए अर्थात परमात्मा आपके थोड़े धैर्य\साहस को देखते हैं |- “ठीक है, आगे बढ़ो। अपने सिर तोड़ो और फिर वापस आओ।मैं उन्हें ठीक कर दूंगा। ” इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हमें एक बात को गंभीरता से करना चाहिए – कुछ अनुरोध आने पर अपनी माँ को बहुत गंभीरता से लेना है।

बेशक, अंग्रेजी भाषा में मैं हमेशा कहती हूं, “कृपया, क्या आप इसे करेंगे?” या मैं यह भी कह सकती हूं, “मुझे डर है कि क्या आप इसे करेंगे?” लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए। एक अन्य दिन ही, जब हम कार्डिफ के लिए आ रहे थे, तो मैंने कहा कि पहला दर्जा दूसरी तरफ आएगा। लेकिन प्लेटफ़ॉर्म पर मौजूद हर व्यक्ति ने कहा, “नहीं, यह दूसरी तरफ आ रहा है।” मैंने कहा, “ठीक है।” हम बैठ गए, और फिर उन्होंने घोषणा की कि पहला दर्जा इस तरफ आ रहा है। इसलिए हम सब फिर से वापस चल पड़े।

ऐसा उन लोगों के लिए ठीक है, लेकिन आपके बारे में क्या? कई बार आपने देखा होगा। और गुरु के पूछने पर, अगर कुछ गलत भी हो जाता है, तो इसे हमेशा ईश्वरीय नियम के रूप में स्वीकार किया जाना चाहिए – क्योंकि, गुरु ईश्वरीय विधान के दाता हैं, सांसारिक नियम के नहीं। वह आपको ईश्वरीय विधान देते हैं। ईश्वरीय नियम को जब आप समझते हैं, उसके बाद आपको ईश्वरीय विधान के सामने समर्पण करना होगा और तब आप उस विधान के विशेषज्ञ\स्वामी बन जाएंगे।

आज गुरु पूजा के लिए मैं आपसे बात करती ही जा सकती हूं। लेकिन आज, मैं आपसे समझने का अनुरोध करूंगी कि, समर्पण (जिसे की इस्लाम भी कहते हैं)करते हुए, जो इतना महत्वपूर्ण था – कि अगर ईश्वर आपका गुरु है, तो उन्हें मार्गदर्शन करने दें; उनकी इच्छानुसार घटित होगा। आइए हम खुद  अपना ही मार्गदर्शन नहीं करें और साथ ही, कभी-कभी वे गुरु का मार्गदर्शन करने का भी प्रयास करते हैं। तब गुरु चालें खेलते हैं, और फिर आप चाल के जाल में उलझ जाते हैं, और फिर आप को लगता है कि, यह बहुत ज्यादा ही हो गया।

जो भी गुरु आपको बता रहे हैं उसे सुनना ही बेहतर है, और इसे करना ही बेहतर है। गुरु जो भी कहते हैं वह सब ठीक है। गुरु आपसे कुछ भी मांग कर सकते हैं। मेरा मतलब है, मैं काफी अच्छी गुरु हूं। जैसे, इन रामदास ने खुद अपने शिष्यों से पूछा कि, “मुझे बहुत बुरा, सेप्टिक, बड़ा फोड़ा हुआ है और कृपया इसे चूस कर बाहर निकालने की कोशिश करें क्योंकि यह मवाद से भरा है।” कल्पना कीजिए। तो शिष्यों को पता नहीं था कि क्या करें, आप जानते हैं। गुरु का मवाद कैसे चूसना है। लेकिन शिवाजी आगे आए। उन्होने अपनी टोपी उतार दी, उसके बगल में बैठ गये, चूसने लगा। लोगों ने कहा, “यह कैसा है?” कहा, “यह बहुत प्यारा है, बहुत अच्छा है।” दरअसल, उन्होंने उस जगह पर एक आम को बांध रखा था।

इस प्रकार गुरुओं ने बहुत परीक्षाएं ली। मैंने कभी आपकी परीक्षा नहीं ली, और आप दूसरों की परीक्षा नहीं लेते। उन्हें मेरे जिम्मे छोड़ दो, मैं उन सभी को एक-एक करके प्रबंधित करूंगी। जो होना है वो होता है। सहज योग में, ऐसा सोचना कि 100% लोग अमीर, स्वस्थ, धनी और दुनिया के शीर्ष पर होगा, एक बकवास है। यदि हम बहुत अमीर हो गए, तो मंदी हो जाएगी क्योंकि अन्य लोग बहुत गरीब होंगे। अगर हम बहुत स्वस्थ हो गए तो कोई भी हमारे करीब नहीं आएगा; यदि हम सभी पहलवानों की तरह दिखें, तो कौन हमारे पास आएगा? अगर हम बहुत बुद्धिमान हो जाएं, तो लोग ऐसे बुद्धिमान लोगों से डर जाएंगे; कुछ भी नहीं … वे कुछ भी समझ नहीं सकते, यह उनके सिर के उपर से जाएगा।

तो हम मध्य में रहें। हमें धनी होना चाहिए, लेकिन बहुत अधिक नहीं; हमें स्वस्थ होना चाहिए, लेकिन बहुत अधिक नहीं; हमें बुद्धिमान होना चाहिए, लेकिन बहुत अधिक नहीं। जहाँ तक हो, उतना ही ठीक – इस तरह हमें आगे बढ़ना चाहिए।

तो हम अपनी मर्यादाओं में रहकर और हम सुंदर सहज योगी बन जाते हैं, जो दूसरों के लिए सोहार्दपूर्ण होंगे, जो इस योग्य हों कि, दूसरों का सानिध्य पायें, जो अपने चुंबकीय व्यक्तित्वों की छवि को प्रसारित करने में सक्षम होंगे। और यही हमें करना है। अगर हम किसी भी तरह से दिखावा करने की कोशिश करते हैं – जैसे मैंने देखा है कि,  लोग अनावश्यक रूप से दिखाने की कोशिश करते हैं – कोई ज़रूरत नहीं है। बस पृष्ठभूमि में रहें। यदि आप ज्यादा ही पृष्ठभूमि में रहते हैं, तो थोडा सा आगे आयें। खुद को संतुलित करने की कोशिश करें। खुद को देखने और मार्गदर्शन करने की कोशिश करें और खुद को बताएं, “अपने गुरु बनें।” अपने आप का आकलन करें कि, कहाँ तक आप मध्य में हैं, आप कितनी प्रगति कर रहें हैं, आपने कितनी उन्नति  हासिल की है। क्या आप अभी भी यहां और वहां की छोटी-छोटी चीजों से लिप्त हैं? क्या आप अभी भी छोटी चीजों के बारे में परेशान हैं? – “माँ, मुझे 80% अंक मिलने चाहिए थे, मुझे केवल 75% अंक मिले हैं।” हे भगवान्। चूँकि उसे 75% अंक मिले थे, इसलिए कुछ अच्छा परिणाम निकलना चाहिए। हो सकता है, उसे कोई सबक सीखना होगा। या हो सकता है कि उसे कोई और कोर्स करना उचित हो। हो सकता है कि उसके उत्थान के लिए कुछ अच्छा कार्यान्वित होना हो, – अगर आपको गुरु बनना है तो यह सुनिश्चित करना होगा। यदि आप यह सुनिश्चित नहीं कर सकते हैं, तो अन्य लोग कैसे कर सकते हैं? इस का अहसास होना चाहिए। मन में नहीं डाला जाना चाहिए, लेकिन हृदय में अहसास होना चाहिए। अपने दिल के दायरे में आपको इसका अहसास करना है; आपको इसे अपने हृदय के दायरे में समझना होगा।

अच्छा है कि हम इंग्लैंड में हैं, ब्रह्मांड का हृदय, कि हम अपने हृदय को खोलने के बारे में बात कर रहे हैं। अगर आपको ‘मुझे’ , जो प्यार का सागर है, वहाँ रखना है तो,  इस प्यार के सागर को समेटने के लिए, आपके पास बहुत, बहुत बड़ा दिल होना चाहिए – अपने व्यक्तित्व से बड़ा, अपने देशों से बड़ा, इस दुनिया से बड़ा, इस ब्रह्मांड से बड़ा।

परमात्मा आप को आशिर्वादित करें!