Thinking and How we trigger a cancer

Auckland (New Zealand)

1990-03-14 Thinking and How we trigger a cancer, Auckland, New Zealand, 98' Chapters: Talk, Q&A, Self-Realization, WorkshopDownload subtitles: EN (1)View subtitles:
Download video - mkv format (standard quality): Download video - mpg format (full quality): Watch on Youtube: View on Youku: Watch and download video - mp4 format on Vimeo: Listen on Soundcloud: Transcribe/Translate oTranscribeUpload subtitles

Feedback
Share

                                           सार्वजनिक कार्यक्रम 

1990-03-14, ऑकलैंड, न्यूजीलैंड

उदाहरण के लिए, हम बहुत मेहनत करते हैं, बहुत ज्यादा सोचते हैं, आप राइट साइडेड हैं; इसकी भरपाई करने के लिए,  कहते हैं, हम स्लिपिंग पिल्स या ड्रिंक्स, या ऐसा ही कुछ लेते हैं, केवल क्षतिपूर्ति करने के लिए। बहुत ज्यादा राईट साइड को हम सहन नहीं कर पाते। लेकिन ऐसा सब करने से आपको कोई मदद नहीं मिलती, क्योंकि आप एक छोर से दूसरे छोर तक झूलते रहते हैं। इसलिए, आपको मध्य में गति करनी होती है, और उसके लिए हमारे भीतर एक विशेष तंत्र है। जैसा कि मैंने कल आपको बताया था, आपको बहुत वैज्ञानिक दृष्टिकोण रखना होगा, अपने दिमाग को खुला रखना होगा। अगर यह काम करता है, तो आपको ईमानदार लोगों के रूप में इसे स्वीकार करना होगा। हम कहते हैं कि हम संशयवादी हैं। ठीक है, लेकिन हम इसके बारे में खुद को खुला रख सकते हैं, क्योंकि आखिरकार, हम परम सत्य तक नहीं पहुंचे हैं। तो, अगर आपको उस सत्य तक पहुंचना है, तो हमें कैसा होना चाहिए? हो सकता है कि भारत के लोगों को इसकी अधिक जानकारी है, आंतरिक दुनिया में उनकी खोजों के कारण। लेकिन, पश्चिम में भी,इस ज्ञान कि आवश्यकता है क्योंकि, जैसा कि मैंने कल कहा था, कि जो पेड़ इतना बड़ा हो गया है, उसे अपनी जड़ों को जानना है। वरना हमेशा कोई एक समस्या होती है, जिसका सामना करना आपको नहीं आता।

इसलिए, जैसा कि मैंने आपको जड़ों के बारे में बताया है, अब, बाईं बाज़ू और दाईं बाज़ू, दो अनुकंपी तंत्रिका तंत्र, बाएं और दाएं, दोनों अलग-अलग कार्य करते हैं, जिसके बारे में मुझे लगता है कि डॉक्टरों को पता नहीं है। मधुमेह के बारे में, अब-मुझे बहुत सी बात करनी है, असंतुलन-मधुमेह के बारे में आज किसी ने मुझसे पूछा, सोचने से मधुमेह कैसे हो जाता है। भारत में, यदि आप किसी गाँव में जाते हैं, तो वे आपसे कुछ चाय लेने के लिए कहेंगे और आप इसे नहीं पी पायेंगे, क्योंकि चीनी इतनी अधिक होती है कि चम्मच को समकोण पर खड़ा होना पड़ता है। और उनमें से किसी को भी मधुमेह नहीं है, उनमें से किसी को भी नहीं। लेकिन भारत में हमारे नौकरशाह, उन सभी को यह होती है। राजनेता भी। इसका कारण यह है कि वे बहुत अधिक सोचते हैं, वे बहुत अधिक योजना बनाते हैं। वे बहुत राईट साइडेड हैं। अब कौन सा केंद्र दाहिनी ओर का कार्य करता है, वह दूसरा केंद्र है, जिसे हम स्वाधिष्ठान कहते हैं।

यह दूसरा केंद्र, जो स्वाधिष्ठान है, जैसा कि आप बहुत स्पष्ट रूप से देख सकते हैं, दाईं ओर की गतिविधि प्रदान करता है। यह जुड़ा हुआ है, ऊपर की ओर ऑप्टिक चियास्मा से गुजरता है, बाईं तरफ जाता है, जिससे हमारा अहंकार पैदा होता है। जैसे तुम यह बड़ा हॉल बनाते हो, तो मानो कि तुमने बहुत बड़ा काम किया है। लेकिन वास्तव में, कुछ ऐसा जो मृत था, उसे हमने इकट्ठा कर रखा है, इसी तरह हॉल का निर्माण होता है। मृत से मृत तक। हमने अब तक कोई जीवंत काम नहीं किया है। लेकिन इससे एक काल्पनिक भाव पैदा होता है कि हमने यह किया, हमने वह किया। और इस तरह अहंकार का यह गुब्बार एक तरफ हमारे भीतर पनपने लगता है। अब, जब यह स्वाधिष्ठान काम कर रहा है, तो इसे करने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण काम मिल गया है, हमारे सिर में मस्तिष्क की कोशिकाओं को बदलना है, जिसे हम सोचने के लिए उपयोग कर रहे हैं, ग्रे सेल। इसे ऐसा करना है। और उस केंद्र पर एक विचारक के इस दबाव के कारण, यह अन्य कार्यों की उपेक्षा करता है, जो उसे करना है: आपके यकृत, आपके अग्न्याशय, आपके प्लीहा और आपके गुर्दे और आंशिक रूप से आपके पाचन तंत्र की देखभाल करना। नतीजतन, यह सभी अंग समस्याओं में चले जाते हैं। उनमें से एक अग्न्याशय (पेन्क्रियास) है, जो कारण बनता है, जिसे हम मधुमेह कहते हैं। लीवर खराब हो जाता है।

जब लीवर खराब हो जाता है तो आपके शरीर में गर्मी बढ़ जाती है। यकृत से यह ऊपर उठता है, ऊपर की ओर जाता है और दाहिने हृदय केंद्र पर पकड़ लेता है, जैसा कि हम इसे कहते हैं, जिससे आपको अस्थमा नामक बीमारी हो जाती है। यदि आप अपने अति सक्रिय लिवर की देखभाल कर सकते हैं तो अस्थमा आसानी से ठीक हो सकता है। यह अति सक्रिय हो जाता है, क्योंकि इसमें बहुत सीमित ऊर्जा होती है, और इसे अपना काम करना पड़ता है, आपके शरीर से जहर को रक्तप्रवाह में बाहर निकालने का। लेकिन उसके पास ऐसा करने के लिए कोई ऊर्जा नहीं है, इसलिए वह अति सक्रिय हो जाता है। और ऐसा व्यक्ति शरीर की सारी गर्मी को रक्तप्रवाह में भी नहीं छोड़ पाता, इसलिए उष्णता प्रसारित होने लगती है। इतना अधिक, कि यह दिल तक पहुँच सकती है, और व्यक्ति को बड़े पैमाने पर दिल का दौरा पड़ सकता है। युवावस्था में, मान लीजिए कि कुछ लोग, जो टेनिस खेल रहे हैं और धूम्रपान कर रहे हैं – मेरा मतलब है कि एक तरह से खुद को नष्ट करने के लिए, मुझे कहना चाहिए – या धूम्रपान और शराब पीने और खुद पर दबाव डालने वाले कुछ बहुत ज़ोरदार खेल, बहुत घातक हो जाते हैं दिल का दौरा, बड़े पैमाने पर दिल का दौरा। क्योंकि वे पूरी तरह से असंतुलित स्थिति में चले गए हैं।

अब, साथ ही, इस केंद्र के कारण हमारे साथ जो सबसे खतरनाक बात हो सकती है, वह यह है कि हमें ब्लड कैंसर नामक भयानक बीमारी हो जाती है। तिल्ली के बिगड़ने या असंतुलित होने के कारण ब्लड कैंसर हमारे पास आता है। प्लीहा हमारे अंदर एक स्पीडोमीटर है, या हम कह सकते हैं कि यह एक है, यह एक लय बनाये रखने वाला है; यह हमारे जीवन की लय बनाए रखता है। लेकिन हम हमेशा लय से बाहर रहते हैं। आप किसी भी समय सोते हैं, किसी भी समय उठते हैं और जब किसी भी तरह की आपात स्थिति आती है, इस अंग को आपूर्ति करनी होती है, लाल रक्त कणिकाएं, आरबीसी, आपात स्थिति के लिए, जब कोई भी आपात स्थिति उठ जाती है। उदाहरण के लिए आप अपना खाना खा रहे हैं; और फिर अचानक भागना पड़ता है, फिर क्या होता है कि यहाँ पेट में दर्द होता है, इस तरफ। क्‍योंकि आपकी तिल्ली ने तेजी से आरबीसी का उत्‍पादन करना शुरू कर दिया है। लेकिन हम हर समय तनाव में रहते हैं।

हर समय आप बहुत व्यस्त रहते हैं। हम सुबह उठते हैं, सबसे पहले हम जो भयानक काम करते हैं वह है अखबार पढ़ना। अखबार में वे कभी अच्छी खबर नहीं देते, हमेशा कुछ सनसनीखेज होना चाहिए, अपनी तिल्ली को चुनौती देना। फिर … फिर प्लीहा, खराब चीज, अधिक आरबीसी (लाल रक्त कोशिकाओं) का उत्सर्जन या निर्माण करना शुरू कर देती है। और जब ऐसा होता है तो जो व्यक्ति यह सब कर रहा होता है उसे पता ही नहीं चलता कि वह पहले ही इस तिल्ली को प्रताड़ित कर चुका है। फिर वह एक और व्यस्त जीवन में चला जाता है, उदाहरण के लिए वह बस अपनी कार में कूद कर बैठ सकता है, उसे अपने कार्यालय जाना है, फिर वह ट्राफिक जाम देखता है और फिर वह बहुत परेशान होता है क्योंकि उसे कार्यालय में देर हो जाती है, तो बॉस चिल्लाता है उसे, ऐसा कुछ।

हर समय एक आपात स्थिति होती है, एक अति समयबद्ध जीवन। और हर समय लोग बहुत व्यस्त तरीके से ऊपर नीचे भाग रहे होते हैं। और यह व्यस्त तरीका इस प्लीहा को वास्तव में पागल बना देता है। समझ में नहीं आता, इन सज्जन को क्या हो गया है, ऐसा व्यवहार क्यों कर रहे हैं? तब शिकार हो जाने कि स्थिति स्थापित होती है। और बाईं तरफ से जो कुछ भी होता है, वह कैंसर को शुरुआत करता है। मैं आपको दिखाऊंगी कि यह कैसे काम करता है। यह एक चक्र है, मान लीजिए कि,  बाईं बाज़ू और दाईं तरफ, दोनों मिलकर वास्तविक चक्र बनाते हैं।

अब, यदि आप इस तरह दाहिनी बाज़ू पर बहुत अधिक मेहनत कर रहे हैं, तो वह हिलना शुरू कर देता है, ऊर्जा ले रहा है, ऊर्जा समाप्त कर रहा है, यह इस प्रकार होता है। और बाईं बाज़ू पर कुछ भी होता है, यह बस नियंत्रण से बाहर हो जाता है। अब, यह इस अर्थ में टूट गया है कि, इसका संपूर्ण से संबंध खो गया है। तो, यह स्वयंभू हो जाता है! यह खुद-बखुद काम करना शुरू कर देती है, इसे हम घातक (केंसर) कोशिका कहते हैं। यानी यह बढ़ने लगती है, इस तरह कि दूसरी कोशिकाओं से उसका कोई संबंध नहीं रह जाता। या जैसे अगर नाक उठने लगे, बढ़ने लगे, तो यह सारी जगह पूरी तरह ढक जाती है, यह जगह सब ढक जाती है, आपका कान ढक सकता है, और बाकी कोशिकाएं अभी भी उसी दर से बढ़ रही हैं। यह घातकता (केन्सर) हमारे अंदर असंतुलन के कारण है। साधारण कैंसर भी उसी से होता है। तो, हमें क्या करना है? हम इन चीजों पर कैसे काबू पा सकते हैं? बेशक, डॉक्टर और चीजें हैं। उनमें से अधिकतर अधिकाँश लोगों की देखभाल कर रहे हैं।

लेकिन जो लोग सत्य की खोज कर रहे हैं वे अपने आप ठीक हो सकते हैं, क्योंकि उनकी कुंडलिनी जाग उठेगी। जब वह उठती है तो उस केंद्र को पोषित करती है, टूटे हुए को ऐसे ही वापस लाती है, पोषण करती है, वह सभी चक्रों को एकीकृत करती है, इसलिए आपकी सोच, आपका हृदय, आपका पेट, आपका यकृत, सभी एकीकृत होते हैं। आप किसी बात का पश्चाताप नहीं करते। आपको एक एकीकृत व्यक्तित्व मिलता है, आपको एक बहुत ही स्वस्थ व्यक्तित्व मिलता है। और ऐसा व्यक्ति स्वतः ही बहुत स्वस्थ और बहुत शांत दिखाई देता है। क्योंकि हमारे भीतर जो चक्र हैं, जो प्रबुद्ध हैं, वे वही चक्र हैं जो हमारे शरीर में विभिन्न कार्यों के लिए जिम्मेदार हैं।

तो सबसे पहले मैंने आपको बताया है, दूसरे वाले के बारे में और पहले वाले के बारे में कल बताया था, और उसके बाद वाला जो बहुत महत्वपूर्ण केंद्र है, उसे नाभि चक्र कहा जाता है, नाभि चक्र। यह वह है जो हमारे भीतर सोलर प्लेक्सस की देखभाल करता है। तो, भौतिक रूप से हम इसे समझते हैं, लेकिन आध्यात्मिक रूप से यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण केंद्र है। क्योंकि शारीरिक रूप से, आप निश्चित रूप से सोलर प्लेक्सस की समस्या को जानते हैं।

लेकिन हमारे सामने एक और बड़ी समस्या है, और वह है इसके चारों ओर का क्षेत्र, जिसे हम सहज योग में “भवसागर ” कहते हैं, जिसे पार करना है। जैसे, मूसा को एक पुल बनाना पड़ा था, यह एक तरह की चीज है। आपको एक पुल बनाना है। और यह सेतु तब बनता है जब यह भाग प्रबुद्ध हो जाता है। अब, यह भाग हमारे भीतर दस संयोजकता से बना है। मनुष्य के पास दस संयोजकता हैं। ये दस संयोजकता दस आज्ञाओं की तरह हैं, हम कह सकते हैं। लेकिन वे हमारे भीतर हैं, बाहर नहीं। एक बार जब वे प्रबुद्ध हो जाती हैं, तब हम अपने स्वयं के मूल्यों में विकसित होते हैं, इसका मतलब है कि हम एक इंसान के रूप में अपनी प्रकृति में ऊपर उठते हैं। तो हम बहुत नेक इंसान बनते हैं। जैसे सभी संत धर्मी होते हैं, वे कुछ भी गलत नहीं करते हैं, वे धोखा नहीं देते हैं, वे झूठ नहीं बोलते हैं, वे पैसे नहीं लेते हैं, वे आपको हड़पते नहीं हैं, वे आपको सताते नहीं हैं, वे हैं बहुत प्यार करने वाले, गतिशील, निडर लोग। ये सभी गुण अचानक एक ऐसे व्यक्तित्व में प्रकट हो जाते हैं, जो अपना आत्मसाक्षात्कार प्राप्त कर लेता है। इस प्रकार हम अद्भुत लोगों का समाज बनाते हैं।

फिर हम दूसरे चक्र पर आते हैं, जिसे हम माँ या मन का केंद्र कहते हैं, लेकिन वास्तव में यह हृदय चक्र है। सहज योग में हृदय केंद्र के तीन पहलू हैं, एक बायां है, जो हृदय है, दायां हृदय और मध्य हृदय है। अब, यह उरोस्थि के नीचे का केंद्र है, और बारह वर्ष की आयु तक सभी एंटीबॉडी उरोस्थि में बनते हैं। और फिर वे शरीर के विभिन्न क्षेत्रों में जाते हैं, और एक संकेत की प्रतीक्षा करते हैं। यह एक रिमोट सिग्नल है, जो स्टर्नम, उरोस्थि से आता है। अब, जो लोग असुरक्षा से पीड़ित हैं, खासकर महिलाएं, अगर वे कुछ असुरक्षा से पीड़ित हैं, अपने पति से, या अगर उनके मातृत्व को चुनौती दी जाती है, तो उन्हें स्तन का एक बहुत ही भयानक कैंसर हो जाता है। यदि वे अपने पति से असुरक्षित हैं, जो उनके प्रति वफादार नहीं हैं, या किसी प्रकार की समस्या है, तो महिलाओं को यह स्तन कैंसर हो सकता है, इस चक्र के कारण, असुरक्षा के कारण, बिल्कुल अव्यवस्थित होने के कारण, जब भी हम कुछ भी देखते हैं हमारे सामने जो खतरनाक है, तुरंत हमारी उरोस्थि की हड्डी में कंपन होने लगता है। उन स्पंदनों को प्रतिरक्षक (एंटीबॉडीज) दूर से ही समझ लेते हैं और वे बीमारियों से लड़ने के लिए तैयार हो जाते हैं। लेकिन जब संपर्क टूट जाता है और कोशिकाएं घातक (केसर ग्रस्त)हो जाती हैं तो प्रतिरक्षक (एंटीबॉडीज) भी इससे लड़ते-लड़ते थक जाते हैं। तो जब कुंडलिनी इससे गुजरती है, तो यह चक्र फिर से पोषित हो जाता है, और व्यक्ति अपने भीतर सुरक्षा का एक बड़ा भाव, सुरक्षा का एक बड़ा भाव प्राप्त कर सकता है। वह बिल्कुल सुरक्षित महसूस करते हैं।

फिर वही कुंडलिनी उठती है, उस चक्र तक जिसे हम विशुद्धि कहते हैं। यह, वह चक्र है, जो सोलह चीजों की देखभाल करता है। आप कान, नाक, जीभ, दांत, सब कुछ कह सकते हैं। यह सोलह चीजों कि देखभाल करता हैं; इसकी सोलह पंखुड़ियाँ हैं। चेहरा, आंखें, वह सब कुछ जिसकी वह देखभाल करती है। लेकिन यह भी बिगड़ भी सकता है, जब हम इसके बारे में असंतुलन में पड़ जाते हैं। नतीजतन, एक व्यक्ति बहुत कुछ गँवा देता है। लेकिन जब, कुंडलिनी आपको इससे पोषित करती है, तब क्या होता है? कि तुम सिर्फ साक्षी बन जाते हो। आप किसी न किसी तरह पागल दुनिया से बाहर निकल आते हैं और आप पूरी चीज को एक नाटक की तरह देखने लगते हैं। जैसे मान लीजिए कि आप कोई नाटक देख रहे हैं और फिर आप नेपोलियन को देखते हैं। तब तुम सोचने लगते हो कि तुम भी नेपोलियन हो, और तुम वास्तव में उसके साथ चलने लगते हो। लेकिन जब नाटक खत्म हो जाता है, तो अचानक आपको एहसास होता है, “ओह, मैं नेपोलियन नहीं हूँ, मैं कुछ और हूँ!” इसी तरह जब हम इस पागल दुनिया में शामिल होते हैं तो परेशान हो जाते हैं। जैसे, हम पानी में खड़े हैं, हमें डूबने का डर है। पानी ऊपर उठता है, फिर नीचे गिरता है, एक और लहर आती है और नीचे चली जाती है। लेकिन मान लीजिए, किसी तरह, आप नाव पर चढ़ जाएँ, तो आप उस पानी को देख सकते हैं, और यदि आप एक विशेषज्ञ तैराक बन जाते हैं, तो आप इसमें कूद सकते हैं और दूसरों को भी बचा सकते हैं। ऐसा ही होता है, कि आप पूरी बात को एक नाटक की तरह देखने लगते हैं। आपकी समस्या आप एक नाटक के रूप में देखते हैं। अब, क्योंकि आप उस समस्या में नहीं हैं, आप अपनी समस्या को बहुत आसानी से हल कर सकते हैं। उस समस्या को हल करना बहुत सरल है, क्योंकि आप उसमें नहीं हैं। यदि आप इसमें शामिल हैं तो आप उथल-पुथल में जा रहे हैं। लेकिन अगर आप इससे बाहर हैं, तो आप जानते हैं कि इसका क्या उपाय है और इसे बहुत आसानी से सुलझाया जा सकता है।

अब, वह केंद्र जिसे हम आज्ञा चक्र कहते हैं, जो ऑप्टिक चियास्मा के बीच स्थित है, बहुत महत्वपूर्ण है। एक तरफ यह पिट्यूटरी की देखभाल करता है और दूसरी तरफ यह पीनियल बॉडी की देखभाल करता है। अब पिट्यूटरी इस मिस्टर अहंकार को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार है, और दूसरी तरफ हमारे पास प्रति-अहंकार है जो हमारे संस्कारों द्वारा बनाया गया है। हमारे पास बहुत सारी कंडीशनिंग हैं। हम जिस देश में पैदा हुए हैं, उस देश के संस्कार हैं, जिस परिवार में हम पैदा हुए हैं, हमारे माता-पिता के संस्कार हैं और फिर जिस धर्म में हम पैदा हुए हैं, उसके साथ हमारे संस्कार हैं, और हर तरह के संस्कार हैं। ये सभी संस्कार एक और गुब्बारा बनाते हैं, और ये दोनों हमारे सिर पर एक शिखा बनाते हैं, इस तरह हमारा तालू (फॉन्टानेल बोन एरिया), जो एक नरम अस्थि था, एक कठोर अस्थि बन जाता है। लेकिन जब कुंडलिनी उठती है और इस केंद्र से होकर गुजरती है, तो यह अंदर चली जाती है। इस तरह हमारे कर्म, तथाकथित, जो भी कार्य या गलत चीजें हमने की हैं या हमारे पास गलत संस्कार हैं, सब कुछ शोषित हो जाता है और यह एक पंखुड़ी की तरह खुल जाता है। लिम्बिक एरिया, जो कि बीच में है, खुल जाता है और कुंडलिनी उसमें से होकर गुजरती है, आपके तालू (फॉन्टानेल बोन एरिया) को भेदती है और आपको अपने सिर से ठंडी हवा का एहसास होने लगता है। आप हैरान होते हैं कि ऐसा कैसे हो गया। और तब आप आपके चारों ओर चल रही ठंडी हवा को महसूस कर सकते हैं। जो सर्वव्यापी शक्ति है। परिणामस्वरूप आप इसके साथ एकाकार हो जाते हैं, हर समय ऊर्जा आपके माध्यम से प्रवाहित होती रहती है और भले ही आप थोड़े से असंतुलन में जा रहे हों, लेकिन यह जहां तक भौतिक पक्ष का संबंध है आप कुछ ही समय में संतुलन में आ जाते हैं। मानसिक रूप से आप बिल्कुल ठीक महसूस करते हैं, लेकिन सबसे बढ़कर, आप अपनी जागरूकता में एक नया आयाम विकसित करते हैं, जिसे हम “सामूहिक चेतना” कहते हैं। सामूहिक चेतना जिसके बारे में युंग ने बहुत कुछ कहा है। सामूहिक चेतना वह है जहां आप दूसरों के चक्रों को अपनी उंगलियों पर महसूस कर सकते हैं और साथ ही आप अपने स्वयं के चक्रों को भी महसूस कर सकते हैं। और अगर आप अपना और दूसरों का सुधार करना जानते हैं, तो आप आसानी से सब कुछ व्यवस्थित कर सकते हैं। तो यह वही सामूहिक चेतना है, नई जागरूकता है, एक नया आयाम है, जिसे प्राप्त करना है। यह नया जन्म है, या हमें कहना चाहिए, दूसरा जन्म, जैसा कि हम इसे कहते हैं। संस्कृत भाषा में कहा जाता है, एक व्यक्ति जो एक आत्मसाक्षात्कारी आत्मा है, उसे “द्विजहा” कहा जाता है, जिसका अर्थ है दो बार जन्म लेना। और पक्षी को द्विज भी कहा जाता है, क्योंकि पहले अंडा होता है और फिर वह पक्षी के रूप में जन्म लेता है, मुक्त पक्षी। उसी तरह, जो व्यक्ति एक सिद्ध आत्मा है, उसका दूसरा जन्म होता है। जैसा कि वे कहते हैं, ”तुम्हें फिर से जन्म लेना है”, ऐसा होता है। लेकिन यह बोध है, यह सिर्फ एक प्रमाण पत्र नहीं है। कोई भी प्रमाणपत्र  ले सकता है कि मैं यह हूं, मैं वह हूं,लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। क्योंकि आप जो हैं, उसके लिए आपके पास वैसी शक्तियाँ होनी चाहिए। यदि आप एक इंसान हैं, तो आपके पास मानवीय शक्तियाँ होनी चाहिए। उसी तरह, यदि आप एक आत्मसाक्षात्कारी आत्मा, अति-मानव बन जाते हैं, तो आपके पास एक सुपर मानव की शक्तियाँ होनी चाहिए। यदि आपके पास ये शक्तियाँ नहीं हैं, तो इस तरह का झूठा प्रमाण पत्र देने का कोई मतलब नहीं है। जैसा कि मैंने आपको धर्म के बारे में बताया था, जब किसी ने मुझसे सवाल किया कि वे धर्म के नाम पर क्यों लड़ते हैं? क्योंकि यह मानव निर्मित है। संत कभी लड़ते नहीं हैं। वे कभी नहीं लड़ते। वे प्यार करते हैं और वे एक दूसरे को समझते हैं और वे निरपेक्ष (पूर्ण सत्य) को जानते हैं। इसलिए, जब आपकी आत्मा, जो आपके हृदय में है, यहां तालू पर बैठती है और यह आपके चित्त से जुड़ जाती है, तो आत्मा का प्रकाश आपको एक प्रबुद्ध व्यक्ति बना देता है, और उस प्रकाश में, आप जान जाते हैं कि क्या सही है और क्या गलत। आपके लिए क्या अच्छा है, क्या सकारात्मक है और क्या विनाशकारी है। आत्मा की शक्ति, बेशक यह हमारे भीतर एक सामूहिक अस्तित्व है, इसमें कोई संदेह नहीं है, हम यह भी कहते हैं कि हम संपूर्ण विराट का एक हिस्सा हैं। लेकिन हम नहीं हैं। एक बार जब आप सामूहिक रूप से सचेतन हो जाते हैं, तभी आप संपूर्ण के अंग प्रत्यंग होते हैं। तब तुम आनंद के स्रोत बन जाते हो। आत्मा आनंद का स्रोत है। तुम आनंदित हो जाते हो, तुम आनंद से भर जाते हो। आनंद दो मुंहा नहीं है, यह सुख-दुःख जैसा नहीं है। यह आनंद की एक स्थायी स्थिति है। और, आप परम सत्य को जान जाते हैं। अपनी उंगलियों पर आप जान सकते हैं। कुरान में भी, जैसा कि मैंने तुमसे कहा था, कुरान में यह कहा गया है कि, “तेरे पुनरुत्थान के समय तुम्हारे हाथ बोलेंगे, और वे तुम्हारे खिलाफ गवाही देंगे”। तो, यह आपके निर्णय का समय है, अंतिम निर्णय, जब आपकी कुंडलिनी आपको बताएगी कि आप कहां खड़े हैं। और एक बार जब आप अपने आप को ठीक कर लेते हैं, तो आप परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर जाते हैं। यह तो होना ही है। इसमें कुछ भी कृत्रिम नहीं है, यह एक जीवंत ऊर्जा की पूर्ण जीवंत प्रक्रिया है, जो काम करती है और आप इसके लिए भुगतान नहीं कर सकते। आप इसके लिए भुगतान नहीं कर सकते। अगर कुछ है तो यही एकमात्र रोड़ा है। 

परमात्मा आप सभी को आशिर्वादित करे।

कल हमने सवाल पूछने और जवाब देने में बहुत समय बिताया, मुझे इसमें थोड़ी सी भी दिक्कत नहीं है, लेकिन बहुत ज्यादा नहीं… कल हमने बहुत सारे सवाल और जवाब किये थे। इसलिए, यदि आप मुझसे कुछ प्रश्न पूछ सकते हैं, तो ठीक है। लेकिन प्रासंगिक होना चाहिए। क्योंकि आप जानते हैं, मैं यहां आपसे कुछ पाने के लिए नहीं आई हूं, बस आपको यह बताने के लिए आई हूं जो कि आपके पास ही है, आपको वह देने के लिए जो आपका अपना है। यह सब आपकी ऊर्जा के कारण होता है। मेरा एक तरह से इससे कोई लेना-देना नहीं है। जैसे एक मोमबत्ती जो जल जाती है वह दूसरे दीप को रोशन कर सकती है।

साधक : क्या आप नाड़ियों के बारे में कुछ बता सकती हैं ?

श्री माताजी: नाड़ियाँ …क्या आपने उन्हें नहीं बताया? उसने मुझसे कहा कि वह तुमसे पहले ही बात कर चुका है! बायीं नाडी को इडा नाडी कहते हैं, जो हमें बायीं ओर ले जाती है। पिंगला नाड़ी के रूप में दाहिनी नाड़ी, जो हमें दाहिनी ओर ले जाती है। मध्य को सुषुम्ना नाड़ी के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा, इसके बारे में और भी कई विवरण हैं, जो एक बार जब आप सहज योग में आ जाते हैं, तो आपको बहुत कुछ पता चल जाएगा। यह ज्ञान वास्तव में बहुत अधिक है, क्योंकि मैंने कम से कम तीन हजार से चार हजार व्याख्यान दिए होंगे, अंग्रेजी भाषा में ही, और वे सभी टेप पर हैं, आप हमेशा उन्हें सुन सकते हैं। ज्ञान एक विशाल महासागर की तरह है, और ज्ञान का स्रोत आपकी आत्मा है। इसलिए, एक बार जब आप आत्म साक्षात्कारी हो जाते हैं, तो आप सब कुछ समझ पाएंगे।

साधक : क्या होता है जब यहाँ से भारी मात्रा में ऊर्जा निकलती है और स्वयं को चित्रों के रूप में प्रकट करती है ? क्या इसका अर्थ है कि, यह केंद्र टूटा हुआ है। ठीक नहीं है। 

उ: आपको कुछ नहीं देखना चाहिए। आपको प्रकाश नहीं दिखाना चाहिए। आपको प्रकाश बनना है। अगर मैं प्रकाश देखता हूं, तो मैं प्रकाश नहीं हूं! ठीक है?

 प्रश्न : भोजन का सामूहिक चेतना पर कितना प्रभाव पड़ता है?

श्री माताजी:- क्या है…?

पः- भोजन। खाना… 

आप देखिए, क्या खाना है, खाने का हम ऐसा व्यवहार करें कि इंसान में जो कमी हो, जो चीज पूरक हो, वह खाना चाहिए। जैसे, मान लीजिए, आप लोग बहुत राइट साइडेड हैं, तो आपको कार्बोहाइड्रेट लेना चाहिए; लेकिन अगर आप लेफ्ट साइडेड हैं, तो आपको प्रोटीन लेना होगा। लेकिन इंसानों से बहुत बड़े जानवरों को नहीं खाना चाहिए, क्योंकि उनकी मांसपेशियां बहुत बड़ी होती हैं, और वे आपके दांतों और इस तरह की चीजों को परेशान करते हैं। लेकिन भोजन गौण हो जाता है, जब आप बोध का अमृत पा लेते हैं। यह इतना महत्वपूर्ण नहीं है। बस खाने के बारे में बहुत ज्यादा परेशान न हों।

श्री माताजी: वह क्या कह रहा है?

साधक : लोग संतुलन कैसे करते हैं ? व्यक्तिगत रूप से, हर किसी की अलग-अलग समस्याएं होती हैं। प्रत्येक व्यक्ति संतुलन कैसे करता है? उन्हें वापस संतुलन में लाएं।

श्री माताजी: मेरा मतलब है, सबसे पहले व्यक्तिगत संतुलन है, और जब आप व्यक्तिगत रूप से संतुलित होते हैं, तो जब आप आत्मा होते हैं, तो यह एक सामूहिक चेतना होती है। इसमें आत्मा आपको एक पूर्ण स्वभाव प्रदान करती है। और हर कोई के निरपेक्ष होने के कारण किसी अन्य के साथ संतुलन बनाने में कोई समस्या नहीं है। आप बस एक दूसरे का आनंद लें। बस इतना ही। केवल आप अलग तरह से कपडे पहनते हैं, आप अपने बालों को अलग तरह से कंघी करते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। वह सब बाहरी है। लेकिन अंदर ही अंदर आप एक दूसरे का आनंद लेते हैं। एक कवि नामदेव के बारे में एक सुंदर बात कही गई है – कल मैंने उन्हें उसके बारे में बताया था, नहीं? – नामदेव के बारे में, जो एक दर्जी थे, सिर्फ एक दर्जी। और वह दूसरे गाँव में एक अन्य सिद्ध आत्मा, एक दुसरे संत को मिलाने गया, जो एक कुम्हार था। और कुम्हार अपने पैरों से मिट्टी को गूँथ रहा था जब यह नामदेव वहां गए। और वह गया और वह खड़ा हो गया। और उन्होंने कहा, एक सुंदर कविता उन्होंने लिखी है, कि, “मैं यहां निराकार को मिलने आया था,” अर्थात चैतन्य। “मैं यहाँ चैतन्य महसूस करने आया था, मैं यहाँ निराकार देखने आया था, लेकिन पूरा निराकार आपके रूप में प्रकट है!” क्या प्रशंसा है, कितना आनंद है और इससे कितना प्रेम अभिव्यक्त होता है।

मेरा मतलब है, हम इंसान कभी इस तरह बात नहीं करते, आप देखिए। जब हम एक दूसरे से बात करते हैं तो यह बहुत बनावटी होता है और बहुत स्वार्थी भी हो सकता है, बहुत चालाकी भरा भी हो सकता है , और कुछ भी हो सकता है। बस आपको पता ही नहीं होता। अगर कोई आपको ‘धन्यवाद’ कहता है, तो आप अक्सर सोचने लगते हैं, ‘क्यों, मैंने क्या किया?’ या कोई आपके बारे में कुछ बुरा कहता है, “आपको पता होना चाहिए कि मैंने उसके लिए कुछ भी अच्छा नहीं किया है, यह मेरे बारे में बुरा क्यों कह रहा है, मुझे नहीं पता”, यह ऐसा है, आप देखिये, ऐसा नहीं है। यह बिल्कुल स्पष्ट है। आपको बिल्कुल स्पष्ट स्वभाव मिलता है। आप बिल्कुल स्पष्ट हो जाते हैं और दूसरा व्यक्ति भी बिल्कुल स्पष्ट हो जाता है और वे बस एक दूसरे का आनंद ले रहे होते हैं। बस इतना ही। हमने कभी एक-दूसरे का आनंद नहीं लिया। असल में हमने कभी भी प्रेम की शक्ति का उपयोग नहीं किया, हमने हमेशा घृणा की शक्ति का उपयोग किया है। आप जो कुछ भी करना चाहें, आपको संघर्ष के लिए किसी न किसी तरह का मुद्दा रखना होगा। यहाँ (सहज योग में)ऐसा कोई प्रश्न ही नहीं है। ऐसी अवस्था हम सभी की होना चाहिए, मानवता की मुक्ति के लिए, अपने देश की, सभी देशों की, दुनिया भर की, अपने बच्चों की और खुद की मुक्ति के लिए। – जी श्रीमान ?

साधक : कुण्डलिनी का क्या होता है, चाहे कोई बड़ी दुर्घटना हो, या इस क्षेत्र में कोई चोट लगी हो?

श्री माताजी: हमें इसे सुधार करना होगा। यदि यह शारीरिक रूप से बहुत अधिक चोट ग्रस्त है, तो इसे ठीक किया जा सकता है। ऐसी कोई समस्या नहीं है। जी कहिये।

साधक : सृष्टि में सब कुछ, क्या जुड़ा हुआ नहीं है, तो क्या इस बात की संभावना नहीं है कि, स्वतंत्र चुनाव वास्तव में माया है?

श्री माताजी: आपके पास आज़ादी है इस ज्ञान को पाने की कि,  यह माया है। आपको उस मुकाम तक पहुंचना है। नहीं तो आप कभी स्वीकार नहीं करेंगे। आप देखिये कि, आप एक इंसान हो। अगर आपसे कुछ कहा जाए तो आप उसे कभी स्वीकार नहीं करेंगे। इसलिए उस बिंदु तक पहुंचना बेहतर है, जहां अहसास हो जाए कि यह सभी प्रकार का भ्रम है। और फिर आप इसे खोज लेते हैं। आपके पास इतना मुक्त विकल्प होना चाहिए। आपको ऐसा बनाया गया है। और इस तरह के चुनाव को स्वीकार किया जाना चाहिए, सम्मान किया जाना चाहिए।

साधक : कुण्डलिनी इतनी प्रबल शक्ति है। अब, क्या होता है जब यह वास्तव में एक कनेक्शन प्राप्त नहीं करती है?

श्री माताजी: सहज योग में हम सुनिश्चित करेंगे कि यह उस बिंदु तक पहुँच जाए। लेकिन यह एक तरह की शक्ति है। एक बीज में एक प्रिमुल होता है। और पहले अंकुर फूटता है फिर एक छोटा सा पौधा बनता है, धीरे-धीरे एक बहुत बड़ा पेड़ बन जाता है। और उस पेड़ से हजारों बीज निकलते हैं। तो उस बीज के उस छोटे से अंश में इन सब कृतियों के नक़्शे हैं। इसी प्रकार वह कुण्डलिनी एक शक्ति है। मान लीजिए कि यह उठती है और यह शीर्ष पर भी पहुंचती है और स्थापित नहीं होती है, तो हमें ईसा-मसीह के दृष्टान्त को याद रखना होगा कि, “कुछ बीज दलदली भूमि में गिर गए और खो गए”। तब फिर वे फिर से जन्म लेते हैं, फिर वे उसे क्रियान्वित करते हैं। तो, सबसे अच्छा होगा इसे एक बार सभी के लिए कार्यान्वित किया जाये। समय आ गया है, यह बहार का समय है, बेहतर है इसे कार्यान्वित कर लिया जाए|

साधक : शायद अभी वह समय होगा।

श्री माताजी: अवश्य। शायद अभी यह है, यह समय है। जी कहिये।

साधक : क्या कोई भी योग मन को संतुलित कर सकता है?

श्री माताजी: नहीं हो सकता। कोई अन्य योग भी उसी का अंग प्रत्यंग है। दरअसल, वे अलग हो गए हैं। उन्होंने योग का एक भाग यहाँ, योग का एक भाग वहाँ अलग-अलग कर दिया है। यह एक है, यदि आप पतंजलि योग को देखते हैं तो यह अष्टांग है, इसका मतलब है कि आठ अंग हैं। और मूल रूप से उत्थान से, निर्विचार जागरूकता से, जो कि निर्विचार समाधि हैं, और फिर निःसंदेह जागरूकता से सम्बंधित है, जिसे प्राप्त करना है, और वह केवल कुंडलिनी जागरण के माध्यम से किया जाता है। साथ ही उन्होंने कुछ व्यायाम भी बताए हैं, जिन्हें जरूरत पड़ने पर ही करना चाहिए। जब कुंडलिनी उठती है, हम जान जाते हैं कि समस्या क्या और कहाँ है, और हम तदनुसार व्यायाम कर सकते हैं। और इसलिए, सभी योग सहज योग में शामिल हैं। जब कुण्डलिनी का उदय होता है, तब वह इस अर्थ में राजयोग में चली जाती है कि, किसी एक केन्द्र का संवर्धन तब होता है, जब कुण्डलिनी को उसमें से प्रवाहित किया जाता है। मान लीजिए कि उसमें से कुण्डलिनी गुज़र गई है, तो उसे बंद करना होगा, ताकि कुण्डलिनी को रोका जा सके। फिर यह दूसरे चक्र से होकर गुजरती है, तब फिर से इसे बंद करना पड़ता है। इन सभी को बंधन कहा जाता है। लेकिन इसे बाहर नहीं किया जाना है। यह उस मशीनरी द्वारा ही किया जाना है जो स्वतःस्फूर्त रूप से, स्वचालित रूप से कार्य करती है। कल मैंने तुमसे कहा था, गाड़ी स्टार्ट होते ही सारी मशीन काम करने लगती है। लेकिन अगर आप कार को स्टार्ट किए बिना पहियों को हिलाना शुरू कर दें, तो क्या होगा?

साधक : इस काल को, जिसमें हम अभी जी रहे हैं, भविष्य से कैसे देखा जा सकता है?

श्री माताजी: भविष्य से देखा जाना? यह उत्तम समय है, श्रेष्ठ समय है। और फिर हम भविष्य या अतीत के बारे में नहीं सोच रहे हैं। एक बार जब हम उसमें प्रवेश कर जाते हैं, तो हम केवल उस वर्तमान का आनंद लेते हैं, जिसका हमने कभी आनंद नहीं लिया। क्योंकि भविष्य मौजूद नहीं है। अतीत गुजर चुका है। हमें वर्तमान में रहना होगा। इसलिए हम अपने आप को वर्तमान में स्थापित करते हैं और इसके हर पल का आनंद लेते हैं। भविष्य सिर्फ हमारी कल्पना है, विचार है।

साधक : क्या एक व्यक्ति दूसरे के लिए ऊर्जा मुक्त कर सकता है ?

श्री माताजी: अवश्य। वही तो मैने बताया। एक प्रबुद्ध व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को प्रबुद्ध कर सकता है।

 क्यू: Shiatsu की विधि के माध्यम से? शियात्सू।

 श्री माताजी: नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है। केवल आपके हाथ के अंतर्गत। आप इसे स्थानांतरित कर सकते हैं। यह आपके हाथ से चलती है। यदि आप इस तरह आगे हाथ की गति करते हैं, तो आप इसे कर सकते हैं। इतना सरल है। इसे सरल होना ही हुआ क्योंकि,  यह बहुत आवश्यक है।

साधक : कृष्णमूर्ति यह नहीं मानते, वे मानते हैं कि स्वास्थ्य आपके पास आ सकता है… इसे आपके पास आना ही है।

श्री माताजी: आप देखिए, कृष्णमूर्ति ने बहुत सी बातें कही हैं। बात करना रास्ता नहीं है, यह बोध होना है, बनना है। यह महत्वपूर्ण है। इतनी किताबें लिखी जा चुकी हैं। मैं तुम्हें बताती हूं। यहां तक कि आप किताबों को देखें, जिस तरह से यह लिखा जाता है कोई व्यक्ति पागल हो जाता है और वास्तव में लोग सोच रहे हैं, “क्या है? क्या, क्या है?” कौन जाना चाहता है? क्या करें? वास्तव में, यह बोध है। यह वास्तविकता है जो महत्वपूर्ण है।

साधक : क्या मैं आपसे पूछूं कि अब उस बोध का समय आ गया है?

श्री माताजी: हाँ, अवश्य। यह उचित है। वहां एक महिला है। जी महोदया। वह क्या पढ़ रही है? क्या है वह? क्या मुझे कुछ शब्द मिल सकते हैं।

साधक : मुझे लगता है कि अब मुझे संदेश मिल गया है। माँ महिला एक प्रश्न पूछ रही है, वह सोच रही है कि क्या वास्तव में कुण्डलिनी जागरण खतरनाक हो सकता है? उसने कई किताबें पढ़ी हैं जिन में…

श्री माताजी: हाँ, हाँ, ठीक बात है कि,  मुझे पहले ही इस मुद्दे को कवर कर लेना चाहिए था। यह बिल्कुल भी खतरनाक नहीं है। बिलकुल। आप देख सकते हैं कि यह पुस्तकें ऐसे लोगों द्वारा लिखी गई हैं जो बिल्कुल अनधिकृत हैं। क्या उन्होंने किसी की कुण्डलिनी जगाई है? उन्होंने नहीं किया है। लेकिन, बस, बस एक क्षण, बैठ जाइए, बैठ जाइए। तुम देखते हो, यह काम किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जाना है जिसे ईश्वर द्वारा अधिकृत किया गया हो । हर ऐरा गैरा ऐसा नहीं कर सकता। आप देखिये, जब आप प्लग लगाते हैं, तो आप प्लग में अपना हाथ डाल देते हैं और फिर कहते हैं कि बिजली खतरनाक है, क्योंकि आप को पता ही नहीं कि प्लग क्या है। आपको इसे जानना होगा। यदि आप को ज्ञान है, तो आप इसे कर सकते हैं। नहीं है, यह सब आधुनिक है, यह सब आधुनिक है, मुझे लगता है, यह 20वीं सदी का अधिक ज्ञान है जो सामने आया है। किसी भी पुरानी किताब में ऐसी बकवास नहीं लिखी गई है। यह केवल लोगों को डराने के लिए है ताकि वे अपने बोध को प्राप्त न कर लें, यही बात है! वह आपकी माँ है। कुंडलिनी आपकी मां है, आपकी व्यक्तिगत मां है और वह आपके बारे में हर चीज जानती है। इतना ही नहीं, लेकिन वह इतनी प्यारी माँ है, कि वह आपको बिना महसूस हुए ही, जब तक आप वास्तव में महसूस नहीं करते, तब तक आपका पुनर्जन्म कर देती हैं। यह बहुत बढ़िया है! अब, तुम्हारी माँ, जब उसने तुम्हें जन्म दिया, तो उसने अपने ऊपर सारी प्रसव-पीड़ा उठा ली। उसी तरह, अब हमारे पास हजारों लोग हैं जिन्हें आत्मसाक्षात्कार मिला है। किसी को कुछ भी बुरा नहीं हुआ, सिवाय इसके की कभी-कभी आपको थोड़ी गर्मी महसूस होती है, बस इतना ही। हज़ारों लोग। लेकिन जिन लोगों ने लिखा है, वह सब मॉडर्न स्टाइल है। इसके विपरीत, शिवाजी के समय रामदास नामक एक महान संत थे। ये शिवाजी के गुरु थे। जो महाराष्ट्र के एक बहुत प्रसिद्ध राजा थे। और किसी ने उनसे पूछा कि, “कुण्डलिनी को उठने में कितना समय लगता है?” तो उन्होंने एक संस्कृत शब्द का प्रयोग किया जिसका अर्थ है तत्क्षण, जिसका अर्थ है उसी क्षण। लेकिन जिसे करना है उसे अधिकृत होना है, और जिसे लेना है उसे इसकी इच्छा करनी चाहिए! यही शब्द प्रयुक्त हुआ है। यह सब आधुनिक बकवास है जो किताबें बेचने के लिए सामने आई है। यही मेरा विचार है। या कुछ लोग, जिनके पास कोई अधिकार नहीं है, जो बहुत अजीबोगरीब जीवन जीते हैं। मैं किसी ऐसे व्यक्ति को जानती हूं जिसने कुंडलिनी के बारे में एक मजेदार किताब लिखी है, जिसका अपना जीवन बहुत खराब है, और वह कहता है कि, “मुझे ऐसा झटका लगा, मुझे ऐसा हुआ वगैरह”। सहज रूप में। आपके पास ऐसे क्षेत्र में प्रवेश करने का कोई काम नहीं था, जिस के लिए आप अधिकृत नहीं हैं। और अगर ऐसा है तो भी आपको किसी अधिकृत व्यक्ति के पास जाना चाहिए था। ईश्वरीय अधिकार आना चाहिए, यह महत्वपूर्ण है।

साधक : आपके गुरु कौन हैं ?

श्री माताजी: वह पूछ रहा है? मैं अपनी खुद की गुरु हूं और मैं आपको अपना स्वयं का गुरु बनाऊंगी। अब आपको किसी गुरु के पास जाने की जरूरत नहीं है। आप स्वयं के गुरु बन जाते हैं। जब आत्मा, आत्मा आप में आ जाती है, तब आपको किसी गुरु की आवश्यकता नहीं होती है। तुमको क्यों चाहिए? बेशक मैं आपको मार्गदर्शन दे सकती हूं और ज्यादा से ज्यादा आप मुझे मां कह सकते हैं। बस इतना ही। किसी के अधीन होने की आवश्यकता नहीं है। किसी को भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है। बिल्कुल नहीं, आप भुगतान नहीं कर सकते। जो आपका पैसा लेता है वह आपका नौकर है, उस शख्स का कोई स्वाभिमान नहीं होता। वह आपसे भगवान के लिए पैसे लेता है, वह ऐसा कैसे कर सकता है? और हम भी बड़ी मूर्खता से ऐसे भयानक लोगों को पैसा देते हैं, जो बस शैतान हैं! वे दुष्ट प्रतिभाएँ हैं। और जिस तरह से उन्होंने इसे प्रबंधित किया है, इस तरह उन्होंने वास्तव में इतने सारे लोगों को इतना बीमार कर दिया है कि जिस तरह से वे रहे हैं कभी-कभी लगता है, मुझे नहीं पता कि वे कहां पहुंचेंगे। कैसी मैडम?

साधक : क्या आप हमें कोई व्यक्ति बता सकती हैं, क्या आप व्यक्तिगत रूप से हमें कोई बता सकती हैं, जब आप ऐसा कहती हैं?

श्री माताजी: उनमें से ज्यादातर बाजार में हैं। वे बाजार में हैं। इस शुभ मुहूर्त में मुझे उनका नाम लेने की जरूरत नहीं है। भयानक लोग। जी महोदया?

साधक : क्या अति-भावनात्मक होने का संबंध चिंतन से है?

श्री माताजी: अधिक भावुक …

साधक: अति भावुक है, कह रही है।

श्री माताजी: हाँ, आप देखिए, कोई व्यक्ति दोनों तरह से सोचते हैं। अति भावुक लोग भी सोचते हैं और जो भावुक नहीं होते वे भी सोचते हैं। यह कोई प्रश्न नहीं है, यह दोनों पक्षों पर कार्य करता है। भावुक लोग अतीत के बारे में सोचते हैं, “ओह, मैं बहुत खुश था, अब मैं बहुत दुखी हूँ”, एक तरह की चीज़, आप देखते हैं? और जो लोग भावुक नहीं होते वे सोचते हैं कि दूसरों को दुखी कैसे करें?

साधक: आप जिस बारे में बात कर रही हैं वह बाइबिल में लिखे गए मोक्ष के साथ कैसे मेल खाता है?

श्री माताजी: किस बारे में?

साधक : मोक्ष।

श्री माताजी: वही बात है मैडम, वही बात है। बिल्कुल, बाइबिल को केवल सहज योग के माध्यम से समझाया जा सकता है। गीता को केवल सहज योग के माध्यम से समझाया जा सकता है। कुरान को केवल सहज योग के माध्यम से समझाया जा सकता है। आपको लाइनों के बीच पढ़ना है(भावार्थ समझना है)। क्राइस्ट को केवल तीन, चार साल दिए गए थे। कुछ भी समझाने के लिए तीन, चार साल क्या हैं? लोग इतने क्रूर थे। तुम्हें पता है, मैं लंदन में थी, चार साल तक मैं सात हिप्पी के साथ संघर्ष कर रही थी। उन्हें आत्मसाक्षात्कार नहीं दे सकी, यह बहुत भयानक है। वह चार साल में क्या कर सकते थे? इसे कार्यान्वित करना कोई आसान बात नहीं है।

साधक : क्या इस विशेष समय में कुण्डलिनी ही एकमात्र शक्ति है, जो इस विशेष कार्य को करेगी?

श्री माताजी: नहीं, हर समय यही शक्ति थी, हर समय। यह हर समय है, यह शक्ति थी। यह भी कहा जाता है, बाइबिल में कहा गया है, कि जीवन के वृक्ष के बारे में, यह तंत्र है। यह भी कहा कि “मैं आपके सामने आग की लपटों के रूप में प्रकट होऊंगा” यह वही है, जब कुंडलिनी उठती है, तो आपके चक्र ऐसे दिखते हैं। यहाँ तक कि बाइबल में भी बहुत सी बातें हैं। कुरान में हर चीज में उसे असस कहा गया है, नाम अलग-अलग हैं, लेकिन ऐसा है। जैसे ताओ कुण्डलिनी है। जैसा ताओ का वर्णन है यह भी कुण्डलिनी है। झेन व्यवस्था, झेन का भी यही अर्थ है। ध्यान एक ही चीज है। कन्फ्यूशियस ने वही बात की, सुकरात ने वही बात की। लेकिन केवल एक ही बात इतनी स्पष्ट रूप से नहीं कही जाती है, क्योंकि इसे समझने के लिए, आज जैसे, आप जैसे बुद्धिमान लोग नहीं थे,  मुझे लगता है, कि यह इतनी स्पष्ट रूप से नहीं कहा गया था। आज हमारे पास इतने साधक हैं, क्या आप कल्पना कर सकते हैं? इतने सारे साधक। दुनिया उनसे भरी पड़ी है। और वे बुद्धिमान हैं, वे समझ गए हैं कि परमात्मा क्या है, वे समझने की कोशिश करते हैं। लोगों की एक बहुत ही अलग श्रेणी है। जैसा कि विलियम ब्लेक ने कहा है: “ये परमात्मा के बन्दे हैं”। वे परमेश्वर को पा लेंगे और वे दूसरों को परमेश्वर के बन्दे बना देंगे।” यह बहुत स्पष्ट है कि उन्होंने इसे सौ साल पहले कहा था। तो, यह वही है। और यह सब, एक नाड़ी ग्रंथ में भी है, जिसे भृगु मुनि द्वारा लिखा गया था, जो कुंडली और वह सब, ज्योतिष के प्रवर्तक थे। उन्होंने साफ-साफ लिखा है कि ऐसा होने वाला है और इस साल खास तौर पर गणना के हिसाब से कुछ बड़ा घटना क्रम  होता नजर आ रहा है. यह ऐसा ही है।

साधक : रीढ़ की हड्डी जैसे गंभीर रूप से घायल व्यक्ति में भी क्या कुण्डलिनी को जगाया जा सकता है?

श्री माताजी: हाँ हो सकता है। हो सकता है, ज्यादातर लोग इसे प्राप्त करते हैं। अगर किसी को बहुत ज्यादा समस्या है तो हो सकता है कि उसे थोड़ी परेशानी हो, लेकिन उसे ठीक किया जा सकता है। यह, आप देखिए, ईश्वरीय उदारता ऐसी है, कि वह इसे हर किसी को देने की कोशिश करता है। इतना, कि मैं खुद चकित हूं। यह किसी अन्य बात पर विचार नहीं करता। यह एक बड़े बवंडर की तरह आता है, बस। मैं खुद हैरान हूं कि लोगों को आत्मसाक्षात्कार कैसे मिलता है। यहाँ तक की रूस जैसी जगह के लोगों की तरह, मैं कल आपको बता रही थी। फिर मैं बोगोटा गयी। उन्होंने मेरे बारे में कभी नहीं सुना, ऐसा कुछ भी नहीं, और हजारों लोग थे। उन सभी को आत्मसाक्षात्कार मिल गया। बेहद आश्चर्यजनक। मुझे इतना आश्चर्य हुआ। यह ईश्वरीय उदारता में कुछ है जो यह कार्यान्वित हो रहा है। और बेहतर है कि हम सब उसमें सराबोर हो जाएं। ठीक है। तो अब हम आत्मसाक्षात्कार की क्रिया करेंगे। केवल आपकी शंकाओं को दूर करने के लिए, मैंने आपसे बात की और आपको मुझसे प्रश्न पूछने की अनुमति दी और इसके लिए बहुत समय दिया, क्योंकि आप देखते हैं, जब आप उस प्रक्रिया से गुजर रहे होते हैं, तो मैं नहीं चाहता कि आपके दिमाग में कुछ विचार उभर आयें, कुछ कहने के लिए। तो बेहतर है कि उस दिमाग को थोड़ा सा चुप रखा जाए, इसलिए मैंने कहा, “ठीक है, तुम मुझसे सवाल पूछ सकते हो”। लेकिन ये प्रश्न, चाहे मैं उनका उत्तर दूं या नहीं, या वे आपको संतुष्ट करें या नहीं, आप प्रश्न पूछें या नहीं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। क्योंकि यह सब मानसिक करतब है।  कुंडलिनी आपको इस मन से परे ले जाती है। तो, जो महत्वपूर्ण बात है, वो यह है कि आपको अपना आत्म-साक्षात्कार प्राप्त करने की इच्छा होनी चाहिए। यदि आप यह नहीं चाहते हैं, यदि आप इसे नहीं चाहते हैं, तो मैं आपको बाध्य नहीं कर सकती। यह सबसे बड़ी समस्या है। आप किसी पर जबरदस्ती नहीं कर सकते। आपको इसकी इच्छा करनी होगी और विनम्रतापूर्वक इसके लिए मांगना होगा। यदि आप कह रहे हैं कि, “नहीं, मुझे यह नही चाहिए”। तो, मैं आपसे अनुरोध करूंगी कि बेहतर होगा आप चले जाएं और दूसरों को परेशान न करें। क्योंकि ऐसा कुछ है जो आपकी स्वतंत्र इच्छा के विरुद्ध कार्य नहीं कर सकता है। जैसा कि आप कहते हैं, यह आपका स्वतंत्र चयन है। क्या यह स्वतंत्र विकल्प है, कि उस बिंदु तक, आपके पास स्वतंत्र विकल्प है कि इसके लिए मांगे या नहीं। अब दो शर्तें हैं, जैसा कि मैंने कल कहा था। पहली यह है कि, हमें अपने आप को पूर्ण रूप से क्षमा करना होगा। हमें कतई दोषी महसूस नहीं करना है। बिल्कुल, हम इंसान हैं, और इंसान ही गलतियाँ करते हैं। भगवान गलतियाँ नहीं करते हैं। इसलिए, अगर हम गलतियाँ करते हैं, तो कोई बात नहीं। लेकिन जैसा कि मैंने आपको बताया, ईश्वर की उदारता और क्षमा बहुत जबरदस्त है। कि आपने जो कुछ भी गलत किया है, उसे आसानी से माफ कर दिया जाता है। ईश्वर उत्सुक है कि आपको अपना आत्म-बोध प्राप्त करना चाहिए। उनको बड़ी ब्यग्रता है। इसलिए, अब आप यह कहकर अपने आप को नीचा न दिखाएं कि, “मैं दोषी हूं, मैंने यह किया है, मैंने वह किया है या मैंने पाप किया है। ये विचार आपके दिमाग में बिल्कुल नहीं आने चाहिए।

जब आप वर्तमान में होते हैं तो पाप जैसा कुछ नहीं होता। इसलिए अतीत को भूल जाइए और वह सब भूल जाइए जो कि आपको लगता है कि आपने गलत किया है। साथ ही आपको अन्य लोगों को, सामान्य रूप से सभी लोगों को क्षमा करना होगा। यह याद नहीं रखना है कि आपको किसे क्षमा करना है, आपको क्यों क्षमा करना है, लेकिन सामान्य तौर पर आप बस क्षमा कर दें। यह इतनी बड़ी राहत है जो कि आप जानते नहीं हैं, अगर आप माफ कर देंगे। यह आज्ञा चक्र अभी छूट जाएगा। यदि आप केवल इतना कह दें, “मैं सभी को क्षमा करता हूँ”, तो यह खुल जाता है, और यह इतना अच्छा है, कि एक बार आपने क्षमा कर दिया, तो कुंडलिनी बस एकदम उत्थान पा जाती है। लेकिन ज्यादातर बार मैंने देखा है, जब वे मेरे पास आते हैं, मुझसे मिलते हैं, तब मुझे उनसे कहना पड़ता है, “कृपया क्षमा करें, कृपया क्षमा करें, कृपया क्षमा करें” और फिर यह काम करता है। यह इसे आसान बनाता है, बस आप, बस सभी को क्षमा कर दें। वैसे भी, आप क्षमा करें या न करें, आप कुछ भी नहीं करते हैं, है ना? कुछ नहीं। क्या होता है? यह सिर्फ एक मिथ्या विचार  है। सिर्फ एक मिथक। लेकिन अगर आप माफ नहीं करते हैं, तो आप गलत हाथों में खेल जाते हैं। दूसरा व्यक्ति, जिसने आपको परेशान किया है या आपको प्रताड़ित किया है, वह काफी खुश है, लेकिन आपको प्रताड़ित किया जा रहा है, आप ऐसे व्यक्ति के हाथों में खेल रहे हैं। तो सबसे अच्छी बात है क्षमा करना। सहज योग में क्षमा का बहुत महत्व है। इसलिए, मैं आपसे अनुरोध करूंगी कि इसे शुरू करने से पहले सभी को क्षमा कर दें। एक बहुत ही साधारण सी बात है, जो किसी शख्स को करनी है, वह यह है कि हम अपने जूते बाहर निकालेंगे। जो ऊपर बैठे है, नीचे आ सकते हैं, अच्छा रहेगा। आगे भी सीटें हैं, अगर कुछ लोग आना चाहें तो। ठीक है? जरा पानी उंडेल दीजिये| क्या आप उन्हें वहां दिखाएंगे? ठीक है, बस एक मिनट। बस नीचे हटो। कुछ लोग हैं जो अंदर आने के लिए प्रतीक्षा कर रहे हैं। अब, फ्रैंक आपको दिखायेंगे, कि हम अपनी कुण्डलिनियों को कैसे उठाने जा रहे हैं। यह समझने का बहुत सरल तरीका है, बहुत सरल। सबसे पहले, आप अपना बायाँ हाथ मेरी ओर रखते हैं, जो आपकी इच्छा, आत्म-साक्षात्कार पाने की आपकी इच्छा का प्रतिनिधित्व करता है। बस कृपया इसे रखें, बाएं हाथ को ऐसे ही। सहज हो जाओ। आपको झुककर बैठने की जरूरत नहीं है, आपको बहुत ज्यादा सीधे होकर बैठने की जरूरत नहीं है। बस आराम से। तो, बायां हाथ, हम इस तरह रखते हैं, और दाहिने हाथ से हम अपने बाएं बाज़ू के केंद्रों को पोषित करते हैं, अपने बाएं तरफ के केंद्रों को पोषित करते हैं। दोनों पैरों को एक दूसरे से दूर रखें। अब अपना दाहिना हाथ अपने हृदय पर रखें, क्योंकि दाहिना हाथ क्रिया या क्रिया की शक्ति का प्रतीक है। दिल पर। यहाँ आत्मा निवास करती है, जैसा कि मैंने तुमसे कहा था। फिर हमें अपना दाहिना हाथ अपने पेट के ऊपरी हिस्से में रखना है। अभी तुम यह सब देख लो, और बाद में तुम आंखें बंद करके उसका अनुसरण करोगे। हमें बाएं बाज़ू तरफ ही काम करना है। उदर के ऊपरी भाग में, बाएँ हाथ की ओर। फिर हम अपने दाहिने हाथ को अपने पेट के निचले हिस्से में ले जाते हैं। यह वह केंद्र है जो हमारे मध्य तंत्रिका तंत्र पर देवत्व को प्रकट करता है। इसका मतलब है कि हम ज्ञानी, ज्ञानी, बोध प्राप्त  बन जाते हैं । अब आपको अपने हाथ को अपने पेट के ऊपरी हिस्से में ऊपर उठाना है। अब, यह वह केंद्र है, जो गुरुता का केंद्र है। बड़े-बड़े संतों ने, पैगम्बरों ने हमारे लिए यह विशेष केंद्र बनाया है, तो हमें इसे भी प्रकाशित करना है। फिर हम अपना दाहिना हाथ अपने हृदय पर रखते हैं। जैसा कि मैंने आपको बताया, यह हमारी आत्मा का केंद्र है। फिर हम अपना हाथ अपनी गर्दन और अपने कंधे के कोने में ले जाते हैं और अपना दाहिना हाथ उसके पीछे की तरफ रखते हैं और अपने सिर को अपने दाहिनी ओर घुमाते हैं। यह वह चक्र है जो तब परेशान होता है जब हम दोषी महसूस करते हैं। फिर हम अपने दाहिने हाथ को अपने कपाल पर ले जाते हैं और सर को जितना हो सके उतना नम्रता से झुका लेते हैं। सिर को उस हथेली पर टिका दें। अब इसे दोनों तरफ कनपटी पर से दबाएं। यह दूसरों को क्षमा करने का केंद्र है। अपना हाथ नीचे कर लें। हमारे सिर के पिछले हिस्से तक हाथ को उठाएं और उस पर अपना सिर टिकाकर चेहरा ऊपर की ओर रखें। यह दोषी महसूस किए बिना, ईश्वर से क्षमा माँगने का केंद्र है। फिर हम अपना हाथ फैलाते हैं, हम अपनी हथेली फैलाते हैं। हम अपनी हथेली के केंद्र को तालू(फॉन्टानेल बोन एरिया) पर रखते हैं। और जितना हो सके सिर झुकाएं। अब, अपनी उँगलियों को पीछे खींचे। कृपया, अपनी उँगलियों को पीछे धकेलें, ताकि आपकी खोपड़ी पर पर्याप्त दबाव पड़े। और अब आपको अपने हथेली से सिर कि चमड़ी को सात बार घुमाना है, बहुत धीरे-धीरे, दक्षिणावर्त। अब, यह हो गया है। हमें बस इतना ही करना है। आप चाहें तो अपना चश्मा बाहर निकाल सकते हैं, क्योंकि कभी-कभी आंखों की रोशनी भी बढ़ जाती है। और अब आपको अपनी आंखें बंद करनी हैं। जब तक मैं आपको न कह दूं, कृपया उन्हें न खोलें। कृपया, उन्हें न खोलें। अपने पैरों को एक दूसरे से अलग रखना याद रखें, और बस इस बाएं हाथ को ऐसे ही रखें। इस तरह सिर को झुकाएं, अंगुलियों को पीछे धकेलें और सिर की चमड़ी को को इसी तरह धीरे-धीरे सात बार घुमाएं। यह महत्वपूर्ण है। जब आप अपनी उँगलियों को पीछे खींचते हैं, तब एक दबाव होता है, और आप इसे बहुत बेहतर कर सकते हैं। ठीक है? अब, देखते हैं। कृपया, अपनी आँखें बंद करो! लेकिन आपको अपने प्रति सुखद प्रसन्न होना चाहिए। आपको खुद को माफ़ करना होगा और आपको अपने प्रति बहुत ही सुखद स्थिति में रहना होगा। खुद पर गुस्सा नहीं होना, यह बहुत जरूरी है। अब अपना बायाँ हाथ मेरी ओर और दाहिना हाथ अपने हृदय पर रखें। अपनी आँखें बंद करो, कृपया! यहाँ, आपको मुझसे एक प्रश्न पूछना है। जैसे आप कंप्यूटर से पूछते हैं, वैसे ही आपको एक प्रश्न पूछना पड़ता है। आप मुझे श्री माताजी कह सकते हैं या आप मुझे माँ कह सकते हैं, “माँ, “माँ, क्या मैं आत्मा हूँ?” इस प्रश्न को अपने मन में तीन बार पूछें। जोर से नहीं, आपके दिल में, तीन बार, “माँ, क्या मैं आत्मा हूँ?” यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण प्रश्न है। अब आप अपने हाथ को अपने पेट के ऊपरी हिस्से पर, बायीं तरफ ले जाएं और जोर से दबाएं। यदि आप आत्मा हैं, तो आप अपने गुरु हैं। तो अब एक और प्रश्न मुझसे तीन बार अपने हृदय में पूछो, ‘माँ, क्या मैं अपना गुरु हूँ? माँ, क्या मैं अपनी गुरु हूँ?” यह प्रश्न तीन बार पूछें। जैसा कि मैंने आपको बताया है, मैं आपकी स्वतंत्रता को पार नहीं कर सकती, जिसका मैं सम्मान करती हूं। और मैं तुम पर शुद्ध ज्ञान थोप नहीं सकती। आपको इसके लिए मांग करनी होगी। तो, अब, कृपया, अपना दाहिना हाथ अपने पेट के निचले हिस्से में, बाईं ओर रखें। और मांगो “माँ, कृपया, मुझे शुद्ध ज्ञान दें!” इसे छह बार कहें, क्योंकि इस केंद्र की छह पंखुड़ियां हैं। तो कृपया कहें, “माँ, कृपया मुझे शुद्ध ज्ञान दें”। जैसे ही आप शुद्ध ज्ञान मांगते हैं, आपकी कुंडलिनी में गति होती है, जिसे शायद आप महसूस ना कर सकें। यह उठ रही है, इसलिए हमें आत्मविश्वास के साथ उच्च केंद्रों को पोषित करना होगा। तो अब अपने दाहिने हाथ को अपने उदर के उपरी हिस्से में, बाएं हाथ की तरफ, रखें और यहां आप पूरे विश्वास के साथ दस बार कहें, “मां, मैं ही स्वयं का मालिक हूं”। यह उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है जिन्हें अन्य गुरुओं द्वारा विशेष रूप से प्रताड़ित किया गया है। “माँ, मैं खुद का स्वामी हूँ”। कृपया इसे दस बार कहें। तो अब, अपना दाहिना हाथ अपने हृदय पर रखें, जहां आत्मा का वास है। और आत्मा वह अवस्था है, जहाँ तक आपको उत्थान करना है। अब पूरे विश्वास के साथ, अपने हृदय पर हाथ रखकर पूरे भरोसे के साथ, आपको कहना है, “माँ मैं आत्मा हूँ। माँ, मैं आत्मा हूँ”। कृपया इसे बारह बार कहें। परमात्मा ज्ञान और प्रेम का सागर है। यह आनंद और शांति का सागर है, लेकिन सबसे बढ़कर यह क्षमा का सागर है। तो आप ऐसा कुछ भी नहीं कर सकते, जिसे क्षमा की उस महान शक्ति द्वारा क्षमा न किया जा सके। तो अब, आप अपने दाहिने हाथ को अपनी गर्दन और अपने कंधे के कोने में उठाएं, इसे जितना हो सके उतना पीछे धकेलें और अपने सिर को अपने दाहिनी ओर घुमाएं। यहाँ आपको पूरे विश्वास के साथ सोलह बार कहना है, “माँ, मैं कतई दोषी नहीं हूँ”। कृपया इसे पूरे विश्वास के साथ कहें। मैं तुमसे पहले ही कह चुकी हूँ कि चाहे हम किसी को क्षमा करें या न करें, हम कुछ भी नहीं करते। लेकिन अगर हम क्षमा नहीं करते हैं, तो हम गलत हाथों में खेल जाते हैं। तो, कृपया, अब, अपना हाथ अपने कपाल पर रखें और धीरे-धीरे अपना सिर झुकाएं। इसे अपने हाथ पर टिका रहने दें और इसे दोनों तरफ से जोर से दबाएं। यह वह चक्र है जहां हमें सभी को क्षमा करना है। इसलिए, कृपया, यह अपने मन से कहें, अपने दिल से, कितनी बार नहीं, “माँ, मैं सभी को क्षमा करता हूँ”। बहूत ज़रूरी है! कृपया, इसे अपने दिल से कहें। अपना दिल खोलो और कहो, “माँ, मैं सभी को क्षमा करता हूँ”। अब अपने दाहिने हाथ को अपने सिर के पीछे की तरफ ले जाएं और जितना हो सके चेहरा ऊपर की ओर करें। इसे अपने हाथ पर आराम करने दो। यहां, बिना दोषी महसूस किए, अपनी गलतियों को गिने बिना, किसी भी चीज के लिए खुद को दोष दिए बिना, केवल अपनी संतुष्टि के लिए, आपको अपने मन में कहना है, अपना दिल खोलकर, कितनी बार नहीं, “हे भगवान, अगर मैंने कोई गलती की है, कृपया मुझे माफ़ करें”। विनम्रता में आपको कहना होगा, “हे ईश्वर, अगर मैंने कोई गलती की है, तो कृपया मुझे क्षमा करें।” अब, कृपया अपनी हथेली, दाहिने हाथ की हथेली को फैलाएँ, और अपनी हथेली के केंद्र को अपने तालू (फॉन्टानेल हड्डी क्षेत्र) पर रखें, जो आपके बचपन में एक नरम हड्डी थी। अब जहां तक संभव हो अपना सिर झुकाएं। अब इसे जोर से दबाएं, अपनी उंगलियों को अच्छी तरह से पीछे खिंच लें, जोर से दबाएं और आपको अपनी खोपड़ी की चमड़ी को सात बार दक्षिणावर्त घुमाना है। लेकिन फिर, यहाँ, मैं आपकी स्वतंत्रता को पार नहीं कर सकती, जिसका मैं सम्मान करती हूँ। तो, आपको कहना होगा, “माँ, कृपया, मुझे मेरा आत्म-साक्षात्कार दें”। मैं तुम पर जबरदस्ती नहीं कर सकती। कृपया, इसे सात बार कहें, “माँ, कृपया, मुझे मेरा आत्म-साक्षात्कार दें!” कृपया अपनी उँगलियों को पीछे खींचे, अपनी उँगलियों को पीछे धकेलें। इसे हटाएं। अपने सिर नीचे झुकाएं। अपने सिर नीचे झुकाएं। अब, कृपया, अपने हाथ नीचे कर लें। अपनी आँखें खोलो, धीरे से। इस तरह हाथ मेरी ओर करो। अब, नीचे रखो, अपना हाथ, दाहिना हाथ मेरी ओर इस तरह रखो, और अपना सिर नीचे करो, और अपने बाएं हाथ से स्वयं महसूस करो, कि तुम्हारे तालू से ठंडी हवा आ रही है या नहीं। थोड़ा गर्म भी हो सकता है, कोई बात नहीं। लेकिन यह आपके सिर से किसी तरह की गर्मी या ठंडक निकलेगी। आपको खुद को प्रमाणित करना होगा। एयर कंडीशनिंग के बारे में चिंता मत करो। यह आपके सिर से निकल रहा है। अब अपना बायाँ हाथ मेरी ओर कर दो और अपना दायाँ हाथ बार-बार घुमाओ और स्वयं देखो कि तुम्हारे सिर से ठंडी हवा आ रही है या नहीं। अब फिर से हाथ बदलो, एक बार और। दाहिना हाथ मेरी ओर रखो और अपना सिर नीचे करो, और खुद देखो, अगर कोई ठंडी हवा चल रही है, तो तुम्हारे तालू से बाहर आ रही है। आपको इसे ऊपर रखना है, उस पर नहीं। ऊपर, कुछ लोगों को यह थोड़ा दूर महसूस हो सकता है, कुछ को यह करीब होगा। लेकिन आपको अपना सिर नहीं छूना है। अब अपने दोनों हाथों को आकाश में पीछे की ओर उठाएं। उन्हें उठाओ, उन्हें ऐसे ही बढ़ाओ। अपने सिर को पीछे धकेलें, और प्रश्न पूछें, “माँ, क्या यह होली घोस्ट की ठंडी हवा है?” “माँ, क्या यह ईश्वर के प्रेम की सर्वव्यापी शक्ति है?” “माँ, क्या यह परमचैतन्य है?” यह प्रश्न, इन प्रश्नों में से एक, तीन बार पूछें। अपनी नज़रें ऊपर की ओर रखें और यह प्रश्न पूछें। अब, अपने हाथ नीचे कर लें। बस उन्हें सामने रखो। निर्विचारिता में मुझे देखने की कोशिश करें। आप यह कर सकते हैं। आप बहुत आराम महसूस करते हैं। आप चाहें तो अपना चश्मा लगा सकते हैं। बस ऐसे ही हाथ मेरी ओर करो। जिन लोगों ने अपने सिर से निकलती हुई ठंडी हवा को महसूस किया है या अपनी उंगलियों पर, चाहे गर्म हो या ठंडी, कृपया अपने दोनों हाथ ऊपर उठाएं। व्यावहारिक रूप से आप सभी ने इसे महसूस किया है। 

परमात्मा आप पर कृपा करे! जरा सोचो! मैं सभी संतों को नमन करती हूं। अब, आपको केवल यह जानना है कि इसे कैसे स्थापित करना है और इसे कैसे कार्यान्वित करना है। यह बहुत सरल है। यहाँ तुम्हारा बहुत अच्छा सेंटर है, जहाँ जाने पर लोग तुम्हें सब कुछ बता देंगे। कोई भुगतान नहीं करना होगा, बस आपको खुद को थोड़ा समय देना है और आपको अपने आत्म-साक्षात्कार का सम्मान करना चाहिए। धीरे-धीरे, आप इसमें विकसित होंगे। और मुझे उम्मीद है कि अगले साल, मैं आपको यहां बड़े पेड़ों के रूप में देखूंगी। आप सभी से मिलकर बहुत खुशी हुई। वे सभी जिन्होंने इसे महसूस नहीं किया है वे एक तरफ आ सकते हैं और सहज योगी उन्हें देख सकते हैं; और जिन लोगों ने इसे महसूस किया है, मैं उनसे एक-एक करके मिलना चाहूंगी। मैं हाथ मिलाना चाहती हूं।

[हिंदी/मराठी]

श्री माताजी: तो अब…

पी: [अस्पष्ट] माँ, प्यारी है।

श्री माताजी: लवली। अभी तुम सुंदर हो, तुम लाजवाब हो, और अब तुम्हें इसे स्थापित करना है। आपको स्थापित करना होगा, थोड़ा समय दें। ठीक है? इसकी उपेक्षा न करें, क्योंकि जब तक आप इसे स्थापित नहीं करते, तब तक आप इसमें निपुण नहीं बन सकते। और इसे स्थापित करने में ज्यादा से ज्यादा एक महीना लगता है। ठीक है? तो आप इन लोगों से मिलें। केंद्र कहां है, बस आप घोषणा करें। सुंदर। धन्यवाद, आप हमारी मदद करें। तो, आप समझ गए? तो आप वास्तव में मिल गए, वास्तव में मिल गए। ओह, वह बहुत अच्छा और अच्छा है। ईश्वर आप पर कृपा करे! अपना है, अपना है। अब, आपको खुद का और अधिक आनंद लेना चाहिए, पूर्ण रूप से बनकर, ठीक है? आपको पूरा बनना है। आपको इसके बारे में ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं है, बस कुछ जानना है, बस इतना ही।

पी: हाँ। आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

 यह सब तुम्हारा है, तुम वही हो जो तुम हो! यह आपकी महिमा है! बस खुद का आनंद लें। ठीक है? बहुत बढ़िया। ईश्वर आप पर कृपा करे! किस बात का धन्यवाद? यह आपका अपना है। आप स्वयं आनंद लें। बस इस में हंसो। आपने इसे पा लिया। बस इतना ही, आपने इसे पाया। यूरेका!

 पी: आपने मुझे वह बताया जो मैं सुनना चाहता था।

श्री माताजी: वास्तव में? अच्छा, मैं बहुत खुश हूँ! बहुत अच्छा, अति उत्तम। परमात्मा आप पर कृपा करे! इतना अच्छा और अच्छा! आश्चर्यजनक। परमात्मा आप पर कृपा करे! आनंद लें।

पी: बहुत-बहुत धन्यवाद!

श्री माताजी: ईश्वर आपका  भला करे। किस के लिए धन्यवाद? तुम हो, यह तुम्हारा अपना है। [असल में] मुझे अपना खुद का पाने के लिए आपको धन्यवाद देना चाहिए। भगवान आप पर कृपा करे! भगवान आप पर कृपा करे!

पी: आपके [अस्पष्ट] के लिए धन्यवाद।

श्री माताजी: साथ आओ!

पी: धन्यवाद, माँ!

श्री माताजी: ईश्वर आपका भला करे! वे इतने खूबसूरत लोग हैं! भगवान आप पर कृपा करे! तो यह अब समाप्त हो गया है? यदि आप ऊब गए हैं तो आप इसे फेंक सकते हैं. ठीक है। ठीक ठाक है। मुझे पता है मैंने तुमसे कहा था कि यह सच नहीं है। भगवान आप पर कृपा करे!

पी: आपके समय और अच्छाई के लिए धन्यवाद।

श्री माताजी: ईश्वर आपका भला करे। अब आपको खुद को थोड़ा समय देना चाहिए। यह महत्वपूर्ण है, है ना? हां, आपको चाहिए, आपको अपना ख्याल रखना चाहिए। न अधिक परेशानी, न अधिक बीमारियां, न अधिक डॉक्टर। ईश्वर आप पर कृपा करे!

श्री माताजी: हाँ, बस आ जाओ!

पी: मुझे करना होगा।

श्री माताजी: हाँ, हाँ। उन्होंने है। हमारा भारत में दौरा है, हमारा भी दौरा है। तो अगर आप आना चाहते हैं तो इन लोगों से पता कर सकते हैं। हे भगवान्! अच्छा। भगवान आप पर कृपा करे! अपने आप का आनंद लें, आनंद लें। आनंद लेना। लेकिन आपको आना चाहिए और उन्हें देखना चाहिए और पता लगाना चाहिए। ठीक है? और विशेषज्ञ बनें। ईश्वर आप पर कृपा करे! 

जब मैंने पहली बार अपना हाथ ऊपर किया, तो मुझे यह महसूस हुआ। और जब मैं उसे ले गया तो वह जा चुका था। क्या ये ठीक है? तुम्हें पता है, जब मैंने इसे रखा, मैंने इसे महसूस किया, है ना? और यह [अस्पष्ट]। और फिर जब मैंने इसे वापस रखा तो यह चला गया था। क्या हुआ था? यदि आप इसके बारे में सोचने लगते हैं तो यह नहीं रहता है! बस मत सोचो आपको इसके बारे में नहीं सोचना चाहिए और इसके बारे में बहस या चर्चा नहीं करनी चाहिए। फिर आप अपने मानसिक स्तर पर आ जाते हैं। यह उससे ऊंचा स्तर है, इसलिए आपने इसे खो दिया। अब, इसके बारे में मत सोचो, तुम इसके बारे में सोच नहीं सकते। आप देखिए, आपने बिना विचारे ऐसा किया। तो उसी अवस्था में रहो। धन्यवाद।

पः नमस्ते मां। क्षमा चाहता हूँ।

[हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] नमस्ते!

श्री मत्जी: नमस्ते! यह तुम्हें फिर से देखा तो अच्छा लगा!

पी: मैंने [अस्पष्ट] को माफ करने की कोशिश की। [अस्पष्ट] को क्षमा करने की कोशिश की, जैसा कि आपने मुझे पिछली बार बताया था।

श्री माताजी: क्षमा करें?

पी: [अस्पष्ट]। श्वेत व्यक्ति, वह और उसका [अस्पष्ट]। शादी के लिए, आप कह रही थी।

P: धन्यवाद मुझे उम्मीद है कि अगली बार जब आप आएंगे तो हम ऊंचे पेड़ों के जंगल होंगे।

श्री माताजी: हाँ, हमें देखना होगा। इसका वर्णन किया जा चुका है। और एक कविता है कि: “आशीर्वाद देने वाले [महान] वृक्षों के जंगल के साथ-साथ आओ। उस तरह। ऐसी एक मराठी कविता है जो आप सभी को प्यार के सागर के रूप में वर्णित करती है, जो बोलती है। सुंदर वर्णन, आप लोगों के बारे में है।

पी: मैं सोच रहा था, हमने व्यवहार किया दिव्य महिला से, हाथ मिलाने के लिए नहीं बल्कि गाल पर उन्हें चूमने के लिए।

श्री माताजी: ठीक है। यह सब ठीक है। तुम मेरे बेटे हो।

श्री माताजी: आप मेरे बच्चे हैं।

पी: हम वास्तव में कोशिश करते हैं और अन्य लोगों को बताते हैं।

श्री माताजी: कृपया ऐसा करो, कृपया करो और उन्हें साथ लाओ। हमारे यहाँ एक केंद्र है, सौभाग्य से, बहुत अच्छा केंद्र है, जिस पर हम काम करते हैं। मेरा एक मित्र था, वह उन साधकों में से एक के बहुत करीब था जो … हाँ। वहाँ बहुत सारे हैं। बहुत सारे खोए हुए हैं। [अस्पष्ट] अवतरण लेकिन वह … का हिस्सा है … हाँ, वह वहाँ है। यह इसका एक हिस्सा है। वे आपको इसके बारे में सब बताएंगे। ठीक है?

श्री माताजी: तो, अब, क्या तुम ठीक हो?

पी: हाँ, धन्यवाद। कृपया [अस्पष्ट] चालीस साल की उम्र से और मुझे विश्वास है कि अगली बार जब मैं आपको देखूंगा [अस्पष्ट] मेरा जीवन मैं चालीस साल का हूं और मुझे विश्वास है कि अगले साल जब मैं आपको देखूंगा [अस्पष्ट]

श्री माताजी: बेशक, वे कर सकते हैं, बिल्कुल। ईश्वर आप पर कृपा करे! भगवान आप पर कृपा करे! अभी आनंद लें, आनंद लें! आनंद लेना। भगवान आप पर कृपा करे। आनंद लेना। आनंद लेना। आनंद लें! बहुत बहुत अच्छा।

पी: बहुत बहुत धन्यवाद!

श्री माताजी: भगवान आपका भला करे!

श्री माताजी: आप फिजी से आते हैं?

पी: दक्षिण अफ्रीका।

श्री माताजी: दक्षिण अफ्रीका, वास्तव में? हमारे यहां दक्षिण अफ्रीका से कोई है। हमारे पास दक्षिण अफ्रीका में एक अच्छा केंद्र है, इतने सारे। कम से कम वे कह रहे थे कि लगभग एक हजार लोग दक्षिण अफ्रीका में सहज योग कर रहे हैं। यह बहुत अच्छा है। अभी आनंद लो। आप भी दक्षिण अफ्रीका से हैं?

पी: नहीं, मैं न्यूजीलैंड से हूं, मेरी मां… मैं न्यूजीलैंड से हूं, मैं न्यूजीलैंड में पैदा हुई हूं और मेरी मां गुजरात से हैं, इसलिए वह भारत में रहती हैं।

P: गुजरात और भारत में रहती है।

श्री माताजी: ओह, मैं देख रही हूँ, गुजरात। ओह, गुजरात भी हम बहुत अच्छा कर रहे हैं।

पी: हां, लेकिन मैं न्यूजीलैंड में हूं।

पी: मैंने मार्गदर्शन के लिए उचित शिक्षक के लिए कई वर्षों तक प्रार्थना की है। मैंने कई वर्षों से उचित शिक्षक का मार्गदर्शन पाने की प्रार्थना की है और मुझे लगता है कि अब मुझे यह मिल गया है।

श्री माताजी: अब, ऐसे लोग हैं जो आपको स्वयं गुरु बना देंगे। और आपको इसे और लोगों तक पहुंचाना चाहिए। आप भारत से हैं?

P: हाँ,  मैं यहाँ पैदा हुआ हूँ।

श्री माताजी: हाँ, आप यहाँ पैदा हुए हैं, कोई बात नहीं। यहां बहुत सारे भारतीय हैं। और कृपया उन्हें बताएं कि जो वादा किया गया है उसे पाने का समय आ गया है। ठीक है? हाँ। [अस्पष्ट]

श्री माताजी: आप कहाँ से हैं?

पी: मैं दक्षिण अफ्रीका से हूं।

श्री माताजी: वास्तव में? हमारे यहां दक्षिण अफ्रीका से कोई है।

पी: हाँ, वह मेरी पत्नी थी [अस्पष्ट]।

श्री माताजी: महाराज हैं। ईश्वर आप पर कृपा करे। और आश्चर्यजनक रूप से हम दक्षिण अफ्रीका में बहुत अच्छा कर रहे हैं। दक्षिण अफ्रीका में अब हजारों लोग सहज योगी हैं।

पी: दक्षिण अफ्रीका का कौन सा हिस्सा?

श्री माताजी: मुझे ठीक से पता नहीं है। मैं आपको नहीं बता पाऊंगी लेकिन अगर आप चाहें तो मैं आपको उन लोगों का पता दे दूं।

P: हाँ, लेकिन मैं अब यहाँ रह रहा हूँ, स्थायी रूप से, न्यूज़ीलैंड में।

पी: बहुत-बहुत धन्यवाद। मैं अब जाने की अनुमति लेता हूँ।

श्री माताजी: तो ईश्वर आपका भला करे!

पी: यह सुंदर है!

श्री माताजी: आनंद लें। आप पूरी तरह ख़ूबसूरत हैं। अब आप बस अपने सौन्दर्य को जानते हैं। यह आपके लिए अपनी सुंदरता और महिमा को जानने का समय है। तो, अब, आप कैसे हैं? अब, आप सभी साधक हैं, समझे? इसे प्राप्त करना आपका अधिकार है। ठीक है? इसे प्राप्त करना आपका अधिकार है। यहाँ एक और है, यहाँ एक महान साधक। परमात्मा आप पर कृपा करे!

पी: मुझे हमेशा कुंडलिनी में दिलचस्पी रही है।

श्री माताजी: अब, यह आपके पास है। यह आपके नियंत्रण में है। आप चाहें तो इसे किसी की भी उठा सकते हैं। समझे।

पी: जो मैं जानना चाहता हूं, वह यह है कि मैं बहुत समय पहले से क्यों नहीं खोजना चाहता था? मैं बहुत समय पहले से खोज क्यों नहीं करना चाहता था? अब क्यों? मैं यह नहीं समझ सकता।

श्री माताजी: मुझे इसके लिए खेद है। मुझे पता है लेकिन यही समय है, आना ही होगा। इसे पकना है। मैं यहां पहले भी कई बार आयी हूं, इससे पहले मैं यहां न्यूजीलैंड में तीन बार आ चुकी हूं।

श्री माताजी: मैं अगले साल फिर से आऊँगी।

पी: हमें आपकी जरूरत है।

श्री माताजी: अब, आप उनसे मिलें, और पूर्ण बनें, है ना? कितना अच्छा सवाल है! लेकिन यह सच है। कुछ लोगों को समय लगता है। यही है ना? क्योंकि आपकी जानकारी के लिए मैं यहां पहले भी आ चुकी हूं।

पी: मेरे पास एक सवाल है। मैंने अपने बाएं हाथ में गर्मी महसूस की।

श्री माताजी: आप किस जगह से आते हैं?

श्री माताजी: आप किस जगह से आते हैं?

पी: सिंगापुर से।

श्री माताजी: सिंगापुर से बाएं हाथ की ओर से?

पी: मेरे बाएं हाथ से, आप जानते हैं कि मुझे कुछ भी महसूस नहीं हुआ।

श्री माताजी: बाएं हाथ को कुछ भी महसूस नहीं हो रहा था।

पी: दाहिने हाथ में कुछ भी महसूस नहीं कर सका।

श्री माताजी: ठीक है, तो आप क्षमा करें। सिंगापुर बहुत तेज तर्रार लोग हैं। और अब, तुम सब कुछ माफ भी कर दो? अभी देखो? ठीक है? आपको क्षमा करना होगा। धन्यवाद। यह खूबसूरत था। कितने खूबसूरत हो। अपनी सुंदरता का आनंद लें। तुम सब बहुत सुंदर लोग हो। क्या तुम फूलों की तरह नहीं हो? आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा। आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा। [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] जरा सोचिए! वह सज्जन, बस उसे बुलाओ; इसलिए उसे गर्मी लग रही है। नमस्ते। अपने बेटे को बुलाओ। मुझे उसे बताना है। [हिंदी] वह चला गया है और यह मेरा बेटा है। ठीक है। तो वह बात है। यह गलत है। इसलिए आप और वह, दोनों गर्म महसूस कर रहे हैं। ठीक है? वह सही व्यक्ति नहीं हैं। आपको हीरे चाहिए या आपको परमात्मा चाहिए?

पी: परमात्मा 

श्री माताजी: यह सब ठीक है। फिर, उसे छोड़ दो।

श्री माताजी: आप कहाँ से हैं?

पी: फिजी।

श्री माताजी: फिजी? यहां फिजी के बहुत से लोग हैं। [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] क्या आपको लगता है कि मुझे वहां जाना चाहिए और [अस्पष्ट]।

श्री माताजी: कहाँ?

पी: वहाँ पर।

श्री माताजी: बेशक, बिल्कुल।

[जेन ली] इस प्रक्रिया में मैंने यहां कुछ महसूस किया और बाद में।

श्री माताजी: लीवर।  मेरे बच्चे,आपने माफ नहीं किया। आपको क्षमा करना होगा। यह कुछ ऐसा है जो मैंने आप सभी से अनुरोध किया है। बस माफ कर दो। इसलिए आपने इसे वहां महसूस किया। अभी ठीक है? ठीक है? 

समझ गया।

 इसलिए केवल एक छोटी सी चीज है जो आपने नहीं की, वह है क्षमा करना। धन्यवाद।

श्री माताजी: आप कैसे हैं?

P: मेरे बेटे को पहले [अस्पष्ट] दोबारा हुआ है

श्री माताजी: आप फिर से जाना चाहते हैं? [अस्पष्ट] काश मैं कभी-कभी इन सभी जगहों पर जा पाती। ईश्वर आप पर कृपा करे। तो अब … आप इसे बहुत अच्छी तरह से समझ गए? यही है ना ? इसे महसूस करें? हां हां। मैं तुम्हारे चेहरे पर देख सकती हूँ। आंखें फैली हुई हैं। जब आप अपना बोध प्राप्त करते हैं तो आँखों में चमक आ जाती है।

P: इससे पहले जब कि मैं अंदर आया,  वैसे भी मेरे हाथों से गर्म बहाव था।

श्री माताजी: और अब अच्छा है। हाँ, यह सही है।

 मैं अभी भी इसे ठीक से महसूस करने की कोशिश कर रहा हूं।

 हां आपको करना चाहिए। आपको इन लोगों से मिलने की कोशिश करनी चाहिए और खुद को स्थापित करना चाहिए।

पी: मेरी मां आपके समूह की सदस्य हैं, और कैटरीना भी।

श्री माताजी: वास्तव में?

पी: वह मेरी बेटी है। ओह, अच्छा, बहुत बढ़िया।

श्री माताजी: नमस्कार सर।

पी: आपसे मिलकर अच्छा लगा। ईश्वर आप पर कृपा करे। आपसे मिलकर अच्छा लगा!

पी: आप फिर से न्यूजीलैंड कब आएँगी?

श्री माताजी: अगले साल?

पी: अगले साल। [हिंदी] [हिंदी] [हिंदी] पी: बहुत-बहुत धन्यवाद।

श्री माताजी: परमात्मा आपका भला करे! तो, अब, यह ठीक है।

पी: आपसे शक्तिशाली वार्ता प्राप्त करना बहुत अच्छा था। धन्यवाद!

श्री माताजी: यह प्रेम की शक्ति है, मेरे बच्चे, यह केवल प्रेम की शक्ति है। इससे ज्यादा कुछ नहीं। ठीक है? ईश्वर आप पर कृपा करे! 

आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। वह प्यारा था। और अब उपलब्ध है। मुझे नहीं पता कि मुझे क्या लगा [अस्पष्ट]। 

अब, आपको क्षमा करना चाहिए, यही बात है, आप देखिए। यदि आप क्षमा नहीं करते हैं, तो आप इसे महसूस नहीं करेंगे। आपको अपने दिल से माफ़ करना होगा। अभी देखा? बेहतर?

पी: हाँ, हाँ।

श्री माताजी: आपको क्षमा करना होगा।

पी: हाँ, धन्यवाद।

श्री माताजी: आपको बस इतना ही करना है कि क्षमा करना है। अब कुछ ज्यादा हो गया है। आप कैसे हैं?

 रोचक बातचीत के लिए धन्यवाद। 

अब, आपको आना चाहिए और उन्हें मिलना चाहिए, ठीक है? और इसे प्राप्त करें और अपने आयु वर्ग के लड़कों को प्राप्त करें। बहुत ज़रूरी! आप जानते हैं कि एक आक्रमण हुआ है, एक नकारात्मक आक्रमण हुआ है। अपने देश में आ रहा है। तुम्हें पता होना चाहिए। ड्रग्स, यह, वह, हर तरह की चीजें।

पी: बहुत-बहुत धन्यवाद। वह प्यारा था। धन्यवाद।

पी: आप मेरी मदद करने में मेरी मदद करेंगे?

श्री माताजी: हाँ, तुम करोगे। तुम बस जाओ और उन्हें मिलो।

श्री माताजी: आप खुद की मदद करेंगे और आप दूसरों की भी मदद करेंगे। [अस्पष्ट] गर्म। आपको क्षमा करना चाहिए, बस क्षमा करें। क्षमा करना। क्षमा करना महत्वपूर्ण है। बस माफ कर दो! बेहतर?

श्री माताजी: आप कहाँ से हैं?

पी: मैं न्यूजीलैंड से हूं।

श्री माताजी: कहाँ से।

पी: न्यूजीलैंड। मैं भारत से हूँ।

श्री माताजी: कहाँ से?

पः बंबई से।

श्री माताजी: बंबई से?

पी: लेकिन मैं यहां लंबे समय से हूं। मैं तब आया था जब मैं दस साल का था और मैं यहां 40 साल से हूं।

श्री माताजी: वास्तव में?

पी: हाँ, लेकिन मुझे अपने बच्चों के साथ समस्या है।

श्री माताजी: वे सब ठीक हो जाएंगे। अब आप सबसे पहले इन सभी बातों को सीख लें। हाँ। तब आप सभी समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। पहले तुम इसे सीखो, तुम निपुण हो जाते हो और तब आप इसे प्रबंधित कर सकते हैं। ठीक है? ईश्वर आप पर कृपा करे।

पी: वह मेरी बेटी है।

श्री माताजी: आप कैसे हैं? ठीक है! आप सब ठीक हैं। क्षमा करो! बस तुम माफ़ कर दो! इतनी कम उम्र में ऐसा क्या है जिसे आप माफ नहीं करते? आपको अब क्षमा कर देना चाहिए। बड़े-बूढ़ों ने भी माफ कर दिया है। ठीक? अब बेहतर। ठीक है?

पी: धन्यवाद।

श्री माताजी: जाओ और उन्हें मिलो।

पी: धन्यवाद! हमने आपको लंदन में दो सत्र में देखा और आपको यहाँ देखना एक अद्भुत बात है।

श्री माताजी: वास्तव में? वह कब हुआ था?

पी: मुझे नहीं पता, हमने अभी लंदन में आपके दो सत्र में भाग लिया है।

श्री माताजी: ओह, मैं देखती हूँ, पाठ्यक्रम।

पी: और पाठ्यक्रम विंबलडन में ।

श्री माताजी: यह, जरा देखिए, उन्होंने विंबलडन में पाठ्यक्रम में भाग लिया है, वे कहते हैं। हाँ अच्छा।

पी: तो इस अद्भुत उपहार और आपके आने के लिए भी धन्यवाद।

श्री माताजी: बहुत अच्छा। अब तुम जाकर उनसे मिलो। आप यहां हैं या लंदन में?

पी: हम यहां रह रहे हैं।

श्री माताजी: ठीक है, यह बहुत अच्छा है।

पी: मुझे आपको सुनने में मजा आ रहा है। मुझे बहुत दिलचस्पी थी क्योंकि मुझे ब्रेस्ट कैंसर है।

पी: इसलिए मुझे यह सुनने में दिलचस्पी थी जो कि आपने स्तन कैंसर के बारे में क्या कहा। 

श्री माताजी: क्या यही कारण था?

पी: हाँ।

पी: वह क्या था?

श्री माताजी: क्या यही कारण है, आप असुरक्षित हैं?

पी: हाँ, हाँ, कुछ भी नहीं है। मुझे हमेशा लगता है कि आप इसे कहते हैं। हाँ।

श्री माताजी: क्या आपने देखा है?

पी: नहीं, नहीं, वह अब मुझे छोड़ रहा है।

श्री माताजी: अब यह ठीक है। तुम ठीक हो जाओगी क्या यही कारण है?

पी: हाँ यह है।

श्री माताजी: यही कारण है। इसलिए पश्चिम में देखिए, महिलाएं बहुत असुरक्षित हैं। और पुरुषों को इसे समझना चाहिए, जिस तरह से वे इस-उस महिला के साथ चलते रहते हैं, ।

पी: मैं नहीं, मुझे विश्वास है कि मैं उससे यह समझने की उम्मीद नहीं कर सकती, लेकिन अब मैं इसे स्वयं समझती हूं और यह महत्वपूर्ण है।

श्री माताजी: स्वयं बनना बेहतर है। देखें कि सम्पूर्ण आनंद आपके साथ है।

पी: हाँ, मैं कोशिश करूँगी। मैं यह समझती हूँ। धन्यवाद।

श्री माताजी: तो, अब, आप कैसे हैं?

पी: बहुत अच्छा। मां आपका शुक्रिया। आप महान हो! 

अब आपको इसे अपने भीतर विकसित करना होगा। इसलिए इसे विकसित करें। आप इसमें निपुण बन जाते हैं। यह बहुत आसान है, यह बहुत आसान है। क्योंकि आपके भीतर इतना सहज है तो आप बस वही बन जाते हैं। लेकिन आपको पता होना चाहिए कि इसे कैसे प्रबंधित करना है, आत्मसाक्षात्कार कैसे देना है, ताकि आप इतने सारे लोगों की मदद कर सकें। तो आप कैसे हैं? ओह तुम, बहुत अच्छा। आश्चर्यजनक।

पी: वहाँ क्या है?

श्री माताजी: आप देखेंगे, शीतल| श्री माताजी: तो, आप कैसे हैं?

पी: मैं समझ नहीं सका |

श्री माताजी: ठीक है, अब, यह [अस्पष्ट] है। क्या आपने माफ़ किया?

श्री माताजी: क्या आपने सभी को क्षमा किया?

पी: हाँ।

श्री माताजी: वास्तव में? नही तुमने नही किया। अब क्षमा करो। अब माफ कर दो, मेरे सामने तुम माफ कर दो। क्षमा करें, क्षमा करें। अब, क्या अब ठंडी हवा चल रही है? अब, आपने माफ नहीं किया। बस माफ कर दो। बस इतना कहें, “माँ, मैं सबको माफ़ करता हूँ”। बस इतना कहो। कहो, “माँ, मैं सबको क्षमा करता हूँ।” ठीक है? क्या यह अब जारी हो रहा है? माफ करने से ऐसा सिरदर्द खत्म हो जाता है। क्षमा न कर के यह सिरदर्द क्यों ढोएं? अब देखो? ईश्वर आप पर कृपा करे!

श्री माताजी: तो, आप कैसे हैं?

पी: अच्छा, अच्छा।

श्री माताजी: कृपया, क्षमा करें।

पी: मैंने इसे एक हाथ में दूसरे की तुलना में अधिक तीव्र पाया है।

श्री माताजी: इस हाथ में आप को अधिक तीव्र था? हाँ। आप क्या काम करते हो?

पी। ब्रिक लाइनर। ईंट लाइनर।

पी: ईंट लाइनर।

श्री माताजी: मैं समझी नहीं।

पी: ब्रिक लाइनर।

श्री माताजी: राजमिस्त्री, राजगीर। यह एक शारीरिक कार्य है। इसीलिए। अब, क्या यह अब बेहतर है? परमात्मा आप पर कृपा करे! थोड़ा, कोई असंतुलन में चला जाता है, क्योंकि आप एक शारीरिक कार्य कर रहे हैं। बायां कम है। इसलिए वे आपको सिखाएंगे कि कैसे संतुलन में आना है। बस इतना ही। ठीक है? 

परमात्मा आपको आशिर्वादित करें!