Confusion and the ordinary householders

Madras (भारत)

1991-12-07 Confusion and the ordinary householders, Madras, India, 126' Download subtitles: BG,CS,DE,EL,EN,ES,FI,FR,IT,LT,NL,PL,PT,RO,RU,TR,ZH-HANS,ZH-HANTView subtitles:
Download video (standard quality): Download video (full quality): View and download on Vimeo: View on Youku: Transcribe/Translate oTranscribe

Feedback
Share

                भ्रांति और सामान्य गृहस्थ 

सार्वजनिक कार्यक्रम दिवस 2 मद्रास (भारत), 7 दिसंबर 1991।

मैं सत्य के सभी साधकों को नमन करती हूं।

कल शुरुआत में ही मैंने आपसे कहा था कि सत्य वही है जो वह है। यदि हमें सत्य नहीं मिला है तो हमें उसके प्रति विनम्र और ईमानदार होना चाहिए, क्योंकि सत्य हमारी भलाई के लिए है, हमारे शहर, हमारे समाज, हमारे देश और पूरे ब्रह्मांड की भलाई के लिए है।

यह एक बहुत ही खास समय है जब आप सभी पैदा हुए हैं, जहां लोगों को आत्म-साक्षात्कार प्राप्त करना है। यह पुनरुत्थान का समय है जैसा कि बाइबिल में वर्णित है, यह कियामा का समय है जैसा कि मोहम्मद साहब ने वर्णित किया है। यह एक बहुत ही खास समय है जब नल, जैसा कि आप जानते हैं, नल दमयन्ती अख्यान – नल का सामना कली से हुआ था। वह कली पर बहुत क्रोधित हुआ और कहा कि “तुमने मेरे परिवार को नष्ट कर दिया है, तुमने मेरी शांति को नष्ट कर दिया है, और तुम लोगों को भ्रम में डाल देते हो, इसलिए मैं तुम्हें मार डालूंगा।” उन्होंने कली को चुनौती दी कि “तुम्हें हमेशा के लिए समाप्त कर देना चाहिए।”

तब कली ने कहा, “ठीक है, मैं आपको अपना महात्म्य बता दूं। मैं आपको बताता हूं कि मुझे वहां क्यों होना चाहिए। अगर मैं तुम्हें समझा सका तो तुम मुझे मारने का इरादा बदल सकते हो, लेकिन अगर मैं नहीं कर पाता तो तुम मुझे मार सकते हो।” तो उसने कहा कि “आज वे सभी जो सत्य की खोज कर रहे हैं, आत्म-साक्षात्कार की तलाश कर रहे हैं, जो गिरि और कंदरों में जा रहे हैं, पहाड़ों और घाटियों में, दुनिया भर में परमात्मा की खोज कर रहे हैं; ये लोग कलियुग में सामान्य गृहस्थ के रूप में जन्म लेंगे। भ्रम होगा, नि:संदेह, लोग साभ्रम होंगे। भ्रम होगा, और भ्रम होगा – जो कि मैं पैदा करूंगा, इसमें कोई संदेह नहीं है – लेकिन केवल इस भ्रम के कारण, ये साधारण गृहस्थ सत्य की तलाश करेंगे। और यही कारण है कि यही वह समय है जब उन्हें अपना आत्मसाक्षात्कार मिल जाएगा।”

हमारे शास्त्रों में इस समय के बारे में बहुत सारी भविष्यवाणियाँ हैं, लेकिन विशेष रूप से भृगुमुनि ने “नाड़ीग्रंथ” में इस समय का वर्णन किया है। यदि आप आज के समय के साथ उसका मिलान करते हैं, तो यह ठीक यही समय है। राघवेंद्र स्वामी की मृत्यु के बाद यह होगा, और अब यही हो रहा है। आप लोगों के लिए यह समझना बहुत जरूरी है कि राघवेंद्र स्वामी इस क्षेत्र में थे और उन्होंने बहुत काम किया, और अब उनके काम को पूरा करने का समय आ गया है; रमण महर्षि भी,  वे नहीं जानते थे कि कैसे समझाना है, इसलिए वे मौन व्रत ले लिया। तेईस साल की उम्र में ज्ञानेश्वर जैसे लोग, ऐसी अद्भुत चीजें लिख गए, जैसे “अमृत अनुभव …” एक किताब है, मुझे लगता है कि आध्यात्मिकता पर अंतिम शब्द है। उन्हें तेईस साल की इतनी छोटी उम्र में समाधि में जाना पड़ा, क्योंकि किसी ने उन्हें समझने की कोशिश नहीं की।

इतना कर्मकांड, इतना संस्कार, इतना पढ़ना कि कोई जानना ही नहीं चाहता था कि वे क्या बोल रहे हैं। सभी ने सोचा, “हम सब कुछ जानते हैं,” और इस तरह उन्हें इस तरह की संतुष्टि मिली। कबीर ने कहा है, कैसे समझाऊं, सब जग अंधा – “कैसे समझाऊं, सारी दुनिया अंधी है।”

लेकिन हमें अपने विकास में यही हासिल करना है, इसी में हमें कूदना है। आत्मा बनना सभी शास्त्रों द्वारा बताया गया है – भारत ही नहीं, हर जगह। यदि आप ताओ को लेते हैं, यदि आप झेन लेते हैं, यदि आप यहूदी या ईसाई दर्शन, या इस्लामी में जाते हैं, तो हर जगह यह कहा जाता है कि आपको स्व बनना है, आपको आत्म-ज्ञान होना है।

बेशक, किसी ने ऐसा कहा है, वे लोग जो धर्म के प्रभारी हैं या मामलों के शीर्ष पर हैं, पैसा कमा रहे हैं या इससे शक्ति पैदा कर रहे हैं, लोग सत्ता या पैसे के लिए धर्म का उपयोग कर रहे हैं; उन्हें यह पसंद नहीं आया, इसलिए उन्होंने कहा, “वे विधर्मी हैं। यह ईश्-निंदा है। उन्हें कोई विशेष ज्ञान नहीं है।” और इसी तरह वे लोगों को दंडित करते रहे हैं, लोगों को परेशान करते रहे हैं, उन्हें प्रताड़ित करते रहे हैं। लेकिन अब समय आ गया है कि सभी साधकों को आत्म-साक्षात्कार प्राप्त हो।

कल मैंने आपको बताया था कि कुंडलिनी जागरण से यह कैसे कार्यान्वित होता है। कुंडलिनी के बारे में लोगों ने हर तरह की बेतुकी बातें लिखी हैं जो सच नहीं है। मैं तुम्हारी माँ हूँ, मैं तुम्हें सच बताने जा रही हूँ, मैं तुम्हें कुछ झूठ नहीं बताने जा रही हूँ। अगर आपको यह पसंद नहीं है तो भी मैं आपको बता दूं, क्योंकि यह आपकी भलाई के लिए है, आपकी भलाई के लिए है, आपके हित के लिए है।

तो जब कुंडलिनी उठती है, तो वह आपके विभिन्न चक्रों से गुजरती है जो सूक्ष्म केंद्र हैं, और उनका पोषण करती हैं, आपके फॉन्टानेल हड्डी क्षेत्र में छेद करती हैं और आपको सर्वव्यापी शक्ति से जोड़ती हैं, जिसके बारे में हम नहीं जानते हैं। तब आप अपने हाथों से चैतन्य महसूस करते हैं, जिसे चैतन्य लहरी कहा जाता है। आदि शंकराचार्य ने इसे “सौंदर्य लहरी” कहा है, क्योंकि आप इससे सौंदर्य की अनुभूति कर सकते हैं। बहुत ही सुन्दर ढंग से उन्होंने इसका वर्णन किया है। लेकिन लोगों ने उन्हें कितना प्रताड़ित किया – इसके बारे में सोचो, आदि शंकराचार्य जैसे व्यक्ति – मेरा मतलब है, मुझे नहीं पता कि क्या कहना है। जिसने माँ के बारे में ऐसे रहस्य, इतने महान विवरण दिए; उसे किस लिए प्रताड़ित किया गया? उन्होंने ऐसा क्या गलत किया कि उसे प्रताड़ित किया जाना चाहिए था? अब हमें सत्य के साथ खड़ा होना है, और कहना है कि “माँ, हमें सत्य पाना है, और केवल सत्य अन्य कुछ भी नहीं।”

मैंने कल तुमसे कहा था कि आत्मा, हमारे हृदय में सर्वशक्तिमान परमेश्वर का प्रतिबिंब है। इन दिनों की वैज्ञानिक बद्द्ता अथवा “धार्मिक” वैज्ञानिक बद्धता जिसमें हर वैज्ञानिक सोचता है कि वह सब कुछ जानता है, उस सब से भिन्न एक नया प्रकार है। वे कुछ नहीं जानते, मुझसे ये भरोसा ले लो। यह  बेतुका है। अब आपने बहुत से वैज्ञानिकों को आकर सहज योग के बारे में बताते हुए देखा होगा। उन्होंने स्वीकार किया है क्योंकि उन्होंने प्रयोग किया है। मैंने उन्हें बताया कि मूलाधार चक्र, पहला चक्र, मूलाधार, कार्बन परमाणुओं से बना है, क्योंकि यह पृथ्वी तत्व से बना है। और यदि आप कार्बन परमाणु की तस्वीर लेते हैं और उसका एक मॉडल बनाते हैं और फिर तस्वीर लेते हैं, तो कहें, बाईं तरफ से, आप दाईं ओर देखेंगे, और आपको वास्तव में “ओम” लिखा हुआ दिखाई देगा। यदि आप इसे दाईं तरफ से देखते हैं, तो बाईं ओर आपको एक स्वस्तिक दिखाई देगा। लेकिन यदि आप नीचे से ऊपर की ओर देखें, तो आपको एक क्रॉस दिखाई देगा।

वास्तव में मैं आपको एक डॉ. वर्लीकर के बारे में बताना चाहती हूं जो एक बहुत प्रसिद्ध चिकित्सक है, वह नोबेल पुरस्कार में अपने पुरस्कार से चूक गया क्योंकि, शायद, वह एक भारतीय था। उन्होंने ही तीन, चार अन्य सहज योगी वैज्ञानिकों के साथ प्रयोग किया, और उन्होंने कहा कि ऐसा ही है। यह तो ऐसा है। इन वैज्ञानिकों के पास इतना अल्प ज्ञान है, क्योंकि वे बाहर से चीजों को देख रहे हैं। सहज योग के साथ आप अंदर से जाते हैं। और हर कोई एक ही बात कहता है, क्योंकि – अब तुम मुझे सफेद साड़ी और लाल बॉर्डर पहने हुए यहां खड़े देख रहे हो; सब जानते हैं, सब महसूस करते हैं। मुझे आपको बताने की जरूरत नहीं है, आप इसे जानते हैं, आप इसे देखते हैं और आप देखते हैं कि ऐसा ही है। लेकिन एक बार जब आप अपनी अनुभूति प्राप्त कर लेते हैं, तो आप अपने हाथों पर जो कुछ भी महसूस करते हैं, वह सभी को समान रूप से महसूस होता है। यदि आप दस बच्चों को लेकर उनकी आँखें बाँध लें, तो भी उनसे पूछें, “यह सज्जन किस चीज़ से पीड़ित हैं?” – वे नहीं जानते कि यह महिला है या सज्जन, आंखें बंधी हुई हैं – वे सब एक सामान वही उंगली बताएँगे। माना की यह वाली यानी उसकी विशुद्धि खराब है। आप उस व्यक्ति से पूछते हैं, “क्या आपको गले में तकलीफ है?” – “आपको कैसे मालूम?” हम जानते हैं क्योंकि यह उंगली श्री कृष्ण की उंगली है, श्री कृष्ण की जगह है, यह कंठ है। यह सब संबंधित है। पौराणिक कथा में सब कुछ बेतुका नहीं है। नब्बे प्रतिशत बिल्कुल वैसा ही है जैसा वह था। बेशक कुछ बेतुकी बातें हैं जो अंदर चली गई हैं, लेकिन नब्बे प्रतिशत पौराणिक कथाएं, तथाकथित पौराणिक कथाएं बिल्कुल हैं।

अब हम मंदिरों में जाते हैं। हम सोचते हैं, यह एक मंदिर है, जाना बहुत अच्छा है और वह सब। लेकिन हम नहीं जानते कि हम क्या कर रहे हैं, हम क्या प्रार्थना कर रहे हैं, हम किसकी प्रार्थना कर रहे हैं, ये देवता क्या हैं, वे अपने आप में कैसे काम करते हैं, वे देवता हमारे भीतर कहाँ विराजमान रहते हैं, उनका क्या काम है? उन्हें कैसे प्रसन्न करें? हम कुछ नहीं जानते; परन्तु तुम इन परदेशियों से पूछो, वे सब कुछ जानते हैं। सबसे पहले वे ईसाई धर्म से तंग आ गए, वह एक बात है। वे बस उन सभी बकवासों से तंग आ गए जो उन्हें पता चला, क्योंकि वे बहुत बुद्धिमान हैं, आप देख सकते हैं, और उनकी कंडीशनिंग बहुत कम थी। और वे सोचने लगे, “आखिरकार, हम नहीं जानते कि वे ऐसा क्यों करते हैं।” तब वे बस तैयार थे।

उस समय हमने बहुत सारे नकली गुरुओं का निर्यात किया – पश्चिमी में निर्यात किये गए गुरु नकली हैं। भगवान का शुक्र है कि हम बच गए, हम गरीब हैं – यह एक आशीर्वाद है। तो बहुत सारे नकली गुरु वहाँ गए, बहुत पैसा कमाया, और यहाँ भी हमारे पास बहुत सारे थे। मेरा मतलब है, हम इस काम में, बहुत सारे नकली गुरु बनाने में बहुत अच्छे हैं। और उन्होंने एक के बाद एक लोगों को मूर्ख बनाया, बहुत पैसा कमाया। यह सब धन-उन्मुख है।

शुरू में यह मेरे लिए इतना कठिन था क्योंकि वे सभी बड़े उत्साह के साथ मुझसे लड़ने के लिए आते थे, क्योंकि मैंने कहा था कि तुम परमात्मा के नाम पर पैसे नहीं ले सकते – वह बहुत अधिक था। “वह कैसे कह सकती है कि आप पैसे नहीं ले सकते?” लेकिन अब यह बेहतर है। एक-एक करके वे सभी अच्छी तरह से उजागर हो गए, और अधिक उजागर हो जाएंगे। मुझे आपको उनके बारे में बताने की ज़रूरत नहीं है; वे एक-एक करके बेनकाब होंगे। यदि प्रकाश हो, तो सारे अंधकार को जाना ही होगा, और जो कुछ है, उसे उजागर करना होगा।

तो सभी को ऐसा ही लगता है, इसमें कोई झगड़ा नहीं है; क्योंकि आत्मा सर्वशक्तिमान ईश्वर का प्रतिबिंब है, यह ईश्वर एक ही है, जो सदाशिव को दर्शाता है। सदाशिव, जो आदि शक्ति, आदि शक्ति के कार्यों के साक्षी हैं, केवल नाटक देख रहे हैं, केवल साक्षी हैं। आप में वह आत्मा के रूप में साक्षी है, लेकिन वह आपके चित्त में नहीं आता, वह वहां है। और उनका चित्त केवल सीमित है क्योंकि वे किसी भी तरह से आपकी स्वतंत्रता में हस्तक्षेप नहीं करते है। तो वह स्व में स्थित रहता है, वह सिर्फ देख रहा है। वह “ऑटो” है। जब हम कहते हैं “स्वायत्त तंत्रिका तंत्र” “autonomous nervous system”जो ऑटो है, वह आत्मा है।

अब यह एक सदाशिव का प्रतिबिंब है। स्वाभाविक रूप से सभी प्रतिबिंब समान होने चाहिए, उनके प्रभाव समान होने चाहिए। बेशक, बोध से पहले एक पत्थर पर प्रतिबिंब है, या एक दीवार पर, या शायद किसी प्रकार की अपारदर्शी चीज़ पर हम इसे ऐसा कह सकते हैं। बोध के बाद आप परावर्तक, सुंदर परावर्तक बन जाते हैं, और यह आपको प्रतिबिंबित करता है। और हर कोई एक ही बात को दर्शाता है। अत: आत्मसाक्षात्कार का प्रभाव प्रत्येक व्यक्ति पर एक समान होता है, कि वह पहले इस शीतल वायु को अपने हाथों में महसूस करने लगता है, फिर अपने फॉन्टानेल हड्डी क्षेत्र से बाहर। उन सभी को एक समान अनुभूति होती है। फिर वे इन केंद्रों को महसूस करने लगते हैं और पता लगाते हैं कि क्या गलत है। साथ ही वे सभी निर्विचार जागरूक हो जाते हैं, पहला चरण जिसे हम निर्विचार समाधि कहते हैं। यह तुरन्त काम करता है।

आप कह सकते हैं, “माँ, यह बहुत कठिन है। ऐसा कैसे होता है? लोगों को हिमालय जाना पड़ा।” ठीक है, कोई बात नहीं, आपको जाने की जरूरत नहीं है। वो दिन चले गए। आखिर सभ्यता, सभ्यता का यह वृक्ष इतना बड़ा हो गया है, इसकी जड़ें विकसित होनी हैं; नहीं तो सारी सभ्यता खत्म हो जाएगी। और यही है जड़ों का ज्ञान, और इसलिए इस ज्ञान को जानने के लिए तुम्हें सूक्ष्म, कुशाग्र बनना होगा। यह तभी संभव है जब कुंडलिनी उठती है और आपकी फॉन्टनेल हड्डी से छेद करती है, और आपको ईश्वर के प्रेम की सर्वव्यापी शक्ति से जोड़ती है।

तो पहली चीज जो आप महसूस करते हैं वह है सामूहिक चेतना, क्योंकि हर कोई आत्मा है। तो आप एक दूसरी आत्मा को महसूस कर सकते हैं, आप एक अन्य आत्मा को महसूस कर सकते हैं, आप दूसरे को महसूस कर सकते हैं। आप उनके शरीर को महसूस कर सकते हैं, आप उनके मन को महसूस कर सकते हैं, आप कुछ भी महसूस कर सकते हैं।

यह पहला गुण है जो आपको मिलता है, सामुहिक चेतना, आपके तंत्रिका तंत्र पर, आपके केंद्रीय तंत्रिका तंत्र  central nervous system पर। आपके विकास में जो कुछ भी मिला है वह आपके केंद्रीय तंत्रिका तंत्र पर व्यक्त होता है। अब देखें: उदाहरण के लिए, यदि आपके पास कुत्ता या घोड़ा है और आप उसे बहुत गंदी गली से ले जाना चाहते हैं, तो वह जाएगा, इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा। लेकिन मनुष्य के लिए यह बहुत कठिन है, क्योंकि हमारे विकास में हमारे केंद्रीय तंत्रिका तंत्र  central nervous system ने गंध की भावना, सौंदर्य की भावना विकसित की है। ठीक है। तो यह उन्होंने विकसित किया है, और एक बार जब वे विकसित हो गए हैं, तो क्या होता है कि अब हम मनुष्य निश्चित रूप से हमारे विकास में, और हमारी सूक्ष्म संवेदनशीलता में जानवरों से अधिक हैं। एक कुत्ते के लिए इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने यहां क्या रखा है, आप कैसे सजाते हैं, आप कौन सा रंग पहनते हैं, कुछ भी नहीं; हमारे लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि हमारी संवेदनशीलता में सुधार हुआ है। हमारी विकासवादी प्रक्रिया के कारण इसमें सुधार हुआ है, हम इंसान बन गए हैं।

लेकिन मानव अवस्था में हमें एक समस्या है, और वह समस्या यह है कि हमने अपने सिर में दो संस्थाएं विकसित की हैं और इसे अहंकार और प्रति-अहंकार कहा जाता है, और आप अहंकार और कंडीशनिंग कह सकते हैं। हमारे सिर पर ये दो संस्थाएं आपस में पार हो जाती हैं और कठोर हो जाती हैं, और हम एक बंद व्यक्तित्व बन जाते हैं। जब कुंडलिनी ऊपर उठती है, तो वह इस आज्ञा चक्र से गुजरती है जो दृष्टी ग्रंथि optic chiasma पर है, और इन दोनों को शोषित कर लिया जाता है, सहस्रार खोलता है, और कुंडलिनी बाहर निकल जाती है। यह एक जीवंत प्रक्रिया है, ऐसा नहीं है कि आप कर सकते हैं। मान लीजिए कि आप एक बीज बोना चाहते हैं, तो आप अंकुर को बाहर नहीं निकाल सकते हैं और उसे चीज़ में धकेल सकते हैं। आप बीज को अंकुरित नहीं कर सकते। यह एक जीवित परमेश्वर की, और एक जीवित ऊर्जा की एक जीवंत प्रक्रिया है। कृपया समझें, एक बड़ा अंतर है।

तो यह, कुंडलिनी का उत्थान सहज रूप से काम कर रहा है। वह तुम्हारी माँ है, वह तुम्हें परेशान किए बिना बहुत खूबसूरती से चलती है। वह अपने बच्चे को अच्छी तरह जानती है। यह मौका है कि उसे आपको बोध देना है। उसने तुम्हें जीवन भर, तुम्हारे सारे जीवन से प्यार किया है, और वह तुम्हारे बारे में, तुम्हारी सभी समस्याओं के बारे में जानती है; जैसे, आप एक शरारती लड़के रहे हैं – “इससे कोई फर्क नहीं पड़ता,” वह कहती है, “यह उन्हें आत्मसाक्षात्कार देने का मौका है।” यह वही है जो अच्छी तरह से ऊपर आती है, खूबसूरती से, इसे कार्यान्वित करती है, छेद करती है। यह सब होता है।

लेकिन जब वह ब्रह्मरंध्र को छूती है या ब्रह्मरंध्र में छेद करती है, तो सदाशिव का आसन यहां होता है। उसका प्रतिबिंब यहाँ हृदय में है, लेकिन आसन यहाँ सहस्त्रार पर है। ये हमारे सिर में पीठ, सात पीठ, और चक्र नीचे हैं। तो जब वह उसमें छेद करती है, तो हम वास्तव में सदाशिव के चरण स्पर्श करते हैं, और इस तरह हमारे हृदय स्थित आत्मा हमारे चित्त में प्रवेश करती है। जब आत्मा हमारे चित्त में प्रवेश करती है तो हम प्रबुद्ध हो जाते हैं, हमारा चित्त प्रबुद्ध हो जाता है, और यह चित्त बहुत सतर्क होता है और यह सब कुछ जानता है। यहां बैठकर आप चक्रों पर लोगों के बारे में पता लगा सकते हैं कि वे क्या कर रहे हैं। आप यह चर्चा नहीं करेंगे कि उन्होंने कौन से कपड़े पहने हैं, उनके पास बैंक में कितना पैसा है, लेकिन देखेंगे कि वे अपने चक्रों पर कहां हैं, समस्या क्या है। यहां बैठकर आप उनका इलाज कर सकते हैं, यहां बैठकर आप उनकी मदद कर सकते हैं। लेकिन उन्हें इस सर्वव्यापी शक्ति के साथ एक होना होगा, जो महत्वपूर्ण है। यदि वे नहीं हैं, तो इसमें कुछ समय लगता है।

तो सबसे पहले आप निर्विचार, निर्विचार समाधि बनते हैं, और आप दूसरों को आत्मसाक्षात्कार देकर अपनी सामूहिक चेतना का काम करना शुरू करते हैं। आप इस कुंडलिनी को ऊपर उठाने के हकदार हो जाते हैं, अपने हाथों से आप कुंडलिनी को ऊपर उठा सकते हैं। आप इन लोगों को जानते हैं जो यहां गा रहे हैं, उनमें से कुछ ने हजार लोगों को आत्मसाक्षात्कार दिया है, और भी आप इसे कर सकते हैं, क्योंकि अब आपके पास शक्ति है। लेकिन समस्या यह है कि, आपको सिंहासन दिया गया है, आपको उस पर बैठने के लिए बनाया गया है, अब आपको एक सुंदर मुकुट से सजाया गया है। लेकिन फिर भी आप विश्वास नहीं करना चाहते कि आप राजा बन गए हैं, अब आपको कैसे विश्वास दिलाया जाए?

तो दूसरा बिंदु है आत्मविश्वास, बहुत कठिन है। वे विश्वास नहीं कर सकते कि उन्हें आत्म-साक्षात्कार मिल गया है। और “इसके साथ आगे बढ़ो, इसे कार्यान्वित करो। तुम स्वयं अपने गुरु बन गए हो, इसके साथ आगे बढ़ो” – वे नहीं कर पाते, वे डरते हैं। लेकिन ये सभी भयानक धोखेबाज़, उन्हें कोई बोध नहीं हुआ है, उन्हें कोई ज्ञान नहीं है, कुछ भी नहीं है। वे मरे हुए गुरु बन जाते हैं, उनके पीछे हजारों लोग होते हैं, उन्हें बेवकूफ बनाते हैं, पैसा कमाते हैं और उनका जीवन खराब करते हैं। जबकि जो सहज योगी हैं, जिनके पास सारा ज्ञान, सब कुछ है: फिर भी वे इतने विनम्र हैं, वे इतने सरल हैं। लेकिन वे सबके बारे में जानते हैं। जो कोई वहाँ आता है, वे जानते हैं, “आह, हम इसे जानते हैं।” वे यह नहीं कहेंगे, लेकिन वे सभी जानते हैं। अपने ही विज्ञान में वे आपको बताएंगे कि “यह ऐसा है” – वे जानते हैं। फिर सामूहिक रूप से वे उस व्यक्ति के लिए काम करेंगे। आपको नहीं पता होगा कि वे क्या कर रहे हैं, और यह काम करेगा।

तो आत्मा की दूसरी प्रकृति, इसके अलावा की यह एक सामूहिक अस्तित्व है, यह एक निरपेक्ष अस्तित्व है। हम एक सापेक्ष दुनिया में रहते हैं – यह अच्छा है, यह बुरा है, यह ऐसा है, यह वैसा है। लेकिन यह एक निरपेक्ष सत्ता है, इस अर्थ में, आप अपने हाथों को एक तस्वीर की ओर रखते हैं: तुरंत, अगर यह एक आत्मसाक्षात्कारी द्वारा बनाई गई है, तो आपको वायब्रेशन मिलना शुरू हो जाएगा। किसी के बारे में बस सोचो – क्या वह एक आत्मसाक्षात्कारी था? बस अपने हाथ रखो।

ऐसे बहुत से लोग हैं – जो लोग ईश्वर में विश्वास नहीं करते हैं, यदि वे भगवान हैं, तथाकथित, भगवान में विश्वास नहीं करते हैं। मेरा मतलब है, यह सबसे अवैज्ञानिक है, लेकिन यह मानते हुए कि वे ईश्वर में विश्वास नहीं करते हैं, उन्हें बस इतना ही पूछना है कि, “माँ, क्या ईश्वर हैं?” – समाप्त, वे वायब्रेशन प्राप्त करते हैं। सब कुछ सिद्ध किया जा सकता है। हर बात के लिए प्रमाण है, अब तक जो कहा गया है उसके लिए प्रमाण। यह बहुत बड़ी बात है जो तुम्हारे साथ घटित होती है, कि तुम अपने चैतन्य से प्रमाण को प्राप्त करो। फिर यह चित्त जो इतना चौकस है, जो इतना गतिशील है, जो इतना प्रभावी है, वह भी तुम्हें शुद्ध करता है। यह जानता है कि आपकी समस्या कहां है, कौन सा चक्र पकड़ रहा है, वे आपको बताते हैं।

जैसे मैं दिल्ली में थी, वे तीन लड़कों को लेकर आए। “माँ, उनकी आज्ञा पकड़ रही है। किसी न किसी तरह से हम इसे साफ नहीं कर सकते।” इसका मतलब है कि वे अहंकारी हैं। उन्होंने भी ऐसा कहा कि, “हाँ, माँ, हमारी आज्ञा पकड़ रही है, हमारे सिर में दर्द है।” वे अहंकारी हैं, लेकिन उन्होंने यह नहीं कहा कि वे अहंकारी हैं। और वे स्वयं कह रहे हैं, “हाँ, माँ, हमारी आज्ञा पकड़ रही है। कृपया इसे साफ करें।” तो आप स्वयं कह रहे हैं, “मैं अहंकारी हूँ।” क्योंकि वह अब तुम्हें पीड़ा देता है कि वह अहंकार तुम्हें पीड़ा दे रहा है; तो, “माँ, हमें बाहर निकालो, हम इस आज्ञा को साफ़ नहीं कर पा रहे।” “ठीक है, चलो, मैं इसे साफ कर दूंगी।”

तो आप खुद को आंकने लगते हैं। आप अपने बारे में जानते हैं कि आपके साथ क्या गलत है। “मेरा यह नाभी पकड़ रहा है, मेरा वह चक्र पकड़ रहा है, मेरा वह चक्र पकड़ रहा है।” वे सभी अपने बारे में जानते हैं, और वे जानते हैं कि इसे कैसे स्वच्छ और स्पष्ट करना है, और इसे कैसे हल करना है। तो आप अपने आप को शुद्ध करते हैं। लेकिन सबसे अधिक स्वच्छता तब आती है जब आप सामूहिक होते हैं।

बहुत से लोग मेरी तस्वीर लेते हैं, “माँ, हम पूजा करते हैं, हम बैठते हैं, ध्यान करते हैं; लेकिन फिर भी मुझे यह परेशानी हुई।” आपको सामूहिक रूप से रहना होगा, यह सहज योग का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। क्योंकि अब, तुम देखो, तुम्हें हिमालय नहीं जाना है, न गंगा में जाकर कूदना है। आपको कोई उपवास नहीं करना है, आपको कोई जप (अर्थात् मंत्र) नहीं कहना है, कुछ भी नहीं। केवल एक चीज: आप सामूहिक हो। सामूहिकता सर्वशक्तिमान के ध्यान का सागर है। एक बार जब आप सामूहिक होते हैं तो आप शुद्ध हो जाते हैं। मेरी उंगली की तरह, मान लीजिए – सब ठीक है, लेकिन मान लीजिए कि एक नाख़ून काटकर फेंक दी जाती है, तो वह नहीं विकसित नहीं होगा। इस पर किसी का ध्यान नहीं जाएगा। इसलिए आपको सामूहिक रूप से ध्यान में आना होगा।

वहां अहंकार आता है। ऐसे लोग हैं जो बहुत बड़े, अमीर, बहुत पढ़े-लिखे या राजनेता हैं – आप जानते हैं, बड़े, बड़े, बड़े, बड़े, बड़े लोग। उन्हें एक विनम्र स्थान जो की एक सेंटर है पर आना मुश्किल लगता है, । वे चाहते हैं कि उनके लिए एक और महल बनाया जाए, “नहीं तो हम वहां कैसे जा सकते हैं?” माँ का घर है। तुम्हारी माँ भले ही विनम्र हो, उसके पास इतना पैसा नहीं है – “ठीक है, कोई बात नहीं, मेरी माँ का घर है।” और वे नहीं आते हैं, और फिर वे वायब्रेशन खो देते हैं। यह एक बहुत ही सामान्य विफलता है, विशेष रूप से भारत में, पश्चिम में नहीं क्योंकि वहां वे जानते हैं कि उन्होंने कितनी मूल्यवान चीज हासिल की है। हमें नहीं पता कि यह क्या है जो हमने हासिल किया है, हमारे आत्म साक्षात्कार।

तो अगले साल जब मैं फिर से आती हूँ तब , “माँ, मुझे यह समस्या है, वह समस्या। मैं घर पर ठीक से ध्यान कर रहा हूं।” यदि आप सामूहिक में नहीं आते हैं, तो आप स्वयं को शुद्ध नहीं कर सकते। सहज योग में यही एकमात्र तरीका है जिससे आप स्वयं को शुद्ध कर सकते हैं, और आप अन्य सभी चीजों से ऊपर हो सकते हैं।

तो जब कुंडलिनी आपके आज्ञा चक्र से गुजरती है, तो आप निर्विचार जागरूक हो जाते हैं। एक विचार उठता और गिरता है, दूसरा विचार उठता और गिरता है। कुछ अतीत से आते हैं, कुछ भविष्य से आते हैं; लेकिन हम वर्तमान में नहीं हैं। अगर मैं कहूं “तुम वर्तमान में रहो,” तो तुम नहीं हो पाते। इसलिए कुंडलिनी जागरण एक ऐसी घटना है जो आपके चित्त को अंदर खींचती है। जैसे मेरी यह साड़ी ऊपर आ रही है कुण्डलिनी-देखो अब इस तरह फैली हुई है; लेकिन जब वह ऊपर आ रही है तो वह सारा चित्त अंदर खींच रही है। और इस तरह आपका चित्त अंदर जाता है। और जब वह छेद करती है, तब विचारों के बीच में एक अंतर होता है जिसे “विलम्ब” कहा जाता है, निश्चित रूप से, तो हर कोई शायद जानता है – जो बढ़ता है, वह है वर्तमान। तो हमें वर्तमान में होना है, हमें वर्तमान में होना है, तब हम निर्विचार होते हैं।

जैसे कि, पानी की लहरें उठ रही हैं, गिर रही हैं, आप पानी का सामना कर रहे हैं; लेकिन जब तुम पानी में होते हो तो तुम भयभीत होते हो, भयभीत होते हो, जब तुम्हें समस्या होती है तो तुम भयभीत होते हो। लेकिन मान लीजिए कि कोई आपको बाहर निकाल कर नाव में बिठा देता है, तो आप इसे देख पाते हैं, आप अपनी समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। लेकिन मान लीजिए कि आप तैरना जानते हैं, तो आप नीचे कूद सकते हैं और कई अन्य लोगों को बचा सकते हैं।

तो तीन चरणों में आप गति करते हैं। तो विकास तभी होता है जब आप निर्विचार जागरूक होते हैं। और वह सामूहिकता के साथ-साथ आपके चित्त में भी प्राप्त किया जा सकता है, जिसके लिए आपको भुगतान नहीं करना पड़ता है। कुछ लोगों के पास प्रारंभिक परिचय व्याख्यान मुफ्त होता है, और फिर दूसरा बैंकिंग होता है। सहज योग ऐसा नहीं है। यह सब बकवास सहज योग में नहीं है।

यह वास्तविकता है, और वास्तविकता को खरीदा नहीं जा सकता है। वास्तव में परमात्मा बैंक को नहीं जानता, वह धन को नहीं जानता। वह पैसे के बारे में कुछ भी नहीं समझता है। उसने पैसा नहीं कमाया है: यह तुम्हारा सिरदर्द है, उसका नहीं। बेशक, मान लीजिए कि मुझे उड़ान भरनी है, मुझे भुगतान करना होगा, यह ठीक है। अगर मुझे हॉल लेना है तो मुझे भुगतान करना होगा; लेकिन हॉल के लिए, परमात्मा के लिए नहीं। जागृति के लिए, आत्मज्ञान के लिए आप कोई शुल्क नहीं ले सकते। दर्शन के लिए भी मुझसे कहा जाता है कि लोग पैसे लेते हैं – कल्पना कीजिए। उनके लिए पैसा, पैसा, पैसा, पैसा, पैसा सब कुछ है। वे आत्मा के स्तर तक कैसे उठ सकते हैं?

और हम इतने सरल हैं, आप जानते हैं, भक्त इतने सरल हैं। “ठीक है, तुम्हें पाँच रुपये चाहिए, मैं अपनी अंगूठी बेचकर तुम्हें दूँगा। तुम्हें यह चाहिए, मैं तुम्हें यह दूंगा।”

अमेरिका में एक गुरु थे, जिनके पास अड़तालीस रोल्स रॉयस या कुछ और था, मैं गिनती भूल गयी थी, और वह एक और चाहते थे। इसलिए उन्होंने अपने शिष्यों से कहा कि “आप किसी न किसी तरह मुझे एक और रोल्स रॉयस दिलवा दें, फिर मैं इंग्लैंड आ जाऊंगा।” तो बेचारे आलू पर जी रहे थे, खुद भूखे मर रहे थे। तो सहज योगियों में से एक ने कहा, “तुम क्या कर रहे हो? वह रोल्स रॉयस क्यों चाहता है? रोल्स रॉयस में उनकी क्या दिलचस्पी है?”

वह बोला, “आप जानते हैं, हम उसे केवल धातु दे रहे हैं, लेकिन वह हमें आत्मा दे रहा है।” क्या आप इसकी कल्पना कर सकते हैं? आत्मा के लिए धातु का आदान-प्रदान किया जा सकता है? अवश्य ही वह उन पर किसी प्रकार की भूत-बाधा लगा रहा होगा, और वह अंग्रेजी भाषा में “स्पिरिट” है। अंग्रेजी भाषा बहुत खतरनाक है, क्योंकि “स्पिरिट ” शराब है, “स्पिरिट” आत्मा है और “स्पिरिट” एक भूत है – मुझे नहीं पता कि उनका क्या मतलब है!

तो, परमात्मा के साथ संबंध अगर स्थापित करना है, तो हमें सबसे पहले आत्मा बनना होगा; तभी यह संबंध स्थापित हो सकता है। कोई अपने आप को प्रमाणित कर सकता है, “मैं यह हूं, मैं वह हूं” लेकिन यह ठीक नहीं है, यह किसी काम का नहीं है; क्योंकि यह मानव शरीर आपको दिया गया है। कल्पना कीजिए कि इस दैवीय शक्ति ने आपको एक इंसान बनाने के लिए क्या किया होगा – कितनी कोमलता से, सावधानी से, खूबसूरती से आपको एक इंसान बनाया गया है। और अब, आपको यह मानव शरीर क्यों मिला है? हम इसका उपयोग किस लिए कर रहे हैं? हमें अपने मानव जीवन का मूल्यांकन करना चाहिए, यह किस लिए है? क्या यह सिर्फ बीमा के लिए है या मुझे नहीं पता कि वे और क्या करते हैं; लेकिन क्या यह किसी चीज के लिए है, कि हम दुनिया की रोशनी बन जाते हैं।

तो आत्मा का यह प्रकाश चित्त में फैलता है, और चित्त गतिशील, सक्रिय, कार्यरत होता है, यह बहुत सतर्क और समय का अत्यंत पाबंद है। तब इस  चित्त को बिलकुल उकताहट नहीं होती| लोग नहीं जानते कि बोरियत क्या है, क्योंकि यह बोरियत तब आती है जब आपका चित्त थक जाता है। लेकिन यहाँ चित्त प्रकाश से भरा है, इसलिए वे नहीं जानते कि ऊब क्या है।

दूसरी बात यह है कि आत्मा का स्वभाव यह है कि यह आपको सत्य, परम सत्य, सत्य के अलावा कुछ नहीं बताती है।  ये चैतन्य लहरी आपको जो कुछ भी बताती हैं तभी, जब आप पर्याप्त रूप से परिपक्व हो जाते हैं, उससे पहले नहीं; जब आपका कनेक्शन पूरा हो जाता है – नहीं तो आधा जुड़ा होता है और आधा नहीं होता है, तो नहीं – लेकिन जब आप परिपक्व होते हैं: यह निर्विकल्प की स्थिति है। जब आप वह बन जाते हैं, तो आपका चित्त बिल्कुल सही होता है, आपके वायब्रेशन सही होते हैं और रिपोर्ट बिल्कुल सही होती है, और आपको जो जानकारी मिलती है वह शत-प्रतिशत सत्य होती है; तो किसी के बारे में सच।

अब मान लीजिए हम श्री गणेश के बारे में जानना चाहते हैं। हम श्री गणेश की पूजा करते हैं। बहुत से लोग उनका मज़ाक उड़ाते हैं, यहाँ तक कि तथाकथित बुद्धिजीवी भी, आप देखिए। वे नहीं जानते कि क्या कहें, इसलिए वे श्री गणेश के बारे में बेतुकी बातें कहने लगते हैं, आप देखिए – यह पाप है। लेकिन आप पूछ सकते हैं, “माँ, क्या गौरी पुत्र हमारे अंदर मूलाधार पर स्थापित किये गए है?” निःसंदेह, वे सभी जिन्हें आत्मसाक्षात्कार दिया गया है, उन्हें जबरदस्त स्पंदन प्राप्त होंगे, और आपको भी। यदि आपको संदेह है, यदि आप श्री गणेश की पूजा कर रहे हैं, तो आप यह प्रश्न पूछें; यदि आप श्री विष्णु की पूजा कर रहे हैं तो आप यह प्रश्न पूछें। यदि आप ईसा-मसीह की आराधना कर रहे हैं, तो अगर आप वह प्रश्न पूछते हैं; यदि आप शिव की पूजा कर रहे हैं तो आप यह प्रश्न पूछे।

हमारे साथ क्या गलत है, कि बिना कनेक्शन के हम “शिव, शिव, शिव, शिव” जप रहे हैं? क्या वह हमारी जेब में है? तुम ऐसे कैसे कर सकते हो – क्योंकि क्या वह हमारा सेवक है या क्या?

लेकिन यदि तुम आत्मसाक्षात्कारी हो जाओ, तो एक बार उनका नाम लेना ही पर्याप्त है; वह कार्य करते है, क्योंकि हम उनके राज्य में हैं। तुम्हारे इस राज्य में, भारतीय राज्य में जहाँ की , तुम किसी को भी पुकार सकते हो; किसी भी हाल में कोई नहीं आएगा, सवाल ही नहीं उठता। और जब आप बिना संबंध जुड़े भी ईश्वर को पुकारना शुरू करते हैं, तो यह काम नहीं करेगा। लेकिन अगर आप जुड़े हुए हैं, तो केवल इतना ही नहीं की वह देवता आपकी मदद करेंगे, जो आपको परेशान कर रहा है वह भी सुधर जाएगा। इतना ही नहीं, आप जो चाहते हैं वह किया जाता है, और होता है। सभी प्रकार के मनोरथ पूरे होते हैं। तो फिर हम इसे ज्ञानोदय कहें या पूर्ति आपकी अपनी पसंद है; यह आपके अपने अस्तित्व की पूर्ण तृप्ति है।

तो आत्मा का तीसरा स्वभाव यह है कि वह प्रेम है। चूँकि यह प्यार है, यह आपको आनंद देता है। लेकिन निर्वाज्य – इस प्यार को कुछ नहीं चाहिए, बस देता है; इतना सुखद, सुंदर एहसास। लोगों को तनाव है। हर तरह की बेतुकी बातें करने के बाद आपको तनाव होगा, इसमें कोई शक नहीं। लेकिन जब यहां (तालु में) छेद किया जाता है, तो आपका सारा तनाव निकल जाता है। अब बिलकुल तनाव नहीं है। हम नहीं जानते कि तनाव क्या है। लोग डॉक्टरों के पास नहीं जाते, डॉक्टर भी डॉक्टरों के पास नहीं जाते, वे मेरे पास आते हैं। मैं डॉक्टर नहीं हूं, लेकिन वे मेरे पास आते हैं-आश्चर्यजनक।

यह परा-आधुनिक विज्ञान है, मेटा-मॉडर्न – आधुनिक विज्ञान से ऊपर। लेकिन क्या आप जानते हैं, हम भारतीय हैं, यह हमारी अपनी विरासत है; हम अंग्रेजी भाषा में अधिक विश्वास करते हैं, अंग्रेजी पोशाक में अधिक, अंग्रेजी ज्ञान में अधिक, क्योंकि हम केवल अंग्रेजी जानते हैं। लेकिन जो लोग फ्रेंच जानते हैं वे फ्रेंच में विश्वास करेंगे। अब समय आ गया है कि वे हम पर विश्वास करें, चूँकि हम अपने देश में विश्वास नहीं करते हैं, हम अपनी संस्कृति में विश्वास नहीं करते हैं, हम अपने ज्ञान में विश्वास नहीं करते हैं। यह कोई नई बात नहीं है जो मैं आपको बता रही हूं। सहज योग एक बहुत प्राचीन चीज है – नानक सहज समाधि लागो। हर संत ने वर्णन किया है। लेकिन हम यह \वह कर रहे हैं, सभी कर्मकांड, यह, वह। यह तुम्हें परम नहीं दे सकता-नहीं कर सकता। मैं आपको बता रही हूं, यही सच है। आत्मा वह है जो हमें होना चाहिए। यही हमारे जीवन का अंतिम लक्ष्य है। फिर, बाकी सभी एक रेखा में आ जाते हैं। और यही हमें हर शास्त्र से, हर अवतार से, हर जगह से मिला है। आइए अब विचार करें कि हम आत्मा बनें, और फिर हम एक साक्षात्कारी आत्मा , एक स्वामी बनें।

परमात्मा आप सबको आशीर्वादित करें।

क्या वे कोई सवाल नहीं लाए?

कुछ अच्छे प्रश्न हैं जिनका उत्तर मैं आपको बोध देने से पहले दूंगी। अगर आप पांच मिनट के लिए बाहर जाना चाहते हैं तो आप जा सकते हैं, और फिर आप वापस आ सकते हैं। इस बीच सवाल हो रहे हैं।

क्या हमें ध्यान करते समय अपना ध्यान सिर के शीर्ष (तालु) केंद्रित करना चाहिए?

आपको कहीं भी किसी चीज पर फोकस करने की जरूरत नहीं है। आप कुछ नहीं कर रहे हैं, यह कुंडलिनी है जो ऊपर आ रही है। तो आपको यह नहीं करना है। अपने चित्त से मत लड़ो। यह बस होगा – वह इसे प्रबंधित करेगी। वह अपना काम जानती है। वह एक बिंदु है।

क्या हमारे शास्त्रों में वर्णित श्री गणेश, महाविष्णु आदि देवताओं के रूप हैं?

बेशक! वही देवता हैं।

या वे योग केंद्रों से संबंधित रहस्यवादी चेतना की किसी स्थिति के लिए खड़े हैं?

बेशक, वे करते हैं। ये देवता हैं। गणेश बिल्कुल गणेश के समान हैं। बेशक, रंग में वह एक से दूसरे में भिन्न होता है – निर्भर करता है।

लेकिन उनकी रहस्यवादी चेतना की स्थिति विष्णु की स्थिति से, शिव की अवस्था से भिन्न है। वह अपना काम करते है। हर कोई अपने काम में पूर्ण महारथी होता है, लेकिन वे उस रूप में होते हैं, बिल्कुल उसी रूप में जैसा आप उन्हें जानते हैं, इसमें कोई संदेह नहीं है।

हमारे पास कितना आशीष है! मेरा मतलब है, कल्पना कीजिए, मुझे इन लोगों से गणेश के बारे में बात करनी थी, जिनके पास – वे “ग” शब्द भी नहीं जानते थे! है न बस…? उन्हें इसके बारे में कुछ नहीं पता था। और उन्होंने गणेश तत्व में निपुणता हासिल कर ली है। अब उनसे पूछो, वे तुम्हें सारे चक्र, सब कुछ बता देंगे। यह सारा ज्ञान हमारे इस देश में है, यह सब सुन्दर रत्न यहीं हैं।

जब हम सहज योग से अपरिचित लोगों के बीच में होते हैं, तो क्या हम मानसिक रूप से पूज्य माताजी की तस्वीर को सामने रखने के बजाय उनके रूप की कल्पना कर सकते हैं?

निःसंदेह तुम कर सकते हो। हां, कभी-कभी मेरी तस्वीर का इस्तेमाल बहुत ही अजीब जगहों पर किया जाता है जिसे ऐसा नहीं होना चाहिए, यह कोई उचित आचरण नहीं है। इसका उपयोग ऐसी जगह पर किया जाना चाहिए जहां आप सहज योगी लोगों के साथ हों, या अपने घरों, घरों में हों; आपको उन्हें हर जगह इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

प्रश्न: क्या मांसाहारी भोजन साधना को प्रभावित करता है? क्या शाकाहारी खाना बेहतर है?

अब अगर मैं कुछ भी कहूं तो तुम नाराज हो जाओगे! लेकिन मैं आपको बताती हूँ। सहज योग में, आपको अपने से बड़े जानवर का मांस नहीं खाना चाहिए। यदि आप शाकाहारी हैं, तो आप शाकाहारी हो सकते हैं; अगर आप मांसाहारी हैं तो मांसाहारी हो सकते हैं। लेकिन यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस तरह के व्यक्तित्व हैं। मान लीजिए कि आप एक दायीं पक्ष के व्यक्ति हैं, तो बेहतर होगा कि आप शाकाहारी हों। लेकिन अगर आप बाएं पक्षीय हैं, तो प्रोटीन लेना बेहतर है।

तो हम बात कर रहे हैं प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट की। किसी भी प्रकार का प्रोटीन लें| अब हम भारतीय कोई प्रोटीन नहीं खाते हैं। इडली (एक दक्षिण भारतीय व्यंजन) को छोड़कर मुझे नहीं लगता कि हम कोई प्रोटीन खाते हैं। उसमे भी  चावल है। भारतीयों को प्रोटीन जरूर खाना चाहिए, मेरा यही मत है, क्योंकि हम इतने कमजोर हो गए हैं। वैसे भी, हम आयकर, इस कर, उस कर से बहुत डरते हैं; साथ ही हम इतने कमजोर हैं, क्योंकि हम बिल्कुल बेहूदा खाना खाते हैं। इसलिए हमें पौष्टिक भोजन करना चाहिए, विशेष रूप से प्रोटीन किसी भी रूप में। लेकिन वह जानवर नहीं जो तुमसे बड़ा है। जैसे लोग घोड़े खाते हैं – मुझे नहीं पता कि वे और क्या कर रहे होंगे, कुछ भी; हाथी, मुझे लगता है!

सभी के लिए कोई एक नुस्खा नहीं है। आपको अपने स्वभाव के अनुसार खाना चाहिए। मेरा मतलब है, जब मैं ऐसा कहती हूँ तो कई लोग सहज योग नहीं करते हैं, जरा सोचिए। इस वजह से वे अपने आत्म साक्षात्कार को प्राप्त नहीं करते है। मेरा मतलब है, आप शाकाहारी कैसे बने? क्योंकि तुम्हारी माँ शाकाहारी थी, और क्या? आपने शाकाहार कहाँ से सीखा? मान लीजिए आप मुसलमान होते तो किसी का सर भी खा लेते! तो सौभाग्य से आप एक हिंदू समुदाय में पैदा हुए हैं, लेकिन हम इससे बहुत आगे निकल जाते हैं। सुबह से शाम तक – मेरा मतलब है, यह कर्मकांड मद्रास में भी इतना है कि उन्होंने मुझसे कहा, “माँ, सहज योग कभी भी मद्रास में काम नहीं कर सकता।” मैंने कहा क्यों?” “क्योंकि लोग बिल्कुल भी सहज नहीं होते हैं। उन्हें सुबह चार बजे उठना ही चाहिए, स्नान करना ही चाहिए, मंदिर जाना ही होगा, वापस आना चाहिए। यदि एक दिन वे ऐसा नहीं करते हैं, तो पूरे दिन वे पागलों की तरह हैं, यह सोचते रहेंगे कि उन्होंने सबसे बड़ा पाप किया है – यह दिनचर्या अवश्य करनी चाहिए।”

सहज योग में कोई दिनचर्या नहीं है। यह एक जीवंत प्रक्रिया है। जीवंत प्रक्रिया में कोई दिनचर्या नहीं है। फूल जब चाहे, खिलेगा। तो इन संस्कारों से खुद को क्यों मारें? हिंदू धर्म में यही हमारी समस्या है, ईसाइयों के साथ भी यही है; मेरा मतलब है, हर कोई प्रतिस्पर्धा कर रहा है। परमात्मा ने इस दुनिया को हमारे आनंद के लिए बनाया है। मैं तुमसे कहती हूं, अगर तुम इसे छोड़ देते हो तो तुम बहुत अधिक आराम में हो जाओगे। रहने भी दो! ज्यादा से ज्यादा सुबह पांच मिनट सहज योग ध्यान और शाम को दस मिनट सोने से पहले – समाप्त। उसके लिए हमारे पास एक केंद्र है, आप जाकर उन्हें देखें – बस। बाकी ईश्वर आपके लिए करेंगे।

(अब यह भी एक अच्छा प्रश्न है) – साधना में अंतिम अनुभूति क्या है? शुरू में अपने सिर और हथेलियों में वायब्रेशन महसूस करने के बाद, उस दिशा में कैसे आगे बढ़ना चाहिए?

यह अच्छा है, इसका मतलब है कि आपने इसे महसूस किया है, श्रीमान सुब्रमण्यम, और मुझे यह जानकर खुशी हुई। लेकिन मैं कहूंगी कि आपको हमारे केंद्र में आना होगा और आगे बढ़ना होगा। लेकिन हम भविष्य की बात नहीं करते, हम वर्तमान की बात करते हैं। धीरे-धीरे आपको आश्चर्य होगा कि आप कैसे उत्थान कर रहे हैं, कैसे आप वास्तव में खुद में सारी शक्तियाँ प्राप्त कर रहे हैं। आपको खुद एहसास होगा, और आप हैरान रह जाएंगे। मेरा मतलब है, आपको आश्चर्य होगा, कुछ लोग जिनसे मैं एक साल बाद मिली हूं – मेरी याददाश्त बहुत अच्छी है, लेकिन मैं उन्हें पहचान नहीं पायी।

अब, यह सज्जन यहाँ है, और उन्हें कुछ व्यक्तिगत समस्या है, बेचारे। वह हठ योग की इस नवोली में गया, और वह पीड़ित है। यह हठ योग एक और अजीब चीज़ है। यदि आप पतंजलि को पढ़ें, तो आपको पता चल जाएगा कि यह अष्टांग योग है। इस अभ्यास में से थोड़ा,थोड़ा,- थोड़ा बहुत महत्वपूर्ण है। कोई भी आकर आपको हठ योग सिखा सकता है; जब तक वह एक साक्षात्कारी आत्मा नहीं है, उसे आपको कुछ भी सिखाने का कोई अधिकार नहीं है। आज जो मैंने कहा है वह है निर्विचार समाधि, निर्विकल्प – वहां सब लिखा है, और वे इस सर्वव्यापी शक्ति को ऋतंभरा प्रज्ञा कहते हैं। कोई तुम्हें कुछ सिखाता है – “ह.ठ” – समाप्त। लोग पागलों की तरह भाग रहे हैं, पागलों की तरह उछल रहे हैं। आप दाहिनी पक्षीय हो जाते हैं, तब आपको दिल का दौरा पड़ता है; अब इस सज्जन को एक समस्या है। लेकिन मैं आपको विश्वास दिलाता हूं, आप ठीक हो जाएंगे। आप सहज योग को अपनाएं, यह बहुत आसान है, यह आपको संतुलन देगा, आप ठीक हो जाएंगे।

फिर हठ योग, फिर गायत्री मंत्र जप रहे हैं: आप और अधिक दायें पक्षीय हो जाते हैं। जानें कि आपके लिए क्या आवश्यक है। जो व्यक्ति दायें बाजू तरफा है, उसके लिए भक्ति होनी चाहिए। जो बाएं पक्षीय हैं उनके लिए यह ठीक होना चाहिए। आपको खुद को बैलेंस देना होगा। और यह वास्तव में आपको ऐसा आनंद देगा। अन्यथा यदि कोई हठयोगी है, तो बेहतर होगा कि आप एक लठ्ठ हाथ में ले कर ही उनसे संपर्क करें; भगवान जाने कि वह आपको कब थप्पड़ मार बैठेगा – जैसे दुर्वासा (वह एक गुरु थे जो अपने गर्म स्वभाव के लिए बहुत कुख्यात थे)। यह बहुत खतरनाक लोग हैं। वे नहीं जानते कि प्रेम क्या है, वे नहीं जानते कि माता क्या है। प्यार की कोई बात नहीं है।

प्रश्न: क्या कुंडलिनी शक्ति की उपलब्धी करने के अभ्यास में प्रगति करने के लिए आत्म-जागरूकता एक पूर्व-शर्त है?

नहीं, बोध के बाद आप आत्म-जागरूक हो जाते हैं। कुछ भी नहीं चाहिए। अब उदाहरण के लिए, लोग कहते चले जाते हैं, “तुमने यह पाप किया है। ठीक है, मुझे इतना पैसा दे दो और तुम्हारे सारे पाप समाप्त हो जाएँगे।” मैं तुमसे कहती हूं, उसे पुलिस के हवाले कर दो। मेरे लिए कोई पापी नहीं है, नहीं। तुम मेरे बच्चे हो। कोई भी पापी नहीं है। तुमने कोई पाप नहीं किया, कुछ भी गलत नहीं, कुछ भी नहीं किया। तुम कुछ भूल रहे थे, तुम अंधेरे में चले गए; या अधिक से अधिक मैं ऐसा कह सकती हूं कि आप अज्ञानी थे। लेकिन मैं किसी भी इंसान को पापी कहना पसंद नहीं करती, सिवाय उनके जो कि राक्षस हैं। बेशक राक्षस हैं, तो वे पहले से ही ब्रांडेड हैं, आपको यह कहने की ज़रूरत नहीं है, वे पहले से ही मौजूद हैं।

तो आपको जो प्राप्त करना है वह आत्म-जागरूकता है। हम खुद से जागरूक नहीं हैं। ऐसा करके हम नहीं हो सकते। जब हम कहते हैं, “मुझे आत्म-जागरूक होना है। अब मुझे आत्म-जागरूक होना है, मुझे अंदर जाना है” – हम क्या उपयोग कर रहे हैं? अपना अहंकार। यह एक घटना है। जब आप उस अवस्था को प्राप्त करते हैं, वह अवस्था – मानव अवस्था नहीं, बल्कि एक योगी की अवस्था – वहाँ उस अवस्था में आपको आत्म-जागरूकता होती है, और आप स्वयं का सम्मान करते हैं। आपका अपना स्वाभिमान है। लेकिन आप दिखावा नहीं करते, आप सस्ते व्यक्ति नहीं बनते।

वे कहते हैं कि “माँ, मैंने हाल ही में सहज तरीके से ध्यान करना शुरू किया है, और मैं हर समय बिल्कुल ताज़ा और सुंदर महसूस करता हूँ। हालाँकि, माँ, बहुत विनम्रता से कहती है कि, यह ऊर्जा हमारी अपनी है, मैंने इस ऊर्जा को पहले कभी महसूस नहीं किया। माँ, कृपया हमें बताएं कि क्या हम ईश्वर या मुख्य स्रोत से फिर से जुड़े हुए हैं, और यही कारण है कि हम हर समय ऊर्जा से भरे हुए महसूस करते हैं?”

बेशक, आप महसूस कर रहे हैं क्योंकि आप फिर से जुड़े हुए हैं, इसमें कोई संदेह नहीं है। लेकिन आपको कोई ऊर्जा महसूस नहीं होती है क्योंकि आपको एक बहुत अच्छा इंसान होना चाहिए। जब कोई रुकावट आती है, तब ही आपको थोड़ी परेशानी महसूस होती है। एकदम सहजता से विमान के भूमि पर उतर जाने की तरह, आप इसे महसूस नहीं करते हैं; यदि आप सहज योग में आसानी से उतर जाते हैं, तो इसका मतलब है कि आप बहुत अच्छे इंसान हैं, बहुत अच्छे इंसान हैं, नेक इंसान हैं। आप आसानी से उतरते हैं, कोई रुकावट नहीं है, कुछ भी नहीं है। तुममें कोई असंतुलन नहीं है, तुम मध्य में हो, कोई बात नहीं। लेकिन अगर आपको परेशानी होती है, तो कुंडलिनी थोड़ी उपर जाती है, नीचे आती है। और इसलिए आप इसे महसूस नहीं करते हैं। जिन्हें परेशानी होती है उन्हें कभी-कभी इधर-उधर थोड़ा दर्द होता है। लेकिन अगर कुंडलिनी आसानी से बस उठ जाती है, तो जान लें कि आप धर्मी हैं, आप अच्छे हैं।

क्या ऐसे प्रश्न जिनका उत्तर स्पष्टीकरण योग्य ना हो उनका स्पष्टीकरण  शब्द “ईश्वर” के रूप में दिया गया है?

नहीं नहीं नहीं। सहज योग में सब कुछ समझाया गया है और इसे प्रमाण सिद्ध किया जा सकता है।

क्या किसी ने अपने परम नियंत्रण, स्वामी, स्वामी, निर्णयकर्ता को देखा, सुना, अनुभूति किया या महसूस किया है?

बेशक! उनमें से बहुत से, क्या आप नहीं जानते? कई हैं।

क्या अंतिम सत्ता हर आदमी के बाहर रहती है, या वह सबके अंदर रहती है?

वह सभी में परिलक्षित होता है, लेकिन प्रतिबिंब वस्तु नहीं हो सकता। लेकिन प्रतिबिंब वस्तु के बराबर हो सकता है यह परावर्तक पर निर्भर होता है|

यदि किसी ने परम सत्य को जान लिया है, तो उसकी मृत्यु क्यों हुई?

ये बड़ी-बड़ी बातें हैं जो उसने पूछी हैं। आप देखिए, मुझे लगता है कि जो सज्जन मुझसे यह सवाल पूछ रहे हैं, मैं सबसे पहले उनसे अपना आत्मसाक्षात्कार प्राप्त करने के लिए कहूंगी। वह काफी भ्रमित सज्जन हैं। आप देखते हैं, अभी-अभी – “ईश्वर क्या है? मृत्यु क्या है?” तुम क्या हो पहले यह पता करो। यह सवाल कौन पूछ रहा है? …. वह एक केंद्र से पूछ रहा है? हे भगवान ! यह दिलचस्प है, एह, कि वह एक चक्र से ये सभी प्रश्न पूछ रहा है। इसका मतलब है कि वह बहुत ज्यादा सोच रहा है, सोच रहा है, सोच रहा है।

क्या यह कहना गलत है कि भगवान अच्छे हैं?

मुझे लगता है कि उसने बहुत अधिक पढ़ लिया है, यही समस्या है। पहले तुम वास्तविकता को जानो, मेरे बच्चे, तब ये सब प्रश्न मिट जायेंगे-निर्विकल्प। ….

अब वह आदर्श अच्छे और वह सब के बारे में बात कर रहा है।

ये सच है कि इंसान सिर्फ एक बार जीता है…

यह गलत है। किसने कहा तुमसे ये? वह ऐसा नहीं करता है। लेकिन अगर आप ऐसा विश्वास करते हैं तो मैं इसमें मदद नहीं कर सकती, लेकिन ऐसा नहीं है। और यह कि अच्छा होना और धार्मिक होना आपकी खोज का अंत नहीं है। धर्म संतुलन है, जो आपको संतुलन देता है। लेकिन संतुलन किस लिए, धर्म किस लिए? हमें यह सवाल पूछना चाहिए। हमें धार्मिक क्यों होना चाहिए; अधार्मिक क्यों नहीं? ऐसा सवाल क्यों नहीं पूछते? यह तार्किक है। यह सब धर्म, धर्म, धर्म क्यों करते हैं?

क्योंकि आपको उत्थान करना है। जैसे, अगर एक हवाई जहाज संतुलित नहीं है, यह कैसे उड़ेगा? लेकिन मान लीजिए कि यह बस संतुलित है और कभी नहीं उड़ता, तो हवाई जहाज बनाने से क्या फायदा?

तो धर्मातित बनना है। आपको धर्म से परे जाना है, आपको गुणों से परे जाना है – यह गुणतीत है – आप पार हो जाते हैं, तब धर्म आपका अभिन्न अंग बन जाता है। आपको अपने आप से यह कहने की ज़रूरत नहीं होती है, “ऐसा मत करो, वैसा मत करो…” नहीं, आप बस यह नहीं करते, कुछ भी करने की कोशिश करो।

मैं आपको अपना उदाहरण बताती हूँ। आप जानते हैं कि मेरा दोहरा जीवन है। मेरे पति एक  – वह क्या है, आप उनके बारे में जानते होंगे – वह किसी चीज़ में एक बड़े, बड़े, बड़े पदाधिकारी है, और मैं अपने पूरे जीवन में उस बकवास के साथ रही हूं। जब वह इंग्लैंड गए तो उन्होंने उनसे पूछा, “आप हमारे साथ नृत्य क्यों नहीं करते?” उन्होने कहा, “चूंकि मेरी पत्नी नाचती नहीं है, मैं नाचना नहीं चाहता।” वह सब कुछ मुझ पर डाल देते है, यह बचने का एक बहुत अच्छा तरीका है!

तो उन्होंने कहा, “नहीं, नहीं, उसे लंदन ले आओ, वह ठीक हो जाएगी। यदि आप उसे लंदन ले आए तो वह नाचने लगेगी।” उन्होने कहा, “तुम उसे चाँद पर भी ले जाओ, वह नहीं नाचेगी!”

तो यह वही है। धर्म अंतर्जात होता है,  आप बस इसे कंडीशनिंग के कारण नहीं करे। अथवा यह बेहतर होगा कि – यह सहज हो। सहज, तुम – बस, तुम इसे करो मत। “नहीं, मैं यह नहीं करूँगा।” आप कभी भी गलत काम नहीं करेंगे, क्योंकि आप ऐसा करेंगे ही नहीं। तो इसे धर्म से परे जाना है, अर्थात धर्म उसी का अभिन्न अंग है। गुणातीत का मतलब है कि आप गुणों से परे हैं। आप न तो दाएं-बाएं पक्षीय हैं, न केंद्रित हैं, लेकिन आप परे हैं। बाएँ, दाएँ, मध्य क्या है, यह क्या है, ऐसे क्यों लटके रहें? – बेहतर हो ऊपर। आपके साथ ऐसा ही होता है।

इसलिए “केवल धार्मिक लोग हैं”: बहुत से धार्मिक लोग आए और चले गए, जनता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। जरूरत है तुम्हारी मुक्ति की, तुम्हारे उत्थान की; यही हमें हासिल करना है। “केवल अच्छा” – तथाकथित अच्छा; और ऐसा व्यक्ति भलाई को स्थापित नहीं कर सकते, मैं तुमसे कहती हूं। एक अच्छे इंसान का अनुसरण करना कोई पसंद नहीं करता।

जैसे पुणे में वे कह रहे थे, “सब लोग लेते हैं – वे पैसे खाते हैं, वे कभी खाना नहीं खाते।” मैंने कहा, “सच में?” तो मैंने अपने पति से कहा, “हर कोई पैसा खाता है” – वह लंदन में थे।

उन्होने कहा, “तुम उनसे कहो ‘मेरे पति ने कभी रिश्वत नहीं ली।'” तो मैंने उनसे कहा, “मेरे पति ने कभी रिश्वत नहीं ली।” उन्होंने कहा, “उन्होने क्यों नहीं ली? उसे न लेने के लिए किसने कहा?”

तो क्या होता है कि आम तौर पर लोग कभी भी अच्छे और धार्मिक व्यक्ति का अनुसरण नहीं करते हैं, कभी नहीं। लेकिन वे हमेशा एक ऐसे व्यक्ति का अनुसरण करेंगे जो इस तरह थोड़ा सा है। कारण यह है कि हम पशु अवस्था से आ रहे हैं – उसी अवस्था में वापस जाना आसान होगा। लेकिन एक बार जब आपको आत्मसाक्षात्कार हो जाता है, तो यह मुश्किल होता है; यानी एक बार फूल फल बन जाता है, तो वह फूल नहीं बन सकता – उतना ही सरल।

तो मैं कहती हूँ कि तुम यहाँ आए हो, ठीक है, बहुत मधुरता से, और फिर अपना आत्मसाक्षात्कार प्राप्त करो; फिर मैं तुमसे बात करूंगी। तो आप खुद कहेंगे- और अब देखिए ये लोग जो यहां गा रहे थे, उनमें से कुछ भयानक नशा करने वाले थे, भयानक! वे मुझे देख भी नहीं पाए। उन्होंने कहा, “हमने आप में से केवल रोशनी निकलती देखी है, आपको कभी नहीं देखा” जब वे आए – कोमा में। रात भर में, सब शराबीपन समाप्त -, रात भर में। मैंने उन्हें नहीं बताया। मैं कभी नहीं कहती, “पीना मत, मत…” मैं उस शब्द का कभी भी उपयोग नहीं करती। अपनी आत्मा के प्रकाश को अंदर आने दो, और तुम वहां होते हो। मुझे आपको कुछ भी बताने की जरूरत नहीं है, सभी बुरी आदतें आप अपने आप छोड़ देंगे। क्या आप इस बिंदु को समझे हैं? क्योंकि जब रोशनी आती है तो अंधेरे को भागना पड़ता है।

तो धार्मिकता पर्याप्त नहीं है। आपको इससे आगे जाना होगा।

किसी ने अपने दोस्त के बारे में लिखा है जिसे परेशानी है, जो गिर गया, उसका एक्सीडेंट हो गया। उसे जाकर सहज योगियों से उसकी मदद करने के लिए कहना चाहिए। आजकल मैं लोगों का इलाज नहीं करती, क्योंकि इसकी कोई आवश्यकता नहीं है; मैं अन्य सभी निरर्थक चीजें कर रहा हूं। आरोग्य आजकल सहज योगियों द्वारा किया जाता है। और भी बहुत सी चीजें हैं जिन्हें मुझे देखना है। इसलिए आप किसी को भी कॉल करें, वे बहुत मददगार होंगे और वे इसे करेंगे।

आह, यह एक अच्छा प्रश्न है – क्या इस सहज योग से दुःख दारिद्र्य का इलाज संभव है? क्या हम अपनी गरीबी से छुटकारा पा सकते हैं?

हम हर तरह से कर सकते हैं – अगर आप पहले उपवास बंद कर दें। आप उपवास करना चाहते हैं? “ठीक है,” भगवान कहते हैं, “ठीक है, करो। खाना 

 ही नहीं मिलेगा।” बस ख़त्म! आपकी मनोकामना पूर्ण होगी। सन्यासी जैसा बनना चाहते हो? फटे कपड़े पहनना चाहते हैं? ठीक है, गरीबी है। आप गरीबी चाहते हैं, आखिर आपने ही इसके लिए माँगा।

फिर, तुमने भोग चाहा? “हमें भुगतना होगा।” इतनी सारी निरर्थक बातें चल रही हैं कि “आपको भुगतना होगा।” फिर कैसे? “मैंने भुगता” – ठीक है, यदि आप वह चाहते हैं, तो आप इसका आनंद लें। आप समृद्धि मांगे, कुण्डलिनी जागरण के बाद मिलेगी। आप वहां केंद्र देखते हैं, जिसे नाभी चक्र कहा जाता है, और जो वहां बैठे हैं वह लक्ष्मी नारायण हैं। एक बार जब लक्ष्मी नारायण आपके भीतर जाग्रत हो जाते हैं, तो आप गरीब कैसे हो सकते हैं?

लेकिन पैसे की भी अपनी समस्याएं हैं। आपको धन मिलता है, जो संतोषजनक है। लेकिन गरीबी मत मांगो। अपनी छोड़ो, अब पश्चिमी देशों में गरीबी की बड़ी चाहत है। वे ऐसे पैंट पहनते हैं, उन्होंने कहा कि वे छेददार हैं, मतलब छेद हैं। फटी हुई पैंट वे पहनते हैं – इंग्लैंड में, कल्पना कीजिए, ऐसा ठंडा देश, छेददार पैंट पहने हुए, वैरिकाज़ नसों की समस्या ग्रस्त होना है। और वहां बहुत सारी निरर्थक पीड़ाएं चल रही हैं, कई। 

(इतना लंबा पत्र – छोटा लिखना चाहिए।) तो यह चल रहा है, और इसी तरह लोग इसकी चाहत करते हैं। तो अमेरिका में मंदी है, इंग्लैंड में मंदी है, स्पेन में मंदी, फ्रांस में रेंग कर आ रही है- यह है। यदि आप गरीबी रखना चाहते हैं, तो इसे पा लें।

तो लक्ष्मी चित्त इस तरफ आने वाली है, मुझे लगता है। हमारी सरकार में कुछ समझ आ रही है, और मुझे यकीन है कि यह काम करेगी – आशा है। लेकिन आप सहज योग को अपनाएं और आपको आश्चर्य होगा। उदाहरण के लिए, इंग्लैंड में हमारे पास इतनी बेरोजगारी है, लेकिन एक भी सहज योगी बेरोजगार नहीं है, एक नहीं। कम से कम इस समस्या के साथ कोई नहीं है|

माँ, सहज योग स्वास्थ्य और आनंद के लिए ही है, या कुछ और है?

सब कुछ – समग्रता। आप जो चाहते हैं? इसके लिए मांगो , इसके लिए इच्छा करो- सब कुछ।

वह कहता है कि यह उसे समझाया नहीं गया है। आप देखिए, अभी मैं आपको आत्मसाक्षात्कार दूंगी, आप देखिये कि चक्र कैसे खुलते हैं और वह सब। लेकिन बाद में अगर तुम सेंटर पर जाते हो तो तुम सब कुछ जान सकते हो, एक साल में तुम निपुण हो जाओगे। लेकिन खुद को कुछ समय दें, यही बात है। लोग इन दिनों बहुत व्यस्त हैं। आप कर क्या रहे हो? कुछ महिलाओं ने मुझसे कहा कि वे किट्टी पार्टियों में बहुत व्यस्त हैं! यहाँ बहुत कम महिलाएँ हैं, मद्रास; सभी स्त्रियाँ मन्दिर में बैठी होंगी, बाल कटवाती, सिर मुंडवाती होंगी। और बहुत शिक्षित महिलाएं भी ऐसा करती हैं। मेरा मतलब है, क्यों, हम आपका सिर क्यों मुंडवाएं? भगवान के बहुत सारे बाल हैं – आपको काटने की जरूरत नहीं है। यह सब बकवास! पुरुषों की तुलना में महिलाएं बहुत अधिक शक्तिशाली हो सकती हैं, लेकिन भारत की महिलाओं की यह बद्धता (कंडीशनिंग) – ईश्वर ही जाने।

ठीक है। तो अब हम … वे कह रहे हैं, “मैं चार साल से प्राणायाम का अभ्यास कर रहा हूं। मेरे पास टीचर नहीं है…खतरनाक…।”

बहुत खतरनाक। यदि आपके पास कोई शिक्षक नहीं है, आपके पास शिक्षक है या नहीं, प्राणायाम बहुत खतरनाक है। हाँ ! अगर आपको फेफड़ों की समस्या है, या फिर कोई खास वजह हो… आप देखिए, ये सभी व्यायाम, विशिष्ट कारणों से, विशिष्ट चक्रों के लिए दिए गए थे। अब, कुंडलिनी का उत्थान; मान लीजिए वह आपके पेट पर रुक जाती है, नाभी, और आप प्राणायाम कर रहे हैं, क्या फायदा? आपको पता होना चाहिए कि कुंडलिनी कहां है। उदाहरण के लिए, आज मैं कार से आ रही थी। अब उन्होंने मुझे एक बिंदु पर रोका, फिर दूसरे बिंदु पर। जब कार चलने लगी, तभी मुझे पता चला कि यह कहां रुकने वाली है। पहले से, मैं ऐसा कैसे कर सकती हूँ? उसी तरह जब कुंडलिनी उठती है – अपने दिमाग का प्रयोग करें! – फिर वह एक बिंदु पर रुक जाती है, तो आपको पता होना चाहिए कि आप इसे किस व्यायाम से ठीक कर सकते हैं। यह बहुत वैज्ञानिक है। हम भी इस्तेमाल करते हैं, लेकिन  सुबह से शाम तक दवा के डिब्बे से सभी दवाओं को लेना इस तरह से नहीं करते। और इसलिए वे कहते हैं कि उन्हें समस्याएं विकसित हो जाती हैं – उन्हें होती हैं। …. (आप को होंगी, बहुत जल्द।)

यह बहुत खतरनाक बात है। आप देखिए, वास्तव में हम केवल भौतिक प्राणी नहीं हैं। हम केवल प्राण पर ही नहीं जीते हैं – ठीक है ना? मैंने ऐसे लोगों को देखा है जो प्राणायाम साधना करते हैं, अगर वे शादीशुदा हैं – भगवान का शुक्र है कि आप शादीशुदा नहीं हैं – वे अपनी पत्नियों को तलाक दे देते हैं, क्योंकि कोई प्यार नहीं है। वे बहुत शुष्क लोग हैं, बहुत सूख चुके हैं; उनके जीवन में कोई कविता नहीं। ठीक है, बेहतर होगा कि आप कुछ अच्छी कविता पढ़ना शुरू करें!

अब, वह वहां कह रहा है – “क्या आप कृपया बता सकते हैं कि दाएं तरफ और बाएं तरफ वाले व्यक्तित्व क्या है?”

यह काफी लंबा विषय है, लेकिन अगर आप सहज योग में जाएंगे तो वे आपको बताएंगे। दाहिनी तरफ शारीरिक और मानसिक ऊर्जा है, जिसका उपयोग शारीरिक और, मानसिक कार्यों के लिए किया जाता है। बाएं तरफ  भावनाओं के लिए ऊर्जा है। अब उदाहरण के लिए, वह प्राणायाम कर रहा है। वह ऐसा कर रहा है, वह दाहिनी तरफा व्यक्तित्व हो जाएगा – बस अगर आप ऐसा करते हैं।

जब कुंडलिनी जागरण की प्रक्रिया चल रही होती है, तो क्या किसी को भय होता है?

नहीं तुम्हे नहीं। वह तुम्हारी माँ है। वही सभी समस्याओं को सहन करेगी। जब आप पैदा हुए थे, आपकी मां ने सभी समस्याओं, सभी प्रसव पीड़ाओं को झेला था। उसने आपको परेशान नहीं किया, है ना? उस बेचारी ने तुम्हारे लिए सब सहा है। और एक बार जब आप पैदा हो जाते हैं तो वह सब कुछ भूल जाती है, “यानी – अब मेरा बच्चा पैदा हो गया है, बस । जो कुछ भी होना था हो गया है,ख़त्म।” ऐसी ही कुंडलिनी है। आपको कोई डर क्यों होना चाहिए? यह तो लोग हैं जो आपको बता रहे हैं कि कुंडलिनी जागरण बहुत खतरनाक है और वह सब, क्योंकि वे इसके बारे में कुछ नहीं जानते हैं। वे नहीं चाहते कि आप अपना बोध प्राप्त करें।

वह जो कहता है वह सच है, कि – [प्रश्न: “कई अवतारों और संतों के बावजूद, अनादि काल से बुराई मौजूद है।”]

यह सही है; लेकिन एक हल है। तो क्यों न समाधान की चाहत की जाए, बुराई से बाहर निकलने के लिए? एक बार जब आप एक साक्षात्कारी आत्मा हो जाते हैं, तो बुराई भाग जाएगी – आप नहीं। सभी बुराईयों के भाग जाने, नष्ट होने, उजागर होने, समाप्त होने का समय आ गया है। यह आप ही कर सकते हैं।

हर चीज अपना समय लेती है, जैसे किसी पेड़ का बढ़ना। धीरे-धीरे, धीरे-धीरे इन सभी छह चक्रों को कार्यान्वित किया गया। अब सातवें चक्र का सवाल 

 है जो की सहस्रार है, जो अब सहज योग में काम करता है। तो तस्वीर पूरी होती है। बुराई सहज योगी को नष्ट नहीं कर सकती; वे इसे बहुत अच्छी तरह जानते हैं। दुष्ट भी जानते हैं कि वे नहीं कर सकते। यदि वे एक सहज योगी को देखते हैं, तो वे भाग जाते हैं। तो आप चिंता न करें।

मुझे लगता है कि मैंने आपके सभी सवालों का जवाब दे दिया है, उनमें से ज्यादातर; लेकिन एक बात है। मैं पिछले (कितने साल?) 1970 से …- तेईस साल, इक्कीस साल से सवालों के जवाब दे रही हूं। मैं अब काफी चतुर हो गयी हूं, मैं किसी भी प्रश्न का उत्तर दे सकती हूं, यह सच है। लेकिन यह आपके जागरण की कोई गारंटी नहीं है, मैं आपको बता दूं। यह एक मानसिक कला बाज़ी है। तो यद्यपि मैंने आपके प्रश्न का उत्तर दे दिया है, इसका मतलब यह नहीं है कि मैं आपकी कुंडलिनी चढ़ा दूंगी, या कुंडलिनी उठ जाएगी। यह बिल्कुल अलग मुद्दा है।

लेकिन मैं नहीं चाहती कि आपका यह मन अचानक बाहर निकल जाए और ऐसा कहे कि आपने यह सवाल नहीं पूछा, ताकि आप तनाव में आ जाएं। इसलिए मैं जवाब देती हूं। अन्यथा मेरे उत्तर देने या न देने से कोई फर्क नहीं पड़ता। यह कुछ बहुत अलग बात है, अलग क्षेत्र है।

तो अब, हम सभी अपनी प्राप्ति के लिए तैयार हैं। जिन्हें कल मिला था, उन्हें और भी ज्यादा मिलेगा। जैसा कि मैंने तुमसे कहा है, जो नहीं चाहते, मैं तुम पर जबरदस्ती नहीं कर सकती- दबाव नहीं दे सकती।

मुझे लगता है कि पश्चिम के सभी सहज योगियों को बाहर जाना होगा – इसका यह समय आ गया है, क्षमा करें। मुझे पता है कि आप ध्यान के लिए बैठना चाहते हैं, लेकिन आपको दूसरों की तुलना में बहुत अधिक मौके मिलेंगे; चूँकि समय हो गया है। आपको अपना सामान भी पैक करना होगा। ठीक है। उन्हें देखो, वे संस्कृत गा रहे हैं, और यह पूर्ण “ऐ गिरी नंदिनी” है, वे इतना अच्छा गाते हैं। जरा उनके बारे में सोचिए – क्या आप कल्पना कर सकते हैं, ये लोग, उन्होंने कैसे सीखा? ये जर्मन हैं, क्या आप सोच सकते हैं? वे खुद को जर्मन नहीं कहते, नहीं। वे इसे कैसे कर सकते थे? वे नहीं जानते थे, ये अंग्रेज हिन्दी का एक शब्द भी नहीं जानते थे। वे यहाँ तीन सौ वर्ष तक रहे, मैं नहीं जानती कि उन्होंने क्या किया। यहां तक ​​कि उन्हें दरवाजा बंद कर, कहने के लिए भी आपको कहना पड़ा, “There was a banker.” यह बहुत बुरा स्तर था…|…

उन्हें देखें! यह सब आत्मा है! वे आपके संगीत की सराहना कैसे करते हैं, और वे कैसे आपके कुचिपुड़ी नृत्य की सराहना करते हैं, यह आश्चर्यजनक है – आप जितना कर सकते हैं उससे कहीं अधिक। क्योंकि हमारा संगीत ॐ कार से आता है। यह सिद्ध हो जाएगा, प्रमाण। हमें गर्व होना चाहिए कि हम भारतीय हैं। हमारी संस्कृति पूरी दुनिया में सर्वोच्च संस्कृति है। हमें अपनी संस्कृति का सम्मान करना चाहिए और उसकी रक्षा करनी चाहिए। उनसे पूछें, वे आपको दिखाएंगे, वे आपको बताएंगे कि उन्होंने सहज योग में क्या पाया है।

[मोक्ष के बारे में प्रश्न।]

केवल यही मोक्ष है? बेशक! यही मोक्ष है। “मोक्ष” का अर्थ है जहां आप अपने शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक अस्तित्व के उपर उठ जाते हैं; अब आप इसमें लिप्त नहीं हैं। वही मोक्ष है। और इस निर्लिप्तता से आपके सभी शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक अस्तित्व सुलझ जाते हैं। तुम वह बन जाते हो, तुम तत्व बन जाते हो, तत्वमसी तुम तत्व बन जाते हो। “अहं ब्रह्मास्मि” – आप ब्रह्म बन जाते हैं। यह हर कहीं व्याप्त है – यह ब्रह्म है। लेकिन जब तुम बन जाते हो तब भी तुम विश्वास नहीं कर पाते, फिर मैं तुमसे कहती हूं। मेरा मतलब है, मुझे नहीं पता कि, होता क्या है, वे नहीं मानते कि वे हैं।

ठीक है, तो अब एक साधारण सी बात यह समझ लेना है कि यह एक जीवंत प्रक्रिया है। इसे जबरदस्ती नहीं किया जा सकता, यह अपने आप काम करती है। लेकिन आप सभी को अपना आत्म-साक्षात्कार प्राप्त करने का मौलिक अधिकार है, आप सभी – चाहे आप किसी भी जाति के हों, चाहे किसी भी धर्म के हों, आप किसी भी देश के हों – आप एक इंसान हैं, और आप सभी को यह अधिकार है।

मैं आपसे अनुरोध करती हूं कि आप अपने जूते उतारें और इस धरती माता पर अपने पैर रखें, क्योंकि वह हमारी समस्याओं को शोषित करती है। दोनों … कृपया अपने जूते, चप्पल बाहर निकालो, कृपया बाहर निकालो। (भाषा – वह मेरी भाषा नहीं समझता है, है ना?)…. धरती माता पर दोनों पैर एक दूसरे से दूर। अब, ध्यान के दौरान कृपया बाहर न जाएँ, बस….

आपको जाना होगा, मुझे लगता है। कृपया, मुझे लगता है कि आप बेहतर हो चले जाएँ। आप हवाई जहाज से जा रहे हैं? …. ठीक है। आप सहजयोगी हैं, आप कुछ भी कर सकते हैं। ट्रेन आपका इंतजार करेगी!

तो…। वे एक पल भी चूकना नहीं चाहते। वो हर पल की अहमियत समझते हैं, आप अंदाजा लगा सकते हैं.

आपके लिए जो आवश्यक है वो है खुद के प्रति ईमानदारी। अब आपको अपने दोनों पैरों को एक दूसरे से दूर रखना है, और अपने बारे में एक बहुत ही सुखद अहसास करना है – प्रसन्ना भावे, प्रसन्ना चित्त। अपने आप से, किसी से नाराज़ मत हो, बस प्रसन्न बनो। संस्कृत में कितना अच्छा शब्द है प्रसन्न। इस तरह दोनों पैरों को एक दूसरे से दूर रखें, और अपने बारे में एक बहुत अच्छा एहसास, बहुत ही सुखद एहसास हो।

पहले हम आपको बताएंगे कि किन चक्रों को स्पर्श करना है, और अपनी कुंडलिनी को स्वयं कैसे ऊपर उठाना है। लेकिन बाद में आपको चिंता करने की ज़रूरत नहीं होगी, बाद में यह बहुत आसान है। वह आपको दिखाएगा कि आप अपनी कुंडलिनी कैसे उठा सकते हैं।

तुम्हारे पास कुछ भी है…. (कृपया इसे ढीला करने का प्रयास करें।) कृपया बाएं हाथ को मेरी ओर इस तरह रखें…। ठीक है। इस तरह मेरी ओर बायाँ हाथ। वह है ऊर्जा को अवशोषित करने के लिए, या अपनी इच्छा की अभिव्यक्ति के लिए, क्योंकि बाईं ओर इच्छा की शक्ति है और दाईं ओर क्रिया की शक्ति है। तो अपना बायाँ हाथ मेरी ओर इस तरह रखो, तुम्हारी आत्म-साक्षात्कार की इच्छा की अभिव्यक्ति। अपने दाहिने हाथ को अपने दिल पर ले लो। जैसा कि मैंने आपको बताया, हृदय में सर्वशक्तिमान ईश्वर, आत्मा के रूप में परिलक्षित होता है। यदि आप आत्मा बन जाते हैं, तो आप स्वयं अपने गुरु बन जाते हैं। तो अब आप अपना दाहिना हाथ नीचे करें – हम केवल बाईं ओर काम कर रहे हैं – आपके पेट के बाईं ओर, ऊपरी भाग पर। इसे जोर से दबाएं। यह आपकी गुरुत्व का केंद्र है। (ठीक है? क्या आप मुझे अभी सुन सकते हैं?)

तो अब, यदि आप आत्मा हैं तो आप स्वयं अपने गुरु बन जाते हैं। तो आप अपने दाहिने हाथ को अपने पेट के ऊपरी हिस्से पर बाईं ओर रखें, और यह आपके गुरु तत्व का केंद्र है। (कौन शोर कर रहा है? वे मुझे सुन पा रहे हैं? नहीं? नहीं, यह बहुत जोर से है। क्या आप मुझे नहीं सुन पाते? ठीक है, धन्यवाद।)

अब, अपने हाथ को अपने पेट के निचले हिस्से में, बाईं ओर नीचे ले जाएं। यह शुद्ध ज्ञान का केंद्र है। यही आपकी नसों पर काम करता है, आपके मध्य तंत्रिका तंत्र पर, स्वाधिष्ठान के इस केंद्र से अभिव्यक्त होता है। फिर से आप अपने दाहिने हाथ को अपने पेट के ऊपरी हिस्से में, बायीं तरफ उठाएं। फिर हृदय पर हाथ उठा कर रखे। फिर अपना हाथ अपनी गर्दन और कंधे के कोने तक उठाएं, और अपने सिर को अपने दाहिनी ओर मोड़ें। जब आप दोषी महसूस करते हैं, तो आप का यही चक्र पकड़ता हैं, और आप स्पॉन्डिलाइटिस, या शायद एनजाइना जैसी भयानक बीमारियों को विकसित करते हैं।

तो अब कृपया अपना दाहिना हाथ अपने माथे पर रखें, और अपना सिर झुकाएं। यहां आपको सभी को माफ करना है, बिना यह सोचे कि आपको किसे माफ करना है। अपने दाहिने हाथ को अपने सिर के पीछे की तरफ ले जाएं; यह आज्ञा है, अग्र आज्ञा और पिछली आज्ञा – यदि आप जानते हैं, ऑप्टिक लोब। इसे दोनों तरफ से दबाएं। यह केंद्र सिर्फ इसलिए है क्योंकि तुम दोषी अनुभव करते हो; ईश्वरीय शक्ति से क्षमा मांगो, बस। अपना सिर पीछे धकेलें। अब, अपने हाथ को पूरी तरह से फैलाएं, और अपनी हथेली के केंद्र को फॉन्टानेल बोन एरिया, तालु के ऊपर रखें, जो आपके बचपन में एक नरम हड्डी थी। जहाँ तक हो सके अपना सिर नीचे झुकाएं। अब इसे जोर से दबाएं और अपनी उंगलियों को पीछे की तरफ खींचे, और इसे जोर से दबाएं और अपनी खोपड़ी की चमड़ी को धीरे-धीरे सात बार दक्षिणावर्त घुमाएं।

अब, हमें यह कैसे करना है। शुरुआत में तीन शर्तें हैं। पहला यह है कि आप सभी को पूर्ण विश्वास होना चाहिए कि आपको आत्म-साक्षात्कार प्राप्त होने वाला है, कि आप अपना आत्म-साक्षात्कार प्राप्त करने जा रहे हैं – (क्या आप मुझे अभी सुन सकते हैं?) – पूर्ण विश्वास।

दूसरा – (क्या आप इसे ठीक कर सकते हैं?) – दूसरी शर्त यह है कि आपको किसी भी चीज के लिए खुद को दोषी महसूस नहीं करना चाहिए। हम भारतीय पश्चिमी देशों के जितना दोषी महसूस नहीं करते हैं। दोषी महसूस न करना अच्छा विचार है। किसी व्यक्ति की ऐसी कोई बात मत सुनो जो आपको बताता है कि यह गलत है, आप ऐसे हैं, आप ऐसे हैं – ऐसा कुछ भी नहीं है। किसी को आपका आंकलन करने की पात्रता नहीं है। तो कृपया दोषी महसूस न करें, यह बहुत महत्वपूर्ण है।

और तीसरी शर्त यह है कि आपको सभी को माफ कर देना है। आप में से कई लोग कहेंगे कि यह मुश्किल है, जो गलत है। जैसा कि मैंने कल तुमसे कहा था, तुम क्षमा करो या न करो, तुम कुछ नहीं करते। तो माफ न करके हम ही गलत हाथों में खेलते हैं। तो बस, यह सोचे बिना कि आपको किसे क्षमा करना है या किसे याद रखना है, सामान्य रूप से कहने का प्रयास करें, “मैं सभी को क्षमा करता हूँ।” आप काफी हल्का महसूस करेंगे। बस तुम यही कहो। यह एक मिथक है, आप एक मिथक के साथ जी रहे हैं। (क्या आप मुझे अभी सुन सकते हैं? आप कर सकते हैं। क्या आप मुझे सुन सकते हैं, उस तरफ? पीछे की तरफ, क्या आप मुझे सुनते हैं?) तुम अपना चश्मा निकाल सकते हो, क्योंकि जब तक मैं तुम्हें न बताऊं तब तक तुम्हें अपनी आंखें नहीं खोलनी चाहिए। कृपया अपना चश्मा निकाल लें। अगर आपकी गर्दन पर या आपकी कमर पर कुछ कस गया है, तो कृपया…। अगर आपके पास कुछ है – (क्या बात है?) अगर आपके पास कुछ है – (मुझे बस उस पर जाना है, बस यही आ रहा है) – आपकी गर्दन पर या आपकी कमर पर कुछ भी, कुछ बहुत तंग, आप ढीला कर सकते हैं … अगर आपके पास कोई टाई या कुछ भी है, कृपया इसे हटा दें, यह बहुत अच्छा नहीं है। या किसी गुरु या किसी के द्वारा दी गई कोई माला, कृपया उसे हटा दें; क्योंकि तुम यहां किसी के गुलाम होने के लिए नहीं आए हो, बल्कि पूरी तरह आजाद होने के लिए आए हो।

तो अब हम अपनी आँखें बंद कर लेते हैं, हम सब। कृपया अपनी आंखें बंद करें। दोनों पैर अभी भी धरती माता पर रखो, यह मत भूलो कि, तुम्हें दोनों पैर रखने हैं, हाँ। अब अपनी आंखें पूरी तरह से बंद कर लें, उन्हें न खोलें। अब बायाँ हाथ मेरी तरफ अपनी गोद में और दाहिना हाथ हृदय पर, दाहिना हाथ हृदय पर रख। अब बायाँ हाथ मेरी ओर खुला, खोलो, मेरी ओर खुला रखो। आप इसे अपने में रख सकते हैं…. हां।

अब हृदय में आत्मा निवास करती है। मुझसे तीन बार एक प्रश्न पूछें, “माँ, क्या मैं आत्मा हूँ?” यह बहुत ही मौलिक प्रश्न है। बिना किसी हिचकिचाहट के अपने दिल में यह प्रश्न तीन बार पूछें, “माँ, क्या मैं आत्मा हूँ?” यह एक सच्चाई है: तुम आत्मा हो। आपके बारे में यही सच्चाई है। अब अपने दाहिने हाथ को अपने पेट के ऊपरी हिस्से में ले जाएं। प्रसन्न चित्त बनो….तुम्हें अत्यधिक गंभीर नहीं होना चाहिए। कुछ भी गंभीर नहीं है, आप देखिए। समझना चाहिए, आपको प्रसन्न चित्त होना चाहिए। अपना अतीत भुला दें। अब, यहाँ आपको एक और प्रश्न तीन बार पूछना है, “माँ, क्या मैं अपना गुरु हूँ?” यह प्रश्न तीन बार पूछें। “क्या मैं अपना गुरु हूँ?” यह केंद्र सद्गुरुओं ने बनाया है ताकि आप खुद को स्थापित कर सकें।

अब, अपने दाहिने हाथ को अपने पेट के निचले हिस्से में बाईं ओर नीचे ले जाएं। मैं तुम पर शुद्ध ज्ञान थोप नहीं सकती। बाकी सब अविद्या है; यह विद्या है। विद्या जहां यह विद्या है, वही ज्ञान है। तो आपको छह बार माँगना है, “माँ, कृपया मुझे शुद्ध ज्ञान दीजिए?” जब आप शुद्ध ज्ञान मांगते हैं, तो आपकी कुंडलिनी उठने लगती है। और अब हमें अपने ऊपर के केंद्रों को अपने आत्मविश्वास से पोषित करना है। तो अब अपने दाहिने हाथ को अपने पेट के ऊपरी हिस्से में बायीं तरफ उठाएं। और यहाँ पूरे विश्वास के साथ दस बार कहना है, “माँ, मैं अपना गुरु हूँ।” कृपया इसे पूरे विश्वास के साथ कहें। अपने आप पर शक मत करो; तुम अपने गुरु हो। कृपया अपना बायां हाथ मेरी ओर, मेरी ओर रखें। बहुत से लोगों का बायाँ हाथ मेरी ओर नहीं है।

मैं आपको पहले ही बता चुकी हूं कि आपके बारे में सच्चाई यह है कि आप यह शरीर नहीं हैं, यह मन, ये भावनाएं, ये बद्धता (कंडीशनिंग), यह अहंकार नहीं हैं; लेकिन तुम शुद्ध आत्मा हो। तो कृपया अब अपना दाहिना हाथ अपने दिल पर रखें, और यहां आपको पूरे विश्वास के साथ कहना है, “माँ, मैं पवित्र आत्मा हूँ। माँ, मैं शुद्ध आत्मा हूँ।” पूरे विश्वास के साथ कहो। अब तरीके से थोड़ा-सा उठा लो, तुम देखो, वह भी बहुत नीचा नहीं होना चाहिए, ठीक से उठा लो, मानो हृदय को ऊपर उठा रहे हो। इसे उठाए।

यह सर्वव्यापी शक्ति प्रेम की शक्ति है, ज्ञान का सागर है, आनंद और करुणा का सागर है। लेकिन सबसे बढ़कर यह क्षमा का सागर है, और जो कुछ भी आपको लगता है कि आपने गलत किया है, वह इस महान महासागर में आसानी से घुल सकता है। तो कृपया अपना दाहिना हाथ अपनी गर्दन और अपने कंधे के कोने में उठाएं, और इसे और पीछे धकेलें। यहाँ आपको सोलह बार कहना है, “माँ, मैं दोषी नहीं हूँ।” कृपया इसे सोलह बार कहें। “माँ, मैं निर्दोष हूँ। मैं बिल्कुल निर्दोष हूं।”

मैं तुम्हें पहले ही बता चुकी हूँ कि तुम क्षमा करो या न करो, तुम कुछ नहीं करते; यह एक मिथक है। लेकिन जब आप माफ नहीं करते हैं, तो आप गलत हाथों में खेलते हैं और खुद को प्रताड़ित करते हैं, जबकि जिसने आपको प्रताड़ित किया है वह काफी खुश है। इसलिए अब अपना दाहिना हाथ अपने कपाल पर रखें और अपना सिर झुकाए। अपना सिर पूरी तरह से नीचे कर लें, और यहां आपको अपने दिल से कहना है, कितनी बार नहीं। यदि आप ऐसा नहीं कहते हैं, तो मैं आपकी कुंडलिनी को इस संकुचित आज्ञा चक्र से पार नहीं करवा सकती। तो कृपया, आप सभी को यह कहना चाहिए, “माँ, मैं सामान्य रूप से सभी को क्षमा करता हूँ,” किसी के बारे में विशेष रूप से न सोचकर, कृपया।

अब अपने हाथ को अपने सिर के पीछे की तरफ ले जाएं। जहाँ तक हो सके अपने सिर को पीछे धकेलें। दोषी महसूस किए बिना, अपनी गलतियों को गिने बिना, केवल अपनी संतुष्टि के लिए आपको यह कहना है, “हे दिव्य शक्ति, कृपया मुझे क्षमा करें यदि मैंने कुछ गलत किया है। हे ब्रह्म चैतन्य, कृपया मुझे क्षमा करें यदि मैंने जाने या अनजाने में कुछ भी गलत किया है।” ऐसा आपको अपने दिल में कहना है, कितनी बार नहीं।

अब अपने दाहिने हाथ को फैलाएं। अपने दाहिने हाथ की हथेली के केंद्र को फॉन्टानेल हड्डी क्षेत्र के ऊपर रखें, जो आपके बचपन में एक नरम हड्डी थी। अपनी उंगलियों को जितना हो सके पीछे खींचें। जहाँ तक हो सके अपना सिर नीचे करें। यहाँ फिर से, मैं आप पर आत्म-साक्षात्कार को बाध्य नहीं कर सकती, इसलिए आपको इसके लिए माँगना होगा। अपनी खोपड़ी की चमड़ी को सात बार दक्षिणावर्त घुमाते हुए कहें, “माँ, कृपया मुझे मेरी आत्म-साक्षात्कार दें।” कृपया सात बार। हाथ को खोपड़ी जितना न हिलाएं। कृपया इसे जोर से दबाएं। अपनी उंगलियों को पीछे धकेलें। पहला यह कि जब तक आप अपनी उँगलियों को पीछे नहीं धकेलेंगे, तब तक कोई दबाव नहीं होगा।

अब कृपया अपना हाथ नीचे करें। दोनों हाथ मेरी ओर रखो। अब बिना विचार किये मुझे देखो। अब अपना दाहिना हाथ मेरी ओर रखो, और अपना सिर झुकाओ और खुद देखो। दूसरों को मत देखो, खुद को देखो। देखें कि क्या आपके फॉन्टानेल हड्डी क्षेत्र से ठंडी हवा आ रही है, देखें कि क्या आपके फॉन्टानेल हड्डी क्षेत्र से ठंडी हवा आ रही है। एक गर्म हवा भी हो सकती है; यदि आपने क्षमा नहीं किया है, विशेष रूप से, तो गर्म हवा हो सकती है। तो अब आप क्षमा करें।

अब अपना बायाँ हाथ मेरी ओर ऐसे ही रखो। फिर से अपना सिर नीचे करो। ऊपर नहीं, बल्कि उससे दूर; कुछ लोग इसे बहुत दूर भी प्राप्त करते हैं। यह देखने की कोशिश करें कि आपके सिर से ठंडी हवा आ रही है या गर्म हवा। फॉन्टनेल पर, बहुत पीछे या आगे नहीं, बल्कि फॉन्टानेल पर, तालू पर। ठीक है? फिर से अपना दाहिना हाथ मेरी ओर रखो। हा! अपना सिर झुकाओ, अपना सिर झुकाओ। इतना ही!

अब, मुझे आपको बताना है कि खुद की रक्षा के लिए खुद को कवच कैसे देना है, यह बहुत महत्वपूर्ण है; और अपनी कुंडलिनी कैसे उठाए, यह बहुत महत्वपूर्ण है, बहुत सरल है – वह भी आपको प्रदर्शित करेगा|  अपने बाएं हाथ को इस तरह अपने सामने रखें, और दाहिना हाथ आपको चलना है, बायां हाथ सीधा हो जाता है। तो आपको करना होगा – मैं आपको सबसे पहले इस तरह दिखाती हूँ। यह आपके सिर पर चढ़ जाती है, और यहाँ आप इसे एक गाँठ देते हैं। अब, हम फिर से शुरू करेंगे, ठीक से। हम इसे यहीं से शुरू करते हैं। अब अपने बाएं हाथ को ऊपर की ओर ले जाना शुरू करें। अपनी कुंडलिनी को स्थापित करने के लिए, अपना हाथ ऊपर करें और इसे एक गाँठ दें; फिर से, दूसरा। इसे दूसरी गाँठ दें। तीसरी गाँठ आपको तीन बार देनी है। अब इसे फिर से करें, कृपया: एक, यह दो है, और तीन। हो गया !

अब कवच। हर सुबह जब आप बाहर जाते हैं तो आपको अपनी सुरक्षा के लिए लेना होता है, और सोने से पहले आपको अपना ध्यान यहां लगाना चाहिए और सो जाना चाहिए। बाएँ हाथ को इस प्रकार मेरी ओर रखो। साढ़े तीन कुण्डलियाँ हैं… साढ़े तीन कुण्डलियाँ। तो कवच कैसे देते हैं? यह है, बायां हाथ मेरी तरफ, फोटो की तरफ, दाहिना हाथ इस तरह रखें- सबसे पहले मैं आपको दिखाती हूं। फिर इसे इस तरह ऊपर उठाएं, नीचे लाएं- यह आधा है। फिर आप इसे वापस लेते हैं – यह एक है। आप इसे फिर से लेते हैं, क्या आप इसे फिर से वापस लेते हैं – दो है। फिर से आप इसे ऐसे ही लेते हैं, फिर से आप इसे वापस लाते हैं – तीन है। और अब तुम उसे आधा ही वापस लेते हो, इसलिए साढ़े तीन बार। यह बंधन है, सुरक्षा का कवच है, कवच है। साथ ही आप बहुत सी चीजें सीखेंगे, अपने हाथ से इस शक्ति का उपयोग कैसे करें।

अब, जिन लोगों ने अपने हाथों में या आपके फॉन्टानेल हड्डी क्षेत्र से बाहर ठंडी या गर्म हवा महसूस की है, कृपया अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाएं। जिन लोगों ने महसूस किया है, कृपया अपने दोनों हाथ ऊपर उठाएं। उन्हें लीवर की थोड़ी समस्या है, लेकिन यह ठीक हो जाएगा, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

परमात्मा आपको आशिर्वादित करे, ईश्वर आपका भला करे।

तो मद्रास अब मद रास बन जाना चाहिए अर्थात सभी मद (घमंड) समाप्त हो गए और उस अवस्था को प्राप्त कर लिया।

परमात्मा आप सबको आशीर्वाद दें।

मैं तुमसे बार-बार कहती हूं, विनम्र बनो और सेंटर पर आओ। सेंटर में कुछ बहुत अच्छे सहज योगी हैं। बड़े प्यार से सब कुछ बता देंगे। लेकिन कृपया आओ, और खुद पर ध्यान दो, और सब कुछ जानो। अगले साल मैं फिर मद्रास आऊंगी।

परमात्मा आपको आशिर्वादित करे।