Shri Saraswati Puja कोलकाता (भारत)

Shri Saraswati Puja 3rd February 1992 Date : Place Kolkata Type Puja Speech Language Hindi Type: Puja Speech Language: Hindi आप लोगों के प्रेम की गहराई देख कर दिल जी भर आता है। इस कलियुग में माँ को पहचानना बहुत कठिन है। क्योंकि हम अपनी माँ को ही नहीं पहचानते, तो फिर हमें पहचानना तो और भी कठिन हो जाता है। लेकिन इस योग भूमि की गहराई आप लोगों में काम कर रही है।  इसलिए मैं देखती हूँ कि जो भी यहाँ से सहजयोगी आता है वो बड़ा गहरा बैठता है। बड़ी गहराई में उतरता है और बड़ा आश्चर्य होता है कि जहाँ मैंने बहुत कुछ दिन बिताये, बहुत कार्य किया, वहाँ लोग तो बहुत हैं, लेकिन इतनी गहराई नहीं है। और आपस का मेल भी इतना सुन्दर नहीं है, जैसे यहाँ पर है।   ये भी एक योग इस भूमि की मैं कहती हूँ बड़ी विशेशता है। कि आपसी मेल और आपसी प्यार, बिल्कुल निरवाज्य, निस्वार्थ इस तरह से देखा जाता है। ये सब देख कर के अब आप को पता नहीं मुझे इतना आनंद क्यों आता है। और अब चाहती हूँ कि आप लोगों का कार्य और बड़े, और जन-जन में ये जागृत हो। क्योंकि ये भूमि आप जानते हैं कि माँ को बहुत प्यारी है। आज आपने कहा था कि सरस्वती का पूजन होगा, ये बहुत नितांत आवशयक है। कि बंग देश में सरस्वती का पूजन हो क्योकि यहाँ देवी की कृपा रही। और देवी के प्यार की वजह से ही आप ये आज सश्य श्यामलाम भूमि Read More …