Shri Durga Mahakali Puja: France is going down and down

Paris (France)

Feedback
Share

                        श्री दुर्गा महाकाली पूजा

पेरिस(फ्रांस)                                                                                                                                  २५ जुलाई १९९२

आज हमने दुर्गा या काली की पूजा की व्यवस्था की है। वह देवी का सभी बुराई और नकारात्मकता का विनाश करने वाला रूप है। यह हमें फ्रांस में करना था, क्योंकि मैं बहुत दृढ़ता से महसूस करती हूं कि, दिन प्रतिदिन सामान्य तौर पर, फ्रांस नीचे और नीचे जा रहा है। जब आप लोग उत्थान पा रहे हैं, तो बाकी फ्रांस सबसे दयनीय स्थिति में है। सबसे पहले, जैसा कि आप समझते हैं, कैथोलिक चर्च है, जिसे – शायद आप जानते नहीं हैं, शायद हो सकता है – क्योंकि आप किसी अन्य भाषा को नहीं पढ़ते हैं, आप सिर्फ इस देश द्वारा अनिवार्य रूप से फ्रेंच पढ़ते हैं। इसलिए आपके पास कोई अंतर्राष्ट्रीय विचार या अंतर्राष्ट्रीय समाचार नहीं है कि इस कैथोलिक चर्च ने अतीत में इतने भयानक काम किए हैं, यह अविश्वसनीय है कि उनका भगवान से कोई लेना देना कुछ भी नहीं है। उन्होंने मन ही मन में कई कार्डिनल्स जलाए – उन्हें भुना।

इतना ही नहीं, जिन्होंने भी कभी उनके बारे में एक शब्द भी बोलने की कोशिश की उन्होंने इतने लोगों को मार डाला। वे मुस्लिम लोगों से भी बहुत बदतर थे। वे दक्षिण अमेरिका, अमेरिका जैसे अन्य देशों में गए – ये सभी स्थान वे सभी कैथोलिक हैं – यहाँ तक कि हमारा देश भी। और उन्होंने लाखों और करोड़ों लोगों को मार डाला। अब जैसा कि यह कृत युग शुरू हो गया है, जैसा कि मैंने कल कहा था कि कई चीजों में से एक है: आपने जो कुछ भी किया है, उसके लिए आपको बड़े पैमाने पर या व्यक्तिगत पैमाने पर भुगतना होगा। यदि ऐसा है, तो किसी भी व्यक्ति को जानना चाहिए कि फ्रांस को बहुत अधिक भुगतान करना है और कैथोलिक चर्च को अधिक भुगतान करना है। कैथोलिक चर्च ने अभी-अभी एक कहानी को अपने दिमाग से निकाल कर पेश किया है और मूल पाप का सिद्धांत शुरू किया है। यह इस तरह से हर अन्य अवतार, हर अन्य पैगंबर की निंदा करने के लिए है कि – वे सभी मूल पाप के साथ थे। और यहां तक कि उन्होंने कहा कि मैरी मूल पाप के साथ पैदा हुई थी, कई पोप इसकी चर्चा कर रहे थे। इससे पता चलता है कि कैथोलिक चर्च के इस पूरे छल कपट धर्म को लोगों को मजबूर करके, उन्हें प्रताड़ित करके, उनके सभी विचारों को अपने नियंत्रण में लेकर, उन्हें मूल पाप जैसे अजीब विचार देने के द्वारा खुद को स्थापित करना पड़ा। और एक बात यह है कि आपको अपने दोष स्वीकार करना चाहिए इस प्रकार से वे उन्हें लेफ्ट विशुद्धि की समस्या दे रहे हैं। उन्होंने महिलाओं के साथ निम्न व्यवहार किया और माँ मेरी को उन्होंने एक महिला कहा। और यह पॉल, जैसा कि मैंने आपको कल बताया था, एक तथ्य है। अब सहज योगियों के लिए यह समझना आवश्यक है कि यह कैथोलिक चर्च कितना खतरनाक है और इस तरह का नुकसान कर रहा है। जैसा कि इसके बारे में बहुत सारी किताबें हैं – चूँकि आप लोग पढ़ते नहीं हैं, क्योंकि यह फ्रेंच में नहीं है। अमेरिका से अंग्रेजी किताबें हैं – आपको अंग्रेजी सीखना चाहिए। यह बहुत महत्वपूर्ण है अब मुझे लगता है, कि सभी फ्रेंच को अंग्रेजी पता होनी चाहिए, उन्हें अंग्रेजी पढ़ना चाहिए। केवल फ्रेंच आपको अंतर्राष्ट्रीय व्यक्तित्व नहीं देगा जिसे आप प्राप्त करने वाले हैं। आपके पास कुछ छात्रवृत्ति थी, ज्यादा नहीं। असली छात्रवृत्ति इंग्लैंड से और अंग्रेजी भाषा में अमेरिका से भी आती है, और भारत से भी। एक सज्जन जो इन सभी चीजों का यूनेस्को में अनुवाद करने की कोशिश करते थे, उन्हें आपके मीडिया ने बाहर कर दिया। आपका मीडिया पूरा फायदा उठा रहा है कि आप किसी अन्य समाचार पत्र को नहीं पढ़ रहे हैं; वे जो चाहे कुछ भी कर रहे हैं। सभी प्रकार के घोटाले, सभी प्रकार के सनसनीखेज – जो कुछ भी वे लिखना चाहते हैं, वे स्वतंत्र प्रेस में लिखते हैं। एक तरफ मनुष्य के प्राकृतिक जीवन का दमन है, उन्हें फ्रायड के पास जाने दो। फ्रायड वह सबसे गंदा आदमी है जो भी आप सोच सकते हैं, जिसने अपने विचारों को आपके सिर में डाल दिया है। लेकिन जैसे कि आप पहले से ही ब्रेनवॉश हो चुके है तभी आपने स्वीकार किया है। आप फ्रायड को कैसे स्वीकार कर सकते थे? यदि फ्रायड भारत में आता, तो वहां लोगों ने उसे कुछ ही समय में  मार दिया होता! क्या होता है, ऐसे या वैसे  – मुझे नहीं पता कि क्या कारण है, मुझे नहीं पता कि इसे क्या कहा जाए, लेकिन समझ नहीं है। कोई परिपक्वता नहीं है, कोई विवेक नहीं है। अमेरिका के बारे में, मैं समझ सकती हूं क्योंकि यह केवल दो-तीन सौ साल पुराना है। लेकिन फ्रेंच के बारे में क्या? वे परिपक्व नहीं हो पाए हैं, बल्कि वे बेहद तुच्छ हो गए हैं। परिपक्वता समाप्त हो गई है। इसका एक कारण यह हो सकता है कि वे चाहते हैं कि आप हमेशा युवा रहें। भारत में, युवा लोगों को बेवकूफ़ कहा जाता है: आप इसे गधा पच्ची सी कहते हैं, मतलब 25 साल कि उम्र तक वे गधे ही रहते हैं। उन्हें कभी भी समझदार लोगों के रूप में मान्यता नहीं है। और धीरे-धीरे कैथोलिक चर्च से लेकर फ्रायड तक के इस आंदोलन से, ऐसा क्या हुआ कि आपको यह समझने के लिए अपना व्यक्तित्व नहीं मिला कि क्या सही है और क्या गलत। निश्चित रूप से मुझे कहना होगा कि सहज योगियों ने बहुत सारे पुण्य किए होंगे और इस देश में पैदा होने के लिए बहुत साहसी लोग होने चाहिए। अन्यथा मुझे नहीं पता कि आप यहां अपना जन्म कैसे ले सकते हैं। कानून इतना मज़ेदार है कि उन्होंने कहा कि यह मजिस्ट्रेट के मूड पर निर्भर करता है। (श्री माताजी हँसते हुए) आप देख रहे हैं कि मजिस्ट्रेट कानून को नहीं जानता है। आधुनिक समय में ऐसा मूर्ख देश मुझे कभी ज्ञात नहीं हुआ। दुनिया में कहीं भी ऐसे मूर्खतापूर्ण कानून नहीं है जैसे की यहां है। बेशक अमेरिका में, कोई न्याय नहीं है, वे वही करते हैं जो उन्हें पसंद है। लेकिन यहां तथाकथित आधुनिक लोग हैं। उनकी क्या स्थिति है, उन्हें न्याय से कोई मतलब नहीं है। यदि आप उनसे पूछें, “कानून क्या है?” वे परवाह नहीं करते यह मजिस्ट्रेट का मूड है। अब यह मानते हुए कि उसने पिछली रात में एक बड़ा मादक  पेय लिया है, दूसरे दिन वह हैंगओवर के साथ आता है, तो सब खत्म | और फिर वह केवल शराबीयों के प्रति बहुत अधिक पक्षपाती हो जाएगा।

इसलिए यहाँ ऐसा भयानक समाज बनता जा रहा है कि भारतीयों निस्संदेह भोचक्के हो जाएँगे,  लेकिन और कुछ नहीं वेश्यावृत्ति। देखने दिखाने के लिए। क्यों? हर महिला को इस तरह से कपड़े पहनना पड़ता है कि वह आकर्षक हो, किस लिए? क्या वह वेश्याएं है? सभी प्रकार की बाथरूम संस्कृतियों का विकास हुआ। उदाहरण के लिए फ्रांसीसी स्नान, आप जानते हैं कि इसका क्या अर्थ है, पूरी दुनिया में। यह आलस की बहुत गंदी आदत है, यह पीने के कारण आती है। यदि आप बहुत अधिक पीते हैं, तो अगली सुबह आप इतने सुस्त होते हैं कि आप बस एक फ्रांसीसी स्नान करते हैं और जाते हैं।

इसलिए, कृपया फ्रेंच सहज योगियों के रूप में याद रखने की कोशिश करें, कि आपका कार्य अन्य देशों के कार्य की तुलना में अधिक कठिन है, क्योंकि इसमें पूर्ण विवेक का अभाव है। जो न तो आप अपने संस्थानों में पाएंगे, न ही अपनी सरकार में, न ही किसी शिक्षा में। यह पूरी तरह से समझ की कमी है। और इन फ्रायड वादी लोगों के अनुसार ज्ञान रखने के कारण, आप अहंकारी हैं! उनके पास मिस्टर फ्रायड की कहानियों से ऐसे मज़ेदार विचार हैं जिन्हें कोई भी विवेकवान व्यक्ति स्वीकार नहीं करेगा। लेकिन लोगों ने अपने होश खो दिए हैं, और स्याही सोख कागज़ की तरह, जो भी भद्दी , विनाशकारी, भयानक, अमानवीय चीज़ है, उसे ग्रहण करने की कोशिश करते हैं। इसे ईसाई राष्ट्र माना जाता है।

कृपया, सभी सहज योगियों को समझना चाहिए: आपको पुस्तकों को थामना चाहिए और पता लगाना चाहिए कि हम हैं कहाँ? मैंने फ्रांस में बहुत मेहनत की, आप बहुत अच्छी तरह से जानते हैं। मैं सोचती थी, यह नरक का द्वार है। लेकिन यह उससे भी बदतर है, यह गंदगी का एक हिस्सा है और आप यहां पैदा हुए हैं और आप कमल की तरह हो गए हैं, इसलिए सुगंधित और सुंदर है। आपको इससे लड़ना होगा: मैं हमेशा आपके साथ हूँ, मेरी सभी शक्तियाँ आपके साथ हैं। लेकिन याद रखें कि आपको समाज से लड़ना है, आपको इतने लोगों को बचाना होगा, आपको उन्हें बचाना होगा। बच्चों को स्वतंत्रता दी जाती है, “आपको जो पसंद है वह करें।” उन्हें स्वतंत्रता की कोई समझ नहीं है! मान लीजिए कि एक हवाई जहाज़ है, जो ठीक से नहीं बनाया गया और उड़ान भरे तो उस हवाई जहाज़ का क्या होगा? अगर बच्चों को उनके कर्तव्य की सही भावना और खुद के बारे में सही समझ के बिना स्वतंत्रता दी जाती है, तो उनका क्या होगा? बच्चे माता-पिता से क्यों पैदा होते हैं? बिगड़ जाने के लिए? स्वतंत्र रहने के लिए या कुछ मार्गदर्शन पाने के लिए? आप अपने बच्चों का मार्गदर्शन नहीं कर सकते। वे इतने असभ्य हैं, इतने अहंकारी हैं। वे पूरी तरह बिगड़ गए हैं। आप जानते हैं कि एक महीने तक हमें इन पश्चिमी बच्चों के साथ संघर्ष करना पड़ा था और हम उस स्कूल को बंद करने के कगार पर आए थे क्योंकि वे वास्तव में हिंसक बच्चे थे, जैसे कि किसी जंगल से आ रहे हों। यहां तक कि जंगल के जानवरों में भी कुछ समझ है। इसलिए आपको अपने बच्चों के बारे में सोचना हैं। आपके बच्चों के साथ क्या होने वाला है? उनकी क्या स्थिति होने वाली है? यदि वे इस गंदगी में ऐसे ही तरीके से रहने वाले हैं, तो ये बच्चे बेकार हो जाएंगे, बस एक बेकार! उनके पास कोई शिक्षा, कोई चरित्र, कोई व्यक्तित्व नहीं होगा, वे एड्स या ड्रग्स या ऐसा कुछ पर जा कर रुकेंगे। मैं फ्रांस के बच्चों का कोई भविष्य नहीं देखती, कोई भविष्य नहीं। और आपको इसके लिए लड़ना होगा कि, “हम अपने बच्चों के लिए भविष्य चाहते हैं, हम उन्हें बर्बाद नहीं करना चाहते हैं।” और उससे लड़ने की आप में हिम्मत होनी चाहिए। साहस होना बहुत जरूरी है यदि आपके पास साहस नहीं है, तो आप इससे नहीं लड़ सकते। और आज की पूजा आपके दिलों में उस साहस को देने के लिए है। अपने चारों ओर देखें, क्या हो रहा है? आप सभी परमात्मा के राज्य में आनंद ले रहे हैं, (श्री माताजी मुस्कुराते हुए) आपने परमेश्वर के राज्य में प्रवेश किया है। लेकिन बाकी लोगों का क्या? अधिकतर लोग, कहां जा रहे हैं? इस ‘भयानक मूलाधार ‘ स्थान का भविष्य क्या होगा? अब फ्रायड को एक धोखेबाज़ व्यक्ति के रूप में समझा गया है, और अब इतने सालों के बाद किताबें हैं, जब की उसने पहले ही दुनिया भर के लोगों को बर्बाद कर दिया है। लेकिन सबसे बुरा उसने यहाँ बर्बाद कर दिया है। मुझे लगता है, यह विशेष रूप से  महिलाओं  की एक जिम्मेदारी है जो कि वे समाज के लिए जिम्मेदार हैं। फ्रांस का समाज कुत्तों के अंतर्गत (गैर जिम्मेदारों के पास)चला गया है और अब आप को इस तरह की अराजकता के खिलाफ बात करने के लिए अपने ऊपर जिम्मेदारी लेना है जो, आपके परिवारों के विनाश का काम कर रहा है। यदि महिलाएं निर्णय लेती हैं, तो मुझे यकीन है, वे बहुत आसानी से इसे पूरा कर सकती हैं। फ़िज़ूल स्वतंत्रता मांगने के बजाय, आप बेहतर इस देश  के उत्थान की मांग करें ।

मुझे पता है कि मैंने बहुत मेहनत की है और आप सब वहाँ हैं। मुझे यह देखकर बहुत खुशी हुई कि ईश्वरीय इच्छाओं को पूरा करने के लिए आप सभी हैं। क्योंकि अब आपको पता होना चाहिए, एक बहुत बड़े तरीके से लोगों का बड़े पैमाने पर विनाश हो जाएगा। बाहर से नहीं बल्कि भीतर से। अचानक आप सुनेंगे कि इस बीमारी के साथ लाखों लोग ग़ायब हो जाते हैं।

तुम भी अवश्य अपनी रक्षा करो, तुम सब: हमेशा अपने आप को एक बंधन दो; हमेशा स्वच्छ जीवन जिएँ। सहज योग के कुछ स्वच्छता नियम हैं, कृपया उनका अनुसरण करने का प्रयास करें। इसकी उपेक्षा न करें। यदि किसी को एड्स हो जाता है, तो आप उसे सहज योग में नहीं रख सकते हैं, चाहे कुछ भी हो, जो भी कारण हो सकते हैं। आपको बहुत सावधान रहना होगा, मैं यह भी कहूंगी कि कभी भी एड्स रोगी का इलाज न करें। कल की तरह जो मेरे साथ बहस कर रहा था, वास्तव में क्योंकि उनके पास केवल दो प्रकार के लोग हैं: एक जो अभिमानी हैं और दूसरा वह जो हमेशा सोचते हैं कि यह बेहतर है कि उन्हें मर जाना चाहिए। उन्हें जीने की कोई इच्छा नहीं है। इसलिए केवल दो प्रकार के लोग हैं, या तो दाएँ-तरफ़ा या बाएं-तरफ़ा। और वे कभी उत्थान नहीं कर सकते। हमने कोशिश की है, हमने कोशिश की है, निश्चित रूप से एक, पहला एक पिछले सात वर्षों से जी रहा है, लेकिन फिर भी। उसे खुद पर कोई भरोसा नहीं है। हो सकता है कि अगली पीढ़ी बेहतर हो, अगर वे वापस आते हैं। लेकिन जहां तक इस पीढ़ी का सवाल है, आपको पता होना चाहिए कि आपकी जिम्मेदारी बहुत अधिक है । सभी सहज योगियों को यह संकल्प लेना चाहिए कि वे इस समाज से लड़ेंगे और अपने देश और अपने देशवासियों को एक पूर्ण आपदा से बचाने का प्रयास करेंगे। कोई युद्ध नहीं होने जा रहा है, केवल वे खुद लड़ेंगे और मरेंगे। यह बहुत गंभीर मामला है। उसके लिए, हमने आज दुर्गा की इस पूजा को करने का फैसला किया है कि सभी नकारात्मकता को नष्ट कर दिया जाना चाहिए। इतने सारे देव काली के शरीर का निर्माण करते हैं। उसके शरीर का प्रत्येक भाग  किसी एक देवता द्वारा बनाया गया था, और किसी एक देवता द्वारा देखभाल किया गया था, और यह भी, बाद में, आप सभी में परिलक्षित होता है। तो इसलिए कहा जाता हैं कि, ईश्वर ने मनुष्य को अपनी छवि में बनाया है, मैं कहूंगी, मैंने आपको अपनी छवि में बनाया है, आपके रचना में सभी देवता हैं। वे सभी आपके साथ हैं, और उन्होंने आपको बनाया है – यदि आप इसे सूक्ष्म रूप से देखते हैं – यह देवता ही हैं जो आप में सभी सुंदरता को लाए हैं। उन्होंने यह सब सुंदर मंडली, सुंदर परिवर्तन किया है, और उन्होंने ऐसे देवदूतों को आप में से प्रकट  कर दिया है। वे हमेशा  कार्यान्वित हैं, लेकिन एक चीज जो आपको करनी है वह है इच्छा। आपको उत्थान की शुद्ध इच्छा थी, लेकिन किस लिए? आप प्रकाश चाहते हैं, लेकिन किस लिए? तुम गुरु बनना चाहते हो, किस लिए? लोगों को बचाने के लिए, उनके उद्धार के लिए। केवल आपके चैनलों के माध्यम से मैं सहज योग का काम कर सकती हूं। अगर मैं खुद से काम कर सकती, तो मैं करती। यह एक राक्षस को मारने का प्रश्न नहीं है। भगवान ही जानते हैं कि कितने हैं,  राक्षस ही राक्षस । और वे हर जगह हैं, तुम्हारे भीतर भी वे थे। अब वे बाहर चले गए हैं |

इसलिए आपको सहज योग के साथ पूर्ण न्याय करना है, यह बहुत महत्वपूर्ण है। मुझे पता था कि पूजा बहुत देर से होगी, क्योंकि काली की पूजा हमेशा रात में, बारह के बाद की जाती है। तो यह इस तरह से होना था। हालांकि कल रात मैं चार बजे सो सकी और मैं, आज रात, मुझे नहीं पता कि मैं क्या कर रही हूँ, – यह सब काम करता है। यह सब काम किया है लेकिन आपको विचार-विमर्श करना होगा और आपको सोचना होगा, “हम इसे बदलने के लिए क्या कर सकते हैं?” कुछ किताबें क्यों नहीं लिखें, कुछ अनुभव क्यों नहीं लिखे? उन्हें फ्रेंच में ही प्रकाशित करें। फ्रेंच लोगों को बताएं कि बाहर क्या हो रहा है। कुछ पुस्तकों का अनुवाद करें – कुछ अमेरिकी पुस्तकें, कुछ अंग्रेज़ी पुस्तकें। कम से कम वहां से उद्धरण दें। वे लोग कैसे अनजान हैं। पहले इस कैथोलिक चर्च को दूर जाना होगा| यह होगा ,कोई संदेह नहीं है, मैं इसके बारे में निश्चित हूं। वे सचमुच हमसे भयभीत हैं।

और हमें अब वास्तव में उन्हें प्रदर्शित करना होगा कि हम क्या करने में सक्षम हैं। और सबसे मजेदार बात यह है कि एक राष्ट्रपति ने अपनी महिला-मित्र को प्रधानमंत्री के रूप में चुना है। मेरा मतलब है, किसी भी संवेदनशील देश में ऐसा संभव नहीं है। यह कभी नहीं सुना गया है मुझे कहना होगा, अंग्रेज हजार गुना बेहतर है। वे वास्तव में बहुत अच्छे हैं। कम से कम, जहां तक ​​प्रशासन का सवाल है, जहां तक ​​उनकी संसद का संबंध है, न्याय इस तरह बेवकूफ नहीं है, यह कानून पर आधारित है, मजिस्ट्रेट के मूड पर आधारित नहीं है। कैसे आप अभी भी ऐसी मूर्खता के साथ जारी हैं जो वास्तव में मध्यकालीन युग से भी पहले की हैं: आदिम, लोग ऐसे कानूनों को स्वीकार करने के मामले में पूरी तरह से आदिम हैं। कम से कम आप फ्रेंच के अजीब कानूनों, इस एक शीर्षक से एक किताब लिख सकते हैं। इसने कैसे नुकसान पहुंचाया है। एक बहुत अच्छी किताब है “फ्रॉडुलेंट फ्रायड”। कृपया इसे पढ़ें, और देखें कि फ्रायड ने फ्रेंच लोगों को कैसे बर्बाद किया है, उनके दिमाग को कैसे घुमाया जाता है, उनके विचारों को कैसे मोड़ा गया है। आप बुद्धिमान, चतुर लोग भी हैं। फिर अगर तलवार के साथ नहीं, तो काली को कलम के माध्यम से काम करना होगा।

मुझे कभी नहीं पता था कि यह उतनी बुरी स्थिति में था, हालांकि मुझे पता था कि ऐसा यह था। इसलिए यह हम सभी के लिए एक चुनौती है, और मुझे देखने दो कि आप क्या लिख ​​सकते हैं, आप सभी – अपना अनुभव एक साथ रखें: फ्रांसीसी माता-पिता कैसे व्यवहार करते हैं, दादा दादी कैसे व्यवहार करते हैं, इस देश में क्या हो रहा है और यह सब।

वे मूर्खों के स्वर्ग में रह रहे हैं। वे नहीं जानते कि किस प्रकार विनाश उनके सिर पर मंडरा रहा है।

यद्यपि आप सभी बचा लिए गए हैं, लेकिन आपको दूसरों के बारे में सोचना होगा, यही सहज योग है, यही नहीं कि हम भक्तों की देखभाल करते हैं – जैसे कि काली सिर्फ भक्तों, साधकों की रक्षा करना चाहती थी। लेकिन आपको कई, कई और लोगों की रक्षा करनी होगी। आपके पास सभी शक्तियां हैं, बस उन्हें धारण करें और उनका उपयोग करें। तुम कर सकते हो। आपका मीडिया सबसे खराब है और हम एक अखबार शुरू कर सकते हैं जिसे मीडिया विरोधी ऐसा नाम भी दे सकते हैं। वे हमारा क्या कर सकते हैं? या कोई अन्य स्वतंत्र नाम, हम इसे दे सकते हैं। और यह उन लोगों के लिए खुला होना चाहिए जो मीडिया द्वारा सनसनी फैलाने से पीड़ित हैं। वे लिख सकते हैं कि: कैसे मीडिया उन्हें नुकसान पहुंचा रहा है, कैसे वे झूठी रिपोर्ट और चीजें दे रहे हैं। हम कर सकते हैं! क्यों नहीं? मुझे यकीन है कि यह काम करेगा। यह सोचें कि आप अपनी कलम से क्या कर सकते हैं। आपने जो कुछ भी प्राप्त किया है, जो भी आप आनंद ले रहे हैं: सुंदर संगीत, सभी पूजाएँ, सब कुछ। लेकिन दूसरों के बारे में सोचो। वे पहले से ही नशे में हैं और अपने तकिए पर अपना सिर पटक रहे हैं। उनके बारे में सोचो। वे, वे इस आनंद को कब महसूस करेंगे? मुझे बस उन पर दया आती है कि उन्हें कैथोलिक चर्च के दमन के कारण इन सभी बुरे कामों को करना पड़ा था। यह कैथोलिक चर्च है जिसने उन्हें दबा दिया है, इसलिए वे इस पर आए हैं। कोई अन्य तरीका  – कारण नहीं है कि,  उन्हें इस तरह की बात को स्वीकार करना पड़ा।

सहज योग में, हम इन सभी चीजों को नहीं करते हैं, हम मध्य में हैं। हमारे पास इस तरह की समस्याएं नहीं हैं, क्योंकि हम किसी को दबाते नहीं हैं, न ही हम लिप्तता की किसी अति में जाते हैं। मुझे लगता है कि पूरे यूरोप को दो प्रकार के लोगों में विभाजित किया जा सकता है: एक हैं एंग्लो-सैक्सन, और अन्य हैं लैटिन। एंग्लो-सेक्सन दाएं तरफा हैं और लेटिन बाएं तरफा हैं: वे रोते हैं, बिलखते हैं, दुखी होते हैं, वे गर्द और गंदगी में लिप्त हो जाते हैं। बस ये दो तरह के वे हैं। अब दुर्भाग्य से आप लैटिन पक्ष में हैं। तो यहाँ, कैथोलिक चर्च समृद्ध हो रहा है। अब, यदि आप लैटिन पक्ष को देखते हैं और समझते हैं कि वे किस हद तक बाईं ओर चले गए हैं, और बाईं ओर जाने से आपको क्या बीमारियां मिलती हैं, बहुत अच्छी तरह से, उनकी एक सूची बनाएं। तो मैंने जो कहा वह फ्रांस में काम करेगा: बायीं बाजू के असाध्य रोग। सामान्यत: आप सड़क पर चलते हैं, आपको कम से कम तीन, चार पागल लोग, चलने वाले भद्दे लोग, आपको मिल जाएंगे। बहुत सरल है। सड़क पर, पागल-खाने नहीं जाना पड़ेगा! वे सभी बातें और बातें कर रहे होंगे, लेकिन यह सब वहाँ है। इसलिए वे पीते हैं, इसलिए वे दुखी हैं। मुझे नहीं पता कि बीमारियों के आंकड़े क्या हैं।

तो समस्या अत्यंत गंभीर है, बहुत गंभीर है। और आपको इसे अपने गुरुपद के गुरुत्व के साथ कार्यान्वित करना होगा, जिस के लिए आपने मुझ से प्रार्थना की थी – आपने एक गुरु का दर्जा मांगा, महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों के लिए भी। और मैंने कहा, “ठीक है, शुरू करो!”

मुझे उम्मीद है कि आप सभी ने मुझसे प्रार्थना करने का गीत सुना होगा।

[श्री माताजी मराठी में बात करते हैं]

ठीक एक बार वे उस गीत को गाएंगे।

[श्री माताजी मराठी में बात करते हैं]

वे आपको वह गीत सुनाएंगे। माता से अलग-अलग प्रार्थना हैं, और इसमें अंतिम यह है कि: “माँ, अब आप हमें गुरुपद, गुरु का दर्जा दीजिये।” लेकिन हर गुरु का एक कर्तव्य है: उस समाज को शुद्ध करना जिसमें वह रहता है। यह उसका कर्तव्य है, उसे इससे लड़ना होगा। ईसा- मसीह ने इसे अकेले लड़ा, इतने सारे संतों ने इसे अकेले लड़ा, उनके साथ बहुत बुरा बर्ताव किया गया, जेल में डाल दिया गया, ज़हर दिया गया, चीजें दी गईं, लेकिन उन्होंने इसका मुकाबला किया। उसी तरह तुम सत्य पर खड़े हो, और तुम्हें उससे लड़ना होगा। क्योंकि आप संत हैं।

परमात्मा आपको आशिर्वादित करे!

[योगी गाते हैं: “विनती सुनिये आदिशक्ति मेरी”। श्री माताजी मराठी में बोलते हैं]

वे इसे दो बार दोहराएंगे, ताकि, आप भी गा सकें|  मुझे नहीं लगता कि आप सभी ने इसे सुना है, क्योंकि जो लोग गुरु पूजा में आए थे , उनके पास होना चाहिए।

प. पु. श्री माताजी निर्मला देवी!