Shri Fatima Puja

Istanbul, Mövenpick Hotel Istanbul (Turkey)

1993-05-18 Fatima Puja Talk, Istanbul, Turkey, DP, 40' Download subtitles: CS,EN,FI,IT,LT,NL,PL,PT,TR,ZH-HANS,ZH-HANTView subtitles: Add subtitles:
Download video (standard quality): Download video (full quality): View and download on Vimeo: View on Youku: Transcribe/Translate oTranscribe


                                      श्री फातिमा पूजा

इस्तांबुल (तुर्की), 18 मई 1993।

00:03:00

(यह सब ठीक है। मुझे आशा है कि आप मुझे हर तरह से सुन सकते हैं, क्या आप थोड़ा आगे आ सकते हैं? शायद।)

00:04:10

आज बहुत खुशी की बात है कि हम सब तुर्की में, फातिमा की पूजा का जश्न मनाने के लिए यहाँ हैं। जैसा कि आप उसके बारे में जानते हैं कि वह मोहम्मद साहब की बेटी थी और अली से शादी की थी, और उसके दो बच्चे थे, हसन और हुसैन, जो अंततः कट्टरपंथियों द्वारा कर्बला में मारे गए थे, जो उस समय खुद को सुन्नी कहते थे। यह सब इसलिए हुआ क्योंकि वहाँ कट्टरता थी, और कट्टरता जो व्यक्ति को हमेशा विचार देती है कि वे ही सही राह पर हैं और उन्हें किसी दूसरे पक्ष को, किसी अन्य व्यक्ति पर गुस्सा करने ,दबाव डालने , मनाने का हर अधिकार है। और ये कट्टरताएँ लंबे समय से बढ़ी – यह कोई नई बात नहीं है। अब यह स्पष्ट है कि इस दुनिया में हमारी मुख्य समस्या कट्टरता की है।

फातिमा ने अपने दो बच्चों को खो दिया, और वह गृह लक्ष्मी का अवतार थी। वह हमारी लेफ्ट नाभी में रहती है। तो तिल्ली से जुड़ी सभी बीमारियों के लिए, आपकी बाईं नाभी से जुड़ी सभी समस्याओं को केवल फातिमा द्वारा ही ठीक किया जा सकता है। इसलिए आपको फातिमा को अपने भीतर जागृत रखना होगा। यह कि हम यहां इस्लामी संस्कृति में हैं, हम कह सकते हैं कि यह इस्लामी संस्कृति का स्थान है; और इस्लामी संस्कृति में एक गृहिणी को एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान दिया गया था। मोहम्मद साहब के समय में विभिन्न जनजातियों के बीच संघर्ष और लड़ाई और युद्ध चल रहे थे। परिणामस्वरूप, कई जवान मारे गए। केवल काफी बूढ़े लोग बचे, और भी बहुत सारी महिलाएँ। यही कारण है कि मोहम्मद ने कहा कि “आप चार पत्नियों, पांच पत्नियों से शादी कर सकते हैं; लेकिन आप उन्हें अविवाहित रहने की अनुमति नहीं दे सकते हैं अन्यथा उनके विवाहेतर संबंध होंगे। यह उस धर्म के लिए इस्लाम के लिए सबसे बड़ी गिरावट होगी। ” इसलिए उन्होंने समझा कि जब तक औरतों को पूरी तरह शुद्ध नहीं रखा जाता, पूरी तरह से पवित्र तब तक परमात्मा का राज्य नहीं हो सकता है । संस्कृत में एक कहावत है, “यत्र नार्या पूज्यन्ते, तत्र रमन्ते देवता”: जिसका अर्थ है “जहाँ नारियों का सम्मान किया जाता है, उनकी पूजा की जाती है और वे पूजनीय हैं” – ऐसा ही नहीं कि उनकी पूजा की जानी है, बल्कि वे सम्मानजनक भी हैं – “केवल वहीँ परमात्मा का साम्राज्य मौजूद है।”

तो, महिलाओं पर बहुत जिम्मेदारी है। इसलिए फातिमा के जीवन से हमें यह जानना होगा कि वह अपने घर से बाहर नहीं गई थी और वह एक गृहिणी बनी रही, और उसने अपने दो बच्चों को इस तरह बड़ा किया कि उन्हें कट्टरता के खिलाफ युद्ध लड़ना पड़ा। उसका पति भी वहीं था। इस तरह से एक गृहिणी की महिला को इतना शक्तिशाली दिखाया जाता है कि वह घर में रहती है, हालाँकि वह सिर्फ एक माँ ही दिखती है, लेकिन वह कितनी शक्तिशाली है!

लेकिन इन दिनों एक नए प्रकार के विचार सामने आए हैं। पुरुष भी महिलाओं के साथ बहुत बुरा और बहुत आक्रामक रहे हैं। परिणामस्वरूप हम पुरुषों के लिए एक बड़ा विरोध पाते हैं, और पुरुषों और महिलाओं के बीच एक बड़ी दरार पैदा हो गई है। इसके अलावा, पुरुष, जिस तरह से वे अनुदार, विकृत होने लगे, बुरी महिलाओं के पास जाने लगे, अच्छी महिलाओं ने भी सोचा, “हम भी क्यों नहीं उनके जैसे बनते?” और वे भी गलत काम करने लगी जो उन्हें नहीं करना चाहिए था। इस तरह पूरा समाज टूट गया। अब, पुरुष राजनीति और अर्थशास्त्र और राष्ट्र के लिए प्रशासक के रूप में जिम्मेदार हैं, लेकिन महिलाएं समाज के लिए जिम्मेदार हैं। चाहे वह घर में हो या बाहर, चाहे वह घर में काम कर रही हो या बाहर, वह समाज के रखरखाव के लिए जिम्मेदार है। और वहाँ कभी-कभी ऐसा लगता है कि वह एक महिला है जो की दबी हुई है, उसका पति उसे दबाता है, कि पति का परिवार उस पर हावी है, लेकिन यह महिला का एक ऐसा गुण है जो समाज के स्तर को ऊपर ले जाती है – न केवल स्तर, बल्कि उसके बाद परिवार में भी उसका सम्मान किया जाता है। यह एक गृहिणी के रूप में उसकी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है; शायद हमें कभी इसका एहसास न हो। 

अब हम यहां बहुत सारी लाइटें देखते हैं, वहां बिजली चल रही है। लेकिन इस बिजली का स्रोत क्या है? क्या यह इन रोशनी से ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं है? तो पुरुष अन्य कुछ भी नहीं हैं, वरन गतिज उर्जा ही है, हम कह सकते हैं,  लेकिन जो क्षमता है वह है घर की महिला। लेकिन इन दिनों यह एक बहुत ही विचित्र स्थिति है। मुझे आश्चर्य हुआ जब मैं इटली गयी थी कि, कैसे महिलाओं ने खुद को सस्ता बना लिया है। और वे हर आदमी को आकर्षक दिखना चाहती हैं। क्या ज़रुरत है? यह एक आनंद रहित भागदौड है, जिसमें पुरुष जा रहे हैं, और महिलाएं खुद को बिल्कुल सस्ता बना रही हैं। महिलाओं का यह सस्तापन उन्हें कोई ताकत या आनंद देने वाला नहीं है। मुझे पता है वह मर्दों के व्यवहार से बहुत दुखी महसूस करती है, लेकिन आपके पास अपना व्यक्तित्व होना चाहिए, आपकी अपनी समझ होनी चाहिए कि आप एक महिला हैं, आप शक्ति हैं, और कोई भी शक्ति को दबा नहीं सकता है। लेकिन अगर आप अपने व्यक्तित्व या अपनी शुद्धता पर कायम नहीं रहती हैं, तो आप जीवन में अपना लक्ष्य हासिल नहीं कर सकती। और जीवन में आपका लक्ष्य अपने बेटे को, आपके पति को, सभी समाज को, को शक्ति देना है। जो महिला शक्ति देती है| मैं भी एक महिला हूं, जैसा कि आप जानते हैं, और मेरा एक परिवार भी है। मेरे पास जितनी भी शक्तियाँ हैं, मैंने उन्हें कभी नहीं दिखाया कि मेरे पास वे शक्तियाँ हैं। मैंने हमेशा अपने पति की बात सुनी, उनकी बात मानी, हालांकि कभी-कभी वह बहुत अनुचित भी थे। और वह एक ऐसे समाज से भी आये है, जो अधिक इस्लामी-उन्मुख था। लेकिन यह मेरे लिए सिर्फ एक मजाक था, क्योंकि मुझे लगा, “वह एक बच्चे की तरह है और मुझे उनके साथ बहुत धैर्य रखना है।” वह हमेशा कहते है कि मेरी शक्तियों के कारण उन्होने जीवन में सब कुछ कमाया। हमेशा, हर किसी की उपस्थिति में वह ऐसा कहते है। मैं उस हिस्से को नहीं जानती, लेकिन निश्चित रूप से मैं अपने विवाहित जीवन से बहुत संतुष्ट महसूस करती हूं। मैं कभी नहीं सोचती कि जिस तरह से दूसरे लोग सोचते हैं कि हमें पति पर हावी होने की कोशिश करनी चाहिए, हमें उससे लड़ना चाहिए, हमें ऐसा करने का अधिकार होना चाहिए। हमारा अधिकार हमारे भीतर है, हमारी शक्तियों के भीतर है।

साथ ही पुरुषों को यह महसूस करना चाहिए कि उन्हें महिलाओं का सम्मान करना होगा। मेरा मतलब है, इस हद तक नहीं कि वह आपसे कुछ गलत करने के लिए कहे, और आप बस इसी में खो जाते हैं – ऐसा नहीं है। यह गुलामी  है। पुरुषों को पुरुष होना है। इसका कोई यह मतलब नहीं है कि पुरुषों को महिलाओं पर हावी हो जाना है – मैं इस तरह से व्यवहार नहीं करती हूं; क्योंकि अगर आपके पास अपनी शक्तियां हैं, तो आखिरकार पति को जो भी हो,  आना होगा और समझना होगा कि आप क्या हैं। उसे जानना होगा कि आप क्या हैं? मैंने अपने जीवनकाल में इसे कई बार देखा है कि इस तरह यह हुआ है। मैं कभी कुछ नहीं कहूंगी। यह मानकर कि वह गुस्सा करता है, मैं चुप रहूंगी। ठीक है। आखिरकार उन्हें बाहर भी लड़ना पड़ता है और उन्हें मुझ पर गुस्सा निकालना पड़ता है – कि वह ऐसा नहीं करेंगे : यदि वह दूसरों के साथ ऐसा करते है तो वे लोग उनको पीट भी सकते है, इसलिए यह बेहतर है कि वह मुझ पर अपना गुस्सा निकाल ले। और मैंने कभी भी ऐसा महसूस नहीं किया कि वह मेरे ऊपर हावी है। केवल एक चीज जो मैंने सोची थी की, वह अपना गुस्सा निकाल रहे है। लेकिन मैंने देखा है कि जब भी मैंने उनसे कुछ कहा, तो उन्होंने इसके बारे में सोचा। अपने जीवनकाल में मैंने ग्यारह निर्णय लिए; और इन सभी फैसलों को वह अब भी एक-एक करके याद करते है और जानते है कि यह बहुत, अत्यंत ही महत्वपूर्ण था। मैं और किसी भी चीज के लिए उन्हें क्या करना चाहिए नहीं कहती हूँ। जो सबसे महत्वपूर्ण था वह है सिद्धांत। अब, उन्होंने यह भी महसूस किया कि मेरे पास एक बहुत महत्वपूर्ण मिशन है। इसलिए उन्होंने मुझे पैसे दिए, मुझे समय दिया, मुझे सारी आजादी दी। लेकिन पहले मुझे खुद को बहुत समझदार, समर्पित पत्नी के रूप में स्थापित करना पड़ा।

पुरुष पूरी तरह बहुत अलग प्रकार के होते हैं, आपको समझना चाहिए। वे बहिर्मुखी हैं, और जिन बातों की महिलाऐं बहुत परवाह करती है, वे नहीं कर सकते। यह ठीक ही है; क्योंकि महिला और पुरुष एक दुसरे के पूरक हैं। जैसे अली घर से बाहर सब कुछ काम कर रहे थे, जबकि घर, घर में फातिमा बी, जो कभी बाहर नहीं गई, लेकिन वह अपनी ऊर्जा के स्रोत को जानते थे कि यह कहां से आ रही है। क्योंकि महिलाओं को कभी भी शक्ति के रूप में सम्मान नहीं दिया गया, वे इस पश्चिमी आधुनिक विचारों में बहकने लगीं कि “हमें पुरुषों से लड़ना होगा, वे समस्याजनक हैं, वे हमें परेशान कर रहे हैं और हमें बदला लेना चाहिए।”  समाज इस तरह काम नहीं कर सकता है। महिलाओं की जिम्मेदारी पुरुषों की तुलना में बहुत अधिक है। पुरुषों को बस दफ्तरों में जाना पड़ता है, कुछ काम करना पड़ता है, वापस आते हैं। महिलाओं को आजीवन बच्चों की वृद्धि, पति की सुरक्षा, अन्य सभी संवेदनशील कार्य जो उन्हें करना होते हैं उसके लिए ऊर्जा उत्पन्न करनी होती है। यही कारण है कि भारत में हम कहते हैं, “एक महिला का पूरा सम्मान किया जाना चाहिए, और स्वयं उसे सम्मान के लायक भी बनना चाहिए।” इसके अलावा यह केवल भारत में ही नहीं है, मैंने यह सभी जगह देखा है कि महिलाएं यदि वे गृहिणी हों तो हमेशा सम्मानित होती हैं। उदाहरण के लिए, मैं अपने पति के साथ किसी फंक्शन में जाती हूं। मेरा उतना ही सम्मान है जितना उनका सम्मान है। उदाहरण के लिए, उनके डिप्टी का भी उतना सम्मान नहीं किया जाएगा जैसा कि मेरा सम्मान है, उनके सचिव का भी वैसा सम्मान नहीं किया जाएगा – अन्य किसी का भी नहीं। मैं, उनकी पत्नी के रूप में, उसी तरह से सम्मानित हूं क्योंकि मैं उनकी पत्नी हूं। कोई भी मुझे नीचे नहीं देखता क्योंकि मैं किसी की पत्नी हूं। यह सब कुछ इस तरह है।

मैं आपको एक महिला का मामला बताऊंगी जिसे मैं जानती थी। वह सोचती थी कि वह एक बहुत ही स्मार्ट है, आप जानते हैं, हमेशा उसके शरीर की देखभाल करती थी और बस वह पतला होना और वह सब होता था, और वह सभी पुरुषों को आकर्षित करना और ऐसी सभी प्रकार की चीजे वह करती थी। वह जीन्स पहनती थी, आप जानते हैं, काफी बूढ़ी महिला। और उसका पति एक बड़ा आदमी था, वह एक मुख्य कैबिनेट सचिव था, जो हमसे बहुत वरिष्ठ था। तो एक दिन हम सभी को रात्रिभोज के लिए आमंत्रित किया गया। और वह वहां नहीं थी। कितने ही लोगों ने उनसे पूछा, इतने सारे लोग, “तुम्हारी पत्नी कहाँ है, तुम्हारी पत्नी कहाँ है?”उन्होंने कहा, “मुझे नहीं पता कि वह कहां है। वह यहां आने वाली थी। ”मैं भी यह सोच रही थी कि वह कहाँ है, वह कहाँ गई है, क्योंकि उसके लिए एक सीट थी, एक विशेष सीट थी। तो रात के खाने के लिए बैठने से पहले मैं बाथरूम में चली गयी। और वहां एक कोने में बेचारी बैठी थी। मैंने कहा, “आप यहाँ क्यों बैठी हैं?”तो उसने कहा, “उन्होंने मुझे यहाँ बैठा दिया। मुझे नहीं पता क्या करूँ ।”तो मैं उसे बाहर ले आयी।

 मैंने कहा, “तुमने उन्हें वहाँ क्यों बैठाया?” 

(और वह सोचती थी कि वह बहुत स्मार्ट है, उसने अपने बालों को अच्छी तरह से बनाया है, वह एक अभिनेत्री की तरह दिख रही है।”)

ओह, क्या वह पत्नी है?”

मैंने कहा हाँ।”

“हे भगवान! हमने सोचा कि वह सचिव है। वह कैसे हो सकता है? उसकी अपनी कोई गरिमा नहीं है,  उसने जिस तरह के बेवकूफ़ जैसे कपड़े पहने थे। हम कैसे विश्वास कर सकते हैं कि वह पत्नी है? इतने ऊँचे पदस्थ भारतीय सज्जन की पत्नी के रूप में उसकी कोई गरिमा नहीं है और बेचारी आधे घंटे तक वहीं बैठी रही, धूम्रपान कर रही थी। वे इस पर विश्वास नहीं कर सके थे। 

फिर उन्होंने मुझसे पूछा, “क्या आपको यकीन है कि वह उनकी पत्नी है?”

मैंने कहा, “हां, मुझे यकीन है।”

मेरा मतलब है, वह मेज पर आई तो, उनके लिए कोई उठा तक नहीं। और बाकी सभी लोगों ने अभी भी यह सोचा, वह जो आई है, सचिव हैं। तब हमें उन्हें बताना पड़ा की वह “उनकी पत्नी” थी। वह सोच रही थी कि वह एक स्मार्ट युवा महिला है, आप जानते हैं; उस बड़ी उम्र में मूर्खतापूर्ण व्यवहार करना।

तो यहाँ तक की पश्चिम में भी एक महिला का सम्मान किया जाता है यदि वह एक अच्छी गृहिणी है। कहीं भी, उसका सम्मान किया जाता है। मुझे एक और भी आश्चर्य हुआ कि, मैं किसी को बहुत उच्च पदस्थ, इंग्लैंड की कैबिनेट में एक मंत्री को जानती थी, और वह बहुत छिछोरा माना जाता था और कोई भी उसकी ओर ध्यान नहीं देता था। कोई नहीं । 

“उसे मत देखो!”

मुझे कांड वगैरह की समझ नहीं थी जो की सभी राजनयिक हलकों में होते थे, लेकिन मैंने कहा कि “आप इस आदमी से बात क्यों नहीं करते?”

“नहीं, इसके लायक नहीं है।”

मैंने बोला क्यू?

“उन्होंने कहा, “वह भयानक है। वह एक अच्छा इंसान नहीं है। ”

“हां लेकिन क्यों? उसने क्या कर लिया है?”

उन्होंने कहा, “वह एक इश्कबाज है, और वह अन्य महिलाओं को देख रहा है और वह हर तरह की चीजें कर रहा है,” और उन्होंने उसके बारे में कहानियां बताईं। 

हे भगवान! मंत्री जैसा बड़ा आदमी – वह ऐसा व्यवहार क्यों कर रहा है? वह एक बेवकूफ गधे की तरह जा रहा है … कोई भी उसके साथ हाथ नहीं मिलाएगा। यहां तक कि पुरुष भी उसकी ओर नहीं देखते थे।

अब, निश्चित रूप से,  इन सभी बेवकूफ लोगों का एक नया समाज गठन हो रहा है। यह अलग बात है। लेकिन एक सहज योगी इन जगहों पर जाने पर चकित होंगे कि ये लोग कितने मूर्ख हैं। वे इसे जान जाएँगे। ऐसे सभी अपनी बाईं नाभी पर पकड़ते हैं, चाहे वे महिलाएं हों या पुरुष। लेकिन पुरुषों के लिए यह ज्यादा खतरनाक है अगर उनकी पत्नी ऐसी हों। अब, यदि लेफ्ट नाभी पकड़ती है, तो? आपको कौन सी बीमारियाँ होती हैं? सबसे पहला और महत्वपूर्ण रक्त कैंसर है। बायीं नाभी से आपको ब्लड कैंसर हो सकता है। महिलाओं को लगता है कि वे अपने पति पर हावी हो सकती हैं, वे अपने पति के साथ ऐसा कर सकती हैं, वे उन्हें ठीक कर सकती हैं, लेकिन उन्हें पता नहीं है कि वे रक्त कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का कारण बन रही हैं। मैं किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में जानती हूं जो ब्लड कैंसर से पीड़ित था, लेकिन हमने उसे ठीक किया और तब हमें पता चला कि उसकी बाईं नाभी अभी भी खराब है। बार-बार वह बीमारी में पुनः पतन कर रहा था। तब हमें पता चला कि यह कारण उसकी पत्नी थी। वह उसके लिए इतनी खतरनाक महिला थी। और वह उसे नहीं छोड़ेगा, उसे नहीं छोड़ेगा। तो मैंने उससे कहा, “अगर तुम उस औरत के साथ रहोगे तो मैं तुम्हारा इलाज दोबारा नहीं करूँगी। बेहतर है उसे बाहर फेंक दो या तुम उसे कहीं और भेज दो, हाँ। लेकिन अगर आप इस महिला के साथ रहने वाले हैं, तो मैं आपका इलाज नहीं करने जा रही हूं।

उसने उसे भी बुलाया और मैंने उसे उसके मुंह पर बताया कि “आप बहुत ही दबंग, भयानक महिला हैं, और यदि आप अपने पति को प्रताड़ित करने की कोशिश करती हैं, तो उसे ठीक नहीं किया जा सकता है।”

लेकिन वह करती चली गई। और फिर, अंतिम परिणाम भयानक, भयानक, भयानक था। उसे इस तरह एक बड़ा प्लीहा हो गया, जिसे बाहर निकाल लेना पड़ा, और डॉक्टरों ने बताया कि “छह महीने के भीतर आप समाप्त हो जाएंगे।” इसलिए दोनों ही मामलों में, मैं कहूंगी कि पत्नी ने पति पर हावी होने की कोशिश की, और पति तब भी उस पत्नी से जुड़ा रहा। यह हालिया मामला है जो मैं आपको बता रही हूं।

अब, हम पति-पत्नी हैं क्योंकि हम एक दूसरे से प्यार करते हैं, हम एक दुसरे के पूरक हैं: महिला एक महिला है, पुरुष एक पुरुष है। पुरुषों को यह उम्मीद नहीं करनी चाहिए कि महिलाएं आपके जैसी ही होंगी-  बहुत तेज ; और महिलाओं को पुरुषों से अपने जैसा बहुत महान होने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। वे एक महिला के गुण और एक पुरुष के गुण हैं। लेकिन एक महिला की सबसे बड़ी शक्ति उसकी पवित्रता है। यदि उसकी शुद्धता गड़बड़ है, तो वह एक खतरनाक व्यक्तिव है, बहुत खतरनाक है। वह न केवल अपने पति, बल्कि अपने बच्चों, अपने समाज को भी नुकसान पहुंचा सकती है।

हम एक ऐसी संस्कृति से आते हैं जो इस्लामिक संस्कृति के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। भारतीय संस्कृति ऐसी ही है। भारतीय संस्कृति में महिलाएं इस दुनिया की किसी भी चीज से ज्यादा अपनी शुद्धता का सम्मान करती हैं। वे सब कुछ छोड़ सकते हैं, लेकिन उनकी शुद्धता नहीं। और एक बार …। पद्मिनी नामक एक बहुत ही खूबसूरत महिला के बारे में एक कहानी है, जो आपको बहुत दिलचस्प लगनी चाहिए। वह एक राजा की पत्नी थी। और एक भयानक मुस्लिम राजा था जो इस महिला को देखना चाहता था, क्योंकि उसने सुना कि वह बहुत सुंदर थी। देखिए, यह एक मज़ेदार बात थी। और वह आया, और वह उस राज्य में आया और उसने कहा, “मुझे इस महिला को देखना चाहिए, अन्यथा मैं पूरे राज्य को नष्ट कर दूंगा।”

अब लोगों ने कहा, “यह वह नहीं कर सकता, वह हमारी रानी है। वह ऐसा नहीं कर सकती, वह हमारी रानी को नहीं देख सकता है।

उसने बस सोचा, “ठीक है। उसे मुझे देखने की जरूरत नहीं है, लेकिन वह मेरा प्रतिबिंब देख सकता है। ”इसलिए वह एक दर्पण के सामने खड़ी थी और उसने रानी का प्रतिबिंब देखा। तब वह और भी पागल हो गया और उसने कहा, “मेरे पास यह औरत होनी चाहिए। यदि आप उसे मुझे नहीं देते हैं, तो मैं आप सभी को नष्ट कर दूंगा।

एक महिला के लिए यह सब बकवास करने वाले एक राजा की कल्पना करें – यह दिखाता है कि वह एक बेकार व्यक्ति था। इसलिए वह अपनी सारी सेना, सब कुछ लाया, और उस किले के पास बस गया जहाँ ये लोग थे, और एक संदेश भेजा कि “यदि तुम इस महिला को मेरे पास नहीं भेजोगे, तो मैं हमला करने जा रहा हूँ।

“वे तैयार नहीं थे, उन्हें पता नहीं था कि क्या करना है, इसलिए उन्होंने कहा कि “चलो हम उससे लड़ते हैं। हम अपनी रानी को उन्हें देने की अनुमति नहीं दे सकते। यह हमारी प्रतिष्ठा का सवाल है। ”उन्होंने एक सौ पालकी ली। क्या आप पालकी समझते हैं? उन्होंने एक सौ पालकी ली। अब उन सौ पालकी में इन हथियारों और उनकी मशीनों के साथ चार योद्धा बैठे थे, और दो वे जो उन्हें ले जा रहे थे। और उन्होंने कहा, “ठीक है। रानी अपनी सौ नौकरानियों के साथ आ रही है। ” उस समय जो मुसलमान थे, मुस्लिम राजा खा-पी  रहे थे, बहुत खुश थे कि रानी आने वाली है। इसलिए ये लोग वहां गए और अपनी पालकी से बाहर आकर लड़ने लगे। उन्होंने इन महिलाओं से कहा था कि “अगर हम जीतते हैं, तो सुबह पांच बजे तक हम आग जला देंगे और आप आग देखेंगे, तब आपको पता चलेगा कि हमने मामला जीत लिया है। लेकिन अगर हम नहीं जीतते हैं, तो आपको निश्चित रूप से पता होना चाहिए कि हमने लड़ाई नहीं जीती है। ” वे केवल कहते थे, चार सौ लोग या छह सौ लोग थे , और हजारों लोग इस आदमी के साथ थे और उनके पास बंदूकें और तोपें और सब कुछ था।

इसलिए वे लड़ने लगे। उस लड़ाई में जो मुस्लिम राजा जीता था क्योंकि उसके पास इतनी शक्ति थी, और इनमें से अधिकांश लोग मर गए। राजा भी मारा गया। पांच बजे आग नहीं लगी थी, इसलिए इन महिलाओं ने देखा कि कोई आग नहीं जलाई गई है। इसलिए उन्होंने एक बड़ा बड़ा मंच बनाया, एक चिता, वे चिता पर चढ़ गई और आग जलाई और वे सब मर गए। तीन हजार महिलाओं की मृत्यु हो गई, क्योंकि वे नहीं चाहती थीं कि अन्य पुरुष उन्हें छूएं। किसी भी अन्य व्यक्ति का आना और उन्हें छूने का मतलब था कि उनकी शुद्धता समाप्त हो गई।

भारत में इस तरह की कई, कई कहानियां हैं। तो, वे कैसे उनकी शुद्धता का सम्मान करते थे! आप देखते हैं, किसी प्रकार के प्रलोभन में पड़ना, यह आसान है, लेकिन अगर यह आपकी शक्ति है, तो आपको अपने आप को ऐसी चीज़ के लिए क्यों प्रस्तुत करना चाहिए जो इतनी बेकार है? सहज योग में हमें एहसास करना है। पुरुषों को भी पता होना चाहिए कि अगर उनकी पत्नियाँ इतनी पवित्र और इतनी अच्छी हैं, तो उन्हें उनका सम्मान करना चाहिए। उन्हें यह भी एहसास होना चाहिए कि उनकी भी राखी बहनें हैं, जो कि हम बहुत पवित्र हैं। हम एक राखी बहन की शुद्धता का सम्मान करते हैं और हम किसी भी ऐसे व्यक्ति से सम्बन्ध नहीं चाहते हैं , जो पवित्रता का सम्मान नहीं करते है। फिर मर्द भी शुद्ध हो जाते हैं। जब महिलाएं पवित्र होती हैं तो पुरुष भी पवित्र हो जाते हैं। और यह शुद्धता ही आपकी मुख्य शक्ति है, यही शुद्धता श्री गणेश की शक्ति है। और जब आपको यह श्री गणेश की शक्ति मिलती है, तो आप जानते हैं कि आप अपने भीतर जागृत होने वाली अबोधिता से कितने शक्तिशाली बन जाते हैं। इसलिए पवित्रता के बिना महिलाएं सहज योग में कुछ भी हासिल नहीं कर सकती हैं। व्यक्ति को सभी पिछले विचारों, सभी पिछली चीजों को छोड़ना पड़ता है, और जिस तरह से अखबारों से, मीडिया से, हर चीज से आक्रमण होता है। हाल ही में मैंने एक खूबसूरत किताब पढ़ी, जो इतनी बड़ी है, यह बात, सामने आई है  “मीडिया वर्सेस अमेरिका”। इसमें उन्होंने कहा है कि कैसे इस मीडिया ने विवाहित जीवन की उपयोगिता को कम करने वाले विचारों को महिलाओं और पुरुषों के सिर में भर दिया है – कैसे उन्होंने विवाहित जीवन को मार दिया है। वे शादी करते हैं, फिर तलाक; वे शादी करते हैं, फिर तलाक लेते हैं। यही बात हर समय चलती है।

सहज योग में, निश्चित रूप से, यह उतना बुरा नहीं है। हमने इस बार छियासी शादियाँ की थीं। छियासी – जिसमें से एक बिगड़ सकती थी परन्तु वह भी अब स्थापित है। सहज योग में यह बहुत बेहतर है। लोग विवाहित जीवन के महत्व को समझते हैं। यह एक नाटक है, लेकिन यह भी तपस है: यह एक तपस्या है जिसके साथ आप अपनी शक्तियों को समझते हैं। मैं कहूंगी कि एक आदमी सूरज की तरह है, लेकिन एक औरत धरती मां की तरह है। अंतर इस प्रकार है: सूर्य चमकता है, प्रकाश देता है, यह एक तरह से पृथ्वी को पोषण भी देता है; और धरती माता सब कुछ देती है, वह बहुत कुछ सहन करती है, वह हमारे सभी पापों को सहन करती है। तो एक गृहिणी धरती माता की तरह होती है। वह अपने पति को, अपने बच्चों को, सभी को खुशी देती है। वह अपने बारे में नहीं सोचती। वह यह नहीं सोचती है, कि मैं अपनी सुंदरता के माध्यम से, अपने शरीर के माध्यम से, अपनी शिक्षा के माध्यम से, अपनी शक्तियों के माध्यम से, जो की मुझे उपलब्ध है,कितनी बड़ी चीज़े प्राप्त कर सकती थी  – नहीं, वह नहीं सोचती है। वह क्या सोचती है: मैं कैसे दूसरों को शक्तिशाली बना सकती हूं, कैसे मैं उन्हें शक्ति दे सकती हूं, कैसे उनकी मदद कर सकती हूं। यह एक महिला की विशिष्ट विचारधारा है। यदि ऐसा नहीं है, तो वह एक महिला नहीं है। मेरा मतलब है, वह महसूस करती है – अगर कोई कहता है, “मैं रात के खाने के लिए आपके घर आना चाहता हूं,” वह बहुत खुश होती है।

“ओह, यह बहुत अच्छा है।” अब, मुझे क्या खाना बनाना चाहिए? मुझे क्या करना चाहिए?” यह एक महिला का रवैया होता है।

एक बार जब लोगों का एक समूह था, उसमें से लगभग पच्चीस लोग मुझे मिलने आए थे। मैं उनके साथ एक खुली जगह में बैठी थी, और फिर मैंने अपनी बेटी को सन्देश भेजा कि वे लोग यहाँ हैं और देर हो सकती है, इसलिए बेहतर होगा उनके लिए रात का खाना तैयार करें।

बात के बाद मैंने कहा, “वहाँ रात का खाना आपके लिए भी बना है।”

उन्होंने कहा, “कैसे?”

मैंने कहा, “सब ठीक है।”

वह बहुत खुश थी, मेरी बेटी। उसने सभी तरह की चीजें तैयार की थीं; उसके दोस्त भी उसकी मदद करने आए थे। और वे सभी विदेशी आश्चर्यचकित थे, कि “कैसे, माँ, वह इसके बारे में बहुत खुश है?”

अगर मैं अपनी पत्नी को बताता हूं “- (वो सहज योग की शुरुआत -“) यहां तक कि तीन व्यक्ति रात के खाने के लिए आ रहे हैं, वह गोल-गोल घूम जाती है 

 … “मैंने बोला क्यू?”

“… और वह कुढ़ेगी, बडबडाएगी अपना सारा गुस्सा लोगों के प्रति दिखाएगी।”

मैं काफी हैरान थी। देखें, सहज योग में कि हम कैसे रहते हैं। हम प्यार देना चाहते हैं, और पुरुषों को उस प्यार की सराहना करनी चाहिए और उसका आनंद लेना चाहिए चाहे आप भाई हों या पति या बेटे, किसी भी तरह से, महिला का प्यार आपके लिए है। और वह आपको वह प्यार देती है, जो आपको पूर्ण रूप से न केवल खुशहाल बल्कि धार्मिक भी बनाता है। क्योंकि यह एक सापेक्ष चीज है। यदि कोई महिला दुर्व्यवहार करना शुरू कर देती है, तो वह समाज के लिए सबसे बुरा है: पुरुष भी दुर्व्यवहार करना शुरू कर देते हैं। पुरुष, जैसा कि यह है, बहिर्मुखी होते हैं। इसलिए उन्हें नियंत्रित करने के लिए, उन्हें घरेलू बनाये रखने के लिए, महिलाओं को पता होना चाहिए कि उन्हें कैसे रखना है। घर चलाना आसान नहीं है, अपने परिवार को चलाना आसान नहीं है, अपने बच्चों की देखभाल करना आसान नहीं है – बहुत मुश्किल। और जिनके पास वे गुण हैं वे सबसे अच्छी महिला हैं और वे वास्तव में इसे हासिल करती हैं।

मेरा मतलब है, आप अपनी माताओं के बारे में सोच सकते हैं कि वे आपसे कितना प्यार करती थी, सभी पुरुष और महिलाएं। क्यों? आप अपनी माँ के बारे में इतना क्यों सोचते हैं? क्योंकि उसने सब कुछ त्याग दिया, लेकिन यह दिखाए बिना कि वह बलिदान कर रही थी। उसने आपके लिए बहुत कुछ किया, ताकि आप एक महिला बन सकें। प्रेम करने की महिला की क्षमता जबरदस्त है, जबरदस्त है! और यही हमें फातिमा से सीखना है। उसने अपने दो बच्चों को मर जाने के लिए दे दिया। वह जानती थी, क्योंकि वह आखिरकार विष्णुमाया थी; वह विष्णुमाया की अवतार थी। वह जानती थी कि उसके बच्चों को मार दिया जाएगा, लेकिन फिर भी उसने अपने बच्चों को भेजा, “ठीक है। कोई बात नहीं भले ही मुझे पता हो कि वे मरने जा रहे हैं, यह सब ठीक है। ऐसी बहादुरी, ऐसी हिम्मत, अपने बच्चों के कर्तव्य की ऐसी समझ। आज हम उन्हें हसन और हुसैन के रूप में याद करते हैं। माना कि उसने कहा होता, “नहीं, नहीं, नहीं, नहीं, युद्ध के लिए नहीं जाना है। घर पर रहो।” और अगर वह उन्हें नहीं जाने के लिए मजबूर करती, तो वे नहीं जाते। हमने आज उनके बारे में बात नहीं की होती, क्या ऐसा नहीं है? किसी भी तरह में, वे कभी न कभी मर गए होंते, लेकिन एक नायक की मृत्यु उन्हें अपनी मां के कारण मिली। बेशक, वे भी एक प्रकार के अवतार थे, लेकिन जिस तरह से उसने उन्हें पूरी तरह से प्रोत्साहन दिया, “जाओ और सही बात के लिए लड़ो,” क्योंकि ये कट्टरपंथी अपनी कट्टरता लाने की कोशिश कर रहे थे।

इसलिए आज के दिन मुझे पुरुषों को भी बताना है कि आप एक ऐसी महिला का सम्मान करना सीखें जो पवित्र है। कृपया समझें, यदि आपकी पत्नी एक पवित्र महिला है, तो आपको उसे परेशान करने का कोई अधिकार नहीं है। ऐसा नहीं है कि उसे सम्मानजनक होना चाहिए – उसे होना ही चाहिए – लेकिन आपको यह देखना चाहिए कि हर कोई उसका सम्मान करे, कोई भी उसका अपमान नहीं करता है, उसके साथ खड़ा होना चाहिए, उसके साथ पहचाना जाना चाहिए। लेकिन अगर वह एक पवित्र महिला नहीं है और अगर वह उस तरह की है, तो बेहतर है, दूर रखें। मुझे यह कहने की इतनी हिम्मत नहीं है कि “ठीक है। उसके साथ आगे बढ़ो और मैं देख लुंगी। ” यह बहुत मुश्किल है। मुझे नहीं पता कि क्या जटिलताएँ आ सकती हैं।

इन सभी अनुभवों के साथ, एक व्यक्ति निश्चित रूप से एक चीज सीखता है, वह महिला बहुत अधिक आतंरिक होती है, उसके पास बहुत अधिक शक्तियां होती हैं, वह अन्य लोगों की तुलना में बहुत अधिक समझदार होती है, अगर वह अपनी शुद्धता रखती है। यही वह बिंदु, जिस पर उसकी सारी गतिशीलता होती है, उसका सारा व्यक्तित्व घूमता है। वह कुछ भी हो सकती है। हमारे पास ऐसी महिलाएँ थीं – जैसे एक महिला थी जो केवल सत्रह साल की थी, और वह विधवा हो गई। विधवा वह सत्रह साल की उम्र में बन गई, और उसने औरंगजेब नामक एक बहुत ही भयानक राजा से लड़ाई की, और उसने यह सुनिश्चित किया कि वह पंगु हो गया; और उसका नाम ताराबाई था।

हमारे पास अलग-अलग, कहे जाने वाले चरित्रों की भारत में महिलाएं हैं, लेकिन वे पहली और सबसे महत्वपूर्ण बात थीं कि वे गृहिणी थीं। उनकी सभी शक्तियां गृहिणियों के रूप में थीं। इसलिए गृहिणी को नीचे मत देखो। जब मैं विमान में यात्रा कर रही होती हूं, तो वे मुझसे पूछते हैं, “माँ, तुम्हारा पेशा क्या है?””गृहिणी।” मेरा पेशा गृहिणी है। मैं बहुत बड़े परिवार की गृहिणी हूं। मैं अपने बच्चों की देखभाल कर रही हूं, मैं उन्हें प्यार कर रही हूं, वे मुझे प्यार करते हैं, और यह पेशा सबसे अच्छा है, मुझे लगता है, क्योंकि यह बहुत खुशी देने वाला है, यह इतना सुंदर है। यह प्यार है। यह ऊर्जा देने वाला है और इस उम्र में भी मैं कभी अपनी उम्र को महसूस नहीं करती, क्योंकि मैं आप में से बहुतों की माँ हूँ। और यह मेरे सिर पर कभी नहीं आता है कि मैं अभी वृद्ध हूं और मुझे ऐसा करना चाहिए और इसलिए, मुझे आराम करना चाहिए और मुझे यह काम दोबारा नहीं करना चाहिए। क्योंकि मेरे बच्चों के लिए प्यार की यह भावना: मुझे उन्हें पोषण देना है, मुझे उनकी देखभाल करनी है, क्योंकि मेरी सभी शक्तियों को मुझे उन्हें देना है। मैं कभी भी किसी भी तरह से अपनी शक्तियों को दिखाने की कोशिश नहीं करती। यह केवल आप ही हैं, जिन्हें मेरी सभी शक्तियों का अनुकरण करना चाहिए। मेरी केवल यही इच्छा है, कि आप मेरे समान शक्तिशाली हों।

निश्चित रूप से आपको यह पता चलता है कि मेरे पास शक्तियाँ हैं, वह अलग है; लेकिन जहां तक मेरा संबंध है मैं चाहती हूं कि आप यह भूल जाएं कि मेरे पास कौन सी शक्तियां हैं, लेकिन आपके खुद अपने भीतर ये सारी शक्तियां होनी चाहिए, ताकि आप दुनिया को बचा सकें। यही एक चीज है जो मैं आपको देना चाहती हूं। और मैं आपको आश्वस्त करना चाहती हूं कि आप सभी के पास वह सब कुछ हो सकता है जो मेरे पास है; केवल तभी यदि आप जीवन में इस साधारण बात को बनाए रखें – कि हमें सत्यनिष्ठ बनना है। हम खिलवाड़ नहीं कर सकते, हम दुर्व्यवहार नहीं कर सकते। आजकल बहुत सारी चीजें आ रही हैं, जो चीजें पुरुष कर रहे हैं और महिलाएं कर रही हैं; हम नहीं कर रहे हैं।

जैसा कि हम कह सकते हैं कि विकासवादी प्रक्रिया में,कुछ बंदर, चिंपांज़ी थे जो मानव बन गए थे। लेकिन नहीं – बीच में कुछ अन्य मनुष्य भी थे जो अंदर आए, जो गायब हो गए। तो, बहुत कम लोग सहज योगी बनेंगे, जो बचाये जाएंगे। शेष सभी वहां नहीं होंगे: वे न तो बंदर होंगे और न ही मनुष्य, समाप्त हो जाएंगे। ये सभी स्वयं को नष्ट करने वाली चीजें हैं जो परिवार को मारती हैं, जो हमारे भीतर की पवित्रता को मारती है, और फिर हमें उच्च और शुष्क छोड़ दिया जाता है। हम कहीं के नहीं होते हैं। हमें बीमारियां होती हैं, हमें परेशानियां होती हैं, हमें समस्याएं होती हैं।

तो सावधान, बहुत, बहुत सावधान रहें। और फातिमा बी के लिए यह विशेष पूजा विष्णुमाया की पूजा है। इसके अलावा बायीं विशुद्धि पर काम करने वाले अपराध बोध को ठीक किया जा सकता है यदि आप अपनी पवित्रता का विकास करते हैं। आप कभी भी दोषी महसूस नहीं करेंगे, क्योंकि आपके पास ऐसा गुण है। उस आशीर्वाद में आप कभी दोषी महसूस नहीं करेंगे, और आप किसी भी बकवास के सामने खड़े हो सकते हैं क्योंकि आप पवित्रता की सच्चाई पर खड़े हैं।

आज यह विशेष दिन है, मैं कहूंगी, जब हम इस पवित्रता के महान आदर्श की पूजा कर रहे हैं जो फातिमा बी है।

परमात्मा आप को आशिर्वादित करे।

ठीक है, अब हमारे पास बहुत कम बच्चे हैं … हमारे पास कितने बच्चे हैं? साथ आओ, साथ आओ, साथ आओ। गणेश स्तुति गाना है।

00:45:27

ठीक है, आप गणेश स्तुति गा सकते हैं। गणेश के मंत्र का उच्चारण करें, और फिर हम गणेश स्तुति का गायन करेंगे, और उसके बाद हमारे पास एक सौ-आठ नाम होंगे …01:46:22

यह पत्थर, फिरोजा, इलत से आता है, और फातिमा क्वार्ट्ज पहनती थीं, इसमें कोई संदेह नहीं है। यह एक क्वार्ट्ज के रूप में कहा जाता है; इसे फिरोजा कहा जाता है। और यह पूरा,इलत में है, इतने सारे। वह इस फ़िरोज़ा को पहनती थी, यह बिल्कुल सही है।

01:47:22

इसके अलावा, आपकी जानकारी के लिए, यह … इलत से भी आता है, उसी जगह से भी जहां वह थी। तो बस संयोग देखिए – ठीक, इस समय, इलत से आने के लिए। भगवान भला करे… और शांति हो सकती है।

01:55:20

एक और सुझाव है कि हर कोई भारत नहीं जा सकता है, इसलिए लोग शादी नहीं कर सकते, आप देखें। इसलिए हम दिवाली पूजा के दौरान, जब – तब भी विवाह आयोजित करने की सोच रहे हैं। लेकिन आपके पास इतना व्यापक विकल्प नहीं है, यह बात है। कोई बात नहीं जो लोग शादी करना चाहते हैं, उन्हें मुझे भरे हुए फॉर्म भेजने चाहिए, और इसे गुइडो को भेजना चाहिए। और एक और बात यह है कि हमारे पास यह उसी विस्तृत तरह से नहीं हो सकता जैसा कि भारत में है। हम कोशिश करते हैं, लेकिन फिर भी आप जानते हैं कि यह बहुत मुश्किल है: यह एक अलग देश है। इसलिए हम उन चीजों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं जिनसे काम किया जा सकता है। किसी भी स्थिति में हम विवाह का आयोजन  करेंगे, क्योंकि आप एक अन्य तरीका नहीं चाहते, बस एक साधारण प्रकार, आप भारतीय शैली चाहते हैं। इसलिए मैं दिवाली से पहले भारत जाऊंगी, आपके लिए चीजों को व्यवस्थित करने का प्रयास करूंगी।

परमात्मा आप को आशिर्वादित करें ।

01:58:01

सब कुछ के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। मुझे खेद है कि मुझे इस बार आप सभी के लिए उपहार नहीं मिल सके।