Evening Program, Eve of Sahasrara Puja Campus, Cabella Ligure (Italy)

1997-05-03 Sahasrara Puja आज का कार्यक्रम वास्तव में बहुत, बहुत आनंदपूर्ण, बहुत दक्षता पूर्ण था। मुझे कहना होगा कि इसका श्रेय हमेशा की तरह जर्मनी के लोगों को और साथ-साथ ऑस्ट्रिया के लोगों को भी जाता है, सब कुछ इतना उत्तम करने के लिए। पूर्वार्ध में हम चकित थे कि कैसे पश्चिम के लोग भारतीय वाद्य यंत्रों पर भारतीय रागों के साथ इतना अच्छा बजा सकते हैं। यह एक असंभव कार्य है। मेरे कहने का अर्थ है, भारत में, वे कम से कम दस से बारह वर्ष व्यतीत करते हैं उस स्तर तक पहुँचने के लिए और तीन महीने के समय में वे सभी इतनी निपुणता प्राप्त कर चुके हैं। और बाबामामा कह रहे थे कि संभवतः ये उनके आत्मसाक्षात्कार के कारण है, कि वे तीन महीने के समय में यह सब चीज़ें सीख सके हैं। मैं स्वयं अचंभित थी कि तीन महीने के समय  में ये इतना अच्छा कैसे बजा सकते हैं। उसके बाद अन्य कार्यक्रम भी बहुत रोचक थे, उदाहरण के लिए जिस तरह से उन्होंने प्रदर्शन किया इस संगीत का इतने अच्छे से संचालन कर के।  मेरे कहने का अर्थ है कि इस कार्यक्रम को देखने के लिए आपको $ 50 का भुगतान करना पड़ेगा! और पूर्ण शांति होनी चाहिए, और सुनिश्चित रूप से अपने स्थान पर बैठना पड़ेगा, पूर्णतया स्थिर मानो… और यह इतना उल्लेखनीय था और इतना वृत्तिक था, इतनी, इतनी सुंदरता से किया गया, बिना एक गलती के कहीं भी, इतने सामंजस्य से  , संभवतः इसमें  भी सहजयोग का आशीर्वाद है, मुझे नहीं पता। Read More …