Shri Krishna Puja Campus, Cabella Ligure (Italy)

आज हम यहाँ अपने अन्दर स्थित श्री कृष्ण की पूजा करने के लिए आये हैं। जैसे कि आप जानते हैं कि सहज योग में आने से पूर्व आप सब परमात्मा को  खोज रहे  थे । आप अलग-अलग जगहों पर गए, बहुत सारी किताबें पढ़ीं और आप में से कुछ लोग भटक गए। और, उस   खोज में, शायद आप नहीं जानते थे कि आप क्या तलाश रहे थे। जो आप तलाश रहे थे वह था स्वयं को जानना था। सभी धर्मों में यह कहा गया है कि ‘स्वयं को जानो ‘. यह एक सामान्य बात है जो सभी ने कही है। यह एक ऐसा तथ्य है जो हर धर्म में है , ‘स्वयं को जानो’, क्योंकि स्वयं को जाने बिना आप परमात्मा को नहीं जान सकते , आप आध्यात्मिकता को नहीं जान सकते. तो पहला कदम था स्वयं को जानना ।  और उसके लिए लोगों ने आपके साथ सभी प्रकार के छल किये, उन्होंने आपको विभिन्न तरीकों से सिखाया और वास्तव में आपको लूटने और आपको धोखा देने की कोशिश की। वो सभी चीजें जो हुई हैं, समाप्त हो गई हैं।  तो फिर आप सहज योग में आते हैं और आपको अपना आत्मसाक्षात्कार प्राप्त होता है । लेकिन  आत्मसाक्षात्कार का उद्देश्य क्या है? परमात्मा, या देवी को जानना , यही आत्मसाक्षात्कार का उद्देश्य है ।  लेकिन आत्मसाक्षात्कार के बाद आपको क्या होना चाहिए? आप में से कई लोगों ने निरर्थक वस्तुएं में रूचि छोड़ दी है जैसे नशा और वो सभी चीजें ।  निरर्थक किताबें पढ़ने में भी आपकी रुचि समाप्त हो Read More …