Christmas Puja (भारत)

Christmas Puja IS Date 25th December 2003: Ganapatipule Place: Type Puja

[Original transcript Hindi talk]

ईसामसीह की आज जन्मतारीख है और हम लोग बहुत खुशी से मना रहे हैं। किंतु जीझस क्राइस्ट को कितनी तकलीफें हुईं वो भी हम लोग जानते हैं और जो तकलीफें, परेशानियाँ उनको हुई वो हम लोगों को नहीं हो सकती क्योंकि अब समाज बदल गया है, दुनिया बदल गयी है और इस बदली हुई दुनिया में आध्यात्मिक जीवन बहुत महत्त्वपूर्ण है। इससे कितने क्लेश हमारे दूर हो सकते हैं। हमारे शारीरिक क्लेश अध्यात्म से खत्म हो सकते हैं। मानसिक क्लेश अध्यात्म से खत्म हो सकते हैं। इसके अलावा जागतिक जो | क्लेश हैं वो भी खत्म हो सकते हैं। इस तरह सारी दुनिया की जिंदगी जो है अध्यात्म में पनप सकती है। कितना महत्त्वपूर्ण है ये जानना की एक तरफ तो ईसामसीह जैसा अध्यात्म का…. […]

Christmas Puja (भारत)

Christmas Puja, Ganapatipule (India), 25 December 2002.
Merry Christmas to you all.
According to Sahaja Yoga, Christ is settled on your Agnya Chakra. His whole life is depicting the qualities of a person who is a realised soul. What He has suggested in His own life is that you should not have any greed or lust. The way these days people are greedy all over the world is really shocking. Right from the childhood, our children also learn to ask for this or ask for that; […]

Christmas Puja (भारत)

Christmas Puja IS Date 25th December 2000: Ganapatipule Place: Type Puja

[Original transcript Hindi talk, scanned from Hindi Chaitanya Lahari]

आज का शुभ दिवस है जो मनाया जाता है। कारण ईसामसीह का जन्म कहते हैं को जानो’। यह कहते हुए भी लोगों ने इस कि आज हुआ था। ईसामसीह के बारे में चीज़ का महत्व नहीं समझा और धर्म फैलाना लोग बहुत कम जानते हैं क्योंकि वो छोटी शुरू कर दिया। अपने को जाने बगैर ही उम्र में बाहर चले गए थे और उसके धर्म फैल नहीं सकता, […]

Christmas Puja (भारत)

Christmas Puja. Ganapatipule (Maharashtra, India), 24 December 1998.
First, I’ll speak in English and then in Hindi.
Today, long time back, Christ was born. You all know the story of His birth, and of all the sufferings He had to go through. He’s the One who has given us the model of Sahaja Yoga. For He didn’t live for Himself, in no way, but He lived for others, working out the Agnya Chakra.
You may be Divine, […]

Christmas Puja, You have to be loving, affectionate, kind and disciplined (भारत)

Christmas Puja IS Date 25th December 1997: Ganapatipule Place: Type Puja Hindi & English

आज हम लोग यहाँ ईसा मसीह का जन्म दिन मनाने के लिए उपस्थित हुए हैं। ईसा मसीह की जिन्दगी बहुत छोटी थी और अधिक काल उन्होंने हिन्दुस्तान में ही बिताया-काश्मीर में । सिर्फ आखिरी तीन साल के लिए वापिस गए और लोगों ने उन्हें सूली पर टॉँग दिया। यह सब कुछ विधि का लिखा हुआ था। आज्ञा चक्र को खोलने के लिए उन्हें ये बलिदान देना पड़ा और इस तरह से उन्होंने आज्ञा चक्र की व्यवस्था की। आज्ञा चक्र बहुत संकीर्ण है, […]

Christmas Puja (भारत)

Christmas Puja, Ganapatipule (India), 25 December 1992.
I must have said lots of things about Christ before, and how Jesus Christ is related to Shri Radhaji, that he is the incarnation of Shri Ganesha who was the son of the Adi Shakti to begin with but then he was given to Shri Radhaji and Shri Radha created as Mahalaxmi, as Mother Mary this great incarnation of Christ.
Now for the western mind it is impossible to understand how there can be a immaculate conception because they have no sense at all, […]

Shri Ganesha and Christmas Puja (भारत)

Christmas Puja IS Date 24th December 1991 : Ganapatipule Place : Type Puja Speech

[Original transcript Hindi talk, scanned from Hindi Chaitanya Lahiri]

आज का याग अति विशेष है। इस विशेष दिन को अंगार की चतुर्थी अथवा कृष्णपक्ष की चतुर्थी कहते हैं। प्रत्येक चतुर्थों को, जो कि महीने के चौथे दिन पडती है, को श्री गणेश का जन्मदिन मनाया जाता है। मंगलवार के दिन आयो इस चतुर्थी का विशेष महत्व हाता है। आज यही दिन है। हम सब मंगलवार, […]

Christmas Puja (भारत)

Christmas Puja 25th December 1990 Date : Ganapatipule Place Type Puja

आपमें से लोग मेरी बात इंग्लिश में नहीं समझ पाये होंगे। ईसामसीह का आज जन्म दिन है और मैं कुछ समझा रही थी कि ईसामसीह कितने महान हैं। हम लोग गणेश जी की प्रार्थना और स्तुति करते हैं क्योंकि हमें ऐसा करने को बताया गया है। पर यह है क्या? गणेशजी क्या चीज़ हैं? हम कहते हैं कि वो ओंकार हैं, ओंकार क्या है? सारे संसार का कार्य इस ओंकार की शक्ति से होता है। इसे हम लोग चैतन्य कहते हैं, […]