Sahasrara Puja Laxenburg (Austria)

आप विराट के सहस्त्रार में प्रवेश कर रहे हैं ….
(सहस्त्रार पूजा, लक्समबर्ग , वियेना, ( ऑस्ट्रिया ), 5 मई 1985)
आज हम ऑस्ट्रिया की महारानी द्वारा बनाये गये इस स्थान पर सहस्त्रार पूजा के लिये एकत्र हुये हैं। जैसे ही आप सहस्त्रार के क्षेत्र में प्रवेश करते हैं तभी आपको सहस्त्रार पूजा करने का अधिकार है। इससे पहले किसी ने भी सहस्त्रार के विषय में बात नहीं की ….. और न ही उन्होंने कभी सहस्त्रार की पूजा की। ये आपका ही विशेषाधिकार है कि आप सहस्त्रार के क्षेत्र में पंहुच चुके हैं और इसकी पूजा भी कर रहे हैं। ये आपका अधिकार है ….. […]

Talk: You have to be in Nirvikalpa, Eve of Sahasrara Puja Laxenburg (Austria)

              “आपको निर्विकल्प में रहना होगा”।

वियना, 4 मई 1985।

सहस्रार दिवस मनाने के लिए इतने सारे सहज योगी आते हुए देखना बहुत संतुष्टिदायक है।

सहस्रार को तोड़े बिना हम सामूहिक रूप से उत्थान नहीं कर सकते थे। लेकिन सहस्रार, जो कि मस्तिष्क है, पश्चिम में बहुत अधिक जटिलताओं में चला गया है और नसें बहुत अधिक मुड़ी हुई हैं, एक के ऊपर एक। सहस्रार को खुला रखना बहुत आसान होना चाहिए अगर पश्चिमी दिमाग आपकी माँ के बारे में समझ पाते और जागरूक हो सके।

जब आपकी माता सहस्रार की देवी हैं, […]