Adi Shakti Puja: We are the singers of Shri Mataji Campus, Cabella Ligure (Italy)

आदिशक्ति पूजा ,कबेला , लीगुरे , १५ जून २००३

छोटी पूजा के बाद बड़े ही उत्साह के साथ गोंडरी भजन गाया गया । अंत में , श्रीमाताजी ने कहा:

मैं बहुत प्रसन्न हूँ, आप सभी यहाँ पर हैं, गोदड़ी के गीत गा रहे हैं। शायद, आपको अर्थ नहीं पता। अर्थात् हम

श्रीमाताजी के गायक हैं।और वे गीत गाये गए हैं, लोगों द्वारा, जो ग्रामवासी हैं। और वे गीत गा रहे हैं कि हम

गा रहे हैं, […]

Evening Program, Eve of Navaratri Puja Campus, Cabella Ligure (Italy)

2000-10-06 नवरात्रि पूजा से पहले शाम का कार्यक्रम 

कबेला, इटली

… कला, केवल वही नहीं बल्कि उसके सभी जटिल स्वरूप।

मैं आनंद से परिपूर्ण हो गई सहजयोगिनियों और सहजयोगियों को इतना अच्छा नृत्य करते हुए देख, और मैं आशा करती हूँ कि इससे बदलाव आएगा – उनके चलने की शैली में (श्री माताजी और लोग हँसते हुए)। जब मैं पहली बार लंदन आई, बहुत समय पहले, अपनी बेटियों के साथ, तो वे आश्चर्यचकित होती थी “यहाँ की औरतों को देखिए” और कहती थी “मम्मी ये सभी घोड़े की तरह चलती हैं।“ मैं कहती थी, […]

Shri Ganesha Puja: Your innocence will save this world Campus, Cabella Ligure (Italy)

2000-09-16 श्री गणेश  पूजा टॉक,  केबेला,इटली, डीपी

आज, हम यहाँ एकत्र हुए हैं गणेश पूजा करने के लिए।

मैं भली-भांति जानती हूँ कि गणेश  प्रतीक हैं पवित्रता के, निर्मलता के और पूजा करने के लिए अबोधिता की । जब आप श्री गणेश की पूजा कर रहे होते हैं तो आप को पता होना चाहिए कि वह अवतार हैं अबोधिता का ।

मैं जानने के लिए उत्सुक हूँ कि हम ‘ अबोधिता ‘ का अर्थ समझते हैं या नहीं । अबोधिता एक गुण है, […]

Kundalini will take you to the Truth Parchi di Nervi, Genoa (Italy)

2000-09-04 सार्वजनिक कार्यक्रम, जेनोवा इटली

मैं सभी सत्य-साधकों को प्रणाम करती हूँ।हमें यह जानना होगा कि वह सत्य क्या है जिसे हम खोज रहे हैं।सत्य यह है कि आप  एक  शरीर नहीं है,मन,  ये भावनाएँ , और न ही आपकी बुद्धि परंतु आप एक आत्मा है, जिसे हम ‘स्व’ कहते हैं। ऐसा प्रत्येक शास्त्र में लिखा गया है कि आपको ‘स्व’ को पाना है। जब तक आप स्वयं अपने को नहीं जान लेते, तब तक आप परमेश्वर को नहीं जान सकते। यही मुख्य कारण है कि हमारे यहां भगवान के नाम पर इतने झगड़े, […]

Guru Puja: Shraddha Campus, Cabella Ligure (Italy)

गुरु पूजा, कबैला, लिगुरे (इटली), २३ जुलाई २०००।

आज हम यहाँ गुरु सिद्धांत के बारे में जानने के लिए आए हैं।गुरु क्या करते हैं,आपके पास जो कुछ भी है,आपके भीतर की सभी बहुमूल्य चीज़ें,वह आपके ज्ञान के लिए उन्हें खोजते हैं। वास्तव में यह सब कुछ आपके भीतर ही है। सम्पूर्ण ज्ञान, सम्पूर्ण अध्यात्म,सम्पूर्ण आनंद, सब यही है।सही समय!यह सब आपके  भीतर समाहित है।गुरु केवल एक ही कार्य करते हैं आपको आपके ज्ञान के बारे में और आपकी आत्मा के बारे जानकारी प्रदान करना। सबके भीतर आत्मा है। हर किसी के अंदर आध्यात्मिकता है।ऐसा कुछ भी नहीं है जो आपको बाहर से मिले।लेकिन यह ज्ञान प्राप्त करने से पहले, […]

Address to IAS officers wives association New Delhi (भारत)

पब्लिक प्रोग्राम, आईएएस ऑफिसर्स वाइव्स एसोसिएशन , नयी दिल्ली , भारत के सत्य साधकों को मेरा प्रणाम।  08-04-2000.

वर्तमान, समय जिसे ‘घोर कलियुग’ का समय कहते हैं और, सभी प्रकार की भयानक चीज़े हम यहाँ देखते – सुनते है, समाचार पत्रों में पढ़ सकते हैं।  यह सच्चाई है कि  हम एक बहुत  बुरे समय से गुज़र रहे है।इस के अतिरिक्त हम बहुत ही निम्न स्तर  के लोग मिलते हैं, जिन्हे हम अति निम्न  जीवन-मूल्य वाले  लोग कह सकते है।परंतु ऐसी भविष्यवाणी बहुत,बहुत ही समय पहले की गई थी कि इस वर्तमान समय में ही वे लोग जो सत्य खोज रहे है इन गिरी कंदराओं में, […]

6th Day of Navaratri, Your Beautiful Qualities will prove the Truth of Sahaja Yoga Campus, Cabella Ligure (Italy)

1997-10-05 छठा दिन, नवरात्रि पूजा प्रवचन, कबेला,इटली

आज नवरात्रि का छठा दिन है । 

देवी के अनेक अवतरण हुए हैं, विभिन्न विभिन्न उद्देश्यों के लिए। लेकिन महान संतों  ने जब स्वयं का आत्मनिरीक्षण किया, जो मॉं की पूजा कर रहे थे तो उन्हें पता चला कि उन्होंने हमारे लिए क्या किया है । दूसरे दिन मैंने आपको बताया था कि धर्म, मनुष्य का अंतर्निहित गुण है। और वे दस हैं। यह हमारे भीतर पहले से ही स्थापित है, […]

Evening Program, Eve of Shri Ganesha Puja Campus, Cabella Ligure (Italy)

1997-09-06 ईपी श्री गणेश पूजा, कबेला,इटली

मैं आस्ट्रेलियाई सामूहिकता और अन्य सभी देशों को धन्यवाद देना चाहूंगी जो यहां हैं । कितनी खूबसूरती से उन्होंने सारी चीज़ को संगठित किया है । उन्होंने इन सभी कार्यक्रमों के साथ समय बर्बाद नहीं किया, आप  देखिये  । आपको नहीं पता कि मैं क्या महसूस कर रही हूँ जब मैं  इन सभी देशों को देखती हूँ जहाँ मैं पहले जा चुकी हूँ, और मैं आप में से अधिकांश को अच्छी तरह से जानती हूँ। । जिस तरह से आपको अपनी आध्यात्मिक जागृति के माध्यम से जो पूरी खुशी और आनंद मिला है, […]

Shri Krishna Puja: Primordial Taboos and Sahaj Dharma Campus, Cabella Ligure (Italy)

1997-08-23 श्री कृष्ण पूजा टॉक, कबैला, इटली

आज हम यहाँ कृष्ण पूजा के लिए एकत्रित हुए हैं। मैं अमरीका गई थी और वे चाहते थे कि मैं एक महाकाली पूजा करूँ, लेकिन मैंने कहा नहीं, मुझे केवल कृष्ण के विषय में बात करने दीजिए, क्योंकि हमें पहले यह जानना होगा कि इस पूजा की क्या शक्ति है, कैसे हम श्री कृष्ण को अपने भीतर स्थापित कर सकते हैं।

उन्होंने स्वयं कहा है कि जब भी धर्म का पतन होता है- धर्म का अर्थ वह नहीं है जो हम समझते हैं हिंदू, […]

Mahashivaratri Puja Sydney (Australia)

“अपने चित्त को प्रेरित करें “, महाशिवरात्रि पूजा। बुंडिला स्काउट कैंप, सिडनी (ऑस्ट्रेलिया), 3 मार्च 1996.
आज हम शिव, श्री शिव की पूजा करने जा रहे हैं। जैसा कि आप जानते हैं, श्री शिव हमारे भीतर सदाशिव का प्रतिबिंब हैं।
मैंने पहले ही प्रतिबिंब के बारे में बताया है। सदाशिव , सर्वशक्तिमान परमात्मा हैं, जो आदि शक्ति की लीला देखते हैं। लेकिन वह पिता हैं जो अपनी प्रत्येक रचना को या उनकी प्रत्येक रचना को देख रहे हैं।
उनका समर्थन आदि शक्ति को पूरी तरह से है, […]

Easter Puja: You have to grow and take up the responsibility Magliano Sabina Ashram, Magliano Sabina (Italy)

1992.04.19 ईस्टर पूजा, टॉक, रोम, इटली डीपी

यह दिन हम सब के लिये हर्षित होने के लिए एक बहुत बड़ा दिन है और ईसा मसीह के इस पुनरुत्थान का आनंद लेने के लिए। ईसा मसीह का पुनरुत्थान हम सबका आज्ञा चक्र खोलने के लिये हुआ था। क्योंकि यह एक बहुत ही सूक्ष्म चक्र था जैसा की आप जानते हैं, बहुत जटिल। मनुष्य की जड़ता से परिपूर्ण विचारों के कारण और उनके अहंकार से, जिसने आज्ञा चक्र को बुरी तरह से बंद किया हुआ था, […]

6th Day of Navaratri, Complete dedication Weggis (Switzerland)

Navaratri puja. Weggis (Switzerland), 19 October 1985

आज नवरात्रि का महान दिन है। हम छठे और सातवें दिन के मध्य में बैठे हैं। षष्ठी और सप्तमी वह दिन है,जब महासरस्वती ने अपना कार्य संपन्न किया और शक्ति ने इसे स्वयं प्रारंभ किया। इसलिए आज बारह बजे देवी स्वयं शक्ति को धारण करेंगीं।

वास्तव में, जैसा आप जानते हैं कि महाकाली और महासरस्वती दोनों श्री सदाशिव की शक्तियां हैं। आदिशक्ति ने सबसे पहले स्वयं को महाकाली के रूप में बनाया ,जो कि इच्छा की शक्ति हैं। लेकिन यह शक्तियां और कुछ भी नहीं है, […]

8th Day of Navaratri: What We Have To Do Within Ourselves, Talk After the Puja Complexe sportif René Leduc, Meudon (France)

1984-09-30 नवरात्रि पूजा वार्ता: हमे अपने भीतर क्या करना है,पेरिस, फ्रांस 

आज नवरात्रि का आठवां दिन है, और यह सहज योगियों के लिए महान दिन है क्योंकि यह सबसे महत्वपूर्ण समय है। यानी हम सातवां चक्र पार कर चुके हैं, और हम आठवें चक्र पर हैं। हमें यह सोचने की आवश्यकता नहीं कि देवी ने आठवें दिन क्या किया, हमें आज यह सोचना होगा कि हमें अपने भीतर क्या करना है।

सातवें दिन को पार करने के बाद, […]

Shri Mahalakshmi Puja: Ganesha Tattwa Kolhapur (भारत)

1983-0101 Mahalakshmi Puja, Kohlapur, Maharashtra, India

[Hindi translation from English]

आज पुनः

नए साल का एक दिन है। प्रत्येक नव वर्ष आता है, क्योंकि हमें कुछ ऐसा करना है जो नवीन हो। यह  व्यवस्था इस प्रकार की गई है कि सूर्य को ३६५ दिन गतिमान होना पड़ता है और  पुनः  एक नव वर्ष आ गया है। वास्तव में सम्पूर्ण सौर-मंडल सर्पिल गति  से घूम रहा है। अतः, निश्चित रूप से एक उच्चतर इस सौर मंडल की उच्चतर स्थिति होती है। प्रत्येक वर्ष यह एक सर्पिल ढंग से उच्चतर बढ़ रहा है  […]

Easter Puja and Havan, The Creation of Lord Jesus Nirmala Palace – Nightingale Lane Ashram, London (England)

ईस्टर पूजा, “प्रभु यीशु मसीह का सृजन”| नाइटिंगेल लेन आश्रम, लंदन (इंगलैंड), १९८२–०४–११|

आप सभी को ईस्टर की शुभकामनाएँ। आज हम उस  दिन का उत्सव मना रहे हैं जो बहुत, बहुत महत्वपूर्ण है, पूर्ण रूप से, सबसे अधिक महत्वपूर्ण दिन हम कह सकते हैं जब इतनी महान घटना घटित हुई। और इसे  इसी प्रकार घटित होना था क्योंकि, यह सब एक प्रकार से नियत था| 

मेरे पिछले व्याख्यानों में, मैंने आपको बताया है कि किस प्रकार ईसा मसीह का पहले वैकुंठ में सृजन हुआ। ‘देवी महात्म्य’ के अनुसार – […]

The manifestation of the Spirit Aston La Scala Nice, Nice (France)

सार्वजनिक कार्यक्रम दिवस 2, 22 फरवरी 1980, नाइस, फ्रांस

कल मैंने आपको हमारे भीतर की अवशिष्ट शक्ति के बारे में बताया जो कि “सैक्रम बोन” (त्रिकोणाकार अस्थि) में रहती है। इस शक्ति को कुंडलिनी कहा जाता है। यह वही शक्ति है जो ऊपर को चढ़ती है इन उर्जा केंद्रों में से होती हुई और हमें हमारा आत्मसाक्षात्कार दिलाती है, हमारा पुनर्जन्म। मैंने आपको यह भी बताया है कि कई लोगों में आप देख सकते हैं इस कुंडलिनी के स्पंदन को स्पष्ट रूप से अपनी खुली आँखों द्वारा।  […]

False gurus Kovalam (भारत)

धन्यवाद, झूठेगुरु – भारत भ्रमण , ९फरवरी, 1979

…. इन चक्रों में जो देवी-देवता हैं, वो देवत बस सो जाते हैं और भीतर में हानिकारकता बनने लगती है, कैंसर हो जाता है। कैंसर को तब तक ठीक नहीं किया जा सकता जब तक कि आपको अपना आत्म-साक्षात्कार प्राप्त न हो जाए, चाहे आप डॉक्टर हों या कुछ भी। मैं आपको यह बताऊँगी, वह भी इंग्लैंड के एक डॉक्टर हैं। हमने हाल ही में एक कैंसर को ठीक किया है। मेरा तात्पर्य है कि मैं कई कैंसर रोगियों का इलाज कर सकती हूँ परंतु मेरा रुझान ऐसा करने में नहीं है।

मात्र एक चीज़ जो सभी संतों के साथ होगी, […]